#undefined

bolkar speaker

ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?

Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:19
प्रश्न का बर्तन से बस में क्या-क्या उपाय आदि के किसी भी बात पर तुरंत रिहा करने से ऐसे बातें सांस लें और ध्यान लगाएं अपनी उपलब्धियों के बारे में सोच और खुद को माफ करें और गलतियों को खोलें अकेले ना रहे हैं और दोस्तों से बात करें
Prashn ka bartan se bas mein kya-kya upaay aadi ke kisee bhee baat par turant riha karane se aise baaten saans len aur dhyaan lagaen apanee upalabdhiyon ke baare mein soch aur khud ko maaph karen aur galatiyon ko kholen akele na rahe hain aur doston se baat karen

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
5:37
जी देखिए ओवरथिंकिंग का नापने का कोई ऐसा पैमाना नहीं है कि मैं किसी ने आपके अंदर आपके मुंह में एक थर्मामीटर डाल दिया या आपके हाथ में कुछ लगा दिया और वह समझ जाएगा कि भैया आप आप ओवरथिंकिंग कर रहे हैं जी नहीं तो पता कैसे चलता है कि ओवरथिंकिंग हो रही है यानी हर एक इंसान सोचता है ना किसी चीज को लेकर किसी बात को लेकर किसी चीज की तैयारी के लिए या अपनी दिनचर्या हर समय अगर देखा जाए तो जागृत अवस्था में एक इंसान कुछ ना कुछ सोच रहा होता है कभी इसके बारे में कभी उसके बारे में कभी वर्तमान के बारे में कभी भूतकाल का भी भविष्य काल के बारे में सोच रहा होता है तो वही वह सोच तो रहा होता है ना तो मतलब वह थिंकिंग तो कर रहा है ना अच्छा अभी ओवरथिंकिंग क्या होता है भाई हर इंसान हर समय सोचता रहता है तो वही वह तो सोच ही रहा है ना वह तो थैंक तो कर ही रहा है ओवरथिंकिंग वह हो पता है जहां पर जितने की आवश्यकता है उससे ज्यादा अगर आप टाइम स्पेंड करते हैं उसके बारे में सोचने आप ए तो उसे हम ओवरथिंकिंग कैसे कह लेकिन अब इस को नापाक एक्सीडेंट कौन बताएगा कि वह किस पर कितने देर तक सोचना है यह तो ऐसा होता नहीं है ना तुझे बड़ी सिंपल सी बात है यह आप खुद निर्धारित करते हैं कहते अगर आप देखेंगे तो पूरे दिनभर की दिनचर्या में आप हमेशा कैसे जीत लेते रहते हैं चॉइस बनाते रहते हैं कुछ अन्य साथी मेरे देखते हैं ले लेते हैं कुछ भी आपको टाइम लगता है कुछ भी टाइम लगता है और हद से ज्यादा टाइम लग जाते हैं वहीं पर कोई और इंसान अगर सेम सिचुएशन में होते हैं मैं पॉसिबिलिटीज हो उसके बाद लिक्विडेशन ले लेता है तो इसका मतलब क्या हुआ आप ओवरथिंकिंग कर रहे हैं आप ज्यादा सोच रहे हैं और सुबह से उस काम उस टॉपिक के बारे में उसकी ट्यूशन के बारे में जिसकी शायद इतनी आप पता नहीं है तो यह आपने धारित करते हैं आपको यह जानना होता है अवेयरनेस अगर होगी अगर आप थोड़ा सा ध्यान देंगे और जागृत अवस्था में रहेंगे जागृत मतलब यह नहीं कि आपको पता ही नहीं चल रहा कि आप सोचें जा रहे हैं सोने जा रहे हैं और आप अभी ही नहीं है तो फिर आप थोड़ा सा ध्यान देंगे तो आपको पता चलेगा अरे मैं इस बात पर इतनी देर तक क्यों सोचता हूं या तो मैं यह कर लूंगा यह वह कर लूंगा मैं इंसान कब ज्यादा सोचता है या उसे कब ज्यादा समय चाहिए होता है किसी चीज पर विचार करने का जब वह किसी और अदिश नल इंफॉर्मेशन का वेट करता है कहीं से किसी और चीज का वेट करता है कोई टूर से होता है कोई और रेफरेंस ही होता है किसी की सलाह से ही होती है किसी तरीके का कोई और दोस्त है कहीं और से कुछ और आ रहा होता है और वह वेट करता है ताकि वह सही डिसीजन पर पहुंच सके तो चलो समझ आता है लेकिन अगर कहीं से कुछ भी नहीं है और किसी चीज की उम्मीद नहीं है और आपको रिश्ते से लेना है तो फिर देरी किस बात की ज्यादा आपका डिसीजन सही होगा या गलत होगा भाई आपके अंदर जो भी वेलकम है जो भी एक्सपीरियंस है जो भी तजुर्बा है जो भी कुछ आप जानते हैं उस टॉपिक के बारे में सब जीत के बारे में 20 से ज्यादा अपेक्षा बनाएंगे तो बना लेना आप किस चीज का वेट कर रहे हैं तो तो बात अलग है कि चलो ठीक है थोड़ा और विचार कर लो उस पर तो हो सकता है कि आप विचार कर रहे हैं लेकिन अगर उस पर इतना ज्यादा देर तक सोचने की जरूरत नहीं है तो छोड़िए ना जैसे सिम ले लीजिए सही होगा या गलत होगा हां लेकिन जब आप डिसाइड करें कोई चीज तो सारे पहलुओं को देख लीजिए तारे बिंदुओं को देखी देखी क्या मैंने हर चीज को देख लिया हर एंगल को देख लिया हर पर्सपेक्टिव को चेक कर लिया अगर मैं ऐसा करता हूं तो क्या होगा अगर मैं ऐसा करता हूं तो क्या होगा क्या आपने ऐसा देख लिया सोच लिया समझ लिया अगर आपने सब कुछ कर लिया तो ठीक है आप डिसाइड कर लीजिए और आगे बढ़ी ऐसा एक चीज नहीं एक बार नहीं हर बार हर रोज हर समय करना होता है अब अगर आप बैठे रहते हैं सोचने लगते हैं तो दिक्कत हो जाती है कि पहले से मान लीजिए आज आपने किसी को भला बुरा कह दिया बाद में आपको एहसास हुआ घर पहुंच गया थोड़ी देर बाद यार यह तो सही नहीं हुआ अब आपको लग रहा है कि यार यह जो मैंने किया है मेरा बिहेवियर मेरा भरता मेरा कम्युनिकेशन यह सही नहीं रहा मैं तो ऐसा नहीं था लेकिन मुझे गुस्सा आ गया यह किया वह किया अब आप सोच रहे हैं अब आप सोच रहे हैं और आपके मन में यह कशमकश हो रही है कि भाई उसको सॉरी बोलूं क्या क्या मुझे बोलना चाहिए क्या यह तो चल छोड़ कोई बात कई लोग इस विचार में ही बहुत समय निकाल लेते हैं तो भी बहुत समय क्या निकालना अगर आपको पता लगे वह मुझसे गलती हो गई मिलिट्री फोन उठाई है या उनसे मिली शेयर बोल दीजिए सॉरी यार यह हो गया खत्म कहानी अब कई लोग इसी पर 1 दिन 2 दिन 10 दिन सोचते रहते हैं वह क्यों अगर आपको लग गया आपको समझ आ गया तो छोड़िए ना हटाइए वह सारी बातें क्लोज कीजिए टॉपिक और आगे बढ़ी ऐसे ही करके तो हमें डिसीजन लेने होते हैं चाय बनानी होती है और आगे बढ़ते रहना पड़ता है सोच कर देखिए
Jee dekhie ovarathinking ka naapane ka koee aisa paimaana nahin hai ki main kisee ne aapake andar aapake munh mein ek tharmaameetar daal diya ya aapake haath mein kuchh laga diya aur vah samajh jaega ki bhaiya aap aap ovarathinking kar rahe hain jee nahin to pata kaise chalata hai ki ovarathinking ho rahee hai yaanee har ek insaan sochata hai na kisee cheej ko lekar kisee baat ko lekar kisee cheej kee taiyaaree ke lie ya apanee dinacharya har samay agar dekha jae to jaagrt avastha mein ek insaan kuchh na kuchh soch raha hota hai kabhee isake baare mein kabhee usake baare mein kabhee vartamaan ke baare mein kabhee bhootakaal ka bhee bhavishy kaal ke baare mein soch raha hota hai to vahee vah soch to raha hota hai na to matalab vah thinking to kar raha hai na achchha abhee ovarathinking kya hota hai bhaee har insaan har samay sochata rahata hai to vahee vah to soch hee raha hai na vah to thaink to kar hee raha hai ovarathinking vah ho pata hai jahaan par jitane kee aavashyakata hai usase jyaada agar aap taim spend karate hain usake baare mein sochane aap e to use ham ovarathinking kaise kah lekin ab is ko naapaak ekseedent kaun bataega ki vah kis par kitane der tak sochana hai yah to aisa hota nahin hai na tujhe badee simpal see baat hai yah aap khud nirdhaarit karate hain kahate agar aap dekhenge to poore dinabhar kee dinacharya mein aap hamesha kaise jeet lete rahate hain chois banaate rahate hain kuchh any saathee mere dekhate hain le lete hain kuchh bhee aapako taim lagata hai kuchh bhee taim lagata hai aur had se jyaada taim lag jaate hain vaheen par koee aur insaan agar sem sichueshan mein hote hain main posibiliteej ho usake baad likvideshan le leta hai to isaka matalab kya hua aap ovarathinking kar rahe hain aap jyaada soch rahe hain aur subah se us kaam us topik ke baare mein usakee tyooshan ke baare mein jisakee shaayad itanee aap pata nahin hai to yah aapane dhaarit karate hain aapako yah jaanana hota hai aveyaranes agar hogee agar aap thoda sa dhyaan denge aur jaagrt avastha mein rahenge jaagrt matalab yah nahin ki aapako pata hee nahin chal raha ki aap sochen ja rahe hain sone ja rahe hain aur aap abhee hee nahin hai to phir aap thoda sa dhyaan denge to aapako pata chalega are main is baat par itanee der tak kyon sochata hoon ya to main yah kar loonga yah vah kar loonga main insaan kab jyaada sochata hai ya use kab jyaada samay chaahie hota hai kisee cheej par vichaar karane ka jab vah kisee aur adish nal imphormeshan ka vet karata hai kaheen se kisee aur cheej ka vet karata hai koee toor se hota hai koee aur repharens hee hota hai kisee kee salaah se hee hotee hai kisee tareeke ka koee aur dost hai kaheen aur se kuchh aur aa raha hota hai aur vah vet karata hai taaki vah sahee diseejan par pahunch sake to chalo samajh aata hai lekin agar kaheen se kuchh bhee nahin hai aur kisee cheej kee ummeed nahin hai aur aapako rishte se lena hai to phir deree kis baat kee jyaada aapaka diseejan sahee hoga ya galat hoga bhaee aapake andar jo bhee velakam hai jo bhee eksapeeriyans hai jo bhee tajurba hai jo bhee kuchh aap jaanate hain us topik ke baare mein sab jeet ke baare mein 20 se jyaada apeksha banaenge to bana lena aap kis cheej ka vet kar rahe hain to to baat alag hai ki chalo theek hai thoda aur vichaar kar lo us par to ho sakata hai ki aap vichaar kar rahe hain lekin agar us par itana jyaada der tak sochane kee jaroorat nahin hai to chhodie na jaise sim le leejie sahee hoga ya galat hoga haan lekin jab aap disaid karen koee cheej to saare pahaluon ko dekh leejie taare binduon ko dekhee dekhee kya mainne har cheej ko dekh liya har engal ko dekh liya har parsapektiv ko chek kar liya agar main aisa karata hoon to kya hoga agar main aisa karata hoon to kya hoga kya aapane aisa dekh liya soch liya samajh liya agar aapane sab kuchh kar liya to theek hai aap disaid kar leejie aur aage badhee aisa ek cheej nahin ek baar nahin har baar har roj har samay karana hota hai ab agar aap baithe rahate hain sochane lagate hain to dikkat ho jaatee hai ki pahale se maan leejie aaj aapane kisee ko bhala bura kah diya baad mein aapako ehasaas hua ghar pahunch gaya thodee der baad yaar yah to sahee nahin hua ab aapako lag raha hai ki yaar yah jo mainne kiya hai mera biheviyar mera bharata mera kamyunikeshan yah sahee nahin raha main to aisa nahin tha lekin mujhe gussa aa gaya yah kiya vah kiya ab aap soch rahe hain ab aap soch rahe hain aur aapake man mein yah kashamakash ho rahee hai ki bhaee usako soree boloon kya kya mujhe bolana chaahie kya yah to chal chhod koee baat kaee log is vichaar mein hee bahut samay nikaal lete hain to bhee bahut samay kya nikaalana agar aapako pata lage vah mujhase galatee ho gaee militree phon uthaee hai ya unase milee sheyar bol deejie soree yaar yah ho gaya khatm kahaanee ab kaee log isee par 1 din 2 din 10 din sochate rahate hain vah kyon agar aapako lag gaya aapako samajh aa gaya to chhodie na hataie vah saaree baaten kloj keejie topik aur aage badhee aise hee karake to hamen diseejan lene hote hain chaay banaanee hotee hai aur aage badhate rahana padata hai soch kar dekhie

