#undefined

bolkar speaker

ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?

Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:02
आज आपका सवाल है कि ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं हमारे मन में जो मुंबई काम कर रहे होते तो ऐसे बहुत सारे चीज हमारे मन में चलता लेकिन जब हम शांति ओम शांति माहौल होता है तब हमें मतलब और ज्यादा दिमाग में जलोदर किस चीज चलते नोटिस कि आपके पैरेंट्स आपको कुछ बोलते हैं कि मत करो यह चीज गलत है यह नहीं बताते कि चीज क्यों गलत है अगर गलत है अगर हम कर लेंगे तो क्या हो जाएगा या फिर वह अपने हिसाब से भी नहीं बताते तो नहीं जाना तो हमारे घर आओ और ज्यादा उत्सुकता जगदीश है क्या मैं क्यों मना किया जा रहा है जाने के लिए हम युवाओं के टीचर है वह ऐसा ही है मतलब हमें कोई भी चीज मना किया जाता तो हमारे अंदर और ज्यादा उत्सुकता सकती है कि नहीं जानना है जान ना इस वजह से लोग कॉलेज वगैरा जो भी जाते हैं तो ड्रेस या फिर फेसबुक करता है तो यह नए नए सीजन के लिए रहता है इस चीज में फस जाते हैं पीरियंस के लिए जाते हैं कि चलो एक बार देखते हैं दो बार देखते और उसके बाद लत लग जाती है तो ध्यान करते वक्त भी नहीं हमें पता है कि भीम ध्यान करने वाले कोई विचार नहीं लाना है तो हमारा मन पहले से ज्यादा कुछ नहीं लाना है तो और वही चीज ही आता है तो इसे कंट्रोल करना बहुत जरूरी होता जब भी आप ध्यान करता आपके मन में बसा लो के साथ ऐसा होता अगर हम सोचते हैं हम पढ़ने नमाज पढ़ते वक्त पर तभी रुद्र के काम कौन है वह सफर में याद आते हैं तो ऐसा मैं नहीं करना है जब ध्यान करते हैं तो हमें फोकस करना सिर्फ एक चीज में सिर्फ एक चीज में जो भी चीज के बारे में हम सोच रहे हैं आप इमेजिन करने लगे कुछ अच्छी चीज है और किसी एक चीज के बारे में बोलिए ऑन कीजिए क्या पूरे ऐसा जगह पर है जहां पर आप खुद अकेले हैं इमेजिन कीजिए ताकि आपका दिमाग एक चीज में ही स्टिकर है और एक चीज के बारे में आप सोचिए ध्यान करते समय जनरल इंसान को यह सोचना चाहिए कि पूरा हर तरफ से ब्लैंक ब्लैंक जैसे चीजों के बारे में अच्छे से लगा सके आप
Aaj aapaka savaal hai ki dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain hamaare man mein jo mumbee kaam kar rahe hote to aise bahut saare cheej hamaare man mein chalata lekin jab ham shaanti om shaanti maahaul hota hai tab hamen matalab aur jyaada dimaag mein jalodar kis cheej chalate notis ki aapake pairents aapako kuchh bolate hain ki mat karo yah cheej galat hai yah nahin bataate ki cheej kyon galat hai agar galat hai agar ham kar lenge to kya ho jaega ya phir vah apane hisaab se bhee nahin bataate to nahin jaana to hamaare ghar aao aur jyaada utsukata jagadeesh hai kya main kyon mana kiya ja raha hai jaane ke lie ham yuvaon ke teechar hai vah aisa hee hai matalab hamen koee bhee cheej mana kiya jaata to hamaare andar aur jyaada utsukata sakatee hai ki nahin jaanana hai jaan na is vajah se log kolej vagaira jo bhee jaate hain to dres ya phir phesabuk karata hai to yah nae nae seejan ke lie rahata hai is cheej mein phas jaate hain peeriyans ke lie jaate hain ki chalo ek baar dekhate hain do baar dekhate aur usake baad lat lag jaatee hai to dhyaan karate vakt bhee nahin hamen pata hai ki bheem dhyaan karane vaale koee vichaar nahin laana hai to hamaara man pahale se jyaada kuchh nahin laana hai to aur vahee cheej hee aata hai to ise kantrol karana bahut jarooree hota jab bhee aap dhyaan karata aapake man mein basa lo ke saath aisa hota agar ham sochate hain ham padhane namaaj padhate vakt par tabhee rudr ke kaam kaun hai vah saphar mein yaad aate hain to aisa main nahin karana hai jab dhyaan karate hain to hamen phokas karana sirph ek cheej mein sirph ek cheej mein jo bhee cheej ke baare mein ham soch rahe hain aap imejin karane lage kuchh achchhee cheej hai aur kisee ek cheej ke baare mein bolie on keejie kya poore aisa jagah par hai jahaan par aap khud akele hain imejin keejie taaki aapaka dimaag ek cheej mein hee stikar hai aur ek cheej ke baare mein aap sochie dhyaan karate samay janaral insaan ko yah sochana chaahie ki poora har taraph se blaink blaink jaise cheejon ke baare mein achchhe se laga sake aap

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:40
सवाल यह है ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं लिखित का सवाल नहीं जवाब है तो ध्यान करने के बाद क्यों विचार आते हैं तो विचार इसलिए अध्ययन ध्यान करते हैं हमें ध्यान करो पर इसलिए हमें विचार आते हैं मतलब आते विचार हमेशा आते हैं लेकिन जो कि हम ध्यान नहीं देते इसलिए हो सकता है कि नहीं फोन करते हैं ध्यान में रहते हैं तो तरह-तरह के विचार और हम उसे ध्यान में लगता है कि यह विचार आ रहे हैं मेरे दिमाग में बस एक बात है अन्यथा वह विचार ऐसे हमेशा आते रहते हैं और हम ध्यान दें लगाते हैं तो हम एक चीज पर कंसंट्रेट करने की कोशिश करते हैं हम तो कंसंट्रेट करने की कोशिश करते हैं और उस दरमियान यह सारे रिचार्ज रहते हैं वह हमें ध्यान में आता है हमारी मेमोरी में वह चीज हमें लगता है कि यह चीजें हमें नहीं सोचना चाहिए जो हम सोच रहे हैं और यह यह बातें आ रही है हमारे दिमाग में तो बस यही कारण है ऐसा नहीं है कुछ अलग से होता है वह सुबह हमेशा चलता है वह चीजें ध्यान के दौरान हम ध्यान देते हैं उन चीजों पर यह चीजें हमें आ रही है विचार व सूची जो चीजें याद हो जाती है मेरा अनुभव जहां तक है यही है थैंक यू
Savaal yah hai dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain likhit ka savaal nahin javaab hai to dhyaan karane ke baad kyon vichaar aate hain to vichaar isalie adhyayan dhyaan karate hain hamen dhyaan karo par isalie hamen vichaar aate hain matalab aate vichaar hamesha aate hain lekin jo ki ham dhyaan nahin dete isalie ho sakata hai ki nahin phon karate hain dhyaan mein rahate hain to tarah-tarah ke vichaar aur ham use dhyaan mein lagata hai ki yah vichaar aa rahe hain mere dimaag mein bas ek baat hai anyatha vah vichaar aise hamesha aate rahate hain aur ham dhyaan den lagaate hain to ham ek cheej par kansantret karane kee koshish karate hain ham to kansantret karane kee koshish karate hain aur us daramiyaan yah saare richaarj rahate hain vah hamen dhyaan mein aata hai hamaaree memoree mein vah cheej hamen lagata hai ki yah cheejen hamen nahin sochana chaahie jo ham soch rahe hain aur yah yah baaten aa rahee hai hamaare dimaag mein to bas yahee kaaran hai aisa nahin hai kuchh alag se hota hai vah subah hamesha chalata hai vah cheejen dhyaan ke dauraan ham dhyaan dete hain un cheejon par yah cheejen hamen aa rahee hai vichaar va soochee jo cheejen yaad ho jaatee hai mera anubhav jahaan tak hai yahee hai thaink yoo

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:00
सवाल यह है कि ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विद्यार्थियों आते हैं तो हमारा मन बहुत ही चंचल होता है हम कभी भी रुक नहीं सकते हैं हम हैं हम चाहे बैठे भी रहे तो कुछ ना कुछ हमें करना पसंद होता है आप अगर मालूम आप ध्यान कर रहे हो तो हमारा दिमाग काम करता रहता है और हम कुछ ना कुछ सोचने लगते हैं ध्यान के दौरान विचारों को रोकने के दो तरीके हैं एक तो यह कि मन में किसी शब्द को बार-बार दोहराते रहें यह प्रक्रिया अनचाहे विचारों को मन में नहीं आने देगी यद्यपि इसमें से यह कमी है कि इसे देखा भाव नहीं आता कि 1 शब्द आते हैं केवल बाहरी भावों को ही रोका जा सकता है दूसरा तरह का तरीका यह है कि प्राणायाम का अभ्यास किया जाए इसमें लंबा समय लगता है पर प्राणायाम से दो होने के बाद देवी का रूप मन में आते ही मन का उस पर ऊपर रोक रोका जा सकता है इस प्रकार से रोकने को ही योग दर्शन में धारणा कहा है यह प्रश्न उठाया जा सकता प्रणाम से ध्यान का क्या संबंध है इस प्रश्न का उत्तर में कहा जा सकता है कि मन में उठने वाले नए नए विचारों का संबंध स्वास्थ्य होता है जब हम ध्यान करने का प्रयत्न करते हैं तो हम स्वयं देख सकते हैं कि हर श्वास हमारे मन में उनके मन में से असंगत असंगत विचारों को लाती है और ध्यान के दौरान जैसे-जैसे स्वास्थ्य महोदय में हो जाती है वैसे हमारे मन में देखे शाब्दिक रूप से अपेक्षा का भावनात्मक रूप प्रबल होता है अंत में यह भी यह भी है कि ध्यान योग की ऊंची स्थिति है धारणा के बाद की स्थिति है वह चीज नहीं है जिसे आम लोगों पर लोग हम भाषा में ध्यान कहते हैं आज से लोग आम भाषा में ध्यान कहते हैं तो पर ध्यान की तैयारी मात्र है सम्यक रूप से ध्यान करने के लिए प्राणायाम प्रत्याहार धारणा की दृष्टि से गुजरना होता है योग दर्शन का यही मत है
Savaal yah hai ki dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vidyaarthiyon aate hain to hamaara man bahut hee chanchal hota hai ham kabhee bhee ruk nahin sakate hain ham hain ham chaahe baithe bhee rahe to kuchh na kuchh hamen karana pasand hota hai aap agar maaloom aap dhyaan kar rahe ho to hamaara dimaag kaam karata rahata hai aur ham kuchh na kuchh sochane lagate hain dhyaan ke dauraan vichaaron ko rokane ke do tareeke hain ek to yah ki man mein kisee shabd ko baar-baar doharaate rahen yah prakriya anachaahe vichaaron ko man mein nahin aane degee yadyapi isamen se yah kamee hai ki ise dekha bhaav nahin aata ki 1 shabd aate hain keval baaharee bhaavon ko hee roka ja sakata hai doosara tarah ka tareeka yah hai ki praanaayaam ka abhyaas kiya jae isamen lamba samay lagata hai par praanaayaam se do hone ke baad devee ka roop man mein aate hee man ka us par oopar rok roka ja sakata hai is prakaar se rokane ko hee yog darshan mein dhaarana kaha hai yah prashn uthaaya ja sakata pranaam se dhyaan ka kya sambandh hai is prashn ka uttar mein kaha ja sakata hai ki man mein uthane vaale nae nae vichaaron ka sambandh svaasthy hota hai jab ham dhyaan karane ka prayatn karate hain to ham svayan dekh sakate hain ki har shvaas hamaare man mein unake man mein se asangat asangat vichaaron ko laatee hai aur dhyaan ke dauraan jaise-jaise svaasthy mahoday mein ho jaatee hai vaise hamaare man mein dekhe shaabdik roop se apeksha ka bhaavanaatmak roop prabal hota hai ant mein yah bhee yah bhee hai ki dhyaan yog kee oonchee sthiti hai dhaarana ke baad kee sthiti hai vah cheej nahin hai jise aam logon par log ham bhaasha mein dhyaan kahate hain aaj se log aam bhaasha mein dhyaan kahate hain to par dhyaan kee taiyaaree maatr hai samyak roop se dhyaan karane ke lie praanaayaam pratyaahaar dhaarana kee drshti se gujarana hota hai yog darshan ka yahee mat hai

