#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?

Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:03
नमस्कार दोस्तों कैसे ही संभाले भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा देखे भारतीय इतिहास में एक से बढ़कर एक महत्वपूर्ण युद्ध लड़े गए युद्ध जिन्होंने भारतीय इतिहास को ही बदल कर रखती है उनमें से एक युद्ध था प्लासी का युद्ध जो 1757 एसपी को अंग्रेजों और सिराजुद्दोला के बीच लड़ा गया था इसमें अंग्रेजों की जीत हुई थी तो सिराजुद्दोला की हार हुई थी और परिणाम स्वरुप भारत में अंग्रेजी प्रशासन की हुकूमत हो गई जो लगभग दो ढाई सौ सालो तक मतलब भारत पर राज किया इसके पश्चात 15 अगस्त 1947 को काफी संघर्षों के बाद हमारे देश को आजादी मिली आपको यह भी बता दें कि अंग्रेजी प्रशासन से पहले भारत विश्व के सबसे धनी देशों में गिना जाता था लेकिन जब भारत की मतलब है यानी 15 अगस्त 1947 को भारत इतना गरीब गरीब देशों की सूची में नाम शामिल हो तू भी करता हूं कॉल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hee sambhaale bhaarat ke itihaas ka sabase mahatvapoorn yuddh kaun sa dekhe bhaarateey itihaas mein ek se badhakar ek mahatvapoorn yuddh lade gae yuddh jinhonne bhaarateey itihaas ko hee badal kar rakhatee hai unamen se ek yuddh tha plaasee ka yuddh jo 1757 esapee ko angrejon aur siraajuddola ke beech lada gaya tha isamen angrejon kee jeet huee thee to siraajuddola kee haar huee thee aur parinaam svarup bhaarat mein angrejee prashaasan kee hukoomat ho gaee jo lagabhag do dhaee sau saalo tak matalab bhaarat par raaj kiya isake pashchaat 15 agast 1947 ko kaaphee sangharshon ke baad hamaare desh ko aajaadee milee aapako yah bhee bata den ki angrejee prashaasan se pahale bhaarat vishv ke sabase dhanee deshon mein gina jaata tha lekin jab bhaarat kee matalab hai yaanee 15 agast 1947 ko bhaarat itana gareeb gareeb deshon kee soochee mein naam shaamil ho too bhee karata hoon kol ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:59
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है बहुत सुंदर सवाल पूछा गया भारत के इतिहास में इतिहास में जैसे पूरी दुनिया का इतिहास भारत का इतिहास रक्तरंजित है वैसे बहुत पुराना इतिहास है भारत देश का सिंधु घाटी सभ्यता से लेकर आज तक का और आज के कई महान यह जो महासत्ता है उनका इतिहास 300 साल से भी ज्यादा नहीं लेकिन आ जा सकता है और कभी हम आ सकता हुआ करते थे सम्राट अशोक का राज्य भाषा तथा अकबर का साम्राज्य महासत्ता था औरंगजेब का साम्राज्य महासभा तो इस तरीके से एक वक्त में संजय से सम्राट चंद्रगुप्त का भी एक बड़ा साम्राज्य था मूवी जमाने की मार सकता है ऐसे शब्द जिसमें है लेकिन मैं यह फर्क करता हूं क्यों राजाओं के राजा थे या कई संस्थानों के अवतारों शोषण की जो राजा थे उनकी लड़ाई है वह भारत के देश की पूरी जनता की लड़ाई नहीं ओके बोलो पॉलिटिकल युद्ध थे लेकिन इससे सबसे बड़ा युद्ध में कई अन्य अर्थों में पुणे 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन और उसके साथ में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद सेना जो है उसने जो युद्ध किया था सरकार से और दोनों का मिलकर एक परिणाम हुआ एक रिजल्ट मिला भारत की स्वतंत्रता के रूप में इसलिए यह