#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए?

Kya Kisan Andolan Ko Dabane Ke Sarkar Ke Sare Prayas Vifal Ho Gaye
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
क्या किसान आंदोलन को दबाने के हिसार करके सारे प्रयास विफल हो गए ऐसा अभी तक तो नहीं कहा जा सकता कि मामला इतना सीधा नहीं होता है अब सरकार की तरह ताकत बहुत ज्यादा होती है सरकार के पास पूरा एक सिस्टम होता है और हम लोगों को मालूम नहीं है ऐसी कुछ चीजें होती है जो सिगरेट से होती है उसका उपयोग कर सकते हैं और इसी के दम पर तो है सरकार इस तरह के डांस करती कितना भी बड़ा आंदोलन है उसको मैरिज करने का एक सरकार के पास तरीका होता है सरकार के इंटेलिजेंस उसके ऊपर लगे हुए रहते हैं एक पूरी अंतर ना इसके पीछे हमेशा कुरावर से लगी हुई रहती है फिर भी अगर आंदोलन कोई भी हो उस देश के हित में होगा और जनता के हित में हो तो किसी को कोई भी सरकार किसी फैसले को वापस ले सकते हैं जनता के हित को देखकर जनता की मांग को लेकर सरकार आखिर व्यक्ति होते हैं वह उनको झुकना पड़ता है इंदिरा गांधी ने भी आखिर उसको जितना झुकना पड़ा था तो इसमें दो चकित आए हैं यह तो किसानों को खालिस्तानी हूं कहकर कुछ आंदोलन जो है उसको दबाने के प्रयास उसे ग्रुप में कार्रवाई करके कुछ देर तक के लिए इसको एक जबरदस्त धक्का पर कर दे सकती है और अगर सरकार सरकार ने हनी लिया है और उसको विदेशी जो सत्य है उनका सपोर्ट है तो सरकार किस के सामने भारत के अंदर तो नहीं रुकेगी क्योंकि सारी दुनिया की सरकारी जिनके सामने झुकती है वह बहुत बड़ी शक्ति है और उसके दबाव के पीछे दबाव के कारण यह निर्णय लिया गया है तो जब तक वहां से इशारा नहीं मिलता और वह भी ऐसे ही नहीं होते उनकी भी स्टडी होती है वह भी कुछ समय भी कुछ कदम पीछे ले सकते हैं लेते हैं वह शक्ति कौन है वह शर्ट कितने बताओ वह दुनिया को चलाने वाले जो इंडस्ट्रियलिस्ट दुनिया की सबसे बड़ी पहले तेरा इंडस्ट्रियलिस्ट हैं और उनमें से तीन ऐसे अर्जुन अर्जुन का सुर सारी दुनिया पर राज चाहिए मोरगन किसिंजर बिल गेट्स आशिकी उसको कुछ उद्योगपति और इनके कैसे जाती है वह करना चाहते हैं और सारी ताकत उनके पास है लेकिन उनका एक सिद्धांत है कि वह शक्ति पर विश्वास रखते हैं पब्लिसिटी पर नहीं वह कभी भी पब्लिक सिटी नहीं करते अपने आप अपनी खुद की शक्ति रखते हैं वह सामने कभी भी नहीं आती इसके बारे में बहुत कुछ पुस्तक लिखी हुई है उनमें से एक किताब का नाम है बता भेजा था बैंकों का मायाजाल पूरी बैंकिंग सिस्टम पूरे विश्व के इतिहास में और सभी से करवा लेते हैं और उस पर चलता है संदेश चलते हैं इसलिए कुछ से हम लोग माय इंसान आदमियों को नहीं मालूम होती है और विश्वास नहीं होता है और उनके ही वोट बैंक के उनके हथियार के कारखाने हैं वहीं सेटेलाइट भेजते हैं यह दुनिया का सबसे ज्यादा सोना ही नहीं के पास तो इनके हैं दमोह में जब तक सरकार और उसमें शामिल व्यक्ति है तब तक वह तो डटे रहेंगे इसमें बड़ा ही का चांद हो सकता है बड़े लोगों की जान भी खतरे में है और जनता का भी एक आंदोलन होता है और वह भी है जब खतरनाक बन जाता है क्योंकि उसको भी उससे भी क्रांति या निकल कर आई है पूरे विश्व में कई सब लगभग सभी देशों में तो आपको कुछ खेल चल रहे हैं देखेंगे आगे आगे बताएं क्या धन्यवाद
Kya kisaan aandolan ko dabaane ke hisaar karake saare prayaas viphal ho gae aisa abhee tak to nahin kaha ja sakata ki maamala itana seedha nahin hota hai ab sarakaar kee tarah taakat bahut jyaada hotee hai sarakaar ke paas poora ek sistam hota hai aur ham logon ko maaloom nahin hai aisee kuchh cheejen hotee hai jo sigaret se hotee hai usaka upayog kar sakate hain aur isee ke dam par to hai sarakaar is tarah ke daans karatee kitana bhee bada aandolan hai usako mairij karane ka ek sarakaar ke paas tareeka hota hai sarakaar ke intelijens usake oopar lage hue rahate hain ek pooree antar na isake peechhe hamesha kuraavar se lagee huee rahatee hai phir bhee agar aandolan koee bhee ho us desh ke hit mein hoga aur janata ke hit mein ho to kisee ko koee bhee sarakaar kisee phaisale ko vaapas le sakate hain janata ke hit ko dekhakar janata kee maang ko lekar sarakaar aakhir vyakti hote hain vah unako jhukana padata hai indira gaandhee ne bhee aakhir usako jitana jhukana pada tha to isamen do chakit aae hain yah to kisaanon ko khaalistaanee hoon kahakar kuchh aandolan jo hai usako dabaane ke prayaas use grup mein kaarravaee karake kuchh der tak ke lie isako ek jabaradast dhakka par kar de sakatee hai aur agar sarakaar sarakaar ne hanee liya hai aur usako videshee jo saty hai unaka saport hai to sarakaar kis ke saamane bhaarat ke andar to nahin rukegee kyonki saaree duniya kee sarakaaree jinake saamane jhukatee hai vah bahut badee shakti hai aur usake dabaav ke peechhe dabaav ke kaaran yah nirnay liya gaya hai to jab tak vahaan se ishaara nahin milata aur vah bhee aise hee nahin hote unakee bhee stadee hotee hai vah bhee kuchh samay bhee kuchh kadam peechhe le sakate hain lete hain vah shakti kaun hai vah shart kitane batao vah duniya ko chalaane vaale jo indastriyalist duniya kee sabase badee pahale tera indastriyalist hain aur unamen se teen aise arjun arjun ka sur saaree duniya par raaj chaahie moragan kisinjar bil gets aashikee usako kuchh udyogapati aur inake kaise jaatee hai vah karana chaahate hain aur saaree taakat unake paas hai lekin unaka ek siddhaant hai ki vah shakti par vishvaas rakhate hain pablisitee par nahin vah kabhee bhee pablik sitee nahin karate apane aap apanee khud kee shakti rakhate hain vah saamane kabhee bhee nahin aatee isake baare mein bahut kuchh pustak likhee huee hai unamen se ek kitaab ka naam hai bata bheja tha bainkon ka maayaajaal pooree bainking sistam poore vishv ke itihaas mein aur sabhee se karava lete hain aur us par chalata hai sandesh chalate hain isalie kuchh se ham log maay insaan aadamiyon ko nahin maaloom hotee hai aur vishvaas nahin hota hai aur unake hee vot baink ke unake hathiyaar ke kaarakhaane hain vaheen setelait bhejate hain yah duniya ka sabase jyaada sona hee nahin ke paas to inake hain damoh mein jab tak sarakaar aur usamen shaamil vyakti hai tab tak vah to date rahenge isamen bada hee ka chaand ho sakata hai bade logon kee jaan bhee khatare mein hai aur janata ka bhee ek aandolan hota hai aur vah bhee hai jab khataranaak ban jaata hai kyonki usako bhee usase bhee kraanti ya nikal kar aaee hai poore vishv mein kaee sab lagabhag sabhee deshon mein to aapako kuchh khel chal rahe hain dekhenge aage aage bataen kya dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए?Kya Kisan Andolan Ko Dabane Ke Sarkar Ke Sare Prayas Vifal Ho Gaye
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:59
दोस्तों आपका प्रश्न है क्या किसान आंदोलन को दबाने की सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए हैं तो साथियों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से किसान आंदोलन को दबाने की सरकार के सारे प्रयास विफल इस प्रकार से हो गए क्योंकि किसान नेता राकेश टिकैत उनकी आंखों से निकले आंसू एक जवाला का काम कर गई क्योंकि हमारे देश की जनता किसानों के आंखों में आंसू को बर्दाश्त नहीं कर पाए क्योंकि हमारे देश की सरकार ने जो हमारे अन्नदाता ओं को जितना तंग परेशान किया है तब जाकर हमारे अन्नदाता के आंखों में आंसू आए हैं इनकी वजह से किसान आंदोलन को दबाने के सारे प्रयास विफल हो गए हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Doston aapaka prashn hai kya kisaan aandolan ko dabaane kee sarakaar ke saare prayaas viphal ho gae hain to saathiyon aapake savaal ka uttar is prakaar se kisaan aandolan ko dabaane kee sarakaar ke saare prayaas viphal is prakaar se ho gae kyonki kisaan neta raakesh tikait unakee aankhon se nikale aansoo ek javaala ka kaam kar gaee kyonki hamaare desh kee janata kisaanon ke aankhon mein aansoo ko bardaasht nahin kar pae kyonki hamaare desh kee sarakaar ne jo hamaare annadaata on ko jitana tang pareshaan kiya hai tab jaakar hamaare annadaata ke aankhon mein aansoo aae hain inakee vajah se kisaan aandolan ko dabaane ke saare prayaas viphal ho gae hain dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए?Kya Kisan Andolan Ko Dabane Ke Sarkar Ke Sare Prayas Vifal Ho Gaye
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:13
प्रश्न है क्या किसान आंदोलन को दबाने की सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए तुम कहेंगे कि बिल्कुल विफल हो गए अभी कल होनी भी चाहिए क्योंकि अगर सभी लोग उसका विरोध कर रहे हैं तो कहीं ना कहीं गलत है अगर कानून की बात करें तो कानून का कोई भी अगर देखा जाए किसान के साथ बहुत सारे लोग हैं जो विरोध कर रहे हैं उसके साथ-साथ मीडिया भी इसका विरोध करे लेकिन सभी मीडिया नहीं जो इनके चाहते हैं वह नहीं करेंगे लेकिन फिर भी अब मैं आपको बता दूं कि सरकार ने बहुत सारे प्रयास किए अपने मंत्री सांसद सभी को लगाया था कि आप इस बिल का आप किसी तरह उन्हें मोटिवेट करें लेकिन फिर भी नहीं माने तो सुप्रीम कोर्ट के पास भी गए सुप्रीम कोर्ट ने भी बहुत सारे आते हैं सुना है फिर भी किसान यूनियन किसान आंदोलनों के लोग किसान भाई लोग यह बात ही नहीं मानी वह कहे कि जब हमें इस चीज से चाहिए ही नहीं थी इसमें हम संशोधन किया मीटिंग या करके या कुछ हम इसमें फॉर्मेलिटी करके हमें कोई मतलब नहीं है अगर यह पूरी तरह से आप इसे रद्द कर यह तभी हम मानेंगे नहीं तो नहीं मानेंगे तो कहीं ना कहीं एक गलत चीज है जो सरकार आज पूरी तरह से विफल होगी और मुझे लगता है कि सरकार को इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ेगा किसान आंदोलन की वजह से
Prashn hai kya kisaan aandolan ko dabaane kee sarakaar ke saare prayaas viphal ho gae tum kahenge ki bilkul viphal ho gae abhee kal honee bhee chaahie kyonki agar sabhee log usaka virodh kar rahe hain to kaheen na kaheen galat hai agar kaanoon kee baat karen to kaanoon ka koee bhee agar dekha jae kisaan ke saath bahut saare log hain jo virodh kar rahe hain usake saath-saath meediya bhee isaka virodh kare lekin sabhee meediya nahin jo inake chaahate hain vah nahin karenge lekin phir bhee ab main aapako bata doon ki sarakaar ne bahut saare prayaas kie apane mantree saansad sabhee ko lagaaya tha ki aap is bil ka aap kisee tarah unhen motivet karen lekin phir bhee nahin maane to supreem kort ke paas bhee gae supreem kort ne bhee bahut saare aate hain suna hai phir bhee kisaan yooniyan kisaan aandolanon ke log kisaan bhaee log yah baat hee nahin maanee vah kahe ki jab hamen is cheej se chaahie hee nahin thee isamen ham sanshodhan kiya meeting ya karake ya kuchh ham isamen phormelitee karake hamen koee matalab nahin hai agar yah pooree tarah se aap ise radd kar yah tabhee ham maanenge nahin to nahin maanenge to kaheen na kaheen ek galat cheej hai jo sarakaar aaj pooree tarah se viphal hogee aur mujhe lagata hai ki sarakaar ko isaka khaamiyaaja bhee bhugatana padega kisaan aandolan kee vajah se

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए?Kya Kisan Andolan Ko Dabane Ke Sarkar Ke Sare Prayas Vifal Ho Gaye
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:33
बस वाले की क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए तुझे ऐसा नहीं है कि सामने खुद अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारी है सरकार को एक और मौका दे दिया दिया कुछ ऐसे तत्वों को अपने आवेदन में शामिल करके जिन्होंने लाल किले पर झंडा ले रहे हैं इससे सोनू के पास एक अच्छा मौका आ गया है इस आंदोलन को दबाने का तो अभी वापिस किसान बैकफुट पर चले गए हैं
Bas vaale kee kya kisaan aandolan ko dabaane ke sarakaar ke saare prayaas viphal ho gae tujhe aisa nahin hai ki saamane khud apane pair par kulhaadee maaree hai sarakaar ko ek aur mauka de diya diya kuchh aise tatvon ko apane aavedan mein shaamil karake jinhonne laal kile par jhanda le rahe hain isase sonoo ke paas ek achchha mauka aa gaya hai is aandolan ko dabaane ka to abhee vaapis kisaan baikaphut par chale gae hain

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए?Kya Kisan Andolan Ko Dabane Ke Sarkar Ke Sare Prayas Vifal Ho Gaye
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:34
क्या किसान आंदोलन को दबाने की सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए आप लोग कुछ भी कह सकते हो सरकार के विफल हो गए या किसान विफल हो गए इसमें आपको किसकी कम ही नजर आ रही है वैसे तो आप कयास कुछ भी लगा सकते हो लेकिन मैं मैं सरकार को दोषी कम समझता मैं यह भी मानता हूं कि सरकार ने गलतियां कर दी कानून को लागू कर लागू करके लेकिन अगर कानून कोई है तो क्या भारत को कानून की आवश्यकता नहीं थी किसानों को उसके मूल रूप में परिवर्तन किया जा सकता है और सरकार कह रही है कि हम 2 सालों के लिए होल्ड करके कमिटी बनाते हैं और दोनों तरफ से बैठ कर के जो मोनू जरूरतें हैं उसको बदलाव कर लीजिए तो फिर क्यों नहीं मानने को तैयार सरकार आंदोलन को कब दबा रही क्या आपको लगता है कि सरकार को पूरा छोड़ दे देना चाहिए कि दिल्ली के हर गली मोहल्ले में किसान घूमने लगे पर ले मनवा टैंकर ने लाल किले को पहले तोड़ चुके हैं क्या आप चाहते हो सरकार सब कुछ छोड़ दे उनको फ्री में कर देगी जो भी दिल करे आप करो बिकिनी कानून व्यवस्था और भी चीजें हैं सिर्फ किसान ही नहीं इस दुनिया में रहते हैं और भी लोग हैं और भी हैं उनकी वजह से कितनी बड़ी इंडस्ट्रीज आज तक तीनों वार्ड रूम पर प्रभावित हो रही उसको देखिए
Kya kisaan aandolan ko dabaane kee sarakaar ke saare prayaas viphal ho gae aap log kuchh bhee kah sakate ho sarakaar ke viphal ho gae ya kisaan viphal ho gae isamen aapako kisakee kam hee najar aa rahee hai vaise to aap kayaas kuchh bhee laga sakate ho lekin main main sarakaar ko doshee kam samajhata main yah bhee maanata hoon ki sarakaar ne galatiyaan kar dee kaanoon ko laagoo kar laagoo karake lekin agar kaanoon koee hai to kya bhaarat ko kaanoon kee aavashyakata nahin thee kisaanon ko usake mool roop mein parivartan kiya ja sakata hai aur sarakaar kah rahee hai ki ham 2 saalon ke lie hold karake kamitee banaate hain aur donon taraph se baith kar ke jo monoo jarooraten hain usako badalaav kar leejie to phir kyon nahin maanane ko taiyaar sarakaar aandolan ko kab daba rahee kya aapako lagata hai ki sarakaar ko poora chhod de dena chaahie ki dillee ke har galee mohalle mein kisaan ghoomane lage par le manava tainkar ne laal kile ko pahale tod chuke hain kya aap chaahate ho sarakaar sab kuchh chhod de unako phree mein kar degee jo bhee dil kare aap karo bikinee kaanoon vyavastha aur bhee cheejen hain sirph kisaan hee nahin is duniya mein rahate hain aur bhee log hain aur bhee hain unakee vajah se kitanee badee indastreej aaj tak teenon vaard room par prabhaavit ho rahee usako dekhie

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन को दबाने के सरकार के सारे प्रयास विफल हो गए?Kya Kisan Andolan Ko Dabane Ke Sarkar Ke Sare Prayas Vifal Ho Gaye
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:26
नमस्कार होता तो एक प्रयास जो सरकार कर रही थी वह कर रही थी कि इस समय बढ़ाते जाएं या नहीं जब किसानों का प्रदर्शन शुरू हुआ था ऐसा ना हो कि अभी भी नहीं वह बात करने लगते हैं कोशिश की कि एक-दो महीने रुकते हैं अगर क्यों नहीं लगता था कि एक 2 महीने में ही किसानों के चले जाएंगे वहां पर लेकिन ऐसा नहीं हो पाया कि सामने खड़े हैं दुख सांसदों ने छोड़ दिया है लेकिन अभी का आपके साथ है जो अपना हक की लड़ाई कर रहे हैं तू कहीं ना कहीं सरकार का यह प्रयास विफल रहा लेकिन किसान संगठन में कुछ लोग कुछ लोग थे जिन्होंने यह लाल किले पर जो झंडे पर आए वो कर के जो पब्लिक ओपिनियन है उसको काफी खराब कर दिया है और खासकर जो मीडिया है उसको एक मौका दे दिया प्रोफंडा पिलाने का वापस देख क्योंकि ऐसी कई सारी वीडियो देश में किसान की किसान को रोक रहे हैं कि लाल किले पर मत चलो कोई किसान किसी पुलिस वाले को मार रहे तो उसको भी रोकते हैं और ऐसी वीडियो जिसमें पुलिस कर रही है किसानों को कुछ नहीं कह रहे थे तो ऐसी वीडियो जो दूसरी तस्वीर भी मीडिया जो है तो मेरे को भी एक मौका दे दिया पब्लिक परसेप्शन निकालने का तो यहां पर कहीं ना कहीं किसान संगठन
Namaskaar hota to ek prayaas jo sarakaar kar rahee thee vah kar rahee thee ki is samay badhaate jaen ya nahin jab kisaanon ka pradarshan shuroo hua tha aisa na ho ki abhee bhee nahin vah baat karane lagate hain koshish kee ki ek-do maheene rukate hain agar kyon nahin lagata tha ki ek 2 maheene mein hee kisaanon ke chale jaenge vahaan par lekin aisa nahin ho paaya ki saamane khade hain dukh saansadon ne chhod diya hai lekin abhee ka aapake saath hai jo apana hak kee ladaee kar rahe hain too kaheen na kaheen sarakaar ka yah prayaas viphal raha lekin kisaan sangathan mein kuchh log kuchh log the jinhonne yah laal kile par jo jhande par aae vo kar ke jo pablik opiniyan hai usako kaaphee kharaab kar diya hai aur khaasakar jo meediya hai usako ek mauka de diya prophanda pilaane ka vaapas dekh kyonki aisee kaee saaree veediyo desh mein kisaan kee kisaan ko rok rahe hain ki laal kile par mat chalo koee kisaan kisee pulis vaale ko maar rahe to usako bhee rokate hain aur aisee veediyo jisamen pulis kar rahee hai kisaanon ko kuchh nahin kah rahe the to aisee veediyo jo doosaree tasveer bhee meediya jo hai to mere ko bhee ek mauka de diya pablik parasepshan nikaalane ka to yahaan par kaheen na kaheen kisaan sangathan

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन की मांग क्या है, किसान आंदोलन क्यों कर रहे हैं, किसानों की मांग क्या है
URL copied to clipboard