#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत ?

Paristhitiyon Ko Theek Jane Bina Koi Nirnay Lena Sahi Rahega Ya Galat Rahega
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:47
आपका प्रश्न है परिस्थितियों को एक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत रहेगा तो मित्रो आप भी सवाल का उत्तर है हमारी परिस्थितियों को ध्यान में रखकर ही निर्णय को देना चाहिए क्योंकि जो उस समय के अनुरूप निर्णय कारगर होगा हमारे समय के मुताबिक ही सही गलत निर्णय नुकसानदायक हो जाएगा इसलिए समय के अनुरूप ही रहने को लेना चाहिए जो हमारे जैसी प्रस्तुति होती है उसी को एक चीज जानते हैं उन्हें को लेना थी धन्यवाद साथियों खुश रहें
Aapaka prashn hai paristhitiyon ko ek jaane bina koee nirnay lena sahee rahega ya galat rahega to mitro aap bhee savaal ka uttar hai hamaaree paristhitiyon ko dhyaan mein rakhakar hee nirnay ko dena chaahie kyonki jo us samay ke anuroop nirnay kaaragar hoga hamaare samay ke mutaabik hee sahee galat nirnay nukasaanadaayak ho jaega isalie samay ke anuroop hee rahane ko lena chaahie jo hamaare jaisee prastuti hotee hai usee ko ek cheej jaanate hain unhen ko lena thee dhanyavaad saathiyon khush rahen

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत ?Paristhitiyon Ko Theek Jane Bina Koi Nirnay Lena Sahi Rahega Ya Galat Rahega
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
4:23
सवाल है परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत रहेगा देखिए हम अपने जीवन में आए अनेक समस्या सुलझाने और निर्णय लेने के लिए अनेक महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान देते हैं हमने आज तक गीता में सुना है कर्म करो फल की इच्छा मत करो लेकिन इसका गहरा अर्थ है कि जीवन का खेल इस प्रकार के लोग किस खेल का मजा लिया जा सके इसके परिणामों और कर्म के फल की चिंता न करते हुए केवल इस खेल का आनंद लो इस बात को एक उदाहरण से समझते हैं एक मां अपने बच्चे से कहती है कि बाहर जाकर खेल कर आओ तो तुम्हें चॉकलेट मिलेगा लेकिन खेलना अपने आप में बच्चे के लिए फल है उसे किसी और फल की आवश्यकता ही नहीं है या ऐसा ही है जैसे हम जीतने की रेखा से ही दौड़ की शुरुआत करें यानी आप की शुरुआत ही जीत से होती है तो आगे आपको किसी स्पर्धा या जीत की कोई चिंता नहीं रहती है खेल में दौड़ना अपने आप में आनंद है सफल फल है इसी तरह जब आप कोई समस्या सुलझ आते हैं या निर्णय लेते हैं तब या समझ रखी कि इसमें किसी और फल की अपेक्षा रखने की आवश्यकता ही नहीं है समस्या सुलझा ने और निर्णय लेने का गुण सीकर आपको अपने गुरु को अभिव्यक्त करने का मौका मिला है वही अपने आप में योग्य फल है एक लेखक जो लिखने की प्रक्रिया का आनंद उठाता है उसके लिए प्रकाशन और प्रसारण बोनस जितना महत्त्व रखता है क्योंकि उस लेखक के लिए लिखने का कर्म ही फल है समस्या को रचनात्मक तरीके से सुलझाने और निर्णय लेने को ही फल समझे साथी या भी समझें कि आपके कर्म का परिणाम भी कर्म हो सकता है भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को बताते योद्धा के लिए धर्म युद्ध से बढ़कर कुछ भी नहीं है इसका अर्थ है कि एक आध्यात्मिक युद्ध अपनी व्यक्तियों के खिलाफ युद्ध करता है यह व्यक्ति है जो उसे अपनी असली स्वभाव से दूर ले जाती है वह काम ना गलत सोच जो इंसान को मुंह में फंसाने पर बार-बार लोग की होती है इन्हीं के खिलाफ युद्ध करें हमारी इंद्रियां निरंतर हमारा ध्यान आकर्षित करती है एक अध्यात्मिक योद्धा पूरी तरह अनासक्त होकर अपने इंद्रिय सुख में बिना अटकी पृथ्वी लक्ष्य पर प्राप्त करें इसी तरह समस्या सुलझाने और निर्णय