#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?

Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:50
लिखित करत करत अभ्यास के और जनमत होत सोने का भाव क्या है जैसे चेहरे के भाव को पहचाना जा सके तो कर दे कर दे अभ्यास के जड़मति होत सुजान रसरी आवत जात ते सिल पर आपके अंदर इतनी योग्यता हो नजरों को पहचानने की क्षमता हो आपके अंदर वह भावनाएं हो कि आपके पास जो व्यक्ति आ रहा है किस भावना से आ रहा है आपके अंदर जुड़ता को पहचानने की क्षमता हो जो दुर्ग उड़ता को पहचानने की क्षमता होगी मन की भाषा को पढ़ने और आंखों के किस तरह से मतलब आगे चल रही हूं उसके भाव आंखों के क्या है और उसके मन में क्या धीरे-धीरे पढ़ना शुरू कर देंगे आप इसमें बिल्कुल पारंगत हो जाएंगे परिपक्व हो जाएंगे और बिल्कुल आप बता देंगे कि आदमी किस कार्य को मेरे लिए आया है तो यह एक कला होती है और वह कला जो है अभ्यास से प्राप्त हो जाती है
Likhit karat karat abhyaas ke aur janamat hot sone ka bhaav kya hai jaise chehare ke bhaav ko pahachaana ja sake to kar de kar de abhyaas ke jadamati hot sujaan rasaree aavat jaat te sil par aapake andar itanee yogyata ho najaron ko pahachaanane kee kshamata ho aapake andar vah bhaavanaen ho ki aapake paas jo vyakti aa raha hai kis bhaavana se aa raha hai aapake andar judata ko pahachaanane kee kshamata ho jo durg udata ko pahachaanane kee kshamata hogee man kee bhaasha ko padhane aur aankhon ke kis tarah se matalab aage chal rahee hoon usake bhaav aankhon ke kya hai aur usake man mein kya dheere-dheere padhana shuroo kar denge aap isamen bilkul paarangat ho jaenge paripakv ho jaenge aur bilkul aap bata denge ki aadamee kis kaary ko mere lie aaya hai to yah ek kala hotee hai aur vah kala jo hai abhyaas se praapt ho jaatee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:36
देखी खुशी के दुख के उदासी के हर तरह के भाव चेहरे से पहले पहचाना जा सकता है खूब खुश होगा उदास होकर किसी सोचना होगा तो जैसा भाग होता है उसे चेहरे पर उस हिसाब से एक्सप्रेशन आ जाता है वह फोटो में ठीक किया जाता है तो वह स्पेशल भाव नहीं है जिससे चेहरा पहचाना जाए आपको किसी भी भाव जो आपके मन में चल रहा होगा वह आपके चेहरे पर दिखी जाएगा
Dekhee khushee ke dukh ke udaasee ke har tarah ke bhaav chehare se pahale pahachaana ja sakata hai khoob khush hoga udaas hokar kisee sochana hoga to jaisa bhaag hota hai use chehare par us hisaab se eksapreshan aa jaata hai vah photo mein theek kiya jaata hai to vah speshal bhaav nahin hai jisase chehara pahachaana jae aapako kisee bhee bhaav jo aapake man mein chal raha hoga vah aapake chehare par dikhee jaega

bolkar speaker
वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:02
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है तो फ्रेंड में भाव है हंस ना यह तो रोना तो ऐसे भाव है जिसे आराम से लोग देखकर जान सकते हैं कि यह व्यक्ति दुखी है कि खुश है जब हम दुखी होते हैं तुम्हारे चेहरे पर रोने के स्टेशन आ जाते हैं और आंखों से आंसू भी निकलने लगते हैं तो लोग आसानी से पहचान लेते हैं क्या तिथि है और हम लोग बहुत खुश होते हैं तो हमारे चेहरे पर स्माइल रहती है मन खुश होता है चेहरा खिला-खिला खुश दिखाई देता हरा में हंसी भी आती है तो हमारी हंसी खुशी देखकर लोग निंजा अंदाजा लगा सकते हैं कि हम परेशान हैं तो आंसू निकलना और आसना यह दो ऐसी भाव है जिसे लोग पता लगा सकते क्या खुशी या दुखी है तो हमारे चेहरे पर हंसी आना या आंसू निकल के दुख से रोना यही दो भाव है जो हम आसानी से पहचान सकते हैं धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn hai vah bhaav kya hai jise chehare ke bhaav se pahachaana ja sakata hai to phrend mein bhaav hai hans na yah to rona to aise bhaav hai jise aaraam se log dekhakar jaan sakate hain ki yah vyakti dukhee hai ki khush hai jab ham dukhee hote hain tumhaare chehare par rone ke steshan aa jaate hain aur aankhon se aansoo bhee nikalane lagate hain to log aasaanee se pahachaan lete hain kya tithi hai aur ham log bahut khush hote hain to hamaare chehare par smail rahatee hai man khush hota hai chehara khila-khila khush dikhaee deta hara mein hansee bhee aatee hai to hamaaree hansee khushee dekhakar log ninja andaaja laga sakate hain ki ham pareshaan hain to aansoo nikalana aur aasana yah do aisee bhaav hai jise log pata laga sakate kya khushee ya dukhee hai to hamaare chehare par hansee aana ya aansoo nikal ke dukh se rona yahee do bhaav hai jo ham aasaanee se pahachaan sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
0:28
भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है चेहरे के भाव से हम किसी भी व्यक्ति के मन के जो भाव होते हैं उनको हम पहचान सकते हैं आमतौर पर देखा गया है कि अगर सामने वाले व्यक्ति के अंदर दम है यानी कि उसके अंदर इतना पावर है समझने का तो वह किसी भी व्यक्ति की आंखों से उसके चेहरे को पढ़कर के उसके मनो के भाव जो होते हैं उनके बारे में वह जान जाएगा धन्यवाद
Bhaav kya hai jise chehare ke bhaav se pahachaana ja sakata hai chehare ke bhaav se ham kisee bhee vyakti ke man ke jo bhaav hote hain unako ham pahachaan sakate hain aamataur par dekha gaya hai ki agar saamane vaale vyakti ke andar dam hai yaanee ki usake andar itana paavar hai samajhane ka to vah kisee bhee vyakti kee aankhon se usake chehare ko padhakar ke usake mano ke bhaav jo hote hain unake baare mein vah jaan jaega dhanyavaad

