#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:39
क्या लोगों को अत्याधुनिक बनने का दिखावा करना उनके कमजोर आदमी पास तो सूचक है कुछ तो लोगों के अंदर भावनाएं जो है इस तरह की होती हैं कि वह अपने आप को किसी से भी कमजोर नहीं समझना चाहते या अपनी हैसियत को कमजोर नहीं दिखाना चाहते जबकि वास्तविकता यह है कि सच्चाई को कभी आंच नहीं आती आप सच्चे सच्चे दिल से आप बिल्कुल आपको प्रस्तुत कीजिए आप की विचारधारा ऐसा ही हो आप बिल्कुल स्पष्ट वादी हो कर दीजिए कोई जरूरी थोड़ी पंडित जवाहरलाल नेहरू और महात्मा गांधी दोनों में अंतर पंडित जवाहरलाल नेहरु के महात्मा गांधी ने विचारों में कम थे किसी पद पर कम थे उनके कोई संगठन में कोई कमी थी चाहे तो वह प्रधानमंत्री बन सकते थे लेकिन उनके विचारों के अंदर से मजबूत ही थी विचारों के अंदर जो सशक्त का थी वही सच्चाई के अंदर होती है अगर आपके अंदर सच्चाई है और आप किसी दूसरे से उद्वेलित होकर दोस्त अपने आप में दिखावा नहीं करते तो जितना है कि आप की श्रेष्ठता रहेगी और वह सरदार की दिखावा जिसके लिए आप दिखावा करें उसको जो है परास्त कर सकती है कितनी सच्चाई में ताकत होती बस आपका आदमी बल मजबूत है मुझे जिस दिन हो जाएगा किसी से अपने आप समझ लीजिए कि आप सबसे बड़ी के सरिता सच्चाई ईमानदारी और अपने दौड़ता है इन सब चीजों के साथ जब किसी अपने आप को प्रस्तुत करेंगे तो आपको दिखावा करने की जरूरत नहीं आप बिल्कुल सारे सूरज की तरह चमके
Kya logon ko atyaadhunik banane ka dikhaava karana unake kamajor aadamee paas to soochak hai kuchh to logon ke andar bhaavanaen jo hai is tarah kee hotee hain ki vah apane aap ko kisee se bhee kamajor nahin samajhana chaahate ya apanee haisiyat ko kamajor nahin dikhaana chaahate jabaki vaastavikata yah hai ki sachchaee ko kabhee aanch nahin aatee aap sachche sachche dil se aap bilkul aapako prastut keejie aap kee vichaaradhaara aisa hee ho aap bilkul spasht vaadee ho kar deejie koee jarooree thodee pandit javaaharalaal neharoo aur mahaatma gaandhee donon mein antar pandit javaaharalaal neharu ke mahaatma gaandhee ne vichaaron mein kam the kisee pad par kam the unake koee sangathan mein koee kamee thee chaahe to vah pradhaanamantree ban sakate the lekin unake vichaaron ke andar se majaboot hee thee vichaaron ke andar jo sashakt ka thee vahee sachchaee ke andar hotee hai agar aapake andar sachchaee hai aur aap kisee doosare se udvelit hokar dost apane aap mein dikhaava nahin karate to jitana hai ki aap kee shreshthata rahegee aur vah saradaar kee dikhaava jisake lie aap dikhaava karen usako jo hai paraast kar sakatee hai kitanee sachchaee mein taakat hotee bas aapaka aadamee bal majaboot hai mujhe jis din ho jaega kisee se apane aap samajh leejie ki aap sabase badee ke sarita sachchaee eemaanadaaree aur apane daudata hai in sab cheejon ke saath jab kisee apane aap ko prastut karenge to aapako dikhaava karane kee jaroorat nahin aap bilkul saare sooraj kee tarah chamake

और जवाब सुनें

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
2:55
आपको प्रेस नहीं किया लोगों को अत्याधुनिक बनने का दिखावा उनकी कमजोर आत्मविश्वास को का सूचक है जी हां मैं सच बता रही हूं मैंने अपनी लाइफ में एग्जांपल पेश किया कि जितने भी अगर प्लेटफॉर्म है प्लेटफार्म मतलब ट्रेन अगर आप यात्रा कर रहे हैं तो ट्रेन के पास डेट फॉर्म भरते हैं अब प्लेन में भी जा रहे हैं तब भी देखना कि सभी लोग बैठे रहते हैं रिपोर्ट में और बसों में भी जा रहे तो बस स्टैंड देखना और लिखना सबसे पहले सभी लोग अपने फोन बिजी रहेंगे फोन निकालेंगे अपनी फोन में बिजी हो जाएंगे दूसरा अब यह देखना कि अगर वह एप्पल का सेट रखा है तो एप्पल किस सेट को वह निकाल कर वह एप्पल का सेट सब को दिखाता है कैसे दिखाता है वह सैंपल सबको नजर आ जाना चाहिए इस तरीके से अपने सेलफोन को पकड़ता है और उसे थोड़ा ऊपर करके रखता है ताकि सबको नजर आएगी मेरे पास एप्पल का सेट है लोग सिर्फ और सिर्फ मटेरियल स्थित चीजों को दिखाने में आगे बढ़ रहे हैं सबको देखना तो सब फोन में बिजी है कोई नहीं दे रहा है कि अगर यात्रा के लिए निकले हैं तू वह बाहर की दुनिया को देखें क्या हो रहा है उस इसको देखें अब शॉप पर ही कैसे-कैसे क्या-क्या हो रहा है वह बाहर की दुनिया को देखना ही नहीं चाहते सिर्फ और सिर्फ दिखावटी और ऐसे लोगों के अंदर आत्मविश्वास की कमी बहुत होती अगर उन्हें कह दिया जाए ना इस टॉपिक पर सबके सामने आप बातें करें ठीक है मतलब सबके सामने इस टॉपिक को इस तरीके से बताएं कि लोगों लोग जागरूक हो वहां पर फूल जाएंगे उनके ठीक है वह 24 घंटे चल फोन में बात जरूर कर लेंगे किसी एक पर्सन से ठीक है लेकिन अगर उन्हें कहेंगे 5 मिनट पब्लिक के सामने खुलकर इस टॉपिक पर बात करें तो कभी नहीं कर पाएंगे और ऐसे लोगों के अंदर आत्मविश्वास की बहुत कमी रहती है और इसलिए इंडिया को और इंडिया के सभी को जागरूक होना होगा कि मैटेरियलिस्टिक लाइफ सिर्फ और सिर्फ आपको कंफर्टेबल लगे देने के लिए है लेकिन जिंदगी जीना है आपको तो मैटेरियलिस्टिक लाइफ से आपको बाहर निकल कर ही आप जिंदगी को जी सकते हैं यह नहीं कह रही थी कि मैटेरियलिस्टिक लाइफ को छोड़ना नहीं मैटेरियलिस्टिक लाइफ को भी रखना है अपने आप को भी रखना कि आप कौन है यार ना बॉडी हैं ना आप किसी धर्म से बिलॉन्ग करते हैं ना ही बिलॉन्ग आप सोचेंगे धर्म की बात की तो धर्म भी नहीं है आपका आप कौन हैं आप जी क्यों रहे हैं इस चीज को समझना जरूरी है अगर आप यह चीज नहीं देखेंगे तो उसी में फंसे रहे पूरी दुनिया फंसी है एक बार आप निकल कर तो देखिए तो आत्मविश्वास की कमी ऐसे लोगों के पास बहुत ज्यादा होती है जो मैटेरियल लिस्ट इस लाइफ में ज्यादा फोकस होते हैं बाकी चीजों में नहीं थैंक यू सो मच
Aapako pres nahin kiya logon ko atyaadhunik banane ka dikhaava unakee kamajor aatmavishvaas ko ka soochak hai jee haan main sach bata rahee hoon mainne apanee laiph mein egjaampal pesh kiya ki jitane bhee agar pletaphorm hai pletaphaarm matalab tren agar aap yaatra kar rahe hain to tren ke paas det phorm bharate hain ab plen mein bhee ja rahe hain tab bhee dekhana ki sabhee log baithe rahate hain riport mein aur bason mein bhee ja rahe to bas staind dekhana aur likhana sabase pahale sabhee log apane phon bijee rahenge phon nikaalenge apanee phon mein bijee ho jaenge doosara ab yah dekhana ki agar vah eppal ka set rakha hai to eppal kis set ko vah nikaal kar vah eppal ka set sab ko dikhaata hai kaise dikhaata hai vah saimpal sabako najar aa jaana chaahie is tareeke se apane selaphon ko pakadata hai aur use thoda oopar karake rakhata hai taaki sabako najar aaegee mere paas eppal ka set hai log sirph aur sirph materiyal sthit