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:09
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं ध्यान करने से पहले हमने कभी इसका अनुभव नहीं किया होता है और हम अपने मन के गुलाम होते हैं और हमारा मन जो है वह हमें इधर-उधर दौड़ आता है हर कोई चीज हमसे करवाता है और हमें नहीं मालूम होता है कि यह कितना हमें घुमा रहा है लेकिन जब हम ध्यान किसी ग्रुप से या किसी भी चीज से सीखते हैं तो ध्यान में हम जब बैठते हैं उसके तंत्र जाने के बाद तुम्हें अजीब सा लगता है पहले क्योंकि हमें आदत हुई होती है मन को एक तरीके की आदत हुई होती है और वह आदत तो इसमें छोड़ना होता है लेकिन ऐसे जल्दबाजी में नहीं छोड़ना होता है उसको छोड़ो छोड़ो आने में जुड़वाने में समय लगता है लेकिन प्रारंभिक रूप से हमारे मन में है हम उनको रोकने का प्रयत्न करते हैं उसको एक जगह पर रखने का प्रयत्न करते हैं तो बहुत सारे विचार जो है वह हमारे मन में आते हैं लेकिन बातचीत हो चुकी होती है कि यह मन का स्वभाव ही है वह आएंगे और इस पर तो काबू कर रहा है यही तो सवाल बन गया है हमारा तुझे इतनी भी विचार आते हैं उनको सिर्फ देखना होता है उनको समझना होता है उन्हें पकड़कर फिर एक जगह पर लाना होता है उसे बार-बार होगा बार-बार हमें यही करना पड़ता हाउ टू फिर धीरे धीरे धीरे धीरे हमें हमारा मन जो एक्स 10.4 स्थिर रखने की आदत पड़ जाओ होनी शुरू हो जाती है और उसके बाद जो हमें हम उसमें और प्रगति की दिशा में आगे चल सकते हैं तो तो एक स्वाभाविक रूप से होता है और कोई आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि मन का स्वभाव है मंकी की आदत है और मन इतना कॉन्प्लिकेटेड भी है कि वह सीधी साधी चीज नहीं है उसको हमें समझ लेना होता है झरने उससे लड़ना नहीं होता उसको समझ लेना होता है उसको रोकना नहीं होता है उसको संभाल लेना होता है उसको समझ जाने के बाद हम उसके पास जा सकते हैं बिना उसको समझ के हम उसके पास नहीं जा सकते ईंधन पद्धति का मार्ग ले तो इसलिए हमें ध्यान करने के वक्त भी और वजन करने के बाद भी और ज्यादा विचार आते हैं क्योंकि हमने प्रयास किया होता है उनको रोकने का अब जितना मन को रोको उतना बहुत ज्यादा आ जाएंगे इसको रोकने का नहीं होता है उसको समझने का बताएं कैसे चलते हैं कैसे आते हैं कैसे जाते हैं मैं समझ लेने की बात होती है तो इस तरीके से इसका एक विश्लेषण किया जाता है मैंने भी प्रयास किया या गर्म अगर आपको यह मेरा जवाब सही लगा तो इसे कृपया नहीं करें धन्यवाद
Dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain dhyaan karane se pahale hamane kabhee isaka anubhav nahin kiya hota hai aur ham apane man ke gulaam hote hain aur hamaara man jo hai vah hamen idhar-udhar daud aata hai har koee cheej hamase karavaata hai aur hamen nahin maaloom hota hai ki yah kitana hamen ghuma raha hai lekin jab ham dhyaan kisee grup se ya kisee bhee cheej se seekhate hain to dhyaan mein ham jab baithate hain usake tantr jaane ke baad tumhen ajeeb sa lagata hai pahale kyonki hamen aadat huee hotee hai man ko ek tareeke kee aadat huee hotee hai aur vah aadat to isamen chhodana hota hai lekin aise jaldabaajee mein nahin chhodana hota hai usako chhodo chhodo aane mein judavaane mein samay lagata hai lekin praarambhik roop se hamaare man mein hai ham unako rokane ka prayatn karate hain usako ek jagah par rakhane ka prayatn karate hain to bahut saare vichaar jo hai vah hamaare man mein aate hain lekin baatacheet ho chukee hotee hai ki yah man ka svabhaav hee hai vah aaenge aur is par to kaaboo kar raha hai yahee to savaal ban gaya hai hamaara tujhe itanee bhee vichaar aate hain unako sirph dekhana hota hai unako samajhana hota hai unhen pakadakar phir ek jagah par laana hota hai use baar-baar hoga baar-baar hamen yahee karana padata hau too phir dheere dheere dheere dheere hamen hamaara man jo eks 10.4 sthir rakhane kee aadat pad jao honee shuroo ho jaatee hai aur usake baad jo hamen ham usamen aur pragati kee disha mein aage chal sakate hain to to ek svaabhaavik roop se hota hai aur koee aashchary kee baat nahin hai kyonki man ka svabhaav hai mankee kee aadat hai aur man itana konpliketed bhee hai ki vah seedhee saadhee cheej nahin hai usako hamen samajh lena hota hai jharane usase ladana nahin hota usako samajh lena hota hai usako rokana nahin hota hai usako sambhaal lena hota hai usako samajh jaane ke baad ham usake paas ja sakate hain bina usako samajh ke ham usake paas nahin ja sakate eendhan paddhati ka maarg le to isalie hamen dhyaan karane ke vakt bhee aur vajan karane ke baad bhee aur jyaada vichaar aate hain kyonki hamane prayaas kiya hota hai unako rokane ka ab jitana man ko roko utana bahut jyaada aa jaenge isako rokane ka nahin hota hai usako samajhane ka bataen kaise chalate hain kaise aate hain kaise jaate hain main samajh lene kee baat hotee hai to is tareeke se isaka ek vishleshan kiya jaata hai mainne bhee prayaas kiya ya garm agar aapako yah mera javaab sahee laga to ise krpaya nahin karen dhanyavaad

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:58
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं दोस्तों ध्यान करने के बाद आपको ज्यादा विचार है इसलिए आते हैं क्योंकि आपका ध्यान भी मन में था ही नहीं और रामदयाल नहीं लगा रहे थे आप विचार दूसरे उत्पन्न कर रहे जब आप ध्यान करने करेंगे तो आपका जो ध्यान है वह किसी एक बिंदु को लेकर के होगा और जब तक आप उस बिंदु को पूरी तरीके से फोकस नहीं करनी थी तब तक आपका ध्यान तो लगा ही नहीं है तो पहले आप उस बिंदु को फोकस कीजिए उसके बाद देखिए कि आपके जो मन के अंदर आपके मन के अंदर कोई विचार नहीं आएगा विचारों को तो आप को दूर रखना ध्यान लगाना है यानी को ले करके आपको कोई विचार नहीं आएगा क्योंकि आप पहले से ही कुछ विचारों को जो है अपने दिमाग के अंदर समेटे रखते हैं और ध्यान होता है दोस्तों को दिल से और दिमाग से नहीं होता और अपने दिल से पुकारे आपका ध्यान लगेगा और ज्यादा विचार आपके नहीं आएंगे क्योंकि जो क्रिया है इसके अंदर आपको माइंड काम नहीं करता है आपका हाथ काम करता है
Dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain doston dhyaan karane ke baad aapako jyaada vichaar hai isalie aate hain kyonki aapaka dhyaan bhee man mein tha hee nahin aur raamadayaal nahin laga rahe the aap vichaar doosare utpann kar rahe jab aap dhyaan karane karenge to aapaka jo dhyaan hai vah kisee ek bindu ko lekar ke hoga aur jab tak aap us bindu ko pooree tareeke se phokas nahin karanee thee tab tak aapaka dhyaan to laga hee nahin hai to pahale aap us bindu ko phokas keejie usake baad dekhie ki aapake jo man ke andar aapake man ke andar koee vichaar nahin aaega vichaaron ko to aap ko door rakhana dhyaan lagaana hai yaanee ko le karake aapako koee vichaar nahin aaega kyonki aap pahale se hee kuchh vichaaron ko jo hai apane dimaag ke andar samete rakhate hain aur dhyaan hota hai doston ko dil se aur dimaag se nahin hota aur apane dil se pukaare aapaka dhyaan lagega aur jyaada vichaar aapake nahin aaenge kyonki jo kriya hai isake andar aapako maind kaam nahin karata hai aapaka haath kaam karata hai

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
2:55
आपका प्रश्न है ध्यान करने के बाद हमें ज्यादा विचार क्यों आते हैं अगर आप शुरू शुरू में यह करेंगे तो जरूर होगा यह क्योंकि अगर आप बैलेंस हो जाएंगे ना तो आपको विचार नहीं आने वाले थे क्योंकि यह मेरा खुद का एक्सपीरियंस है मैं आप लोगों को यह भी बताना चाहती हूं कि अगर आप यह ध्यान करना शुरू करेंगे तो हो सकता है विचार आपको बहुत ज्यादा गिरे फिर आप अपने ध्यान में आएंगे फिर विचार गिरे तो इससे क्या होता है कि हमारा जो सबकॉन्शियस माइंड होता है न जाने कितने साल से साल से मतलब जैसे बचपन से बचपन में आपने एक 11 साल की इस सारी चीजें वैसे आप 5 साल की एज में सब चीज एग्जाम करना सूख जाते हैं तो सब कौन से महीने में बचपन से ही ओपन रहता है रिकॉर्डिंग चलती रहती अपने अच्छा देखा अच्छा बोला अच्छा सुना तो रिकॉर्ड हुआ बुरा देखा बुरा बोला गुलशन गंदा देखा गंदा-गंदा सुना तू अभी रिकॉर्ड हो गई है कि आपको यह सारी विचार घेर कर रखते हैं क्योंकि आपने पहले रिकॉर्ड करके रख लिया और रिकॉर्ड करके रिकॉर्डिंग रिकॉर्डिंग मोड हमेशा उन्हीं रहेगी अब वह चीजें आपको इस बैक करेंगे ध्यान करेंगे तो ध्यान आपके अंदर की गंदगी को बाहर निकालता है ऐसा नहीं कि आपके अंदर गुस्सा आ रहा तो आप बाहर जाकर गुस्सा करें नहीं वह आपकी इस चीज को दिखा रहा है कि आपके अंदर गंदगी है इनको हील करें क्लीन करें वह आपको बताता है कि ध्यान लगाना इतना आसान नहीं होता क्योंकि विचार हमें इसलिए घर के रखते हैं क्योंकि हम उस चीज को पहले से रिकॉर्ड करके रखें और जब ध्यान में हम जाते हैं तो ध्यान में हमें डिवाइन एनर्जी को अपने अंदर पाएंगे तो हम तुरंत नहीं पाते क्यों नहीं पाते इसलिए नहीं पाते क्योंकि हमारे अंदर इतनी विचार है इतनी गंदगी भरी हुई है तो जब मेडिटेशन आप करेंगे तो आपको विचार करेंगे अब मेडिटेशन करते हो जाएंगे फिर भी वह जो मेडिटेशन है वह डिवाइन एनर्जी आपको बता रही क्या आपके अंदर यह चीजें भरी है जो आपको दिख रही है इसे क्लीन करो ठीक है आप सोचते हैं कि मैंने ऐसा देखा तो था लेकिन ऐसे कैसे आएगी मुझे अभी याद आ रहा है नहीं यह सारी चीजें आप पहले रिकॉर्ड करके रखी है तभी याद आ रहा है तभी विचार में आ रहे हैं तो आप जब तक क्लीन नहीं होंगे ना तब तक मेडिटेशन में आप उस स्टेज तक नहीं पहुंचेंगे जहां डिवाइन एनर्जी आपके अंदर अंदर होती है ठीक है उस स्टेज में आप जब पहुंचेंगे तब आपको समझ में आएगा कि ध्यान के बाद विचार आते नहीं है बल्कि जब हमको प्योर होना रहता है तू ध्यान आपको बताता है कि आपके अंदर इसे हटाइए हिल करिए थैंक यू सो मच