लेने को बाहरी परिस्थितियों जैसे स्पर्धा बदलते बताओ आदि से लड़ना यही मान लिया गया है लेकिन गीता के 18 अध्यायों का असली अर्थ समझ कर आंतरिक शत्रुओं को नष्ट करें आपकी बाहरी समस्याएं अपने आप सुलझ जाएंगी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले गहराई से सुनी गीता के पहले अध्याय में अर्जुन अपना शोक व्यक्त करते हैं इस अध्याय को अर्जुन विषाद योग कहा गया है यह पहला अध्याय अर्जुन के ने राज्य से भरे मन को विचलित करने वाले विचारों को सामने लाता है भगवान श्री कृष्ण अर्जुन के इन सभी विचारों को धीरज के सूत्र गीता प्रज्ञा दरअसल दूसरे अध्याय से शुरू होती है जब श्री कृष्ण बोलना आरंभ कर यह महत्वपूर्ण सीख लिया है कि जब भी आप ऐसी समस्याएं सुलझा रहे हैं या ऐसे निर्णय ले रहे हैं जिसमें दूसरे लोगों का समावेश हो सबसे पहले उन लोगों की बात को धीरज और गहराई से सुन ले विशेषकर जब आप किसी और की समस्याएं सुलझा रहे हैं या किसी और के लिए निर्णय ले रहे हैं तब बहुत आवश्यक है कि आप उन लोगों की बात को ठीक से समझें और उसके बाद ही सलाह दें या कोई निर्णय लें धन्यवाद
Savaal hai paristhitiyon ko theek jaane bina koee nirnay lena sahee rahega ya galat rahega dekhie ham apane jeevan mein aae anek samasya sulajhaane aur nirnay lene ke lie anek mahatvapoorn baaton par dhyaan dete hain hamane aaj tak geeta mein suna hai karm karo phal kee ichchha mat karo lekin isaka gahara arth hai ki jeevan ka khel is prakaar ke log kis khel ka maja liya ja sake isake parinaamon aur karm ke phal kee chinta na karate hue keval is khel ka aanand lo is baat ko ek udaaharan se samajhate hain ek maan apane bachche se kahatee hai ki baahar jaakar khel kar aao to tumhen chokalet milega lekin khelana apane aap mein bachche ke lie phal hai use kisee aur phal kee aavashyakata hee nahin hai ya aisa hee hai jaise ham jeetane kee rekha se hee daud kee shuruaat karen yaanee aap kee shuruaat hee jeet se hotee hai to aage aapako kisee spardha ya jeet kee koee chinta nahin rahatee hai khel mein daudana apane aap mein aanand hai saphal phal hai isee tarah jab aap koee samasya sulajh aate hain ya nirnay lete hain tab ya samajh rakhee ki isamen kisee aur phal kee apeksha rakhane kee aavashyakata hee nahin hai samasya sulajha ne aur nirnay lene ka gun seekar aapako apane guru ko abhivyakt karane ka mauka mila hai vahee apane aap mein yogy phal hai ek lekhak jo likhane kee prakriya ka aanand uthaata hai usake lie prakaashan aur prasaaran bonas jitana mahattv rakhata hai kyonki us lekhak ke lie likhane ka karm hee phal hai samasya ko rachanaatmak tareeke se sulajhaane aur nirnay lene ko hee phal samajhe saathee ya bhee samajhen ki aapake karm ka parinaam bhee karm ho sakata hai bhagavaan shree krshn arjun ko bataate yoddha ke lie dharm yuddh se badhakar kuchh bhee nahin hai isaka arth hai ki ek aadhyaatmik yuddh apanee vyaktiyon ke khilaaph yuddh karata hai yah vyakti hai jo use apanee asalee svabhaav se door le jaatee hai vah kaam na galat soch jo insaan ko munh mein phansaane par baar-baar log kee hotee hai inheen ke khilaaph yuddh karen hamaaree indriyaan nirantar hamaara dhyaan aakarshit karatee hai ek adhyaatmik yoddha pooree tarah anaasakt hokar apane indriy sukh mein bina atakee prthvee lakshy par praapt karen isee tarah samasya sulajhaane aur nirnay lene ko baaharee paristhitiyon jaise spardha badalate batao aadi se ladana yahee maan liya gaya hai lekin geeta ke 18 adhyaayon ka asalee arth samajh kar aantarik shatruon ko nasht karen aapakee baaharee samasyaen apane aap sulajh jaengee nishkarsh par pahunchane se pahale gaharaee se sunee geeta ke pahale adhyaay mein arjun apana shok vyakt karate hain is adhyaay ko arjun vishaad yog kaha gaya hai yah pahala adhyaay arjun ke ne raajy se bhare man ko vichalit karane vaale vichaaron ko saamane laata hai bhagavaan shree krshn arjun ke in sabhee vichaaron ko dheeraj ke sootr geeta pragya darasal doosare adhyaay se shuroo hotee hai jab shree krshn bolana aarambh kar yah mahatvapoorn seekh liya hai ki jab bhee aap aisee samasyaen sulajha rahe hain ya aise nirnay le rahe hain jisamen doosare logon ka samaavesh ho sabase pahale un logon kee baat ko dheeraj aur gaharaee se sun le visheshakar jab aap kisee aur kee samasyaen sulajha rahe hain ya kisee aur ke lie nirnay le rahe hain tab bahut aavashyak hai ki aap un logon kee baat ko theek se samajhen aur usake baad hee salaah den ya koee nirnay len dhanyavaad

bolkar speaker
क्या परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत ?Paristhitiyon Ko Theek Jane Bina Koi Nirnay Lena Sahi Rahega Ya Galat Rahega
Om Prakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Om जी का जवाब
Now in home
1:30
नमस्कार आपका प्रश्न है की परिस्थितियों को जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या फिर बेहतर होगा सही रहेगा अगर आप अगर गलती हो जाएगी तो उसके बाद आप गलती करना अब गलती करने की सोची तीसरा फिर अगर जाना होगा लेकिन अभी आप बात कर रहे हैं ना ठीक हो रहेगा तो पता ही नहीं है तो आप कैसे काम होगा तो एक ही बात है अब मारे जैसे एक एग्जांपल थे पीछे में कोई चीज लेकिन आप लोगों को पता नहीं है उसने बता दिया पूरा बताया ही नहीं कहा जब भेजोगे तो पता चल जाएगा तो आप लोग क्या करोगे मस्ती में झूम जाओगे जीतेंगे जीतेंगे ज्यादा रन नहीं मारी होगी इसलिए नहीं बताया कि आपको प्रश्न का उत्तर पसंद आया होगा घर पर लाइक कर दीजिएगा कि एक और बहुत लोग सुनते हो ऑडियो रिकॉर्डिंग
Namaskaar aapaka prashn hai kee paristhitiyon ko jaane bina koee nirnay lena sahee rahega ya phir behatar hoga sahee rahega agar aap agar galatee ho jaegee to usake baad aap galatee karana ab galatee karane kee sochee teesara phir agar jaana hoga lekin abhee aap baat kar rahe hain na theek ho rahega to pata hee nahin hai to aap kaise kaam hoga to ek hee baat hai ab maare jaise ek egjaampal the peechhe mein koee cheej lekin aap logon ko pata nahin hai usane bata diya poora bataaya hee nahin kaha jab bhejoge to pata chal jaega to aap log kya karoge mastee mein jhoom jaoge jeetenge jeetenge jyaada ran nahin maaree hogee isalie nahin bataaya ki aapako prashn ka uttar pasand aaya hoga ghar par laik kar deejiega ki ek aur bahut log sunate ho odiyo rikording

bolkar speaker
क्या परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत ?Paristhitiyon Ko Theek Jane Bina Koi Nirnay Lena Sahi Rahega Ya Galat Rahega
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:26
परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत रहेगा लेकिन एक राशनल प्रोसेस है किसी भी निर्णय पर जब हम पहुंचते हैं तो अगर हम डायरेक्ट नहीं होने पर पहुंच रहे परिस्थिति को बिना जाने इसका मतलब यह है कि हम उस रास्ते निकल पड़ते हैं जो रास्ता में पता नहीं होता है और बाद में तुम घना जंगल आएगा या पहाड़ी हो गई या हमें नहीं पता रास्ता कैसा होगा इसलिए कभी भी डिसीजन मेकिंग होती हो रेस्ट नल की जाती है और ऐसे में मीटिंग में आज के वक्त इस वक्त तक के पास क्या-क्या स्थिति मौजूद कि उसके सबसे बेसन की जाती है क्योंकि हमें फ्यूचर में क्या होने वाले यह नहीं पता होता है और हमें हमारे एक फ्रेंड के हिसाब से हमारे पास में कुछ कुछ चीजों को बांटने की क्षमता किसमें किंग लेते हैं जिसे मीटिंग करते जैसे कि एक एग्जांपल के साथ बता दो अगर मान लो कि कोई बिजनेस जो है उसके अपॉर्चुनिटी आती है शुरू करना है तो सबसे पहले मैं यह देख लूंगा कि मैं पहले अभी क्या कर रहा हूं और जो मैं अभी कर रहा हूं उस से रिलेटेड में उसमें मैं कितना उलझा हुआ हूं तू के दूसरा कुछ काम करेंगे तो यहां से अटैच होना पड़ेगा या फिर आप इसमें इतना टाइम नहीं दे पाओगे क्योंकि टाइम लिमिटेड अगर मैं इसमें पता चलता है कि मेरा बिजनेस कोई मैनेजर एस सी यू चला है और मैं दूसरे बिजनेस में जाओ फिर दूसरे बिजनेस में जाने के बाद करो किस टाइप का बिजनेस है उसको लेकर मेरे पास क्षमता है क्या जो हम सोच सकते हो इस बारे में कि हम सही में उस बिजनेस को करने के लिए उसको स्किल्स मेरे पास है क्या कि वह बिजनेस में कर लूंगा और बिजनेस का शोर कहां से कहां से आया है यह बिजनेस क्योंकि वह पेमेंट कैसे काम करोगे इतना पैसा मिलेगा आपको तो पेमेंट साइकिल कैसे हो गया ऐसा ना हो कि मेडिसन ले लो किसी दोस्त के साथ जा रहा हूं और मैं कुछ बिजनेस करने जा रहा हूं उसने देखा ही नहीं मेरी ऐसी सब परिस्थितियों के प्वाइंटर्स तो मैं देख लूंगा उसके बाद मैं तय करूंगा कि हां मैं जा सकता हूं इतना टाइम मैं इसको दे सकता हूं और इतने दिन तक नहीं कर सकता हूं और यह फाइनेंसियल समझो यह पैसा देने के बाद गलत ही हो जाती है सही नहीं होती है
Paristhitiyon ko theek jaane bina koee nirnay lena sahee rahega ya galat rahega lekin ek raashanal proses hai kisee bhee nirnay par jab ham pahunchate hain to agar ham daayarekt nahin hone par pahunch rahe paristhiti ko bina jaane isaka matalab yah hai ki ham us raaste nikal padate hain jo raasta mein pata nahin hota hai aur baad mein tum ghana jangal aaega ya pahaadee ho gaee ya hamen nahin pata raasta kaisa hoga isalie kabhee bhee diseejan meking hotee ho rest nal kee jaatee hai aur aise mein meeting mein aaj ke vakt is vakt tak ke paas kya-kya sthiti maujood ki usake sabase besan kee jaatee hai kyonki hamen phyoochar mein kya hone vaale yah nahin pata hota hai aur hamen hamaare ek phrend ke hisaab se hamaare paas mein kuchh kuchh cheejon ko baantane kee kshamata kisamen king lete hain jise meeting karate jaise ki ek egjaampal ke saath bata do agar maan lo ki koee bijanes jo hai usake aporchunitee aatee hai shuroo karana hai to sabase pahale main yah dekh loonga ki main pahale abhee kya kar raha hoon aur jo main abhee kar raha hoon us se rileted mein usamen main kitana ulajha hua hoon too ke doosara kuchh kaam karenge to yahaan se ataich hona padega ya phir aap isamen itana taim nahin de paoge kyonki taim limited agar main isamen pata chalata hai ki mera bijanes koee mainejar es see yoo chala hai aur main doosare bijanes mein jao phir doosare bijanes mein jaane ke baad karo kis taip ka bijanes hai usako lekar mere paas kshamata hai kya jo ham soch sakate ho is baare mein ki ham sahee mein us bijanes ko karane ke lie usako skils mere paas hai kya ki vah bijanes mein kar loonga aur bijanes ka shor kahaan se kahaan se aaya hai yah bijanes kyonki vah pement kaise kaam karoge itana paisa milega aapako to pement saikil kaise ho gaya aisa na ho ki medisan le lo kisee dost ke saath ja raha hoon aur main kuchh bijanes karane ja raha hoon usane dekha hee nahin meree aisee sab paristhitiyon ke pvaintars to main dekh loonga usake baad main tay karoonga ki haan main ja sakata hoon itana taim main isako de sakata hoon aur itane din tak nahin kar sakata hoon aur yah phainensiyal samajho yah paisa dene ke baad galat hee ho jaatee hai sahee nahin hotee hai

bolkar speaker
क्या परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत ?Paristhitiyon Ko Theek Jane Bina Koi Nirnay Lena Sahi Rahega Ya Galat Rahega
Abhishek Shukla  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
0:29
लिखी मेरे हिसाब से तो पहले भेजी थी वह पहले भाग लेना चाहिए कि वाकई में परिस्थितियां अधिकतम ज्यादा बड़े ही हैं छोटी है उसके अनुसार ही जो है तो निर्णय लेना चाहिए क्योंकि देखिए भैया हमेशा अग्रणी होती कि हमारे हिसाब से होती है कि हमें अगर लगता है कि वह चीजें सही है तो वैसे ही बातें होंगी इसलिए पहले नजर अंदाज करने से पहले अपनी परिस्थितियों को जान समझने पर ले उसके बाद ही किसी निर्णय पर है वह ज्यादा सही रहेगा दोस्तों
Likhee mere hisaab se to pahale bhejee thee vah pahale bhaag lena chaahie ki vaakee mein paristhitiyaan adhikatam jyaada bade hee hain chhotee hai usake anusaar hee jo hai to nirnay lena chaahie kyonki dekhie bhaiya hamesha agranee hotee ki hamaare hisaab se hotee hai ki hamen agar lagata hai ki vah cheejen sahee hai to vaise hee baaten hongee isalie pahale najar andaaj karane se pahale apanee paristhitiyon ko jaan samajhane par le usake baad hee kisee nirnay par hai vah jyaada sahee rahega doston

bolkar speaker
क्या परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत ?Paristhitiyon Ko Theek Jane Bina Koi Nirnay Lena Sahi Rahega Ya Galat Rahega
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:30
साले की परिस्थितियों को ठीक जाने बिना कोई निर्णय लेना सही रहेगा या गलत रहेगा जी नहीं बिल्कुल भी सही नहीं होगा बिल्कुल ही आपको कभी भी किसी चीज के बारे में निर्णय लेना है जिसे करना है तो पूरी तरीके से उस परिस्थिति के प्लस माइनस पॉइंट को जानना बहुत जरूरी है यदि दो पक्षों के बारे में बातचीत हो रही है तो दोनों पक्षों के बारे में पूरी बात सुन ना समझना उनके नजरिए से चीजों को देखना परिस्थिति को देखना बेहद जरूरी है तबीयत सही निर्णय पर पहुंच पाएंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Saale kee paristhitiyon ko theek jaane bina koee nirnay lena sahee rahega ya galat rahega jee nahin bilkul bhee sahee nahin hoga bilkul hee aapako kabhee bhee kisee cheej ke baare mein nirnay lena hai jise karana hai to pooree tareeke se us paristhiti ke plas mainas point ko jaanana bahut jarooree hai yadi do pakshon ke baare mein baatacheet ho rahee hai to donon pakshon ke baare mein pooree baat sun na samajhana unake najarie se cheejon ko dekhana paristhiti ko dekhana behad jarooree hai tabeeyat sahee nirnay par pahunch paenge aapaka din shubh rahe dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • निर्णय लेने की प्रक्रिया क्या है,निर्णय लेने की प्रक्रिया को विस्तार से समझाइए,निर्णय लेने की शक्ति
URL copied to clipboard