#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:49

और जवाब सुनें

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:47

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:01

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
2:04

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:17

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:31

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:01

Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
0:26

RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
0:44
लिखे जो यह कहावत है इसलिए कहा जाता है कि अच्छी चीजें के लिए इंसान को मेहनत करनी पड़ती है भगवान को पाने के लिए मैं करनी पड़ेगी और बुरी चीज है बिना मेहनत के आती है बुरी आदतें भी बिना मेहनत किए जाएंगे जैसे दारु पीने को दिखाना पान खाना 1:00 बजे मैंने लगता है नहीं लगता लेकिन कुछ पाने के लिए नौकरी पाने के लिए पैसे कमाने के लिए बिजनेस करने के लिए हमें मेहनत करना पड़ता है शैतान की मतलब बुरे काम बुरे आदमी और भगवान का भवानी मतलब अच्छे व्यक्ति अच्छा काम आप समझ गए होंगे
Likhe jo yah kahaavat hai isalie kaha jaata hai ki achchhee cheejen ke lie insaan ko mehanat karanee padatee hai bhagavaan ko paane ke lie main karanee padegee aur buree cheej hai bina mehanat ke aatee hai buree aadaten bhee bina mehanat kie jaenge jaise daaru peene ko dikhaana paan khaana 1:00 baje mainne lagata hai nahin lagata lekin kuchh paane ke lie naukaree paane ke lie paise kamaane ke lie bijanes karane ke lie hamen mehanat karana padata hai shaitaan kee matalab bure kaam bure aadamee aur bhagavaan ka bhavaanee matalab achchhe vyakti achchha kaam aap samajh gae honge

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:44
देखिए भाई कहावत कहावत होती है कहावत कह देने से कोई इंसान वैसा बन नहीं जाता अगर किसी को हम क्या देखे शैतान का नाम लिया शैतान हाजिर तो शैतान नहीं बन गया यह तो कहावत है कहावत ही रहेगी और क्या किसी को कह देंगे कि वह भगवान आ गया तो भगवान बन जाएगा ऐसा कभी हो सकता है कहावत कहावत होती है वह अपनी जगह है उसके काले से कोई कुछ बोल नहीं जाता तो यह तो एक आदमी का करने का अंदाज होता है जो कह देता है इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला
Dekhie bhaee kahaavat kahaavat hotee hai kahaavat kah dene se koee insaan vaisa ban nahin jaata agar kisee ko ham kya dekhe shaitaan ka naam liya shaitaan haajir to shaitaan nahin ban gaya yah to kahaavat hai kahaavat hee rahegee aur kya kisee ko kah denge ki vah bhagavaan aa gaya to bhagavaan ban jaega aisa kabhee ho sakata hai kahaavat kahaavat hotee hai vah apanee jagah hai usake kaale se koee kuchh bol nahin jaata to yah to ek aadamee ka karane ka andaaj hota hai jo kah deta hai isase koee phark nahin padane vaala

nitu Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nitu जी का जवाब
Online Store
0:21