Aapaka prashn hai dhyaan karane ke baad hamen jyaada vichaar kyon aate hain agar aap shuroo shuroo mein yah karenge to jaroor hoga yah kyonki agar aap bailens ho jaenge na to aapako vichaar nahin aane vaale the kyonki yah mera khud ka eksapeeriyans hai main aap logon ko yah bhee bataana chaahatee hoon ki agar aap yah dhyaan karana shuroo karenge to ho sakata hai vichaar aapako bahut jyaada gire phir aap apane dhyaan mein aaenge phir vichaar gire to isase kya hota hai ki hamaara jo sabakonshiyas maind hota hai na jaane kitane saal se saal se matalab jaise bachapan se bachapan mein aapane ek 11 saal kee is saaree cheejen vaise aap 5 saal kee ej mein sab cheej egjaam karana sookh jaate hain to sab kaun se maheene mein bachapan se hee opan rahata hai rikording chalatee rahatee apane achchha dekha achchha bola achchha suna to rikord hua bura dekha bura bola gulashan ganda dekha ganda-ganda suna too abhee rikord ho gaee hai ki aapako yah saaree vichaar gher kar rakhate hain kyonki aapane pahale rikord karake rakh liya aur rikord karake rikording rikording mod hamesha unheen rahegee ab vah cheejen aapako is baik karenge dhyaan karenge to dhyaan aapake andar kee gandagee ko baahar nikaalata hai aisa nahin ki aapake andar gussa aa raha to aap baahar jaakar gussa karen nahin vah aapakee is cheej ko dikha raha hai ki aapake andar gandagee hai inako heel karen kleen karen vah aapako bataata hai ki dhyaan lagaana itana aasaan nahin hota kyonki vichaar hamen isalie ghar ke rakhate hain kyonki ham us cheej ko pahale se rikord karake rakhen aur jab dhyaan mein ham jaate hain to dhyaan mein hamen divain enarjee ko apane andar paenge to ham turant nahin paate kyon nahin paate isalie nahin paate kyonki hamaare andar itanee vichaar hai itanee gandagee bharee huee hai to jab mediteshan aap karenge to aapako vichaar karenge ab mediteshan karate ho jaenge phir bhee vah jo mediteshan hai vah divain enarjee aapako bata rahee kya aapake andar yah cheejen bharee hai jo aapako dikh rahee hai ise kleen karo theek hai aap sochate hain ki mainne aisa dekha to tha lekin aise kaise aaegee mujhe abhee yaad aa raha hai nahin yah saaree cheejen aap pahale rikord karake rakhee hai tabhee yaad aa raha hai tabhee vichaar mein aa rahe hain to aap jab tak kleen nahin honge na tab tak mediteshan mein aap us stej tak nahin pahunchenge jahaan divain enarjee aapake andar andar hotee hai theek hai us stej mein aap jab pahunchenge tab aapako samajh mein aaega ki dhyaan ke baad vichaar aate nahin hai balki jab hamako pyor hona rahata hai too dhyaan aapako bataata hai ki aapake andar ise hataie hil karie thaink yoo so mach

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
2:30
उस तो आप का सवाल है ध्यान करने के बाद हमारे और जायदा विचार क्यों आते हैं मन के अंदर तो ध्यान करने के बाद मन के अधिक विचार अधिक आते क्योंकि सबसे पहले तो मैं बताना चाहूंगा अपने विचार को समझना होगा आपके मन में किस तरीके बिताते पॉजिटिव नेगेटिव विचार सुबह वाले विचार क्रोध वाले विचार एक कार वाले विचार अलग-अलग तरह के विचारों को रोकने के संतुलन अलग अलग तरीका जिससे कि आप नेगेटिव विचार आते हैं इसका मतलब आप अपने आसपास के घर परिवार में नेगेटिव बातें सुनते और नेगेटिव हॉल में देते हैं और नेगेटिव मॉल में रहेंगे तो नहीं कि टीवी 4 आएंगे अगर आप पॉजिटिव माहौल में कहीं जाएंगे तो वहां आपके पॉजिटिव विचार आएंगे इसलिए आप अपने घर के माहौल बनना होगा और आपको कहीं जाकर रहना होगा अगर घर के सभी लोगों को समझना है तो बहुत मुश्किल है अगर आप ऐंकारी विचार आते हैं तो आप महापुरुषों की जीवनी पढ़नी चाहिए योग्य मेडिटेशन करना चाहिए सभी लोगों के मन में अलग-अलग तरह के विचार आते हैं जो व्यक्ति माहौल में रहता है उसी तरह के विचार आते हैं उदाहरण के तौर पर आप 1 हफ्ते के लिए अपने मोबाइल टीवी या कंप्यूटर आदि से दूरी बना ले तो देखना अपने मन में आने वाली विचार की संख्या आधी से भी कम हो जाएगी और मन में आने वाली विचारों को कम करने के लिए बहुत से सारे तरीके होते हैं मेडिसन या पॉजिटिव विचार का व्यास वैरागी होता है एक बात हमेशा याद रखें जो व्यक्ति जितना अधिक अपोजिट होता है उसके मन उतना ही कम विचार आते हैं और अपने मन का कंट्रोल के लिए आपको छोटे-छोटे टिप्स है जिससे रोजाना छोटे-छोटे लेक्सीने धारण करने से पूरा होता है जिससे 9:00 बजे सुबह 9:00 बजे से 12:00 बजे तक मोबाइल हाथ में नहीं लूंगा यह देसी धारण की जी आज मैं सुबह 5:00 बजे उठूंगा आज दिन में नहीं सोऊंगा चाहे कुछ भी हो जाए आज दिन में यूट्यूब नहीं चलाऊंगा दूसरे बाकी ऐप चला सकता हूं इसे लक्ष्य अपने बनाने होंगे अपना आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए अपना कार्य समय की आदत डालें रोजाना सोने से पहले उठने के बाद पॉजिटिव सोते और दिन में कम से कम देती 11 वीकली की मदद करें अपनी परवाह करें और साफ-सुथरे अच्छे कपड़े पहने रोजाना मन को शांत रखे अपने लक्ष्य के बारे में सोचें और अपनी दिनचर्या के बारे में सोचते हो योग मेडिसन जरूर करें खुद को बिजी रखें ध्यान दें
