#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:07

और जवाब सुनें

रनजीत तिवारी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए रनजीत जी का जवाब
प्रोडक्शन सुपरवाइजर
1:07
नमस्कार दोस्तों जैसा कि आप का सवाल है क्या भैंस कपड़े पहनने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा बढ़ती है या सिर्फ एक गलत धारणा है जो मेरे को समझ में आ रहा है और जो मुझे लग रहे हैं और जो सच भी है वह मैं बताने की पूरी कोशिश करूंगा ब्रांडेड कपड़े पहने या हमारे पास आलीशान बंगले हो या हम लग्जरी गाड़ियों से चलते हैं नहीं रखता है एक आम जीवन के लिए हमारे को प्रतिष्ठा तभी मिलेगी जब हम दूसरे की मदद करने वाले बनेंगे हम दूसरे का सम्मान करेंगे हमारी बोलचाल हमारे व्यवहार अच्छे होंगे समाज में प्रतिष्ठा और अपने सामान को बढ़ा सकते हैं नीरज में कैसा लगा आप मुझे जरूर कमेंट करके बताएं लाइक कर दे दो धन्यवाद
Namaskaar doston jaisa ki aap ka savaal hai kya bhains kapade pahanane se vyakti kee pratishtha badhatee hai ya sirph ek galat dhaarana hai jo mere ko samajh mein aa raha hai aur jo mujhe lag rahe hain aur jo sach bhee hai vah main bataane kee pooree koshish karoonga braanded kapade pahane ya hamaare paas aaleeshaan bangale ho ya ham lagjaree gaadiyon se chalate hain nahin rakhata hai ek aam jeevan ke lie hamaare ko pratishtha tabhee milegee jab ham doosare kee madad karane vaale banenge ham doosare ka sammaan karenge hamaaree bolachaal hamaare vyavahaar achchhe honge samaaj mein pratishtha aur apane saamaan ko badha sakate hain neeraj mein kaisa laga aap mujhe jaroor kament karake bataen laik kar de do dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:49

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:20

Vikas Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
Student
1:07

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:31

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:48

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:01

Ashish Lavania Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Ashish जी का जवाब
Yoga Instructor
1:41

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:12

Om Prakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Om जी का जवाब
Now in home
1:33

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:01

Navneet Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navneet जी का जवाब
Unknown
1:01

Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
0:52

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
1:15
विजय भाई आज के समाज में दिखावा पहुंच फैल चुका है दिखावे के लिए ही सब लोग कार्य करते हैं हर इंसान एक दूसरे को दिखाने के लिए कार्य करने की कोशिश कर पाएगी अब लेकिन नजर में हमारी इमेज ऊंची हो जाए उसका पड़ोसी में जिस चिल्लाती कपड़े से आपका इमेज नहीं बन सकता आपके कर्म अच्छे होने चाहिए आपका स्वभाव अच्छा होना चाहिए इन चीजों से आप की पार्टी है ना कि कपड़े कपड़े खोलने का भी आपको हमने अगर डकैत भैया चोर है उसको बहुत अच्छा कपड़ा पहना दोगे तभी लोगों की नजर में वह चोर ही रहेगा तो इससे कपड़ों से आपके लिए नहीं बनेगी आप कोई मुझे अपनी बनाने के लिए आपको आपके कर्तव्य और आपके इंसानियत ही होने चाहिए क्योंकि नजर में आप अच्छे इंसान बनेंगे तब आपकी इमेज अच्छी रहेगी
Vijay bhaee aaj ke samaaj mein dikhaava pahunch phail chuka hai dikhaave ke lie hee sab log kaary karate hain har insaan ek doosare ko dikhaane ke lie kaary karane kee koshish kar paegee ab lekin najar mein hamaaree imej oonchee ho jae usaka padosee mein jis chillaatee kapade se aapaka imej nahin ban sakata aapake karm achchhe hone chaahie aapaka svabhaav achchha hona chaahie in cheejon se aap kee paartee hai na ki kapade kapade kholane ka bhee aapako hamane agar dakait bhaiya chor hai usako bahut achchha kapada pahana doge tabhee logon kee najar mein vah chor hee rahega to isase kapadon se aapake lie nahin banegee aap koee mujhe apanee banaane ke lie aapako aapake kartavy aur aapake insaaniyat hee hone chaahie kyonki najar mein aap achchhe insaan banenge tab aapakee imej achchhee rahegee

RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
1:10
कौशल्या जी क्या ब्रांडेड कपड़े पहने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा बढ़ती है या सिर्फ एक गलत धारणा है कि प्रतिष्ठा ब्रांडेड कपड़े धोने से नहीं होती है व्यक्ति की प्रतिष्ठा जो होती है इस व्यवहार से होती है उसकी बोली चाली से होती है बोलचाल में तब क्या बोलता है कैसे बोलता है विनम्रता से होती है और कपड़े कौन है ब्रांडेड नहीं साफ होनी चाहिए साफ-सुथरे कपड़े पढ़ने से होती है जब कोई व्यक्ति किसी अनजान व्यक्ति से मिलता है तो सबसे पहले उसके वह कपड़े ही देखता है कपड़े कैसे हैं कपड़े का कैसे हैं का मतलब साफ सुथरा है या नहीं ब्रांडेड नहीं क्योंकि ब्रांडेड कपड़े है या नहीं यह किसी को नहीं मालूम है हम आंखों से देखकर नहीं बता सकते हैं कपड़े ब्रांडेड है कि नहीं क्योंकि पक कपड़े की पहचान करना बहुत मुश्किल है कपड़े साफ सुथरा होना चाहिए यह पहला इंप्रेशन होता है और दूसरा इंप्रेशन होती है उसकी वाणी उसकी बोली उसे उसका व्यवहार का पता चलता है और यह दोनों सही है तो फिर तब प्रतिष्ठा बढ़ती है
Kaushalya jee kya braanded kapade pahane se vyakti kee pratishtha badhatee hai ya sirph ek galat dhaarana hai ki pratishtha braanded kapade dhone se nahin hotee hai vyakti kee pratishtha jo hotee hai is vyavahaar se hotee hai usakee bolee chaalee se hotee hai bolachaal mein tab kya bolata hai kaise bolata hai vinamrata se hotee hai aur kapade kaun hai braanded nahin saaph honee chaahie saaph-suthare kapade padhane se hotee hai jab koee vyakti kisee anajaan vyakti se milata hai to sabase pahale usake vah kapade hee dekhata hai kapade kaise hain kapade ka kaise hain ka matalab saaph suthara hai ya nahin braanded nahin kyonki braanded kapade hai ya nahin yah kisee ko nahin maaloom hai ham aankhon se dekhakar nahin bata sakate hain kapade braanded hai ki nahin kyonki pak kapade kee pahachaan karana bahut mushkil hai kapade saaph suthara hona chaahie yah pahala impreshan hota hai aur doosara impreshan hotee hai usakee vaanee usakee bolee use usaka vyavahaar ka pata chalata hai aur yah donon sahee hai to phir tab pratishtha badhatee hai

rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
2:59
आपका सवाल आप किस तरह से समाज को देखते हैं उस पर निर्धारित निर्धारित करता है क्योंकि अगर हम मैं सीधा सीधा बोलता हूं अगर हम बड़े अपराधी को देखेंगे तो वह एक ब्रांडेड शर्ट पेंट बूट गूगल हाथ में किस बड़े कंपनी का वॉच गण मन गढ़ की लड़ाई करते हैं मोबाइल एप्पल फोन या और कुछ नया 50 लाख 50 हजार लाख दो लाख का मोबाइल फोन यह धारणा रहती है कि जैसे कि आपने कहा व्यक्ति प्रति प्रतिष्ठा बढ़ती है इससे पहनने के बाद और दूसरा का विषय है कि यह व्यक्ति लाख रुपये ₹200000 अगर कमाता होगा या उससे कम कम आते हो कभी सदर 30,000 50,000 काम आता होगा उसकी भी शौक रहते हैं आपने कैसे कहा उसी तरह लेकिन उसी के साथ साथ अगर हम हमारे संत साधु इनको देखें तो उनकी जो कमाने क्या औकात होती है वह इतनी होती है कि हम सोच भी नहीं सकते लेकिन वह एक रुपए का भी हिसाब का और ₹1 का भी कमाने की नहीं सोचते सब अपना जीवन समाज के लिए दान कर देते हैं अगर उन्होंने चाहा तो यह बड़े-बड़े जो लोग हमें दिखाई दे रहे हैं उनके नीचे काम कर सकते इतनी उनकी बौद्धिक क्षमता रहती हैं लेकिन हम जो लोग हैं टेक्नोलॉजी के लोग आईटी पार्क लोग बिजनेसमैन ऐसे लोगों को देखते हॉरर कहते हैं यह बहुत अच्छा रहेगा यह बहुत प्रतिष्ठित व्यक्ति है लेकिन उसके साथ सदा ग्राम गोवा के जो मुख्यमंत्री है जो थे पारिकर साहब उनको देख लीजिए या फिर दिल्ली के आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उनको देख लीजिए कपड़े बेमन चाहिए मुझे ऐसा लगता है और मैं मैं भी यह सीख रहा हूं कि मनुष्य के कपड़ों के ऊपर जो निर्धारित मैंने जो निर्धारित रहता है वह हमेशा गलती कर बैठा है गलती कर बैठता है मनुष्य की बुद्धि और उसकी दिमाग की क्षमता वह क्या कर सकता है इस पर डिपेंड है वह निर्धारित है कि वह कितना अच्छा आदमी रहेगा देश के लिए समाज के लिए हमारे लिए उनके परिवार के लिए यह सब सोच कर देखिए आप और फिर और आप क्यों कुछ पास जवाब आए होंगे उसी के साथ आप देख सकते हैं मिलजुल कर और आप उससे निष्कर्ष निकाल निकाल सकते हो
Aapaka savaal aap kis tarah se samaaj ko dekhate hain us par nirdhaarit nirdhaarit karata hai kyonki agar ham main seedha seedha bolata hoon agar ham bade aparaadhee ko dekhenge to vah ek braanded shart pent boot googal haath mein kis bade kampanee ka voch gan man gadh kee ladaee karate hain mobail eppal phon ya aur kuchh naya 50 laakh 50 hajaar laakh do laakh ka mobail phon yah dhaarana rahatee hai ki jaise ki aapane kaha vyakti prati pratishtha badhatee hai isase pahanane ke baad aur doosara ka vishay hai ki yah vyakti laakh rupaye ₹200000 agar kamaata hoga ya usase kam kam aate ho kabhee sadar 30,000 50,000 kaam aata hoga usakee bhee shauk rahate hain aapane kaise kaha usee tarah lekin usee ke saath saath agar ham hamaare sant saadhu inako dekhen to unakee jo kamaane kya aukaat hotee hai vah itanee hotee hai ki ham soch bhee nahin sakate lekin vah ek rupe ka bhee hisaab ka aur ₹1 ka bhee kamaane kee nahin sochate sab apana jeevan samaaj ke lie daan kar dete hain agar unhonne chaaha to yah bade-bade jo log hamen dikhaee de rahe hain unake neeche kaam kar sakate itanee unakee bauddhik kshamata rahatee hain lekin ham jo log hain teknolojee ke log aaeetee paark log bijanesamain aise logon ko dekhate horar kahate hain yah bahut achchha rahega yah bahut pratishthit vyakti hai lekin usake saath sada graam gova ke jo mukhyamantree hai jo the paarikar saahab unako dekh leejie ya phir dillee ke aam aadamee paartee ke mukhyamantree unako dekh leejie kapade beman chaahie mujhe aisa lagata hai aur main main bhee yah seekh raha hoon ki manushy ke kapadon ke oopar jo nirdhaarit mainne jo nirdhaarit rahata hai vah hamesha galatee kar baitha hai galatee kar baithata hai manushy kee buddhi aur usakee dimaag kee kshamata vah kya kar sakata hai is par dipend hai vah nirdhaarit hai ki vah kitana achchha aadamee rahega desh ke lie samaaj ke lie hamaare lie unake parivaar ke lie yah sab soch kar dekhie aap aur phir aur aap kyon kuchh paas javaab aae honge usee ke saath aap dekh sakate hain milajul kar aur aap usase nishkarsh nikaal nikaal sakate ho

Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:39
के कपड़े पहनने से व्यक्ति की पड़ती है खाना है देखा जाए तो दिखा दे पानी पूरी फुल मूवी वारसी नहीं उसको साथ सेक्स करती है शायद उसकी प्रतिष्ठा बढ़ानी है लेकिन उन लोगों को दिखाने के लिए हमारी प्रतिष्ठा हमने खुद में बड़ी होना चाहिए लोगों में
Ke kapade pahanane se vyakti kee padatee hai khaana hai dekha jae to dikha de paanee pooree phul moovee vaarasee nahin usako saath seks karatee hai shaayad usakee pratishtha badhaanee hai lekin un logon ko dikhaane ke lie hamaaree pratishtha hamane khud mein badee hona chaahie logon mein

