#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:52

और जवाब सुनें

ABHAI PRATAP SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ABHAI जी का जवाब
teacher
1:43
मित्र आप का प्रश्न है प्राचीन काल में जब साबुन और शैंपू नहीं था तब लोग नहाने और बाल धोने के लिए क्या इस्तेमाल करते थे विचित्र आज के युग में लोक साबुन और शैंपू का इस्तेमाल करते हैं जो अब वैज्ञानिक दृष्टिकोण से बहुत लाभप्रद नहीं है प्राचीन काल में जब साबुन और शैंपू नहीं था तो लोग बाल धोने के लिए काली मिट्टी मुल्तानी मिट्टी रीठा शिकाकाई आंवला के गुण से बालों के झूलते थे इन चीजों का प्रयोग करने से बाल और घने मजबूत होते थे बालों में एक निश्चित उम्र तक सफेदी नहीं आती थी बालों की जड़ें मजबूत रहती थी और नहाने के लिए लोग मुल्तानी मिट्टी का है ज्यादातर प्रयोग करते थे महिलाएं नहाने के लिए हल्दी चंदन आज से अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार हल्दी चंदन उबटन तमाम प्रकार के आज का प्रयोग करती थी जिससे उनके सौंदर्य में और अधिक निखार आता था और जो गरीब महिलाएं रहती थी वह आमतौर पर मुल्तानी मिट्टी का काली मिट्टी का ही प्रयोग कर स्नान कर लेती थी
Mitr aap ka prashn hai praacheen kaal mein jab saabun aur shaimpoo nahin tha tab log nahaane aur baal dhone ke lie kya istemaal karate the vichitr aaj ke yug mein lok saabun aur shaimpoo ka istemaal karate hain jo ab vaigyaanik drshtikon se bahut laabhaprad nahin hai praacheen kaal mein jab saabun aur shaimpoo nahin tha to log baal dhone ke lie kaalee mittee multaanee mittee reetha shikaakaee aanvala ke gun se baalon ke jhoolate the in cheejon ka prayog karane se baal aur ghane majaboot hote the baalon mein ek nishchit umr tak saphedee nahin aatee thee baalon kee jaden majaboot rahatee thee aur nahaane ke lie log multaanee mittee ka hai jyaadaatar prayog karate the mahilaen nahaane ke lie haldee chandan aaj se apanee aarthik sthiti ke anusaar haldee chandan ubatan tamaam prakaar ke aaj ka prayog karatee thee jisase unake saundary mein aur adhik nikhaar aata tha aur jo gareeb mahilaen rahatee thee vah aamataur par multaanee mittee ka kaalee mittee ka hee prayog kar snaan kar letee thee

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:38
प्राचीन काल में जब साबुन और शैंपू नहीं था तब लोग नहाने और बाल धोने के लिए क्या इस्तेमाल करते थे वह बता दो पहले लोग भी चला लेते थे कुछ खास तरह की मिट्टियां जगह जगह पाई जाती थी जिससे कि लोग बाल भी धो लेते थे और कुछ खास तरह की मिट्टियां पाई जाती जिससे कपड़े धो लेते थे और वो साबुन थोड़े से भी बढ़िया काम करते थे और वह शुद्ध होते थे उनका लायक कभी नहीं होते थे
Praacheen kaal mein jab saabun aur shaimpoo nahin tha tab log nahaane aur baal dhone ke lie kya istemaal karate the vah bata do pahale log bhee chala lete the kuchh khaas tarah kee mittiyaan jagah jagah paee jaatee thee jisase ki log baal bhee dho lete the aur kuchh khaas tarah kee mittiyaan paee jaatee jisase kapade dho lete the aur vo saabun thode se bhee badhiya kaam karate the aur vah shuddh hote the unaka laayak kabhee nahin hote the

