#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?

Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:28
आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही थी कंडीशन है आप किस तरह के बिहेवियर कर रहे हैं तो इस हिसाब से आप की दूरियां और नजदीकी बनी रहेगी बरकरार क्योंकि आज ही स्मार्ट फोन की वजह से बहुत अच्छी जानकारियां मिल जाती हम सही सही लोकेशन का पता कर लेते हम अपनी दूर रिश्तेदार से मिल तो नहीं पाते लेकिन उन्हें हम ऑनलाइन देख सकते उन्हें उनसे बात कर सकते हैं जब चाहे तब हम अपनी इच्छा के अनुसार बात कर सकते हैं लेकिन वही दूरियां कब मंदिर जब हम अपनी कुछ कमियां जो छुपा नहीं पाते हैं या छुपाने की कोशिश करते हैं लेकिन हमारे इस स्मार्टफोन जो होता है वह छुपा नहीं पाता है कहीं ना कहीं ऐसी जेलिक हो जाती है तब हमारी दूरियां बढ़ने लगती है और मैं आपसे बता दूं कि स्मार्टफोन की वजह से बहुत सारी चीजें हो बहुत आसान हो गई है अब बहुत ही सरल हो गई हमारी जिंदगी जुलाई से लाइफ में बहुत कुछ आसान मोमेंट हो गए लेकिन उतना ही ज्यादा डिफिकल्ट भी हो गया है डिफिकल्ट कैसे हो गया है बहुत कुछ ऐसी चीजें हैं जो हम अपनी गलती को पहले तो हम जब मल्टीमीडिया नहीं था तो हम बहुत कुछ ऐसी गलतियां छिपा लेते थे और आज ऐसी गलतियां छुपाने बाद में जैसे क्या है कि आपकी अगर शादी हो गई है शादी होने के बाद क्या होता है कि आप हकीकत पिछली गर्लफ्रेंड है तो पहले ऐसा होता था कि जब स्मार्टफोन नहीं रहते थे लेटर के माध्यम से आपको जानकारियां मिलती थी वह किसी न किसी के थ्रू मिलता था कि लोग नहीं जा पाते थे लोग जानते जानते तब तक को क्या होता था कोई एक आदमी जानता था वही आपको इंटरमीडिएट का काम करता था लेकिन आज जो मोबाइल आपका मेडिएटर काम करती सबके सामने फैमिली ओपन हो जाते जैसे क्या होता है कि जैसे आप अपनी बीवी के पास है या बैठे हुए हैं अपने परिवार में है सभी के सामने फोन आ जाएगा तो अचानक अगर अजीब तरीके से जैसे बात होने लगी अगर कहेंगे कि मैं नहीं बात करुंगा दूसरी बार बार फोन आते हैं कहीं ना कहीं आपको डिस्टर्ब कर देते हैं और आपकी जो चेहरे की इंप्रेशन इंप्रेशन ही आपको बता देते कि लग रहा है कि कुछ गलत है तो आपकी बीवी कुछ न कुछ शक करने लगती है और आपसे फोन मांगने लगती है तो उसको इग्नोर नहीं करने लगते हैं यही इग्नू रेट क्या होती है कि आप की दूरी बढ़ाने का काम करता है तो मुझे लगता है कि इस टाइप की जो लोग हैं और जो कहा जाए कि गलत तरीके से हैं उनकी की दूरियां बनेगी जो अच्छे तरीके से हैं ए स्मार्टफोन हमेशा ही आपके साथ रहेगा और आपको नजदीकी आप और आपको बहुत सारी ऐसे सरल भी दिखाएगा कि आपके लिए बहुत आसान चीजें हो जा
Aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee thee kandeeshan hai aap kis tarah ke biheviyar kar rahe hain to is hisaab se aap kee dooriyaan aur najadeekee banee rahegee barakaraar kyonki aaj hee smaart phon kee vajah se bahut achchhee jaanakaariyaan mil jaatee ham sahee sahee lokeshan ka pata kar lete ham apanee door rishtedaar se mil to nahin paate lekin unhen ham onalain dekh sakate unhen unase baat kar sakate hain jab chaahe tab ham apanee ichchha ke anusaar baat kar sakate hain lekin vahee dooriyaan kab mandir jab ham apanee kuchh kamiyaan jo chhupa nahin paate hain ya chhupaane kee koshish karate hain lekin hamaare is smaartaphon jo hota hai vah chhupa nahin paata hai kaheen na kaheen aisee jelik ho jaatee hai tab hamaaree dooriyaan badhane lagatee hai aur main aapase bata doon ki smaartaphon kee vajah se bahut saaree cheejen ho bahut aasaan ho gaee hai ab bahut hee saral ho gaee hamaaree jindagee julaee se laiph mein bahut kuchh aasaan moment ho gae lekin utana hee jyaada diphikalt bhee ho gaya hai diphikalt kaise ho gaya hai bahut kuchh aisee cheejen hain jo ham apanee galatee ko pahale to ham jab malteemeediya nahin tha to ham bahut kuchh aisee galatiyaan chhipa lete the aur aaj aisee galatiyaan chhupaane baad mein jaise kya hai ki aapakee agar shaadee ho gaee hai shaadee hone ke baad kya hota hai ki aap hakeekat pichhalee garlaphrend hai to pahale aisa hota tha ki jab smaartaphon nahin rahate the letar ke maadhyam se aapako jaanakaariyaan milatee thee vah kisee na kisee ke throo milata tha ki log nahin ja paate the log jaanate jaanate tab tak ko kya hota tha koee ek aadamee jaanata tha vahee aapako intarameediet ka kaam karata tha lekin aaj jo mobail aapaka medietar kaam karatee sabake saamane phaimilee opan ho jaate jaise kya hota hai ki jaise aap apanee beevee ke paas hai ya baithe hue hain apane parivaar mein hai sabhee ke saamane phon aa jaega to achaanak agar ajeeb tareeke se jaise baat hone lagee agar kahenge ki main nahin baat karunga doosaree baar baar phon aate hain kaheen na kaheen aapako distarb kar dete hain aur aapakee jo chehare kee impreshan impreshan hee aapako bata dete ki lag raha hai ki kuchh galat hai to aapakee beevee kuchh na kuchh shak karane lagatee hai aur aapase phon maangane lagatee hai to usako ignor nahin karane lagate hain yahee ignoo ret kya hotee hai ki aap kee dooree badhaane ka kaam karata hai to mujhe lagata hai ki is taip kee jo log hain aur jo kaha jae ki galat tareeke se hain unakee kee dooriyaan banegee jo achchhe tareeke se hain e smaartaphon hamesha hee aapake saath rahega aur aapako najadeekee aap aur aapako bahut saaree aise saral bhee dikhaega ki aapake lie bahut aasaan cheejen ho ja

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
अभिषेक शुक्ला  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अभिषेक जी का जवाब
Motivational speaker
1:11
कि वैसे तो इस स्मार्टफोन का उपयोग जो है तो आज के समय में रोजमर्रा के कामकाज है फिर कह लीजिए कार्यकाल के लिए किया जाता है लेकिन आज के समय में लोग जो है तो इतने ज्यादा प्रभावित हो चुके हैं कि आज के समय में उन्हें अपने परिवार के लिए समय दे पाना काफी ज्यादा मुश्किलात हो रहा है क्योंकि आज जो है तो लोग जो है तो सोशल साइट्स ने लोगों से इतने ज्यादा जुड़ते हैं जो कि सामने नहीं होते हुए भी उनसे बातें कर रहे हैं उनके साथ रह रहे उनके साथ रहना पसंद कर रहे हैं लेकिन जो उनके साथ है वाकई में उनके साथ में दूरी बना रहे हैं क्यों बना रहे हैं क्योंकि आज है तूने दूसरे लोगों की अपेक्षा अपनों से थोड़ी सी दिक्कतें होती हैं वहीं से शेयर नहीं कर पाते कोई भी बातें अपनी जो है तो सजा नहीं कर पाते अपनों से लेकिन जो दूसरे होते उनसे अपनी हर एक पैसे की स्थापना जो कर रहे हैं उसे आपस में शेयर कर लेते यह चीजें गलत है दोस्तों क्योंकि बाहरी व्यक्ति जो है तो आपका तब तक साथ देंगे जब तक मैं बाहर है आंतरिक तौर पर जो है तो अपने साथ देंगे इसलिए हमेशा अपनों का साथ रखें हमेशा उनका साथ जो है तो दूरियां ना बनाओ हमेशा उनसे प्यार करें और यार आपस में बना रहे दोस्तों
Ki vaise to is smaartaphon ka upayog jo hai to aaj ke samay mein rojamarra ke kaamakaaj hai phir kah leejie kaaryakaal ke lie kiya jaata hai lekin aaj ke samay mein log jo hai to itane jyaada prabhaavit ho chuke hain ki aaj ke samay mein unhen apane parivaar ke lie samay de paana kaaphee jyaada mushkilaat ho raha hai kyonki aaj jo hai to log jo hai to soshal saits ne logon se itane jyaada judate hain jo ki saamane nahin hote hue bhee unase baaten kar rahe hain unake saath rah rahe unake saath rahana pasand kar rahe hain lekin jo unake saath hai vaakee mein unake saath mein dooree bana rahe hain kyon bana rahe hain kyonki aaj hai toone doosare logon kee apeksha apanon se thodee see dikkaten hotee hain vaheen se sheyar nahin kar paate koee bhee baaten apanee jo hai to saja nahin kar paate apanon se lekin jo doosare hote unase apanee har ek paise kee sthaapana jo kar rahe hain use aapas mein sheyar kar lete yah cheejen galat hai doston kyonki baaharee vyakti jo hai to aapaka tab tak saath denge jab tak main baahar hai aantarik taur par jo hai to apane saath denge isalie hamesha apanon ka saath rakhen hamesha unaka saath jo hai to dooriyaan na banao hamesha unase pyaar karen aur yaar aapas mein bana rahe doston

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:23
मुझे तो एक सवाल नहीं है समस्या है कि आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां बढ़ती जा रही है जी बात बिल्कुल सत्य है यह कथन बिल्कुल सत्य है क्यों नहीं हम आजकल आभासी दुनिया में इतना व्यस्त हो गए हैं इतना इस दुनिया में घूमने की तो हमारी जो असलियत की दुनिया जो हमारे असली लोग जो हमारे रिश्तेदार हैं या मैं हूं हमारे आपसी घरवाले हम उन लोगों से भी कहीं ना कहीं दूर हो गए नक्सलियों को देखा है वह किस प्रकार व्हाट्सएप ग्रुप में फैमिली के नाम से वोटर को बनाकर में बात करते रहते हैं यदि कोई व्यक्ति अगर आपके हिसाब से समय के आपके सामने बैठा है तो कभी उस व्यक्ति से बात नहीं करता है बिल्कुल यह बात सत्य है कि स्मार्टफोन के कारण की दूरी है बस तेल लेकर टेक्निक के कुछ और तकनीक के कुछ न कुछ फायदा नुकसान होते हैं धरना फायदे की बात क्यों कही तक नहीं करेंगे हमें बहुत जम कर फायदा पहुंचाती है लेकिन नुकसान भी उतना ही कर रही मैं आपसे यही रिक्वेस्ट करूंगा कि आप अपने आप अपने पारिवारिक संबंधों में इन तकनीकों को ज्यादा ना घुसे हैं या ज्यादा इंच व्यवस्था आप अपने लोगों को अपना समय दीजिए उन लोगों से बातें कीजिए ताकि उन लोगों को काफी परेशानी हो या आपको कोई परेशानी हो तो वह आपके आप उनके कठिन समय में काम आ पाए ओके स्मार्टफोन की तकनीक चाहिए सिर्फ एक आभासी दुनिया है जो फिर भी आपको सिर्फ एक पूछा ऊपर ही ऊपर चीजों का एहसास कराती है जो अंदर लोगों के अंदर की भावनाएं उस चीज को नहीं देख पाती है
Mujhe to ek savaal nahin hai samasya hai ki aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan badhatee ja rahee hai jee baat bilkul saty hai yah kathan bilkul saty hai kyon nahin ham aajakal aabhaasee duniya mein itana vyast ho gae hain itana is duniya mein ghoomane kee to hamaaree jo asaliyat kee duniya jo hamaare asalee log jo hamaare rishtedaar hain ya main hoon hamaare aapasee gharavaale ham un logon se bhee kaheen na kaheen door ho gae naksaliyon ko dekha hai vah kis prakaar vhaatsep grup mein phaimilee ke naam se votar ko banaakar mein baat karate rahate hain yadi koee vyakti agar aapake hisaab se samay ke aapake saamane baitha hai to kabhee us vyakti se baat nahin karata hai bilkul yah baat saty hai ki smaartaphon ke kaaran kee dooree hai bas tel lekar teknik ke kuchh aur takaneek ke kuchh na kuchh phaayada nukasaan hote hain dharana phaayade kee baat kyon kahee tak nahin karenge hamen bahut jam kar phaayada pahunchaatee hai lekin nukasaan bhee utana hee kar rahee main aapase yahee rikvest karoonga ki aap apane aap apane paarivaarik sambandhon mein in takaneekon ko jyaada na ghuse hain ya jyaada inch vyavastha aap apane logon ko apana samay deejie un logon se baaten keejie taaki un logon ko kaaphee pareshaanee ho ya aapako koee pareshaanee ho to vah aapake aap unake kathin samay mein kaam aa pae oke smaartaphon kee takaneek chaahie sirph ek aabhaasee duniya hai jo phir bhee aapako sirph ek poochha oopar hee oopar cheejon ka ehasaas karaatee hai jo andar logon ke andar kee bhaavanaen us cheej ko nahin dekh paatee hai

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
1:51
प्रश्न है आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है कि आजकल तो मोबाइल गुम हो गया है पुराने जमाने में चिट्ठी थी और फिर फोन आया लैंडलाइन आया तो हम बात करते थे तो मोबाइल आ गया इंटरनेट का जुगाड़ गया है तो हम जब भी टाइम मिलते हैं तो हम मोबाइल इंटरनेट चलाना शुरु कर देते हैं यूट्यूब देखते हैं और फेसबुक देखते हैं इंस्टा देखते हैं और सोशल मीडिया से हम एक्टिव रहते हैं हमेशा इसलिए हमारी फैमिली के हमारे फ्रेंड के सर हम मिल नहीं पाते अगर हमारे फैमिली के मेंबर सो गए तो सब एक-एक रूम में फोन कर कर बैठ जाते हैं कोई अपने से बात नहीं कर रहा है जब खाने का टाइम हो रहा है बस खाकर फिर से रूम करूं पर चले जाते हैं बस मोबाइल देखना शुरु हो जाता है तो इसलिए मोबाइल के कारण हमारे जो फैमिली में जो एकता है जो मजबूत जो इकट्ठा में रहकर हम खाते हैं पीते बैठते मजा करते वह सब नहीं है आजकल सिर्फ खाना खाते हैं वरना बाहर चले जाते हैं और फिर आकर फिर मोबाइल में शुरू हो जाते हैं तो इसी कारण से हम हमारे अपनों से ही दूर हो जा रहे हैं अगर किसी को अपनी बात अब किसी को कहना है क्या कोई मुझे बताया कोई भी कुछ परेशानी के कारण हो हम बताने के लिए उनके टाइम हम पूछते हैं कि मैं तुमको यह बात बताते हो तो टाइम है अगर वह फोन पर बिजी होता है बताओ बताओ क्या कारण है ऐसे ही हम मिलकर नहीं रह पाते हैं इसलिए आपका स्मार्टफोन ही अपनों से ही दूरियां बढ़ती जा रही है
Prashn hai aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hai ki aajakal to mobail gum ho gaya hai puraane jamaane mein chitthee thee aur phir phon aaya laindalain aaya to ham baat karate the to mobail aa gaya intaranet ka jugaad gaya hai to ham jab bhee taim milate hain to ham mobail intaranet chalaana shuru kar dete hain yootyoob dekhate hain aur phesabuk dekhate hain insta dekhate hain aur soshal meediya se ham ektiv rahate hain hamesha isalie hamaaree phaimilee ke hamaare phrend ke sar ham mil nahin paate agar hamaare phaimilee ke membar so gae to sab ek-ek room mein phon kar kar baith jaate hain koee apane se baat nahin kar raha hai jab khaane ka taim ho raha hai bas khaakar phir se room karoon par chale jaate hain bas mobail dekhana shuru ho jaata hai to isalie mobail ke kaaran hamaare jo phaimilee mein jo ekata hai jo majaboot jo ikattha mein rahakar ham khaate hain peete baithate maja karate vah sab nahin hai aajakal sirph khaana khaate hain varana baahar chale jaate hain aur phir aakar phir mobail mein shuroo ho jaate hain to isee kaaran se ham hamaare apanon se hee door ho ja rahe hain agar kisee ko apanee baat ab kisee ko kahana hai kya koee mujhe bataaya koee bhee kuchh pareshaanee ke kaaran ho ham bataane ke lie unake taim ham poochhate hain ki main tumako yah baat bataate ho to taim hai agar vah phon par bijee hota hai batao batao kya kaaran hai aise hee ham milakar nahin rah paate hain isalie aapaka smaartaphon hee apanon se hee dooriyaan badhatee ja rahee hai

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:04
स्मार्टफोन की कारण अपने से ही दूरियां किस प्रकार बॉर्डर इन स्मार्टफोन के कारण से निश्चित तौर पर हम लोगों की दूरियां एक दूसरे से घटती चली जा रही है वर्तिका बढ़ती जा रही है पर हंड्रेड परसेंट आपको बता दूं कि ज्यादातर लोग व्हाट्सएप पर है दूसरे पर एक दूसरे से हेलो हाय कर लेते हैं और इतना अपने आपको बिजी हैं कर लिए हैं कई लोगों को मिलने और छत नहीं है नतीजा क्या है कि ज्यादा से ज्यादा लोग अपने आपको इंग्लिश कर ली हैं ज्यादा समय दे रहे हैं नतीजा क्या है कि लोगों का आपस में मिलना जुलना कम हो गया और कॉमेंट मैंने जो रखा छोटा सा बच्चा हुआ था और उस कर सकते हैं कहीं न कहीं यह दूरियां बढ़ती जा रही है और जिस तरह से आप लोगों ने देखा होगा कि शेर भी आया है कि हमारे युवा वर्ग है 5 से 6 घंटे स्मार्टफोन पर टाइम वेस्ट कर रहे हैं अगर अपने गुस्से में 5 से 6 घंटे रेगुलर अगर कोई इस तरह की हरकतें कर रहा आप सोच लो इतना प्रभावित होगा उनके कार्य करने की क्षमता और भी चीज है तो बहन है अगर सही नहीं रहा आगे जाकर के तो बिल्कुल और भी दूरियां बढ़ेगी और हमने तीज का जो कहते हैं ना कि खत्म होना शुरू हो जाएगा
Smaartaphon kee kaaran apane se hee dooriyaan kis prakaar bordar in smaartaphon ke kaaran se nishchit taur par ham logon kee dooriyaan ek doosare se ghatatee chalee ja rahee hai vartika badhatee ja rahee hai par handred parasent aapako bata doon ki jyaadaatar log vhaatsep par hai doosare par ek doosare se helo haay kar lete hain aur itana apane aapako bijee hain kar lie hain kaee logon ko milane aur chhat nahin hai nateeja kya hai ki jyaada se jyaada log apane aapako inglish kar lee hain jyaada samay de rahe hain nateeja kya hai ki logon ka aapas mein milana julana kam ho gaya aur koment mainne jo rakha chhota sa bachcha hua tha aur us kar sakate hain kaheen na kaheen yah dooriyaan badhatee ja rahee hai aur jis tarah se aap logon ne dekha hoga ki sher bhee aaya hai ki hamaare yuva varg hai 5 se 6 ghante smaartaphon par taim vest kar rahe hain agar apane gusse mein 5 se 6 ghante regular agar koee is tarah kee harakaten kar raha aap soch lo itana prabhaavit hoga unake kaary karane kee kshamata aur bhee cheej hai to bahan hai agar sahee nahin raha aage jaakar ke to bilkul aur bhee dooriyaan badhegee aur hamane teej ka jo kahate hain na ki khatm hona shuroo ho jaega

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:48
नमस्कार जैसे किस में क्वेश्चन किया गया है कि आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही हैं तो देखिए एक हमारे हमारी लाइफ है या फैमिली के साथ लाइफ है और एक हमारे सोशलाइट भैया सोशल मीडिया लाइक लोग क्या होता है किस में बहुत ज्यादा सोशल मीडिया वाले लाइफ में बहुत ज्यादा परेशान हो जाते हैं आपने अक्सर ऐसा देखा होगा कि कोई किसी से होली के दिन या दिवाली के दिन बदले नहीं जाता है या फिर कोई बस नहीं करता है लेकिन सोशल मीडिया पर देखो तो 1 दिन पहले से ही बहुत सारे विशेष आने लगते हैं या बहुत सारे गिफ्ट मिलते हैं रियल लाइफ में कोई किसी से जाकर मिलता नहीं है या लेकिन सोशल मीडिया के थ्रू बहुत सारे लोग इसी में परेशान रखें किसी को स्टेटस लगाना है तो किसी को अपना फोटो डालना है किसी को देखना है कि कितने लाइक्स आए तो किसी को देखना है कितने कॉमेंट्स आए हैं तो किसने क्या कहा है इन सब की वजह से क्या हो रहा है कि हम वह सब लाइफ में जो जो सच्ची नहीं है उसी में फंसे हुए हैं और जो रियल लाइफ में है रियल में कोई किसी का इज्जत नहीं करते कोई स्टेटस लगाता है कि मां का इज्जत करना चाहिए वह एनडीए सब लेकिन रियल लाइफ में अपने घर में कोई काम नहीं करता और बहुत ज्यादा मोटिवेशनल स्टेटस डालता है तो यह सब नहीं होना चाहिए देखिए हर चीज में बैलेंस होना जरूरी है सोशल मीडिया भी यूज़ करना चाहिए फिर हम भी लाइन लाइव न्यूज़ मतलब उसको भी इंजॉय करना चाहिए तो मैं यही कहना चाहूंगी कि हर चीज में बैलेंस होना जरूरी है अगर कोई भी चीज अनबैलेंस हो जाए तो फिर लाइफ में वह क्या कहते हैं डिफिकल्टीज आने लगती है स्मार्टफोन के कारण लोग क्या हो गया है कि जो अपने हैं क्योंकि जो हमारे पास रहता है उसकी तो वॉल्यूम करते नहीं है और जो हमारे पास नहीं रहता वह हमारे लिए बहुत ज्यादा वैल्युएबल होता है तो यही बात है तो जो हमारे पास नहीं लोग अलग-अलग रहते हैं उनसे हम सोशल मीडिया से जुड़े हुए हैं और ज्यादा करते हैं और जो हमारे पास हमारे फैमिली मेंबर हमारे पास पड़े रहते हैं तो क्या होता है कि हम उन्हें दूर कर दे कर यार इनसे तो हम कभी भी बात कर ले तो हमेशा हमारे पास अगल-बगल रहते हैं कभी भी बात कर लेंगे और जो मतलब थोड़ी दूर है तो उन्हीं से ज्यादा कनेक्ट होना चाहते हैं यह मतलब एक्यूमेन नीचे है कि जो चीज उसे आसानी से मतलब उसके पास होता उसका कोई रास्ता नहीं करता है और जो चीज नहीं रहता उसी के पीछे दौड़ता है तो यह सब सारी बातें हैं कि जो लोग इस स्मार्टफोन से ज्यादा जुड़े हैं और जो फैमिली लाइफ है उससे दूर होते गए हैं
Namaskaar jaise kis mein kveshchan kiya gaya hai ki aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hain to dekhie ek hamaare hamaaree laiph hai ya phaimilee ke saath laiph hai aur ek hamaare soshalait bhaiya soshal meediya laik log kya hota hai kis mein bahut jyaada soshal meediya vaale laiph mein bahut jyaada pareshaan ho jaate hain aapane aksar aisa dekha hoga ki koee kisee se holee ke din ya divaalee ke din badale nahin jaata hai ya phir koee bas nahin karata hai lekin soshal meediya par dekho to 1 din pahale se hee bahut saare vishesh aane lagate hain ya bahut saare gipht milate hain riyal laiph mein koee kisee se jaakar milata nahin hai ya lekin soshal meediya ke throo bahut saare log isee mein pareshaan rakhen kisee ko stetas lagaana hai to kisee ko apana photo daalana hai kisee ko dekhana hai ki kitane laiks aae to kisee ko dekhana hai kitane koments aae hain to kisane kya kaha hai in sab kee vajah se kya ho raha hai ki ham vah sab laiph mein jo jo sachchee nahin hai usee mein phanse hue hain aur jo riyal laiph mein hai riyal mein koee kisee ka ijjat nahin karate koee stetas lagaata hai ki maan ka ijjat karana chaahie vah enadeee sab lekin riyal laiph mein apane ghar mein koee kaam nahin karata aur bahut jyaada motiveshanal stetas daalata hai to yah sab nahin hona chaahie dekhie har cheej mein bailens hona jarooree hai soshal meediya bhee yooz karana chaahie phir ham bhee lain laiv nyooz matalab usako bhee injoy karana chaahie to main yahee kahana chaahoongee ki har cheej mein bailens hona jarooree hai agar koee bhee cheej anabailens ho jae to phir laiph mein vah kya kahate hain diphikalteej aane lagatee hai smaartaphon ke kaaran log kya ho gaya hai ki jo apane hain kyonki jo hamaare paas rahata hai usakee to volyoom karate nahin hai aur jo hamaare paas nahin rahata vah hamaare lie bahut jyaada vailyuebal hota hai to yahee baat hai to jo hamaare paas nahin log alag-alag rahate hain unase ham soshal meediya se jude hue hain aur jyaada karate hain aur jo hamaare paas hamaare phaimilee membar hamaare paas pade rahate hain to kya hota hai ki ham unhen door kar de kar yaar inase to ham kabhee bhee baat kar le to hamesha hamaare paas agal-bagal rahate hain kabhee bhee baat kar lenge aur jo matalab thodee door hai to unheen se jyaada kanekt hona chaahate hain yah matalab ekyoomen neeche hai ki jo cheej use aasaanee se matalab usake paas hota usaka koee raasta nahin karata hai aur jo cheej nahin rahata usee ke peechhe daudata hai to yah sab saaree baaten hain ki jo log is smaartaphon se jyaada jude hain aur jo phaimilee laiph hai usase door hote gae hain

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:12
का सवाल है आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही हैं तो आज स्मार्ट फोन मत उठा शत प्रतिशत भारतीय के मुताबिक स्मार्टफोन उनकी जिंदगी बेहतर की 80% मुताबिक इस स्मार्टफोन की सारिक मानसिक से दोनों पैसे डालते हैं 74% मुताबिक अगर समय समय पर फोन को स्विच ऑफ कर पाए तो परिवार से ज्यादा वक्त बिता सके 14% ने यह भी माना है कि बिना फोन के वह परेशान हो जाते हैं 18% ऐसे थे जो अपना फोन 1 घंटे या उससे ज्यादा वक्त चिपसॉफ्ट या नहीं बंद नहीं कर पा रहे थे और लॉकडाउन में उठाई लोटा में सबसे ज्यादा स्मार्टफोन की लत हो गई थी लोक डाउन में भारतीयों को स्मार्टफोन मतलब 75% लोग वर्क फ्रॉम होम पर लगते थे कॉलिंग 65% करते थे वह सारे मतवल जिससे क्या कर रहे स्मार्टफोन की वजह से अपने परिवारिक से बातें नहीं कर पा रहे थे दिन भर स्मार्टफोन पर लगे थे
Ka savaal hai aaj smaartaphon ke kaaran apano se dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hain to aaj smaart phon mat utha shat pratishat bhaarateey ke mutaabik smaartaphon unakee jindagee behatar kee 80% mutaabik is smaartaphon kee saarik maanasik se donon paise daalate hain 74% mutaabik agar samay samay par phon ko svich oph kar pae to parivaar se jyaada vakt bita sake 14% ne yah bhee maana hai ki bina phon ke vah pareshaan ho jaate hain 18% aise the jo apana phon 1 ghante ya usase jyaada vakt chipasopht ya nahin band nahin kar pa rahe the aur lokadaun mein uthaee lota mein sabase jyaada smaartaphon kee lat ho gaee thee lok daun mein bhaarateeyon ko smaartaphon matalab 75% log vark phrom hom par lagate the koling 65% karate the vah saare mataval jisase kya kar rahe smaartaphon kee vajah se apane parivaarik se baaten nahin kar pa rahe the din bhar smaartaphon par lage the

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है मोबाइल से हम दूर के आदमी से बोलते हुए खड़े हो जाते हैं और दुनिया को दिखाने का प्रयास करते कि मैं कितने बड़े लोगों से बातें कर रहा हूं और बातें तो कुछ नहीं पोर्टेंट बातचीत नहीं होती इसमें कुछ कंटेंट ऑफ कंटेंट तो पैसा नहीं है कोई दर्जन मजेदार कंटेंट लेकिन सामने आकर खड़ा हुआ अपना मित्र कुछ देर तक हम उसको वैसा ही खड़ा रहने देते हैं यह तो से इशारा करते हैं तो उस को अपमानित महसूस होता है और जो सामने खड़े हुए मित्र करें ईमित्र से मंत्री बना नहीं सकता तू दुखी आदमी किससे किससे कैसे बना सकता है यह भी सामने वाली मित्र में होना चाहिए वैसे भी तुमको हमसे नाराज हो जाते हैं घर में अपने मोबाइल में भी अपनी खोपड़ी डाल कर बैठा हुआ है बेटी हुई लड़कियां रहती है तो एक तरह से घर वालों को गोगो गलत लगता है वह एक बुरी आदत लगती है और यह समस्या भी निर्माण होता है कि यह किसी लड़की के साथ या लड़का किसी लड़की के साथ बोलता है और इतना देर तक अगर बोलता है तो पैसा भी बहुत बुरा हो रहता होगा पैसों से बढ़ता है लड़की आपस में इनसे शब्द होती जा रही है क्योंकि उसमें बियर की आशंका उत्पन्न हो जाती है जब कोई किसी के साथ लेटेस्ट और एक तो कर दो प्रकार का सोचे और नफरत एक दफ्तर आशिक हो जाती है उन्हें तुलना होती है और किसी किसी के साथ कोई लड़का या लड़की ज्यादा बोलते हैं तो बस में पड़ जा या इतिहासकार की भावना उत्पन्न होती है संबंध बिगड़ जाते हैं परिवार में पति पत्नी उन पर कुछ बोलते हैं या चैट करते हैं तो वहां पे तनाव निर्माण हो जाता है यार सगाई निर्माण हो जाते सोचे बढ़ जाता है तो कुछ लोग ऐसे हैं कि कुछ काम ही नहीं करते काम करने के लिए जाते ही नहीं पैसा कमाने के लिए कुछ सोचते ही नहीं फोन में मग्न हो जाते हैं तो इस तरीके से दूरियां बढ़ती जा रही है पापा और भाई अपनी बहन बहन के बेटी के सारे भाग मैसेज और कॉल चेक करें पति-पत्नी के चेक कर रहा है इसे हीरो की वो खतरे में कई बार हम अपनों के फोन नहीं उठाते हड्डियों के साथ हम पांच 10 मिनट या आधे घंटे बोलते हुए अपना रिश्तेदार अपने लोग बब्बर की वह देखते हैं और सोचते हैं कि दूसरों के साथ इतना बोलता है वह मेरा फोन ही नहीं उठाता स्त्री का अपमान महसूस होता है और कई लोगों को डिलीट करने की प्रवृत्ति किसमें होती है बहुत सारे लोग अश्लील वीडियो जो देखते हैं अश्लील कार्यक्रम देखते हैं जोक्स देखते हैं तो अच्छे संस्कार नहीं भूले हैं ऐसे माता-पिता को एक प्रकार का डर लगता है कि यह इस पर गलत संस्कार हो रहे हैं जॉइंट फैमिली में तो यह बहुत सारा प्रकार प्रकार जो दिखाई दे रहा है निश्चित रूप से इसके कारण कई बार सच्चाई विदेश में कई बार उसमें सच्चाई नहीं लगती है लेकिन दूरियां बढ़ रही है कि स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं धन्यवाद
Aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hai mobail se ham door ke aadamee se bolate hue khade ho jaate hain aur duniya ko dikhaane ka prayaas karate ki main kitane bade logon se baaten kar raha hoon aur baaten to kuchh nahin portent baatacheet nahin hotee isamen kuchh kantent oph kantent to paisa nahin hai koee darjan majedaar kantent lekin saamane aakar khada hua apana mitr kuchh der tak ham usako vaisa hee khada rahane dete hain yah to se ishaara karate hain to us ko apamaanit mahasoos hota hai aur jo saamane khade hue mitr karen eemitr se mantree bana nahin sakata too dukhee aadamee kisase kisase kaise bana sakata hai yah bhee saamane vaalee mitr mein hona chaahie vaise bhee tumako hamase naaraaj ho jaate hain ghar mein apane mobail mein bhee apanee khopadee daal kar baitha hua hai betee huee ladakiyaan rahatee hai to ek tarah se ghar vaalon ko gogo galat lagata hai vah ek buree aadat lagatee hai aur yah samasya bhee nirmaan hota hai ki yah kisee ladakee ke saath ya ladaka kisee ladakee ke saath bolata hai aur itana der tak agar bolata hai to paisa bhee bahut bura ho rahata hoga paison se badhata hai ladakee aapas mein inase shabd hotee ja rahee hai kyonki usamen biyar kee aashanka utpann ho jaatee hai jab koee kisee ke saath letest aur ek to kar do prakaar ka soche aur napharat ek daphtar aashik ho jaatee hai unhen tulana hotee hai aur kisee kisee ke saath koee ladaka ya ladakee jyaada bolate hain to bas mein pad ja ya itihaasakaar kee bhaavana utpann hotee hai sambandh bigad jaate hain parivaar mein pati patnee un par kuchh bolate hain ya chait karate hain to vahaan pe tanaav nirmaan ho jaata hai yaar sagaee nirmaan ho jaate soche badh jaata hai to kuchh log aise hain ki kuchh kaam hee nahin karate kaam karane ke lie jaate hee nahin paisa kamaane ke lie kuchh sochate hee nahin phon mein magn ho jaate hain to is tareeke se dooriyaan badhatee ja rahee hai paapa aur bhaee apanee bahan bahan ke betee ke saare bhaag maisej aur kol chek karen pati-patnee ke chek kar raha hai ise heero kee vo khatare mein kaee baar ham apanon ke phon nahin uthaate haddiyon ke saath ham paanch 10 minat ya aadhe ghante bolate hue apana rishtedaar apane log babbar kee vah dekhate hain aur sochate hain ki doosaron ke saath itana bolata hai vah mera phon hee nahin uthaata stree ka apamaan mahasoos hota hai aur kaee logon ko dileet karane kee pravrtti kisamen hotee hai bahut saare log ashleel veediyo jo dekhate hain ashleel kaaryakram dekhate hain joks dekhate hain to achchhe sanskaar nahin bhoole hain aise maata-pita ko ek prakaar ka dar lagata hai ki yah is par galat sanskaar ho rahe hain joint phaimilee mein to yah bahut saara prakaar prakaar jo dikhaee de raha hai nishchit roop se isake kaaran kaee baar sachchaee videsh mein kaee baar usamen sachchaee nahin lagatee hai lekin dooriyaan badh rahee hai ki svaasthy ke lie achchha nahin dhanyavaad

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:38
नमस्कार श्रोता आज स्मार्टफोन के कारण अपने से की दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है तू यह कैसे बढ़ रही है कोई फैमिली है चाल देखो कि वह खाना खाने बैठी है अब ऐसे तो पुराने समय में बातें होती थी या टीवी पर कुछ चल रहा था तो उसको देखकर लोग हम अपने टाइम काटते थे लेकिन अब क्या होता है कि खाना खाते वक्त भी लोग अपने फोन का इस्तेमाल करते हैं सोशल मीडिया पर खासकर अपना काम करते रहते हैं तो उसमें कभी भी फैमिली एक साथ कुछ काम नहीं करते चाय टीवी ही देख ले वह भी चलता है कहीं ना कहीं एक प्रकार से वह साथ में ट्रांसफर करते लेकिन जो फोन आ जाता है तो वह एक इंडिविजुअल हो जाते हैं इंडिविजुअलिज्म का एक समय हो जाता है वह क्योंकि सब के पास अपना फोन है और सब अपना अपना काम करने दो अलग अलग से हो जाते हैं इसके अलावा पहले जहां बर्थडे पर विश करा जाता था फोन करके हालचाल पूछा जाता था अब क्या होता है कि बस अपने सोशल मीडिया पर इस स्टोरी डाल दी हैप्पी बर्थडे हैप्पी एनिवर्सरी और सामने वाले ने उस पर 10 किलो और बात खत्म पहले जहां ऐसे पर वह पर तोहार ऊपर और यह जन्मदिन और ऐसी विशेष दिनांक को पर जहां लोग पहले बात करते थे एक दूसरे का हालचाल चांद लेते थे अब वह ज्यादा बात होती नहीं केवल थैंक यू सर बात खत्म हो जाती है तो यह कुछ उदाहरण है ऐसे कई सारे उदाहरण है जहां पर हम देखते हैं कि स्मार्टफोन और टेक्नोलॉजी कारण हम दूर भी हुए हैं और पास किया है
Namaskaar shrota aaj smaartaphon ke kaaran apane se kee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hai too yah kaise badh rahee hai koee phaimilee hai chaal dekho ki vah khaana khaane baithee hai ab aise to puraane samay mein baaten hotee thee ya teevee par kuchh chal raha tha to usako dekhakar log ham apane taim kaatate the lekin ab kya hota hai ki khaana khaate vakt bhee log apane phon ka istemaal karate hain soshal meediya par khaasakar apana kaam karate rahate hain to usamen kabhee bhee phaimilee ek saath kuchh kaam nahin karate chaay teevee hee dekh le vah bhee chalata hai kaheen na kaheen ek prakaar se vah saath mein traansaphar karate lekin jo phon aa jaata hai to vah ek indivijual ho jaate hain indivijualijm ka ek samay ho jaata hai vah kyonki sab ke paas apana phon hai aur sab apana apana kaam karane do alag alag se ho jaate hain isake alaava pahale jahaan barthade par vish kara jaata tha phon karake haalachaal poochha jaata tha ab kya hota hai ki bas apane soshal meediya par is storee daal dee haippee barthade haippee enivarsaree aur saamane vaale ne us par 10 kilo aur baat khatm pahale jahaan aise par vah par tohaar oopar aur yah janmadin aur aisee vishesh dinaank ko par jahaan log pahale baat karate the ek doosare ka haalachaal chaand lete the ab vah jyaada baat hotee nahin keval thaink yoo sar baat khatm ho jaatee hai to yah kuchh udaaharan hai aise kaee saare udaaharan hai jahaan par ham dekhate hain ki smaartaphon aur teknolojee kaaran ham door bhee hue hain aur paas kiya hai

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:36
आज मकानों के कारण अपनों से दूरी बढ़ती जा रही हैं यह बात सच है लेकिन मिलकर आया करते थे पर आज क्या होता है कि कौन से यह सिस्टम हो जाता है पूरा मतलब फोन करो और एक दूसरे के पास जाने की जरूरत नहीं है दूरी बढ़ती दूरी बढ़ती रहती हैं आपस में जानने का मौका मिलता नहीं है एक दूसरे को और आगे जाकर जी बहुत ज्यादा प्रॉब्लम दे जाती है पहले का जमाना ठीक-ठाक फोन नहीं थे मेरे साथ
Aaj makaanon ke kaaran apanon se dooree badhatee ja rahee hain yah baat sach hai lekin milakar aaya karate the par aaj kya hota hai ki kaun se yah sistam ho jaata hai poora matalab phon karo aur ek doosare ke paas jaane kee jaroorat nahin hai dooree badhatee dooree badhatee rahatee hain aapas mein jaanane ka mauka milata nahin hai ek doosare ko aur aage jaakar jee bahut jyaada problam de jaatee hai pahale ka jamaana theek-thaak phon nahin the mere saath

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:59
नमस्कार साथियों आपका प्रश्न है आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है तो साथियों आपके प्रश्न का उत्तर यह है वर्तमान समय में स्मार्टफोन का जमाना है और हमारे स्मार्टफोन आज करते लड़का और लड़कियों के पास रहने लग गया है जिनकी वजह से अपना सारा समय स्मार्टफोन पर ही यूज करते हैं और अपने माता-पिता भाई-बहन रिश्ते नाते सब को भूल जाते हैं और पूरा समय स्मार्टफोन को ही देते हैं इसलिए एक दूसरे से विचारों का आदान-प्रदान नहीं हो पाता है एक दूसरे की समस्या को नहीं जान पाते हैं और पूरा सुने स्मार्टफोन करें यूज में करते हैं जिनसे रिश्ता में कुछ दूरियां बढ़ी है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar saathiyon aapaka prashn hai aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hai to saathiyon aapake prashn ka uttar yah hai vartamaan samay mein smaartaphon ka jamaana hai aur hamaare smaartaphon aaj karate ladaka aur ladakiyon ke paas rahane lag gaya hai jinakee vajah se apana saara samay smaartaphon par hee yooj karate hain aur apane maata-pita bhaee-bahan rishte naate sab ko bhool jaate hain aur poora samay smaartaphon ko hee dete hain isalie ek doosare se vichaaron ka aadaan-pradaan nahin ho paata hai ek doosare kee samasya ko nahin jaan paate hain aur poora sune smaartaphon karen yooj mein karate hain jinase rishta mein kuchh dooriyaan badhee hai dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां
URL copied to clipboard