Us to aap ka savaal hai dhyaan karane ke baad hamaare aur jaayada vichaar kyon aate hain man ke andar to dhyaan karane ke baad man ke adhik vichaar adhik aate kyonki sabase pahale to main bataana chaahoonga apane vichaar ko samajhana hoga aapake man mein kis tareeke bitaate pojitiv negetiv vichaar subah vaale vichaar krodh vaale vichaar ek kaar vaale vichaar alag-alag tarah ke vichaaron ko rokane ke santulan alag alag tareeka jisase ki aap negetiv vichaar aate hain isaka matalab aap apane aasapaas ke ghar parivaar mein negetiv baaten sunate aur negetiv hol mein dete hain aur negetiv mol mein rahenge to nahin ki teevee 4 aaenge agar aap pojitiv maahaul mein kaheen jaenge to vahaan aapake pojitiv vichaar aaenge isalie aap apane ghar ke maahaul banana hoga aur aapako kaheen jaakar rahana hoga agar ghar ke sabhee logon ko samajhana hai to bahut mushkil hai agar aap ainkaaree vichaar aate hain to aap mahaapurushon kee jeevanee padhanee chaahie yogy mediteshan karana chaahie sabhee logon ke man mein alag-alag tarah ke vichaar aate hain jo vyakti maahaul mein rahata hai usee tarah ke vichaar aate hain udaaharan ke taur par aap 1 haphte ke lie apane mobail teevee ya kampyootar aadi se dooree bana le to dekhana apane man mein aane vaalee vichaar kee sankhya aadhee se bhee kam ho jaegee aur man mein aane vaalee vichaaron ko kam karane ke lie bahut se saare tareeke hote hain medisan ya pojitiv vichaar ka vyaas vairaagee hota hai ek baat hamesha yaad rakhen jo vyakti jitana adhik apojit hota hai usake man utana hee kam vichaar aate hain aur apane man ka kantrol ke lie aapako chhote-chhote tips hai jisase rojaana chhote-chhote lekseene dhaaran karane se poora hota hai jisase 9:00 baje subah 9:00 baje se 12:00 baje tak mobail haath mein nahin loonga yah desee dhaaran kee jee aaj main subah 5:00 baje uthoonga aaj din mein nahin sooonga chaahe kuchh bhee ho jae aaj din mein yootyoob nahin chalaoonga doosare baakee aip chala sakata hoon ise lakshy apane banaane honge apana aatmavishvaas badhaane ke lie apana kaary samay kee aadat daalen rojaana sone se pahale uthane ke baad pojitiv sote aur din mein kam se kam detee 11 veekalee kee madad karen apanee paravaah karen aur saaph-suthare achchhe kapade pahane rojaana man ko shaant rakhe apane lakshy ke baare mein sochen aur apanee dinacharya ke baare mein sochate ho yog medisan jaroor karen khud ko bijee rakhen dhyaan den

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:16
प्रश्न है ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं तो देखिए ध्यान जो होता है हमारे शरीर को जो मेडिटेशन होता है उस शरीर को बहुत शांति प्रदान करता है इसके साथ-साथ हमारी जो एक्ट्रेस है जो सोचने की क्षमता होती है बढ़ जाती है बताओ हमारा माइंड जो होता है अच्छी तरीके से काम करने लगता है इसीलिए ध्यान करना और योगा करना सबसे ज्यादा जरूरी है हर एक इंसान के लिए क्यों क्योंकि जो योगा होता है क्या दें कि हमारी शरीर को दुरुस्त करता है जो भी शरीर में कुछ ऐसी अंग होते हैं जो सुचारू रूप से नहीं काम करते हैं लेकिन हम योगा करने के बाद हमारी पूरी तरह से काम करने लगते हैं और ध्यान तब लगाया जाता है जब हमें क्या होते हमारा मन बहुत भटकता है हमें बहुत सारे ऐसे कुछ फालतू की ख्यालात आते हैं तो हम मन को एकाग्र करने के लिए ध्यान मेडिटेशन करते हैं वही मेडिटेशन से क्या होता है हमारी पावर मिलती हमें एक्स्ट्राऑर्डिनरी पावर मिलती है जिसे कहते हैं मैंने बहुत अच्छे अच्छे विचार आते हैं हम बहुत सोच सोच करते हमारी माइंड बहुत अच्छा काम करता है इसी वजह से क्या होता है कि विचार आते
Prashn hai dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain to dekhie dhyaan jo hota hai hamaare shareer ko jo mediteshan hota hai us shareer ko bahut shaanti pradaan karata hai isake saath-saath hamaaree jo ektres hai jo sochane kee kshamata hotee hai badh jaatee hai batao hamaara maind jo hota hai achchhee tareeke se kaam karane lagata hai iseelie dhyaan karana aur yoga karana sabase jyaada jarooree hai har ek insaan ke lie kyon kyonki jo yoga hota hai kya den ki hamaaree shareer ko durust karata hai jo bhee shareer mein kuchh aisee ang hote hain jo suchaaroo roop se nahin kaam karate hain lekin ham yoga karane ke baad hamaaree pooree tarah se kaam karane lagate hain aur dhyaan tab lagaaya jaata hai jab hamen kya hote hamaara man bahut bhatakata hai hamen bahut saare aise kuchh phaalatoo kee khyaalaat aate hain to ham man ko ekaagr karane ke lie dhyaan mediteshan karate hain vahee mediteshan se kya hota hai hamaaree paavar milatee hamen ekstraordinaree paavar milatee hai jise kahate hain mainne bahut achchhe achchhe vichaar aate hain ham bahut soch soch karate hamaaree maind bahut achchha kaam karata hai isee vajah se kya hota hai ki vichaar aate

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:59
कब्रिस्तान ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं तो देखिए छोटी सी कहानी है यहां पर की एक बार एक डॉक्टर ने मरीज को दवाई दी और कहा कि जिस समय यह दवाई खाना उस समय कभी भी बंदर के बारे में मत सोचना और आप यकीन नहीं मानेंगे कि वह पर उस व्यक्ति के जीवन में आए ही नहीं कि जिस समय वह दवाई खाने जाए वह बंदर के बारे में न सोचे उसको सबसे ज्यादा ख्याल उस समय ही बंदर का पूरे दिन में नहीं आता था लेकिन जब भी वह दवाई खाने आता था तो उसको बंदर का ख्याल आ जाता था तो वही चीज है कि अगर आप ध्यान करने जाते हैं तो आपके मन में विचार लो कि व्यक्ति होने लगती है इतने सारे विचार आने लगते हैं जितने तो आप दिनभर में सोचते भी नहीं है तो उन्हीं पर कितना से काबू पाया जा सकता है कि तरह से अपने मन को कंट्रोल किया जा सकता है वहीं ध्यान है वही मेडिटेशन है वही चीज आपको सीखनी चाहिए मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Kabristaan dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain to dekhie chhotee see kahaanee hai yahaan par kee ek baar ek doktar ne mareej ko davaee dee aur kaha ki jis samay yah davaee khaana us samay kabhee bhee bandar ke baare mein mat sochana aur aap yakeen nahin maanenge ki vah par us vyakti ke jeevan mein aae hee nahin ki jis samay vah davaee khaane jae vah bandar ke baare mein na soche usako sabase jyaada khyaal us samay hee bandar ka poore din mein nahin aata tha lekin jab bhee vah davaee khaane aata tha to usako bandar ka khyaal aa jaata tha to vahee cheej hai ki agar aap dhyaan karane jaate hain to aapake man mein vichaar lo ki vyakti hone lagatee hai itane saare vichaar aane lagate hain jitane to aap dinabhar mein sochate bhee nahin hai to unheen par kitana se kaaboo paaya ja sakata hai ki tarah se apane man ko kantrol kiya ja sakata hai vaheen dhyaan hai vahee mediteshan hai vahee cheej aapako seekhanee chaahie main shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
4:34
आपका सवाल है ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं लेकिन अगर आप ध्यान करे उस टाइम आपके मन में विचार है तो आप घबराएं नहीं डरना नहीं है मन अगर आप ज्यादा विचार तो आपके विचार को देखने ध्यान के मतलब क्या है आप आप ध्यान करते हो ध्यान का मतलब तो यही है मन में जो भी थॉट्स अरे उन्हें देखना है ठीक है उन्हें यह नहीं रुकना नहीं है टिकट रोको ना नहीं है ध्यान मतलब क्या होता मन को रोकना नहीं होता ठीक है मन में जो विचार चाहिए उसे आप देखो स्वतंत्र रूप से देखो यार बेड वाले सालों में आप बैठ जाइए ठीक है आपके मन में जो भी विचार है देखो यार कैसे-कैसे विचार है आपके मन में थॉट देखो अपने सामने चलती हुई देख उसके हॉटस्पॉट होंगी आप सोच रहे हो तो और थॉट्स आएंगी आएंगी वैसा नहीं करना यार ध्यान में क्या होता है जो भी थोड़ा सारे आने दो इतना थोड़ा सा रहने दो बस जितना थॉट्स आप देखोगे ना वह शांत होते जाएगा शाम तक साथ उनकी एक एक टाइम ऐसा है जहां पर आप का मन बिल्कुल शांत एकाग्र चित्त हो जाएगी आपको थोड़ा रुकना नहीं है आपके मन में जो भी विचार चल रहा ध्यान करते हैं करने के तरीके रोकने का प्रयास बिल्कुल भी नहीं करना जो भी थर्ड चल रहे वह चलने दो आपको जो ध्यान कर रहे हो अलग अलग ध्यान होता यह स्टेशन का रेलवे स्टेशन में बहुत सारे अलग-अलग मेडिसिन होते तो कोई भी में टर्न ऑफ करो यार लेकिन मन को ना मन को सिर्फ एक आकर्षित करना होता है ठीक है फ्रेंड की ध्यान लगाना हो तो एक चीज में ना कि मन के थॉट को रोकना मंकी थॉट्स ओं ग्राफ रोकने की कोशिश करोगे तो वह और आपके मन में और भी थॉट्स आने लगी आपको अगर मन की थॉट्स को रोकना है तो आपको मैं नहीं करूंगा आप लोगों से मैं तो यही बोलूंगा आप देखो अपने मन में जो कुछ और सारे देखो उसमें क्या था और सारे ठीक है उसके बारे में सोचो मत सोचोगे तो और थॉट्स आएंगे तो यह होता है ध्यान करके किस में ध्यान है कि आप सड़क पर जा रहे हो ठीक है तू अगल-बगल बहुत सारे लोग बहुत सारे लोग तारे आगरा बगैरा देख कर भूल जाओगी तो अब गाड़ी चलाने पाओगे फिर से अगल बगल जो भी आने दो आने दो टिकट वैसे आप ध्यान केंद्रित का ध्यान करो तो आपके मन में जो भी थोड़ा सा दे उन्हें रोकने का प्रयास बिल्कुल नहीं करना है ध्यान एक जगह पर क्यों नहीं करते रहना ठीक है जो भी था और सारे देख उसे हटा दो श्रीमती होता है आपकी धीरे-धीरे प्रेक्टिस करोगे तो आसमान भी होगा एक आकर्षित होगा अगर आप ज्यादा प्रॉब्लम होता है ना तो आप ही कर सकते हो आप अपने मन में दोहरा सकते हो मेरा मन बिल्कुल शांत है किराए का घर चित्र या बोलते तो अपने मन से दोस्ती कर लो आप अपने मन को दोस्त बना लो अपना अपने मन को यह बोलो कि हे मन हे मेरे बुद्धू अब बिल्कुल शांत हो जा फिर हो जाएगा ग्रसित हो जा मैं भी ध्यान करने वाला हूं जो भी काम करता हूं आप मेरे साथ यहां दिया करो कि मन से बातें करो यार मन आकर आप आप उनकी आत्मा की शक्ति हम सभी कौन है रात में रात में भी शक्ति कौन है आत्मा की शक्ति मां ने आज मन मन को हम चलाते हैं उनकी आत्मा मन को चलाती हम मन को चलाते हो ना कि मन हमें चलाता है तू मन मन का मालिक कौन है हम सभी मन के मालिक ना कि मन हमारा मालिक तो मन को हम चलाने वाले तो मन को हम कंट्रोल करते तो मन को यह बोलो यार मन बिल्कुल शांत हो जा मन से दोस्ती करो यार मुझसे बातें करो मन यह चीज मत करो यह चीज मत देखो बुरा मत सोचो कुछ बात तो करो बातें करोगे मुझसे दोस्ती करोगे तो आपके साथ हैं और जो भी बोलोगे वैसा ही करेगा ठीक है ध्यान करने से पहले आप टीवी वगैरह मौतें हुई मोबाइल ऐसा चाहिए सब दूर होकर जैसा आप देखोगे जैसा आप सोने जैसा आप पढ़ोगे मां का मन वैसे बन जाएगा तो वैसे आपके मन में थॉट्स आने लगे जरा बचके
