#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?

Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका पुलिस ने इंसानियत को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं तो फ्रेंड से हमारा शरीर ही बहुत बड़ा मूल्यवान उपहार है जो हमें ईश्वर ने दिया है हमारी आंखें हाथ पैर हमारा प्रत्येक शरीर का हर अंग बहुत मूल्यवान है और सबसे ज्यादा हमारा व्यवहार ईश्वर ने हमें दया दी है करुणा दी है किसी के प्रति दया दिखाना बहुत अच्छा होता है करुणा दी है कि किसी जानवर किसी इंसान के प्रति हमें दया दिखाना है किसी गरीब की मदद की है करना है चेक करने में बहुत सारी भावनाएं दी है कि हम किसी की मदद भी कर सकते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka pulis ne insaaniyat ko kya moolyavaan upahaar die hain to phrend se hamaara shareer hee bahut bada moolyavaan upahaar hai jo hamen eeshvar ne diya hai hamaaree aankhen haath pair hamaara pratyek shareer ka har ang bahut moolyavaan hai aur sabase jyaada hamaara vyavahaar eeshvar ne hamen daya dee hai karuna dee hai kisee ke prati daya dikhaana bahut achchha hota hai karuna dee hai ki kisee jaanavar kisee insaan ke prati hamen daya dikhaana hai kisee gareeb kee madad kee hai karana hai chek karane mein bahut saaree bhaavanaen dee hai ki ham kisee kee madad bhee kar sakate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:07
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्य उपहार दिया है लेकिन मैं आपको बताता हूं कि ईश्वर ने मनुष्य को पैसा उधार दिया है शिक्षा ही मनुष्य ने कभी कल्पना नहीं की होगी आप ने कभी मुझसे इस बारे में सोचता नहीं होने दी है वह जुबान ऐसी जिससे वह हर किसी व्यक्ति तक अपनी बात तो बता सकता है अपनी बात कर सकता है अपनी भावनाओं को पता सकता है और ऐसा मस्तिष्क मस्तिष्क से वह दुनिया की किसी भी चीजों के बारे में सोच और समझ सकता है अगर वह चाहे तो लेकिन रेवन्ना यह है कि आज के समय में बहुत से ऐसे लोग हैं जो बातों को नहीं समझते और पूरे समय भगवान को ऊपर वाले को अल्लाह को जीसस को सब को कोसते रहते हैं कि उन्होंने हमें दिया ही क्या है लेकिन उन्होंने आप को इंसान बनाया है यह बहुत से लोग नहीं समझते आपको पता है कि 8400000 योनियों मुझे एक ही बनी होती है मनुष्य की एक इंसान दूसरे इंसान का जन्म होता है इसके बाद भी कोई यह बोले कि ईश्वर ने हमें क्या दिया है तो मैं समझता हूं कि वह अभी पूरी तरह अपनी जिसका जन्म हुआ है उसको भी इंसान का जन्म मिला उसको पूर्ण रूप से समझ नहीं पा रहा
Eeshvar ne manushy ko kya mooly upahaar diya hai lekin main aapako bataata hoon ki eeshvar ne manushy ko paisa udhaar diya hai shiksha hee manushy ne kabhee kalpana nahin kee hogee aap ne kabhee mujhase is baare mein sochata nahin hone dee hai vah jubaan aisee jisase vah har kisee vyakti tak apanee baat to bata sakata hai apanee baat kar sakata hai apanee bhaavanaon ko pata sakata hai aur aisa mastishk mastishk se vah duniya kee kisee bhee cheejon ke baare mein soch aur samajh sakata hai agar vah chaahe to lekin revanna yah hai ki aaj ke samay mein bahut se aise log hain jo baaton ko nahin samajhate aur poore samay bhagavaan ko oopar vaale ko allaah ko jeesas ko sab ko kosate rahate hain ki unhonne hamen diya hee kya hai lekin unhonne aap ko insaan banaaya hai yah bahut se log nahin samajhate aapako pata hai ki 8400000 yoniyon mujhe ek hee banee hotee hai manushy kee ek insaan doosare insaan ka janm hota hai isake baad bhee koee yah bole ki eeshvar ne hamen kya diya hai to main samajhata hoon ki vah abhee pooree tarah apanee jisaka janm hua hai usako bhee insaan ka janm mila usako poorn roop se samajh nahin pa raha

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:33
दोस्तो आप का सवाल है ईश्वर ने मनुष्य को क्या मुझे हाथ उठा कर दिया है तो हम सब ईश्वर की संतान है ईश्वर हमें हमारा सत्ता माता पिता है जन्म देने वाले उसमें साइको माता-पिता कहते हैं हम अपनी मां को क्या मिलता है और वह हमारे लिए निर्माण करती है इसलिए हमारी माता के लालन-पालन करने से पिता के लाता है माता पिता समाज जनों के साथ होते हैं
Dosto aap ka savaal hai eeshvar ne manushy ko kya mujhe haath utha kar diya hai to ham sab eeshvar kee santaan hai eeshvar hamen hamaara satta maata pita hai janm dene vaale usamen saiko maata-pita kahate hain ham apanee maan ko kya milata hai aur vah hamaare lie nirmaan karatee hai isalie hamaaree maata ke laalan-paalan karane se pita ke laata hai maata pita samaaj janon ke saath hote hain

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:21
ईश्वर ने मनुष्य को यह जीवन जो है यह बहुत मूल्यवान जीवन दिया है मानव जीवन का है यह बहुत मूल्यवान है इसका सदुपयोग कीजिए इस संसार में आए हैं तो लौकिक और पारलौकिक दोनों कर्तव्यों का निर्वहन कीजिए मानवता की सेवा कीजिए मानव के अंदर जो ईश्वर तक के भाव हैं उनके सेवा कीजिए समाज सेवा करने के लिए यदि कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन कर्म कीजिए और फल की इच्छा अपने कीजिए जब अच्छा कर्म करेंगे तो उसका फल का इच्छा मतलब फल होता है उसका आपको अच्छा मिलेगा इसलिए कहते मानव जन्म अनमोल है उसके मिट्टी के मोल उसको बर्बाद मत कीजिए दारु शराब जुआ अनैतिक कार्य इन सब चीजों में उसको बर्बाद करके अपने लिए अगला अगला जन्म खराब मत कीजिए बस यह है कि आप मानवता की सेवा की जय मां बाप की सेवा कीजिए प्रकृति से होगी जी ईश्वर पर भरोसा कीजिए प्राणायाम कीजिए इन सब चीजों से अपने जीवन को पसंद रखी है और यह बताइए कि अब हम बिल्कुल तुम बुद्धू के बाद स्टोर में विलीन हो जाए तो दोबारा हमको इस संसार में आने की आवश्यकता ही न पड़े इसके लिए जब सद्गुणों की भरमार आपके पास हो जाएगी तो उसके परिणाम भी आपको अच्छे ही पी लेंगे और सत्कार मी द लाइव यात्रा संसार में मान सम्मान भी मिलेगा और आप अंदर खुद सहनशीलता और प्रसन्नता महसूस हो गया
Eeshvar ne manushy ko yah jeevan jo hai yah bahut moolyavaan jeevan diya hai maanav jeevan ka hai yah bahut moolyavaan hai isaka sadupayog keejie is sansaar mein aae hain to laukik aur paaralaukik donon kartavyon ka nirvahan keejie maanavata kee seva keejie maanav ke andar jo eeshvar tak ke bhaav hain unake seva keejie samaaj seva karane ke lie yadi karmanyevaadhikaaraste ma phaleshu kadaachan karm keejie aur phal kee ichchha apane keejie jab achchha karm karenge to usaka phal ka ichchha matalab phal hota hai usaka aapako achchha milega isalie kahate maanav janm anamol hai usake mittee ke mol usako barbaad mat keejie daaru sharaab jua anaitik kaary in sab cheejon mein usako barbaad karake apane lie agala agala janm kharaab mat keejie bas yah hai ki aap maanavata kee seva kee jay maan baap kee seva keejie prakrti se hogee jee eeshvar par bharosa keejie praanaayaam keejie in sab cheejon se apane jeevan ko pasand rakhee hai aur yah bataie ki ab ham bilkul tum buddhoo ke baad stor mein vileen ho jae to dobaara hamako is sansaar mein aane kee aavashyakata hee na pade isake lie jab sadgunon kee bharamaar aapake paas ho jaegee to usake parinaam bhee aapako achchhe hee pee lenge aur satkaar mee da laiv yaatra sansaar mein maan sammaan bhee milega aur aap andar khud sahanasheelata aur prasannata mahasoos ho gaya

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
1:21

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:02
