#जीवन शैली

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:01
नमस्कार प्रश्न है कि मैं अपने आप को किसी के काबिल नहीं समझता ऐसा मुझे क्यों लगता है कोई बताएगा देखिए अगर आपको अगर ऐसा लगता है नहीं तो इसका साफ-साफ मतलबी है कि आप तनावग्रस्त हैं आप है वह हीन भावना से ग्रसित है और आप आत्मविश्वास की कमी से जूझ रहे हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप कुछ इलाज नहीं है आपका इलाजी है कि आप अपने मन को परिवर्तित कीजिए आप इतने कॉन्फिडेंस को जगाया और इसके लिए आपको छोटे-छोटे काम कीजिए जैसे आप अपने लिए टारगेट रखें कि आज मैं यह काम करूंगा जिसे आप बोलकर पर पांच जवाब दूंगा 10 प्रश्नों के उत्तर दूंगा तो वह आप दे दीजिए तो आपका एक अचीवमेंट हो गया उसके लिए आप खुश होंगे आप किसी भी अपने घर पर कि आज मैं यह काम करूंगा आज यह पुस्तक पढ़ लूंगा यार छोटे टारगेट बनाएगी उनको पूरा कीजिए और कुछ थोड़ी थोड़े दिनों में आपका कॉन्फिडेंस आ जाएगा और आप एक जिंदगी जीने लगे धन्यवाद
Namaskaar prashn hai ki main apane aap ko kisee ke kaabil nahin samajhata aisa mujhe kyon lagata hai koee bataega dekhie agar aapako agar aisa lagata hai nahin to isaka saaph-saaph matalabee hai ki aap tanaavagrast hain aap hai vah heen bhaavana se grasit hai aur aap aatmavishvaas kee kamee se joojh rahe hain lekin isaka matalab yah nahin ki aap kuchh ilaaj nahin hai aapaka ilaajee hai ki aap apane man ko parivartit keejie aap itane konphidens ko jagaaya aur isake lie aapako chhote-chhote kaam keejie jaise aap apane lie taaraget rakhen ki aaj main yah kaam karoonga jise aap bolakar par paanch javaab doonga 10 prashnon ke uttar doonga to vah aap de deejie to aapaka ek acheevament ho gaya usake lie aap khush honge aap kisee bhee apane ghar par ki aaj main yah kaam karoonga aaj yah pustak padh loonga yaar chhote taaraget banaegee unako poora keejie aur kuchh thodee thode dinon mein aapaka konphidens aa jaega aur aap ek jindagee jeene lage dhanyavaad

और जवाब सुनें

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:32
आपकी विनम्रता है जो तारीफ के काबिल है लेकिन इतना भी कॉन्फिडेंस मत हो कि आपको लोग लल्लू समझने लगी आपकी योग्य समझदार है छोड़ो कोई दो राय नहीं है क्योंकि विनम्रता आदमी को सुशोभित करती है वर्तमान ताकि सूचक है लेकिन अपने विश्वास को बनाए रखना भी 1 गुण होना चाहिए आप कर सकते हैं भगवान ने हर हर इंसान को कुछ क्वालिटी होती है और ग्रुप वालों को पहचान करके अपनी क्षमताओं के अनुरूप आदमी को पकड़ना चाहिए अभी तो करनी चाहिए आप संस्कारित हैं शादी की नहीं आपकी एबिलिटी को आप पहचान करके अपने प्रयासों में जुट जाएं ऐसा कोई भी बाधा नहीं है ऐसी कोई घटना ही नहीं है ऐसी कोई समस्या नहीं है जो जब मानव उसका समाधान करने के लिए तत्पर हो जाए कमर कस लें तो वो उसके सामने खड़ी रह सके रामधारी सिंह दिनकर राष्ट्र कवि ने बहुत अच्छी तरह शब्दों में कहा है कि ठान लेता है जब नर पर्वत के जाते पांव उखड़ मानव जब जोर लगाता है पत्थर पानी बन जाता है तुम सोचो कि मानव अपनी बुद्धि बल से चंद्रमा और मंगल तक पहुंच गया और अब उससे आगे भी जा रहा है तो यह मानव यह ठान ले तो क्या नहीं कर सकता है इस सुपर कंप्यूटर जो सारे संसार का संच मन कर रहा है सारे संसार की गतिविधियों को नोट कर रहा है जिस कंप्यूटर पर आज हम लोग सब कुछ हमारा वर्क डिपेंड है उस कंप्यूटर का निर्माण भी इस मानव ने किया है तो आदमी को अपनी एबिलिटी क्वालिटी को पहचानते हुए अपने विवेक के अनुसार समय के अनुसार उसका यूज़ करना चाहिए और मनुष्य तो उसे कामयाबी प्राप्त कर सकते हैं करते हैं सफल बनते हैं जितने भी सफल लोगों की जितनी पड़ेंगे उन लोगों ने पाटन से संघर्ष किया है वतन से उठे हैं और टॉप पर पहुंचे तो बॉटम से टॉप पर पहुंचने का जो संघर्ष का दौर है जो कठिनाइयों पर विजय प्राप्त करने का दौर है उसको समय के अनुसार बीवी के अनुसार आप यूज करेंगे तो मैं सोच रहा हूं शायद आपको कभी भी आप असफल नहीं होंगे मैं आपसे कुछ पंक्तियां आप इतने कॉन्फिडेंस को पहचाने कॉन्फिडेंस को जगाएं घबराए नहीं यह कठिनाई के दौर की समस्या के तौर भी मानव को चलना सिखाते हैं मानव को महान इंसान बनाते हैं सफल इंसान बनाते हैं इसलिए आपको शायद बैटरी शरण गुप्त का पद याद करना चाहिए कि देख विघ्न बाधाओं को जो घबराते ही नहीं मान लेते हैं जो नंबर भेजो जाते हैं और सफलताएं बातें
Aapakee vinamrata hai jo taareeph ke kaabil hai lekin itana bhee konphidens mat ho ki aapako log lalloo samajhane lagee aapakee yogy samajhadaar hai chhodo koee do raay nahin hai kyonki vinamrata aadamee ko sushobhit karatee hai vartamaan taaki soochak hai lekin apane vishvaas ko banae rakhana bhee 1 gun hona chaahie aap kar sakate hain bhagavaan ne har har insaan ko kuchh kvaalitee hotee hai aur grup vaalon ko pahachaan karake apanee kshamataon ke anuroop aadamee ko pakadana chaahie abhee to karanee chaahie aap sanskaarit hain shaadee kee nahin aapakee ebilitee ko aap pahachaan karake apane prayaason mein jut jaen aisa koee bhee baadha nahin hai aisee koee ghatana hee nahin hai aisee koee samasya nahin hai jo jab maanav usaka samaadhaan karane ke lie tatpar ho jae kamar kas len to vo usake saamane khadee rah sake raamadhaaree sinh dinakar raashtr kavi ne bahut achchhee tarah shabdon mein kaha hai ki thaan leta hai jab nar parvat ke jaate paanv ukhad maanav jab jor lagaata hai patthar paanee ban jaata hai tum socho ki maanav apanee buddhi bal se chandrama aur mangal tak pahunch gaya aur ab usase aage bhee ja raha hai to yah maanav yah thaan le to kya nahin kar sakata hai is supar kampyootar jo saare sansaar ka sanch man kar raha hai saare sansaar kee gatividhiyon ko not kar raha hai jis kampyootar par aaj ham log sab kuchh hamaara vark dipend hai us kampyootar ka nirmaan bhee is maanav ne kiya hai to aadamee ko apanee ebilitee kvaalitee ko pahachaanate hue apane vivek ke anusaar samay ke anusaar usaka yooz karana chaahie aur manushy to use kaamayaabee praapt kar sakate hain karate hain saphal banate hain jitane bhee saphal logon kee jitanee padenge un logon ne paatan se sangharsh kiya hai vatan se uthe hain aur top par pahunche to botam se top par pahunchane ka jo sangharsh ka daur hai jo kathinaiyon par vijay praapt karane ka daur hai usako samay ke anusaar beevee ke anusaar aap yooj karenge to main soch raha hoon shaayad aapako kabhee bhee aap asaphal nahin honge main aapase kuchh panktiyaan aap itane konphidens ko pahachaane konphidens ko jagaen ghabarae nahin yah kathinaee ke daur kee samasya ke taur bhee maanav ko chalana sikhaate hain maanav ko mahaan insaan banaate hain saphal insaan banaate hain isalie aapako shaayad baitaree sharan gupt ka pad yaad karana chaahie ki dekh vighn baadhaon ko jo ghabaraate hee nahin maan lete hain jo nambar bhejo jaate hain aur saphalataen baaten

Shivani gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shivani जी का जवाब
Portal news editor and a network marketing businesses, typist
0:51
नमस्कार जैसा कि आप का सवाल है मैं अपने आप को किसी के भी काबिल नहीं समझता है ऐसा मुझे तो लगता है कोई बताएगा जी आप अपने आपको काशी काबिल नहीं समझते इसका मतलब यह है कि आपने कई बार प्रयास किया होगा कुछ करने का और आप उस पर फेल हो गए होंगे एक दो बार फेल होने की वजह से आपको लगता है कि अब आप कुछ नहीं कर सकते आप किसी के काबिल नहीं हूं तो पहले आपको अपनी थिंकिंग सोचने की क्षमता है उसको बदलना पड़ेगा आपको सकारात्मक सोचना पड़ेगा कि मैं सब कुछ कर सकता हूं जो मैं करूंगा वह सब सही होगा अगर आप सबसे पहले अपनी सोच बदल लेते हैं और उसके बाद कोई भी काम शुरू करते हैं तो हंड्रेड परसेंट आपको सफलता मिलेगी थैंक यू
Namaskaar jaisa ki aap ka savaal hai main apane aap ko kisee ke bhee kaabil nahin samajhata hai aisa mujhe to lagata hai koee bataega jee aap apane aapako kaashee kaabil nahin samajhate isaka matalab yah hai ki aapane kaee baar prayaas kiya hoga kuchh karane ka aur aap us par phel ho gae honge ek do baar phel hone kee vajah se aapako lagata hai ki ab aap kuchh nahin kar sakate aap kisee ke kaabil nahin hoon to pahale aapako apanee thinking sochane kee kshamata hai usako badalana padega aapako sakaaraatmak sochana padega ki main sab kuchh kar sakata hoon jo main karoonga vah sab sahee hoga agar aap sabase pahale apanee soch badal lete hain aur usake baad koee bhee kaam shuroo karate hain to handred parasent aapako saphalata milegee thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • काबिल कैसे बने ..खुद को काबिल कैसे बनाये
URL copied to clipboard