Aapaka savaal hai dhyaan karane ke baad hamen aur jyaada vichaar kyon aate hain lekin agar aap dhyaan kare us taim aapake man mein vichaar hai to aap ghabaraen nahin darana nahin hai man agar aap jyaada vichaar to aapake vichaar ko dekhane dhyaan ke matalab kya hai aap aap dhyaan karate ho dhyaan ka matalab to yahee hai man mein jo bhee thots are unhen dekhana hai theek hai unhen yah nahin rukana nahin hai tikat roko na nahin hai dhyaan matalab kya hota man ko rokana nahin hota theek hai man mein jo vichaar chaahie use aap dekho svatantr roop se dekho yaar bed vaale saalon mein aap baith jaie theek hai aapake man mein jo bhee vichaar hai dekho yaar kaise-kaise vichaar hai aapake man mein thot dekho apane saamane chalatee huee dekh usake hotaspot hongee aap soch rahe ho to aur thots aaengee aaengee vaisa nahin karana yaar dhyaan mein kya hota hai jo bhee thoda saare aane do itana thoda sa rahane do bas jitana thots aap dekhoge na vah shaant hote jaega shaam tak saath unakee ek ek taim aisa hai jahaan par aap ka man bilkul shaant ekaagr chitt ho jaegee aapako thoda rukana nahin hai aapake man mein jo bhee vichaar chal raha dhyaan karate hain karane ke tareeke rokane ka prayaas bilkul bhee nahin karana jo bhee thard chal rahe vah chalane do aapako jo dhyaan kar rahe ho alag alag dhyaan hota yah steshan ka relave steshan mein bahut saare alag-alag medisin hote to koee bhee mein tarn oph karo yaar lekin man ko na man ko sirph ek aakarshit karana hota hai theek hai phrend kee dhyaan lagaana ho to ek cheej mein na ki man ke thot ko rokana mankee thots on graaph rokane kee koshish karoge to vah aur aapake man mein aur bhee thots aane lagee aapako agar man kee thots ko rokana hai to aapako main nahin karoonga aap logon se main to yahee boloonga aap dekho apane man mein jo kuchh aur saare dekho usamen kya tha aur saare theek hai usake baare mein socho mat sochoge to aur thots aaenge to yah hota hai dhyaan karake kis mein dhyaan hai ki aap sadak par ja rahe ho theek hai too agal-bagal bahut saare log bahut saare log taare aagara bagaira dekh kar bhool jaogee to ab gaadee chalaane paoge phir se agal bagal jo bhee aane do aane do tikat vaise aap dhyaan kendrit ka dhyaan karo to aapake man mein jo bhee thoda sa de unhen rokane ka prayaas bilkul nahin karana hai dhyaan ek jagah par kyon nahin karate rahana theek hai jo bhee tha aur saare dekh use hata do shreematee hota hai aapakee dheere-dheere prektis karoge to aasamaan bhee hoga ek aakarshit hoga agar aap jyaada problam hota hai na to aap hee kar sakate ho aap apane man mein dohara sakate ho mera man bilkul shaant hai kirae ka ghar chitr ya bolate to apane man se dostee kar lo aap apane man ko dost bana lo apana apane man ko yah bolo ki he man he mere buddhoo ab bilkul shaant ho ja phir ho jaega grasit ho ja main bhee dhyaan karane vaala hoon jo bhee kaam karata hoon aap mere saath yahaan diya karo ki man se baaten karo yaar man aakar aap aap unakee aatma kee shakti ham sabhee kaun hai raat mein raat mein bhee shakti kaun hai aatma kee shakti maan ne aaj man man ko ham chalaate hain unakee aatma man ko chalaatee ham man ko chalaate ho na ki man hamen chalaata hai too man man ka maalik kaun hai ham sabhee man ke maalik na ki man hamaara maalik to man ko ham chalaane vaale to man ko ham kantrol karate to man ko yah bolo yaar man bilkul shaant ho ja man se dostee karo yaar mujhase baaten karo man yah cheej mat karo yah cheej mat dekho bura mat socho kuchh baat to karo baaten karoge mujhase dostee karoge to aapake saath hain aur jo bhee bologe vaisa hee karega theek hai dhyaan karane se pahale aap teevee vagairah mauten huee mobail aisa chaahie sab door hokar jaisa aap dekhoge jaisa aap sone jaisa aap padhoge maan ka man vaise ban jaega to vaise aapake man mein thots aane lage jara bachake

bolkar speaker
ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं?Dhyaan Karne Ke Baad Hume Aur Jyada Vichar Kyun Ate Hain
Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
0:52

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ध्यान करने के बाद हमें और ज्यादा विचार क्यों आते हैं ध्यान करने के बाद ज्यादा विचार क्यों आते हैं
URL copied to clipboard