नमस्कार सिर्फ मनुष्य को क्या मूल्यवान और पारदी हैं तुम ही नजर में एक उपहार जो मनुष्य को मिला है जो उसे बाकी चीजों से अलग बनाता है वह उसका दिमाग दिमाग है वह कभी रुकता नहीं यानी उसने कोई एक चीज बाकी तो वहां पर रुकता नहीं वह कुछ ना कुछ नया सोचता है कुछ ना कुछ नया करता है इसी कारण हम जहां चार पैरों पर चलते थे आज तो पैरों पर चलते हैं और इतनी कमाल के टेक्नोलॉजी आ चुकी हैं जो जादू सी लगती है तू ही तो दिमाग है जो ईश्वर ने दिया सबको दिया लेकिन क्रिएटिव थिंकिंग यह जो नोटिस करने की बात है यह चीज मनुष्य के दिमाग में आई है वह भी ईश्वर का ईश्वर के कारण ही आई है और मनुष्य का एक मूल्यवान उपहार है इससे वह भी कर सकता है और इससे वह बहुत अच्छा हमका सकता है धन्यवाद
Namaskaar sirph manushy ko kya moolyavaan aur paaradee hain tum hee najar mein ek upahaar jo manushy ko mila hai jo use baakee cheejon se alag banaata hai vah usaka dimaag dimaag hai vah kabhee rukata nahin yaanee usane koee ek cheej baakee to vahaan par rukata nahin vah kuchh na kuchh naya sochata hai kuchh na kuchh naya karata hai isee kaaran ham jahaan chaar pairon par chalate the aaj to pairon par chalate hain aur itanee kamaal ke teknolojee aa chukee hain jo jaadoo see lagatee hai too hee to dimaag hai jo eeshvar ne diya sabako diya lekin krietiv thinking yah jo notis karane kee baat hai yah cheej manushy ke dimaag mein aaee hai vah bhee eeshvar ka eeshvar ke kaaran hee aaee hai aur manushy ka ek moolyavaan upahaar hai isase vah bhee kar sakata hai aur isase vah bahut achchha hamaka sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:58
रिपब्लिक डे टो ऑल बोलकर सब्सक्राइबर्स सवाल यह है कि ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए देखिए ईश्वर ने तो हमें बहुत मूल्यवान उपहार दिया मैं कहूंगा हमें हाथ पैर मुंह नाक कान आंख शरीर एक साथ दिया है तो समझे कि यह बहुत बड़ा उपहार है इसके बाद अगर सबको दिया है तो दया करुणा और प्रेम यह हर किसी के दिल में संचालित किया है ईश्वर ने लेकिन इस दुनिया में आकर लोगों के बीच रहकर लोगों के बीच जिस तरह का हमारा वातावरण होता है वह उससे हम लोग वह गंदगी सीख लेते हैं ईर्ष्या द्वेष नफरत यह अपने अंदर भर देते हैं और प्रेम करुणा यह सब कुछ वह भीतर दवा रह जाता है उसे हम उजागर नहीं कर पाते हैं तो यही बात है उसे ही उजागर करने की जरूरत है ईश्वर रह में उपहार के रूप में वही दिया है हम प्राणी मात्र के लिए दया की भावना रखें करुणा रखें और प्रेम जितना अधिक हो सके वह सब को बांटे दे हम करते क्या हैं भूल जाते हैं ना कि हम बस प्रेम मांगते हैं प्रेम खोजते रहते हैं दूसरे से अपेक्षा करते रहते हम देखने देना नहीं चाहते हैं वह दूसरे से उम्मीद करते हैं तो मैं यही कहूंगा कि लेने की अपेक्षा देने में विश्वास रखिए यही एक ऐसी वस्तु है मतलब चीज है जो ईश्वर ने हमें दिया है कि हम जितना चाहे उतना दे सकते हैं किसी को यह इसे हमारी हम गरीब कभी नहीं हो सकते जितना देते जाएंगे उतना हमें मिलता भी जाएगा या मिले ना मिले वह बात की चीज है इसे संतुष्टि तो जरूर मिलेगी हमारा हृदय जरूर ही प्रफुल्लित रहेगा होता है कभी-कभी कि हम देने के बाद भी लगता है कि हमें कुछ नहीं मिल रहा है लेकिन मिलना है कहां है इसलिए प्रेम ही मूल्यवान