एक युद्ध है और यह बहुत अलग तरीके का युद्ध किस किस में भारत का नाम नागरिक सबसे इतिहास में पहली बार राष्ट्रपति को राष्ट्रीय टीम में बना था एक राष्ट्र का चित्र उसके सामने आया था उससे पहले राष्ट्रपति पर कभी नहीं आया था आपने राजा का चित्र आता था पूरे राष्ट्रवादी यहां पर कभी पता नहीं था पहली बार महात्मा गांधी जी और उसके कांग्रेस के कार्य ने पूरे देश भर एक राष्ट्रीयता की भावना और राष्ट्रप्रेम की भावना राष्ट्रवाद की भावना को जन्म दिया इससे पहले कभी नहीं हुआ भारत के अभी जो सभी राज्य हैं उनसे भी कहीं ज्यादा प्रदेशों के लोग इस स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजो के खिलाफ एक हो गए थे उसका कुब्बा कुछ भाग जाए वह पाकिस्तान के पास चला गया कुछ बनाया फिर भी यह बहुत बड़ा देश बन गया नहीं तो यहां पर छोटे-छोटे संस्थानों संस्थान थे उनके छोटे-छोटे राज्य हुए होते और बड़े जैसों ने उनका भी उनको भी पराजित करके किसी बड़े देश का राज्य राज्य पड़ता हो सकता है अमेरिका अमेरिका का होता जापान का होता जर्मनी का होता या पुरुष का होता है ब्रिटेन का होता लेकिन एक राष्ट्र आज जो हम मानते हैं इसमें उस में रहते हैं उसका एक संविधान है उसका एक नागरिकत्व है उसके कुछ अधिकार है उसकी कुछ जिम्मेदारी है इसमें न्यायपालिका है इसमें यह कार्यपालिका है एक पूरा डेमोक्रेटिक स्ट्रक्चर खड़ा है और उसके उसमें हम जीते हैं और पहली बार हमें इतनी स्वतंत्रता इतने सारे हक की जनता को मिले उससे पहले कभी भी इतिहास में यह चीज नहीं घटी थी इसलिए उस वक्त लोगों ने जोर लगा दो जो जोर लगाया उसने और भी बहुत सारे क्लिमेंट्स है फिर भी कांग्रेस की राष्ट्रीय और नेताजी सुभाष चंद्र बोस का गोश्त की स्वतंत्र आर्मी आजाद हिंद सेना और उन्होंने बनाया हुआ एक चलन था परंतु वह बात बहुत महत्वपूर्ण होती है कभी भी समझ लेना करेंसी बहुत महत्वपूर्ण है तू भी निकाली थी अगर हिंदू सेना ने और वो यूआईडी अच्छी को हिटलर ने सुभाष चंद्र बोस सुभाष चंद्र बोस जी ने इटली जर्मनी 10 साल में बड़ा राष्ट्र बन गया था भारत देश तरीके के दिशा में जा सकता था ऐसे आईडी लेकर सुभाष चंद्र बोस के सबसे महत्वपूर्ण आयोजन भारत के इतिहास में भारतीय लोगों के लिए धन्यवाद
Bhaarat ke itihaas ka sabase mahatvapoorn yuddh kaun sa hai bahut sundar savaal poochha gaya bhaarat ke itihaas mein itihaas mein jaise pooree duniya ka itihaas bhaarat ka itihaas raktaranjit hai vaise bahut puraana itihaas hai bhaarat desh ka sindhu ghaatee sabhyata se lekar aaj tak ka aur aaj ke kaee mahaan yah jo mahaasatta hai unaka itihaas 300 saal se bhee jyaada nahin lekin aa ja sakata hai aur kabhee ham aa sakata hua karate the samraat ashok ka raajy bhaasha tatha akabar ka saamraajy mahaasatta tha aurangajeb ka saamraajy mahaasabha to is tareeke se ek vakt mein sanjay se samraat chandragupt ka bhee ek bada saamraajy tha moovee jamaane kee maar sakata hai aise shabd jisamen hai lekin main yah phark karata hoon kyon raajaon ke raaja the ya kaee sansthaanon ke avataaron shoshan kee jo raaja the unakee ladaee hai vah bhaarat ke desh kee pooree janata kee ladaee nahin oke bolo politikal yuddh the lekin isase sabase bada yuddh mein kaee any arthon mein pune 1942 ka bhaarat chhodo aandolan aur usake saath mein netaajee