#भारत की राजनीति

bolkar speaker

पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?

Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:15
तो आज आप का सवाल है कि पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है तो सरकार चल रही है दादा सॉन्ग और मजबूत है बहुत ज्यादा कुछ भी बोले तो फिर आपके पास आ जाती है क्या बोल सकते लेकिन कुछ भी बोल देंगे गाइडलाइंस के दायरे प्राप्त कर बोलते हैं जिन्हें मतलब जेल में ही नहीं बल्कि डायरेक्ट हत्या कर दी जाती है जो न्यूज़ चैनल में भी दिखाई नहीं जाती मगर आप तो सोशल नेटवर्क में आप देखेंगे बहुत सारे ऐसे यूट्यूब में देखेंगे तब आपको पता चलेगा कि आर्टिकल्स मिलेंगे तब आपको पता चलेगा कि क्या हो रहा है नॉर्मल आपको टीवी वगैरह में देखने के लिए नहीं मिलेगा क्या होता है कि जब कोई बहुत ही स्ट्रांग पार्टी है अगर आप उसके बारे कुछ बोलते हैं तो कोई नहीं चाहेगा कि उनका इंप्रेशन का इमेज इन केमिस्ट्री में गिरे भूलने के लिए जाते हैं तो ऐसे लोग दबा देते आपको अब आपको कैसे लगे आपको भेज देंगे मुंह बंद कर देंगे या फिर हमेशा के लिए आप की हत्या कर देंगे जान ले लेंगे सरकार के बारे में बोलने के लिए नहीं हो रहा है या तो उन पर बात आ जाती या तो जेल भेज दिया जाता है या तो अंदर ही अंदर मार दिया जाता है तो इस तरह से हट चुके थे सब लोग डर गए हैं फिर कैसे क्या बोले कैसे आवाज उठाई तो इसने कहा जाता जब दो लोग सही दिल में आवाज उठा रहा हो तो हमें चुप नहीं रहना वहां पर बंद मुंह बंद करके नहीं रखना जब देख रहे हैं सही चीज के लिए आवाज उठाते तुम सब को सपोर्ट करना चाहिए हमें भी आवाज उठाना चाहिए क्योंकि एक दोनों दम सकते हैं नहीं दबाया जा सकता है लेकिन जब बात पीपल से बहुत सारे लोगों को उनकी आवाज को और उन्हीं नहीं लगाया जा सकता है असली मुद्दे और सही मुद्दे पर बात हो रहा हो तो टेस्ट हो रहा हो तो हमें भी साथ देना चाहिए और आवाज उठाना चाहिए वरना 12 ऐसी पत्रकार आवाज उठाएंगे उन्हें जेल भेज दिया जाएगा हमारे साथ जो है बता होता ही रहेगा
To aaj aap ka savaal hai ki patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein kyon daala ja raha hai to sarakaar chal rahee hai daada song aur majaboot hai bahut jyaada kuchh bhee bole to phir aapake paas aa jaatee hai kya bol sakate lekin kuchh bhee bol denge gaidalains ke daayare praapt kar bolate hain jinhen matalab jel mein hee nahin balki daayarekt hatya kar dee jaatee hai jo nyooz chainal mein bhee dikhaee nahin jaatee magar aap to soshal netavark mein aap dekhenge bahut saare aise yootyoob mein dekhenge tab aapako pata chalega ki aartikals milenge tab aapako pata chalega ki kya ho raha hai normal aapako teevee vagairah mein dekhane ke lie nahin milega kya hota hai ki jab koee bahut hee straang paartee hai agar aap usake baare kuchh bolate hain to koee nahin chaahega ki unaka impreshan ka imej in kemistree mein gire bhoolane ke lie jaate hain to aise log daba dete aapako ab aapako kaise lage aapako bhej denge munh band kar denge ya phir hamesha ke lie aap kee hatya kar denge jaan le lenge sarakaar ke baare mein bolane ke lie nahin ho raha hai ya to un par baat aa jaatee ya to jel bhej diya jaata hai ya to andar hee andar maar diya jaata hai to is tarah se hat chuke the sab log dar gae hain phir kaise kya bole kaise aavaaj uthaee to isane kaha jaata jab do log sahee dil mein aavaaj utha raha ho to hamen chup nahin rahana vahaan par band munh band karake nahin rakhana jab dekh rahe hain sahee cheej ke lie aavaaj uthaate tum sab ko saport karana chaahie hamen bhee aavaaj uthaana chaahie kyonki ek donon dam sakate hain nahin dabaaya ja sakata hai lekin jab baat peepal se bahut saare logon ko unakee aavaaj ko aur unheen nahin lagaaya ja sakata hai asalee mudde aur sahee mudde par baat ho raha ho to test ho raha ho to hamen bhee saath dena chaahie aur aavaaj uthaana chaahie varana 12 aisee patrakaar aavaaj uthaenge unhen jel bhej diya jaega hamaare saath jo hai bata hota hee rahega

