#रिश्ते और संबंध

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है कहते हैं कि नाम का जिक्र होने पर धड़कनें बढ़ जाए इसे ही इश्क कहते हैं तो क्या मैं अपने आपको इश्क में समझ सकता हूं सबसे पहले तो आपको एक शायरी सुनाना चाहता हूं फ्रेंड कि हमारे यहां कहा जाता है कि ये इश्क नहीं आसां इतना समझ लीजिए समंदर का दरिया है और डूब के जाना है इसको जो है वह जैसे कि गूगल आपने देखा है नेट का नाम सुना है कि आप जितना स्पेशल मारेंगे उतना ही अंदर आप खुद ही चले जाएंगे लेकिन इसका अंकिता सूट्स नहीं पता लगता कि आखिर जुड़ा कहां से है उसी प्रकार से हमारी लाइफ में एक इसका नाम की चिड़िया है इसका दूर-दूर तक कहीं नेटवर्क आपको पता ही नहीं लगता कि यह आखिर कनेक्ट कहां से हुआ है आप इसमें जितना अंदर जाएंगे उतना ही आप अपने आप को जो है इसमें एक प्रकार से खुलता हुआ पाएंगे आप एक समय ऐसा आता है तेरे इश्क में लोग सुसाइड वगैरह भूल नहीं पाते शराब वगैरह पीने लगते हैं सिगरेट होकर अपने लगते हैं जो हाथी है कभी आपने सोचा है मेरा गलती जहां तक है फ्रेंड मैंने किया है यह होता इंसान इश्क में अपनी आपको पूरी तरीके से चूर कर देता है वह भूल जाता है कि वह किस लिए पैदा हुआ है उसकी अस्तित्व क्या है कि इस मायने में उसे क्या करना चाहिए जब इश्क की राह पर चलता है वह सब कुछ भूल जाता आदि के का इश्क एक ऐसा चीज है जिसमें ना तो जात होती है ना तो कोई धर्म होता है ना तो किसी प्रकार का भेदभाव होता है एक बार हो जाए अगर लड़का या फिर लड़की काली है अगर हो जाए तो दुनिया का सबसे सुंदर जोड़ा बन जाता है एक दूसरे को लड़का लड़की घोड़ा है अगर हो जाए तो सबसे सुंदर जुड़ा वही लगता है लड़की बहुत ज्यादा गोरी है लड़का अगर सावला है काला है तो भी दुनिया का सबसे सुंदर जोड़ा वही लगता है उसके सामने सारी कायनात सी की होती इश्क वह चीज फ्रेंड जब होता है तो उसके सामने अभी जैसा कि हमने इसमें ना तू किसी चाहत का किया जाता है कि यह किस कैटेगरी की है आदत में आप देख सकते हैं आप अदर कास्ट के साथ खाना नहीं खाते आदर के साथ आपका बातचीत नहीं होता लेकिन इसकी कैसा चीज होता है कि इश्क में अगर आप तो इश्क किसी दूसरी कैटेगरी से कर दिए हैं तो उसका झूठ तक आप खाने के लिए खुशी-खुशी राजी हो जाते हैं और आपको किसी प्रकार की कोई परवाह नहीं होती तो यह बहुत बड़ा मायने अप्रैल इसे समझना आसान नहीं है शुक्रिया
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai kahate hain ki naam ka jikr hone par dhadakanen badh jae ise hee ishk kahate hain to kya main apane aapako ishk mein samajh sakata hoon sabase pahale to aapako ek shaayaree sunaana chaahata hoon phrend ki hamaare yahaan kaha jaata hai ki ye ishk nahin aasaan itana samajh leejie samandar ka dariya hai aur doob ke jaana hai isako jo hai vah jaise ki googal aapane dekha hai net ka naam suna hai ki aap jitana speshal maarenge utana hee andar aap khud hee chale jaenge lekin isaka ankita soots nahin pata lagata ki aakhir juda kahaan se hai usee prakaar se hamaaree laiph mein ek isaka naam kee chidiya hai isaka door-door tak kaheen netavark aapako pata hee nahin lagata ki yah aakhir kanekt kahaan se hua hai aap isamen jitana andar jaenge utana hee aap apane aap ko jo hai isamen ek prakaar se khulata hua paenge aap ek samay aisa aata hai tere ishk mein log susaid vagairah bhool nahin paate sharaab vagairah peene lagate hain sigaret hokar apane lagate hain jo haathee hai kabhee aapane socha hai mera galatee jahaan tak hai phrend mainne kiya hai yah hota insaan ishk mein apanee aapako pooree tareeke se choor kar deta hai vah bhool jaata hai ki vah kis lie paida hua hai usakee astitv kya hai ki is maayane mein use kya karana chaahie jab ishk kee raah par chalata hai vah sab kuchh bhool jaata aadi ke ka ishk ek aisa cheej hai jisamen na to jaat hotee hai na to koee dharm hota hai na to kisee prakaar ka bhedabhaav hota hai ek baar ho jae agar ladaka ya phir ladakee kaalee hai agar ho jae to duniya ka sabase sundar joda ban jaata hai ek doosare ko ladaka ladakee ghoda hai agar ho jae to sabase sundar juda vahee lagata hai ladakee bahut jyaada goree hai ladaka agar saavala hai kaala hai to bhee duniya ka sabase sundar joda vahee lagata hai usake saamane saaree kaayanaat see kee hotee ishk vah cheej phrend jab hota hai to usake saamane abhee jaisa ki hamane isamen na too kisee chaahat ka kiya jaata hai ki yah kis kaitegaree kee hai aadat mein aap dekh sakate hain aap adar kaast ke saath khaana nahin khaate aadar ke saath aapaka baatacheet nahin hota lekin isakee kaisa cheej hota hai ki ishk mein agar aap to ishk kisee doosaree kaitegaree se kar die hain to usaka jhooth tak aap khaane ke lie khushee-khushee raajee ho jaate hain aur aapako kisee prakaar kee koee paravaah nahin hotee to yah bahut bada maayane aprail ise samajhana aasaan nahin hai shukriya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अपने प्रेमी के नाम का जिक्र होने पर क्या सच में दिल की धड़कन बढ़ जाती है,
URL copied to clipboard