#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?

Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:25
नहीं उनके शासनकाल में किसानों का कोई भी समाधान नहीं हुआ उनको उलझा दिया गया मोदी सरकार द्वारा किसानों को एकदम उलझा कर रख दिया गया उनके द्वारा किसानों के लिए कोई काम नहीं किया गया सभी काम जो किया कि पूंजी पतियों के लिए किया गया आप कहां से उठा कर के देख सकते हैं उनकी सिस्टर
Nahin unake shaasanakaal mein kisaanon ka koee bhee samaadhaan nahin hua unako ulajha diya gaya modee sarakaar dvaara kisaanon ko ekadam ulajha kar rakh diya gaya unake dvaara kisaanon ke lie koee kaam nahin kiya gaya sabhee kaam jo kiya ki poonjee patiyon ke lie kiya gaya aap kahaan se utha kar ke dekh sakate hain unakee sistar

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:09
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ है अब आप मानने को तैयार ना हो उसमें कोई कुछ कह नहीं सकता मोदी सरकार ने तो बेहतर करने का प्रयास किया है और जिससे किसानों का आंदोलन को लंदन का रूप दिया गया और भी बहुत सारी चीजें हैं कहीं दुर्भाग्यपूर्ण है निश्चित तौर पर हम कह सकते हैं कि इस तरह की हरकते हैं वह कहीं नहीं गए हैं ठीक नहीं है आप शुरू से देखिए इन 70 सालों में किसानों के लिए मुझे लगता है कहीं की एक बेहतर प्लेटफार्म दिए गए हैं बेहतर चीजें जहां तक यूरिया के समस्या कहो जहां तक दूसरे प्रकार की चीजें इन सब चीजों को मैं देख रहा हूं कि अच्छा हुआ है तो निश्चित तौर पर एक बेहतर है
Kya modee sarakaar ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasyaon ka samaadhaan hua hai ab aap maanane ko taiyaar na ho usamen koee kuchh kah nahin sakata modee sarakaar ne to behatar karane ka prayaas kiya hai aur jisase kisaanon ka aandolan ko landan ka roop diya gaya aur bhee bahut saaree cheejen hain kaheen durbhaagyapoorn hai nishchit taur par ham kah sakate hain ki is tarah kee harakate hain vah kaheen nahin gae hain theek nahin hai aap shuroo se dekhie in 70 saalon mein kisaanon ke lie mujhe lagata hai kaheen kee ek behatar pletaphaarm die gae hain behatar cheejen jahaan tak yooriya ke samasya kaho jahaan tak doosare prakaar kee cheejen in sab cheejon ko main dekh raha hoon ki achchha hua hai to nishchit taur par ek behatar hai

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:18
नमस्कार श्रोताओं के मोदी के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ है तो नहीं और मेरा मानना है कि ग्रीन रिवॉल्यूशन के बाद से जो भी किसानों में दिक्कत आई थी उनको ग्रीनोवेशन में तो काफी अच्छा रहा काफी काफी ज्यादा मात्रा में फसलें उगाई गई जरूरी फसलें उगाई गई और किसानों ने काफी अच्छे दामों में बेचा भी एमएसपी का भी काफी अच्छा इस्तेमाल हुआ किसानों को काफी दिक्कत है आई और सरकार कोई भी आई कोई भी कई कई सारे नियम बनाए गए होंगे लेकिन अब भी किसानों को आम ज्यादा मदद नहीं मिल पाती है खासकर की जो छोटे किसान हैं जिन पर गलत तरीके से कर्जा होता है यानी वह किसी से पैसे लेते हैं और उन पर जो गलत तरीके से कर्जा लगाया जाता है जो बहुत बड़े इंटरेस्ट पर कर्जा लगा दिया जाता है कुछ लोग लगा देते उन पर तो वह वाली समस्या भी हल नहीं हुई है और किसान को छोटे के साथ हैं उनको अपनी फसलों का असली नाम भी नहीं मिल पा रहा तो मोदी सरकार हो या कांग्रेस की सरकार हो दोनों ही समय में समस्या बराबर रही है
Namaskaar shrotaon ke modee ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasyaon ka samaadhaan hua hai to nahin aur mera maanana hai ki green rivolyooshan ke baad se jo bhee kisaanon mein dikkat aaee thee unako greenoveshan mein to kaaphee achchha raha kaaphee kaaphee jyaada maatra mein phasalen ugaee gaee jarooree phasalen ugaee gaee aur kisaanon ne kaaphee achchhe daamon mein becha bhee emesapee ka bhee kaaphee achchha istemaal hua kisaanon ko kaaphee dikkat hai aaee aur sarakaar koee bhee aaee koee bhee kaee kaee saare niyam banae gae honge lekin ab bhee kisaanon ko aam jyaada madad nahin mil paatee hai khaasakar kee jo chhote kisaan hain jin par galat tareeke se karja hota hai yaanee vah kisee se paise lete hain aur un par jo galat tareeke se karja lagaaya jaata hai jo bahut bade intarest par karja laga diya jaata hai kuchh log laga dete un par to vah vaalee samasya bhee hal nahin huee hai aur kisaan ko chhote ke saath hain unako apanee phasalon ka asalee naam bhee nahin mil pa raha to modee sarakaar ho ya kaangres kee sarakaar ho donon hee samay mein samasya baraabar rahee hai

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:20
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ या नहीं अगर समाधान होता तो आज जो हंगामा चल रहा है वह दिखाई देता किसान संसद तक पहुंचे चाहे किसी भी राज्य के हो किसी भी धर्म के हो और किसी भी जाति के हो लेकिन काम किसानों का करते हैं खेती में मेहनत करते हैं और पूरे दुनिया को ड्यूटी सभी विज्ञान विज्ञान नहीं बना सका टेक्नोलॉजी नहीं बना सका वह है वह देने वाला किसान होता है और दुनिया की कोई सरकार जो है कोई भी सरकार किसानों के प्रति एक ही नेगेटिव ट्रेडइजी या षड्यंत्र नहीं कर सकती और अगर किया तो उसका परिणाम है पूरे समाज को वोट ना पड़े प्राइवेट प्राइवेटाइजेशन एक बहुत बड़ा आक्रमण था समाज पर समाज को लगा कि अब पूरी दुनिया निकट आ जाएगी लेकिन सिर्फ बिजनेस निकट आए और बिजनेस बिजनेसमैन के होते हैं किसी देश के नहीं होते कंपनी का मालिक होता है देश नहीं होता तो इस तरह किसानों की बारी आ गई उनके पास एक ही चीज होती है वह होती है उनकी जमीन और जमीन पर जब कोई संकट दिखाई देता है तो पूरे समाज पर वह संकट होता है चाहे मोदी की सरकार हो या कांग्रेस की दोनों की स्टडीज ही रही है एक ही रही है धोरण नहीं बदलते हैं चेहरे बदलते हैं महाराष्ट्र में भी चेहरा बदला लेकर दोनों निरहुआ नहीं बदला कार्यपद्धती नहीं बदली व्यवस्था नहीं बदली भाई पुरानी चीजें चल रही है अरे इसलिए होता है कि वह आपस में जुड़े एक दूसरे से मिले हुए होते हैं और कंप्रोमाइज करके सत्ता को बांट लेते हैं और ऐसे लोग जो है वह किसानों की समस्याओं के प्रति अच्छे ख्यालिया योजना या मदद नियोजन करना नहीं चाहती भारत देश स्वतंत्र होने के बाद उसे भी सही नहीं किया गया है उस वक्त वही सब को समझता समझ में आ रहा था आदमी सब को समझता है जैसे जनसंख्या बढ़ी की वजह से जमीन छुट्टी छुट्टी हो जाएगी एक एक व्यक्ति को आधा एकर उससे भी कम जमीन रह जाएगी तो इसके लिए कोई लंबी स्ट्रेटजी बनाने चाहिए थे नंबर लंबा निवेदन करना चाहिए था लेकिन 70 साल में किसी भी सरकार ने नहीं किया और किसानों की संख्या तो बढ़ गई जमीन उतनी ही रहे और किसी में भी मर्यादा होती है ऊपर न कि तुम बहुत सारे लोग शहरों में गए नए युवक दूसरे राज्यों में गए लेकिन किसान का जो सरकार का धोरण है वह नहीं बदला और ना मोदी सरकार के काल में भला है और ना मोदी सरकार के काल में किसानों की समस्याओं का हल हो जाए बिल्कुल नहीं आलू भाई और लगातार किसान मुश्किल में जाते हुए नजर आते हैं धन्यवाद
Kya modee sarakaar ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasyaon ka samaadhaan hua ya nahin agar samaadhaan hota to aaj jo hangaama chal raha hai vah dikhaee deta kisaan sansad tak pahunche chaahe kisee bhee raajy ke ho kisee bhee dharm ke ho aur kisee bhee jaati ke ho lekin kaam kisaanon ka karate hain khetee mein mehanat karate hain aur poore duniya ko dyootee sabhee vigyaan vigyaan nahin bana saka teknolojee nahin bana saka vah hai vah dene vaala kisaan hota hai aur duniya kee koee sarakaar jo hai koee bhee sarakaar kisaanon ke prati ek hee negetiv tredijee ya shadyantr nahin kar sakatee aur agar kiya to usaka parinaam hai poore samaaj ko vot na pade praivet praivetaijeshan ek bahut bada aakraman tha samaaj par samaaj ko laga ki ab pooree duniya nikat aa jaegee lekin sirph bijanes nikat aae aur bijanes bijanesamain ke hote hain kisee desh ke nahin hote kampanee ka maalik hota hai desh nahin hota to is tarah kisaanon kee baaree aa gaee unake paas ek hee cheej hotee hai vah hotee hai unakee jameen aur jameen par jab koee sankat dikhaee deta hai to poore samaaj par vah sankat hota hai chaahe modee kee sarakaar ho ya kaangres kee donon kee stadeej hee rahee hai ek hee rahee hai dhoran nahin badalate hain chehare badalate hain mahaaraashtr mein bhee chehara badala lekar donon nirahua nahin badala kaaryapaddhatee nahin badalee vyavastha nahin badalee bhaee puraanee cheejen chal rahee hai are isalie hota hai ki vah aapas mein jude ek doosare se mile hue hote hain aur kampromaij karake satta ko baant lete hain aur aise log jo hai vah kisaanon kee samasyaon ke prati achchhe khyaaliya yojana ya madad niyojan karana nahin chaahatee bhaarat desh svatantr hone ke baad use bhee sahee nahin kiya gaya hai us vakt vahee sab ko samajhata samajh mein aa raha tha aadamee sab ko samajhata hai jaise janasankhya badhee kee vajah se jameen chhuttee chhuttee ho jaegee ek ek vyakti ko aadha ekar usase bhee kam jameen rah jaegee to isake lie koee lambee stretajee banaane chaahie the nambar lamba nivedan karana chaahie tha lekin 70 saal mein kisee bhee sarakaar ne nahin kiya aur kisaanon kee sankhya to badh gaee jameen utanee hee rahe aur kisee mein bhee maryaada hotee hai oopar na ki tum bahut saare log shaharon mein gae nae yuvak doosare raajyon mein gae lekin kisaan ka jo sarakaar ka dhoran hai vah nahin badala aur na modee sarakaar ke kaal mein bhala hai aur na modee sarakaar ke kaal mein kisaanon kee samasyaon ka hal ho jae bilkul nahin aaloo bhaee aur lagaataar kisaan mushkil mein jaate hue najar aate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Gmind institute
1:26
देखिए जहां तक किसानों की बात है अगर इस मोदी सरकार की बात आप करेंगे और अन्य गवर्नमेंट की तुलना इस सरकार से करेंगे तो निश्चित रूप से यह सरकार बेहतर रूप से काम की है अगर किसानों की बात की जाए उनके मुद्दों की बात की जाए तो जितने भी स्कीम्स गवर्नमेंट ने चलाई है वह काफी कारगर भी साबित हुई हैं नेशनल मिशन फॉर सस्टेनेबल एग्रीकल्चर इसी गवर्नमेंट की शुरुआत की हुई योजना है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना जिसमें कि किसानों को जो उनकी फसलें बर्बाद हो जाती थी उनका बीमा देना प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना किसानों को कम पैसे में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराना प्रधानमंत्री कृषि विकास योजना और इसके अलावा प्रधानमंत्री जो कृषि किसान विकास निधि है जो ₹2000 किसानों को मिलती है और सबसे ज्यादा पैसा उनके अकाउंट में ट्रांसफर हुआ है तो इसी सरकार की देन है अब कुछ एक मुद्दे हैं जिस पर किसान सहमत नहीं है और सरकार ने उस पर बातचीत भी की की है और जब कभी भी सरकार किसानों की बात आती है तो उस पर सुनती भी है अब रही बात एमएसपी की तो मिनिमम सपोर्ट प्राइस भी आप देखेंगे कि अच्छे तरीके से बीजेपी की सरकारी जहां पर भी है वहां किसानों को दिया जा रहा है लेकिन केवल समझ का अंतर है और किसान जो आंदोलन कर रहे हैं कुछेक स्थानों पर उस पर भी सरकार ने अपनी कई मुद्दों पर सहमति भी जताई है
Dekhie jahaan tak kisaanon kee baat hai agar is modee sarakaar kee baat aap karenge aur any gavarnament kee tulana is sarakaar se karenge to nishchit roop se yah sarakaar behatar roop se kaam kee hai agar kisaanon kee baat kee jae unake muddon kee baat kee jae to jitane bhee skeems gavarnament ne chalaee hai vah kaaphee kaaragar bhee saabit huee hain neshanal mishan phor sastenebal egreekalchar isee gavarnament kee shuruaat kee huee yojana hai pradhaanamantree phasal beema yojana jisamen ki kisaanon ko jo unakee phasalen barbaad ho jaatee thee unaka beema dena pradhaanamantree krshi sinchaee yojana kisaanon ko kam paise mein sinchaee kee suvidha upalabdh karaana pradhaanamantree krshi vikaas yojana aur isake alaava pradhaanamantree jo krshi kisaan vikaas nidhi hai jo ₹2000 kisaanon ko milatee hai aur sabase jyaada paisa unake akaunt mein traansaphar hua hai to isee sarakaar kee den hai ab kuchh ek mudde hain jis par kisaan sahamat nahin hai aur sarakaar ne us par baatacheet bhee kee kee hai aur jab kabhee bhee sarakaar kisaanon kee baat aatee hai to us par sunatee bhee hai ab rahee baat emesapee kee to minimam saport prais bhee aap dekhenge ki achchhe tareeke se beejepee kee sarakaaree jahaan par bhee hai vahaan kisaanon ko diya ja raha hai lekin keval samajh ka antar hai aur kisaan jo aandolan kar rahe hain kuchhek sthaanon par us par bhee sarakaar ne apanee kaee muddon par sahamati bhee jataee hai

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
LDS Motivational speaker khabri app,Poetrywriterdv YouTube channel,
2:56
आप को संभाले क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्या का समाधान हुआ तो मैं कहूंगी जी हां जैसे कि पहले बहुत ज्यादा कर्ज के चक्कर में किसान फांसी लगाकर सुसाइड कर दी थी तो मोदी जी ने बहुत ही सही तरीके से इस बिल को पारित किया बहुत सोच समझकर टाइम लगा लेकिन कहीं ना कहीं वह जिन इस शादी में आए तो उन्होंने पहले से यह बना लिया था कि इसे कैसे मैं सॉल्व करूं और इससे बहुत टाइम लगा उन्हें डिस्कवर करने में क्योंकि हर एक चीज तुरंत नहीं होती उन्होंने बहुत मेहनत की कैसे-कैसे किसानों की समस्या का हल हो तो हर तरीके से उन्होंने पूरी चीजें समझी और फिर उसके बाद ही इस बिल को पारित किया और बहुत सारे लोग कहते हैं कि दिल्ली में धरना प्रदर्शन हो रहा है किसानों का मतलब किसानों को तकलीफ पहुंचा रहे हैं बिल को पारित करके यह 2 किसानों के नाम पर आतंकवादी हैं जो देश को नुकसान पहुंचा रहे हैं किसानों का सिर्फ नाम है वहां लेकिन वहां किसान होंगे तो कुछ ऐसे ही होंगे लेकिन मुझे तो नहीं लगता की मांग की शान है भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए यह सारी चीजें हो रही हैं अदर वाइज जितने भी किसान हैं वह अपने घरों में हैं और खेती कर रहे हैं क्योंकि उन्हें अपनी सब्जियों को सही दाम में अपनी कोडिंग अगर वही करेंगे तो क्या होगा कि उनकी जो स्तरीय सब्जियां भाजी इतना मेहनत करते हैं जितना प्रॉपी नहीं जितना पैसा लगाए हैं उन्हें उनकी सब्जियां मिलेंगे उसी सब्जियों का वह दाम तय कर सकते हैं उनकी सब्जियां अब सड़कों पर नहीं बिक्री रहेंगी सब्जी अर्थात जो भी सब्जियां होती है सड़कों पर बिजी रहती थी पहले तो जो किसान हमको बहुत राहत मिली है वह अपने प्रोडक्ट को यह कंपनियों में भी सेंड कर रहे हैं हमारे सभी लोगों की किचन में भी पहुंच रहे हैं यह सारी चीजें उन्हें प्रॉफिट हो रहा है कि वह भी अपना अपने उनकी तबीयत खराब हुई तो कम से कम अपनी दवाई खरीदने कि वह भी अपने बच्चों को पढ़ा सके इस तरीके से अब्बू जो कर्ज के चक्कर में सुसाइड कर तू चीज बड़ी समस्या खत्म हो रही है यह बहुत बड़ी चीज है कि कि यह सोचना बहुत मुश्किल था मैं तो जब इस बिल के पारित हो तो मैं यह सोच रही थी अब कितनी सोच समझकर ही प्लान बना है जिसकी किसी की माइंड में यही सब चीज नहीं आ सकती वह चीज बिल्कुल बनी हुई है तो वैसे भी एक केरल में तो यह सारी चीजें चल ही रही थी कि नहीं अभी पूरी इंडिया में लागू हो गई तो यही है कि जो हुआ है किसानों के हित के लिए उपाय और सभी के साथ सच में खुश हैं और जो हमला कर रहे हैं वह किसान नहीं है ठीक है रूबी है जो किसान के भेष में आ गए तो इस चीज को आप भी समझिए हम तो समझ रहे हैं इनकी समझ
Aap ko sambhaale kya modee sarakaar ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasya ka samaadhaan hua to main kahoongee jee haan jaise ki pahale bahut jyaada karj ke chakkar mein kisaan phaansee lagaakar susaid kar dee thee to modee jee ne bahut hee sahee tareeke se is bil ko paarit kiya bahut soch samajhakar taim laga lekin kaheen na kaheen vah jin is shaadee mein aae to unhonne pahale se yah bana liya tha ki ise kaise main solv karoon aur isase bahut taim laga unhen diskavar karane mein kyonki har ek cheej turant nahin hotee unhonne bahut mehanat kee kaise-kaise kisaanon kee samasya ka hal ho to har tareeke se unhonne pooree cheejen samajhee aur phir usake baad hee is bil ko paarit kiya aur bahut saare log kahate hain ki dillee mein dharana pradarshan ho raha hai kisaanon ka matalab kisaanon ko takaleeph pahuncha rahe hain bil ko paarit karake yah 2 kisaanon ke naam par aatankavaadee hain jo desh ko nukasaan pahuncha rahe hain kisaanon ka sirph naam hai vahaan lekin vahaan kisaan honge to kuchh aise hee honge lekin mujhe to nahin lagata kee maang kee shaan hai bhaarat ko nukasaan pahunchaane ke lie yah saaree cheejen ho rahee hain adar vaij jitane bhee kisaan hain vah apane gharon mein hain aur khetee kar rahe hain kyonki unhen apanee sabjiyon ko sahee daam mein apanee koding agar vahee karenge to kya hoga ki unakee jo stareey sabjiyaan bhaajee itana mehanat karate hain jitana propee nahin jitana paisa lagae hain unhen unakee sabjiyaan milenge usee sabjiyon ka vah daam tay kar sakate hain unakee sabjiyaan ab sadakon par nahin bikree rahengee sabjee arthaat jo bhee sabjiyaan hotee hai sadakon par bijee rahatee thee pahale to jo kisaan hamako bahut raahat milee hai vah apane prodakt ko yah kampaniyon mein bhee send kar rahe hain hamaare sabhee logon kee kichan mein bhee pahunch rahe hain yah saaree cheejen unhen prophit ho raha hai ki vah bhee apana apane unakee tabeeyat kharaab huee to kam se kam apanee davaee khareedane ki vah bhee apane bachchon ko padha sake is tareeke se abboo jo karj ke chakkar mein susaid kar too cheej badee samasya khatm ho rahee hai yah bahut badee cheej hai ki ki yah sochana bahut mushkil tha main to jab is bil ke paarit ho to main yah soch rahee thee ab kitanee soch samajhakar hee plaan bana hai jisakee kisee kee maind mein yahee sab cheej nahin aa sakatee vah cheej bilkul banee huee hai to vaise bhee ek keral mein to yah saaree cheejen chal hee rahee thee ki nahin abhee pooree indiya mein laagoo ho gaee to yahee hai ki jo hua hai kisaanon ke hit ke lie upaay aur sabhee ke saath sach mein khush hain aur jo hamala kar rahe hain vah kisaan nahin hai theek hai roobee hai jo kisaan ke bhesh mein aa gae to is cheej ko aap bhee samajhie ham to samajh rahe hain inakee samajh

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:57
नमस्कार दोस्तों आपका पसंद है क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्या का समाधान हुआ है फोटो तो आपके प्रश्न का उत्तर यह है हमारे देश की सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्या दिन-प्रतिदिन खराब हुई है किसानों की समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ जो कि किसान जब खेती करता है तो बीच का रेट बढ़ गया और ट्रैक्टर का तेल और किसानों को समय पर बिजली नहीं मिल पाती है किसानों को बोनस की की डेट नहीं होती है और किसानों का आन है वह कम रेट में खरीदते हैं इनसे किसानों की समस्या दिन प्रतिदिन पड़ी है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka pasand hai kya modee sarakaar ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasya ka samaadhaan hua hai photo to aapake prashn ka uttar yah hai hamaare desh kee sarakaar ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasya din-pratidin kharaab huee hai kisaanon kee samasya ka koee samaadhaan nahin hua jo ki kisaan jab khetee karata hai to beech ka ret badh gaya aur traiktar ka tel aur kisaanon ko samay par bijalee nahin mil paatee hai kisaanon ko bonas kee kee det nahin hotee hai aur kisaanon ka aan hai vah kam ret mein khareedate hain inase kisaanon kee samasya din pratidin padee hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ?Kya Modi Sarkar Ke Shasankal Mein Kisanon Ki Samasyaon Ka Samadhan Hua
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:51
मस्त है कि मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्या का समाधान हुआ है या नहीं बेचे किसानों की समस्याओं का समाधान पिछले सालों में भी नहीं हुआ और अब भी नहीं हुआ है लेकिन सबसे बड़ी समस्या होती है किसानों के लिए ट्रेन और यह मेरा अनुभव है क्योंकि मैं एसबीआई बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सामने ही देता हूं यानी मेरी जो दुकान है वह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सामने और मेरा वहां आना जाना है तो वहां पर अभी ऋण माफ किए हैं भारत सरकार ने एसबीआईइनइंब या नहीं ऐसे ऐसे रेन जिसमें 800000 केरेट को मात्र 80000 में निपटा दिया 2500000 के ऋण को जो ढाई लाख रुपए में निपटा दिया तो यह बहुत बड़ी समस्या का समाधान एसबीआई ने किया एसबीआई ने किया तो सरकार के इशारे पर ही किया होगा क्योंकि झील सबसे बड़ी जिनकी वजह से किसान आत्महत्या करते हैं और किसानों की सबसे बड़ी समस्या रहने और अभी बहुत सारे ऋण माफ हुए मैं एकदम परफेक्ट और ज्ञान के साथ कह सकता हूं भाभी के साथ की जो एक लोन था जिसने ऊंट गाडा ले रखा था किसान ने मात्र 30000 का लोन था और उसने एक किस भी नहीं भरी थी एक स्त्री और वह लोन मात्र ₹3000 का के और उसको पूरा कर दिया गया कितनी बड़ी बात है 30000 के ऋण को बिना किस्त की 3 साल तक उसने पैसों को यूज किया 3027 हजार रुपे सरकार के गए ब्याज लेवल 3000 में और यह मेरे सामने हुआ है तो आप देख सकते हैं कि क्या फायदा हुआ है किसानों ने
Mast hai ki modee sarakaar ke shaasanakaal mein kisaanon kee samasya ka samaadhaan hua hai ya nahin beche kisaanon kee samasyaon ka samaadhaan pichhale saalon mein bhee nahin hua aur ab bhee nahin hua hai lekin sabase badee samasya hotee hai kisaanon ke lie tren aur yah mera anubhav hai kyonki main esabeeaee baink stet baink oph indiya ke saamane hee deta hoon yaanee meree jo dukaan hai vah stet baink oph indiya ke saamane aur mera vahaan aana jaana hai to vahaan par abhee rn maaph kie hain bhaarat sarakaar ne esabeeaeeinimb ya nahin aise aise ren jisamen 800000 keret ko maatr 80000 mein nipata diya 2500000 ke rn ko jo dhaee laakh rupe mein nipata diya to yah bahut badee samasya ka samaadhaan esabeeaee ne kiya esabeeaee ne kiya to sarakaar ke ishaare par hee kiya hoga kyonki jheel sabase badee jinakee vajah se kisaan aatmahatya karate hain aur kisaanon kee sabase badee samasya rahane aur abhee bahut saare rn maaph hue main ekadam paraphekt aur gyaan ke saath kah sakata hoon bhaabhee ke saath kee jo ek lon tha jisane oont gaada le rakha tha kisaan ne maatr 30000 ka lon tha aur usane ek kis bhee nahin bharee thee ek stree aur vah lon maatr ₹3000 ka ke aur usako poora kar diya gaya kitanee badee baat hai 30000 ke rn ko bina kist kee 3 saal tak usane paison ko yooj kiya 3027 hajaar rupe sarakaar ke gae byaaj leval 3000 mein aur yah mere saamane hua hai to aap dekh sakate hain ki kya phaayada hua hai kisaanon ne

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान हुआ मोदी सरकार के शासनकाल में किसानों की समस्याओं का समाधान
URL copied to clipboard