cheejon ko dikhaane mein aage badh rahe hain sabako dekhana to sab phon mein bijee hai koee nahin de raha hai ki agar yaatra ke lie nikale hain too vah baahar kee duniya ko dekhen kya ho raha hai us isako dekhen ab shop par hee kaise-kaise kya-kya ho raha hai vah baahar kee duniya ko dekhana hee nahin chaahate sirph aur sirph dikhaavatee aur aise logon ke andar aatmavishvaas kee kamee bahut hotee agar unhen kah diya jae na is topik par sabake saamane aap baaten karen theek hai matalab sabake saamane is topik ko is tareeke se bataen ki logon log jaagarook ho vahaan par phool jaenge unake theek hai vah 24 ghante chal phon mein baat jaroor kar lenge kisee ek parsan se theek hai lekin agar unhen kahenge 5 minat pablik ke saamane khulakar is topik par baat karen to kabhee nahin kar paenge aur aise logon ke andar aatmavishvaas kee bahut kamee rahatee hai aur isalie indiya ko aur indiya ke sabhee ko jaagarook hona hoga ki maiteriyalistik laiph sirph aur sirph aapako kamphartebal lage dene ke lie hai lekin jindagee jeena hai aapako to maiteriyalistik laiph se aapako baahar nikal kar hee aap jindagee ko jee sakate hain yah nahin kah rahee thee ki maiteriyalistik laiph ko chhodana nahin maiteriyalistik laiph ko bhee rakhana hai apane aap ko bhee rakhana ki aap kaun hai yaar na bodee hain na aap kisee dharm se bilong karate hain na hee bilong aap sochenge dharm kee baat kee to dharm bhee nahin hai aapaka aap kaun hain aap jee kyon rahe hain is cheej ko samajhana jarooree hai agar aap yah cheej nahin dekhenge to usee mein phanse rahe pooree duniya phansee hai ek baar aap nikal kar to dekhie to aatmavishvaas kee kamee aise logon ke paas bahut jyaada hotee hai jo maiteriyal list is laiph mein jyaada phokas hote hain baakee cheejon mein nahin thaink yoo so mach

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:14
नमस्ते कसम में क्या लोगों को अत्याधुनिक बनने का दिखावा करना उनके कमजोर हो तो विश्वास हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं है कि कोई अगर टेक्नॉलॉजी को बोला यूज कर रहा है तो वह कमजोर आत्मविश्वास को दिखा रहा है यह नहीं है हां कभी कभी यह हो जाता है कि किसी के रिलेशनशिप खराब होने लगते हैं कि का फैमिली रिलेशन खराब होने लगता है तो वह टेक्नोलॉजी के साथ कुछ ज्यादा ही समय बिताने लगता है और मनुष्य के साथ संबंध कम हो जाता है यह होता है लेकिन जरूरी नहीं है कि हर किसी के साथ ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि टेक्नो टेक्नॉलॉजी से जुड़ा हुआ आदमी है कोई तो वह भी उन कॉन्फिडेंस से जुड़ा हुआ है तो कोई जरूरी नहीं है आइए हो जाता है बहुत बार भी जो समाज से थोड़े कटे भी होते हैं या जो फैमिली से थोड़े कटे दिन होते हैं वह भी सिटी के शिकार होते हैं मैं तो अभी खाना खाने पीने का मोबाइल के साथ गेम के साथ समय बिताना यह बहुत सारे किस चीज में होते हैं लेकिन हर केस में हो यह जरूरी है तू इंडिविजुअल केस पर देखा जाए और फिर उस हिसाब से पेमेंट किया जाए तो बेटा थैंक यू
Namaste kasam mein kya logon ko atyaadhunik banane ka dikhaava karana unake kamajor ho to vishvaas ho jaega lekin aisa nahin hai ki koee agar teknolojee ko bola yooj kar raha hai to vah kamajor aatmavishvaas ko dikha raha hai yah nahin hai haan kabhee kabhee yah ho jaata hai ki kisee ke rileshanaship kharaab hone lagate hain ki ka phaimilee rileshan kharaab hone lagata hai to vah teknolojee ke saath kuchh jyaada hee samay bitaane lagata hai aur manushy ke saath sambandh kam ho jaata hai yah hota hai lekin jarooree nahin hai ki har kisee ke saath aisa bilkul bhee nahin hai ki tekno teknolojee se juda hua aadamee hai koee to vah bhee un konphidens se juda hua hai to koee jarooree nahin hai aaie ho jaata hai bahut baar bhee jo samaaj se thode kate bhee hote hain ya jo phaimilee se thode kate din hote hain vah bhee sitee ke shikaar hote hain main to abhee khaana khaane peene ka mobail ke saath gem ke saath samay bitaana yah bahut saare kis cheej mein hote hain lekin har kes mein ho yah jarooree hai too indivijual kes par dekha jae aur phir us hisaab se pement kiya jae to beta thaink yoo

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:43
क्या लोगों को अत्याधुनिक बनाने बनने का दिखावा करना उनकी कमजोर आत्मविश्वास का संकेत है कि इस तरह की कोई संभावना है कि जो ज्यादा दिखावटी पन करता है या जो भी है उसमें इस तरह का कोई है और मैं इस बात को मानने को तैयार नहीं है क्योंकि निश्चित तौर पर कभी कभी देखी जब बच्चे आधुनिकता की तरफ बढ़ते हैं या तो वह बेल्ट स्टैंडर्ड एंड इकोनॉमिकली स्ट्रांग होंगे अच्छा प्रमोशन सच्चे लेकर विभिन्न कंपनियों में लोगों को देखता हूं बच्चों को देखता हूं यार लोगों को निश्चित तौर पर उनका काम करने का तरीका बेहतर और अच्छा होता है उसका अर्थ और निश्चित तौर पर जिनके अंदर कॉन्फिडेंस होता है वह इस तरह की करते हैं और निश्चित तौर पर जो दिखावटी लोग होते हैं उनके आधुनिकता का बहुत सारे ऐसे सूचक है जिसको शायद आप समझ नहीं पाओगे गुल्लू की आधुनिकता का दिखावा करते हैं तेरे चित्तौड़ पर हूं में वह चीज नहीं होती है और ऐसे लोग ज्यादा अच्छे ढंग से दादर तक जिनके अंदर कॉन्फिडेंस होता है जहां पर बनावटी पर नहीं होता है ना ऐसे तौर पर वहां पर आप देखेंगे जबरदस्त हॉस्पिटल्स होता है उसमें और को साथ विश्वास को आप देखेंगे तो आपको लगेगा कि हां भाई इसके अंदर उज्जैन से है परिवर्तन है
Kya logon ko atyaadhunik banaane banane ka dikhaava karana unakee kamajor aatmavishvaas ka sanket hai ki is tarah kee koee sambhaavana hai ki jo jyaada dikhaavatee pan karata hai ya jo bhee hai usamen is tarah ka koee hai aur main is baat ko maanane ko taiyaar nahin hai kyonki nishchit taur par kabhee kabhee dekhee jab bachche aadhunikata kee taraph badhate hain ya to vah belt staindard end ikonomikalee straang honge achchha pramoshan sachche lekar vibhinn kampaniyon mein logon ko dekhata hoon bachchon ko dekhata hoon yaar logon ko nishchit taur par unaka kaam karane ka tareeka behatar aur achchha hota hai usaka arth aur nishchit taur par jinake andar konphidens hota hai vah is tarah kee karate hain aur nishchit taur par jo dikhaavatee log hote hain unake aadhunikata ka bahut saare aise soochak hai jisako shaayad aap samajh nahin paoge gulloo kee aadhunikata ka dikhaava karate hain tere chittaud par hoon mein vah cheej nahin hotee hai aur aise log jyaada achchhe dhang se daadar tak jinake andar konphidens hota hai jahaan par banaavatee par nahin hota hai na aise taur par vahaan par aap dekhenge jabaradast hospitals hota hai usamen aur ko saath vishvaas ko aap dekhenge to aapako lagega ki haan bhaee isake andar ujjain se hai parivartan hai

Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:32
सर जैसा क्या क्या क्वेश्चन है क्या लोगों को अति आधुनिक बनने का दिखावा करना उनके कमजोर आत्मविश्वास का सूचक अत्याधुनिक का दिखावा करना हर चीज के लिए आत्मविश्वास को कमजोर करता है यह बात एकदम डेफिनेटली लेकिन आप बेटी के साथ एक सच्चाई के साथ देख ईमानदारी के साथ कोई भी चीज है कोई भी कार्य कर रहे हैं तो सही रहता है लेकिन जैसा कि आपने बताया गया है अब मैं अति आधुनिक दिखाकर करने के लिए आपको पहले ही प्लस पॉइंट नहीं रहा तो इस वजह से बाप यह कमजोर आदमी तो आज का ही है कारण तुम्हें यही बन जाऊंगा आप जो है वही देखें ऐसा ना करें कि आप नहीं रहती झूठ हरदम हमारे साथ नहीं रह सकता कभी ना कभी 1 साल 2 साल या 2 महीने इतना भी टाइम पीरियड रहता है उसका जो किसी से ट्यूशन है उसके कोडिंग गुस्सा जरूर आता है इसलिए आप दिखावा ना करें जैसा आया वैसा ही बताए किसी भी को आ रही हो तो यह आपके लिए और सामने वाले की आप के रिश्ते को बनाने रखने के लिए बहुत मजबूत रहता है लेकिन अगर कोई आपको ऐसा है दिखावा करने के जैसे कि आप अच्छा कार्य कर रहे आपको लग रहा है तो आप कर सकते हैं यह भी बहुत जरूरी है जैसा कि गीता में श्रीकृष्ण ने श्री कृष्ण भगवान ने कहा क्यों झूठ सही है जो हर किसी की जान ले किसी अनहोनी को बचा सके मैसेज धन्यवाद
Sar jaisa kya kya kveshchan hai kya logon ko ati aadhunik banane ka dikhaava karana unake kamajor aatmavishvaas ka soochak atyaadhunik ka dikhaava karana har cheej ke lie aatmavishvaas ko kamajor karata hai yah baat ekadam dephinetalee lekin aap betee ke saath ek sachchaee ke saath dekh eemaanadaaree ke saath koee bhee cheej hai koee bhee kaary kar rahe hain to sahee rahata hai lekin jaisa ki aapane bataaya gaya hai ab main ati aadhunik dikhaakar karane ke lie aapako pahale hee plas point nahin raha to is vajah se baap yah kamajor aadamee to aaj ka hee hai kaaran tumhen yahee ban jaoonga aap jo hai vahee dekhen aisa na karen ki aap nahin rahatee jhooth haradam hamaare saath nahin rah sakata kabhee na kabhee 1 saal 2 saal ya 2 maheene itana bhee taim peeriyad rahata hai usaka jo kisee se tyooshan hai usake koding gussa jaroor aata hai isalie aap dikhaava na karen jaisa aaya vaisa hee batae kisee bhee ko aa rahee ho to yah aapake lie aur saamane vaale kee aap ke rishte ko banaane rakhane ke lie bahut majaboot rahata hai lekin agar koee aapako aisa hai dikhaava karane ke jaise ki aap achchha kaary kar rahe aapako lag raha hai to aap kar sakate hain yah bhee bahut jarooree hai jaisa ki geeta mein shreekrshn ne shree krshn bhagavaan ne kaha kyon jhooth sahee hai jo har kisee kee jaan le kisee anahonee ko bacha sake maisej dhanyavaad

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
3:36
उसका दोस्त बस नहीं क्या लोगों को अत्याधुनिक बनने का दिखावा करना उनके कमजोर आत्मविश्वास का सूचक है निश्चित रूप से रूप से सहमत हूं बहुत सारे लोगों को ऐसा लगता है कि अपने आप को दूसरों से अलग दिखाना या ऊपर दिखाना क्योंकि उनमें आत्मविश्वास की कमी होती है कोई आपने देखेगा वह शिक्षित व्यक्ति हैं कोई पैसे वाले व्यक्ति हैं जो भी छोटी कार्य करते हैं तो हमें बुरा नहीं लगता लेकिन कहीं आप पैदल जा रहे हैं तो कोई रोक देता है तो आपको लगता है कि मेरी बेजती हो गई है इसके अंदर तो आत्मविश्वास की कमी है इसके अंदर मैं आपको छोटा सा उदाहरण देना चाहता हूं मैं एक बार कॉलेज में पढ़ाई करता था तो यार दोस्त वह रेस्टोरेंट्स ओं कैम खाना खाने जाते थे मैं भी वहां गया तो कुछ महिला मित्र भी थी हमारे साथ तो तो लाइफ में आकर्षण ज्यादा होता है लड़कियों के प्रति या लड़कियों का लड़कों के प्रति तो जब रेस्टोरेंट में खाना और डोसा मंगाया गया तो सभी लोग उसके साथ एक कांटे दिया जाता है जिसे आप बोलते हैं वह दिया गया उसको मिलाकर खाएं इससे से तोड़कर बड़ा मुश्किल होता है तब हम कभी कबार जाते थे कभी उस समय इतना रक्षण जाते नहीं थे तो आरामदायक हमें नहीं लगता था तो मेरा थोड़ा ग्रुप स्ट्रांग था एक लीडरशिप क्वालिटी थी मैं नहीं ग्रुप बनाया हुआ था तो मेरी थोड़ी चलती थी यानी कि आपने स्वास्थ्य में बताना चाहता हूं मेरा ज्यादा होगा निश्चित रूप से मैं किसी नेतृत्व कर रहा हूं किसी ग्रुप का तो मैंने कहा भाई मैं तो हाथ से खाना पसंद करता हूं मेरे से तो खाया जा रहा तो मैंने फ्रॉक सूट सिंपल खाना शुरु कर दिया और काफी मेरे दोस्त हंसे भी और फिर धीरे-धीरे जो दिखाओ टा दिखावा कर रहे थे वह भी हाथ से खाना शुरु कर दिया और आसपास के अविश्वास मान्य आसपास के बगल वाले लोग भी दिखाओ इसे खा रहे थे वह भी हाथ से खाने लग गए तो सारा खेल आत्मविश्वास का आपका विश्वास बढ़ा हुआ है काफी आपका आत्मविश्वास ही अच्छे हैं आप कोई बात बोलते हैं तो आपको डर नहीं लगता है आपको लगता है जो मैं बोलूंगा उसको फॉलो करेंगे उसको लोग गलत नहीं बताएंगे लेकिन कई बार लोग किसी बड़े व्यक्ति से बात करना चाहे धन के रूप में चाय के रूप में तो अपनी छोटी-छोटी गलतियों को बढ़ा चढ़ाकर बात करते हैं कई जगह यह जरूरी भी होता है दिखाना कि हमारे पास इतना स्टेटस है कई बार देखना चाहता नहीं मिल पाता मैं एक और उदाहरण आप को शेयर करना चाहता हूं एक बार एक बैंक मैनेजर के पास में गया किसी रकड़ेंस है उसको मुचल फंड में टैक्स प्लानिंग करनी थी तो उस समय गाड़ी का इतना चलन नहीं हुआ करता था इतना नॉर्मल बात नहीं थी तो बंद कर रहा था कि मैं गाड़ी से आया हूं ना तो उसने पूछा कि आपकी गाड़ी कहां है मैंने का ड्राइवर अभी जरा काम से गया हुआ है किसी काम से अभी आने वाला होगा मैं फोन करता हूं उसको तो मैंने उसको सोने नहीं होने दिया कि मैं तो गाड़ी नहीं है लेकिन व्यापार में मेरे को बोलना पड़ा क्योंकि व्यापार को बढ़ाना होता है वहां तक तो सब चीजें सीमित हैं लेकिन आप भूत की चीजें लोगों को हाथ से जाएंगे डीजे हारते जाएंगे या कार्तिक दिखावा ज्यादा करेंगे तो अल्टीमेटली कहीं ना कहीं किसी ना किसी रूप में लोगों को पता भी चलेगा वह आपको शर्मिंदगी महसूस का सामना करना पड़ सकता है या दिखावे में हो सकता है कि आपका फाइनेंस का बजट भी हिल सकता है और आपको मन को शांति मीना मिले तो जैसा है वैसा दिखे तो ज्यादा अच्छा रहेगा लेकिन वही बात है विश्वास तोड़ा था उसमें बड़ा होना चाहिए जो आप कह सके कि मैं यह कर सकता हूं धन्यवाद
Usaka dost bas nahin kya logon ko atyaadhunik banane ka dikhaava karana unake kamajor aatmavishvaas ka soochak hai nishchit roop se roop se sahamat hoon bahut saare logon ko aisa lagata hai ki apane aap ko doosaron se alag dikhaana ya oopar dikhaana kyonki unamen aatmavishvaas kee kamee hotee hai koee aapane dekhega vah shikshit vyakti hain koee paise vaale vyakti hain jo bhee chhotee kaary karate hain to hamen bura nahin lagata lekin kaheen aap paidal ja rahe hain to koee rok deta hai to aapako lagata hai ki meree bejatee ho gaee hai isake andar to aatmavishvaas kee kamee hai isake andar main aapako chhota sa udaaharan dena chaahata hoon main ek baar kolej mein padhaee karata tha to yaar dost vah restorents on kaim khaana khaane jaate the main bhee vahaan gaya to kuchh mahila mitr bhee thee hamaare saath to to laiph mein aakarshan jyaada hota hai ladakiyon ke prati ya ladakiyon ka ladakon ke prati to jab restorent mein khaana aur dosa mangaaya gaya to sabhee log usake saath ek kaante diya jaata hai jise aap bolate hain vah diya gaya usako milaakar khaen isase se todakar bada mushkil hota hai tab ham kabhee kabaar jaate the kabhee us samay itana rakshan jaate nahin the to aaraamadaayak hamen nahin lagata tha to mera thoda grup straang tha ek leedaraship kvaalitee thee main nahin grup banaaya hua tha to meree thodee chalatee thee yaanee ki aapane svaasthy mein bataana chaahata hoon mera jyaada hoga nishchit roop se main kisee netrtv kar raha hoon kisee grup ka to mainne kaha bhaee main to haath se khaana pasand karata hoon mere se to khaaya ja raha to mainne phrok soot simpal khaana shuru kar diya aur kaaphee mere dost hanse bhee aur phir dheere-dheere jo dikhao ta dikhaava kar rahe the vah bhee haath se khaana shuru kar diya aur aasapaas ke avishvaas maany aasapaas ke bagal vaale log bhee dikhao ise kha rahe the vah bhee haath se khaane lag gae to saara khel aatmavishvaas ka aapaka vishvaas badha hua hai kaaphee aapaka aatmavishvaas hee achchhe hain aap koee baat bolate hain to aapako dar nahin lagata hai aapako lagata hai jo main boloonga usako pholo karenge usako log galat nahin bataenge lekin kaee baar log kisee bade vyakti se baat karana chaahe dhan ke roop mein chaay ke roop mein to apanee chhotee-chhotee galatiyon ko badha chadhaakar baat karate hain kaee jagah yah jarooree bhee hota hai dikhaana ki hamaare paas itana stetas hai kaee baar dekhana chaahata nahin mil paata main ek aur udaaharan aap ko sheyar karana chaahata hoon ek baar ek baink mainejar ke paas mein gaya kisee rakadens hai usako muchal phand mein taiks plaaning karanee thee to us samay gaadee ka itana chalan nahin hua karata tha itana normal baat nahin thee to band kar raha tha ki main gaadee se aaya hoon na to usane poochha ki aapakee gaadee kahaan hai mainne ka draivar abhee jara kaam se gaya hua hai kisee kaam se abhee aane vaala hoga main phon karata hoon usako to mainne usako sone nahin hone diya ki main to gaadee nahin hai lekin vyaapaar mein mere ko bolana pada kyonki vyaapaar ko badhaana hota hai vahaan tak to sab cheejen seemit hain lekin aap bhoot kee cheejen logon ko haath se jaenge deeje haarate jaenge ya kaartik dikhaava jyaada karenge to alteemetalee kaheen na kaheen kisee na kisee roop mein logon ko pata bhee chalega vah aapako sharmindagee mahasoos ka saamana karana pad sakata hai ya dikhaave mein ho sakata hai ki aapaka phainens ka bajat bhee hil sakata hai aur aapako man ko shaanti meena mile to jaisa hai vaisa dikhe to jyaada achchha rahega lekin vahee baat hai vishvaas toda tha usamen bada hona chaahie jo aap kah sake ki main yah kar sakata hoon dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
जी हां दोस्तों यह बिल्कुल सही है लोगों को अति आधुनिक बनाना ज्यादा सही नहीं है अगर हम अपने हाथ पैर का सही इस्तेमाल नहीं करेंगे तो हम आशाए हो जाएंगे और वह हमारे जीवन के लिए अच्छा नहीं है उसे हमारा आत्मविश्वास भी कमजोर होगा दिखावा करना से हम लोग को अच्छा तो लगता है लेकिन इसे हमारा विश्वास घटता है अपने ऊपर से इस वजह से हमें ऐसा नहीं करना चाहिए तो दोस्तों आप लोग लाइक जरूर क्या करें हम लोग लाइक नहीं करते हैं धन्यवाद
Jee haan doston yah bilkul sahee hai logon ko ati aadhunik banaana jyaada sahee nahin hai agar ham apane haath pair ka sahee istemaal nahin karenge to ham aashae ho jaenge aur vah hamaare jeevan ke lie achchha nahin hai use hamaara aatmavishvaas bhee kamajor hoga dikhaava karana se ham log ko achchha to lagata hai lekin ise hamaara vishvaas ghatata hai apane oopar se is vajah se hamen aisa nahin karana chaahie to doston aap log laik jaroor kya karen ham log laik nahin karate hain dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:49
सवाल ये है कि क्या लोगों का अत्याधुनिक बनने का दिखावा करना उनकी कमजोर आत्मविश्वास का सूचक है तुझे नहीं बिल्कुल भी ऐसा नहीं है जबकि आधुनिक बनना तो बहुत ही अच्छा रहेगा आज दुनिया इस बदलती लगातार बदलती दुनिया में खुद को बदलने लेने में ही भलाई है वरना हम बिछड़ते चले जाते हैं और ऐसे में कम आधुनिक तकनीक से कमजोर आत्मविश्वास का शायद कोई लेना देना नहीं है हालांकि बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी में हम टेक्नोलॉजी में व्यस्त हो जाते हैं और अपने परिवार के साथ थोड़ा कम समय बिताते हैं या अपने परिवार वालों से ज्यादा बात नहीं करते तो ऐसे में हमें अपने तकनीकी जिंदगी और अपने परिवार और सब चीजों को साथ लेकर चलना पड़ता है
Savaal ye hai ki kya logon ka atyaadhunik banane ka dikhaava karana unakee kamajor aatmavishvaas ka soochak hai tujhe nahin bilkul bhee aisa nahin hai jabaki aadhunik banana to bahut hee achchha rahega aaj duniya is badalatee lagaataar badalatee duniya mein khud ko badalane lene mein hee bhalaee hai varana ham bichhadate chale jaate hain aur aise mein kam aadhunik takaneek se kamajor aatmavishvaas ka shaayad koee lena dena nahin hai haalaanki badhatee huee teknolojee mein ham teknolojee mein vyast ho jaate hain aur apane parivaar ke saath thoda kam samay bitaate hain ya apane parivaar vaalon se jyaada baat nahin karate to aise mein hamen apane takaneekee jindagee aur apane parivaar aur sab cheejon ko saath lekar chalana padata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या लोगों को अति आधुनिक बनने का दिखावा करना उनके कमजोर आत्मविश्वास का सूचक है क्या अति आधुनिक बनने का दिखावा करना उनके कमजोर आत्मविश्वास का सूचक है
URL copied to clipboard