bolkar speaker
वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
RAM NIWASH AWASTHI Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAM जी का जवाब
विद्यार्थी
0:51

bolkar speaker
वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:28
सवाल ये है कि वह भाव क्या है जैसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है तो रोने पर हम किसी भी इंसान के चेहरे को उनके भावनात्मक संकेतों को समझ सकते हैं ऐसे रोने पर ध्यान देना बहुत सारी संस्कृतियों में रोना बहुत सारी भावनाओं का परिणाम होता है अक्सर रोने को दुख दर्द का प्रतीक माना जाता है लेकिन कभी-कभी लोग खुशी में भी होते हैं रोना कभी हंसी आई उम्र के कारण भी आता है तो रोने को समझने के लिए आपको पहले इसकी उचित कारण की तलाश करनी होगी क्या आखिर में रो क्यों रहा है लोग कभी सहानुभूति पाने या भगाने के लिए भी रोया करते हैं इसे मगरमच्छ के आंसू भी कहा जाता है जैसा कि कहा जाता है कि मगरमच्छ तभी आंसू बहाता जावे शिकार पकड़ता है गुस्से या धमकी के संकेतों को समझें धमकी वाले भागों में वी आकार की आइब्रो बड़ी बड़ी आंखें और खुला हुआ मुंह शामिल है बहुत जोर से कसी हुई भुजाएं व्यक्ति के बहुत ज्यादा नाराज होने और आप से दूर ले जाने की ओर संकेत करती हैं जनता के संकेतों को कैसे समझें जब कोई इंसान किसी चिंता में होता है तो वह जरूरत से ज्यादा बार अपनी पलकें झपकाए पाता है और उसका मुंह छोटी सी लाइन की तरह दिखने लगता है ज्यादा चिंतित लोग अपने हाथों की मुट्ठी बांधे और खुद को एक जगह पर टिकाए रखने में नाकाम में आप प्रतीत होते हैं जब लोग अनजाने में कई बार अपने पैरों को थपथपाते हैं तो यह उनके चिंता में होने के संकेत होता है शर्मिंदगी के भाग को समझने का प्रयास करें शर्मिंदगी में इंसान की आंखें एक जगह टिक नहीं रह पाती उनका सर भी यहां से वहां डगमग आता रहता है और एक वह एकदम नियंत्रित से यहां तक कि कभी-कभी अनचाही सी और तनावपूर्ण मुस्कान भी दे दे पाते हैं यदि कोई व्यक्ति बहुत ज्यादा बार नीचे जमीन पर देखता है तो उसका मतलब शर्मिला हो डरपोक हो या शर्म आ रहा हो जब लोग दुखी होते हैं तो फिर किसी भावनाओं को छुपाने का प्रयास करते हैं तो वे हद से ज्यादा बार जमीन पर देखते हैं लोग जब जमी पर देखता तो उन्हें लगता है कि वह अपने भावों को छुपा रही हैं अहंकार को कैसे समझे लोग हल्की सी मुस्कान अपना सिर पीछे को झुका कर और अपने हाथों को अपनी कमर पर रखकर अपना अहंकार दर्शाते हैं
Savaal ye hai ki vah bhaav kya hai jaise chehare ke bhaav se pahachaana ja sakata hai to rone par ham kisee bhee insaan ke chehare ko unake bhaavanaatmak sanketon ko samajh sakate hain aise rone par dhyaan dena bahut saaree sanskrtiyon mein rona bahut saaree bhaavanaon ka parinaam hota hai aksar rone ko dukh dard ka prateek maana jaata hai lekin kabhee-kabhee log khushee mein bhee hote hain rona kabhee hansee aaee umr ke kaaran bhee aata hai to rone ko samajhane ke lie aapako pahale isakee uchit kaaran kee talaash karanee hogee kya aakhir mein ro kyon raha hai log kabhee sahaanubhooti paane ya bhagaane ke lie bhee roya karate hain ise magaramachchh ke aansoo bhee kaha jaata hai jaisa ki kaha jaata hai ki magaramachchh tabhee aansoo bahaata jaave shikaar pakadata hai gusse ya dhamakee ke sanketon ko samajhen dhamakee vaale bhaagon mein vee aakaar kee aaibro badee badee aankhen aur khula hua munh shaamil hai bahut jor se kasee huee bhujaen vyakti ke bahut jyaada naaraaj hone aur aap se door le jaane kee or sanket karatee hain janata ke sanketon ko kaise samajhen jab koee insaan kisee chinta mein hota hai to vah jaroorat se jyaada baar apanee palaken jhapakae paata hai aur usaka munh chhotee see lain kee tarah dikhane lagata hai jyaada chintit log apane haathon kee mutthee baandhe aur khud ko ek jagah par tikae rakhane mein naakaam mein aap prateet hote hain jab log anajaane mein kaee baar apane pairon ko thapathapaate hain to yah unake chinta mein hone ke sanket hota hai sharmindagee ke bhaag ko samajhane ka prayaas karen sharmindagee mein insaan kee aankhen ek jagah tik nahin rah paatee unaka sar bhee yahaan se vahaan dagamag aata rahata hai aur ek vah ekadam niyantrit se yahaan tak ki kabhee-kabhee anachaahee see aur tanaavapoorn muskaan bhee de de paate hain yadi koee vyakti bahut jyaada baar neeche jameen par dekhata hai to usaka matalab sharmila ho darapok ho ya sharm aa raha ho jab log dukhee hote hain to phir kisee bhaavanaon ko chhupaane ka prayaas karate hain to ve had se jyaada baar jameen par dekhate hain log jab jamee par dekhata to unhen lagata hai ki vah apane bhaavon ko chhupa rahee hain ahankaar ko kaise samajhe log halkee see muskaan apana sir peechhe ko jhuka kar aur apane haathon ko apanee kamar par rakhakar apana ahankaar darshaate hain

