#भारत की राजनीति

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:55

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:24
लाल किले पर जब हमला हुआ तो पुलिस आराम से क्यों बैठी थी कहीं यह किसानों को बदनाम करने की साजिश तो नहीं बिल्कुल आप सही कह रहे हैं यह किसानों को बदनाम करने की साजिश है क्योंकि 25 से 24 तारीख को जो किसानों को जो एक वहां का जो प्रोजेक्ट दिया गया वहां के जो साइट प्लान दिया गया वह बिल्कुल उससे लाल किले से वह एक अलग से मेन रोड पर थी और वहां पर यह था कि किसानों के जो जो रैली निकली वह उसी रोड पर निकलेगी और आप यह बताइए कि आज आज सदियों से चला आ रहा है कि जैसे झ झंडे पर जो है और झंडारोहण होता है अथवा धारा 144 लग जाती है कोई अपना अनावश्यक रूप से वहां कुछ ने एक एक आदमी की छानबीन होती है आखिर का चित्र झंडारोहण होना था लाल किले पर पुलिस एकदम मूकदर्शक बंद करके क्यों देखते रहे इसका मतलब है कि उनकी प्लानिंग थी कि सचिन को इस रास्ते से गुजरो के जुड़वा दिया जाए और वहां जो संघ के जो मुंडे होते हैं अव्यवस्था फैलाने वाले वही जाकर के झंडा चढ़कर के तिरंगे की जाएगी उन्होंने पीला झंडा फहरा दिया यह सिर्फ किसानों को बदनाम करने की साजिश है नई-नई को टच करके किसानों को बदनाम किया जा रहा है उनके आंदोलन को फेल किया जा रहा है उनको आतंकवादी कहां जा रहा है उनको बदमाश कहा जा रहा है और किसी न किसी तरह से करबल साल से किसानों को परेशान करके उसकी जमीन को हड़पना यही सरकार का काम रह गया है क्योंकि देश का सब कुछ तो दे चुका है किसानों की जमीन रह गई उसको भी भेज करके भागना चाहते हैं देश से
Laal kile par jab hamala hua to pulis aaraam se kyon baithee thee kaheen yah kisaanon ko badanaam karane kee saajish to nahin bilkul aap sahee kah rahe hain yah kisaanon ko badanaam karane kee saajish hai kyonki 25 se 24 taareekh ko jo kisaanon ko jo ek vahaan ka jo projekt diya gaya vahaan ke jo sait plaan diya gaya vah bilkul usase laal kile se vah ek alag se men rod par thee aur vahaan par yah tha ki kisaanon ke jo jo railee nikalee vah usee rod par nikalegee aur aap yah bataie ki aaj aaj sadiyon se chala aa raha hai ki jaise jh jhande par jo hai aur jhandaarohan hota hai athava dhaara 144 lag jaatee hai koee apana anaavashyak roop se vahaan kuchh ne ek ek aadamee kee chhaanabeen hotee hai aakhir ka chitr jhandaarohan hona tha laal kile par pulis ekadam mookadarshak band karake kyon dekhate rahe isaka matalab hai ki unakee plaaning thee ki sachin ko is raaste se gujaro ke judava diya jae aur vahaan jo sangh ke jo munde hote hain avyavastha phailaane vaale vahee jaakar ke jhanda chadhakar ke tirange kee jaegee unhonne peela jhanda phahara diya yah sirph kisaanon ko badanaam karane kee saajish hai naee-naee ko tach karake kisaanon ko badanaam kiya ja raha hai unake aandolan ko phel kiya ja raha hai unako aatankavaadee kahaan ja raha hai unako badamaash kaha ja raha hai aur kisee na kisee tarah se karabal saal se kisaanon ko pareshaan karake usakee jameen ko hadapana yahee sarakaar ka kaam rah gaya hai kyonki desh ka sab kuchh to de chuka hai kisaanon kee jameen rah gaee usako bhee bhej karake bhaagana chaahate hain desh se

Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:11
नमस्कार जैसा कि अपर क्वेश्चन है जब लाल किले पर हमला हुआ तो पुलिस आराम से क्यों बैठी थी कहीं इस किसानों को बदनाम करने की सरकार की शादी स्थानीय थाना शहर पुलिस या कोई भी स्टेट की पुलिस स्टेशन में कितना पावर होता कि वह हर किसी पर फायरिंग वगैरह या कोई डंडे हो गया कर तूने ऊपर से आते हैं और सरकार का मेन हाथ रहता है मेरी कुछ मानता हूं मैं इसमें यह और बनना चाहता हूं किसान आंदोलन में काफी करप्शन चल रहा है जिस वजह से इतना यह बड़ा चला कर दिखाया गया है और इसमें काफी जनों ने राजनीति का भी इस वजह से इतना ही पॉपुलर पॉपुलर हो रहा है बस मैं यही चाहता हूं कि किसानों के साथ पुराना हो क्यों बुरा ना हो कोई भी जो है उनके साथ बुरा नहीं होना चाहिए किसी एक के वजह से दूसरे का बुरा ना हो सके मैं यही चाहता हूं और मैं यह चाहता हूं कोई भी सरकार हो वह किसानों के हित के लिए सोचे नाइस जस्ट धन्यवाद
Namaskaar jaisa ki apar kveshchan hai jab laal kile par hamala hua to pulis aaraam se kyon baithee thee kaheen is kisaanon ko badanaam karane kee sarakaar kee shaadee sthaaneey thaana shahar pulis ya koee bhee stet kee pulis steshan mein kitana paavar hota ki vah har kisee par phaayaring vagairah ya koee dande ho gaya kar toone oopar se aate hain aur sarakaar ka men haath rahata hai meree kuchh maanata hoon main isamen yah aur banana chaahata hoon kisaan aandolan mein kaaphee karapshan chal raha hai jis vajah se itana yah bada chala kar dikhaaya gaya hai aur isamen kaaphee janon ne raajaneeti ka bhee is vajah se itana hee popular popular ho raha hai bas main yahee chaahata hoon ki kisaanon ke saath puraana ho kyon bura na ho koee bhee jo hai unake saath bura nahin hona chaahie kisee ek ke vajah se doosare ka bura na ho sake main yahee chaahata hoon aur main yah chaahata hoon koee bhee sarakaar ho vah kisaanon ke hit ke lie soche nais jast dhanyavaad

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
आप ने प्रश्न किया है कि जब लाल किले पर हमला हुआ तो पुलिस आराम से क्यों बैठी थी कहीं है किसानों को बदनाम करने की सरकार की साजिश तो नहीं थी कमाल करते हैं भाई साहब जिस 26 जनवरी के दिन इस देश की आत्मा पर हमला हुआ उस दिन 500 पुलिस के जवान आज भी हॉस्पिटल के बिस्तर पर पड़े हैं 4050 गंभीर अवस्था में आईसीयू में पड़े हैं और अगर हम यह कहें कि पुलिस आराम से बैठी थी शर्म आनी चाहिए हमको इस तरह की बात कर सरकार क्या करते हैं पुलिस क्या कर तू जैसे बीते हुए थे तो आखिर इस देश के नागरिक और कहीं सरकार को भी शायद यह उम्मीद नहीं रही होगी कि हमारे किसान है जो हमारे देश की आत्मा को हमारे देश के गणतंत्र दिवस को जो इतना पावन पर्व है उसको यह कलंकित करेंगे इसमें सरकार की कहां गलती है पुलिस की कहां गलती है क्या आप चाहते हैं कि पुलिस गोलियां चला दी और वहां पर सॉफ्ट सैकड़ों लोग मारे जाते तब आप ही अगले दिन और देश का मीडिया ही कहता कि एक तरफ परेड चल रही थी एक तरफ 26 जनवरी था एक तरफ गणतंत्र दिवस था और दूसरी तरफ किसान के सीने पर गोली थी सरकार पुलिस कितनी बड़ी दुविधा में थी उन्होंने कितने बड़े संयम का परिचय दिया इतने बड़े धैर्य का परिचय दिया कि वह पीटते रहे लाठियां खाते रहेंगे तलवार खाते रहे फिर भी उन्होंने संयम दिखाया और आप कह रहे हैं कि इसमें कहीं सरकार की साजिश तो नहीं शर्माने वाली बात है इस देश के आम नागरिक को ही समझना पड़ेगा कि चाहे किसी भी तरह का अंदर हो जाए किसान आंदोलन हो जाए शाहीन बाग आंदोलन हो मुट्ठी भर लोग हमारे देश के गणतंत्र को बदनाम कर हमारे देश को शर्मिंदा करना चाहते हैं हमारे देश की प्रगति को रोकना चाहते हैं कम से कम हम लोग तो इस बात को समझे कुछ लोग जो उनके किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर के इस देश को शर्मसार कर रहे हैं और हम लोगों करता लिपि टेंगे से बड़ा इस देश का दुर्भाग्य क्या होगा हम इस मिट्टी में पले बढ़े हैं इस मिट्टी के प्रति हमारा राष्ट्रवाद हमारी मूल आत्मा है इसलिए सरकार पर संख्या ना करिए साहब जिन्होंने यह कृत्य किया उनसे बड़ा आतंकवादी ही द्रोही और देशद्रोही में किसी और को नहीं तुम धन्यवाद
Aap ne prashn kiya hai ki jab laal kile par hamala hua to pulis aaraam se kyon baithee thee kaheen hai kisaanon ko badanaam karane kee sarakaar kee saajish to nahin thee kamaal karate hain bhaee saahab jis 26 janavaree ke din is desh kee aatma par hamala hua us din 500 pulis ke javaan aaj bhee hospital ke bistar par pade hain 4050 gambheer avastha mein aaeeseeyoo mein pade hain aur agar ham yah kahen ki pulis aaraam se baithee thee sharm aanee chaahie hamako is tarah kee baat kar sarakaar kya karate hain pulis kya kar too jaise beete hue the to aakhir is desh ke naagarik aur kaheen sarakaar ko bhee shaayad yah ummeed nahin rahee hogee ki hamaare kisaan hai jo hamaare desh kee aatma ko hamaare desh ke ganatantr divas ko jo itana paavan parv hai usako yah kalankit karenge isamen sarakaar kee kahaan galatee hai pulis kee kahaan galatee hai kya aap chaahate hain ki pulis goliyaan chala dee aur vahaan par sopht saikadon log maare jaate tab aap hee agale din aur desh ka meediya hee kahata ki ek taraph pared chal rahee thee ek taraph 26 janavaree tha ek taraph ganatantr divas tha aur doosaree taraph kisaan ke seene par golee thee sarakaar pulis kitanee badee duvidha mein thee unhonne kitane bade sanyam ka parichay diya itane bade dhairy ka parichay diya ki vah peetate rahe laathiyaan khaate rahenge talavaar khaate rahe phir bhee unhonne sanyam dikhaaya aur aap kah rahe hain ki isamen kaheen sarakaar kee saajish to nahin sharmaane vaalee baat hai is desh ke aam naagarik ko hee samajhana padega ki chaahe kisee bhee tarah ka andar ho jae kisaan aandolan ho jae shaaheen baag aandolan ho mutthee bhar log hamaare desh ke ganatantr ko badanaam kar hamaare desh ko sharminda karana chaahate hain hamaare desh kee pragati ko rokana chaahate hain kam se kam ham log to is baat ko samajhe kuchh log jo unake kisaanon ke kandhe par bandook rakhakar ke is desh ko sharmasaar kar rahe hain aur ham logon karata lipi tenge se bada is desh ka durbhaagy kya hoga ham is mittee mein pale badhe hain is mittee ke prati hamaara raashtravaad hamaaree mool aatma hai isalie sarakaar par sankhya na karie saahab jinhonne yah krty kiya unase bada aatankavaadee hee drohee aur deshadrohee mein kisee aur ko nahin tum dhanyavaad

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:54
र क पस में जब लाल किले पर हमला हुआ तो पुलिस आराम से क्यों बैठी थी कहीं यह किसानों को बदनाम करने की साजिश तो नहीं तो आपको बता दें कि देखिए अगर यहां पर पुलिस कड़े कदम उठाते या फायरिंग करती है तो उसमें जो किसान है बेवजह मारे जाते हैं तो उसमें भी जो दोषियों पुलिस पर ही आना था और प्रदर्शनकारियों ने पुलिस को पीट पीट कर भगा दिया उनके साथ बदतमीजी करी परेशान किया तो यहां पर भी पुलिस वाले ही फंसे क्योंकि उनको स्पेशल ऑर्डर थे कि आपको अपनी तरफ से नीचे नहीं करना है जिसको सिचुएशन को टेकल करना है कंट्रोल करना है किसी की भी जान माल की हानि नहीं होनी चाहिए जिस कारण वर्ष यहां पर इस तरह की वारदात भी हो गई आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Ra ka pas mein jab laal kile par hamala hua to pulis aaraam se kyon baithee thee kaheen yah kisaanon ko badanaam karane kee saajish to nahin to aapako bata den ki dekhie agar yahaan par pulis kade kadam uthaate ya phaayaring karatee hai to usamen jo kisaan hai bevajah maare jaate hain to usamen bhee jo doshiyon pulis par hee aana tha aur pradarshanakaariyon ne pulis ko peet peet kar bhaga diya unake saath badatameejee karee pareshaan kiya to yahaan par bhee pulis vaale hee phanse kyonki unako speshal ordar the ki aapako apanee taraph se neeche nahin karana hai jisako sichueshan ko tekal karana hai kantrol karana hai kisee kee bhee jaan maal kee haani nahin honee chaahie jis kaaran varsh yahaan par is tarah kee vaaradaat bhee ho gaee aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:23
सवाल यह है कि जब लाल किले पर हमला हुआ तो पुलिस आराम से क्यों बैठी थी कहीं यह किसानों को बदनाम करने की सरकार की साजिश तो नहीं होती हालांकि सरकार की तरफ से यह बयान आ रहे हैं कि अगर वे ऐसा करते तो खून खराबा हो जो हो सकता था जिसकी वजह से हिंसा भड़कने की संभावना बढ़ जाती जिसमें कई मासूम किसान भी मारे जाते इसलिए ऐसा कोई शब्द खत्म उस वक्त उठाया नहीं गया लेकिन हालांकि लाल किले पर हुई हिंसा के आरोपी अभिनेता दीप सिद्धू को 7 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है दीप को क्राइम ब्रांच ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट प्रज्ञा गुप्ता की कोर्ट में पेश किया पुलिस ने 10 दिनों के रिमांड मांगते हुए कहा कि हमें दीप सिद्धू के रिमांड चाहिए क्योंकि उससे पूछताछ करनी है उसके खिलाफ वीडियोग्राफी सबूत है उसने लोगों को भड़काया जिसके चलते लोगों ने सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया पुलिस ने यह भी कहा कि दीप दीप के सोशल मीडिया की भी पड़ताल करनी है उसको पंजाब-हरियाणा लेकर जाना है पुलिस का कहना था कि किसानों के ट्रैक्टर मार्च के दौरान नियमों का उल्लंघन हुआ है लाल किले पर धार्मिक संगठन और किसान संगठन का झंडा फहराया गया दंगे में यह सबसे अधिक था पुलिस के अनुसार लाल किले पर 140 पुलिसकर्मियों पर हमला हुआ उनके सर पर तलवार से चोट आई लोगों को भड़काने वालों में सिद्धू सबसे आगे था वीडियो में साफ दिख रहा है कि वे झंडे और लाठी के साथ लाल किले में एंट्री कर रहा था मैं जुगराज सिंह के साथ था वैसे दीप सिद्धू की पेशी के दौरान कोर्ट के बाहर कुछ हंगामा भी हुआ सिद्धू के समर्थन में एक शख्स और वकीलों की इसके बाद की तीखी बहस हुई बाद में पुलिस ने बीच-बचाव कर माहौल को शांत कराया सुनवाई के दौरान सिद्धू के वकील ने पुलिस की रिमांड की मांग का विरोध करते हुए कहा कि रिमांड की सूरत नहीं है पुलिस के पास पहले ही सब कुछ है पुलिस के पास सीसीटीवी फुटेज वीडियो फुटेज पहले से हैं ऐसे में उनसे कुछ और बरामद नहीं करना है मामले के आरोपी किसान नेता सुखदेव सिंह की पेशी हुई पुलिस ने उसकी 1 दिन की कस्टडी मांगी के बाद कोर्ट ने सुखदेव को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है
Savaal yah hai ki jab laal kile par hamala hua to pulis aaraam se kyon baithee thee kaheen yah kisaanon ko badanaam karane kee sarakaar kee saajish to nahin hotee haalaanki sarakaar kee taraph se yah bayaan aa rahe hain ki agar ve aisa karate to khoon kharaaba ho jo ho sakata tha jisakee vajah se hinsa bhadakane kee sambhaavana badh jaatee jisamen kaee maasoom kisaan bhee maare jaate isalie aisa koee shabd khatm us vakt uthaaya nahin gaya lekin haalaanki laal kile par huee hinsa ke aaropee abhineta deep siddhoo ko 7 din kee pulis hiraasat mein bhej diya gaya hai deep ko kraim braanch ne metropolitan majistret pragya gupta kee kort mein pesh kiya pulis ne 10 dinon ke rimaand maangate hue kaha ki hamen deep siddhoo ke rimaand chaahie kyonki usase poochhataachh karanee hai usake khilaaph veediyograaphee saboot hai usane logon ko bhadakaaya jisake chalate logon ne saarvajanik sampatti ko nukasaan pahunchaaya pulis ne yah bhee kaha ki deep deep ke soshal meediya kee bhee padataal karanee hai usako panjaab-hariyaana lekar jaana hai pulis ka kahana tha ki kisaanon ke traiktar maarch ke dauraan niyamon ka ullanghan hua hai laal kile par dhaarmik sangathan aur kisaan sangathan ka jhanda phaharaaya gaya dange mein yah sabase adhik tha pulis ke anusaar laal kile par 140 pulisakarmiyon par hamala hua unake sar par talavaar se chot aaee logon ko bhadakaane vaalon mein siddhoo sabase aage tha veediyo mein saaph dikh raha hai ki ve jhande aur laathee ke saath laal kile mein entree kar raha tha main jugaraaj sinh ke saath tha vaise deep siddhoo kee peshee ke dauraan kort ke baahar kuchh hangaama bhee hua siddhoo ke samarthan mein ek shakhs aur vakeelon kee isake baad kee teekhee bahas huee baad mein pulis ne beech-bachaav kar maahaul ko shaant karaaya sunavaee ke dauraan siddhoo ke vakeel ne pulis kee rimaand kee maang ka virodh karate hue kaha ki rimaand kee soorat nahin hai pulis ke paas pahale hee sab kuchh hai pulis ke paas seeseeteevee phutej veediyo phutej pahale se hain aise mein unase kuchh aur baraamad nahin karana hai maamale ke aaropee kisaan neta sukhadev sinh kee peshee huee pulis ne usakee 1 din kee kastadee maangee ke baad kort ne sukhadev ko nyaayik hiraasat mein bhej diya hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • लाल किले पर हमला क्यो हुआ, लाल किला कहा पर है
URL copied to clipboard