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:57
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कहावत है शैतान का नाम लिया शैतान हाजिर परंतु ऐसा क्यों नहीं कहा जाता भगवान का नाम लिया भगवान हाजिर ऐसा इसलिए होता है कि जब भी हम किसी को बोलते हैं कि शैतान का नाम लिया और शैतान हाजिर तो उस वक्त जो है हम किसी नकारात्मक बातों को करते रहते हैं नकारात्मक विचार हमारे अंदर रहता है और जिस व्यक्ति की के लिए यह शब्द प्रयोग किया जाता है वह व्यक्ति जो है उसमें उस कर्तव्य में फूल हीन होता है उसका यानी कि काम ही होता है वह काम करना जिससे के लिए उपयोग किया गया है माली जी कोई व्यक्ति है वह गलत कार्य में व्यस्त रहता है और दो चार लोग उसकी निंदा कर रहे हैं फिर तू वह जो सामने वाला व्यक्ति है वह गलत कार्यों में व्यस्त रहने के कारण जो है वह एक प्रकार से शैतान की संज्ञा उसे दी गई है और वह जब किसी के सामने आता है तो वह कहा जाता है कि नाम लिया और शैतान हाजिर यानी कि अच्छे विचार होते हैं अच्छे कर्म होते हैं वह सब इंसान के द्वारा किए जाते हैं भगवान के द्वारा किए जाते हैं लेकिन जो कि कल कार्य होता है जो हमारे विपरीत होता है जिन्हें हमें नहीं करना चाहिए फिर भी अगर हम एक चीज करते हैं तो वह जो है राक्षस की संज्ञा में आता है वह राक्षस लोग करते हैं इंसान और भगवान वही चीज करते हैं जो उनके लिए उपयोगी बताई गई है जबकि राक्षस लोग क्या करते हैं कि जो उनके लिए उपयोगी नहीं है वही वह करते हैं उनका काम ही है कि बुरे से बुरे कार्यों में व्यस्त रहना इसलिए उन्हें राक्षस की संज्ञा दी गई है कहीं न कहीं किसी न किसी प्रकार से जिस व्यक्ति को यह संज्ञा दी जाती है वह जो है गलत कार्यों में लिप्त रहता है इसलिए उसे जो है इस वाक्य के सात से संबोधित किया जाता है कि राजस्थान का राज्य और शैतान हाजिर और भगवान तो कोई फ्रेंड है नहीं इस दुनिया में भगवान जैसा सिस्टर भगवान जैसा समझदार भगवान की मर्यादाओं की चलने वाला तो इसलिए जो है किसी व्यक्ति को इस नाम से नहीं पुकारा जाता कि भगवान का नाम लिया भगवाना जी क्योंकि भगवान बनने के लिए भगवान की जितना तपस्या करना पड़ता है उनकी जैसा बनना पड़ता है उनके कार्यों को अपनाना पड़ता है जो कि एक हम साधारण व्यक्ति के बस की बात नहीं होती है इसलिए जो है भगवान का नाम नहीं दिया जाता भगवान का दर्जा किसी को नहीं दिया जाता कुछ लोगों को दर्जा दिया भी जाता है आपने देखा होगा कि उनके कर्म अच्छे होते हैं तो लोग बोलते हैं कि यह हमारे भगवान समान है तो कार के अनुसार जो है वह दर्जी की प्राप्ति होती है आशा है कि आप सभी को अथवा पसंद आया होगा शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai kahaavat hai shaitaan ka naam liya shaitaan haajir parantu aisa kyon nahin kaha jaata bhagavaan ka naam liya bhagavaan haajir aisa isalie hota hai ki jab bhee ham kisee ko bolate hain ki shaitaan ka naam liya aur shaitaan haajir to us vakt jo hai ham kisee nakaaraatmak baaton ko karate rahate hain nakaaraatmak vichaar hamaare andar rahata hai aur jis vyakti kee ke lie yah shabd prayog kiya jaata hai vah vyakti jo hai usamen us kartavy mein phool heen hota hai usaka yaanee ki kaam hee hota hai vah kaam karana jisase ke lie upayog kiya gaya hai maalee jee koee vyakti hai vah galat kaary mein vyast rahata hai aur do chaar log usakee ninda kar rahe hain phir too vah jo saamane vaala vyakti hai vah galat kaaryon mein vyast rahane ke kaaran jo hai vah ek prakaar se shaitaan kee sangya use dee gaee hai aur vah jab kisee ke saamane aata hai to vah kaha jaata hai ki naam liya aur shaitaan haajir yaanee ki achchhe vichaar hote hain achchhe karm hote hain vah sab insaan ke dvaara kie jaate hain bhagavaan ke dvaara kie jaate hain lekin jo ki kal kaary hota hai jo hamaare vipareet hota hai jinhen hamen nahin karana chaahie phir bhee agar ham ek cheej karate hain to vah jo hai raakshas kee sangya mein aata hai vah raakshas log karate hain insaan aur bhagavaan vahee cheej karate hain jo unake lie upayogee bataee gaee hai jabaki raakshas log kya karate hain ki jo unake lie upayogee nahin hai vahee vah karate hain unaka kaam hee hai ki bure se bure kaaryon mein vyast rahana isalie unhen raakshas kee sangya dee gaee hai kaheen na kaheen kisee na kisee prakaar se jis vyakti ko yah sangya dee jaatee hai vah jo hai galat kaaryon mein lipt rahata hai isalie use jo hai is vaaky ke saat se sambodhit kiya jaata hai ki raajasthaan ka raajy aur shaitaan haajir aur bhagavaan to koee phrend hai nahin is duniya mein bhagavaan jaisa sistar bhagavaan jaisa samajhadaar bhagavaan kee maryaadaon kee chalane vaala to isalie jo hai kisee vyakti ko is naam se nahin pukaara jaata ki bhagavaan ka naam liya bhagavaana jee kyonki bhagavaan banane ke lie bhagavaan kee jitana tapasya karana padata hai unakee jaisa banana padata hai unake kaaryon ko apanaana padata hai jo ki ek ham saadhaaran vyakti ke bas kee baat nahin hotee hai isalie jo hai bhagavaan ka naam nahin diya jaata bhagavaan ka darja kisee ko nahin diya jaata kuchh logon ko darja diya bhee jaata hai aapane dekha hoga ki unake karm achchhe hote hain to log bolate hain ki yah hamaare bhagavaan samaan hai to kaar ke anusaar jo hai vah darjee kee praapti hotee hai aasha hai ki aap sabhee ko athava pasand aaya hoga shukriya

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:25
हेलो फ्रेंड्स आप का सवाल है कि कहावत है कि शैतान का नाम लिए शैतान हाजिर परंतु ऐसा क्यों नहीं कहा जाता कि भगवान का नाम लिया और भगवान हाजिर शैतान का आप और जब भी नाम लेंगे शैतान तो वह आदमी है शैतान तो हर जगह मौजूद रहता है लेकिन भगवान भी हर जगह मौजूद रहते हैं लेकिन भगवान के पास बहुत सारे काम है भगवान जो हर जगह हर किसी की मदद उसी टाइम नहीं कर पाते लेकिन शैतान वह तो ताक में रहता है कि कब मैं किसका बुरा करूं क्या कब किसका मैं अनिष्ट करूं तो इसलिए शैतान हर वक्त हर जगह आज ही रहता है और यह जगजाहिर बात है कि आप जब भी भगवान से कुछ मांगते हैं तो भगवान आपको उसी समय वह वस्तु नहीं देता वह वस्तु आपको काफी बाद में दे देते हैं और उसी प्रकार जिस टाइम आप कोई गुनाह करते हैं तो भगवान आपको उस गुनाह की सजा उस वक्त नहीं देता उस गुनाह की सजा व जब देता है जवाब गुनाह करके भूल चुके होते हैं तो यह रीत है प्रभु की रीत एसएसटी की रीत है कि आप जो चीज मांगेंगे वह आपको उस वक्त नहीं मिलेगी हां अगर आप अपने लिए कुछ बुरा सोचेंगे या कोई बुरा सोचेंगे वह तुरंत हो जाएगा लेकिन यदि आप अपने लिए कुछ अच्छा सोचते हैं या किसी के लक्षण सोचते हैं तो वह नहीं हो पाता तो यह सब सृष्टि के खेल है और इसे हम आप मानव हम नहीं समझ पाएंगे धन्यवाद
Helo phrends aap ka savaal hai ki kahaavat hai ki shaitaan ka naam lie shaitaan haajir parantu aisa kyon nahin kaha jaata ki bhagavaan ka naam liya aur bhagavaan haajir shaitaan ka aap aur jab bhee naam lenge shaitaan to vah aadamee hai shaitaan to har jagah maujood rahata hai lekin bhagavaan bhee har jagah maujood rahate hain lekin bhagavaan ke paas bahut saare kaam hai bhagavaan jo har jagah har kisee kee madad usee taim nahin kar paate lekin shaitaan vah to taak mein rahata hai ki kab main kisaka bura karoon kya kab kisaka main anisht karoon to isalie shaitaan har vakt har jagah aaj hee rahata hai aur yah jagajaahir baat hai ki aap jab bhee bhagavaan se kuchh maangate hain to bhagavaan aapako usee samay vah vastu nahin deta vah vastu aapako kaaphee baad mein de dete hain aur usee prakaar jis taim aap koee gunaah karate hain to bhagavaan aapako us gunaah kee saja us vakt nahin deta us gunaah kee saja va jab deta hai javaab gunaah karake bhool chuke hote hain to yah reet hai prabhu kee reet esesatee kee reet hai ki aap jo cheej maangenge vah aapako us vakt nahin milegee haan agar aap apane lie kuchh bura sochenge ya koee bura sochenge vah turant ho jaega lekin yadi aap apane lie kuchh achchha sochate hain ya kisee ke lakshan sochate hain to vah nahin ho paata to yah sab srshti ke khel hai aur ise ham aap maanav ham nahin samajh paenge dhanyavaad

Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
0:52
बस कार बाय बेहद ही रोचक प्रश्न है आपका कहावत है कि शैतान का नाम लिया शैतान हाजिर ना तो ऐसा क्यों नहीं कहा जाता कि भगवान का नाम लिया भगवान हाजी देखिए अच्छी चीजों को करने के लिए ज्यादा मेहनत और बहुत ज्यादा आपको धैर्य धारण करके रखना पड़ता है लेकिन बुरे चीज को करने के लिए आपको थोड़ा सा भी दिक्कत नहीं होगा यदि किसी को मारना हो तो आप तुरंत मार देंगे लेकिन उसे जिला ना हो तो आप नहीं दिला सकते हैं ठीक उसी प्रकार से भगवान और शैतान में अंतर बताने के लिए आप यह कहावत यहां अपने प्रश्न के रूप में किया है तो भगवान इतना आसानी से नहीं मिलते हैं लेकिन शैतान आपको हर जगह मिल जाएंगे धन्यवाद आपके इस प्रश्न के
Bas kaar baay behad hee rochak prashn hai aapaka kahaavat hai ki shaitaan ka naam liya shaitaan haajir na to aisa kyon nahin kaha jaata ki bhagavaan ka naam liya bhagavaan haajee dekhie achchhee cheejon ko karane ke lie jyaada mehanat aur bahut jyaada aapako dhairy dhaaran karake rakhana padata hai lekin bure cheej ko karane ke lie aapako thoda sa bhee dikkat nahin hoga yadi kisee ko maarana ho to aap turant maar denge lekin use jila na ho to aap nahin dila sakate hain theek usee prakaar se bhagavaan aur shaitaan mein antar bataane ke lie aap yah kahaavat yahaan apane prashn ke roop mein kiya hai to bhagavaan itana aasaanee se nahin milate hain lekin shaitaan aapako har jagah mil jaenge dhanyavaad aapake is prashn ke

Aarti Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Aarti जी का जवाब
Teacher
0:58
आपका प्रश्न है कि कहा जाता है शैतान का नाम लिया और शैतान हाजिर परंतु ऐसा क्यों नहीं कहा जाता कि भगवान का नाम लिया और भगवान हाजिर तो मेरे ख्याल से इस क्वेश्चन का एक फनी आंसर यह हो सकता है कि शैतान जो है वह खाली बैठा रहता है तो उसे जो भी याद करता है वह उसके पास चला जाता है किंतु भगवान के पास बहुत सारे कार्य होते हैं करने के लिए तो उनके पास ऐसे फालतू चीजों के लिए जगह नहीं होती और टाइम भी होता इसलिए वह जो भी उनका नाम लेते सबके पास पहुंच तो नहीं सकते क्योंकि सब के पास बहुत सारी शिकायतें रहती है बहुत सारी अदा से रहती है कि हमारा यह कर दो हमारा वह कर दो भगवान भी कितना करेंगे इसलिए वह सब जगह नहीं पहुंचते मगर शैतान को कोई याद नहीं करता है इसलिए उसको किसी ने भी अगर याद कर लिया तो वह क्या है कि अपना जगह छोड़ कर उस जगह पर बहुत ज्यादा
Aapaka prashn hai ki kaha jaata hai shaitaan ka naam liya aur shaitaan haajir parantu aisa kyon nahin kaha jaata ki bhagavaan ka naam liya aur bhagavaan haajir to mere khyaal se is kveshchan ka ek phanee aansar yah ho sakata hai ki shaitaan jo hai vah khaalee baitha rahata hai to use jo bhee yaad karata hai vah usake paas chala jaata hai kintu bhagavaan ke paas bahut saare kaary hote hain karane ke lie to unake paas aise phaalatoo cheejon ke lie jagah nahin hotee aur taim bhee hota isalie vah jo bhee unaka naam lete sabake paas pahunch to nahin sakate kyonki sab ke paas bahut saaree shikaayaten rahatee hai bahut saaree ada se rahatee hai ki hamaara yah kar do hamaara vah kar do bhagavaan bhee kitana karenge isalie vah sab jagah nahin pahunchate magar shaitaan ko koee yaad nahin karata hai isalie usako kisee ne bhee agar yaad kar liya to vah kya hai ki apana jagah chhod kar us jagah par bahut jyaada

Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:03
आपने पूछा है कि शैतान का नाम है शैतान हाजिर हुआ परंतु ऐसा क्यों नहीं कहा है कि भगवान नाम लिया भगवान हाजियों के बिल्कुल सत्य बात है भगवान का नाम लेने से भगवान का ध्यान करने से भगवान हाजिर हो जाते हैं यह मेरे जीवन में सत्य घटना है तभी तो मैं कह रहा हूं ना आज से करीब 41 साल पहले यानी मेरी उम्र 25 साल की थी उस समय मेरे को कोई समस्या ही बड़ा कष्ट आया वक्त मारने की धमकी दे दो तो क्या करें तो मैं इसमें पूरा क्या गेहूं बताओ जो 3 मिनट से ज्यादा अपलोड हो नहीं पाएगा तक सीमित थोड़े से बता तो मैंने सिर्फ पूजा शुरू हुई इस रश्मि को एक ही बात है मैं उनका ध्यान करता था जब पता था तो इसने एक बार दर्शन किए मुझे लेकिन मेरी गलती हो गई है उनकी मैं नेपाल में पकड़े फिर मैंने फोन में मैसेज गलती हो गई तो फिर मना ली फिर कृपा कृष्ण कराया था मुझे शांति मिली उसके बाद जो सपने में आने लगे आगे देने लगे उपदेश देने लगे बार बार मिलता है तो भेजने की तो भगवान हाजिर होते हैं बिल्कुल होते हैं उन्हें आप ध्यान पूर्वक सुने उसे कांग बनाम है दुख कैसे मिटे तो आप सुने उसी समस्या हो तो आप पूछी व कुलेश्वरी पूछेगा 10 मिनट का समय है तो मैं आपके पास अवश्य बताऊंगा और मेरी शुभकामना आपके साथ है अब शैतान को नहीं बुलाया शैतान किस को क्या सबूत है प्रेम तेरा ब्रह्मराक्षस शैतान है तुमको नहीं बोला ना कुछ देवता की करें भगवान की भक्ति करें या फिर मुक्ता आत्मा हो जाने से हनुमान जी महादेव जी लक्ष्मी जी की पूजा करें या सीधा देवी की पूजा करते हैं उनको एक ही बात है कि मुझे इस पूजा करने से लाभ मिला बहुत जिसका मैं वादा नहीं सब दम नहीं कर सकता हूं तो मेरी शुभकामना आपके साथ है और भक्ति मां की भरतरी भरतरी भरतरी
Aapane poochha hai ki shaitaan ka naam hai shaitaan haajir hua parantu aisa kyon nahin kaha hai ki bhagavaan naam liya bhagavaan haajiyon ke bilkul saty baat hai bhagavaan ka naam lene se bhagavaan ka dhyaan karane se bhagavaan haajir ho jaate hain yah mere jeevan mein saty ghatana hai tabhee to main kah raha hoon na aaj se kareeb 41 saal pahale yaanee meree umr 25 saal kee thee us samay mere ko koee samasya hee bada kasht aaya vakt maarane kee dhamakee de do to kya karen to main isamen poora kya gehoon batao jo 3 minat se jyaada apalod ho nahin paega tak seemit thode se bata to mainne sirph pooja shuroo huee is rashmi ko ek hee baat hai main unaka dhyaan karata tha jab pata tha to isane ek baar darshan kie mujhe lekin meree galatee ho gaee hai unakee main nepaal mein pakade phir mainne phon mein maisej galatee ho gaee to phir mana lee phir krpa krshn karaaya tha mujhe shaanti milee usake baad jo sapane mein aane lage aage dene lage upadesh dene lage baar baar milata hai to bhejane kee to bhagavaan haajir hote hain bilkul hote hain unhen aap dhyaan poorvak sune use kaang banaam hai dukh kaise mite to aap sune usee samasya ho to aap poochhee va kuleshvaree poochhega 10 minat ka samay hai to main aapake paas avashy bataoonga aur meree shubhakaamana aapake saath hai ab shaitaan ko nahin bulaaya shaitaan kis ko kya saboot hai prem tera brahmaraakshas shaitaan hai tumako nahin bola na kuchh devata kee karen bhagavaan kee bhakti karen ya phir mukta aatma ho jaane se hanumaan jee mahaadev jee lakshmee jee kee pooja karen ya seedha devee kee pooja karate hain unako ek hee baat hai ki mujhe is pooja karane se laabh mila bahut jisaka main vaada nahin sab dam nahin kar sakata hoon to meree shubhakaamana aapake saath hai aur bhakti maan kee bharataree bharataree bharataree

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भगवान के भक्ति शैतान का अर्थ
URL copied to clipboard