भारत बनेगा स्वर्ग नमामि गंगे Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए भारत जी का जवाब
रेस्टोरेंट में मुनीम के पद पर कार्यरत
4:48
नमस्कार जी आप का सवाल है कि क्या ब्रांडेड कपड़े पहनने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा बढ़ती है आप एक सिर पर है सिर्फ एक गलत धारणा है उसके बारे में बताना चाहूंगा कि मुझे डिटर्जेंट बनाना आता है और मैंने अपना काम चालू नहीं किया मैं काम चालू करना चाहता हूं तो जो कंपनियां हैं जो ब्रांडेड कपड़े बनाते हैं तो बनाने वाले कौन हैं पहले यह देखो बनाने वाले को वर्कर होते हैं जो एक-एक रेशम के धागे तो जोड़ जोड़ के मशीन से बनाते तो मैं कहना चाहूंगा कि ब्रांड एक श्रीमंता है सपोज करो हमने कई कंपनियां देखे हैं जैसे भी कंपनी देखी है जो विदेशी कंपनी है और हमने हिंदुस्तान का से कम ले लेंगे आप किसी के साथ देख ले लो किसी कंपनी किसके नाम से जानते हैं उनके पास उसके अंदर काम करने वाले पर करो कोई नहीं है नाम लेता है ना उसके अंदर जो जिस का योगदान सबसे बड़ा होता उसका नाम किसका है इसे जेसीबी बनाने वाले के 70 वंडर होते हैं कोई ड्रा ए फ्लैट बनाता है तो कोई बुक बनाता है कोई बकेट बनाता है कोई ड्राई प्ले बनाता है तो मैंने जो बनाता है ऐसे करके सभी पाठों जो है अलग-अलग कंपनियां छोटी छोटी कंपनियां बनाकर रहती है और फिर उसे जोड़ कर देता है जेसीबी जेसीबी कंपनी इसको जो है बिल्कुल ओके तो उसका नाम ब्रांडेड जेसीबी मशीन कपड़े गाड़ी कारीगरों छोटा कपड़ा जो है अपने आप बंद करके आज होते हैं बनाते हैं और उनके द्वारा गर्म कपड़ा साफ दिखे तो ब्रांडेड कपड़े भी फेल हो जाने के ब्रांड बहुत रोती घटिया बनानी होता है अच्छा प्रोग्राम होता है अच्छी क्वालिटी देदे वहीं एक ब्रांड बन जाता है और बाद में जो है घटिया मत देना क्या एक ₹10 या ₹10 मीटर का कौन सा पहनने वाला शादी की थी ना चाहता है एक लाख कुर्ता पहने वाला उसे जोड़ने वाला नहीं भावना से कोई पहचान नहीं होती है हिंदुस्तान को अगर देखा जाए तो हमारे साहब से दो तीन चीजें बहुत अहम है और यह गलत भी हमारे हिंदुस्तान में आज मैं आपको ना जाऊंगा मैंने अपने जीवन में देखता हूं आप बनेंगे तो कपड़े गेराज आप अच्छे पहने हैं तो आपको लोग उस जगह भी दे दे क्या फिर बैठ जाओ और नहीं तो आप खड़े हैं तो खड़े रहो अगर आपके पास अच्छा मोबाइल है अच्छे पैसे वालों गाड़ी टाटा सफारी गाड़ी पकड़ आएंगे तो आपको लोग देखेंगे इज्जत करेंगे अगर उसकी जिद नहीं करते अरे यह दुर्भाग्य बहुत ही गलत है जब तक एक भावनाएं मन में रहेंगे जब तक यह भारत में शुद्ध पानी कपड़े पहनने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा नहीं पड़ती है लेकिन उसके विचार की भावना है अगर आप किसी कतली को कपड़े अच्छे पहना दो ब्रांच कपड़े बना दो काम गलत कर रहा है पाप काम आता है तो क्या उसकी प्रतीक्षा बढ़ जाएगी नहीं पड़ेगी इसी प्रकार प्रोग्राम करने वाले हैं और वह ब्रांड के कपड़े पहने हैं हमको बरहते हैं बरहते सादा जीवन उच्च विचार अच्छे विचारों सादा जीवन हो जाए ब्रांडेड कपड़े दौर पर कपड़े पहनता हूं लेकिन अगर उसके विचार अच्छे उसके कार अच्छे हैं तो हम उसको पुलिस ट्रेनिंग उस पर की प्रतिष्ठा हम अपने मन में मां से उसकी प्रतिष्ठा है मौका दे सकती है लेकिन पैसे नहीं यह धारणा गलत है
Namaskaar jee aap ka savaal hai ki kya braanded kapade pahanane se vyakti kee pratishtha badhatee hai aap ek sir par hai sirph ek galat dhaarana hai usake baare mein bataana chaahoonga ki mujhe ditarjent banaana aata hai aur mainne apana kaam chaaloo nahin kiya main kaam chaaloo karana chaahata hoon to jo kampaniyaan hain jo braanded kapade banaate hain to banaane vaale kaun hain pahale yah dekho banaane vaale ko varkar hote hain jo ek-ek resham ke dhaage to jod jod ke masheen se banaate to main kahana chaahoonga ki braand ek shreemanta hai sapoj karo hamane kaee kampaniyaan dekhe hain jaise bhee kampanee dekhee hai jo videshee kampanee hai aur hamane hindustaan ka se kam le lenge aap kisee ke saath dekh le lo kisee kampanee kisake naam se jaanate hain unake paas usake andar kaam karane vaale par karo koee nahin hai naam leta hai na usake andar jo jis ka yogadaan sabase bada hota usaka naam kisaka hai ise jeseebee banaane vaale ke 70 vandar hote hain koee dra e phlait banaata hai to koee buk banaata hai koee baket banaata hai koee draee ple banaata hai to mainne jo banaata hai aise karake sabhee paathon jo hai alag-alag kampaniyaan chhotee chhotee kampaniyaan banaakar rahatee hai aur phir use jod kar deta hai jeseebee jeseebee kampanee isako jo hai bilkul oke to usaka naam braanded jeseebee masheen kapade gaadee kaareegaron chhota kapada jo hai apane aap band karake aaj hote hain banaate hain aur unake dvaara garm kapada saaph dikhe to braanded kapade bhee phel ho jaane ke braand bahut rotee ghatiya banaanee hota hai achchha prograam hota hai achchhee kvaalitee dede vaheen ek braand ban jaata hai aur baad mein jo hai ghatiya mat dena kya ek ₹10 ya ₹10 meetar ka kaun sa pahanane vaala shaadee kee thee na chaahata hai ek laakh kurta pahane vaala use jodane vaala nahin bhaavana se koee pahachaan nahin hotee hai hindustaan ko agar dekha jae to hamaare saahab se do teen cheejen bahut aham hai aur yah galat bhee hamaare hindustaan mein aaj main aapako na jaoonga mainne apane jeevan mein dekhata hoon aap banenge to kapade geraaj aap achchhe pahane hain to aapako log us jagah bhee de de kya phir baith jao aur nahin to aap khade hain to khade raho agar aapake paas achchha mobail hai achchhe paise vaalon gaadee taata saphaaree gaadee pakad aaenge to aapako log dekhenge ijjat karenge agar usakee jid nahin karate are yah durbhaagy bahut hee galat hai jab tak ek bhaavanaen man mein rahenge jab tak yah bhaarat mein shuddh paanee kapade pahanane se vyakti kee pratishtha nahin padatee hai lekin usake vichaar kee bhaavana hai agar aap kisee katalee ko kapade achchhe pahana do braanch kapade bana do kaam galat kar raha hai paap kaam aata hai to kya usakee prateeksha badh jaegee nahin padegee isee prakaar prograam karane vaale hain aur vah braand ke kapade pahane hain hamako barahate hain barahate saada jeevan uchch vichaar achchhe vichaaron saada jeevan ho jae braanded kapade daur par kapade pahanata hoon lekin agar usake vichaar achchhe usake kaar achchhe hain to ham usako pulis trening us par kee pratishtha ham apane man mein maan se usakee pratishtha hai mauka de sakatee hai lekin paise nahin yah dhaarana galat hai