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
Dr. Shivam Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dr. जी का जवाब
Professor
0:57
इस चीज को मिस्त्री के समंदर पर छोटा सा एग्जांपल ले लेते हैं मुझे बताना मेरा को समझना बहुत अच्छा मिलेगी सफलता गांव में आप उसकी सरपंच और थोड़ा करिश्मा लीजिए आप उसकी ही सब कुछ आप उसके राजा हैं सारी अद्भुत आपके पास सारे अधिकार आपके पास है किसी को हटाने के लगाने की और जो भी नियम कानून बनाने वाले और उसी बीच कुछ लोग ऐसे खड़े हो जाते हैं जो आप के खिलाफ निगेटिव पब्लिसिटी कर रहे हैं जोक इमेज को खराब कर रहे हैं आप उस समय क्या करेंगे आप खुद सोचिए मानता हूं कि वह सही कर रहे हैं मतलब उनकी हो सकता है कि उनकी बात हो जाए तो आपके लिए तो नेगेटिव पब्लिसिटी हुई आपके लिए तो वह मत खराब करने वाला हुआ तो आप बेशक उनके खिलाफ एक्शन लेंगे वही सरकार कर रही है
Is cheej ko mistree ke samandar par chhota sa egjaampal le lete hain mujhe bataana mera ko samajhana bahut achchha milegee saphalata gaanv mein aap usakee sarapanch aur thoda karishma leejie aap usakee hee sab kuchh aap usake raaja hain saaree adbhut aapake paas saare adhikaar aapake paas hai kisee ko hataane ke lagaane kee aur jo bhee niyam kaanoon banaane vaale aur usee beech kuchh log aise khade ho jaate hain jo aap ke khilaaph nigetiv pablisitee kar rahe hain jok imej ko kharaab kar rahe hain aap us samay kya karenge aap khud sochie maanata hoon ki vah sahee kar rahe hain matalab unakee ho sakata hai ki unakee baat ho jae to aapake lie to negetiv pablisitee huee aapake lie to vah mat kharaab karane vaala hua to aap beshak unake khilaaph ekshan lenge vahee sarakaar kar rahee hai

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:37
हाय फ्रेंड्स चली इंप्रेशन देखते हैं उनके बाद इसका उत्तर देना भी कमाल किया है कि पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है दिल्ली सरकार के खिलाफ बोलेगा उसे जेल में डाला जाए जिसकी भाई सरकार है वह सर्वोपरि है भाई अपनी तानाशाही चल आएगा इसलिए सरकार पत्रकारों डाल लिया कर रही हो गलत कर रही बता बाद ऐसा नहीं होना चाहिए हमारे हिंदुस्तान में होती है मैं होता हर किसी साथी गई है जो कि गलत होता
Haay phrends chalee impreshan dekhate hain unake baad isaka uttar dena bhee kamaal kiya hai ki patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein kyon daala ja raha hai dillee sarakaar ke khilaaph bolega use jel mein daala jae jisakee bhaee sarakaar hai vah sarvopari hai bhaee apanee taanaashaahee chal aaega isalie sarakaar patrakaaron daal liya kar rahee ho galat kar rahee bata baad aisa nahin hona chaahie hamaare hindustaan mein hotee hai main hota har kisee saathee gaee hai jo ki galat hota