bolkar speaker
वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है?Vah Bhav Kya Hai Jise Chehre Ke Bhaav Se Pehchana Ja Sakta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:07
आ जाते सवाल है कि वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है पूरे किए थे तो मन में बहुत कुछ चल रहा होता है तो हमें फेस से और चेहरे देखकर पता चल जाता है जैसे कि कोई इंसान टेंशन में होता है अगर कोई प्रॉब्लम अगर है उसे उसके चेहरे में भी थोड़ा और खिला-खिला चेहरा जैसे होता है नॉर्मल इंसान मिलते जुलते से बातचीत करते हैं जैसे रियेक्ट करते हैं हाय हेलो करने में सफल रहा है उसका उदास रहा है लेकिन फेसबुक पर नहीं दिख रही है पता कर पाते क्यों इंसान बहुत ही उदास याद कोई टेंशन है उसे और अगर कोई इंसान आज बहुत खुशी बहुत अच्छा मिल जाए तो वह भी चेहरे से पता चलता है बहुत दूर से पता चलता है वह हंसकर आ रहा है उसका बहुत अच्छे तरीके से हंसकर जवाब देता समझ जाते कि नहीं इंसान आज मेरा मूड बहुत ही अच्छा है या जो हंस रहा है अच्छे से के खिलाफ बात कर रखना चेहरे देखकर हम इमोशंस को कि वह साइड है उदास है या फिर आज हंसी खुशी में यह हम पता कर पाते हैं
Aa jaate savaal hai ki vah bhaav kya hai jise chehare ke bhaav se pahachaana ja sakata hai poore kie the to man mein bahut kuchh chal raha hota hai to hamen phes se aur chehare dekhakar pata chal jaata hai jaise ki koee insaan tenshan mein hota hai agar koee problam agar hai use usake chehare mein bhee thoda aur khila-khila chehara jaise hota hai normal insaan milate julate se baatacheet karate hain jaise riyekt karate hain haay helo karane mein saphal raha hai usaka udaas raha hai lekin phesabuk par nahin dikh rahee hai pata kar paate kyon insaan bahut hee udaas yaad koee tenshan hai use aur agar koee insaan aaj bahut khushee bahut achchha mil jae to vah bhee chehare se pata chalata hai bahut door se pata chalata hai vah hansakar aa raha hai usaka bahut achchhe tareeke se hansakar javaab deta samajh jaate ki nahin insaan aaj mera mood bahut hee achchha hai ya jo hans raha hai achchhe se ke khilaaph baat kar rakhana chehare dekhakar ham imoshans ko ki vah said hai udaas hai ya phir aaj hansee khushee mein yah ham pata kar paate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वह भाव क्या है जिसे चेहरे के भाव से पहचाना जा सकता है चेहरे के भाव
URL copied to clipboard