#पढ़ाई लिखाई

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:36
बस वाले की रूसी क्रांति का किचन जब नवंबर में हुआ है तो अक्टूबर क्रांति क्यों कहा जाता है जब रूस की क्रांति हुई थी तब रूस का वहां का कैलेंडर चलता था स्प्लेंडर का नाम जूलियन था और जो पश्चिमी देशों का कैलेंडर था उसका नाम गेट ब्रिज था इसके अनुसार नवंबर में था और उसे कैलेंडर जोलियन के अनुसार वह 25 अक्टूबर था इसलिए उसे 25 अक्टूबर की क्रांति कहा जाता है
Bas vaale kee roosee kraanti ka kichan jab navambar mein hua hai to aktoobar kraanti kyon kaha jaata hai jab roos kee kraanti huee thee tab roos ka vahaan ka kailendar chalata tha splendar ka naam jooliyan tha aur jo pashchimee deshon ka kailendar tha usaka naam get brij tha isake anusaar navambar mein tha aur use kailendar joliyan ke anusaar vah 25 aktoobar tha isalie use 25 aktoobar kee kraanti kaha jaata hai

और जवाब सुनें

Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:40
दोस्तों आप का स्वाद है कि रूस की क्रांति का आखिरी चरण जब नवंबर हुआ तो अक्टूबर क्रांति क्यों खिलाई तो लेकिन वहां पश्चिमी दुनिया में जा के गोरियन कैलेंडर इस्तेमाल किया जाता था उसमें इसे 7 नवंबर कहना जारी रखा गया जब वादी मारी लेनी ने सत्ता संभाली तो उन्होंने अनेक चीजों के साथ जूलियन कैलेंडर को भी समाप्त कर दिया और इससे तरह से रूस खुद अक्टूबर क्रांति की सालगिरह को नवंबर को मनाना शुरू कर दिया गया था
Doston aap ka svaad hai ki roos kee kraanti ka aakhiree charan jab navambar hua to aktoobar kraanti kyon khilaee to lekin vahaan pashchimee duniya mein ja ke goriyan kailendar istemaal kiya jaata tha usamen ise 7 navambar kahana jaaree rakha gaya jab vaadee maaree lenee ne satta sambhaalee to unhonne anek cheejon ke saath jooliyan kailendar ko bhee samaapt kar diya aur isase tarah se roos khud aktoobar kraanti kee saalagirah ko navambar ko manaana shuroo kar diya gaya tha

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:18
रूसी क्रांति का आखरी चरण जब नवंबर में हुआ तो अक्टूबर क्रांति क्यों कहा जाता है एक बहुत अच्छा सवाल है असल में पंचवीस 25 अक्टूबर 1917 को यह क्रांति हुई थी और वहां के जो लोग कल वहां की कॉल करना है उसके अनुसार जिसको गिरी गिरी ग्रेगोरियन कलगन्ना कहा जाता है उसके अनुसार 7 नवंबर के कोई एक घटना घटी इसमें एक राजकीय बदला हुआ पहले रसिया में धार की राजेशाही हुआ करती थी और उनकी जो यह राजेशाही थी और जुल्मी और क्रूर और आसाराम से जीने वाले लोगों का एक समूह उसमें जालौर जरीना शामिल थे आमिर उमराव वर्ग समीक्षा बड़े जमींदारों का वर्ग शामिल था पैसे वालों का वर्कशॉप वह एक तरफ से तरफ कष्ट करने वाले श्रमिक वर्ग किसान कारागीर और अनेक प्रकार के कम करने वाले लोग बहुत हालत की जिंदगी जी रहे थे उनका बहुत बड़ा शोषण सदियों से होता रहा था और उसके बाद एक वैचारिक क्रांति आ गई पूरी दुनिया में और वह क्रांति के कारण मार्ग की कम्युनिस्ट विचारधारा कार्ल मार्क्स ने अपने 10 कैपिटल ब्रांच और कम्युनिस्ट मेनिफेस्टो से पूरे विश्व के श्रम करने वाले वर्ग को जिसको इतिहास बताया वह इतिहास भौतिकवादी दृष्टिकोण से बताया गया था और आर्थिक आधार पर किस तरह से पूरे पूरे विश्व का इतिहास घट गया अब पूरा वर्ग संघर्ष का इतिहास और वर्ग जय हो मालिक और नौकर या दो बार गए और इनमें क्रांति और प्रति क्रांति होती रहती है और एक वक्त ऐसा आएगा कि जो श्रमिक वर्ग है वह मानिकपुर को अपनी सत्ता से प्रदर्शित करेगा अब श्रमिकों की सत्ता जाएगी यह क्लास ऑफिस के बहुत बड़े आई एम है लेकिन 25 अक्टूबर को वहां पर समाजवादी विचारों के सारे गट एकत्रित आए अब सेंट पीटर्सबर्ग रशिया का शहर है वापस सत्ता हासिल की इस घटना को रूस की क्रांति सधी माना जाता है लेकिन उसके बाद एक ग्रह युद्ध हो गया जो 1922 तक चला लेकिन फिर भी इसे अक्टूबर क्रांति कहां जाता है और उसके बाद साम्यवादी सकता है
Roosee kraanti ka aakharee charan jab navambar mein hua to aktoobar kraanti kyon kaha jaata hai ek bahut achchha savaal hai asal mein panchavees 25 aktoobar 1917 ko yah kraanti huee thee aur vahaan ke jo log kal vahaan kee kol karana hai usake anusaar jisako giree giree gregoriyan kalaganna kaha jaata hai usake anusaar 7 navambar ke koee ek ghatana ghatee isamen ek raajakeey badala hua pahale rasiya mein dhaar kee raajeshaahee hua karatee thee aur unakee jo yah raajeshaahee thee aur julmee aur kroor aur aasaaraam se jeene vaale logon ka ek samooh usamen jaalaur jareena shaamil the aamir umaraav varg sameeksha bade jameendaaron ka varg shaamil tha paise vaalon ka varkashop vah ek taraph se taraph kasht karane vaale shramik varg kisaan kaaraageer aur anek prakaar ke kam karane vaale log bahut haalat kee jindagee jee rahe the unaka bahut bada shoshan sadiyon se hota raha tha aur usake baad ek vaichaarik kraanti aa gaee pooree duniya mein aur vah kraanti ke kaaran maarg kee kamyunist vichaaradhaara kaarl maarks ne apane 10 kaipital braanch aur kamyunist meniphesto se poore vishv ke shram karane vaale varg ko jisako itihaas bataaya vah itihaas bhautikavaadee drshtikon se bataaya gaya tha aur aarthik aadhaar par kis tarah se poore poore vishv ka itihaas ghat gaya ab poora varg sangharsh ka itihaas aur varg jay ho maalik aur naukar ya do baar gae aur inamen kraanti aur prati kraanti hotee rahatee hai aur ek vakt aisa aaega ki jo shramik varg hai vah maanikapur ko apanee satta se pradarshit karega ab shramikon kee satta jaegee yah klaas ophis ke bahut bade aaee em hai lekin 25 aktoobar ko vahaan par samaajavaadee vichaaron ke saare gat ekatrit aae ab sent peetarsabarg rashiya ka shahar hai vaapas satta haasil kee is ghatana ko roos kee kraanti sadhee maana jaata hai lekin usake baad ek grah yuddh ho gaya jo 1922 tak chala lekin phir bhee ise aktoobar kraanti kahaan jaata hai aur usake baad saamyavaadee sakata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रूसी क्रांति के कारणों की विवेचना करें,1905 की रूसी क्रांति के कारण,रूस की अक्टूबर 1917 की क्रांति का वर्णन करें
URL copied to clipboard