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:38
नमस्कार दोस्तों प्रश्न की ओर थिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं दोस्तों और थिंकिंग कई बार एक बीमारी का भी रूप ले लेती है और निर्णय लेने में काफी बाधक होती है इसका एक तरीका यह है कि आप अपने आप को अकेला ना छोड़े कहीं ना कहीं कोई कार्य करते रहें आप खाली बैठे तो किताब पढ़ ले टीवी देख ले या दोस्तों से बात कर ले तो जाकर मैं देखा है कि ऐसे व्यक्ति होते हैं जो अकेले रहते हैं दोस्त ने गलत गलत या सही सही विचार आते हैं तो प्रातः बेला में योग साधना करें व्यायाम करें कोई खेल में रुचि रखते हैं तो खेल में खेले हैं या कुछ नहीं तो दोस्तों के साथ करते हैं तो इससे आपका मन इधर-उधर नहीं भटके गा और वो थिंकिंग से आप बचने की कोशिश करेंगे और मन को भी आप समझाएं कि जो होगा देखा जाएगा यह तो इतने का जीवन का रेस का कोई बात नहीं है जैसे कि उदाहरण के तौर पर हमारे लिए ₹1 कोई खास महत्व नहीं रखता तो ₹1 खो जाता है गिर जाता है तो हम उठाते भी नहीं और ज्यादा नहीं सोच यही 500 से ज्यादा है उसके बारे में हम दिन भर सोच रहे थे कहां गिर गए कैसे गिर जाए तो यही आपको सोच बदलनी पड़ेगी बहुत ज्यादा मत सोचे किसी के बारे में आप उसका चित्र कल्पना कर लेगी यार कुछ नहीं होता सब चीज सही चलता रहता है बस आपको ध्यान लगाना है गतिविधियों में जो दोस्तों के साथ खेल में व्यायाम में और हंसना है मस्त रहना है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn kee or thinking se bachane ke kya upaay hain doston aur thinking kaee baar ek beemaaree ka bhee roop le letee hai aur nirnay lene mein kaaphee baadhak hotee hai isaka ek tareeka yah hai ki aap apane aap ko akela na chhode kaheen na kaheen koee kaary karate rahen aap khaalee baithe to kitaab padh le teevee dekh le ya doston se baat kar le to jaakar main dekha hai ki aise vyakti hote hain jo akele rahate hain dost ne galat galat ya sahee sahee vichaar aate hain to praatah bela mein yog saadhana karen vyaayaam karen koee khel mein ruchi rakhate hain to khel mein khele hain ya kuchh nahin to doston ke saath karate hain to isase aapaka man idhar-udhar nahin bhatake ga aur vo thinking se aap bachane kee koshish karenge aur man ko bhee aap samajhaen ki jo hoga dekha jaega yah to itane ka jeevan ka res ka koee baat nahin hai jaise ki udaaharan ke taur par hamaare lie ₹1 koee khaas mahatv nahin rakhata to ₹1 kho jaata hai gir jaata hai to ham uthaate bhee nahin aur jyaada nahin soch yahee 500 se jyaada hai usake baare mein ham din bhar soch rahe the kahaan gir gae kaise gir jae to yahee aapako soch badalanee padegee bahut jyaada mat soche kisee ke baare mein aap usaka chitr kalpana kar legee yaar kuchh nahin hota sab cheej sahee chalata rahata hai bas aapako dhyaan lagaana hai gatividhiyon mein jo doston ke saath khel mein vyaayaam mein aur hansana hai mast rahana hai dhanyavaad

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:06
गुड इवनिंग सवाल यह है कि ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय देखिए ओवरथिंकिंग से बचने का तो एक मात्र यही उपाय है कि अपने आप को व्यस्त रखना चाहिए और खाली दिमाग वाला ही आदमी ज्यादा ओवरथिंकिंग करता है किसी चीज का वह अपने को व्यस्त रखें ज्यादातर काम में कोई न कोई काम ले हैं और उस काम में अपने प्रोग्रेस कर के जीवन का एक लक्ष्य बनाया उस लक्ष्य के पीछे अपने को पागल बना दे इस तरह से उस लक्ष्य को पाने के लिए जो उसको सोचने का टाइम नहीं मिलेगा लोगों के बीच में रहे और फिर मेडिटेशन करें मेडिटेशन भी बहुत अच्छा चीज है मेडिटेशन करने के टाइम में है उसे ध्यान आएगा और फिर से ज्यादा सोचना नहीं है उस पर ध्यान करना है और फिर वह इस तरह से अपना प्रयास द्वारा आवर सिंगिंग से बच सकता है मेन चीज है कि अपने आप को व्यस्त रखना है काम में लगा रखना है लोगों के बीच में रहना है
Gud ivaning savaal yah hai ki ovarathinking se bachane ke kya upaay dekhie ovarathinking se bachane ka to ek maatr yahee upaay hai ki apane aap ko vyast rakhana chaahie aur khaalee dimaag vaala hee aadamee jyaada ovarathinking karata hai kisee cheej ka vah apane ko vyast rakhen jyaadaatar kaam mein koee na koee kaam le hain aur us kaam mein apane progres kar ke jeevan ka ek lakshy banaaya us lakshy ke peechhe apane ko paagal bana de is tarah se us lakshy ko paane ke lie jo usako sochane ka taim nahin milega logon ke beech mein rahe aur phir mediteshan karen mediteshan bhee bahut achchha cheej hai mediteshan karane ke taim mein hai use dhyaan aaega aur phir se jyaada sochana nahin hai us par dhyaan karana hai aur phir vah is tarah se apana prayaas dvaara aavar singing se bach sakata hai men cheej hai ki apane aap ko vyast rakhana hai kaam mein laga rakhana hai logon ke beech mein rahana hai

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:17
पता नहीं क्यों बे टेकिंग से बचने के क्या उपाय हैं वह बताएं कि कि से बचने के लिए बहुत जरूरी है कि आपको खूब बिजी रहती है जितना ज्यादा आपको तो बिजी रखेंगे आपका दिमाग खाली नहीं होगा नया ओवरटेकिंग क्यों नहीं करेंगे अब मेरे बारे में ज्यादा से ज्यादा समय बताने का प्रयास करें आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Pata nahin kyon be teking se bachane ke kya upaay hain vah bataen ki ki se bachane ke lie bahut jarooree hai ki aapako khoob bijee rahatee hai jitana jyaada aapako to bijee rakhenge aapaka dimaag khaalee nahin hoga naya ovarateking kyon nahin karenge ab mere baare mein jyaada se jyaada samay bataane ka prayaas karen aapaka din shubh rahe dhanyavaad