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:33
सवाल है कि पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोले मंडे को डाला जा रहा है भाजपा सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करना टीवी चैनल के पत्रकारों को भी भारी पड़ गया है मंगलवार को इस पत्रकार को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत 12 महीने तक हिरासत में रखने की सजा सुनाई गई है और जेल भेज दिया गया है यह मामला करीब 1 महीने पुराना है जब 39 वर्षीय पत्रकार किशोरचंद्र वाक्य में अपने फेसबुक पेज पर झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर एक वीडियो अपलोड किया जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री वीरेंद्र सिंह और साथी पीएम मोदी की कथित तौर पर आलोचना की थी बाम बाम की अंग्रेज और मीठी भाषा में कर वीडियो अपलोड किए इन वीडियो में वांगखेम ने कहा कि मैं दुखी और हैरान हूं कि मणिपुर की सरकार लक्ष्मीबाई की जयंती 19 नवंबर को मना रही है मुख्यमंत्री यह दावा करते हैं कि भारत को एकता के सूत्र में पिरोने में झांसी की रानी का योगदान था लेकिन मणिपुर के लिए उन्होंने कुछ नहीं किया वाक्य ने आरोप लगाया कि मणिपुर सरकार ऐसा केवल केंद्र सरकार के कहने पर कर रही है उन्होंने इसे मणिपुर की स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान बताया है और हिंदुत्व की कठपुतली बताते हुए पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम भी खिलाफ अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया यह वीडियो सामने आने के बाद वांगखेम को 20 नवंबर को गिरफ्तार कर लिया गया हालांकि 26 नवंबर को बेस्ट इन फॉल की सीजेएम कोर्ट ने ₹70000 के बॉन्ड पर जमानत दे दी थी जमानत के वक्त कोर्ट ने यह भी कहा कि पत्रकार की टिप्पणी भारत के प्रधानमंत्री और मणिपुर के मुख्यमंत्री खिलाफ अपने विचारों की अभिव्यक्ति थी लेकिन इससे राज्यों नहीं किया जा सकता इसके बावजूद 27 नवंबर को वांगखेम ने पांच गेम को nh1a 73 एक बार कर लिया गया और जेल भेज दिया गया इस बार इस बार इंफाल के जिला न्यायाधीश को एक नया ऑर्डर जारी किया गया और कहा कि अगले आदेश तक पत्रकार को एनएससी 1980 के सेक्शन 32 के तहत हिरासत में रखना चाहिए सर दोबारा उन्होंने ने आदेश जारी की जिसमें कहा गया कि वह गेम को 12 महीनों तक हिरासत में ही रहना होगा वही वांगखेम की वकील एंड वेक्टर का कहना है कि वह इस मामले में अब हाईकोर्ट की शरण ली
Savaal hai ki patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bole mande ko daala ja raha hai bhaajapa sarakaar pradhaanamantree narendr modee kee aalochana karana teevee chainal ke patrakaaron ko bhee bhaaree pad gaya hai mangalavaar ko is patrakaar ko raashtreey suraksha kaanoon ke tahat 12 maheene tak hiraasat mein rakhane kee saja sunaee gaee hai aur jel bhej diya gaya hai yah maamala kareeb 1 maheene puraana hai jab 39 varsheey patrakaar kishorachandr vaaky mein apane phesabuk pej par jhaansee kee raanee lakshmeebaee kee jayantee par ek veediyo apalod kiya jisamen unhonne mukhyamantree veerendr sinh aur saathee peeem modee kee kathit taur par aalochana kee thee baam baam kee angrej aur meethee bhaasha mein kar veediyo apalod kie in veediyo mein vaangakhem ne kaha ki main dukhee aur hairaan hoon ki manipur kee sarakaar lakshmeebaee kee jayantee 19 navambar ko mana rahee hai mukhyamantree yah daava karate hain ki bhaarat ko ekata ke sootr mein pirone mein jhaansee kee raanee ka yogadaan tha lekin manipur ke lie unhonne kuchh nahin kiya vaaky ne aarop lagaaya ki manipur sarakaar aisa keval kendr sarakaar ke kahane par kar rahee hai unhonne ise manipur kee svatantrata senaaniyon ka apamaan bataaya hai aur hindutv kee kathaputalee bataate hue peeem narendr modee aur seeem bhee khilaaph apamaanajanak shabdon ka istemaal kiya yah veediyo saamane aane ke baad vaangakhem ko 20 navambar ko giraphtaar kar liya gaya haalaanki 26 navambar ko best in phol kee seejeem kort ne ₹70000 ke bond par jamaanat de dee thee jamaanat ke vakt kort ne yah bhee kaha ki patrakaar kee tippanee bhaarat ke pradhaanamantree aur manipur ke mukhyamantree khilaaph apane vichaaron kee abhivyakti thee lekin isase raajyon nahin kiya ja sakata isake baavajood 27 navambar ko vaangakhem ne paanch gem ko nh1a 73 ek baar kar liya gaya aur jel bhej diya gaya is baar is baar imphaal ke jila nyaayaadheesh ko ek naya ordar jaaree kiya gaya aur kaha ki agale aadesh tak patrakaar ko enesasee 1980 ke sekshan 32 ke tahat hiraasat mein rakhana chaahie sar dobaara unhonne ne aadesh jaaree kee jisamen kaha gaya ki vah gem ko 12 maheenon tak hiraasat mein hee rahana hoga vahee vaangakhem kee vakeel end vektar ka kahana hai ki vah is maamale mein ab haeekort kee sharan lee

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:54
स्वागत है आपका आपका प्रश्न पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है हर प्रकार के साथ ऐसा नहीं है लेकिन जो पत्रकार अपनी सुना के बाहर बोलते हैं लिखते हैं तो फिर उनको जेल में डाला जाता है जो भी पत्रकार किसी के बारे में अधिक टिप्पणी लिखते हैं या अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं तो उन्हें जेल में डाला जाए पत्रकारों के साथ ऐसा नहीं है जो अच्छे पत्रकार हैं जो निष्पक्ष बात बोलते हैं जो किसी एक का पक्ष नहीं लेते हैं उनके साथ ऐसा नहीं होता लेकिन तू कुछ पत्रकार हैं जो समाज में अगर गलत धारणा फैलाते हैं यह समाज में कोई गलत अफवाह फैला रहे हैं तो उनको सरकार जेल में डाल देती है तो किसी के बारे में गलत टिप्पणी नहीं करना है और जो गलत टिप्पणी करते हैं गलत भाषा बोलते हैं तभी सरकार उनको जेल में डालती है
Svaagat hai aapaka aapaka prashn patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein kyon daala ja raha hai har prakaar ke saath aisa nahin hai lekin jo patrakaar apanee suna ke baahar bolate hain likhate hain to phir unako jel mein daala jaata hai jo bhee patrakaar kisee ke baare mein adhik tippanee likhate hain ya abhadr bhaasha ka prayog karate hain to unhen jel mein daala jae patrakaaron ke saath aisa nahin hai jo achchhe patrakaar hain jo nishpaksh baat bolate hain jo kisee ek ka paksh nahin lete hain unake saath aisa nahin hota lekin too kuchh patrakaar hain jo samaaj mein agar galat dhaarana phailaate hain yah samaaj mein koee galat aphavaah phaila rahe hain to unako sarakaar jel mein daal detee hai to kisee ke baare mein galat tippanee nahin karana hai aur jo galat tippanee karate hain galat bhaasha bolate hain tabhee sarakaar unako jel mein daalatee hai

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:01
पत्रकारों को सरकार के द्वारा जेल में क्यों डाला जा रहा है हम आपको बता दें कि आजकल पत्रकारिता की भीड़ सी हो गई है लोगों में फैशन सा हो गया अपने आप को पत्रकार लिखे ना तो उनके पास पत्रकार की कोई लीगल सर्टिफिकेट है ना कोई ऐसी पत्रिका के साथ जुड़े हैं वह या इसे पेपर के साथ जुड़े हैं जहां से उनको मान्यता प्राप्त पत्रकार का प्रमाण पत्र दिया जाता है और वह शासकीय कार्य में बाधा पहुंचा रहे हैं अनावश्यक अनर्गल प्रचार प्रसार करते हैं जिससे इस बात को सरकार ने अपने संज्ञान में लिया और संज्ञान में ले जाने के गानों सरकारी दस्तावेजों को से हानि पहुंचा रहे हैं और गलत सही लोगों के पास सूचना पहुंचाते हैं जिससे सरकार काफी कुपित हो गई है और इनको प्रीत होने के कारण इतने सारे पत्रकारों के वेरिफिकेशन के कार्य शुरू कर दी है और जो मान्यता प्राप्त पत्रकार नहीं है और अपने आप में पत्रकार लिख गया और उन्होंने कोई गलत सूचनाएं देकर के गलत समाचार प्रसारित कर दिए हैं तो उनके खिलाफ सरकार कार्रवाई की जा रही है और 420 ई का मुकदमा कायम करके उसने जेल में डालने का गाय का आदेश निर्गत कर चुकी है
Patrakaaron ko sarakaar ke dvaara jel mein kyon daala ja raha hai ham aapako bata den ki aajakal patrakaarita kee bheed see ho gaee hai logon mein phaishan sa ho gaya apane aap ko patrakaar likhe na to unake paas patrakaar kee koee leegal sartiphiket hai na koee aisee patrika ke saath jude hain vah ya ise pepar ke saath jude hain jahaan se unako maanyata praapt patrakaar ka pramaan patr diya jaata hai aur vah shaasakeey kaary mein baadha pahuncha rahe hain anaavashyak anargal prachaar prasaar karate hain jisase is baat ko sarakaar ne apane sangyaan mein liya aur sangyaan mein le jaane ke gaanon sarakaaree dastaavejon ko se haani pahuncha rahe hain aur galat sahee logon ke paas soochana pahunchaate hain jisase sarakaar kaaphee kupit ho gaee hai aur inako preet hone ke kaaran itane saare patrakaaron ke veriphikeshan ke kaary shuroo kar dee hai aur jo maanyata praapt patrakaar nahin hai aur apane aap mein patrakaar likh gaya aur unhonne koee galat soochanaen dekar ke galat samaachaar prasaarit kar die hain to unake khilaaph sarakaar kaarravaee kee ja rahee hai aur 420 ee ka mukadama kaayam karake usane jel mein daalane ka gaay ka aadesh nirgat kar chukee hai

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:09
सरकार को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है दोस्तों यदि बात करें पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में डाला जा रहा है तो देखें हिंदुस्तान में भी तब तो कोई ऐसी घटना घटी नहीं है परंतु फिर भी यदि आप देखें कि जैसे पत्रकारों के साथ जरूर गलत हुआ है जैसे आप देखेंगे गौरीशंकर लंकेश के साथ उनकी डेथ हो गई क्योंकि उन्होंने कुछ ऐसे मरवा दिया तो टीआरपी छोरी के सताओ जनता के तरीके हुए हो रहे हैं उनको फिर जो है सरकार हैंडल करने की कोशिश करती है जिनमें कुछ की याद करा दी जाती है किसी के ऊपर कुछ आरोप लगा करके उनको जेल में डाल दिया जाता है
Sarakaar ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein kyon daala ja raha hai doston yadi baat karen patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein daala ja raha hai to dekhen hindustaan mein bhee tab to koee aisee ghatana ghatee nahin hai parantu phir bhee yadi aap dekhen ki jaise patrakaaron ke saath jaroor galat hua hai jaise aap dekhenge gaureeshankar lankesh ke saath unakee deth ho gaee kyonki unhonne kuchh aise marava diya to teeaarapee chhoree ke satao janata ke tareeke hue ho rahe hain unako phir jo hai sarakaar haindal karane kee koshish karatee hai jinamen kuchh kee yaad kara dee jaatee hai kisee ke oopar kuchh aarop laga karake unako jel mein daal diya jaata hai

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:49
पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है यह सरकार की कमजोरी है कि सरकार की हार है यह सरकार का भयानक रूप है कि सरकार का वास्ता के प्रति मुख्य मुन्ना है जनता को गुमराह करना और मीडिया पर प्रतिबंध लगाना है डॉक्टर कर लो सरकार के खिलाफ मैन मदीना से हड़ताल की कमजोरियों को उनकी प्रशंसा के रूप में दिखाएं इंडियन निर्भय पत्रकारों को याद कर मौत के घाट उतार देते हैं यार उनको जेल में डाल देते हैं
Patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein kyon daala ja raha hai yah sarakaar kee kamajoree hai ki sarakaar kee haar hai yah sarakaar ka bhayaanak roop hai ki sarakaar ka vaasta ke prati mukhy munna hai janata ko gumaraah karana aur meediya par pratibandh lagaana hai doktar kar lo sarakaar ke khilaaph main madeena se hadataal kee kamajoriyon ko unakee prashansa ke roop mein dikhaen indiyan nirbhay patrakaaron ko yaad kar maut ke ghaat utaar dete hain yaar unako jel mein daal dete hain

bolkar speaker
पत्रकारों को सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है?Patrkaaron Ko Sarkaar Ke Khilaaf Bolne Par Jel Mein Kyun Dala Ja Raha Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:59
नमस्कार आपका स्वागत प्रकार से है पत्रकारों को सरकार के खिलाफ बोलने पर जेल में क्यों डाला जा रहा है फालतू आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है पत्रकारों को यह आम आदमी को सरकार के खिलाफ जो भी आवाज उठाता है उनको सरकार के द्वारा उनको दबाया जाता है और उन पर अत्याचार किया जाता है क्योंकि हमारे देश में आम आदमी को भी बोलने का अधिकार है और पत्रकार को भी आवाज उठाने का अधिकार है लेकिन हमारे देश की वर्तमान सरकार ने जो हमारे देश का लोकतंत्र का जो नुकसान किया है वह वर्तमान में बहुत ही निंदनीय के पात्र हैं क्योंकि हमारे देश में आम जनता को भी हक है बोलने का हमारे देश में पत्रकारों को भी देश में अगर किसी की भी सरकार क्यों ना हो अगर जो भी अच्छे कार्य नहीं होंगे उनकी बुराई जरूर होती है इसलिए सरकार के खिलाफ बोलना हमारे सच्चे लोकतंत्र की पहचान होती है और जिस से ही हमारा देश आगे बढ़ता है लेकिन हमारे देश की सरकारों ने जो पत्रकार या आम आदमी जो सरकार के खिलाफ बोलता है उनकी आवाज को दबाने का कार्य किया जाता है और उन पर अलग-अलग प्रकार के कानून की धाराएं लगाकर उन को जेल में डालने का कार्य करते हैं यह बहुत ही गलत है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaskaar aapaka svaagat prakaar se hai patrakaaron ko sarakaar ke khilaaph bolane par jel mein kyon daala ja raha hai phaalatoo aapake savaal ka uttar is prakaar hai patrakaaron ko yah aam aadamee ko sarakaar ke khilaaph jo bhee aavaaj uthaata hai unako sarakaar ke dvaara unako dabaaya jaata hai aur un par atyaachaar kiya jaata hai kyonki hamaare desh mein aam aadamee ko bhee bolane ka adhikaar hai aur patrakaar ko bhee aavaaj uthaane ka adhikaar hai lekin hamaare desh kee vartamaan sarakaar ne jo hamaare desh ka lokatantr ka jo nukasaan kiya hai vah vartamaan mein bahut hee nindaneey ke paatr hain kyonki hamaare desh mein aam janata ko bhee hak hai bolane ka hamaare desh mein patrakaaron ko bhee desh mein agar kisee kee bhee sarakaar kyon na ho agar jo bhee achchhe kaary nahin honge unakee buraee jaroor hotee hai isalie sarakaar ke khilaaph bolana hamaare sachche lokatantr kee pahachaan hotee hai aur jis se hee hamaara desh aage badhata hai lekin hamaare desh kee sarakaaron ne jo patrakaar ya aam aadamee jo sarakaar ke khilaaph bolata hai unakee aavaaj ko dabaane ka kaary kiya jaata hai aur un par alag-alag prakaar ke kaanoon kee dhaaraen lagaakar un ko jel mein daalane ka kaary karate hain yah bahut hee galat hai dhanyavaad doston khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard