#undefined

bolkar speaker

भारत की राजनीति पर अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का क्या असर पड़ेगा?

Bhaarat Kee Raajaneeti Par Amerika Mein Hone Vaale Raashtrapati Chunaav Ka Kya Asar Padega
Saurabh Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Saurabh जी का जवाब
Software Engineer
1:41

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत की राजनीति पर अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का क्या असर पड़ेगा?Bhaarat Kee Raajaneeti Par Amerika Mein Hone Vaale Raashtrapati Chunaav Ka Kya Asar Padega
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:23

bolkar speaker
भारत की राजनीति पर अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का क्या असर पड़ेगा?Bhaarat Kee Raajaneeti Par Amerika Mein Hone Vaale Raashtrapati Chunaav Ka Kya Asar Padega
VP Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए VP जी का जवाब
Unknown
0:37

bolkar speaker
भारत की राजनीति पर अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का क्या असर पड़ेगा?Bhaarat Kee Raajaneeti Par Amerika Mein Hone Vaale Raashtrapati Chunaav Ka Kya Asar Padega
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:59
भारत की राजनीति पर अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का कोई असर नहीं आएगा इन लोगों को समझने की आवश्यकता है क्योंकि अमेरिका की जो राजनीति है उससे भारत का कनेक्शन नहीं है क्योंकि आज अमेरिका की आवश्यकता भारत है भारत की आवश्यकता अमेरिका को नहीं है जब वह तो विश्व में एक दूसरे देशों के बिना आपस में हेल्प किए हुए पूरा विश्व की व्यवस्था नहीं चल पाती है सब देश एक दूसरे को ऑपरेट करते हैं और करना चाहिए क्योंकि माता का तक आ जाइए ही है लेकिन आज अमेरिका की आवश्यकता भारत इसलिए है क्योंकि अमेरिका कहा बरदस्त हमेशा से पाकिस्तान के सिर पर है पाकिस्तान हमेशा अमेरिका की दम पर ही भोजन खा पा रहा था और विश्व में ही खड़ी कर पाता था लेकिन वही पाकिस्तान अब चाइना की ओर झुक गया है जबकि china-pakistan अमेरिका का कट्टर दुश्मन है ऐसी स्थिति में अब अमेरिका के पास यूरोप में बढ़ते हुए चाइना के प्रभाव को रोकने के लिए एक मात्र स्थान ले जाता है वह भारत में जाता है ऐसी हालात में चाइना उनके प्रभाव को रोकने के लिए अमेरिका को ना चाहते हुए या चाहते हुए भी भारत के साथ आना होगा यह अमेरिका की आवश्यकता है इसलिए डोनाल्ड ट्रंप साफ हो या जो वार्डन साहब हैं और कोई भी राष्ट्रपति को नहीं गांव को भारत के पक्ष में ही जाएगा यदि भारत में सनसनी फैल चुकी है कि डोनाल्ड ट्रम साहब भारत के पश्चिम में ज्यादा झुकी हुई थी और जो गार्डन साहब नहीं रुकेंगे या आप गलत सोच रहे हैं भारत की मानसिकता में और अमेरिका की मानसिकता में बहुत बड़ा अंतर है अमरीका के लोग देश भक्त लोग हैं अमेरिका के लोग चाहे कोई भी वह राष्ट्रपति बने वह अमरीकी तुमको शर्म प्राथमिकता देते हैं जबकि भारतीय राजनीतिक स्थिति जो हमेशा ही भारतीय हितों के अनुकूल हूं ऐसा कोई आवश्यक नहीं है क्योंकि पिछली जो राजनीति भारत में हुई हैं उसने बार-बार प्रमाणित किया है कई बार दे तुम के विरोध में दिखाई दी है कि आप सोचिए जो नेपाल भारत में मिलना चाहता था लेकिन भारत के प्रधानमंत्री महोदय ने उसको स्वीकार नहीं किया वो कश्मीर जो भारत में मिलना चाहता था उसको समय में यदि सरदार वल्लभभाई पटेल पीएम होते तो निश्चित रूप से ही वह भारत के एक राज्य बना कर रखती लेकिन उस समय की राजनीतिक ने कश्मीर को एक स्वतंत्र राष्ट्र का दर्जा दे दिया जिसका खामियाजा भारतीयों को आज तक भुगतना पड़ रहा है 370 और 35a उसके परिणामों को भारत में अब तक रुकता है यह तो इस सरकार के कारण से यह प्लान में 370 और 35a हट पाई है जिससे कश्मीर भारत का राज्य का है तो देख लीजिए आज वह कश्मीर में शांति प्रक्रिया चालू हो गई है खवासपुरा है तो मैं सोच रहा हूं शायद भारतीय राजनीति जो है वह निम्न से निम्नतम स्तर की ओर जा चुकी है स्वार्थी खुदगर्जी लालची राजनीतिज्ञों का जमावड़ा हो चुका है ऐसी स्थिति में यह कदापि आप नहीं ऐसा कर सकते हैं कि यह भारतीय हितों को ध्यान में रखेंगे जबकि अमेरिका मल्टी स्थिति है अमेरिका में अमरीकी हितों को सर्वोच्च था दी जाती है यही कारण है कि आप डोनाल्ड ट्रंप डोनाल्ड ट्रम साहब के जो निकटतम लोग थे उन लोगों ने भी डोनाल्ड ट्रम साहब के तानाशाही रवैए को देखकर कि वह अमरीकी हितों को ध्यान में रखते हुए अमेरिका के पक्ष में ही बोले हैं और डोनाल्ड आशा के विपरीत हो गए हैं इसलिए मैं सोच रहा हूं कि अमेरिकी राजनीति का भारतीय राजनीति पर कोई असर नहीं आएगा
Bhaarat kee raajaneeti par amerika mein hone vaale raashtrapati chunaav ka koee asar nahin aaega in logon ko samajhane kee aavashyakata hai kyonki amerika kee jo raajaneeti hai usase bhaarat ka kanekshan nahin hai kyonki aaj amerika kee aavashyakata bhaarat hai bhaarat kee aavashyakata amerika ko nahin hai jab vah to vishv mein ek doosare deshon ke bina aapas mein help kie hue poora vishv kee vyavastha nahin chal paatee hai sab desh ek doosare ko oparet karate hain aur karana chaahie kyonki maata ka tak aa jaie hee hai lekin aaj amerika kee aavashyakata bhaarat isalie hai kyonki amerika kaha baradast hamesha se paakistaan ke sir par hai paakistaan hamesha amerika kee dam par hee bhojan kha pa raha tha aur vishv mein hee khadee kar paata tha lekin vahee paakistaan ab chaina kee or jhuk gaya hai jabaki chhin-pakistan amerika ka kattar dushman hai aisee sthiti mein ab amerika ke paas yoorop mein badhate hue chaina ke prabhaav ko rokane ke lie ek maatr sthaan le jaata hai vah bhaarat mein jaata hai aisee haalaat mein chaina unake prabhaav ko rokane ke lie amerika ko na chaahate hue ya chaahate hue bhee bhaarat ke saath aana hoga yah amerika kee aavashyakata hai isalie donaald tramp saaph ho ya jo vaardan saahab hain aur koee bhee raashtrapati ko nahin gaanv ko bhaarat ke paksh mein hee jaega yadi bhaarat mein sanasanee phail chukee hai ki donaald tram saahab bhaarat ke pashchim mein jyaada jhukee huee thee aur jo gaardan saahab nahin rukenge ya aap galat soch rahe hain bhaarat kee maanasikata mein aur amerika kee maanasikata mein bahut bada antar hai amareeka ke log desh bhakt log hain amerika ke log chaahe koee bhee vah raashtrapati bane vah amareekee tumako sharm praathamikata dete hain jabaki bhaarateey raajaneetik sthiti jo hamesha hee bhaarateey hiton ke anukool hoon aisa koee aavashyak nahin hai kyonki pichhalee jo raajaneeti bhaarat mein huee hain usane baar-baar pramaanit kiya hai kaee baar de tum ke virodh mein dikhaee dee hai ki aap sochie jo nepaal bhaarat mein milana chaahata tha lekin bhaarat ke pradhaanamantree mahoday ne usako sveekaar nahin kiya vo kashmeer jo bhaarat mein milana chaahata tha usako samay mein yadi saradaar vallabhabhaee patel peeem hote to nishchit roop se hee vah bhaarat ke ek raajy bana kar rakhatee lekin us samay kee raajaneetik ne kashmeer ko ek svatantr raashtr ka darja de diya jisaka khaamiyaaja bhaarateeyon ko aaj tak bhugatana pad raha hai 370 aur 35a usake parinaamon ko bhaarat mein ab tak rukata hai yah to is sarakaar ke kaaran se yah plaan mein 370 aur 35a hat paee hai jisase kashmeer bhaarat ka raajy ka hai to dekh leejie aaj vah kashmeer mein shaanti prakriya chaaloo ho gaee hai khavaasapura hai to main soch raha hoon shaayad bhaarateey raajaneeti jo hai vah nimn se nimnatam star kee or ja chukee hai svaarthee khudagarjee laalachee raajaneetigyon ka jamaavada ho chuka hai aisee sthiti mein yah kadaapi aap nahin aisa kar sakate hain ki yah bhaarateey hiton ko dhyaan mein rakhenge jabaki amerika maltee sthiti hai amerika mein amareekee hiton ko sarvochch tha dee jaatee hai yahee kaaran hai ki aap donaald tramp donaald tram saahab ke jo nikatatam log the un logon ne bhee donaald tram saahab ke taanaashaahee ravaie ko dekhakar ki vah amareekee hiton ko dhyaan mein rakhate hue amerika ke paksh mein hee bole hain aur donaald aasha ke vipareet ho gae hain isalie main soch raha hoon ki amerikee raajaneeti ka bhaarateey raajaneeti par koee asar nahin aaega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard