#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?

Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:36
सवाल है कि क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते वैसे ही हमारा व्यवहार होता है तो आज की दुनिया में जो व्यक्ति संस्कारी नहीं है वह पूर्ण नहीं है अच्छे-अच्छे संस्कारी एक अच्छे व्यक्तित्व का आधार होते हैं आदर्श व्यक्ति वही होता है जो अपने क्षेत्र में अच्छे संस्कारों का आयोजन करें आपके संस्कार आप के परिवार एवं आपकी पहचान को प्रदर्शित करते हैं एक गुणवान व्यक्ति तब तक गढ़वाल नहीं कहा जा सकता जब तक वह संस्कारी नहीं है अच्छे संस्कारों का अर्थ है माता-पिता अपने गुरुजन का आदर करना अपने से छोटे एवं बड़ों का भी आदर करना
Savaal hai ki kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote vaise hee hamaara vyavahaar hota hai to aaj kee duniya mein jo vyakti sanskaaree nahin hai vah poorn nahin hai achchhe-achchhe sanskaaree ek achchhe vyaktitv ka aadhaar hote hain aadarsh vyakti vahee hota hai jo apane kshetr mein achchhe sanskaaron ka aayojan karen aapake sanskaar aap ke parivaar evan aapakee pahachaan ko pradarshit karate hain ek gunavaan vyakti tab tak gadhavaal nahin kaha ja sakata jab tak vah sanskaaree nahin hai achchhe sanskaaron ka arth hai maata-pita apane gurujan ka aadar karana apane se chhote evan badon ka bhee aadar karana

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Jyoti Malik Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Jyoti जी का जवाब
Student
1:20
प्रश्न है कि क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार है तो वैसे ही हमारा व्यवहार है देखिए वर्तमान समय में व्यक्तियों में संस्कार का अभाव है वह अपने आप को साबित करने के लिए अपने नैतिक मूल्यों को भूलता जाता है जिससे समाज की दिशा ही परिवर्तित हो गई है आवश्यक है कि नैतिक मूल्यों के प्रति हो रही उदासीनता को खत्म किया जाए और तू व्यवस्थित और संस्कारी समाज की स्थापना की जाए कि मनुष्य अगर अच्छे संस्कार लिए हुए हैं तो उसका व्यवहार दूसरों के प्रति बड़ा ही नाराज होगा और वह दूसरों के बारे में बड़ा अच्छा सोचेगा मैं कभी किसी का बुरा नहीं चाहेगा और दूसरे भी जो व्यक्ति है उसे ज्यादा पसंद करेंगे लेकिन अगर उसे अपने संस्कार अच्छे ना मिले हो संस्कार हमें कहां से मिलते हैं हमारे परिवार हमारे रिश्तेदारों से हम जैसों ने बोलते हुए चलते हुए देखते हैं उसी प्रकार सभी करना चाहते हैं तो वही यह बात 99% तो सच ही है कि जो संस्कार होते हैं वही हमारे व्यवहार को दर्शाते हैं अगर अच्छे संस्कार होंगे तो आपकी जिंदगी में हर चीज अच्छी होगी और आप एक सफल जीवन भी जी सकते हैं धन्यवाद
Prashn hai ki kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hai to vaise hee hamaara vyavahaar hai dekhie vartamaan samay mein vyaktiyon mein sanskaar ka abhaav hai vah apane aap ko saabit karane ke lie apane naitik moolyon ko bhoolata jaata hai jisase samaaj kee disha hee parivartit ho gaee hai aavashyak hai ki naitik moolyon ke prati ho rahee udaaseenata ko khatm kiya jae aur too vyavasthit aur sanskaaree samaaj kee sthaapana kee jae ki manushy agar achchhe sanskaar lie hue hain to usaka vyavahaar doosaron ke prati bada hee naaraaj hoga aur vah doosaron ke baare mein bada achchha sochega main kabhee kisee ka bura nahin chaahega aur doosare bhee jo vyakti hai use jyaada pasand karenge lekin agar use apane sanskaar achchhe na mile ho sanskaar hamen kahaan se milate hain hamaare parivaar hamaare rishtedaaron se ham jaison ne bolate hue chalate hue dekhate hain usee prakaar sabhee karana chaahate hain to vahee yah baat 99% to sach hee hai ki jo sanskaar hote hain vahee hamaare vyavahaar ko darshaate hain agar achchhe sanskaar honge to aapakee jindagee mein har cheej achchhee hogee aur aap ek saphal jeevan bhee jee sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:41
गुड मॉर्निंग के लिए यह प्रश्न देखते हैं उन सभी आईआर बात बिल्कुल सच है दे आपके सुंदर चेहरा कमाल भी अच्छा ही होगा कि माता-पिता ने जोगापुरा दिए उनके हिसाब से वार करे किसी जाति हर वक्त काम उठाके सीसी का बहुत ज्यादा प्यार होता है तो दोस्त बहुत अच्छा है कि तुम सब अच्छा ही अच्छा पगार बढ़ेगा या नहीं और आपका बच्चा हुआ ज्यादा हो दोस्तों सब को फायदा है कोई दिक्कत वाली बात नहीं है तो चुप के
Gud morning ke lie yah prashn dekhate hain un sabhee aaeeaar baat bilkul sach hai de aapake sundar chehara kamaal bhee achchha hee hoga ki maata-pita ne jogaapura die unake hisaab se vaar kare kisee jaati har vakt kaam uthaake seesee ka bahut jyaada pyaar hota hai to dost bahut achchha hai ki tum sab achchha hee achchha pagaar badhega ya nahin aur aapaka bachcha hua jyaada ho doston sab ko phaayada hai koee dikkat vaalee baat nahin hai to chup ke

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:06
आज का दोस्तों प्लस नहीं क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है तो निश्चित रूप से दोस्तों जस्ता हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारे मस्तिष्क की एक आप कह सकते कि निर्माण जो हम सोचने की शक्ति उसके ऊपर निर्भर करती है जो हम अगर बच्चे को आप शुरू से संस्कार दोगे तो उसका जो पल होगा जब वह बड़ा होगा तो उसका आप को देखेंगे पैसे छाप उसके नजर आएगी मस्तिष्क में एक तरह से पिक्चर उसके साथ जाती है इसके अंदर जो संस्कार अच्छे होंगे तो व्यवहार अच्छा होगा संस्कार खराब होंगे लड़ाई झगड़े वाले होंगे तो निश्चित रूप से बच्चे लड़ाई झगड़े गाली गलौज करने वाले भी जब बड़े होते हैं तो वैसे ही होता है कि किस वह परिदृश्य में रह रहे हैं कहां पर वातावरण है कि लोगों से मुलाकात कर रहे हैं वह बहुत निश्चित पर निर्भर करता है बहुत बार ऐसा होता है कि अचानक कोई ऐसी घटना हो जाती है कई बार आप दिखने में बहुत काफी दुष्ट प्रवृत्ति के होते हैं घटना उनके चक्षु अपने आप खुल जाते हैं तो फिर बाद में भी परिवर्तन हो जाता है कि राशि देखने को आया है तो संस्कार सबसे बहुत अहम भूमिका निभाता है जीवन में धन्यवाद
Aaj ka doston plas nahin kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hee hamaara vyavahaar hota hai to nishchit roop se doston jasta hamaare sanskaar hote hain vaise hee hamaare mastishk kee ek aap kah sakate ki nirmaan jo ham sochane kee shakti usake oopar nirbhar karatee hai jo ham agar bachche ko aap shuroo se sanskaar doge to usaka jo pal hoga jab vah bada hoga to usaka aap ko dekhenge paise chhaap usake najar aaegee mastishk mein ek tarah se pikchar usake saath jaatee hai isake andar jo sanskaar achchhe honge to vyavahaar achchha hoga sanskaar kharaab honge ladaee jhagade vaale honge to nishchit roop se bachche ladaee jhagade gaalee galauj karane vaale bhee jab bade hote hain to vaise hee hota hai ki kis vah paridrshy mein rah rahe hain kahaan par vaataavaran hai ki logon se mulaakaat kar rahe hain vah bahut nishchit par nirbhar karata hai bahut baar aisa hota hai ki achaanak koee aisee ghatana ho jaatee hai kaee baar aap dikhane mein bahut kaaphee dusht pravrtti ke hote hain ghatana unake chakshu apane aap khul jaate hain to phir baad mein bhee parivartan ho jaata hai ki raashi dekhane ko aaya hai to sanskaar sabase bahut aham bhoomika nibhaata hai jeevan mein dhanyavaad

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
0:45
सवाल है क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है देखिए यह बात बिल्कुल सच है जैसा व्यक्ति व्यवहार करता है वैसा ही उसके संस्कारों का प्रदर्शन होता है संस्कारों से अर्थ इमानदारी त्याग अनुशासन साहस परिश्रम आदि गुणों से ही है इसके अभाव में हम सुखी व उन्नत जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते आज हर तरफ भौतिक विकास तो हो रहा है परंतु संस्कारों के अभाव में भैया वाह माहौल भी बनता जा रहा है इसलिए जैसे हमारे संस्कार होते हैं वह ऐसा ही हमारा व्यवहार होता है धन्यवाद
Savaal hai kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hee hamaara vyavahaar hota hai dekhie yah baat bilkul sach hai jaisa vyakti vyavahaar karata hai vaisa hee usake sanskaaron ka pradarshan hota hai sanskaaron se arth imaanadaaree tyaag anushaasan saahas parishram aadi gunon se hee hai isake abhaav mein ham sukhee va unnat jeevan kee kalpana bhee nahin kar sakate aaj har taraph bhautik vikaas to ho raha hai parantu sanskaaron ke abhaav mein bhaiya vaah maahaul bhee banata ja raha hai isalie jaise hamaare sanskaar hote hain vah aisa hee hamaara vyavahaar hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:08
क्या यह सच है जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार तो बिल्कुल जी बिल्कुल सही है यदि अगर आप से अपने बच्चे को अच्छे संस्कार दिए तो सब जगह वह आपका मान सम्मान करेगा उसे व्यवहार करेगा कहते हैं कि प्रात काल उठ के रघुनाथा मात पिता गुरु नावे माथा भगवान श्री रामचंद्र जी कोई संस्कार दिए गए थे गुरु जी ने उनको दिए थे कि जब उठिए माता पिता ईश्वर के समान होते हैं उनको संस्कार दिए गए कि जब उठने जैसे उठते थे सबसे पहले अपने माता पिता के चरणों को मिलो कोई स्पष्ट करते थे इसके बाद योग गुरु के चरण कमलों को स्पर्श करते थे तब जाकर का कार्य प्रारंभ करते थे इसलिए उनको सारे नियम बताए गए बड़ों का सम्मान करना बताया गया शिक्षा क्या है उनको दी गई तो शिक्षा संस्कार जितने भी हैं घर परिवार से ही उठे हैं और यह मनुष्य के प्रथम शिक्षालय मां होती है मां और पिता के द्वारा जो अच्छे गुण और बच्चों को सिखाए जाते हैं वही संस्कार बनते हैं और उन्हें संस्कारों का प्रतिफल जो है बच्चों को समाज में मां के रूप में प्राप्त होता है इसलिए बच्चों को जमा अच्छी शिक्षा देंगे तो आशीष अच्छी शिक्षा का परिणाम जो है वह भी हमको अच्छा ही प्राप्त होगा
Kya yah sach hai jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hee hamaara vyavahaar to bilkul jee bilkul sahee hai yadi agar aap se apane bachche ko achchhe sanskaar die to sab jagah vah aapaka maan sammaan karega use vyavahaar karega kahate hain ki praat kaal uth ke raghunaatha maat pita guru naave maatha bhagavaan shree raamachandr jee koee sanskaar die gae the guru jee ne unako die the ki jab uthie maata pita eeshvar ke samaan hote hain unako sanskaar die gae ki jab uthane jaise uthate the sabase pahale apane maata pita ke charanon ko milo koee spasht karate the isake baad yog guru ke charan kamalon ko sparsh karate the tab jaakar ka kaary praarambh karate the isalie unako saare niyam batae gae badon ka sammaan karana bataaya gaya shiksha kya hai unako dee gaee to shiksha sanskaar jitane bhee hain ghar parivaar se hee uthe hain aur yah manushy ke pratham shikshaalay maan hotee hai maan aur pita ke dvaara jo achchhe gun aur bachchon ko sikhae jaate hain vahee sanskaar banate hain aur unhen sanskaaron ka pratiphal jo hai bachchon ko samaaj mein maan ke roop mein praapt hota hai isalie bachchon ko jama achchhee shiksha denge to aasheesh achchhee shiksha ka parinaam jo hai vah bhee hamako achchha hee praapt hoga

