#undefined

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:28
आज आप का सवाल है कि मैंने हाल ही में पड़ा हूं घर पर कि मीठा खाने का सामान डायबिटीज से नहीं है क्या यह सच में बहुत बार गूगल में जरूरी नहीं होता है कि आपको हर एक चीज एक्यूरेट पता चले आज इतनी भी आप डॉक्टर स्कूल जाकर अगर कांटेक्ट में होंगी या फिर से कोई भी डायबिटीज पेशेंट से मिले होंगे मैं मेरे घर की बात करें तो मेरे पापा को डायबिटीज है तो डॉक्टर सबसे पहले मीठा खाने के लिए ही मना करता अगर आपको डायबिटीज हुआ है तो यह जरूरी नहीं है कि मीठा खाने की वजह से वाली नगर हो गया है तब आपको मीठा से दूर रहना वरना शुगर का लगन और ज्यादा बढ़ जाता है और ज्यादा प्रॉब्लम खड़ी हो जाती है तो जब आपको हो जाता है तो जितने भी डॉक्टर सेवेन जो फ्रूट्स में जो नेचुरल मीठा होता है उसमें कोई अच्छा कि चीनी नहीं डालता है शुगर नहीं डाल रहा है फल में लेकिन वह भी ज्यादा मीठा हो तो उसे भी डॉक्टर से मना करते हैं तो अगर आप नॉर्मल शुगर है आखिर सुगर से रिलेटेड कोई भी आइटम ऐसा आपने जहां पर भी पड़ा होगा वह बहुत सारे ऐसे साइड होते हैं जो इतना सही डिटेल नहीं देते हैं अगर कोई भी कॉलेज के बारे में भी अगर अभी आप देखेंगे तो ऐसे बहुत सारे कॉलेज की डिटेल आएंगे बिना आपको यह भी आएगा कि उसका एडमिशन अभी हो रहा है उसमें यह है वह सब चीज आपको आएगा बट वह सही नहीं रहते ऑफिशियल वेबसाइट भी हर एक चीज का होता है तो वहां पर आपको एक्सीडेंट देखने के लिए गूगल में हमेशा जरूरी नहीं होता कि हर चीज चाहिए इंफॉर्मेशन यार एक इंसान
Aaj aap ka savaal hai ki mainne haal hee mein pada hoon ghar par ki meetha khaane ka saamaan daayabiteej se nahin hai kya yah sach mein bahut baar googal mein jarooree nahin hota hai ki aapako har ek cheej ekyooret pata chale aaj itanee bhee aap doktar skool jaakar agar kaantekt mein hongee ya phir se koee bhee daayabiteej peshent se mile honge main mere ghar kee baat karen to mere paapa ko daayabiteej hai to doktar sabase pahale meetha khaane ke lie hee mana karata agar aapako daayabiteej hua hai to yah jarooree nahin hai ki meetha khaane kee vajah se vaalee nagar ho gaya hai tab aapako meetha se door rahana varana shugar ka lagan aur jyaada badh jaata hai aur jyaada problam khadee ho jaatee hai to jab aapako ho jaata hai to jitane bhee doktar seven jo phroots mein jo nechural meetha hota hai usamen koee achchha ki cheenee nahin daalata hai shugar nahin daal raha hai phal mein lekin vah bhee jyaada meetha ho to use bhee doktar se mana karate hain to agar aap normal shugar hai aakhir sugar se rileted koee bhee aaitam aisa aapane jahaan par bhee pada hoga vah bahut saare aise said hote hain jo itana sahee ditel nahin dete hain agar koee bhee kolej ke baare mein bhee agar abhee aap dekhenge to aise bahut saare kolej kee ditel aaenge bina aapako yah bhee aaega ki usaka edamishan abhee ho raha hai usamen yah hai vah sab cheej aapako aaega bat vah sahee nahin rahate ophishiyal vebasait bhee har ek cheej ka hota hai to vahaan par aapako ekseedent dekhane ke lie googal mein hamesha jarooree nahin hota ki har cheej chaahie imphormeshan yaar ek insaan

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:00
विपिन व्हीलर में डायबिटीज को अवशोषित करने की शक्ति होती है वह लपेट के लिए वोट पहुंचा को फायदेमंद होता है मुल्क के अंदर जो कीटाणु होते हैं वह पेट के लिए उसी तरह से फायदा करते हैं जैसे दही में जीवाणु होते हैं वह आपको फायदा करता है तुम कूलर जो है उसके अंदर जो मिठास होती है उसमें जो ग्लूकोस होता है वह नुकसानदायक नहीं होता तुरंत आप जब होने वाला है क्योंकि पेट की पाचन शक्ति को बढ़ाता है बल्कि तमाम प्रकार के काम प्लीकेशन मिठाई से उतनी शुगर नहीं बढ़ती है जितनी चिंताओं से और नकारात्मक सोच से बढ़ती है अब थोड़ा बहुत पसंद करते रहिए इतना मीठा खा सकते हैं आप बताओ आपके शरीर में आप जरूर कर ले और हफ्ते में एक दिन और खूब मारते रहिए वह बढ़ने ना पाओगे और खूब पैदल चलिए पैदल चलने से आप कम से कम दिन भर में 1000 किलोमीटर पैदल चलना स्वास्थ के लिए याद कंट्रोल
Vipin vheelar mein daayabiteej ko avashoshit karane kee shakti hotee hai vah lapet ke lie vot pahuncha ko phaayademand hota hai mulk ke andar jo keetaanu hote hain vah pet ke lie usee tarah se phaayada karate hain jaise dahee mein jeevaanu hote hain vah aapako phaayada karata hai tum koolar jo hai usake andar jo mithaas hotee hai usamen jo glookos hota hai vah nukasaanadaayak nahin hota turant aap jab hone vaala hai kyonki pet kee paachan shakti ko badhaata hai balki tamaam prakaar ke kaam pleekeshan mithaee se utanee shugar nahin badhatee hai jitanee chintaon se aur nakaaraatmak soch se badhatee hai ab thoda bahut pasand karate rahie itana meetha kha sakate hain aap batao aapake shareer mein aap jaroor kar le aur haphte mein ek din aur khoob maarate rahie vah badhane na paoge aur khoob paidal chalie paidal chalane se aap kam se kam din bhar mein 1000 kilomeetar paidal chalana svaasth ke lie yaad kantrol

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:16
नमस्ते लेकिन मीठा खाने का सम्मान डायबिटीज से तो है अब ज्यादा खाओगे तो बॉयफ्रेंड करेगा यह नहीं करते हैं कि आप थोड़ा बहुत खा रहे हो तो आपको डायबिटीज हो जाएगा कुछ कुछ कुछ जेनेटिक होता है इस फैमिली से आता पेरेंट्स आता है ग्रैंडफादर चाहता है तो कुछ एक तो जेनेटिक होता है और कुछ होता है कि आप जोर से ज्यादा मीठा खाने मिल लेना स्टार्ट हो जाता है तू डायबिटीज का संबंध मिठास है और जितना आज आपका बढ़ते जा पति सतीश के बाद तो आपको मीठा फल नहीं खाना चाहिए जो मीठा होता है वह शरीर की एनर्जी बिटासिन को भी बहुत ज्यादा है सकता है आपके बॉडी भेजो एनर्जी होगा उसको वह एक तरह से कम बनाता है बीटा सेल को वह रोक देता तो मीठा खाइए आप पसंद कर तो जरूर खाइए लेकिन जिस तरह से आपका उम्र बढ़ता जाए तो उसको इन एक कम कर दीजिए अपने भोजन में कम कीजिए और एक्सरसाइज को थोड़ा सा पढ़ाई है ताकि आपकी बॉडी में लो अच्छा रहेगा ऑक्सीजन का ब्लड का टिशू काम करते हैं आपका अच्छे से थैंक यू
Namaste lekin meetha khaane ka sammaan daayabiteej se to hai ab jyaada khaoge to boyaphrend karega yah nahin karate hain ki aap thoda bahut kha rahe ho to aapako daayabiteej ho jaega kuchh kuchh kuchh jenetik hota hai is phaimilee se aata perents aata hai graindaphaadar chaahata hai to kuchh ek to jenetik hota hai aur kuchh hota hai ki aap jor se jyaada meetha khaane mil lena staart ho jaata hai too daayabiteej ka sambandh mithaas hai aur jitana aaj aapaka badhate ja pati sateesh ke baad to aapako meetha phal nahin khaana chaahie jo meetha hota hai vah shareer kee enarjee bitaasin ko bhee bahut jyaada hai sakata hai aapake bodee bhejo enarjee hoga usako vah ek tarah se kam banaata hai beeta sel ko vah rok deta to meetha khaie aap pasand kar to jaroor khaie lekin jis tarah se aapaka umr badhata jae to usako in ek kam kar deejie apane bhojan mein kam keejie aur eksarasaij ko thoda sa padhaee hai taaki aapakee bodee mein lo achchha rahega okseejan ka blad ka tishoo kaam karate hain aapaka achchhe se thaink yoo

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:37
डायबिटीज होता है वह हमारे शरीर के अंदर एक ग्रंथ होती है और वह ग्रंथि हार्मोन पैदा करके जिसका नाम है इंसुलिन इंसुलिन हार्मोन की कमी शर्करा बढ़ती है तो हर आदमी है उसको तो होती है लेकिन शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है तो इसलिए मेन बात है इंसुलिन का कम होना खत्म होना शरीर में जब इंसुलिन की कमी आती है तब डायबिटीज होती होती है
Daayabiteej hota hai vah hamaare shareer ke andar ek granth hotee hai aur vah granthi haarmon paida karake jisaka naam hai insulin insulin haarmon kee kamee sharkara badhatee hai to har aadamee hai usako to hotee hai lekin sharkara kee maatra badh jaatee hai to isalie men baat hai insulin ka kam hona khatm hona shareer mein jab insulin kee kamee aatee hai tab daayabiteej hotee hotee hai

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:06
सवाल ये है कि मैंने हाल ही में गूगल पर पड़ा कि मीठा खाने का संबंध डायबिटीज से है या नहीं कह सकते हैं या नहीं हां तो जी हां बिल्कुल सही है मीठा खाने से डायबिटीज का कोई वास्ता नहीं है कई लोग जो रोज मीठा खाते हैं उन्हें भी डायबिटीज नहीं होती जबकि कई डायबिटीज मरीज ऐसे भी होते हैं जो मीठा बिल्कुल नहीं खाते दरअसल डायबिटीज होने का कारण इंसुलिन की कमी या इन्सुलिन रेजिस्टेंस है मीठा खाना नहीं इसका यह मतलब कतई नहीं है कि डायबिटीज होने के बाद भी शुगर खाना उसकी मात्रा में बरकरार रखा जाए डायबिटीज के मरीज मिठाई डॉक्टर की तलाशी खा सकते हैं इसके साथ ही मिठास के लिए शक्कर की जगह पार्टी यानी कम कैलोरी वाला स्वीटनर का उपयोग करना है इसके लिए फायदेमंद होगा इसके साथ ही डायबिटीज को लेकर कई भ्रांतियां हैं जैसे कि 3000 वर्ष के बच्चों को डायबिटीज नहीं होती है कई लोगों का माना कि बहुत छोटे बच्चों बच्चों विशेषकर 2 से 4 साल की आयु वाले बच्चों को डायबिटीज होने की आशंका बिल्कुल नहीं होती जबकि इस उम्र में भी डायबिटीज हो सकती है बच्चों में डायबिटीज को टाइप वन डायबिटीज कहते हैं और ऐसा भी नहीं है कि आनुवांशिक होती है दरअसल पेनक्रियाज में बीता से सोते हैं जो वायरल इनफेक्शन ही किसी अन्य वजह से नष्ट हो जाते हैं यही बीटा