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है क्या ब्रांडेड कपड़े पहनने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा बढ़ती है या यह सिर्फ एक गलत धारणा है देखिए यह बात सच है कि ब्रांडेड कपड़े पहनने से जो है व्यक्ति की जो है मां तो बढ़ती है उसकी प्रतिष्ठा पड़ती है लेकिन उस कंडीशन होती है उसमें बढ़ती है जैसे का ब्रांडेड हो आप वीआईपी हो वाकई में उस काबिल हो कि आप जो है ब्रांडेड कपड़े ब्रांडेड गाड़ियां ब्रांडेड वॉचेस जो का प्रयोग करें तो आपके ऊपर किसी प्रकार की होली नहीं होती थी और आपका मान सम्मान प्रतिष्ठा जो है वह निरंतर ऊंचाई पर उड़ता रहेगा लेकिन अगर आपके पास कुछ भी नहीं है वाकई में आप जो है गरीब हैं जो है निर्धन है लेकिन आप ब्रांडेड पहन रहे हैं तो उस समय जो है वह आप को धिक्कार मिलेगा क्योंकि परिस्थितियां जिस हिसाब रहती है मनुष्य कर उसी तरीके से रहता है तो उसे प्यार व्यवहार मान-सम्मान सब कुछ मिलता है मान लीजिए आपके पास जो है वह आपके परिवार को चलाने के लिए सही तरीके से आमदनी नहीं है और आप जो है ब्रांडेड कपड़े पहन रहे हैं ठीक है फिर तो यह आपके लिए प्रॉब्लम खड़ी हो जाएगी और एक दिन आएगा ऐसा कि आप जो है खाने के लिए भी मोहताज हो जाएंगे तो यह बातें गलत होती है यह बात सही है कि ब्रांडेड कपड़ों से मनुष्य की जो है तो सिस्टर बढ़ती है लेकिन जब मनुष्य ही ब्रांडेड होता है तो उसकी न्यूज़ यह कहा गया है और उसके लिए ही ऊपर जो है यह सूट करता है सही बैठता है जैसे हमारी अगर आमदनी अच्छी खासी है हमें किसी प्रकार की कमी नहीं है तो हम पहने बहुत सारा पहने बहुत बढ़िया से पहले ब्रांडेड से ब्रांडेड बहने कोई ना तो कुछ कहेगा फ्रेंड ना तो अपने आप में एक कोई बुरा लगेगा और हमारे प्रतिष्ठान निरंतर जो है वृद्धि होती रहेगी लेकिन अगर हम दिखावटी करते हैं फ्रेंड हमारे पास इतना बजट नहीं है हमारी औकात नहीं है लेकिन फिर भी हम पहनते हैं तो हमारी एक प्रकार से बेवकूफी कही जाती है और यह तो आप सभी जानते हैं फ्रेंड की दिखावा जो होता है वह ज्यादा दिन नहीं चलता असलियत जो होती है वह कहीं न कहीं कभी न कभी जो है आपके सामने जरूर आ जाएगी और तब लोगों के सामने आपका जो मान प्रतिष्ठा है वह सब मिट्टी में मिल जाएगा तो ऐसा फ्रेंड काम नहीं करना चाहिए अगर आपकी एक्चुअल वैल्यू है जो है ब्रांडेड कपड़े पहनने की तो आप पहनी है शौक से पहनी है और इससे जो है आपका मान-सम्मान यश कीर्ति सब कुछ पड़ती है फिर निरंतर बढ़ती रहती है इसमें कोई दो राय नहीं लेकिन जब आप उसके काबिल रहेंगे तो अन्यथा नहीं होती है ऐसा कुछ आशा है कि आपको यह जवाब पसंद आया होगा शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai kya braanded kapade pahanane se vyakti kee pratishtha badhatee hai ya yah sirph ek galat dhaarana hai dekhie yah baat sach hai ki braanded kapade pahanane se jo hai vyakti kee jo hai maan to badhatee hai usakee pratishtha padatee hai lekin us kandeeshan hotee hai usamen badhatee hai jaise ka braanded ho aap veeaeepee ho vaakee mein us kaabil ho ki aap jo hai braanded kapade braanded gaadiyaan braanded voches jo ka prayog karen to aapake oopar kisee prakaar kee holee nahin hotee thee aur aapaka maan sammaan pratishtha jo hai vah nirantar oonchaee par udata rahega lekin agar aapake paas kuchh bhee nahin hai vaakee mein aap jo hai gareeb hain jo hai nirdhan hai lekin aap braanded pahan rahe hain to us samay jo hai vah aap ko dhikkaar milega kyonki paristhitiyaan jis hisaab rahatee hai manushy kar usee tareeke se rahata hai to use pyaar vyavahaar maan-sammaan sab kuchh milata hai maan leejie aapake paas jo hai vah aapake parivaar ko chalaane ke lie sahee tareeke se aamadanee nahin hai aur aap jo hai braanded kapade pahan rahe hain theek hai phir to yah aapake lie problam khadee ho jaegee aur ek din aaega aisa ki aap jo hai khaane ke lie bhee mohataaj ho jaenge to yah baaten galat hotee hai yah baat sahee hai ki braanded kapadon se manushy kee jo hai to sistar badhatee hai lekin jab manushy hee braanded hota hai to usakee nyooz yah kaha gaya hai aur usake lie hee oopar jo hai yah soot karata hai sahee baithata hai jaise hamaaree agar aamadanee achchhee khaasee hai hamen kisee prakaar kee kamee nahin hai to ham pahane bahut saara pahane bahut badhiya se pahale braanded se braanded bahane koee na to kuchh kahega phrend na to apane aap mein ek koee bura lagega aur hamaare pratishthaan nirantar jo hai vrddhi hotee rahegee lekin agar ham dikhaavatee karate hain phrend hamaare paas itana bajat nahin hai hamaaree aukaat nahin hai lekin phir bhee ham pahanate hain to hamaaree ek prakaar se bevakoophee kahee jaatee hai aur yah to aap sabhee jaanate hain phrend kee dikhaava jo hota hai vah jyaada din nahin chalata asaliyat jo hotee hai vah kaheen na kaheen kabhee na kabhee jo hai aapake saamane jaroor aa jaegee aur tab logon ke saamane aapaka jo maan pratishtha hai vah sab mittee mein mil jaega to aisa phrend kaam nahin karana chaahie agar aapakee ekchual vailyoo hai jo hai braanded kapade pahanane kee to aap pahanee hai shauk se pahanee hai aur isase jo hai aapaka maan-sammaan yash keerti sab kuchh padatee hai phir nirantar badhatee rahatee hai isamen koee do raay nahin lekin jab aap usake kaabil rahenge to anyatha nahin hotee hai aisa kuchh aasha hai ki aapako yah javaab pasand aaya hoga shukriya

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
3:35
जी नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता कि कोई अगर ब्रांडेड कपड़े पहनता है तो उसकी प्रतिष्ठा बढ़ती है सोच कर देखिए प्रतिष्ठा अगर आप की बढ़ती है तो वह बनती हैं आपके या बढ़ती है आपके चरित्र से आपके स्वभाव से आकर मिर्जा से आंखें भरता आपसे आपके आचरण से आपके व्यक्तित्व से सारी चीजों से आपके संस्कार से आपके कर्म से लोग एक धारणा बनाते हैं आपके बारे में एक नजरिया रखते हैं आपके बारे में कुछ ऐसा सोचते हैं या कुछ वैसा सोचते हैं कि आप किस तरीके के इंसान हैं ना कि कपड़ों को देखकर के सोच कर देखें अगर ऐसा होता है तो किसी को अपने ऊपर काम करने की क्या जरूरत थी बस वह बढ़िया ब्रांडेड कपड़े पहन लेता लेकिन आपने देखा होगा कि भाई बढ़िया ब्रांडेड कपड़े पहन कर करके भी अगर लोगों को ठीक से रहना नहीं आता बर्ताव करना नहीं आता उनका बिहेवियर एप्रोप्रियेट नहीं होता उनका घर में सही नहीं होता तो क्या फायदा हमें दिखता है ना मैं समझ आता है ना ऐसा तो होता नहीं है कि आपके सामने कोई ब्रांडेड कपड़े पहन कर आ गया और आप उसको क्योंकि उसने कपड़े अच्छे बने हैं ब्रांडेड हैं तो भाई आपने उसकी किसी भी बात का बुरा नहीं माना वह जो कहता है जो करता है वह सब सही है क्या आप उसको ऐसा देखते हैं ऐसा समझते हैं नहीं रहा एक पल के लिए आप आप जब किसी को देखेंगे तो जरूर अच्छा लगेगा कि हां ऐसे अच्छे कपड़े पहने हो सकता है ध्यान भी आपका चला जाए कि किस कंपनी का कपड़ा पहना है या यह अच्छा लग रहा है आचार्य में या यह इसको सूट कर रहा है वगैरह वगैरह का ध्यान जा सकता है लेकिन उसके बाद मैं आपका ध्यान तो उसके बर्ताव पर जाते हैं उसके बाद ही पर जाता है व्यवहार पर जाता है ना तो इसीलिए ब्रांडेड अपने कपड़े पहनने से कोई आये ना बहुत महान नहीं हो जाता उसका व्यक्तित्व एकदम से परिवर्तित नहीं हो जाता है अगर किसी के पास है वह पहनना चाहते हैं तो उसकी मर्जी कोई दिक्कत वाली बात नहीं है आप और हम भी पहनना चाहेंगे ब्रांडेड कपड़े क्यों किधर से निकली उनकी क्वालिटी अच्छी होती है वह आप अलास्ट करते हैं वह काफी समय तक चलते हैं कंपैरेटिव ली तो उसमें कोई दिक्कत परेशानी वाली बात नहीं है था लेकिन मेरे जैसा आदमी थोड़ा सोचेगा कि मैं कौन से देश का क्या सामान यूज करो और क्या ना करूं वगैरा-वगैरा किसी को भी नहीं होनी चाहिए लेकिन उसने किसी की प्रतिष्ठा बढ़ती नहीं है एक और बात भी जहां पर आपको अच्छा कपड़ा पहन कर जाना है तो जैसे आप चाहेंगे ना कि अच्छा पहन कर जाएं और अगर आपकी इनायत है और आप पहन सकते हैं ब्रांडेड कपड़े तो आप जाइए कोई दिक्कत वाली बात नहीं है यह तो आपके ऊपर है लेकिन आपकी प्रतिष्ठा आपका आभार सामान सब कुछ करता है आपके कर्म से आपके बातचीत से आपके व्यवहार से आप दुनिया को कैसे देखते हैं अपने आप को कैसे देखते हैं कैसे अपने आप को इस दुनिया में लोगों के साथ मैनेज करते हैं आपके संस्कार क्या है कर्म किस दिशा में है किस तरीके के हैं यह सारी चीजें इंपॉर्टेंट होती है आपका व्यक्तित्व और आपका चरित्र इंपॉर्टेंट होता है ना कि कपड़े तो पहने कोई दिक्कत नहीं है लेकिन फिर भी कहां हमेशा हमारे हमें अपने ऊपर ही करना होता है
Jee nahin aisa bilkul bhee nahin hota ki koee agar braanded kapade pahanata hai to usakee pratishtha badhatee hai soch kar dekhie pratishtha agar aap kee badhatee hai to vah banatee hain aapake ya badhatee hai aapake charitr se aapake svabhaav se aakar mirja se aankhen bharata aapase aapake aacharan se aapake vyaktitv se saaree cheejon se aapake sanskaar se aapake karm se log ek dhaarana banaate hain aapake baare mein ek najariya rakhate hain aapake baare mein kuchh aisa sochate hain ya kuchh vaisa sochate hain ki aap kis tareeke ke insaan hain na ki kapadon ko dekhakar ke soch kar dekhen agar aisa hota hai to kisee ko apane oopar kaam karane kee kya jaroorat thee bas vah badhiya braanded kapade pahan leta lekin aapane dekha hoga ki bhaee badhiya braanded kapade pahan kar karake bhee agar logon ko theek se rahana nahin aata bartaav karana nahin aata unaka biheviyar epropriyet nahin hota unaka ghar mein sahee nahin hota to kya phaayada hamen dikhata hai na main samajh aata hai na aisa to hota nahin hai ki aapake saamane koee braanded kapade pahan kar aa gaya aur aap usako kyonki usane kapade achchhe bane hain braanded hain to bhaee aapane usakee kisee bhee baat ka bura nahin maana vah jo kahata hai jo karata hai vah sab sahee hai kya aap usako aisa dekhate hain aisa samajhate hain nahin raha ek pal ke lie aap aap jab kisee ko dekhenge to jaroor achchha lagega ki haan aise achchhe kapade pahane ho sakata hai dhyaan bhee aapaka chala jae ki kis kampanee ka kapada pahana hai ya yah achchha lag raha hai aachaary mein ya yah isako soot kar raha hai vagairah vagairah ka dhyaan ja sakata hai lekin usake baad main aapaka dhyaan to usake bartaav par jaate hain usake baad hee par jaata hai vyavahaar par jaata hai na to iseelie braanded apane kapade pahanane se koee aaye na bahut mahaan nahin ho jaata usaka vyaktitv ekadam se parivartit nahin ho jaata hai agar kisee ke paas hai vah pahanana chaahate hain to usakee marjee koee dikkat vaalee baat nahin hai aap aur ham bhee pahanana chaahenge braanded kapade kyon kidhar se nikalee unakee kvaalitee achchhee hotee hai vah aap alaast karate hain vah kaaphee samay tak chalate hain kampairetiv lee to usamen koee dikkat pareshaanee vaalee baat nahin hai tha lekin mere jaisa aadamee thoda sochega ki main kaun se desh ka kya saamaan yooj karo aur kya na karoon vagaira-vagaira kisee ko bhee nahin honee chaahie lekin usane kisee kee pratishtha badhatee nahin hai ek aur baat bhee jahaan par aapako achchha kapada pahan kar jaana hai to jaise aap chaahenge na ki achchha pahan kar jaen aur agar aapakee inaayat hai aur aap pahan sakate hain braanded kapade to aap jaie koee dikkat vaalee baat nahin hai yah to aapake oopar hai lekin aapakee pratishtha aapaka aabhaar saamaan sab kuchh karata hai aapake karm se aapake baatacheet se aapake vyavahaar se aap duniya ko kaise dekhate hain apane aap ko kaise dekhate hain kaise apane aap ko is duniya mein logon ke saath mainej karate hain aapake sanskaar kya hai karm kis disha mein hai kis tareeke ke hain yah saaree cheejen importent hotee hai aapaka vyaktitv aur aapaka charitr importent hota hai na ki kapade to pahane koee dikkat nahin hai lekin phir bhee kahaan hamesha hamaare hamen apane oopar hee karana hota hai

amarjit kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए amarjit जी का जवाब
Unknown
0:28

Arjun Vishvakrma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Arjun जी का जवाब
Only students
2:58
यह बिल्कुल गलत गलत धारणा है तू गलत धारणा है कि ब्रांडेड कपड़े पहनने से एक पहनने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा बढ़ती है शास्त्रों ने शास्त्रों ने कहा है गुरु मा सिद्धांत बहुत अच्छा लाभ से अच्छा पहले का पढ़ाने पान सुपारी खाएं अच्छा पहले का पढ़ाने पान सुपारी खाई एक हरि का नाम मीना बाला एवं पूजा में अपने विचारों को बताना चाहता हूं कि अगर इंसान अगर इंसान में बोलने का तरीका नहीं है नॉलेज नहीं है जो क्वेश्चन का एजुकेशन का अभाव में उच्च शिक्षा बुक में बुक में कॉफी तक ही सीमित अगर वो अपने व्यवहार में वाटर में नहीं लाए तो कोई मतलब नहीं क्योंकि अच्छी बात है लिखना पढ़ना लिखना पढ़ना देखना सुनना मायने नहीं रखता जब तक क्यों बातें अपने जीवन पथ पर ना आए अगर अपने को यह बात पता नहीं है कौन सी बात कब कैसे चोर कहां पर बोलना है तो कोई कोई माय मतलब और मायने नहीं रखता कि आपने कितनी बुक से पढ़े कितनी सांस तक पढ़ी है कितनी मोटिवेशन मोटिवेशन इस पर्व को देखा है सुनना है उनको पढ़ा कॉल मैं नहीं का मतलब लाइफ में छोटी से छोटी बातों को नोट गाना फिर चाहे सही हो गलत और सही बातों को ना सही बातों को नोट करो वह तो लाइफ में उजाला मिलेगा रास्ता मिलेगा गलत बातों को नोट कर नोट करो को तो आपको बुरा वक्त मैं आपको इस इसका अनुभव होगा प्रैक्टिकल प्रैक्टिकल ही होगा आपको प्रैक्टिकल होगा जैसा होगा मैंने वह गलत किया था तो मुझे मैम मैंने गलत किया तो उसको परिणाम मुझे मिल रहा है आपको इस चीज का भाव इसका भी आपको अनुमान हुआ वह अनुभव होगा जो जैसा होता है वैसा ही का ही काटता है मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि ब्रांडेड कपड़े पहनने से कुछ नहीं होता अगर इंसान को बोलने के तरीके नहीं एजुकेशन अच्छी नहीं है उसको टैलेंट है नहीं है उसको लाइफ एक्सप्लेंस इन उस सब जाने का मनु जिंदगी कोई नहीं नहीं जाना मेरे कहने को अपने पेरेंट्स रिस्पेक्ट ओनली ऑल वर्ल्ड ऑल वर्ल्ड रिस्पेक्ट है मां-बाप को रिस्पेक्ट करो उसमें लग जाओ दुनिया के रिश्तो का संसार ने परमात्मा को नहीं छोड़ते इंसानों का है छोड़ेगी एक एग्जांपल में बताता हूं ज्यादा धूप पड़े तो परमात्मा को गाली ज्यादा वरसाद पड़े तो पानी पड़े तो गाली रे हवा चले तो गाली ज्यादा बोले बम बोले तो गुना बोले तो पागल अगर लड़की पढ़ ले पढ़ लिख कर जाए तो कर करना कहीं का कहीं नाम करेगी ना करना पड़े लिखे तो फोकट यार जिंदगी है अगर मीडियम साइज के बीच अपने आप ही का ना कभी क्या नहीं क्या इंसान ने परमात्मा को तो छोड़ा ही नहीं तो मनुष्य की औकात नहीं इंसान तो तब तक कि अपने पैरों तले रहता है जब
Yah bilkul galat galat dhaarana hai too galat dhaarana hai ki braanded kapade pahanane se ek pahanane se vyakti kee pratishtha badhatee hai shaastron ne shaastron ne kaha hai guru ma siddhaant bahut achchha laabh se achchha pahale ka padhaane paan supaaree khaen achchha pahale ka padhaane paan supaaree khaee ek hari ka naam meena baala evan pooja mein apane vichaaron ko bataana chaahata hoon ki agar insaan agar insaan mein bolane ka tareeka nahin hai nolej nahin hai jo kveshchan ka ejukeshan ka abhaav mein uchch shiksha buk mein buk mein kophee tak hee seemit agar vo apane vyavahaar mein vaatar mein nahin lae to koee matalab nahin kyonki achchhee baat hai likhana padhana likhana padhana dekhana sunana maayane nahin rakhata jab tak kyon baaten apane jeevan path par na aae agar apane ko yah baat pata nahin hai kaun see baat kab kaise chor kahaan par bolana hai to koee koee maay matalab aur maayane nahin rakhata ki aapane kitanee buk se padhe kitanee saans tak padhee hai kitanee motiveshan motiveshan is parv ko dekha hai sunana hai unako padha kol main nahin ka matalab laiph mein chhotee se chhotee baaton ko not gaana phir chaahe sahee ho galat aur sahee baaton ko na sahee baaton ko not karo vah to laiph mein ujaala milega raasta milega galat baaton ko not kar not karo ko to aapako bura vakt main aapako is isaka anubhav hoga praiktikal praiktikal hee hoga aapako praiktikal hoga jaisa hoga mainne vah galat kiya tha to mujhe maim mainne galat kiya to usako parinaam mujhe mil raha hai aapako is cheej ka bhaav isaka bhee aapako anumaan hua vah anubhav hoga jo jaisa hota hai vaisa hee ka hee kaatata hai mere kahane ka taatpary yah hai ki braanded kapade pahanane se kuchh nahin hota agar insaan ko bolane ke tareeke nahin ejukeshan achchhee nahin hai usako tailent hai nahin hai usako laiph eksaplens in us sab jaane ka manu jindagee koee nahin nahin jaana mere kahane ko apane perents rispekt onalee ol varld ol varld rispekt hai maan-baap ko rispekt karo usamen lag jao duniya ke rishto ka sansaar ne paramaatma ko nahin chhodate insaanon ka hai chhodegee ek egjaampal mein bataata hoon jyaada dhoop pade to paramaatma ko gaalee jyaada varasaad pade to paanee pade to gaalee re hava chale to gaalee jyaada bole bam bole to guna bole to paagal agar ladakee padh le padh likh kar jae to kar karana kaheen ka kaheen naam karegee na karana pade likhe to phokat yaar jindagee hai agar meediyam saij ke beech apane aap hee ka na kabhee kya nahin kya insaan ne paramaatma ko to chhoda hee nahin to manushy kee aukaat nahin insaan to tab tak ki apane pairon tale rahata hai jab

Ŝhøũrÿå Shourya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ŝhøũrÿå जी का जवाब
Unknown
0:19
ऐसा कुछ भी नहीं है जहां तक मुझे पता है गरीब आदमी जो होता है वह अपने कपड़े खरीदने में पहनने में या दिखावा करने में अपना पैसा बर्बाद कर देता है और अमीर इंसान जो है वह सस्ती चीजें पहन कर दिखाता है
Aisa kuchh bhee nahin hai jahaan tak mujhe pata hai gareeb aadamee jo hota hai vah apane kapade khareedane mein pahanane mein ya dikhaava karane mein apana paisa barbaad kar deta hai aur ameer insaan jo hai vah sastee cheejen pahan kar dikhaata hai

Pranav Mahajan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Pranav जी का जवाब
Unknown
2:30
जी बिल्कुल गलत धारणा है इसमें कोई संदेह की बात ही नहीं है हमेशा याद रखिए जहां तक ब्रैंड से आपको आपकी प्रोडक्टिविटी में कोई वृद्धि हो रही है जहां तक ब्रैंड से आप क्या वर्क करने का जो तरीका है उसमें आसानी हो रही है वहां तक तो आप ब्रैंडको माने फ्रेंड को खरीदें यह बात समझने लायक है परंतु यदि आपको यह लगता है कि ब्रांड पहनकर मेरे अंदर आत्मविश्वास आ जाएगा ग्रैंड पहनकर मेरे तब प्रेजेंटेबल लगने लग जाऊंगा तो यह बहुत ही ज्यादा गलत बात है मैं आपसे एक प्रश्न पूछना चाहता हूं क्या एक कपड़े का टुकड़ा कमीज बैंड या किसी साड़ी की फॉर्म में एक घड़ी या कोई एक ब्रांडेड जूता क्या यह फ्रेंड आप से बढ़कर है मतलब यह शरीर यह पूरा बनाया गया एक सुमन सिस्टम जिसकी रचना सही मायने में भगवान ने और उसको जन्म आपके मां-बाप ने दिया है क्या इसकी कोई वैल्यू नहीं है जिसकी कोई कीमत नहीं है और एक बार मैं आप लोगों के और पूछना चाहूंगा इसे इसे थोड़ा सा सोचिए गा कि जितनी बार आप समझते हैं जैसे मान लीजिए मेरा नाम प्रणाम महाजन है जितनी बार मुझे लगेगा कि एक घड़ी पहन कर या ए पर्टिकुलर जींस पहनकर या ए पार्टिकुलर जूता पहनकर एक पति कलर का चश्मा पहन कर किसी ब्रांड का मैं मेरी कीमत बढ़ जाती है मेरा आत्मविश्वास बढ़ जाता है लोगों में मेरी अपनाने की शक्ति बढ़ जाती है मैं अपना अपमान तो कर ही रहा हूं क्या मैं के साथ-साथ अपने मां और बाप का अपमान नहीं कर रहा क्या मैं इसके साथ-साथ उनके द्वारा दी गई मेरी पालन पोषण और अब बैंकिंग का पान नहीं करा और मोस्ट इंपोर्टेंट भी क्या मैं यह साबित ने कहा कि मेरी मां का दूध इतना कमजोर है कि उसने कैसी संतान को पैदा दिया जिसको यह नश्वर मैटेरियलिस्टिक छोटे-मोटे कुछ ब्रांडों की जरूरत है अपने आप को किसी लेवल पर लाने दोस्तों इस ब्रैंड की दुनिया से बाहर निकली है एक अंधेरी ईस्ट में इंग्लैंड ने हमें घुसा दिया है मैसेज पर बोलूंगा जहां तक इससे आपकी प्रोडक्टिविटी में फर्क पड़ता है वहां तक ठीक है परंतु अगर आपको एक प्रोग्राम में जाना है आज ही चीज को इंप्लीमेंट कीजिए आप मत ध्यान दीजिए अपने किसी फ्रेंड का कपड़ा पहना आप इस बात पर ध्यान दीजिए कि आप अपने आप को ब्रांड बना पा रहे हैं कि मैं आपका बहुत-बहुत धन्यवाद यदि कोई भी और प्रश्न हो आप से पूछने का कष्ट करें थैंक यू
Jee bilkul galat dhaarana hai isamen koee sandeh kee baat hee nahin hai hamesha yaad rakhie jahaan tak braind se aapako aapakee prodaktivitee mein koee vrddhi ho rahee hai jahaan tak braind se aap kya vark karane ka jo tareeka hai usamen aasaanee ho rahee hai vahaan tak to aap braindako maane phrend ko khareeden yah baat samajhane laayak hai parantu yadi aapako yah lagata hai ki braand pahanakar mere andar aatmavishvaas aa jaega graind pahanakar mere tab prejentebal lagane lag jaoonga to yah bahut hee jyaada galat baat hai main aapase ek prashn poochhana chaahata hoon kya ek kapade ka tukada kameej baind ya kisee sari kee phorm mein ek ghadee ya koee ek braanded joota kya yah phrend aap se badhakar hai matalab yah shareer yah poora banaaya gaya ek suman sistam jisakee rachana sahee maayane mein bhagavaan ne aur usako janm aapake maan-baap ne diya hai kya isakee koee vailyoo nahin hai jisakee koee keemat nahin hai aur ek baar main aap logon ke aur poochhana chaahoonga ise ise thoda sa sochie ga ki jitanee baar aap samajhate hain jaise maan leejie mera naam pranaam mahaajan hai jitanee baar mujhe lagega ki ek ghadee pahan kar ya e partikular jeens pahanakar ya e paartikular joota pahanakar ek pati kalar ka chashma pahan kar kisee braand ka main meree keemat badh jaatee hai mera aatmavishvaas badh jaata hai logon mein meree apanaane kee shakti badh jaatee hai main apana apamaan to kar hee raha hoon kya main ke saath-saath apane maan aur baap ka apamaan nahin kar raha kya main isake saath-saath unake dvaara dee gaee meree paalan poshan aur ab bainking ka paan nahin kara aur most importent bhee kya main yah saabit ne kaha ki meree maan ka doodh itana kamajor hai ki usane kaisee santaan ko paida diya jisako yah nashvar maiteriyalistik chhote-mote kuchh braandon kee jaroorat hai apane aap ko kisee leval par laane doston is braind kee duniya se baahar nikalee hai ek andheree eest mein inglaind ne hamen ghusa diya hai maisej par boloonga jahaan tak isase aapakee prodaktivitee mein phark padata hai vahaan tak theek hai parantu agar aapako ek prograam mein jaana hai aaj hee cheej ko impleement keejie aap mat dhyaan deejie apane kisee phrend ka kapada pahana aap is baat par dhyaan deejie ki aap apane aap ko braand bana pa rahe hain ki main aapaka bahut-bahut dhanyavaad yadi koee bhee aur prashn ho aap se poochhane ka kasht karen thaink yoo

Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
1:44

Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
2:58
क्या ब्रांडेड कपड़े पहनने से व्यक्ति की प्रतिष्ठा बढ़ती है फिर से गलत डालना है तो अगर मैं कहूं तो यह से कतई इंकार नहीं ऐसा कुछ नहीं है यह सब मन की अवतार नहीं होती है सब मन की गलत धारणाएं होती जो समाज में फैलाई जा रही है कि आपके पास पैसा है बाप की इज्जत है या फिर आपके पास अच्छे कपड़े है तो आपकी इज्जत है तो लोग देखें उस चीज को उसी तरीके से रहे जो पेश की जा रही है अगर वह चीज पसीने की जाए जैसे मान लीजिए थाली में खाना दो टाइप का एक में पिज़्ज़ा है और एक में रोती है तो आप दिल्ली रोटी खा रहे लेकिन एक दिन आपको पिज़्ज़ा दिया गया वह बहुत अच्छा लगा तो फिर आपको धीरे-धीरे उसकी आदत हो जाएगी तब फिर आप पिज्जा एम्मेगी जो भी है कोई भी चीज एक आइटम ले ली जब मैं गई है प्लीज आपको वह चीज ध्यान आकर्षित करेगी तो उसकी तरफ आप ज्यादा जाएंगे तो आप जाएंगे तो आपके पीछे और चार जने होंगे तो वह भी उसी चीज की तरफ जाएंगे तो कहने का मतलब यह है कि यह सब आज दुनिया मतलब जो चीज भेज करती है कंपनियां कैसे होती है कि अपने प्रोडक्ट को बार बार बार बार बार बार दिखाती हमारा माइंड को हमारे माइंड को केचप करती है उनके प्रोडक्ट की तरफ हमारे मतलब जो कहते हैं कि ब्रेनवाश करना ब्रेन को वोट करते अपने प्रोडक्ट को बेचने के लिए तो उस तरीके से ही यह सब चीजें होती है कि जैसे ब्रांडेड कपड़े पहनने से प्रतिष्ठा बढ़ती है तो ऐसे लोगों को सिर्फ सोच है बाकी सब कुछ नहीं है अब प्रैक्टिकली कहां कुछ फर्क पड़ता है मुझे यह बताइए आप अगर वह ब्रांडेड कपड़ा नहीं भी पहन रहे कपड़े सादे कपड़े भी पहन रहे लेकिन आप नॉलेजेबल पर्सन एक रिस्पेक्टेड पर्सन है आप भी बहुत अच्छी कमाई है अगर आप बहुत अच्छे अच्छे इंसान है चलो कमाई भी नहीं मान लिया पर बहुत अच्छे गुणवान इंसान आप लोगों की भी मदद करते हैं करते हैं तो कहीं ना कहीं आपकी प्रतिष्ठा वैसे ही मान सम्मान वैसे ही बना रहेगा लोगों की नजरों में ना कि आपके ब्रांडेड कपड़ों से और जहां तक ब्रांडेड कपड़ों की बात है उसे भी लोगों को दिखावे के लिए शॉप के लिए पहना जाता है बाकी ऐसा कुछ नहीं है यह सिर्फ मन के विचार है जो लोगों ने बनाए हैं जो ब्रेनवाश किया है कंपनियों ने ब्रांडेड कपड़े पहनाकर के ऑफिसों में या अभी टीवी में दिखा करके के ब्रांडेड कपड़े पहनने चाहिए प्रतिष्ठा बढ़ती है ऐसा कुछ नहीं है मैं चलो आपको एक एग्जांपल देता हूं क्या ब्रांडेड कपड़े पहनी है लेकिन आपके पास नौकरी नहीं है या फिर आपकी शादी नहीं हुई है तब भी यह समाज आपको गाली देगा तब भी यह समाज आपको कहीं ना कहीं कुछ ना कुछ किसी न किसी बात करता ही रहेगा तो वहां काफी प्रतिष्ठा फिर आपकी की प्रतिष्ठा में बड़े आपका ब्रांडेड कपड़े पहन गए तो फिर ऐसा कुछ नहीं होता है यह सब बकवास बातें हैं सब कुछ गलत है तो वह मेरी नजर में तो गलत है बाकी जैसी जिसकी सोच कौन क्या सोचता है आई डोंट केयर हमने जो समझता हूं मेरी जितनी थिंकिंग ले वाले को यही है कि कपड़ों से कुछ नहीं होता है होता है गुणवान से मान सम्मान से कि आप लोगों के साथ कैसा व्यवहार से रहते हैं मेरे मेरे

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्रतिष्ठा का अर्थ, प्रतिष्ठा क्या है
URL copied to clipboard