Dinesh Kumar mahi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Students life
1:00
दोस्तों प्रश्न है प्राचीन काल में जब साबुन और शैंपू नहीं था तब लोग नहाने और बाल धोने के लिए क्या इस्तेमाल करते थे दोस्तों दोस्तों जहां तक कि मेरा अनुमान है कि पहले के जमाने में यह सब तो नहीं था लेकिन गोरी मिट्टी चाक मिट्टी जिसको की सवा मिट्टी खाते हैं उसी से नहाते थे उन से नहाने से क्या होता है बाल साफ रहता है क्योंकि पहले हम लोग भी ना आते थे वह सब पुराने जमाने का है वह सब पहले यूज़ करते थे इसलिए बाजार में अभी भी उपलब्ध है अब उतना नहीं लगाते आप लोग लगाते हैं साबुन शैंपू तरह-तरह का तेल आ चुका है मार्केट में इसलिए आजकल फैशन का जमाना है इसलिए लोग वह सब यूज़ नहीं करते हैं पहले के जमाने में फैशन का जमाना नहीं था तो यह सब मिट्टी का चाक मिट्टी जैसे हो गया सुबह मिट्टी यह सब नहीं यही सब से स्नान करते थे दोस्तों उम्मीद करते हैं प्रश्न का जवाब नहीं मिला और कथा
Doston prashn hai praacheen kaal mein jab saabun aur shaimpoo nahin tha tab log nahaane aur baal dhone ke lie kya istemaal karate the doston doston jahaan tak ki mera anumaan hai ki pahale ke jamaane mein yah sab to nahin tha lekin goree mittee chaak mittee jisako kee sava mittee khaate hain usee se nahaate the un se nahaane se kya hota hai baal saaph rahata hai kyonki pahale ham log bhee na aate the vah sab puraane jamaane ka hai vah sab pahale yooz karate the isalie baajaar mein abhee bhee upalabdh hai ab utana nahin lagaate aap log lagaate hain saabun shaimpoo tarah-tarah ka tel aa chuka hai maarket mein isalie aajakal phaishan ka jamaana hai isalie log vah sab yooz nahin karate hain pahale ke jamaane mein phaishan ka jamaana nahin tha to yah sab mittee ka chaak mittee jaise ho gaya subah mittee yah sab nahin yahee sab se snaan karate the doston ummeed karate hain prashn ka javaab nahin mila aur katha

akata RATANPRKHI Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए akata जी का जवाब
Unknown
0:01

Shyam sundar Nai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shyam जी का जवाब
नोकरी
1:05
नमस्कार आपका सवाल है कि प्राचीन काल में जब साबुन शैंपू नहीं था तो लोग कैसे नहाते हैं बाल धोते थे देखिए जिनका में हमारे दादा दादी अम्मा दादी कहां करती थी कि उस टाइम साबुन शैंपू नहीं था तो 121 चिकनी मिट्टी होती थी उससे वह शरीर पर करते थे या जो ना होती है लकड़ियों को जलाने पर उस तरफ से अपने शरीर पर लगाकर नहा लेते थे इसके अलावा बाल धोने के लिए अधिकतर छाछ का इस्तेमाल करते थे क्योंकि उस टाइम दूध दही छाछ बहुत सहजता से मिल जाते थे तो बाल धोने के लिए छास दही का इस्तेमाल होता था बनाने के लिए भी छत से भी नहा सकते थे यही साजन साजन काल में नानी भगवान धोने के लिए लोग इस्तेमाल करते थे
Namaskaar aapaka savaal hai ki praacheen kaal mein jab saabun shaimpoo nahin tha to log kaise nahaate hain baal dhote the dekhie jinaka mein hamaare daada daadee amma daadee kahaan karatee thee ki us taim saabun shaimpoo nahin tha to 121 chikanee mittee hotee thee usase vah shareer par karate the ya jo na hotee hai lakadiyon ko jalaane par us taraph se apane shareer par lagaakar naha lete the isake alaava baal dhone ke lie adhikatar chhaachh ka istemaal karate the kyonki us taim doodh dahee chhaachh bahut sahajata se mil jaate the to baal dhone ke lie chhaas dahee ka istemaal hota tha banaane ke lie bhee chhat se bhee naha sakate the yahee saajan saajan kaal mein naanee bhagavaan dhone ke lie log istemaal karate the

Sameera khaan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sameera जी का जवाब
Unknown
0:20
नहीं करते थे प्राचीन खान ने लूटा
Nahin karate the praacheen khaan ne loota

RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
2:13
कुछ नहीं जी प्राचीन काल में जो साबुन और शैंपू नहीं था तो लोग नहाने बर्बाद होने के लिए क्या इस्तेमाल करते थे यह प्राचीन काल में की बात करें हम तो उस समय इतना फैशन भी नहीं था तुम बाल सुंदर ना चाहिए शरीर बिल्कुल साफ होना चाहिए ऐसा मुंडेरी लगा है यह तो कंपनियां अपने साबुन भेजने के लिए इतना इंतजार कराते हैं यह सब लगाओ खुजली दूर हो जाएगी यह सब बुलाओ आप हीरो बन जाए वह हीरोइन बन जाओगे तो प्यार से होता है नहीं होता है सचिन काल में लोगों की आवश्यकता है हम थी जिस चीज को हम नहीं जानते हैं उसके बारे में हम कल्पना नहीं करता है साबुन शैंपू का लोकल पर नहीं किया कुछ ऐसा भी वह लोग पानी से नहा लिया पानी चला लिया आराम से लेकिन लोगे और उसमें यह बता कि यह मैटर सितम से दिलों का बंधन है तो फिर कोई दिक्कत नहीं थी इतने साबुन शैंपू दवाइयों का यूज नहीं था अब तो दिन पर दिन लोगों के विश्वास है वह दवाइयों और साबुन प्रीमिनेंट होता जा रहा है स्किन डिजीज हो रहा है पहले वेस्टइंडीज नहीं था प्राचीन काल में रुपए नहीं था लेकिन फिर भी काम हो जाएगा तथा रेल गाड़ी नहीं थी बस नहीं थी पक्के मकान नहीं थी तभी काम हो जाएगा तो उनसे को बहुत तो माता मदानण के साबुन शैंपू का नहीं हुआ तो चालू करते थे जितनी बसों का ज्ञान होता है हम उसी का प्रयोग करते हैं ना जैसे मोबाइल आ गया मेरा मोबाइल का नहीं आ पाएंगे उसमें मोबाइल नहीं था फिर भी लोग आते थे
Kuchh nahin jee praacheen kaal mein jo saabun aur shaimpoo nahin tha to log nahaane barbaad hone ke lie kya istemaal karate the yah praacheen kaal mein kee baat karen ham to us samay itana phaishan bhee nahin tha tum baal sundar na chaahie shareer bilkul saaph hona chaahie aisa munderee laga hai yah to kampaniyaan apane saabun bhejane ke lie itana intajaar karaate hain yah sab lagao khujalee door ho jaegee yah sab bulao aap heero ban jae vah heeroin ban jaoge to pyaar se hota hai nahin hota hai sachin kaal mein logon kee aavashyakata hai ham thee jis cheej ko ham nahin jaanate hain usake baare mein ham kalpana nahin karata hai saabun shaimpoo ka lokal par nahin kiya kuchh aisa bhee vah log paanee se naha liya paanee chala liya aaraam se lekin loge aur usamen yah bata ki yah maitar sitam se dilon ka bandhan hai to phir koee dikkat nahin thee itane saabun shaimpoo davaiyon ka yooj nahin tha ab to din par din logon ke vishvaas hai vah davaiyon aur saabun preeminent hota ja raha hai skin dijeej ho raha hai pahale vestindeej nahin tha praacheen kaal mein rupe nahin tha lekin phir bhee kaam ho jaega tatha rel gaadee nahin thee bas nahin thee pakke makaan nahin thee tabhee kaam ho jaega to unase ko bahut to maata madaanan ke saabun shaimpoo ka nahin hua to chaaloo karate the jitanee bason ka gyaan hota hai ham usee ka prayog karate hain na jaise mobail aa gaya mera mobail ka nahin aa paenge usamen mobail nahin tha phir bhee log aate the

Anil Dubey  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Anil जी का जवाब
Unknown
0:13

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
0:29
चीन का नहाने के साबुन शैंपू आदि नहीं थी तो 9 और बाल धोने आदि के लिए खरीद मिट्टी का प्रयोग किया जाता था या फिर नदी की मिट्टी का प्रयोग करते थे उससे ही स्वच्छता का कार्य किया जाता था नानी के लिए वे अन्य आदि उनके लिए काम लिया जाता था
Cheen ka nahaane ke saabun shaimpoo aadi nahin thee to 9 aur baal dhone aadi ke lie khareed mittee ka prayog kiya jaata tha ya phir nadee kee mittee ka prayog karate the usase hee svachchhata ka kaary kiya jaata tha naanee ke lie ve any aadi unake lie kaam liya jaata tha

murari lal meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए murari जी का जवाब
Unknown
0:19

Arjun Vishvakrma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Arjun जी का जवाब
Only students
0:15
प्राचीन काल में जब सामने शैंपू नहीं हुआ करते थे तब लोग मुख्य रूप से अपने बाल धोने के लिए मुल्तानी मिट्टी और खेतों की मिट्टियों का उपयोग करते थे
Praacheen kaal mein jab saamane shaimpoo nahin hua karate the tab log mukhy roop se apane baal dhone ke lie multaanee mittee aur kheton kee mittiyon ka upayog karate the

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
3:42
लिखे जो आज साबुन और शैंपू वगैरह है यह सब कहां से आया जुली देखा जाए तो इनका जो बेस होता है और वह केमिकल होता है ओके केमिकल में आपके ऑर्गेनिक चीजें भी होती हैं जहां पहला फादर साब ले लेते हैं तो उसमें इनोवा प्राकृतिक चीजें भी होती हैं आप पेड़ होता है इनोवा फुल पत्ते होती हैं जिनका एक्सट्रैक्ट होता है जूस होता है वगैरा-वगैरा यह सारी चीजें होती है लेकिन डेफिनटली केमिकल एलिमेंट होता है और क्या नहीं क्या सोप लेते हैं साबुन लेते हैं शैंपू लेते हैं तो उसमें केमिकल नहीं होता वह सारी नेचुरल चीजों से ही बनती है जब हम पहले की बात करते हैं जिससे मैंने साबुन शैंपू वगैरह नहीं होते बल्कि पहले क्या मेरे को याद है आपने यह बचपन के दिन और इतना पूछे थे हम तो नहाने वाली साबुन से भी सर्द हो लिया करते थे ऐसा वाला टाइम भी देखा है मैंने तो अच्छा उससे पहले की बात है तो भाई उससे पहले लोग गांव में प्रायः हाथ धोने के लिए मिट्टी का भी प्रयोग करते थे और स्पेशली शौच के बाद लोग आते थे और आज भी लोग बाहर जाते थे ऐसा नहीं होता था जैसा आजकल है तो सोच के बाद भी वह मिट्टी से हाथ धोते थे और जब नहाने जाते थे तो कई लोग तो नदी किनारे नहाते थे तो वह जोकली होता है जो वहां पर काली मिट्टी होती है वह सर में लगाकर इंसान के बॉडी में भी लगाते थे वह प्ले स्पेशल टाइप का मिट्टी होता है जिसे कहते हैं काली मिट्टी कहते हैं वगैरा-वगैरा उनके नाम होते थे उसके साथ साथ है भैया फलों की एक्स्ट्रा कैसे पपीता हो गया एवं फल के छिलके हो गए केले का छिलका बहुत फायदेमंद होता है फेस पर लगाने के लिए स्क्रब करने के लिए बहुत सारे शब्द का प्रयोग किया जाता था और अपने आप को स्वच्छ रखने के लिए और ऐसा नहीं होता था फिर से जमाने में कि भाई आपको रोज साबुन लगाना है या ऐड हफ्ते में दो बार तीन बार शाम को करना ही करना है ऐसा भी नहीं होता था बल्कि लोग लगाते थे चाहे वह कोकोनट ऑयल हो गया मास्टर डालो अपनी बॉडी पर ताकि उनका बॉडी में मास्टर है आजकल हम लोग लगाते हैं पहले यही सब होता था और लगाकर नहा लेना स्पेशली अगर विंटर्स की बात करते हैं तो मस्टर्ड ऑयल बॉडी में लगा कर नहाना यह एक बहुत फायदेमंद चीज मानी जाती थी जो कि बॉडी को ड्राई होने से रोकती थी बगैरा बगैरा तो यह सारी चीजें होती थी क्या अभी वह हो सकती है क्या अभी वह करना चाहिए हां देखे तो इंसान हैं वैसे ही हम जैसे आज से 100 साल 500 साल 4 साल पहले थे इंसान तो वैसे यह उसी पंचतत्व से तब से बने हुए हैं वही सारी प्राकृतिक संपदा है चीजें हैं अब क्योंकि शैंपू और अशोक और बहुत सारे ऑप्शन से आ गए हैं तो इसलिए हम उनको यूज करते हैं और कन्वीनियंस भी आसान भी है कोई दिक्कत वाली बात नहीं है इसलिए हम बाकी सारी चीजों को छोड़ आए हैं बता दो क्या हम उनको अभी भी यूज कर सकते हैं आज एफिनिटी आप यूज कर सकते हैं और
Likhe jo aaj saabun aur shaimpoo vagairah hai yah sab kahaan se aaya julee dekha jae to inaka jo bes hota hai aur vah kemikal hota hai oke kemikal mein aapake orgenik cheejen bhee hotee hain jahaan pahala phaadar saab le lete hain to usamen inova praakrtik cheejen bhee hotee hain aap ped hota hai inova phul patte hotee hain jinaka eksatraikt hota hai joos hota hai vagaira-vagaira yah saaree cheejen hotee hai lekin dephinatalee kemikal eliment hota hai aur kya nahin kya sop lete hain saabun lete hain shaimpoo lete hain to usamen kemikal nahin hota vah saaree nechural cheejon se hee banatee hai jab ham pahale kee baat karate hain jisase mainne saabun shaimpoo vagairah nahin hote balki pahale kya mere ko yaad hai aapane yah bachapan ke din aur itana poochhe the ham to nahaane vaalee saabun se bhee sard ho liya karate the aisa vaala taim bhee dekha hai mainne to achchha usase pahale kee baat hai to bhaee usase pahale log gaanv mein praayah haath dhone ke lie mittee ka bhee prayog karate the aur speshalee shauch ke baad log aate the aur aaj bhee log baahar jaate the aisa nahin hota tha jaisa aajakal hai to soch ke baad bhee vah mittee se haath dhote the aur jab nahaane jaate the to kaee log to nadee kinaare nahaate the to vah jokalee hota hai jo vahaan par kaalee mittee hotee hai vah sar mein lagaakar insaan ke bodee mein bhee lagaate the vah ple speshal taip ka mittee hota hai jise kahate hain kaalee mittee kahate hain vagaira-vagaira unake naam hote the usake saath saath hai bhaiya phalon kee ekstra kaise papeeta ho gaya evan phal ke chhilake ho gae kele ka chhilaka bahut phaayademand hota hai phes par lagaane ke lie skrab karane ke lie bahut saare shabd ka prayog kiya jaata tha aur apane aap ko svachchh rakhane ke lie aur aisa nahin hota tha phir se jamaane mein ki bhaee aapako roj saabun lagaana hai ya aid haphte mein do baar teen baar shaam ko karana hee karana hai aisa bhee nahin hota tha balki log lagaate the chaahe vah kokonat oyal ho gaya maastar daalo apanee bodee par taaki unaka bodee mein maastar hai aajakal ham log lagaate hain pahale yahee sab hota tha aur lagaakar naha lena speshalee agar vintars kee baat karate hain to mastard oyal bodee mein laga kar nahaana yah ek bahut phaayademand cheej maanee jaatee thee jo ki bodee ko draee hone se rokatee thee bagaira bagaira to yah saaree cheejen hotee thee kya abhee vah ho sakatee hai kya abhee vah karana chaahie haan dekhe to insaan hain vaise hee ham jaise aaj se 100 saal 500 saal 4 saal pahale the insaan to vaise yah usee panchatatv se tab se bane hue hain vahee saaree praakrtik sampada hai cheejen hain ab kyonki shaimpoo aur ashok aur bahut saare opshan se aa gae hain to isalie ham unako yooj karate hain aur kanveeniyans bhee aasaan bhee hai koee dikkat vaalee baat nahin hai isalie ham baakee saaree cheejon ko chhod aae hain bata do kya ham unako abhee bhee yooj kar sakate hain aaj ephinitee aap yooj kar sakate hain aur

अशोक प्र जापत Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए अशोक जी का जवाब
Unknown
0:07

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्राचीन काल में ‌‌लोग नहाने और बाल धोने के लिए क्या इस्तेमाल करते थे
  • पहले लोग कैसे नहाते थे, प्राचीन काल में लोग कैसे स्नान करते थे, पहले के लोग नदी किनारे क्यो नहाते थे
URL copied to clipboard