सेल शरीर में इंसुलिन का निर्माण करते हैं और इनके नष्ट होने से ही इंसुलिन मात्रा में इंसुलिन की मात्रा शरीर में कम होने लगती है टाइप वन डायबिटीज इंसुलिन की कमी आती पृथ्वी तक होती है यह भी एक मत है कि यूरिन में ग्लूकोस आना बंद हो जाए तो शुगर की दवाई बंद की जा सकती है शुगर की कई मरीज यूरिन में ग्लूकोस के आधार पर दवाई की मात्रा कम या बंद कर देते हैं जबकि बिल्कुल गलत है यदि ग्लूकोज की मात्रा 100 मिलीग्राम से कम है तो ही थोड़ी दवाई कम की जा सकती है लेकिन वह भी डॉक्टर की सलाह के बाद ही करना चाहिए ब्लड ग्लूकोस दवाइयों के साथ नॉर्मल रहना चाहिए और रोज मेंटेन करना चाहिए यह भी एक मत है कि डायबिटीज के मरीजों को आलू चावल और फल खाना बना होता है और कई लोगों में यह में था कि डायबिटीज के मरीजों को मीठे फल आलू और चावल खाना बिल्कुल बंद कर देना चाहिए जबकि ऐसा नहीं है यह मरीज कोई भी फल 100 से 200 ग्राम प्रतिदिन खा सकते हैं आप ध्यान केवल इस बात का रखना होगा कि पल बहुत ज्यादा मीठी ना हो आलू और चावल का भी कभी-कभी थोड़ी मात्रा में खाए जा सकते हैं दरअसल डायबिटीज के मरीज हर वह चीज खा सकते हैं जो सामान्य व्यक्ति खा सकता है लेकिन उसका एक नियम होगा कभी-कभी मिठाई भी लेकर सीमित मात्रा में दवाई का मैं पढ़ लेना इसके लिए जरूरी है
Savaal ye hai ki mainne haal hee mein googal par pada ki meetha khaane ka sambandh daayabiteej se hai ya nahin kah sakate hain ya nahin haan to jee haan bilkul sahee hai meetha khaane se daayabiteej ka koee vaasta nahin hai kaee log jo roj meetha khaate hain unhen bhee daayabiteej nahin hotee jabaki kaee daayabiteej mareej aise bhee hote hain jo meetha bilkul nahin khaate darasal daayabiteej hone ka kaaran insulin kee kamee ya insulin rejistens hai meetha khaana nahin isaka yah matalab katee nahin hai ki daayabiteej hone ke baad bhee shugar khaana usakee maatra mein barakaraar rakha jae daayabiteej ke mareej mithaee doktar kee talaashee kha sakate hain isake saath hee mithaas ke lie shakkar kee jagah paartee yaanee kam kailoree vaala sveetanar ka upayog karana hai isake lie phaayademand hoga isake saath hee daayabiteej ko lekar kaee bhraantiyaan hain jaise ki 3000 varsh ke bachchon ko daayabiteej nahin hotee hai kaee logon ka maana ki bahut chhote bachchon bachchon visheshakar 2 se 4 saal kee aayu vaale bachchon ko daayabiteej hone kee aashanka bilkul nahin hotee jabaki is umr mein bhee daayabiteej ho sakatee hai bachchon mein daayabiteej ko taip van daayabiteej kahate hain aur aisa bhee nahin hai ki aanuvaanshik hotee hai darasal penakriyaaj mein beeta se sote hain jo vaayaral inaphekshan hee kisee any vajah se nasht ho jaate hain yahee beeta sel shareer mein insulin ka nirmaan karate hain aur inake nasht hone se hee insulin maatra mein insulin kee maatra shareer mein kam hone lagatee hai taip van daayabiteej insulin kee kamee aatee prthvee tak hotee hai yah bhee ek mat hai ki yoorin mein glookos aana band ho jae to shugar kee davaee band kee ja sakatee hai shugar kee kaee mareej yoorin mein glookos ke aadhaar par davaee kee maatra kam ya band kar dete hain jabaki bilkul galat hai yadi glookoj kee maatra 100 mileegraam se kam hai to hee thodee davaee kam kee ja sakatee hai lekin vah bhee doktar kee salaah ke baad hee karana chaahie blad glookos davaiyon ke saath normal rahana chaahie aur roj menten karana chaahie yah bhee ek mat hai ki daayabiteej ke mareejon ko aaloo chaaval aur phal khaana bana hota hai aur kaee logon mein yah mein tha ki daayabiteej ke mareejon ko meethe phal aaloo aur chaaval khaana bilkul band kar dena chaahie jabaki aisa nahin hai yah mareej koee bhee phal 100 se 200 graam pratidin kha sakate hain aap dhyaan keval is baat ka rakhana hoga ki pal bahut jyaada meethee na ho aaloo aur chaaval ka bhee kabhee-kabhee thodee maatra mein khae ja sakate hain darasal daayabiteej ke mareej har vah cheej kha sakate hain jo saamaany vyakti kha sakata hai lekin usaka ek niyam hoga kabhee-kabhee mithaee bhee lekar seemit maatra mein davaee ka main padh lena isake lie jarooree hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:22

Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:18
मीठी को लेकर अक्सर लोग पूछा करते हैं कि क्या मीठा खाने से डायबिटीज होती है कि मीठा खाने से नहीं डायबिटीज होती है लोग अंदर नहीं चाहता नहीं होती है लेकिन आपको ना साफ-साफ बता दो कि मिठाई खाने से डायबिटीज होती है लेकिन ऐसा नहीं कि अगर आप गाय में जब चाय में चीनी डालकर खा रहे हैं तो आपको डायबिटीज गई नहीं 1 डायबिटीज हमारी जैसी सही होता ना सही एक लिमिट होती है और हमेशा रहेगा महिला प्रेग्नेंट होती है तो उसको भी डायबिटीज का खतरा रहता है कि आज सत्य है आप सोए में गूगल भी कर सकते हैं वही बात मिठाई में डायबिटीज की तो अगर आप एक मिठाइयों को नियमित रूप से उसका सेवन करेंगे मित्रों से करेंगे हिसाब से खाएंगे जिससे कि आपके शरीर पर उसे कोई ज्यादा गलत प्रभाव पड़ता आपको डायबिटीज का कोई खतरा नहीं लेकिन अगर आप ऐसा मैंने पढ़ा बिल्कुल सर बिल्कुल गलत है ऐसा नहीं होता है डायबिटीज होती मीठा खाने से लेकिन वह मीठा आप जब से ज्यादा खा रहे हो तो आपको भी डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं और यदि आप कोई गुड नाइट हो गई तो आपको अपने मीठा खाना शरीर के लिए छोड़ना पड़ेगा लेना को यही शायद लूंगा कि आप मीठा कम से कम खाएं और मुझे कल दिन में एक बार ब्लैक कॉफी या ब्लैक टी ग्रीन टी के सेवन से क्या होगा मेटाबॉलिज्म फास्ट रहेगा आपकी पाचन तंत्र के लिए है वह भी अच्छी रहेगी

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
1:54
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है मैंने हाल ही में गूगल पर पड़ा कि मीठा खाने का संबंध डायबिटीज से नहीं है क्या यह सच है जी हां फ्रेंड की बिल्कुल भी सत्य है देखी फ्रेंड डायबिटीज का मतलब यह नहीं है कि मीठा खाने से ही होता है डायबिटीज के कारणों से होता है डायबिटीज अगर हम बहुत ज्यादा सोच रहे हैं किसी से सब्जेक्ट से विचार कर रहे हैं टेंशन में है डिप्रेशन में है उस कंडीशन में भी आपको डायबिटीज की प्रॉब्लम से जो है हो सकती हैं फ्रेंड्स आप जैसे इधर उधर का खाना बहुत ज्यादा खा रहे हैं तो वह सकती हैं फ्रेंड जब भी हमारी इमली सिस्टम जो है कमजोर होने लगती है वहीं से हमारे बॉडी में सारी बीमारियां जो है आने लगती है आपने देखा होगा इन्फेंट हमने खुद देखा है कई ऐसे बुड्ढों को कैसे बुजुर्ग बेटी को वह जो है बुड्ढे हो गए हैं लेकिन उनकी इमेज सिस्टम अभी भी मजबूत है और वह किसी भी प्रकार की जो है दवाई का सेवन नहीं करते ना उनको शुगर है ना उनको ब्लड प्रेशर है इसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है तो जहां तक मैंने जाना फ्रेंड जो निष्कर्ष निकाला है वह यही है कि अगर आपकी मिनी सिस्टम अच्छी है पाचन क्रिया अच्छी है तो आपको किसी प्रकार की कोई प्रॉब्लम नहीं आएंगी लेकिन अगर वही गड़बड़ है तो आपको सारी प्रॉब्लम से आने शुरू हो जाएंगे तो डिप्रेशन हो गया और भी कई प्रकार के जो है समस्याएं होती है मीठा हो भी हो गया एक समय के बाद आप थोड़ा मीठा ज्यादा सेवन करते हैं तो डायबिटीज की प्रॉब्लम होने लगती है और अगर आप ज्यादा सोचते भी चाहते हैं डिप्रेशन में रहते हैं तो उससे भी आपको शुगर की समस्या होने के चांसेस बढ़ जाते हैं तो आशा फ्रेंड कि आपको जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai mainne haal hee mein googal par pada ki meetha khaane ka sambandh daayabiteej se nahin hai kya yah sach hai jee haan phrend kee bilkul bhee saty hai dekhee phrend daayabiteej ka matalab yah nahin hai ki meetha khaane se hee hota hai daayabiteej ke kaaranon se hota hai daayabiteej agar ham bahut jyaada soch rahe hain kisee se sabjekt se vichaar kar rahe hain tenshan mein hai dipreshan mein hai us kandeeshan mein bhee aapako daayabiteej kee problam se jo hai ho sakatee hain phrends aap jaise idhar udhar ka khaana bahut jyaada kha rahe hain to vah sakatee hain phrend jab bhee hamaaree imalee sistam jo hai kamajor hone lagatee hai vaheen se hamaare bodee mein saaree beemaariyaan jo hai aane lagatee hai aapane dekha hoga inphent hamane khud dekha hai kaee aise buddhon ko kaise bujurg betee ko vah jo hai buddhe ho gae hain lekin unakee imej sistam abhee bhee majaboot hai aur vah kisee bhee prakaar kee jo hai davaee ka sevan nahin karate na unako shugar hai na unako blad preshar hai isee prakaar kee koee samasya nahin hai to jahaan tak mainne jaana phrend jo nishkarsh nikaala hai vah yahee hai ki agar aapakee minee sistam achchhee hai paachan kriya achchhee hai to aapako kisee prakaar kee koee problam nahin aaengee lekin agar vahee gadabad hai to aapako saaree problam se aane shuroo ho jaenge to dipreshan ho gaya aur bhee kaee prakaar ke jo hai samasyaen hotee hai meetha ho bhee ho gaya ek samay ke baad aap thoda meetha jyaada sevan karate hain to daayabiteej kee problam hone lagatee hai aur agar aap jyaada sochate bhee chaahate hain dipreshan mein rahate hain to usase bhee aapako shugar kee samasya hone ke chaanses badh jaate hain to aasha phrend ki aapako javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गूगल पर कैसे पढ़ाई करे ... जायदा मीठा खाने से क्या होता है
URL copied to clipboard