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:50
दिखी और थिंकिंग से बचने का सबसे बड़ा उपाय है अपने दिमाग से नेगेटिव पहलुओं को सबसे पहले निकाल देना कई बार क्या होता है कि कोई चीज होती नहीं है और होने या ना होने से उस चीज का कोई मतलब नहीं होता है लेकिन आपका दिमाग क्या होता है उस चीज को लेकर नकारात्मक भावना पहली लेकर बैठ जाता है और नकारात्मक भावना लेकर बैठते हो आप तो क्या होता है कि आपने एक बार नकारात्मक सोच लो फिर उसके ऊपर और सोचा फिर उसे क्या हुआ एक वृक्ष बन जाता है कि नहीं फिर कुछ टहनियां वह निकली उससे फिर उन दोनों मामलों की एक नकारात्मक चीज आपके बारे में आई फिर उसको सोचा तो उससे दो बातें और निकल कर आए फिर आपके माइंड में अलग-अलग दोनों के बारे में फिर सोचा फिर उन दोनों से दोनों बातें और निकल कर आए आपके माइंड में दोनों के बारे में फिर सोचा फिर उन लोगों के बारे में फिर सोचा फिर उन दोनों फिर क्या वहां तक पहुंचते-पहुंचते आपके नकारात्मक बातों की जो श्रेणी है चार हो गई उन चारों से दो दो बातें और निकल गया यहां क्या होगी 8:00 हो गए फिर 8:00 से 16:00 क्या होता है कि एक तो नेगेटिव ऐसी नेगेटिव बात जो कि उस सिस्टम से या उस बात से कोई लेना देना नहीं है उस चीज को शुरुआत में ही निकालना शुरू कर दीजिए शुरुआत से ही निकलता है और शुरू कर दोगे कि नहीं इसका कोई मतलब नहीं है फिर हमने देखा यह बात है इसका भी कोई मतलब नहीं है तो धीरे-धीरे आपका माइंड क्या है जो बिल्कुल पॉजिटिव पक्ष है वह सोचना शुरु कर देगा आना जरूरी है किसी भी चीज के नेगेटिव और पॉजिटिव जरूरी है लेकिन नेगेटिविटी के अंदर घुस जाना यह बहुत गलत है अगर आप इस चीज पर ध्यान देते हो तो आप पावर थिंकिंग करना बंद कर सकते हो दूसरा पार्टी यह है कि कोई चीज कई बार क्या होता है कि किसी चीज के रिजल्ट उसके घटने के बाद ही आते हैं लेकिन हम पहले ही सोचना शुरु कर देते हैं कि इसका यह गांव का यह होगा यह आधा ही होगा तो होगा ही आएगा तो यह होगा ऐसा होगा तो वह होगा वैसा होगा तब होगा लेकिन वास्तविकता से उस चीज का कभी कबार पूछ ले देना नहीं होता और जब घटती है तब सोचते हैं कि यार ऐसा हमें नहीं सोचना कि यह बकवास में हम उचित को मुद्दा बनाएंगे तो यह किन चीजों पर फोकस करना जरूरी है इसके अलावा जितना भी आपको अपने दिमाग को कंसर्न्स और कॉन्सन्ट्रिक कर सकते हो एक बार में एक जगह तो क्या होगा कि एक जगह पोस्टेड होते हो तो जवाब कोई भी काम करोगे तो हर काम में वह जिस काम या परसेंटेज हुए हो उसमें आपका साथ देगा और अगर आप कौन सा स्टेट नहीं करना चाहते हो तो आपका माइंड क्या है कि आवर सिंगिंग को ज्यादा डिवेलप करेगा जो इन फ्यूचर जाकर आपको क्या प्रॉब्लम क्रिएट करें
Dikhee aur thinking se bachane ka sabase bada upaay hai apane dimaag se negetiv pahaluon ko sabase pahale nikaal dena kaee baar kya hota hai ki koee cheej hotee nahin hai aur hone ya na hone se us cheej ka koee matalab nahin hota hai lekin aapaka dimaag kya hota hai us cheej ko lekar nakaaraatmak bhaavana pahalee lekar baith jaata hai aur nakaaraatmak bhaavana lekar baithate ho aap to kya hota hai ki aapane ek baar nakaaraatmak soch lo phir usake oopar aur socha phir use kya hua ek vrksh ban jaata hai ki nahin phir kuchh tahaniyaan vah nikalee usase phir un donon maamalon kee ek nakaaraatmak cheej aapake baare mein aaee phir usako socha to usase do baaten aur nikal kar aae phir aapake maind mein alag-alag donon ke baare mein phir socha phir un donon se donon baaten aur nikal kar aae aapake maind mein donon ke baare mein phir socha phir un logon ke baare mein phir socha phir un donon phir kya vahaan tak pahunchate-pahunchate aapake nakaaraatmak baaton kee jo shrenee hai chaar ho gaee un chaaron se do do baaten aur nikal gaya yahaan kya hogee 8:00 ho gae phir 8:00 se 16:00 kya hota hai ki ek to negetiv aisee negetiv baat jo ki us sistam se ya us baat se koee lena dena nahin hai us cheej ko shuruaat mein hee nikaalana shuroo kar deejie shuruaat se hee nikalata hai aur shuroo kar doge ki nahin isaka koee matalab nahin hai phir hamane dekha yah baat hai isaka bhee koee matalab nahin hai to dheere-dheere aapaka maind kya hai jo bilkul pojitiv paksh hai vah sochana shuru kar dega aana jarooree hai kisee bhee cheej ke negetiv aur pojitiv jarooree hai lekin negetivitee ke andar ghus jaana yah bahut galat hai agar aap is cheej par dhyaan dete ho to aap paavar thinking karana band kar sakate ho doosara paartee yah hai ki koee cheej kaee baar kya hota hai ki kisee cheej ke rijalt usake ghatane ke baad hee aate hain lekin ham pahale hee sochana shuru kar dete hain ki isaka yah gaanv ka yah hoga yah aadha hee hoga to hoga hee aaega to yah hoga aisa hoga to vah hoga vaisa hoga tab hoga lekin vaastavikata se us cheej ka kabhee kabaar poochh le dena nahin hota aur jab ghatatee hai tab sochate hain ki yaar aisa hamen nahin sochana ki yah bakavaas mein ham uchit ko mudda banaenge to yah kin cheejon par phokas karana jarooree hai isake alaava jitana bhee aapako apane dimaag ko kansarns aur konsantrik kar sakate ho ek baar mein ek jagah to kya hoga ki ek jagah posted hote ho to javaab koee bhee kaam karoge to har kaam mein vah jis kaam ya parasentej hue ho usamen aapaka saath dega aur agar aap kaun sa stet nahin karana chaahate ho to aapaka maind kya hai ki aavar singing ko jyaada divelap karega jo in phyoochar jaakar aapako kya problam kriet karen

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:52
जब आदमी का दिमाग की फैक्ट्री बहुत तेजी के साथ चलने लगती है और तरह-तरह की बातें उसके दिमाग में आने लगती है और मन में शांति बिल्कुल नहीं रहती है तू और थिंकिंग कर लाती है उस वक्त इनकी के कारण उसका दिमाग जल्दी थक जाता है परेशान हो जाता है तरह-तरह के उसके नेगेटिव शक्तियां उस पर काम करने लगती है जिससे उसके सर में दर्द होने लगता है और यहां तक कि फिर वह एक शुगर का मरीज जी बन जाता है उसके दिमाग में तनाव हो जाता है इसलिए और थिंकिंग से बचने के लिए आप ही होगा कि यह शर्म कीजिए थोड़ा संगीत सुनिए और और थिंकिंग से बचने के लिए सबसे बड़ी चीज यह है कि आप अपने दिमाग को किसी अच्छे पास 20 अक्टूबर में आप लगाइए पास 2 और कांस्टेबल वर्ग में लगाएंगे तो आपको फायदा होगा और आप अपने एक उद्देश्य के लिए एक सही मार्गदर्शन आपको मिलेगा जब जीवन में फायदा होने लगेगा तब आपको पुरानी वर थिंकिंग से आपको छुटकारा मिल जाएगा
Jab aadamee ka dimaag kee phaiktree bahut tejee ke saath chalane lagatee hai aur tarah-tarah kee baaten usake dimaag mein aane lagatee hai aur man mein shaanti bilkul nahin rahatee hai too aur thinking kar laatee hai us vakt inakee ke kaaran usaka dimaag jaldee thak jaata hai pareshaan ho jaata hai tarah-tarah ke usake negetiv shaktiyaan us par kaam karane lagatee hai jisase usake sar mein dard hone lagata hai aur yahaan tak ki phir vah ek shugar ka mareej jee ban jaata hai usake dimaag mein tanaav ho jaata hai isalie aur thinking se bachane ke lie aap hee hoga ki yah sharm keejie thoda sangeet sunie aur aur thinking se bachane ke lie sabase badee cheej yah hai ki aap apane dimaag ko kisee achchhe paas 20 aktoobar mein aap lagaie paas 2 aur kaanstebal varg mein lagaenge to aapako phaayada hoga aur aap apane ek uddeshy ke lie ek sahee maargadarshan aapako milega jab jeevan mein phaayada hone lagega tab aapako puraanee var thinking se aapako chhutakaara mil jaega

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:49
दोस्तों आप का सवाल है अगर थिंकिंग से बचने के उपाय क्या है तो आवर्त इन्हीं से बचने के शिकार आप लोग हो चुके होंगे तो इससे बचने के उपाय हैं आपके पास पहला पॉइंट किसी भी बात पर तुरंत रिएक्ट करने से बचें दूसरा वॉइस सांस ले ध्यान लगाए और अंदर सांस खींचें और छोड़ें 10 मिनट तक ऐसा करें 10 सेकंड तक ऐश्वरी अपनी उपलब्धियों के बारे में सोचें खुद को माफ़ करें वह गलतियों को भूले अकेले रहने दो दोस्तों के बीच जाए ऐसी स्थिति हो तो जिससे आप इधर उधर की बातें छोड़कर अपने दोस्तों के अनुसार इंजॉय करें यह अवश्य करना भूल जाएंगे धन्यवाद दोस्तों
Doston aap ka savaal hai agar thinking se bachane ke upaay kya hai to aavart inheen se bachane ke shikaar aap log ho chuke honge to isase bachane ke upaay hain aapake paas pahala point kisee bhee baat par turant riekt karane se bachen doosara vois saans le dhyaan lagae aur andar saans kheenchen aur chhoden 10 minat tak aisa karen 10 sekand tak aishvaree apanee upalabdhiyon ke baare mein sochen khud ko maaf karen vah galatiyon ko bhoole akele rahane do doston ke beech jae aisee sthiti ho to jisase aap idhar udhar kee baaten chhodakar apane doston ke anusaar injoy karen yah avashy karana bhool jaenge dhanyavaad doston

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:57
और थिंकिंग से बचने के क्या उपाय है आज क्या होता है कि हमारे माइंड के अंदर हम कभी भी किसी जब हम अकेले होते तो क्या होता है कि हमारे साथ बहुत सारी चीजें लाइफ में चल रहे एक्साइड प्रोफेशनल वर्क है पैसा है कोई अपनी बाहर की कोई दिक्कत है तो कभी किसी की बीमारी को लेकर बच्चों को लेकर अलग-अलग चीजों को लेकर बहुत सारे विचार लाइन में चलते रहते हैं अब क्या होता है कि मान लीजिए कि आपको कहीं बस पकड़ कर के जाना है टॉपिक हॉट माइंड में लाती मुझे जानना है और उसके हिसाब से तुरंत एक्शन करते हो तो अगर ऐसे बिहेवियर बिहेवियर रहने आपके कृति को जो भी त्रुटि आपसे करनी है इसके अंदर में स्थित एक पैलेस हॉटमैन में आता है और उसके बाद एक्शन होती है उसके एक्शन होती है उसका अलावा कोई थॉट अगर आपके मन में आता है तो किसी भी वॉटर कंजर्वेशन बिहेवियर में फ्यूचर में होता है ऐसा मानते हैं जैसे कि मुझे अगर पानी तो माइंड में थॉट है कि चलो पानी पीते उसका बिहेवियर क्या हो गया कि मैं यहां के पास जाना है और वहां ग्लास में पानी देने और पीना है तो यह कंप्लीट हो गया लेकिन क्या होता है मुंह से टाइम हम लोग कल का जैकपॉट है कि फ्यूचर में चलता है या अभी तुरंत एक्शन में नहीं चलता यह फ्यूचर में चलता है कि हम ऐसा हुआ तो ऐसा करेंगे ऐसा करेंगे कौन सी कौन सी चल रही है मैंने कोई अपराध कर दिया उसके कौन सी प्रिंसेस को लेकर बहुत थॉट जो है उस थॉट अपने फ्यूचर के कौन सी प्रिंसेस को जोड़ रहे हैं आपके पति के साथ में कुरूद तो उस इसके अंदर में एक थिंकिंग टाइटंस चलना चालू हो जाता कि ऐसा हुआ तो कैसा होगा और एक डर सा पैदा हो जाता है छोटी सी बीमारी भी डायबिटीज हुआ तो सीधा माय डियर पकड़ लेता है कि डायबिटीज इंसान कितना उसको क्या-क्या हो सकता है उसके साथ में इसका टाइम देख लिया मूवी में और हमारा अगर वाइफ के साथ झगड़ा चल रहा है तो हम फ्यूचर का थॉट लेना शुरू कर देता है मैं पोस्ट डालते हैं आपके रूम में लगा दी पिक्चर ऑफ समुंदर नहीं है तो एक पिक्चर है उसको हमेशा देखते रहना है और यह देखने के लिए आपकी कैपेसिटी मेंटल कैपेसिटी आपको बनानी पड़ेगी मेडिटेशन करके और 13 - बना क्या करोगे तो आप कट कर दो
Aur thinking se bachane ke kya upaay hai aaj kya hota hai ki hamaare maind ke andar ham kabhee bhee kisee jab ham akele hote to kya hota hai ki hamaare saath bahut saaree cheejen laiph mein chal rahe eksaid propheshanal vark hai paisa hai koee apanee baahar kee koee dikkat hai to kabhee kisee kee beemaaree ko lekar bachchon ko lekar alag-alag cheejon ko lekar bahut saare vichaar lain mein chalate rahate hain ab kya hota hai ki maan leejie ki aapako kaheen bas pakad kar ke jaana hai topik hot maind mein laatee mujhe jaanana hai aur usake hisaab se turant ekshan karate ho to agar aise biheviyar biheviyar rahane aapake krti ko jo bhee truti aapase karanee hai isake andar mein sthit ek pailes hotamain mein aata hai aur usake baad ekshan hotee hai usake ekshan hotee hai usaka alaava koee thot agar aapake man mein aata hai to kisee bhee votar kanjarveshan biheviyar mein phyoochar mein hota hai aisa maanate hain jaise ki mujhe agar paanee to maind mein thot hai ki chalo paanee peete usaka biheviyar kya ho gaya ki main yahaan ke paas jaana hai aur vahaan glaas mein paanee dene aur peena hai to yah kampleet ho gaya lekin kya hota hai munh se taim ham log kal ka jaikapot hai ki phyoochar mein chalata hai ya abhee turant ekshan mein nahin chalata yah phyoochar mein chalata hai ki ham aisa hua to aisa karenge aisa karenge kaun see kaun see chal rahee hai mainne koee aparaadh kar diya usake kaun see prinses ko lekar bahut thot jo hai us thot apane phyoochar ke kaun see prinses ko jod rahe hain aapake pati ke saath mein kurood to us isake andar mein ek thinking taitans chalana chaaloo ho jaata ki aisa hua to kaisa hoga aur ek dar sa paida ho jaata hai chhotee see beemaaree bhee daayabiteej hua to seedha maay diyar pakad leta hai ki daayabiteej insaan kitana usako kya-kya ho sakata hai usake saath mein isaka taim dekh liya moovee mein aur hamaara agar vaiph ke saath jhagada chal raha hai to ham phyoochar ka thot lena shuroo kar deta hai main post daalate hain aapake room mein laga dee pikchar oph samundar nahin hai to ek pikchar hai usako hamesha dekhate rahana hai aur yah dekhane ke lie aapakee kaipesitee mental kaipesitee aapako banaanee padegee mediteshan karake aur 13 - bana kya karoge to aap kat kar do

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:00
सवाल यह है कि ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं तो जब भी होगा लेकिन वह तुरंत सक्रिय रूप से अपना ध्यान कहीं और लगा ले तुरंत कोई गाना सुने या गेम खेलें उसे कुछ पढ़ने लग जाया करो शक करने लग जाए इससे आपका माइंड माइंड डाइवर्ट हो जाए मोबाइल में से बच पाएंगे आप उसके बारे में जागरूक रहें किसी भी चीज को रोकने के लिए यह पता होना बहुत जरूरी है यह क्या हो रहा है ओवरथिंकिंग विचारों की बाढ़ है जिससे तनाव और चिंता बढ़ जाती है और एकाग्रता की कमी हो जाती है कि शारीरिक और मानसिक रूप से भी लिखा जा सकता है इसलिए आप जब भी इस तरह के विचार आए तुरंत सचेत होकर विचारों की धारा को काट दे विचारों का दामन ना करें हम जानते हैं कि किसी भी चीज को दबाकर बांधकर रखने से और भी ज्यादा भड़क जाती है और थिंकिंग को जबरदस्ती विचारों को रोकने की कोशिश ना करें के बजाय आप दूसरे कामों कामों में बिजी हो जाएं अपने विचारों को सिर्फ एक ही व्यर्थ के विचारों में उलझने के बजाय आप के आप को देख ऑब्जर्वर बन के विचारों को देखें फिर उसूलों पर हंसी और करने की क्या फालतू में बिना मतलब के घोड़े दौड़ा रहूं रिमाइंडर सेट करें अपना दिमाग ऐसा होता है कि जब तक इसको कुछ लोग के निर्देश नहीं मिलते थे डिफॉल्ट मोड में रहता है इसलिए अपने मोबाइल से लैपटॉप पर रिमाइंडर सेट कर ले और अपने विचारों और कुछ स्टिकी नोट्स लगा देता कि बार-बार आपको याद आते रहे विचारों के घरों को आराम देना है हां जान करें ओवरथिंकिंग की आदत को हटाना एकदम तो पॉसिबल नहीं या फिर दिमाग को रिसेट करने जैसा है इसलिए आपको ध्यान करना है ध्यान करते समय आपको अपनी सांसो पर फोकस रखना है आप काउंटिंग स्टार्ट कर सकते हैं शुरुआत में आप पांच से 10 मिनट ऐसा करें बाद में धीरे-धीरे टाइम बढ़ाते रहें ध्यान करते समय विचारों की आंधी है तो घबराएं नहीं क्योंकि फिर बाद में बहुत परेशान करेगी लेकिन घबराएं नहीं है धीरे धीरे कम होगी और खत्म हो जाएगी
Savaal yah hai ki ovarathinking se bachane ke kya upaay hain to jab bhee hoga lekin vah turant sakriy roop se apana dhyaan kaheen aur laga le turant koee gaana sune ya gem khelen use kuchh padhane lag jaaya karo shak karane lag jae isase aapaka maind maind daivart ho jae mobail mein se bach paenge aap usake baare mein jaagarook rahen kisee bhee cheej ko rokane ke lie yah pata hona bahut jarooree hai yah kya ho raha hai ovarathinking vichaaron kee baadh hai jisase tanaav aur chinta badh jaatee hai aur ekaagrata kee kamee ho jaatee hai ki shaareerik aur maanasik roop se bhee likha ja sakata hai isalie aap jab bhee is tarah ke vichaar aae turant sachet hokar vichaaron kee dhaara ko kaat de vichaaron ka daaman na karen ham jaanate hain ki kisee bhee cheej ko dabaakar baandhakar rakhane se aur bhee jyaada bhadak jaatee hai aur thinking ko jabaradastee vichaaron ko rokane kee koshish na karen ke bajaay aap doosare kaamon kaamon mein bijee ho jaen apane vichaaron ko sirph ek hee vyarth ke vichaaron mein ulajhane ke bajaay aap ke aap ko dekh objarvar ban ke vichaaron ko dekhen phir usoolon par hansee aur karane kee kya phaalatoo mein bina matalab ke ghode dauda rahoon rimaindar set karen apana dimaag aisa hota hai ki jab tak isako kuchh log ke nirdesh nahin milate the dipholt mod mein rahata hai isalie apane mobail se laipatop par rimaindar set kar le aur apane vichaaron aur kuchh stikee nots laga deta ki baar-baar aapako yaad aate rahe vichaaron ke gharon ko aaraam dena hai haan jaan karen ovarathinking kee aadat ko hataana ekadam to posibal nahin ya phir dimaag ko riset karane jaisa hai isalie aapako dhyaan karana hai dhyaan karate samay aapako apanee saanso par phokas rakhana hai aap kaunting staart kar sakate hain shuruaat mein aap paanch se 10 minat aisa karen baad mein dheere-dheere taim badhaate rahen dhyaan karate samay vichaaron kee aandhee hai to ghabaraen nahin kyonki phir baad mein bahut pareshaan karegee lekin ghabaraen nahin hai dheere dheere kam hogee aur khatm ho jaegee

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Sandeep Goyal Chandigarh  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sandeep जी का जवाब
Tabla player artist and music home tutor
2:11
नमस्कार ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं देखो जी अधिक सोच मैं आपका सवाल का अर्थ समझ गया मैंने अभी थोड़ी देर पहले भी एक सवाल में ही जवाब दिया था और आपको भी यही कहता हूं कि अधिक चोट से बचने के यही उपाय हैं कि आप अपने मन को शांत करने के लिए मेडिटेशन करें ध्यान योग ठीक है दूसरी बात आप अपने मन को किसी ऐसे कार्य में ले गए जहां पर जो आपको अच्छा लगे जहां पर आप अधिक व्यस्त रहें और उस काम में आप अपने मन को लगाते हुए व्यस्त रहें जिससे कि आपकी अधिक सोच की क्षमता वह कम होती जाएगी धीरे-धीरे क्योंकि आप जब किसी कार्य में व्यस्त रहेंगे तो आपका मन जो है इधर तो नहीं भागेगा तो कई बार हम इतना अधिक से होते हैं कई बार कुछ ऐसा सोचते हैं जिसका हमारे जीवन से भी कोई लेना देना नहीं होता और सब के साथ होता है तो अधिक सोच और मन को वश में करने का यही उपाय है कि आप अपने काम में किसी ऐसे काम में अपने मन को व्यस्त रखें लगाए रखें दूसरा ध्यान योग साधना करते रहें जिससे आपका मन शांत रहेगा आपको लंबी सांस लेकर के और ओम का उच्चारण करते हुए आप बिल्कुल सावधान होकर के बैठ जाएगी और मन को शांति दे आपको खुद एहसास हो कि हां हमारा मन जो है वह धीरे-धीरे एक-एक कुछ समय के लिए लेकिन शांत हुआ देदे करके ऐसे ही आपकी सोच है वह अधिक सोच की क्षमता जो है वह धीरे-धीरे घटने लगेगी उम्मीद आपको सवाल का जवाब मिला होगा मेरे द्वारा अच्छा लगे तो लाइक जरूर कीजिएगा और ज्यादा से ज्यादा लाइक करें धन्यवाद
Namaskaar ovarathinking se bachane ke kya upaay hain dekho jee adhik soch main aapaka savaal ka arth samajh gaya mainne abhee thodee der pahale bhee ek savaal mein hee javaab diya tha aur aapako bhee yahee kahata hoon ki adhik chot se bachane ke yahee upaay hain ki aap apane man ko shaant karane ke lie mediteshan karen dhyaan yog theek hai doosaree baat aap apane man ko kisee aise kaary mein le gae jahaan par jo aapako achchha lage jahaan par aap adhik vyast rahen aur us kaam mein aap apane man ko lagaate hue vyast rahen jisase ki aapakee adhik soch kee kshamata vah kam hotee jaegee dheere-dheere kyonki aap jab kisee kaary mein vyast rahenge to aapaka man jo hai idhar to nahin bhaagega to kaee baar ham itana adhik se hote hain kaee baar kuchh aisa sochate hain jisaka hamaare jeevan se bhee koee lena dena nahin hota aur sab ke saath hota hai to adhik soch aur man ko vash mein karane ka yahee upaay hai ki aap apane kaam mein kisee aise kaam mein apane man ko vyast rakhen lagae rakhen doosara dhyaan yog saadhana karate rahen jisase aapaka man shaant rahega aapako lambee saans lekar ke aur om ka uchchaaran karate hue aap bilkul saavadhaan hokar ke baith jaegee aur man ko shaanti de aapako khud ehasaas ho ki haan hamaara man jo hai vah dheere-dheere ek-ek kuchh samay ke lie lekin shaant hua dede karake aise hee aapakee soch hai vah adhik soch kee kshamata jo hai vah dheere-dheere ghatane lagegee ummeed aapako savaal ka javaab mila hoga mere dvaara achchha lage to laik jaroor keejiega aur jyaada se jyaada laik karen dhanyavaad

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:43
वेलकम बैक स्वागत है आप सबका मेरी बोलकर प्रोफाइल पर और आप सुन रहे हैं रोहित राठौर को तैयार ओवरथिंकिंग यह बहुत ही गंदी चीज है जो थिंकिंग तक सही है पर ओवरथिंकिंग जब हो जाती है तो व्यक्ति उदास हो जाता है वह हर नकारात्मक विचार उसके मन में आने लग जाते हैं तो हम इससे कैसे बचा जाए तो हम इसके या दो तीन उपाय से बात करेंगे जिनसे हमें इसे कहीं हद तक हमें ओवरथिंकिंग से बचा जा सकता है तो पहला तो यार मेडिटेशन क्योंकि जब तक आप मेडिटेशन नहीं करोगी जब तक अपनी लाइफ में ध्यान ध्यान नहीं लगाओगे आप जब तक मेडिटेशन करना नहीं सकोगे क्या आपको सुबह से उसका मेडिटेशन जरूर करना चाहिए जिससे आपकी थिंकिंग पॉजिटिव बनी रहेगी आप कभी भी वर्थिंग करने से बचेंगे वही आप बुक्स पढ़े नहीं नहीं बुक्स पड़े आपको नए-नए अच्छे-अच्छे पॉजिटिव विचार आएंगे जिससे आप ऊपर थिंकिंग से कहीं हद तक बढ़ पाएंगे अब कहिए सी बुक पढ़ सकते हैं जिसमें ओवरथिंकिंग से बचने के भी उपाय कई बुक्स मार्केट में अवेलेबल है जो आप या तो आप ऑडियोबुक्स भी सुन सकते हैं अगर आप नहीं खरीदना सबसे पहली बात आप मेरी टेंशन करें दूसरी बुक्स पड़े तीसरा आप अपनी हॉबी है आपने इसके उस अगर आपकी कोई हॉबी है तो आप उसमें लगे कई कई बार ऐसा होता है व्यक्ति बैठे-बैठे ओवरथिंकिंग में चले जाता है तो आपको नहीं जाना है आप अगर पैसा हो रहा है कि नहीं आ रहा वह बर्तन की गोली तो आपको अपनी हॉबी कि मैं देखना जो आपकी जो भी होगी आपकी वह भी जैसे पेंटिंग हो गई ड्राइंग हो गई या गाने सुनने हो गए अब उसे करे तब उससे भी ओवरथिंकिंग से बचा जा सकता है कुछ से हटकर अपना ध्यान और कहीं लगा लेते हैं इससे आपके ओवरथिंकिंग से बचा जा सकता है यार ओवरथिंकिंग हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही बहुत ही गंदी है ने हानिकारक यार हम इससे बहुत जितना ज्यादा हो सके बचना चाहिए धन्यवाद मिलते हैं अब से अगले सवाल में जब तक के लिए टेक केयर
Velakam baik svaagat hai aap sabaka meree bolakar prophail par aur aap sun rahe hain rohit raathaur ko taiyaar ovarathinking yah bahut hee gandee cheej hai jo thinking tak sahee hai par ovarathinking jab ho jaatee hai to vyakti udaas ho jaata hai vah har nakaaraatmak vichaar usake man mein aane lag jaate hain to ham isase kaise bacha jae to ham isake ya do teen upaay se baat karenge jinase hamen ise kaheen had tak hamen ovarathinking se bacha ja sakata hai to pahala to yaar mediteshan kyonki jab tak aap mediteshan nahin karogee jab tak apanee laiph mein dhyaan dhyaan nahin lagaoge aap jab tak mediteshan karana nahin sakoge kya aapako subah se usaka mediteshan jaroor karana chaahie jisase aapakee thinking pojitiv banee rahegee aap kabhee bhee varthing karane se bachenge vahee aap buks padhe nahin nahin buks pade aapako nae-nae achchhe-achchhe pojitiv vichaar aaenge jisase aap oopar thinking se kaheen had tak badh paenge ab kahie see buk padh sakate hain jisamen ovarathinking se bachane ke bhee upaay kaee buks maarket mein avelebal hai jo aap ya to aap odiyobuks bhee sun sakate hain agar aap nahin khareedana sabase pahalee baat aap meree tenshan karen doosaree buks pade teesara aap apanee hobee hai aapane isake us agar aapakee koee hobee hai to aap usamen lage kaee kaee baar aisa hota hai vyakti baithe-baithe ovarathinking mein chale jaata hai to aapako nahin jaana hai aap agar paisa ho raha hai ki nahin aa raha vah bartan kee golee to aapako apanee hobee ki main dekhana jo aapakee jo bhee hogee aapakee vah bhee jaise penting ho gaee draing ho gaee ya gaane sunane ho gae ab use kare tab usase bhee ovarathinking se bacha ja sakata hai kuchh se hatakar apana dhyaan aur kaheen laga lete hain isase aapake ovarathinking se bacha ja sakata hai yaar ovarathinking hamaare svaasthy ke lie bahut hee bahut hee gandee hai ne haanikaarak yaar ham isase bahut jitana jyaada ho sake bachana chaahie dhanyavaad milate hain ab se agale savaal mein jab tak ke lie tek keyar

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
1:03
सवाल है और थिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं देखिए चिंता चिता समान है या बड़ी चर्चित कहावत है यह बात जितनी कड़वी है उतनी ही सच्ची भी है जरूरत से ज्यादा उम्र थैंक्यू सेहत पर क्या असर डालती है शायद आपको इसका अंदाजा नहीं है अगर आपको ऐसा लगता है कि ज्यादा सोचने से हालात बदल जाएंगे और कुछ बुरा होने से आप रोक लेंगे तो ऐसा नहीं है हैरानी की बात यह है कि जो लोग जरूरत से ज्यादा सोचते हैं उन्हें खुद इस बात का एहसास नहीं होता और देखते-देखते और थिंकिंग उनके दिमाग और शरीर पर विपरीत प्रभाव डालने लगती है जरूरत से ज्यादा सोचना आपको शारीरिक और मानसिक रुप से बीमार बना सकता है जिससे हाइपरटेंशन और डिप्रेशन जैसी बीमारियां हो सकती है अगर आपको भी छोटी-छोटी बातों को ज्यादा सोचने की आदत है तो इसके कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं इसलिए मतलब से सोचना काफी हानिकारक हो सकता है धन्यवाद
Savaal hai aur thinking se bachane ke kya upaay hain dekhie chinta chita samaan hai ya badee charchit kahaavat hai yah baat jitanee kadavee hai utanee hee sachchee bhee hai jaroorat se jyaada umr thainkyoo sehat par kya asar daalatee hai shaayad aapako isaka andaaja nahin hai agar aapako aisa lagata hai ki jyaada sochane se haalaat badal jaenge aur kuchh bura hone se aap rok lenge to aisa nahin hai hairaanee kee baat yah hai ki jo log jaroorat se jyaada sochate hain unhen khud is baat ka ehasaas nahin hota aur dekhate-dekhate aur thinking unake dimaag aur shareer par vipareet prabhaav daalane lagatee hai jaroorat se jyaada sochana aapako shaareerik aur maanasik rup se beemaar bana sakata hai jisase haiparatenshan aur dipreshan jaisee beemaariyaan ho sakatee hai agar aapako bhee chhotee-chhotee baaton ko jyaada sochane kee aadat hai to isake kaee gambheer parinaam ho sakate hain isalie matalab se sochana kaaphee haanikaarak ho sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:40
सवाल नंबर चेकिंग से बचने के क्या उपाय हैं फिर भी ऊपर नीचे मतलब ज्यादा सोचना आप ज्यादा सोचने से आरा से परेशान हैं तो मैं आपको बताते हैं कि इससे बचने के क्या उपाय हैं आप अपने मन में ध्यान करो सुबह उठा जल्दी और ध्यान करें वरना मैं योगा भी करें उसके बाद दिन में आप जब भी किसी से मिलते हैं या कुछ सोचते किसी व्यक्ति बारे में ना सोचो मानवता कंसंट्रेट करें किसी काम में मन लगाए और उभरते नेता होती है वह दूसरों के लिए भी सोचते हैं कि भविष्य विशेषताएं भूत वाली सोचते आप वर्तमान में सुनिए और खुश रहो
Savaal nambar cheking se bachane ke kya upaay hain phir bhee oopar neeche matalab jyaada sochana aap jyaada sochane se aara se pareshaan hain to main aapako bataate hain ki isase bachane ke kya upaay hain aap apane man mein dhyaan karo subah utha jaldee aur dhyaan karen varana main yoga bhee karen usake baad din mein aap jab bhee kisee se milate hain ya kuchh sochate kisee vyakti baare mein na socho maanavata kansantret karen kisee kaam mein man lagae aur ubharate neta hotee hai vah doosaron ke lie bhee sochate hain ki bhavishy visheshataen bhoot vaalee sochate aap vartamaan mein sunie aur khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ज्यादा सोचने की बीमारी, How to Stop Overthinking in Hindi, ज्यादा सोचने की बीमारी का इलाज
URL copied to clipboard