#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या गुरु के पास बैठते बैठते हमारे भीतर का सत्य प्रकट हो जाता है?

Kya Guru Ke Paas Baithte Baithte Humare Bheetar Ka Satya Prakat Ho Jata Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:23
राधा कृष्ण के गुरु के पास बैठते बैठते हमारे भीतर का सबसे प्रकट हो जाता है तो आपको बताना चाहेंगे बिल्कुल अगर आप किसी गुरु की संगत में है गुरु के साथ बैठ रहे हैं तो निश्चित रूप से आप खबर चला भी होगा और ऐसी स्थिति भी हो सकती हैं कि आपके भीतर का सत्य सामने आ जाए मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Raadha krshn ke guru ke paas baithate baithate hamaare bheetar ka sabase prakat ho jaata hai to aapako bataana chaahenge bilkul agar aap kisee guru kee sangat mein hai guru ke saath baith rahe hain to nishchit roop se aap khabar chala bhee hoga aur aisee sthiti bhee ho sakatee hain ki aapake bheetar ka saty saamane aa jae main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या गुरु के पास बैठते बैठते हमारे भीतर का सत्य प्रकट हो जाता है?Kya Guru Ke Paas Baithte Baithte Humare Bheetar Ka Satya Prakat Ho Jata Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
0:45
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सवाल क्या गुरु के पास बैठे बैठे थे हमारे भीतर का सत्व प्रगट हो जाता है कि निश्चित तौर पर जब भी आप किसी अच्छे व्यक्ति की संगति करते हो उसके बाद उसमें जो क्वालिटी होती है क्वालीफिकेशंस होते तो धीरे-धीरे आप पर भी मिलो उसका प्रभाव पड़ने लगता तो मतलब आप अगर नहीं तो किसी गुरु की संगत करते हो उसके साथ बैठकर तो मुल्क धीरे-धीरे मतलब आपका दूसरा तथा प्रकट होने लगते हैं क्योंकि आप उसकी जो क्वालिटी क्वालिफिकेशन मतलब जो कुछ भी उसके पास होता तो उसका प्रभाव से जरूर दिखता निश्चित तौर पर जो मतलब जैसा मतलब गुरु जी आपकी दीदी सरकार के गुरु की संगत करते हैं तो वैसे ही मतलब आप पर भी प्रभाव दिखते प्रकट होने लगता है तो मैं करता हूं उनको जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap savaal kya guru ke paas baithe baithe the hamaare bheetar ka satv pragat ho jaata hai ki nishchit taur par jab bhee aap kisee achchhe vyakti kee sangati karate ho usake baad usamen jo kvaalitee hotee hai kvaaleephikeshans hote to dheere-dheere aap par bhee milo usaka prabhaav padane lagata to matalab aap agar nahin to kisee guru kee sangat karate ho usake saath baithakar to mulk dheere-dheere matalab aapaka doosara tatha prakat hone lagate hain kyonki aap usakee jo kvaalitee kvaaliphikeshan matalab jo kuchh bhee usake paas hota to usaka prabhaav se jaroor dikhata nishchit taur par jo matalab jaisa matalab guru jee aapakee deedee sarakaar ke guru kee sangat karate hain to vaise hee matalab aap par bhee prabhaav dikhate prakat hone lagata hai to main karata hoon unako javaab achchha laga hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या गुरु के पास बैठते बैठते हमारे भीतर का सत्य प्रकट हो जाता है?Kya Guru Ke Paas Baithte Baithte Humare Bheetar Ka Satya Prakat Ho Jata Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:42
सवाल ये है कि क्या गुरु के पास बैठे बैठे हमारे भीतर का सत्य प्रकट हो जाता है तो यह डिपेंड करता है कि गुरु के पास बैठने वाला व्यक्ति कौन है अगर उसमे सीखने की ललक है तो बिल्कुल उसका सत्य भीतर का सत्य प्रकट हो जाता है लेकिन उसमें सीखने की चाही ही नहीं है या सामने वाले की बात तो सुन ना उसे पसंद नहीं तो उसको तो बिल्कुल भी बदला नहीं जा सकता क्योंकि वह अंदर से ही नहीं चाहता कि मैं बदलू तो जो जो इंसान खुद ही नहीं चाहता कि वह बदले या सच्चा इंसान बने तो उसको उसको तो गुरु भी नहीं बदल सकता
Savaal ye hai ki kya guru ke paas baithe baithe hamaare bheetar ka saty prakat ho jaata hai to yah dipend karata hai ki guru ke paas baithane vaala vyakti kaun hai agar usame seekhane kee lalak hai to bilkul usaka saty bheetar ka saty prakat ho jaata hai lekin usamen seekhane kee chaahee hee nahin hai ya saamane vaale kee baat to sun na use pasand nahin to usako to bilkul bhee badala nahin ja sakata kyonki vah andar se hee nahin chaahata ki main badaloo to jo jo insaan khud hee nahin chaahata ki vah badale ya sachcha insaan bane to usako usako to guru bhee nahin badal sakata

bolkar speaker
क्या गुरु के पास बैठते बैठते हमारे भीतर का सत्य प्रकट हो जाता है?Kya Guru Ke Paas Baithte Baithte Humare Bheetar Ka Satya Prakat Ho Jata Hai
Rajesh Kumar swami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Student
0:52
हां ग्रुप पास बैठते बैठते मारी दुर्गा शक्ति प्रकट हो जाता है क्योंकि हम गुरु के पास बैठेंगे तो गुरु को हम को पूर्ण कोशिश प्रदान करेगा सही शिक्षा प्रदान करेगा क्या कश्मीर में क्या करना है किससे करना है कि से काम करना है कैसे नहीं करना है आगे जीवन में सफल होना है अच्छे काम करना है माता को तो कहना मान है तो हमारे अंदर वह एक आत्मविश्वास भरोसा तो करेगा और सत्य बात तो करेगा अंदर हमारे इस प्रकार से ग्रुप पास बैठते हुए थे हमारे अंदर इतनी झूठ कभी बोलते नहीं है फिर तेरी यादों के साथ बढ़ाते रहिए आगे बढ़ते रहिए इस प्रकार से
Haan grup paas baithate baithate maaree durga shakti prakat ho jaata hai kyonki ham guru ke paas baithenge to guru ko ham ko poorn koshish pradaan karega sahee shiksha pradaan karega kya kashmeer mein kya karana hai kisase karana hai ki se kaam karana hai kaise nahin karana hai aage jeevan mein saphal hona hai achchhe kaam karana hai maata ko to kahana maan hai to hamaare andar vah ek aatmavishvaas bharosa to karega aur saty baat to karega andar hamaare is prakaar se grup paas baithate hue the hamaare andar itanee jhooth kabhee bolate nahin hai phir teree yaadon ke saath badhaate rahie aage badhate rahie is prakaar se

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard