#भारत की राजनीति

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:51

और जवाब सुनें

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:04
दी का हल निकालने की बात तो तब आती है जब कि सामने वाकई में किसान हो सामने कोई भी कसम नहीं है ठीक है जो भी जो बिचौलिए हैं केवल वही है और बिचौलियों का भी गलत नहीं है देखिए उनको भी नुकसान तो होगा कितने करोड़ों रुपए कमाते थे साल का वह सब बंद हो जाएगा गवर्नमेंट की किसान को तो फायदे फायदे ओके सेंड के जो समझ रहे किसान वह तो कोई नहीं है सब अपने काम कर रहे हैं अपने फैसले भेज रहे क्या वगैरा लगा रहे हैं और गवर्नमेंट को यह तो सामने गवर्नमेंट की प्रॉब्लम ही शब्द के गवर्नमेंट को भी यह समझना होगा परंतु अगर आप किसी बात पर टैग जाओगी नहीं मुझे तो यह कर नहीं करना है मुझे नहीं करना है मुझे नहीं करना है तो यह बात खत्म हो जाएगी गवर्नमेंट कैरी आप बात करिए हम लिखित तौर पर सब कुछ आता कि प्रधानमंत्री जी ने भी कह दिया परंतु आप लटक जाओ कि नहीं मैं तो यही करना है मुझे तो यही करना है तो वह तो उसका कोई सलूशन नहीं है इसके लिए तो फिर यही है कि धीमे-धीमे करके जो है उनका अंत आराम से चला रहे हो क्या बाप रात की श्रेणी में आएगा तो उसे निपटा जाएगा
Dee ka hal nikaalane kee baat to tab aatee hai jab ki saamane vaakee mein kisaan ho saamane koee bhee kasam nahin hai theek hai jo bhee jo bichaulie hain keval vahee hai aur bichauliyon ka bhee galat nahin hai dekhie unako bhee nukasaan to hoga kitane karodon rupe kamaate the saal ka vah sab band ho jaega gavarnament kee kisaan ko to phaayade phaayade oke send ke jo samajh rahe kisaan vah to koee nahin hai sab apane kaam kar rahe hain apane phaisale bhej rahe kya vagaira laga rahe hain aur gavarnament ko yah to saamane gavarnament kee problam hee shabd ke gavarnament ko bhee yah samajhana hoga parantu agar aap kisee baat par taig jaogee nahin mujhe to yah kar nahin karana hai mujhe nahin karana hai mujhe nahin karana hai to yah baat khatm ho jaegee gavarnament kairee aap baat karie ham likhit taur par sab kuchh aata ki pradhaanamantree jee ne bhee kah diya parantu aap latak jao ki nahin main to yahee karana hai mujhe to yahee karana hai to vah to usaka koee salooshan nahin hai isake lie to phir yahee hai ki dheeme-dheeme karake jo hai unaka ant aaraam se chala rahe ho kya baap raat kee shrenee mein aaega to use nipata jaega

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:47
दोस्तों यदि सरकार ने यह बिल बड़े सोच समझकर किसान के फायदे के लिए बनाया है और किसान इसका विरोध कर रहे हैं तो जो किसान संगठन है और सरकार की तरफ से जो भी प्रतिनिधि है बोलने वाला उन दोनों की सुनी जाए तो यह काम तो अदालत भी कर सकती है और यहां पर एक समस्या यह भी है जब सुप्रीम कोर्ट ने एक बिल आया था गैलरी हरिजन एक्ट तो उसमें जमानत का प्रावधान रखा था तो इसी तरह जाप आंदोलन हुए तो सरकार झुक गई दबाव में आ गई और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ अध्यादेश जारी किया और एक नया कानून बना दिया कि अब हरिजनों से अभद्र व्यवहार करने पर यानी कि 6 महीने तक आप की जमानत नहीं हो तो यह सरकार यानी कि सवर्णों के भी खिलाफ है किसानों के भी खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की बात नहीं मानते हैं तो हमारी क्या मानेंगे वरना इसका फैसला इसी प्रकार हो सकते जैसे किसान कह रहा है यह आपने जैसे एक आवश्यक वस्तु अधिनियम को हटा दिया है तो अब व्यापारी यानी खुलेआम याने की संग्रह कर सकते हैं आपकी दलहनी फसलें और का नाम से यह प्याज टमाटर की सब्जी और अब सरकार कह रही है कि इसमें प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी सरकार से पूछा जाएगा किस प्रकार यानी कि प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और किसानों से पूछा जाएगा तुम्हारे लिए कौन सा नुस्खा है तो किसान अपना पक्ष रखेंगे और सरकार अपना पक्ष रखेगी और ने तो अपने आप सामने आ सकता है या घर बैठकर बातचीत की जाए लेकिन सरकार का हमें बिल्कुल भी भरोसा नहीं है धन्यवाद
Doston yadi sarakaar ne yah bil bade soch samajhakar kisaan ke phaayade ke lie banaaya hai aur kisaan isaka virodh kar rahe hain to jo kisaan sangathan hai aur sarakaar kee taraph se jo bhee pratinidhi hai bolane vaala un donon kee sunee jae to yah kaam to adaalat bhee kar sakatee hai aur yahaan par ek samasya yah bhee hai jab supreem kort ne ek bil aaya tha gailaree harijan ekt to usamen jamaanat ka praavadhaan rakha tha to isee tarah jaap aandolan hue to sarakaar jhuk gaee dabaav mein aa gaee aur unhonne supreem kort ke khilaaph adhyaadesh jaaree kiya aur ek naya kaanoon bana diya ki ab harijanon se abhadr vyavahaar karane par yaanee ki 6 maheene tak aap kee jamaanat nahin ho to yah sarakaar yaanee ki savarnon ke bhee khilaaph hai kisaanon ke bhee khilaaph supreem kort kee baat nahin maanate hain to hamaaree kya maanenge varana isaka phaisala isee prakaar ho sakate jaise kisaan kah raha hai yah aapane jaise ek aavashyak vastu adhiniyam ko hata diya hai to ab vyaapaaree yaanee khuleaam yaane kee sangrah kar sakate hain aapakee dalahanee phasalen aur ka naam se yah pyaaj tamaatar kee sabjee aur ab sarakaar kah rahee hai ki isamen pratispardha badhegee sarakaar se poochha jaega kis prakaar yaanee ki pratispardha badhegee aur kisaanon se poochha jaega tumhaare lie kaun sa nuskha hai to kisaan apana paksh rakhenge aur sarakaar apana paksh rakhegee aur ne to apane aap saamane aa sakata hai ya ghar baithakar baatacheet kee jae lekin sarakaar ka hamen bilkul bhee bharosa nahin hai dhanyavaad

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
1:51
अगर आपको किसी बिल को लेकर सरकार तथा किसानों के बीच चल रहे गतिरोध को खत्म करने का अवसर दिया जाए तो आप क्या करेंगे कि आप ने सवाल पूछा है मैं वही करूंगा जो किसानों के हित में होगा क्योंकि किसान हैं हमारे लिए अन्नदाता है उनकी ही दम पर आज हम आते जाते रहते हैं अगर वह मुख का मीट हम जलाने का काम करेंगे तो हम भी मर जाएंगे उनको सूखने से ही हमारी भलाई है अगर वह खुश रहेंगे तो हम भी खुश रहेंगे अगर वह दुखी रहेंगे तो हम भी दुखी रहेंगे तो हम सीधे सीधे केवल किसानों के हित में कार्य करते हैं क्योंकि सरकार अपने कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ता बेरोजगारी भत्ता क्या क्या पता वह आती रहती है नेताओं को देती है कर्मचारियों को देती है किसान में 41 कहां से पाए उनके लिए तो वही है जो पैदा करते हैं वहीं पर सब कुछ है उसमें भी उनको समर्थन मूल्य नाम से नहीं मिल पाता सरकार की तरफ से उनके समर्थन मूल्य की कोई गारंटी नहीं कब कहां कैसे किस भाव में बैठे हैं और उसको गारंटी देने को तैयार नहीं है कि नहीं भाई आपका यह सम्मान आपने कि ₹50 का खर्चा लगाया है तो आपको ₹100 का बेचना है ऐसा कभी साकार करना क्यों नहीं चाहते यही करना चाहिए सरकार को तभी तो सरकार किसान खुश रहेंगे हम लोग खुश रहेंगे
Agar aapako kisee bil ko lekar sarakaar tatha kisaanon ke beech chal rahe gatirodh ko khatm karane ka avasar diya jae to aap kya karenge ki aap ne savaal poochha hai main vahee karoonga jo kisaanon ke hit mein hoga kyonki kisaan hain hamaare lie annadaata hai unakee hee dam par aaj ham aate jaate rahate hain agar vah mukh ka meet ham jalaane ka kaam karenge to ham bhee mar jaenge unako sookhane se hee hamaaree bhalaee hai agar vah khush rahenge to ham bhee khush rahenge agar vah dukhee rahenge to ham bhee dukhee rahenge to ham seedhe seedhe keval kisaanon ke hit mein kaary karate hain kyonki sarakaar apane karmachaariyon ke lie mahangaee bhatta berojagaaree bhatta kya kya pata vah aatee rahatee hai netaon ko detee hai karmachaariyon ko detee hai kisaan mein 41 kahaan se pae unake lie to vahee hai jo paida karate hain vaheen par sab kuchh hai usamen bhee unako samarthan mooly naam se nahin mil paata sarakaar kee taraph se unake samarthan mooly kee koee gaarantee nahin kab kahaan kaise kis bhaav mein baithe hain aur usako gaarantee dene ko taiyaar nahin hai ki nahin bhaee aapaka yah sammaan aapane ki ₹50 ka kharcha lagaaya hai to aapako ₹100 ka bechana hai aisa kabhee saakaar karana kyon nahin chaahate yahee karana chaahie sarakaar ko tabhee to sarakaar kisaan khush rahenge ham log khush rahenge

Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
1:57
नमस्कार आपका पसंद है अगर आपको किसी बिल को लेकर सरकार तथा किसानों के बीच चल रहे गतिरोध का हल निकालने का अवसर दिया जाए तो आप इसे कैसे हल करेंगे देखिए जहां तक समझता हूं कि कुछ लोगों के विरोध करने से यदि सरकार के नियम कानून में बदलाव किया जाए तो यह भविष्य के लिए घातक सिद्ध हो सकता है कैसे घातक सिद्ध होता है मैं आपको समझाता हूं सबसे पहला बात कि यदि कोई भी सरकार बिल पास करती है और चंद लोग रोड पर खड़े होकर विरोध प्रदर्शन करने लगे और फिर इसमें सुप्रीम कोर्ट दखल देकर उस बिल को पारित होने से रोक दे तू आने वाले भविष्य में अन्य कई बिल इसी तरह से होंगे और कितने लोगों को वह हजम नहीं होंगे तो वह लोग प्रदर्शन जब करने लगेंगे तो क्या सारे बिल इसी तरह से लटक के रह जाएंगे इस बार पर आप गौर कीजिएगा जहां तक आपका प्रश्न है कि आप कैसे इस गतिरोध को दूर करेंगे तो मैं यही समझता हूं कि सबसे पहले इस बिल का विरोध करने वाले और इस बिल से सहमत लोगों के प्रति को मतदान कर आएंगे कि मतदान किसका सबसे ज्यादा है अगर मतदान विरोध करने वालों के पक्ष में जाता है तो इस बिल में उनकी मांगों के अनुसार हम सुधार करेंगे अन्यथा यदि पक्ष में नहीं जाता है तो फिर जितने लोग विरोध प्रदर्शन किए हैं उन लोगों के प्रति कार्रवाई के साथ-साथ उन लोगों पर कानूनी कार्रवाई किया जाए और यथोचित दंड का प्रावधान किया जाए धन्यवाद आपके इस प्रश्न के लिए
Namaskaar aapaka pasand hai agar aapako kisee bil ko lekar sarakaar tatha kisaanon ke beech chal rahe gatirodh ka hal nikaalane ka avasar diya jae to aap ise kaise hal karenge dekhie jahaan tak samajhata hoon ki kuchh logon ke virodh karane se yadi sarakaar ke niyam kaanoon mein badalaav kiya jae to yah bhavishy ke lie ghaatak siddh ho sakata hai kaise ghaatak siddh hota hai main aapako samajhaata hoon sabase pahala baat ki yadi koee bhee sarakaar bil paas karatee hai aur chand log rod par khade hokar virodh pradarshan karane lage aur phir isamen supreem kort dakhal dekar us bil ko paarit hone se rok de too aane vaale bhavishy mein any kaee bil isee tarah se honge aur kitane logon ko vah hajam nahin honge to vah log pradarshan jab karane lagenge to kya saare bil isee tarah se latak ke rah jaenge is baar par aap gaur keejiega jahaan tak aapaka prashn hai ki aap kaise is gatirodh ko door karenge to main yahee samajhata hoon ki sabase pahale is bil ka virodh karane vaale aur is bil se sahamat logon ke prati ko matadaan kar aaenge ki matadaan kisaka sabase jyaada hai agar matadaan virodh karane vaalon ke paksh mein jaata hai to is bil mein unakee maangon ke anusaar ham sudhaar karenge anyatha yadi paksh mein nahin jaata hai to phir jitane log virodh pradarshan kie hain un logon ke prati kaarravaee ke saath-saath un logon par kaanoonee kaarravaee kiya jae aur yathochit dand ka praavadhaan kiya jae dhanyavaad aapake is prashn ke lie

Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogendra जी का जवाब
Mppsc preparation
1:43
आपका क्वेश्चन है कि अगर किसान बिल को सरकार के मध्य किसानों सरकार के बीच कनेशी गतिरोध उत्पन्न जो हो चुका है उसको समाप्त करने के लिए आपको अवसर दिया जाए तो आप क्या कहेंगे तो मुझे भरोसा दिया जाए तो मैं एक ला दूंगा सरकार को किसानों की तरफ से जिस से किसानो सरकार दो हम तो सो जाइए जब भी लाया जीमेल करना चाहिए एक तरह से अच्छा भी है ठीक है पर किसानों को यह लग रहा है कि भविष्य में करना चाहिए जो आप अगर कंपनी है वह उनके जो जमीन हैं उनके ऊपर एक अधिकार कर लेगी इससे किसान गुलाम बनने की स्थिति में पहुंच जाए तो इससे निपटने के लिए आप एक तोला दीजिए कि नहीं चाहिए जो मेन बॉडी जी कौन सा अपना एमएसपी को ऑन रखिए ठीक है और यह विवाद होगा इस चीज का जो बिल आया है केमिस्ट्री ऑन रहेगी अब जब दिल आया है यह बिल की जो विवाद की छवि जो बिल बिल बिल विवाद कल जो विधु बात होगा किसानों और कैट कंपनी के पास के पास तो उसको ढूंढना दो जिसे किसान गूगल प्रदान कर सकते हैं जैसे कि ग्रीन 2 दिन बनता है ऐसी चीजें प्रदान करें उनके मामले हैं वह गीत सुनने आते हैं उसी प्रकार जो किसान संबंधी मामले होंगे वह किसान ट्रबल कैंपस में जाएंगे कहां से किसान संतोष हो जाएगा कि कर गया कि मुझे कुछ गलती हो गई मुझसे कोई नहीं मुझ में कोई कमी सी दबाव डालेगा तो मैं घर जाऊंगा ठीक है सर का टेंशन खत्म हो जाएगी ठीक है वह एमएसपी ऑन रखना चाहिए वह भी बीन टेकन टेक आदिवासियों का उसका भी ग्रुप का होगा अगर यह गिफ्ट नगर के नासिक की सेंट्रल बन जाता है प्रति दोनों बन जाता है तो यह सरकार प्लस पाकिस्तान दोनों को संतुष्टि हो सकती मैं भी मेरे अकॉर्डिंग ओके थैंक्स
Aapaka kveshchan hai ki agar kisaan bil ko sarakaar ke madhy kisaanon sarakaar ke beech kaneshee gatirodh utpann jo ho chuka hai usako samaapt karane ke lie aapako avasar diya jae to aap kya kahenge to mujhe bharosa diya jae to main ek la doonga sarakaar ko kisaanon kee taraph se jis se kisaano sarakaar do ham to so jaie jab bhee laaya jeemel karana chaahie ek tarah se achchha bhee hai theek hai par kisaanon ko yah lag raha hai ki bhavishy mein karana chaahie jo aap agar kampanee hai vah unake jo jameen hain unake oopar ek adhikaar kar legee isase kisaan gulaam banane kee sthiti mein pahunch jae to isase nipatane ke lie aap ek tola deejie ki nahin chaahie jo men bodee jee kaun sa apana emesapee ko on rakhie theek hai aur yah vivaad hoga is cheej ka jo bil aaya hai kemistree on rahegee ab jab dil aaya hai yah bil kee jo vivaad kee chhavi jo bil bil bil vivaad kal jo vidhu baat hoga kisaanon aur kait kampanee ke paas ke paas to usako dhoondhana do jise kisaan googal pradaan kar sakate hain jaise ki green 2 din banata hai aisee cheejen pradaan karen unake maamale hain vah geet sunane aate hain usee prakaar jo kisaan sambandhee maamale honge vah kisaan trabal kaimpas mein jaenge kahaan se kisaan santosh ho jaega ki kar gaya ki mujhe kuchh galatee ho gaee mujhase koee nahin mujh mein koee kamee see dabaav daalega to main ghar jaoonga theek hai sar ka tenshan khatm ho jaegee theek hai vah emesapee on rakhana chaahie vah bhee been tekan tek aadivaasiyon ka usaka bhee grup ka hoga agar yah gipht nagar ke naasik kee sentral ban jaata hai prati donon ban jaata hai to yah sarakaar plas paakistaan donon ko santushti ho sakatee main bhee mere akording oke thainks

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कृषि बिल,कृषि बिल के नुकसान,कृषि कानून क्या है
URL copied to clipboard