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:30
सवाना क्या यह सच है कि हमारे संस्कार होते हैं वैसे हमारा व्यवहार होता है शत-प्रतिशत बात सही तो नहीं है लेकिन कुछ हद तक ऐसा होता है भूमि संस्कार मिलते हैं या जैसे हमारे संस्कार होते हैं उसी प्रकार से हमारे व्यवहार में परिवर्तन होता है और बदलाव आते हैं तो जीवन है संस्कार जानते हो नीचे अनुसार अगर हम रहे हमारे बिहार में जरूर परिवर्तन
Savaana kya yah sach hai ki hamaare sanskaar hote hain vaise hamaara vyavahaar hota hai shat-pratishat baat sahee to nahin hai lekin kuchh had tak aisa hota hai bhoomi sanskaar milate hain ya jaise hamaare sanskaar hote hain usee prakaar se hamaare vyavahaar mein parivartan hota hai aur badalaav aate hain to jeevan hai sanskaar jaanate ho neeche anusaar agar ham rahe hamaare bihaar mein jaroor parivartan

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:03
यह बात बिल्कुल सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे हमारे व्यवहार होते हैं आप किसी परिवार से उन्हें नए परिवार से मिली है जिनसे आप कभी नहीं मिली आप भी मतलब बस दो-तीन घंटे की अगर मुलाकात होती है आधे घंटे घंटे की मुलाकात होती है तो आप पाएंगे कि उस परिवार के सदस्यों के जो विचार हैं भाव भाव है बात करने का तरीका है मोरनी है रूम पर कि वह सभी बात वही मैच करती हूं उनके पेरेंट्स कि उनके बच्चों की वाइफ है उनकी भी तुम और आप कितनी भी कोशिश कर लो आपकी बात को मानने के लिए तैयार नहीं होते हैं अपनी बात को ज्यादा इंपोर्टेंट देते हैं और आप पाएंगे कि मतलब जो संस्कार होते हैं उनका ग्रीन नेचर के बातें और अगर बुधवार को लाइट होता है फैमिली का तो बाकी का भी जो है बुलेट होता है हमारी दो कि नहीं कह सकता हूं कई बार 12 फैमिली में कुछ लोग जो है मेरी फैमिली क्या लग रहा है कल दूसरी जगह रहती है या कुछ जगह उनके संस्कार है उनके व्यवहार या उनके थिंकिंग जो डिवेलप दूसरी जगह हुई होती है तो मैं उनके बारे में कर नहीं पाऊंगा कर रहे हैं देख लीजिए कि आपने देखा कि कई बार लोग अपने बूढ़े बुजुर्गों को देख लेते हैं साइड में जो बच्चा देता है जब बच्चे भी उनके साथ बात करते हुए मिलते हैं जैसे उन्होंने हमारे संस्कार जैसे होते हैं हमारा घर
Yah baat bilkul sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hamaare vyavahaar hote hain aap kisee parivaar se unhen nae parivaar se milee hai jinase aap kabhee nahin milee aap bhee matalab bas do-teen ghante kee agar mulaakaat hotee hai aadhe ghante ghante kee mulaakaat hotee hai to aap paenge ki us parivaar ke sadasyon ke jo vichaar hain bhaav bhaav hai baat karane ka tareeka hai moranee hai room par ki vah sabhee baat vahee maich karatee hoon unake perents ki unake bachchon kee vaiph hai unakee bhee tum aur aap kitanee bhee koshish kar lo aapakee baat ko maanane ke lie taiyaar nahin hote hain apanee baat ko jyaada importent dete hain aur aap paenge ki matalab jo sanskaar hote hain unaka green nechar ke baaten aur agar budhavaar ko lait hota hai phaimilee ka to baakee ka bhee jo hai bulet hota hai hamaaree do ki nahin kah sakata hoon kaee baar 12 phaimilee mein kuchh log jo hai meree phaimilee kya lag raha hai kal doosaree jagah rahatee hai ya kuchh jagah unake sanskaar hai unake vyavahaar ya unake thinking jo divelap doosaree jagah huee hotee hai to main unake baare mein kar nahin paoonga kar rahe hain dekh leejie ki aapane dekha ki kaee baar log apane boodhe bujurgon ko dekh lete hain said mein jo bachcha deta hai jab bachche bhee unake saath baat karate hue milate hain jaise unhonne hamaare sanskaar jaise hote hain hamaara ghar

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
2:49
आपका प्रश्न है क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है तो यह हंड्रेड परसेंट में कम से कम 50% सही है कि हमारे जैसे संस्कार होते हैं वैसा ही हमारा बिहेवियर होता है लेकिन 50% क्या होता है कि हमारा डीएनए असर करता है जी हां हमारा जो ब्लड सेल्स है हमारी डीएनए में हो सकता है कि बहुत ज्यादा गुस्सा करने वाले बहुत बुरी बुरी चीजें करने वाले लोगों का डीएनए भरा हो तो हम उस तरीके से भी करते हैं तो 50% हमारे संस्कार होते हैं 50% हमारी दिए नहीं कर रहा होता है और इसलिए कहते हैं कि अपने आप को जागरुक करो अपने आप को प्रेम करो अपने आप को बेहतरीन बनाओ कि आपका डीएनए धीरे-धीरे जो उस दिन में गंदगी भरी है वह ब्लॉकेज ऐसे ही हो जाए और आप भी और होना शुरू करें देखिए मैं यह नहीं कहूंगी क्या पूरी दुनिया को जाने समझे क्योंकि अंदर की दुनिया को समझना बहुत मुश्किल होता है लेकिन इसे जानने के लिए कोशिश करना पता यह नहीं कि हमने मान लिया हमने उस तरीके से देखना शुरू कर दिया तो कितने दिन 1 दिन 2 दिन 3 दिन देख पाएंगे हम उसके साथ दिन लेकिन पूरी जिंदगी ऐसे नहीं देख पाएंगे लेकिन जब तक हम यह नहीं जानेंगे कि अंदर की दुनिया को देखते कैसे हैं तब तक हम सिर्फ कुछ दिनों तक कह दिया गया के अंदर की दुनिया को देखो देखने का तरीका भी आना चाहिए और जिस दिन अपने अंदर की दुनिया को देखना शुरू कर दिया उस तरीके को पहचान लिया तो आप देखेंगे कि आपके अंदर का जो डीएनए आपसे खुद चेंज कर सकते हैं आप अपने संस्कार को बदल सकते हैं अपने आप को आप बहुत बेहतरीन बना सकते हैं अपने अभ्यास से जैसे आप एग्जाम को क्लियर करते हैं वैसे ही अपने अभ्यास से आप अपने संस्कार को भी और बेहतरीन बना सकते हैं अपनी बुद्धि को भी स्ट्रांग बना सकते अपने अभ्यास से तो हमारा 50% दिए नहीं होता है और 50% संस्कार होता है तो इसी तरीके से एक इंसान बिहेव करता है अब चाहे तो एक अच्छा इंसान बन सकता है क्योंकि नेगेटिविटी तो सबको अपनी तरफ खींचती है लेकिन पॉजिटिविटी की तरफ वही लोग जा सकते हैं जो खुद को सच में बदलना चाहते खुद को सच में बेहतरीन बनाना चाहते हो और दूसरों को बेहतरीन बनाने के पीछे नहीं रहते वह खुद को बेहतरीन बनाते हैं और वह चाहते हैं कि अगर मैं बेहतरीन बन रहा हूं तो मेरी हाई वाइब्रेशन से सभी लोगों परफेक्ट हो और अगर जिस पर इफेक्ट हो रहा है वह बेहतरीन बन जाएगा जिस पर नहीं हो रहा है वह बस सुनते ही रहेगा और कुछ नहीं कर पाएगा ठीक है तू अपनी वाइब्रेशन को अच्छा करिए थैंक यू सो मच
Aapaka prashn hai kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hee hamaara vyavahaar hota hai to yah handred parasent mein kam se kam 50% sahee hai ki hamaare jaise sanskaar hote hain vaisa hee hamaara biheviyar hota hai lekin 50% kya hota hai ki hamaara deeene asar karata hai jee haan hamaara jo blad sels hai hamaaree deeene mein ho sakata hai ki bahut jyaada gussa karane vaale bahut buree buree cheejen karane vaale logon ka deeene bhara ho to ham us tareeke se bhee karate hain to 50% hamaare sanskaar hote hain 50% hamaaree die nahin kar raha hota hai aur isalie kahate hain ki apane aap ko jaagaruk karo apane aap ko prem karo apane aap ko behatareen banao ki aapaka deeene dheere-dheere jo us din mein gandagee bharee hai vah blokej aise hee ho jae aur aap bhee aur hona shuroo karen dekhie main yah nahin kahoongee kya pooree duniya ko jaane samajhe kyonki andar kee duniya ko samajhana bahut mushkil hota hai lekin ise jaanane ke lie koshish karana pata yah nahin ki hamane maan liya hamane us tareeke se dekhana shuroo kar diya to kitane din 1 din 2 din 3 din dekh paenge ham usake saath din lekin pooree jindagee aise nahin dekh paenge lekin jab tak ham yah nahin jaanenge ki andar kee duniya ko dekhate kaise hain tab tak ham sirph kuchh dinon tak kah diya gaya ke andar kee duniya ko dekho dekhane ka tareeka bhee aana chaahie aur jis din apane andar kee duniya ko dekhana shuroo kar diya us tareeke ko pahachaan liya to aap dekhenge ki aapake andar ka jo deeene aapase khud chenj kar sakate hain aap apane sanskaar ko badal sakate hain apane aap ko aap bahut behatareen bana sakate hain apane abhyaas se jaise aap egjaam ko kliyar karate hain vaise hee apane abhyaas se aap apane sanskaar ko bhee aur behatareen bana sakate hain apanee buddhi ko bhee straang bana sakate apane abhyaas se to hamaara 50% die nahin hota hai aur 50% sanskaar hota hai to isee tareeke se ek insaan bihev karata hai ab chaahe to ek achchha insaan ban sakata hai kyonki negetivitee to sabako apanee taraph kheenchatee hai lekin pojitivitee kee taraph vahee log ja sakate hain jo khud ko sach mein badalana chaahate khud ko sach mein behatareen banaana chaahate ho aur doosaron ko behatareen banaane ke peechhe nahin rahate vah khud ko behatareen banaate hain aur vah chaahate hain ki agar main behatareen ban raha hoon to meree haee vaibreshan se sabhee logon paraphekt ho aur agar jis par iphekt ho raha hai vah behatareen ban jaega jis par nahin ho raha hai vah bas sunate hee rahega aur kuchh nahin kar paega theek hai too apanee vaibreshan ko achchha karie thaink yoo so mach

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:49
नमस्कार क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसा ही हमारा व्यापार होता है जी हां यह बिल्कुल सच है जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसा ही हमारा व्यवहार होता है कैसे देख कर हमारे संस्कार अच्छे होंगे तो हम अच्छा व्यवहार करेंगे गुस्सा नहीं करेंगे लेकिन अगर किसी के संस्कार बुरे हैं माता पिता ने बच्चे को सिखाया नहीं है कि बड़ों से कैसे बात करनी चाहिए अजनबी उसे कैसी बात करनी चाहिए दोस्तों से कैसे बात करनी चाहिए तो अगर इस प्रकार के जो लोग होते हैं वह बड़ों का ख्याल नहीं रखते हैं दूसरों का ख्याल नहीं रखते कैसे बोलना है सभ्यता से बोलना है या नहीं बोलना तो संस्कार हो सही पर बार बनता है अच्छे संस्कार होंगे तो वक्त अच्छा व्यवहार करेगा अच्छे संस्कार नहीं होंगे तो व्यक्ति बुरी बात
Namaskaar kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaisa hee hamaara vyaapaar hota hai jee haan yah bilkul sach hai jaise hamaare sanskaar hote hain vaisa hee hamaara vyavahaar hota hai kaise dekh kar hamaare sanskaar achchhe honge to ham achchha vyavahaar karenge gussa nahin karenge lekin agar kisee ke sanskaar bure hain maata pita ne bachche ko sikhaaya nahin hai ki badon se kaise baat karanee chaahie ajanabee use kaisee baat karanee chaahie doston se kaise baat karanee chaahie to agar is prakaar ke jo log hote hain vah badon ka khyaal nahin rakhate hain doosaron ka khyaal nahin rakhate kaise bolana hai sabhyata se bolana hai ya nahin bolana to sanskaar ho sahee par baar banata hai achchhe sanskaar honge to vakt achchha vyavahaar karega achchhe sanskaar nahin honge to vyakti buree baat

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:03
लता सच है कि जैसे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है जी हां दोस्तों बिल्कुल सत्य बात है जैसे आपके संस्कार होते हैं वैसे ही आपका व्यवहार होता है और एग्जांपल यदि आप देखें आपका व्यापार अच्छा है तो आपके संस्कार अच्छे हैं बच्चों के संस्कार जो एक परिवार के द्वारा दिए जाते हैं तो परिवार जब आपको संस्कार देता है तो उसी के अनुसार आपकी आवाज में किसी तरीके से उठा लीजिए सही बात है जैसी आप की संगत होगी वैसे आपका व्यवहार होगा आपने देखा होगा कि सड़े हुए क्योंकि उसे यानी कि सड़ा हुआ शेर को आपसे पुलिस चौकी टोकरी में रख देंगे तो उसके ऊपर के सारे से बिछड़ जाएंगे अब रखते हैं सारे तो वह फ्रेश ही रहेंगे तो संस्कार इसको बहुत ज्यादा आपके व्यवहार के ऊपर फर्क पड़ता है
Lata sach hai ki jaise sanskaar hote hain vaise hee hamaara vyavahaar hota hai jee haan doston bilkul saty baat hai jaise aapake sanskaar hote hain vaise hee aapaka vyavahaar hota hai aur egjaampal yadi aap dekhen aapaka vyaapaar achchha hai to aapake sanskaar achchhe hain bachchon ke sanskaar jo ek parivaar ke dvaara die jaate hain to parivaar jab aapako sanskaar deta hai to usee ke anusaar aapakee aavaaj mein kisee tareeke se utha leejie sahee baat hai jaisee aap kee sangat hogee vaise aapaka vyavahaar hoga aapane dekha hoga ki sade hue kyonki use yaanee ki sada hua sher ko aapase pulis chaukee tokaree mein rakh denge to usake oopar ke saare se bichhad jaenge ab rakhate hain saare to vah phresh hee rahenge to sanskaar isako bahut jyaada aapake vyavahaar ke oopar phark padata hai

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
Priyal dawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Priyal जी का जवाब
Future Doctor
1:15
छा गया है क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है तो मेरा मानना है कि यह सच है देखिए हमारी पर्सनालिटी जो होती है हमारा व्यक्तित्व जो हमारे संस्कारों का ही एक आईना होता है लेकिन यदि हम एक बच्चे को देखें तो उस बच्चे का दिमाग पूरी तरीके से खाली होता है खाली किताब की तरह होता है उसे नहीं पता होता है कि क्या सही है क्या गलत तुम वही हमारे बड़े जो होते हैं उसके बारे में सोचते हैं और उसके बड़े जो होते हैं भारत में जो कोई भी लोग हैं वही उसे सिखाते हैं कि क्या सही होता है और क्या गलत है कहीं आगे जाकर उसके व्यवहार में 10 बरस का है पता है कि वह सही डिसीजन ले रहा है या गलत सही कर रहा है या गलत क्योंकि जो मौसी के आया होता है वह वैसे ही रिसेशन आ कर भी लेता है देखिए एक व्यक्ति के लाइफ में हर बार दूर रास्ते होते हैं एक अच्छा होता है और एक बड़ा होता है वही वही हमें बचपन से जो सिखाया जाता है कि हमें क्या सही है मैंने क्या गलत कर रहे हैं वही वह आगे जाकर भी करता है वही सही रस्सी से लेना है या गलत डिसीजन लेना है वह उसके संस्कारों पर ही डिपेंड करता है तो मेरा मानना है कि हां सच में हमारे संस्कार ही होते हैं जो हमारे व्यवहार को डिसाइड करते हैं
Chha gaya hai kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hee hamaara vyavahaar hota hai to mera maanana hai ki yah sach hai dekhie hamaaree parsanaalitee jo hotee hai hamaara vyaktitv jo hamaare sanskaaron ka hee ek aaeena hota hai lekin yadi ham ek bachche ko dekhen to us bachche ka dimaag pooree tareeke se khaalee hota hai khaalee kitaab kee tarah hota hai use nahin pata hota hai ki kya sahee hai kya galat tum vahee hamaare bade jo hote hain usake baare mein sochate hain aur usake bade jo hote hain bhaarat mein jo koee bhee log hain vahee use sikhaate hain ki kya sahee hota hai aur kya galat hai kaheen aage jaakar usake vyavahaar mein 10 baras ka hai pata hai ki vah sahee diseejan le raha hai ya galat sahee kar raha hai ya galat kyonki jo mausee ke aaya hota hai vah vaise hee riseshan aa kar bhee leta hai dekhie ek vyakti ke laiph mein har baar door raaste hote hain ek achchha hota hai aur ek bada hota hai vahee vahee hamen bachapan se jo sikhaaya jaata hai ki hamen kya sahee hai mainne kya galat kar rahe hain vahee vah aage jaakar bhee karata hai vahee sahee rassee se lena hai ya galat diseejan lena hai vah usake sanskaaron par hee dipend karata hai to mera maanana hai ki haan sach mein hamaare sanskaar hee hote hain jo hamaare vyavahaar ko disaid karate hain

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:23
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हुए भी हमारा व्यवहार होता है बिल्कुल व्यवहार को आचरण कहते हैं अभी और आज तेरा हमारी उन गतिविधियों पर निर्भर करता है या उन गतिविधियों का प्रतिरूप माना जा सकता है जो हमने अपने मां-बाप से अपने परिवार से अपने समाज से सीखा है समझा आपने इसे कसाई का बच्चा है तो किसी बकरी पर गुस्सा करेगा तो उस शब्द बोले तो तुझे काट दूंगा लेकिन किसी पाल गडरिया आया उस बकरे को पालने वाले का बच्चा गुस्सा करेगा तो ज्यादा तू सिख कसाई को भेज दूंगा जैसे संस्कार होते हैं निश्चित रूप से व्यक्ति से आवाज आचरण वैसा ही होता और इसका सबसे बड़ा उदाहरण ले लीजिए अंग्रेजी में अगर लोकोक्ति लेंगे और हिंदी में लोग लोगों की लेंगे तो सूरदास ने एक पंथ दो काज के लिए क्या बढ़िया पद यूज़ किया है गोरस बेचन हरी मिलन एक फोन था तू काट देना लेकिन अंग्रेजी में अगर इसका रूपांतरण करेंगे तो होगा एक तीर से दो शिकार करना तुम्हारे हिंसात्मक गतिविधियां और हमारे प्यार की गतिविधियां इस संस्कार कम करें या अपने तो बात भी कहते हैं जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखी तिन तैसी और यह भावना जो है वह संस्कारों पर ही निर्भर करती है थैंक यू
Kya yah sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hue bhee hamaara vyavahaar hota hai bilkul vyavahaar ko aacharan kahate hain abhee aur aaj tera hamaaree un gatividhiyon par nirbhar karata hai ya un gatividhiyon ka pratiroop maana ja sakata hai jo hamane apane maan-baap se apane parivaar se apane samaaj se seekha hai samajha aapane ise kasaee ka bachcha hai to kisee bakaree par gussa karega to us shabd bole to tujhe kaat doonga lekin kisee paal gadariya aaya us bakare ko paalane vaale ka bachcha gussa karega to jyaada too sikh kasaee ko bhej doonga jaise sanskaar hote hain nishchit roop se vyakti se aavaaj aacharan vaisa hee hota aur isaka sabase bada udaaharan le leejie angrejee mein agar lokokti lenge aur hindee mein log logon kee lenge to sooradaas ne ek panth do kaaj ke lie kya badhiya pad yooz kiya hai goras bechan haree milan ek phon tha too kaat dena lekin angrejee mein agar isaka roopaantaran karenge to hoga ek teer se do shikaar karana tumhaare hinsaatmak gatividhiyaan aur hamaare pyaar kee gatividhiyaan is sanskaar kam karen ya apane to baat bhee kahate hain jaakee rahee bhaavana jaisee prabhu moorat dekhee tin taisee aur yah bhaavana jo hai vah sanskaaron par hee nirbhar karatee hai thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है क्या जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता
URL copied to clipboard