#undefined

bolkar speaker

क्या किसान आंदोलन यहां से अपनी मांगे मनवाने में सफल होगा?

Kya Kisan Andolan Yaha Se Apni Maange Manavane Me Safal Hoga
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:53
आपका प्रश्न है कि क्या किसान आंदोलन यहां से अपनी मांगे मनवाने में सफल होगा लेकिन पहली बात तो मुझे लगता नहीं है कि वह अपनी मांगे मनवाने में सफल होगा क्योंकि जो मुद्दे पर किसान इस बात का विरोध कर रहे हैं दूसरी तरफ वह किसान भी है वह करोड़ों किसान है जो कि नहीं रहा है लेकिन शांत स्वर में इस कृषि बिल का समर्थन कर रहा है और जो लोग इस कृषि बिल का विरोध कर रहे हैं और सरकार को अपनी बात मनवाने के लिए बातें करना चाहते हैं उन्होंने जिस तरह की गुंडई कि जिस तरीके से पुलिस अधिकारियों को पुलिस जवानों को जिस तरह से उनके साथ मारपीट की है जिस तरीके से उन्होंने लाल किला पर आक्रमण किया ऐसा दो विरोधी राष्ट्र करता है अपने देश के होते हुए हमारे देश की व्यवस्था को हमारे देश के स्वाभिमान को इस तरह नुकसान पहुंचाने वाले गुंडे कहां किसान हो सकते हैं यह अराजक तत्व है यह गुंडे हैं और अपनी गुंडई के बल पर यह देश की सरकार को बाध्य करना चाहते हैं और यकीन मानिए अगर आज इन गुंडों के कहने से अगर सरकार यहां भाग्य होती है तो मेरा तो कम से कम सरकार और लोकतंत्र में विश्वास नहीं रह जाएगा अगर ऐसा होता है तो मुझे लगता है कि फिर समाज में यह परंपरा चल पड़ेगी कि हर व्यक्ति अपनी बात मनवाने के लिए हाथ में एक लाठी और तलवार लेकर सड़क पर निकल जाएगा को पुलिस को प्रशासन को परिवार को समाज को देश को अपनी उस आतंकी कार्यवाही के बल पर झुकाना चाहिए इसलिए मैं बिल्कुल इस बात का समर्थन नहीं करता यह कृषि बिन बहुत अच्छा है जो छोटे किसान हैं जो सीमांत किसान है मध्यम किसान हैं उनके जीवन में एक वास्तविक परिवर्तन लाने वाला बिल है और जो बड़े-बड़े आरती हैं जिनकी खुद की मंडियां हैं जिन जिन के खुद के अपने गोदाम हैं उनको लग रहा है कि हमारी सत्ता यहां से चली जाएगी इसलिए वह लोग इस बिल का विरोध कर रहे हैं सरकार को कतई इनकी बात माननी ही नहीं चाहिए चाहे तो यहां पर 1 महीने 1 साल 10 सोशल पड़े रहें धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya kisaan aandolan yahaan se apanee maange manavaane mein saphal hoga lekin pahalee baat to mujhe lagata nahin hai ki vah apanee maange manavaane mein saphal hoga kyonki jo mudde par kisaan is baat ka virodh kar rahe hain doosaree taraph vah kisaan bhee hai vah karodon kisaan hai jo ki nahin raha hai lekin shaant svar mein is krshi bil ka samarthan kar raha hai aur jo log is krshi bil ka virodh kar rahe hain aur sarakaar ko apanee baat manavaane ke lie baaten karana chaahate hain unhonne jis tarah kee gundee ki jis tareeke se pulis adhikaariyon ko pulis javaanon ko jis tarah se unake saath maarapeet kee hai jis tareeke se unhonne laal kila par aakraman kiya aisa do virodhee raashtr karata hai apane desh ke hote hue hamaare desh kee vyavastha ko hamaare desh ke svaabhimaan ko is tarah nukasaan pahunchaane vaale gunde kahaan kisaan ho sakate hain yah araajak tatv hai yah gunde hain aur apanee gundee ke bal par yah desh kee sarakaar ko baadhy karana chaahate hain aur yakeen maanie agar aaj in gundon ke kahane se agar sarakaar yahaan bhaagy hotee hai to mera to kam se kam sarakaar aur lokatantr mein vishvaas nahin rah jaega agar aisa hota hai to mujhe lagata hai ki phir samaaj mein yah parampara chal padegee ki har vyakti apanee baat manavaane ke lie haath mein ek laathee aur talavaar lekar sadak par nikal jaega ko pulis ko prashaasan ko parivaar ko samaaj ko desh ko apanee us aatankee kaaryavaahee ke bal par jhukaana chaahie isalie main bilkul is baat ka samarthan nahin karata yah krshi bin bahut achchha hai jo chhote kisaan hain jo seemaant kisaan hai madhyam kisaan hain unake jeevan mein ek vaastavik parivartan laane vaala bil hai aur jo bade-bade aaratee hain jinakee khud kee mandiyaan hain jin jin ke khud ke apane godaam hain unako lag raha hai ki hamaaree satta yahaan se chalee jaegee isalie vah log is bil ka virodh kar rahe hain sarakaar ko katee inakee baat maananee hee nahin chaahie chaahe to yahaan par 1 maheene 1 saal 10 soshal pade rahen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन यहां से अपनी मांगे मनवाने में सफल होगा?Kya Kisan Andolan Yaha Se Apni Maange Manavane Me Safal Hoga
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:22
किसान नेता अजित सिंह ने अब आंदोलन में एंट्री कर ली है इसे हम जाट पॉलिटिक्स भी कहते हैं और किसान यहां से अपनी मांगे बिल्कुल मनवा कर ही रहेंगे या फिर सरकारी गिर जाएगी अराजकता का माहौल पैदा हो जाएगा और अमित शाह और मोदी को इस्तीफा देना पड़ सकता है धन्यवाद
Kisaan neta ajit sinh ne ab aandolan mein entree kar lee hai ise ham jaat politiks bhee kahate hain aur kisaan yahaan se apanee maange bilkul manava kar hee rahenge ya phir sarakaaree gir jaegee araajakata ka maahaul paida ho jaega aur amit shaah aur modee ko isteepha dena pad sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन यहां से अपनी मांगे मनवाने में सफल होगा?Kya Kisan Andolan Yaha Se Apni Maange Manavane Me Safal Hoga
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:22
किसान आंदोलन कब समाप्त होने जा रहा है तुम देख लेना क्योंकि किसानों ने आज पूरे भारत देश के निवासियों का अपमान किया है किसानों ने जो 26 जनवरी 2021 के दिन दिल्ली में उपद्रव किए हैं जो कार्य किए हैं और उनका पर्दाफाश हो रहा है उनके एक के लेटेस्ट सुना जा रहा है जो देश विरोधी जिन्होंने कार्य किए जिन्होंने आज अरस्ता का माहौल उत्पन्न किया जिन्होंने उपद्रव किया जिन पुलिसवालों को डंडों से तलवारों से मारा-पीटा अब उन किसानों को पूरा भारत देश के निवासी या पूरा संसार इज्जत की दृष्टि से नहीं दिख रहा है सम्मान की दृष्टि से नहीं देखा आज पूरे भारत के कोप के भजन है क्योंकि उन्होंने राष्ट्रीय ध्वज को जो अपमान किया है उसको कोई भी भारतीय कोई भी देशभक्त भारतीय कोई भी ईमानदार भारतीय कदापि सहन नहीं करेगा और इसलिए यह घृणा के पात्र हो गए हैं किसानों को अन्नदाता के करके भारत देश वासी सम्मान देते थे अन्नदाता एक राजा को कहा जाता है उसको कहा जाता है जो व्यक्ति सब का भरण पोषण करता है इनको इतना सम्मानित शब्द था किंतु उन्होंने 26 जनवरी 2021 को जो 15 किया जो राष्ट्रध्वज का अपमान किया जो दिल्ली में मारकाट कि उसे इनका नाम आज इतना कुख्यात हो गया इतना गलत हो गया है कि हर देशवासी आज उन पर घटा की दृष्टि से देख रहा है शंकर की नजर से देख रहा है देशद्रोही मान रहा है देशद्रोही मान रहा है तो मेरे विचार से शायद उनकी मांगों पर तो सरकार ने विचार किया था जो जनता की संपत्ति उनके साथी एक बार किसानों की मांगों को मानना चाहिए किसानों की जो जायज मांगे हैं उनका समर्थन जो देशवासी कर रहे थे आज सभी लोग घृणा के कारण से इनके ऊपर दबाव के कारण से इन के उछाटा के माहौल से इस देश विरोधी राष्ट्र को उतारने के कार्य से 5 दिन से क्या कर रहा है नफरत की दृष्टि से देख रहा है और कोई भी भारतवासी शायद उनकी मांगें मनवाने के लिए समर्थन नहीं करेगा इन किसानों की गलती यह थी इनको देश विरोधी देश का विभाजन चाहने वाले देश को बर्बाद करने वाले लीडर्स को पहचान करके अपने आंदोलन से पृथक करना चाहिए था बल्कि उन्होंने वो नहीं किया बल्कि उसके लिए यह डस वहां जाकर के गारंटी देख कर के आए पुलिस की 36 शब्दों को स्वीकार करके आए और आने के बाद में उन्होंने उस शब्द को शिकार करने के बाद में उन्होंने उपद्रव किया यह रिश्ता का माहौल पैदा किया भारत सरकार को उन को छोड़ना नहीं चाहिए 35 लीटर को सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए जिससे भविष्य में कोई भी भारतीय राष्ट्रीय ध्वज के साथ इतना अपमानजनक व्यवहार ना कर सके उतना अनुचित आचरण ना कर सके और उत्साह का माहौल पैदा ना कर सके इसलिए मैं सोच रहा हूं शायद आज कोई भारत देश का नक्शा नागरिक किसान आंदोलन का समर्थन नहीं करेगा कदापि नहीं करेगा क्योंकि यदि उन्होंने ऊपर नहीं किया हो तो अराजकता पैदा नहीं पैदा की होती यदि राष्ट्र ध्वज का अपमान नहीं किया होता तो आज पूरा भारत उनका समर्थन कर रहा था इस बात का कह रहे थे कि वह किसानों की जायज मांगों को आना जाना चाहिए हमारे देश के अन्नदाता हैं लेकिन उन को कार्यो ने उन संतो नी वार्ता के माहौल ने देश विरोधी को कारिणी राष्ट्रध्वज के अपमान ने आज इन्हें मीणा का पात्र बना दिया है नंदनीय बना दिया है और आज भारत वासियों ने सम्मान की दृष्टि से नहीं देखते हैं और ना ही आंदोलन का समर्थन करते हैं
Kisaan aandolan kab samaapt hone ja raha hai tum dekh lena kyonki kisaanon ne aaj poore bhaarat desh ke nivaasiyon ka apamaan kiya hai kisaanon ne jo 26 janavaree 2021 ke din dillee mein upadrav kie hain jo kaary kie hain aur unaka pardaaphaash ho raha hai unake ek ke letest suna ja raha hai jo desh virodhee jinhonne kaary kie jinhonne aaj arasta ka maahaul utpann kiya jinhonne upadrav kiya jin pulisavaalon ko dandon se talavaaron se maara-peeta ab un kisaanon ko poora bhaarat desh ke nivaasee ya poora sansaar ijjat kee drshti se nahin dikh raha hai sammaan kee drshti se nahin dekha aaj poore bhaarat ke kop ke bhajan hai kyonki unhonne raashtreey dhvaj ko jo apamaan kiya hai usako koee bhee bhaarateey koee bhee deshabhakt bhaarateey koee bhee eemaanadaar bhaarateey kadaapi sahan nahin karega aur isalie yah ghrna ke paatr ho gae hain kisaanon ko annadaata ke karake bhaarat desh vaasee sammaan dete the annadaata ek raaja ko kaha jaata hai usako kaha jaata hai jo vyakti sab ka bharan poshan karata hai inako itana sammaanit shabd tha kintu unhonne 26 janavaree 2021 ko jo 15 kiya jo raashtradhvaj ka apamaan kiya jo dillee mein maarakaat ki use inaka naam aaj itana kukhyaat ho gaya itana galat ho gaya hai ki har deshavaasee aaj un par ghata kee drshti se dekh raha hai shankar kee najar se dekh raha hai deshadrohee maan raha hai deshadrohee maan raha hai to mere vichaar se shaayad unakee maangon par to sarakaar ne vichaar kiya tha jo janata kee sampatti unake saathee ek baar kisaanon kee maangon ko maanana chaahie kisaanon kee jo jaayaj maange hain unaka samarthan jo deshavaasee kar rahe the aaj sabhee log ghrna ke kaaran se inake oopar dabaav ke kaaran se in ke uchhaata ke maahaul se is desh virodhee raashtr ko utaarane ke kaary se 5 din se kya kar raha hai napharat kee drshti se dekh raha hai aur koee bhee bhaaratavaasee shaayad unakee maangen manavaane ke lie samarthan nahin karega in kisaanon kee galatee yah thee inako desh virodhee desh ka vibhaajan chaahane vaale desh ko barbaad karane vaale leedars ko pahachaan karake apane aandolan se prthak karana chaahie tha balki unhonne vo nahin kiya balki usake lie yah das vahaan jaakar ke gaarantee dekh kar ke aae pulis kee 36 shabdon ko sveekaar karake aae aur aane ke baad mein unhonne us shabd ko shikaar karane ke baad mein unhonne upadrav kiya yah rishta ka maahaul paida kiya bhaarat sarakaar ko un ko chhodana nahin chaahie 35 leetar ko sakht se sakht saja denee chaahie jisase bhavishy mein koee bhee bhaarateey raashtreey dhvaj ke saath itana apamaanajanak vyavahaar na kar sake utana anuchit aacharan na kar sake aur utsaah ka maahaul paida na kar sake isalie main soch raha hoon shaayad aaj koee bhaarat desh ka naksha naagarik kisaan aandolan ka samarthan nahin karega kadaapi nahin karega kyonki yadi unhonne oopar nahin kiya ho to araajakata paida nahin paida kee hotee yadi raashtr dhvaj ka apamaan nahin kiya hota to aaj poora bhaarat unaka samarthan kar raha tha is baat ka kah rahe the ki vah kisaanon kee jaayaj maangon ko aana jaana chaahie hamaare desh ke annadaata hain lekin un ko kaaryo ne un santo nee vaarta ke maahaul ne desh virodhee ko kaarinee raashtradhvaj ke apamaan ne aaj inhen meena ka paatr bana diya hai nandaneey bana diya hai aur aaj bhaarat vaasiyon ne sammaan kee drshti se nahin dekhate hain aur na hee aandolan ka samarthan karate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन की मांग, किसान आंदोलन की क्या मांग है, क्या किसान आंदोलन सफल होगा
URL copied to clipboard