subhaash chandr bos kee aajaad hind sena jo hai usane jo yuddh kiya tha sarakaar se aur donon ka milakar ek parinaam hua ek rijalt mila bhaarat kee svatantrata ke roop mein isalie yah ek yuddh hai aur yah bahut alag tareeke ka yuddh kis kis mein bhaarat ka naam naagarik sabase itihaas mein pahalee baar raashtrapati ko raashtreey teem mein bana tha ek raashtr ka chitr usake saamane aaya tha usase pahale raashtrapati par kabhee nahin aaya tha aapane raaja ka chitr aata tha poore raashtravaadee yahaan par kabhee pata nahin tha pahalee baar mahaatma gaandhee jee aur usake kaangres ke kaary ne poore desh bhar ek raashtreeyata kee bhaavana aur raashtraprem kee bhaavana raashtravaad kee bhaavana ko janm diya isase pahale kabhee nahin hua bhaarat ke abhee jo sabhee raajy hain unase bhee kaheen jyaada pradeshon ke log is svatantrata sangraam mein angrejo ke khilaaph ek ho gae the usaka kubba kuchh bhaag jae vah paakistaan ke paas chala gaya kuchh banaaya phir bhee yah bahut bada desh ban gaya nahin to yahaan par chhote-chhote sansthaanon sansthaan the unake chhote-chhote raajy hue hote aur bade jaison ne unaka bhee unako bhee paraajit karake kisee bade desh ka raajy raajy padata ho sakata hai amerika amerika ka hota jaapaan ka hota jarmanee ka hota ya purush ka hota hai briten ka hota lekin ek raashtr aaj jo ham maanate hain isamen us mein rahate hain usaka ek sanvidhaan hai usaka ek naagarikatv hai usake kuchh adhikaar hai usakee kuchh jimmedaaree hai isamen nyaayapaalika hai isamen yah kaaryapaalika hai ek poora demokretik strakchar khada hai aur usake usamen ham jeete hain aur pahalee baar hamen itanee svatantrata itane saare hak kee janata ko mile usase pahale kabhee bhee itihaas mein yah cheej nahin ghatee thee isalie us vakt logon ne jor laga do jo jor lagaaya usane aur bhee bahut saare kliments hai phir bhee kaangres kee raashtreey aur netaajee subhaash chandr bos ka gosht kee svatantr aarmee aajaad hind sena aur unhonne banaaya hua ek chalan tha parantu vah baat bahut mahatvapoorn hotee hai kabhee bhee samajh lena karensee bahut mahatvapoorn hai too bhee nikaalee thee agar hindoo sena ne aur vo yooaeedee achchhee ko hitalar ne subhaash chandr bos subhaash chandr bos jee ne italee jarmanee 10 saal mein bada raashtr ban gaya tha bhaarat desh tareeke ke disha mein ja sakata tha aise aaeedee lekar subhaash chandr bos ke sabase mahatvapoorn aayojan bhaarat ke itihaas mein bhaarateey logon ke lie dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:41
आपका सवाल है कि भारतीय इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन चाहता है तो भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध की बात की जाए तो बाबर और इब्राहिम लोदी के बीच जो पानीपत का युद्ध लड़ा गया था वह था और वे युद्ध लगभग 15 से 26 शब्दों में दोनों के बीच लड़ा गया था और इब्राहिम लोदी को हराने के बाद बाबर ने भारत में मुगल सत्ता को कायम किया था इसके बाद भारत का इतिहास ही बदल गया था धन्यवाद
Aapaka savaal hai ki bhaarateey itihaas ka sabase mahatvapoorn yuddh kaun chaahata hai to bhaarat ke itihaas ka sabase mahatvapoorn yuddh kee baat kee jae to baabar aur ibraahim lodee ke beech jo paaneepat ka yuddh lada gaya tha vah tha aur ve yuddh lagabhag 15 se 26 shabdon mein donon ke beech lada gaya tha aur ibraahim lodee ko haraane ke baad baabar ne bhaarat mein mugal satta ko kaayam kiya tha isake baad bhaarat ka itihaas hee badal gaya tha dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:36

bolkar speaker
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:30
आकाश वाले भारतीय इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है तो भारत में कुछ बहुत सारे महत्वपूर्ण युद्ध थे कलिंग का युद्ध तराइन का प्रथम युद्ध उन्नीस सौ 1193 में तराइन का द्वितीय युद्ध 1192 में पानीपत का प्रथम युद्ध 1526 में पानीपत का द्वितीय युद्ध 1556 में तालीकोटा का युद्ध 965 में हल्दीघाटी युद्ध 1576 में प्लासी का युद्ध 1757 में धन्यवाद दोस्तों
Aakaash vaale bhaarateey itihaas mein sabase mahatvapoorn yuddh kaun sa hai to bhaarat mein kuchh bahut saare mahatvapoorn yuddh the kaling ka yuddh tarain ka pratham yuddh unnees sau 1193 mein tarain ka dviteey yuddh 1192 mein paaneepat ka pratham yuddh 1526 mein paaneepat ka dviteey yuddh 1556 mein taaleekota ka yuddh 965 mein haldeeghaatee yuddh 1576 mein plaasee ka yuddh 1757 mein dhanyavaad doston

bolkar speaker
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:36
कव्वाली है कि भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है तो ऐसे बहुत से युद्ध हैं जिन्हें आज भी याद रखा जाता है और जिन से बहुत ही ज्यादा जनहानि हुई थी सबसे पहला है कलिंग का युद्ध कलिंग का युद्ध 261 ईशा पूर्व में मौर्य साम्राज्य के तत्कालीन शासक सम्राट अशोक तथा कलिंग देश के बीच हुआ था यह युद्ध बहुत ही वृद्ध वर्ष कार्य था और भयावह था इस युद्ध में एक लाख से अधिक सैनिक मारे गए तथा कई लाख घायल हो गए इस में हुए भारी विनाश में अशोक का हृदय परिवर्तित कर दिया और यह युद्ध सम्राट अशोक के जीवन का आखिरी युद्ध साबित हुआ इस युद्ध के बाद अशोक ने बौद्ध धर्म को अपनाया और जीवन पर्यंत कभी हिंसा न करने की शपथ ली दूसरा युद्ध है हां तराइन का प्रथम युद्ध तराइन का प्रथम युद्ध मोहम्मद गौरी और 1 वर्ष के पृथ्वीराज चौहान के मध्य हुआ था इनमें मोहम्मद गौरी पराजित हुआ था और उसे उल्टे पैर भागना पड़ा इस युद्ध के बाद पूरे भारत में पृथ्वीराज चौहान की वीरता की गाथाएं सुनाई जाने लगी साथ पाकर मोहम्मद गौरी ने पुनः पृथ्वीराज से युद्ध किया जिसे तराइन का द्वितीय युद्ध कहा युद्ध कहा जाता है जिसमें जयचंद द्वारा देशद्रोही बन जाने और पृथ्वीराज के समर्थक राजपूतों को अपने इशारों पर नचाने के कारण पृथ्वीराज की पराजय हुई थी मोहम्मद गौरी का अपने योग्य सेनापति कुतुबुद्दीन ऐबक को भारत का गवर्नर बनाकर वापस अपने गृह देश चला गया और भारत के प्रथम बार मुस्लिम साम्राज्य स्थापित हुआ कुतुबुद्दीन ऐबक ने दिल्ली में गुलाम वंश की स्थापना की दिल्ली सल्तनत पर मामलू किया फिर गुलाम वंश का राज स्थापित हुआ पानीपत का प्रथम युद्ध पानीपत का प्रथम युद्ध बाबर और लोदी वंश के शासक इब्राहिम लोदी के मध्य हुआ था इसमें ब्रह्म लोधी की हार हुई और बाबर ने भारत में मुगल राज्य की नींव रखी इस युद्ध में बाबर द्वारा भारत में प्रथम बार तोप का इस्तेमाल किया गया था यही बाबर की जीत का प्रमुख कारण भी था बाबर ने दिल्ली सल्तनत के पतन के पश्चात उनके शासकों को सुल्तान कहे जाने वाले की परंपरा को तोड़कर अपने को बचा करवाना शुरू किया अगला है पानीपत का द्वितीय युद्ध 5 नवंबर 1556 को पानीपत का द्वितीय युद्ध हुआ था इस युद्ध में मुगल शासक अकबर की सेना का मुकाबला सेनापति हेमू से हुआ था हेमू अफगान शासक मुहम्मद आदिलशाह का सेनापति था इस युद्ध में हेलो पराजित हुआ और मारा गया शासन का अंत हुआ और मुगल के लिए रास्ता साफ हो गया अगला है तालीकोटा का युद्ध तालीकोटा का युद्ध हुसैन निजाम शाह के नेतृत्व बीजापुर बीदर अहमदनगर और गोलकुंडा की संगठित शक्ति विजय नगर के राजा राम राय के मध्य हुआ था इसमें विजयनगर के राजा की हार हुई जिसके परिणाम स्वरूप दक्षिण भारत में अंतिम हिंदू साम्राज्य विजयनगर का अंत हो गया अगला है हल्दीघाटी का युद्ध हल्दीघाटी का युद्ध 18 जून 1576 ईस्वी को मुगल शासक अकबर और महाराणा प्रताप के मध्य हुआ इस युद्ध में मुगल सेना का नेतृत्व राजा मानसिंह ने किया था यह मुगलों और राजपूतों के मध्य हुआ भीषण युद्ध था जिसमें राजपूतों के साथ स्थानीय भील जाति के लोगों ने दिया था यह युद्ध काफी विध्वंस कारी था विश्व युद्ध में राणा प्रताप की पराजय हुई और राणा प्रताप को अरावली की पहाड़ियों में शरण लेनी पड़ी कारगिल युद्ध कारगिल युद्ध भारत और पाकिस्तान के मध्य जम्मू कश्मीर में लद्दाख क्षेत्र के सेक्टर में हुआ था पर्वतीय युद्ध था जिसमें दोनों देशों की कई सैनिक शहीद हुए भारत ने ऑपरेशन विजय द्वारा पाकिस्तानी घुसपैठियों को कारगिल से मार भगाया पर शानदार विजय प्राप्त की कारगिल युद्ध लगभग 60 दिनों तक चला और 26 जुलाई को उसका आंसर हुआ इसे 26 जुलाई को कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों के सम्मान में कारगिल दिवस मनाया जाता
Kavvaalee hai ki bhaarat ke itihaas ka sabase mahatvapoorn yuddh kaun sa hai to aise bahut se yuddh hain jinhen aaj bhee yaad rakha jaata hai aur jin se bahut hee jyaada janahaani huee thee sabase pahala hai kaling ka yuddh kaling ka yuddh 261 eesha poorv mein maury saamraajy ke tatkaaleen shaasak samraat ashok tatha kaling desh ke beech hua tha yah yuddh bahut hee vrddh varsh kaary tha aur bhayaavah tha is yuddh mein ek laakh se adhik sainik maare gae tatha kaee laakh ghaayal ho gae is mein hue bhaaree vinaash mein ashok ka hrday parivartit kar diya aur yah yuddh samraat ashok ke jeevan ka aakhiree yuddh saabit hua is yuddh ke baad ashok ne bauddh dharm ko apanaaya aur jeevan paryant kabhee hinsa na karane kee shapath lee doosara yuddh hai haan tarain ka pratham yuddh tarain ka pratham yuddh mohammad gauree aur 1 varsh ke prthveeraaj chauhaan ke madhy hua tha inamen mohammad gauree paraajit hua tha aur use ulte pair bhaagana pada is yuddh ke baad poore bhaarat mein prthveeraaj chauhaan kee veerata kee gaathaen sunaee jaane lagee saath paakar mohammad gauree ne punah prthveeraaj se yuddh kiya jise tarain ka dviteey yuddh kaha yuddh kaha jaata hai jisamen jayachand dvaara deshadrohee ban jaane aur prthveeraaj ke samarthak raajapooton ko apane ishaaron par nachaane ke kaaran prthveeraaj kee paraajay huee thee mohammad gauree ka apane yogy senaapati kutubuddeen aibak ko bhaarat ka gavarnar banaakar vaapas apane grh desh chala gaya aur bhaarat ke pratham baar muslim saamraajy sthaapit hua kutubuddeen aibak ne dillee mein gulaam vansh kee sthaapana kee dillee saltanat par maamaloo kiya phir gulaam vansh ka raaj sthaapit hua paaneepat ka pratham yuddh paaneepat ka pratham yuddh baabar aur lodee vansh ke shaasak ibraahim lodee ke madhy hua tha isamen brahm lodhee kee haar huee aur baabar ne bhaarat mein mugal raajy kee neenv rakhee is yuddh mein baabar dvaara bhaarat mein pratham baar top ka istemaal kiya gaya tha yahee baabar kee jeet ka pramukh kaaran bhee tha baabar ne dillee saltanat ke patan ke pashchaat unake shaasakon ko sultaan kahe jaane vaale kee parampara ko todakar apane ko bacha karavaana shuroo kiya agala hai paaneepat ka dviteey yuddh 5 navambar 1556 ko paaneepat ka dviteey yuddh hua tha is yuddh mein mugal shaasak akabar kee sena ka mukaabala senaapati hemoo se hua tha hemoo aphagaan shaasak muhammad aadilashaah ka senaapati tha is yuddh mein helo paraajit hua aur maara gaya shaasan ka ant hua aur mugal ke lie raasta saaph ho gaya agala hai taaleekota ka yuddh taaleekota ka yuddh husain nijaam shaah ke netrtv beejaapur beedar ahamadanagar aur golakunda kee sangathit shakti vijay nagar ke raaja raam raay ke madhy hua tha isamen vijayanagar ke raaja kee haar huee jisake parinaam svaroop dakshin bhaarat mein antim hindoo saamraajy vijayanagar ka ant ho gaya agala hai haldeeghaatee ka yuddh haldeeghaatee ka yuddh 18 joon 1576 eesvee ko mugal shaasak akabar aur mahaaraana prataap ke madhy hua is yuddh mein mugal sena ka netrtv raaja maanasinh ne kiya tha yah mugalon aur raajapooton ke madhy hua bheeshan yuddh tha jisamen raajapooton ke saath sthaaneey bheel jaati ke logon ne diya tha yah yuddh kaaphee vidhvans kaaree tha vishv yuddh mein raana prataap kee paraajay huee aur raana prataap ko araavalee kee pahaadiyon mein sharan lenee padee kaaragil yuddh kaaragil yuddh bhaarat aur paakistaan ke madhy jammoo kashmeer mein laddaakh kshetr ke sektar mein hua tha parvateey yuddh tha jisamen donon deshon kee kaee sainik shaheed hue bhaarat ne opareshan vijay dvaara paakistaanee ghusapaithiyon ko kaaragil se maar bhagaaya par shaanadaar vijay praapt kee kaaragil yuddh lagabhag 60 dinon tak chala aur 26 julaee ko usaka aansar hua ise 26 julaee ko kaaragil yuddh mein shaheed hue javaanon ke sammaan mein kaaragil divas manaaya jaata

bolkar speaker
भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है?Bharat Ke Itihaas Ka Sabse Mehtvpurn Yuddh Kaun Sa Hai
RAM NIWASH AWASTHI Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAM जी का जवाब
विद्यार्थी
0:52

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध कौन सा है भारत के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण युद्ध
URL copied to clipboard