Ripablik de to ol bolakar sabsakraibars savaal yah hai ki eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan upahaar die dekhie eeshvar ne to hamen bahut moolyavaan upahaar diya main kahoonga hamen haath pair munh naak kaan aankh shareer ek saath diya hai to samajhe ki yah bahut bada upahaar hai isake baad agar sabako diya hai to daya karuna aur prem yah har kisee ke dil mein sanchaalit kiya hai eeshvar ne lekin is duniya mein aakar logon ke beech rahakar logon ke beech jis tarah ka hamaara vaataavaran hota hai vah usase ham log vah gandagee seekh lete hain eershya dvesh napharat yah apane andar bhar dete hain aur prem karuna yah sab kuchh vah bheetar dava rah jaata hai use ham ujaagar nahin kar paate hain to yahee baat hai use hee ujaagar karane kee jaroorat hai eeshvar rah mein upahaar ke roop mein vahee diya hai ham praanee maatr ke lie daya kee bhaavana rakhen karuna rakhen aur prem jitana adhik ho sake vah sab ko baante de ham karate kya hain bhool jaate hain na ki ham bas prem maangate hain prem khojate rahate hain doosare se apeksha karate rahate ham dekhane dena nahin chaahate hain vah doosare se ummeed karate hain to main yahee kahoonga ki lene kee apeksha dene mein vishvaas rakhie yahee ek aisee vastu hai matalab cheej hai jo eeshvar ne hamen diya hai ki ham jitana chaahe utana de sakate hain kisee ko yah ise hamaaree ham gareeb kabhee nahin ho sakate jitana dete jaenge utana hamen milata bhee jaega ya mile na mile vah baat kee cheej hai ise santushti to jaroor milegee hamaara hrday jaroor hee praphullit rahega hota hai kabhee-kabhee ki ham dene ke baad bhee lagata hai ki hamen kuchh nahin mil raha hai lekin milana hai kahaan hai isalie prem hee moolyavaan

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:35
नमस्कार दोस्तों आपका प्रसन्न है ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है ईश्वर ने मनुष्य को एक अच्छा सा जीवन दिया है जो सबसे बड़ा मूल्यवान उपहार है इन उपहार का सही सदुपयोग करना चाहिए हमारे मनुष्य जीवन को बढ़िया कामयाबी से और सम्मान से जीना चाहिए धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka prasann hai eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan upahaar die hain to doston aapake savaal ka uttar yah hai eeshvar ne manushy ko ek achchha sa jeevan diya hai jo sabase bada moolyavaan upahaar hai in upahaar ka sahee sadupayog karana chaahie hamaare manushy jeevan ko badhiya kaamayaabee se aur sammaan se jeena chaahie dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:42
जी आप का सवाल है कि ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान ऊपर दिया है तो ईश्वर ने प्रगत बुद्धि और उसके उपयोग इक लिए दो हाथ और 10 अंगुलियों ईश्वर मनुष्य को दिया वह सबसे मूल्यवान हो पा रही है चीज दूसरे किसी भी प्राणी मात्र को नहीं दिए खास यह चीज देते हुए ईश्वर मनुष्य पर बंधन भी डालते हैं की चीजों का उपयोग केवल अच्छे काम के लिए ही किया करो मेरी चाची ईश्वर ने यही मनुष्य को सबसे अच्छा मार दिया है
Jee aap ka savaal hai ki eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan oopar diya hai to eeshvar ne pragat buddhi aur usake upayog ik lie do haath aur 10 anguliyon eeshvar manushy ko diya vah sabase moolyavaan ho pa rahee hai cheej doosare kisee bhee praanee maatr ko nahin die khaas yah cheej dete hue eeshvar manushy par bandhan bhee daalate hain kee cheejon ka upayog keval achchhe kaam ke lie hee kiya karo meree chaachee eeshvar ne yahee manushy ko sabase achchha maar diya hai

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:59
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान को बाहर दिए हैं दोस्तों ईश्वर ने सबसे बड़ा उपहार मनुष्य को दिया है प्रकृति का जो प्राकृतिक चीजें हैं पहाड़ नदियां जल वायु आकाश और यह पेड़ पौधे जलवायु यह सभी ईश्वर के द्वारा दिया गया मनुष्य को सबसे उत्तम सहारा है दोस्तों इन सब उपहारों की वजह से ही हम आज जिंदा और हम इस धरती पर इस वातावरण में टहल रहे हैं अपना जीवन यापन कर रहे हैं और खूब खुश भी हैं इसके अलावा ईश्वर ने मनुष्य को और भी बहुत ज्यादा मूल्यवान सीजन दी है जैसे कि हमारा शरीर और शरीर में जितने भी जितने भी तत्व है जो मुख्य चीजें हैं कितनी हमारे लिए उपयोगी है जैसे की आंख कान नाक जीव बोलने के लिए मधुर बोलने के लिए मधुर वक्तव्य सूती सुनने के लिए कानून किस प्रकार से यह कर्म करने के लिए जैसे हाथ से बहुत सारी चीजें होती बहुमूल्य है अनमोल है उसका कोई मोल भी नहीं है यह प्रकृति के द्वारा भगवान के द्वारा ईश्वर के द्वारा दिया गया एक ऐसे उपहार है इस की महत्वता को जिसकी जिस के मूल्य को इंसान को समझना चाहिए और समय के सदुपयोग करते हुए इन सब चीजों का उपयोग ही करना चाहिए दुरुपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यदि जगत में सिद्धि प्राप्त करनी होती है तो हमें इन सब चीजों को सदुपयोग शब्द प्रयोग ही हमें करना होगा वरना तो को कृतियों से बुरे कर्मों से हम कुख्यात भी हो सकते हैं उसने यह तो सीजन दी है उनको दूसरों की भलाई के लिए यदि हम इनका प्रयोग करते हैं तो यह हमारे लिए बहुत ही अच्छा है और हमारी आध्यात्मिकता के लिए भी बहुत लाभदायक है हमारी आत्मीयता के लिए भी धन्य हो
Namaskaar doston aapaka prashn hai ki eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan ko baahar die hain doston eeshvar ne sabase bada upahaar manushy ko diya hai prakrti ka jo praakrtik cheejen hain pahaad nadiyaan jal vaayu aakaash aur yah ped paudhe jalavaayu yah sabhee eeshvar ke dvaara diya gaya manushy ko sabase uttam sahaara hai doston in sab upahaaron kee vajah se hee ham aaj jinda aur ham is dharatee par is vaataavaran mein tahal rahe hain apana jeevan yaapan kar rahe hain aur khoob khush bhee hain isake alaava eeshvar ne manushy ko aur bhee bahut jyaada moolyavaan seejan dee hai jaise ki hamaara shareer aur shareer mein jitane bhee jitane bhee tatv hai jo mukhy cheejen hain kitanee hamaare lie upayogee hai jaise kee aankh kaan naak jeev bolane ke lie madhur bolane ke lie madhur vaktavy sootee sunane ke lie kaanoon kis prakaar se yah karm karane ke lie jaise haath se bahut saaree cheejen hotee bahumooly hai anamol hai usaka koee mol bhee nahin hai yah prakrti ke dvaara bhagavaan ke dvaara eeshvar ke dvaara diya gaya ek aise upahaar hai is kee mahatvata ko jisakee jis ke mooly ko insaan ko samajhana chaahie aur samay ke sadupayog karate hue in sab cheejon ka upayog hee karana chaahie durupayog nahin karana chaahie kyonki yadi jagat mein siddhi praapt karanee hotee hai to hamen in sab cheejon ko sadupayog shabd prayog hee hamen karana hoga varana to ko krtiyon se bure karmon se ham kukhyaat bhee ho sakate hain usane yah to seejan dee hai unako doosaron kee bhalaee ke lie yadi ham inaka prayog karate hain to yah hamaare lie bahut hee achchha hai aur hamaaree aadhyaatmikata ke lie bhee bahut laabhadaayak hai hamaaree aatmeeyata ke lie bhee dhany ho

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:52
जैसे कि आपका प्रार्थना है ईश्वर ने मनुष्य को क्या मालूम कौन उपहार दिया है देखे हम मनुष्य है इसलिए कि हमारे पास बुद्धि है बुद्धि से हम अध्ययन कर सकते हैं और सत्य और असत्य का निर्णय करने में सक्षम हो सकते हैं मनुष्य अपनी बुद्धि के उन्नति किस प्रकार करते हैं यह प्राइस हम सभी जानते हैं मनुष्य के जीवन माता के दर्शन के साथ आरंभ होता है आंखें ईश्वर ने हमें मनुष्य जीवन में सुख प्राप्ति और ज्ञान प्राप्ति के द्वारा सत्कर्म करने के लिए मनुष्य जन्म दिया है जिसे हम अपेक्षा की मान्यताओं के अनुसार साधना करके ईश्वर का साक्षात्कार कर सके और ईश्वर कृपा ने और दया से मोक्ष को प्राप्त कर सकें इस चर्चा को यहीं पर विराम देते हैं
Jaise ki aapaka praarthana hai eeshvar ne manushy ko kya maaloom kaun upahaar diya hai dekhe ham manushy hai isalie ki hamaare paas buddhi hai buddhi se ham adhyayan kar sakate hain aur saty aur asaty ka nirnay karane mein saksham ho sakate hain manushy apanee buddhi ke unnati kis prakaar karate hain yah prais ham sabhee jaanate hain manushy ke jeevan maata ke darshan ke saath aarambh hota hai aankhen eeshvar ne hamen manushy jeevan mein sukh praapti aur gyaan praapti ke dvaara satkarm karane ke lie manushy janm diya hai jise ham apeksha kee maanyataon ke anusaar saadhana karake eeshvar ka saakshaatkaar kar sake aur eeshvar krpa ne aur daya se moksh ko praapt kar saken is charcha ko yaheen par viraam dete hain

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:31
अगर उसको माने तो सोने में यह जीवन दिया है हमें यह शरीर दिया है अमेरिकन दिया है वह मूल्यवान है पूरा शरीर मुरली वाले पूरे जीवन मूल्यवान है अगर आप ईश्वर में विश्वास करते हैं तो इस पर उसने प्रकृति दिए उसको ने सब कुछ दिया है तो हर वस्तु मूल्यवान है बस उनका उपयोग कीजिए सदुपयोग कीजिए जीवन का और जीवन को हंसते हुए खुश रहते बिजी है धन्यवाद
Agar usako maane to sone mein yah jeevan diya hai hamen yah shareer diya hai amerikan diya hai vah moolyavaan hai poora shareer muralee vaale poore jeevan moolyavaan hai agar aap eeshvar mein vishvaas karate hain to is par usane prakrti die usako ne sab kuchh diya hai to har vastu moolyavaan hai bas unaka upayog keejie sadupayog keejie jeevan ka aur jeevan ko hansate hue khush rahate bijee hai dhanyavaad

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए वैसे तो सारे ही भारत के रूप में ही मिला है हमारा अपना तो कोई नहीं था हम उसे के शिष्य से रूट से आए जब जाते हैं तो मिट्टी में मिलती है कुछ बस तो नहीं है तो इनके बीच जो भी सहारा मिला है वह मूल्यवान तो है ही लेकिन यह सभी जीवित प्राणी वनस्पतियों की तक ऐसे सभी तरह के दो प्रणब को मिला है लेकिन क्या मालूम किस तरह से इसका उत्तर बहुत सारे हैं लेकिन यह तो एक बात तो है कि मनुष्य और दूसरे दूसरे प्राणियों में जमीन आसमान का अंतर मनुष्य में एक विशेष इससे इससे यह साफ सीधी-सादी चीज नहीं है और यह ऐसा समय होता है हमें समझ में आता है उसी तरीके का मुरैना हमें मिला है अन्य प्राणियों का बैंजो है तो कई सारी चीजें पैसों का एहसास नहीं होता अपने अस्तित्व का एहसास हमें होता है होता है और इस एसएससी सबसे ऊंचा बांध की स्थिति होती है इसलिए मनुष्य जीवित रहना चाहता है मरना जय किशन यादव जीना चाहता है गरीब भिखारी हो बीमार भी हो तो प्राण त्यागने के लिए तैयार नहीं होता स्टेशनों की वजह से शायद करो सालों से जीता है चेतना के लिए सब कुछ ऐसा प्रतीत होता है और उसके बाद भी है उसे जितना कांड हुआ इस तरह से वो अपने जीवन से और आपसे प्यार करता है सब कुछ करता है इसके अलावा प्रमुख मूल्यवान जिसको कहा जाए वह दिमाग है मन है मन में कई तरह के अच्छे और बुरे विचार आते विचार आते हैं इसी के साथ बुद्धि माता का मूर्ति मूर्ति बुद्धिमता में एनालिसिस कर्नाटका करना निष्कर्ष निकालना और जो चीजें अपने इंद्री होते हैं उन के माध्यम से समझ में नहीं आई भर्ती है तो दूसरे तरीके ढूंढ अब ज्यादा जानने के प्रयास करता है और उसमें सफल होता है वैसे दूसरे प्राणी नहीं होते और इसके कारण अपने जीवन के स्तर को अधिक उर्जा करता चला है सिर्फ पिछले 300 साल में इतनी बड़ी छलांग लगाई इस बुद्धि के कारण बुद्धि बहुत बड़ा उपहार उसको मिला है भावना ही मिली है इससे वह एक ही भावना से भावना से या भावना में नहीं रह सकता विभिन्न भावनाओं से हो उसकी श्रद्धा उसका मनो विश्व व्याप्त होता है यह भा भावना एक महत्वपूर्ण उपाय हमें हंसने का भी उपहार मिला मुझे पानी ना चली और हम कर सकते हैं और वह सकते हैं हमें दो ही पाऊं मिले और दो हाथ मिले और हमारी उंगलियां अलग अलग है एक उंगली दूसरी उंगली के साथ जुड़ी हुई नहीं पाओगी ना इसलिए हम काम कर सकते हैं और चल सकते हैं और इसी के सहारे हम इतने आगे चले चले ब्रह्मांड की खोज में लगे हुए धन्यवाद
Eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan upahaar die vaise to saare hee bhaarat ke roop mein hee mila hai hamaara apana to koee nahin tha ham use ke shishy se root se aae jab jaate hain to mittee mein milatee hai kuchh bas to nahin hai to inake beech jo bhee sahaara mila hai vah moolyavaan to hai hee lekin yah sabhee jeevit praanee vanaspatiyon kee tak aise sabhee tarah ke do pranab ko mila hai lekin kya maaloom kis tarah se isaka uttar bahut saare hain lekin yah to ek baat to hai ki manushy aur doosare doosare praaniyon mein jameen aasamaan ka antar manushy mein ek vishesh isase isase yah saaph seedhee-saadee cheej nahin hai aur yah aisa samay hota hai hamen samajh mein aata hai usee tareeke ka muraina hamen mila hai any praaniyon ka bainjo hai to kaee saaree cheejen paison ka ehasaas nahin hota apane astitv ka ehasaas hamen hota hai hota hai aur is esesasee sabase ooncha baandh kee sthiti hotee hai isalie manushy jeevit rahana chaahata hai marana jay kishan yaadav jeena chaahata hai gareeb bhikhaaree ho beemaar bhee ho to praan tyaagane ke lie taiyaar nahin hota steshanon kee vajah se shaayad karo saalon se jeeta hai chetana ke lie sab kuchh aisa prateet hota hai aur usake baad bhee hai use jitana kaand hua is tarah se vo apane jeevan se aur aapase pyaar karata hai sab kuchh karata hai isake alaava pramukh moolyavaan jisako kaha jae vah dimaag hai man hai man mein kaee tarah ke achchhe aur bure vichaar aate vichaar aate hain isee ke saath buddhi maata ka moorti moorti buddhimata mein enaalisis karnaataka karana nishkarsh nikaalana aur jo cheejen apane indree hote hain un ke maadhyam se samajh mein nahin aaee bhartee hai to doosare tareeke dhoondh ab jyaada jaanane ke prayaas karata hai aur usamen saphal hota hai vaise doosare praanee nahin hote aur isake kaaran apane jeevan ke star ko adhik urja karata chala hai sirph pichhale 300 saal mein itanee badee chhalaang lagaee is buddhi ke kaaran buddhi bahut bada upahaar usako mila hai bhaavana hee milee hai isase vah ek hee bhaavana se bhaavana se ya bhaavana mein nahin rah sakata vibhinn bhaavanaon se ho usakee shraddha usaka mano vishv vyaapt hota hai yah bha bhaavana ek mahatvapoorn upaay hamen hansane ka bhee upahaar mila mujhe paanee na chalee aur ham kar sakate hain aur vah sakate hain hamen do hee paoon mile aur do haath mile aur hamaaree ungaliyaan alag alag hai ek ungalee doosaree ungalee ke saath judee huee nahin paogee na isalie ham kaam kar sakate hain aur chal sakate hain aur isee ke sahaare ham itane aage chale chale brahmaand kee khoj mein lage hue dhanyavaad

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:27
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सब वाले इस समय को क्या मूल्यवान उपहार दिए तो देखेंगे चितलवाना बार की बात की जाए तो मनुष्य के पास कुछ भी नहीं है जो भी कुछ देना है तू सब ईश्वर की देन है यानी कि आप हमारे पास जो भी मौजूद है हमारा जितना भी हमारे आसपास वाटर और पेड़ पौधे पौधे अम्लम जो भी कह लीजिए कि मुझे अपनी भी हमारे पास आज भी चीजें मौजूद सुरेश्वर की ही देन है या नहीं सोने दिया परंतु क्या होता है किशोर ने हमें दिया लेकिन हम उनको मिला जिस तरह से उपयोग करना चाहिए उस तरह से उनका उपयोग नहीं कर रहे हैं कि उनका उपयोग हो रहा हूं हम बहुत अधिक मात्रा में कर रहे हैं क्योंकि ऐसा बताया गया कि मतलब जितना आपको मिला है यानी कि आपके पूर्वजों ने आपको जितना दिया है उतना आप अगली पीढ़ी को दीजिए लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है लोग अपनी मतलबी स्वार्थी बन गए क्या अपनी जरूरत को पूरा करने के लिए किसी के बारे में नहीं सोच ले उसका मतलब अपने बारे में सोचते हैं और यही कारण है कि हमारे पास जो मानव संसाधन मौजूद प्राकृतिक संसाधनों धीरे-धीरे नष्ट हो रहे हैं और जो भी प्राकृतिक संसाधन नहीं हम लोग कुछ भी कर लीजिए कि मनुष्य की ही देन है तू ही करता हूं सब का जवाब अच्छा काम है धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap sab vaale is samay ko kya moolyavaan upahaar die to dekhenge chitalavaana baar kee baat kee jae to manushy ke paas kuchh bhee nahin hai jo bhee kuchh dena hai too sab eeshvar kee den hai yaanee ki aap hamaare paas jo bhee maujood hai hamaara jitana bhee hamaare aasapaas vaatar aur ped paudhe paudhe amlam jo bhee kah leejie ki mujhe apanee bhee hamaare paas aaj bhee cheejen maujood sureshvar kee hee den hai ya nahin sone diya parantu kya hota hai kishor ne hamen diya lekin ham unako mila jis tarah se upayog karana chaahie us tarah se unaka upayog nahin kar rahe hain ki unaka upayog ho raha hoon ham bahut adhik maatra mein kar rahe hain kyonki aisa bataaya gaya ki matalab jitana aapako mila hai yaanee ki aapake poorvajon ne aapako jitana diya hai utana aap agalee peedhee ko deejie lekin aisa nahin ho raha hai log apanee matalabee svaarthee ban gae kya apanee jaroorat ko poora karane ke lie kisee ke baare mein nahin soch le usaka matalab apane baare mein sochate hain aur yahee kaaran hai ki hamaare paas jo maanav sansaadhan maujood praakrtik sansaadhanon dheere-dheere nasht ho rahe hain aur jo bhee praakrtik sansaadhan nahin ham log kuchh bhee kar leejie ki manushy kee hee den hai too hee karata hoon sab ka javaab achchha kaam hai dhanyavaad

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:40
आरा का प्रश्न ईश्वर ने मनुष्य को क्या मु्द्दिमान उपहार दिए हैं आपको बता दें ईश्वर ने मनुष्य को इतनी सुंदर धरा दी है इतनी सुंदर प्रकृति दी है लेकिन मनुष्य दोनों हाथों से भरा का है इस प्रकृति का दोहन कर रहा है उसका सृजनात्मक रूप से हर उपयोग करें तभी यह जो दुनिया खूबसूरत बनेगी अथवा हम अपने फ्यूचर जनरेशन के लिए अपने आगे आने वाली जंक्शन के लिए कुछ भी छोड़कर नहीं जाएंगे आपके क्या मत है इस बारे में अपने विचार कमेंट सेक्शन में जोड़ व्यस्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn eeshvar ne manushy ko kya muddimaan upahaar die hain aapako bata den eeshvar ne manushy ko itanee sundar dhara dee hai itanee sundar prakrti dee hai lekin manushy donon haathon se bhara ka hai is prakrti ka dohan kar raha hai usaka srjanaatmak roop se har upayog karen tabhee yah jo duniya khoobasoorat banegee athava ham apane phyoochar janareshan ke lie apane aage aane vaalee jankshan ke lie kuchh bhee chhodakar nahin jaenge aapake kya mat hai is baare mein apane vichaar kament sekshan mein jod vyast karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
मनोज कुमार यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए मनोज जी का जवाब
किसान हूं 🌾🌾🌾🌾
1:40
नमस्कार मित्रों जिससे आपका प्रार्थना है ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए तो देखे मित्रों ईश्वर ने सबसे बड़ा उपहार दिए वह जिंदगी मारी जीवन अब जिंदगी हमें कैसे जीना है और कैसे क्या करना है यह हम पर निर्भर करता है यह जिंदगी में इस लेटर के मिले हैं कि हम कुछ अच्छा करें 8400000 जोजन भटकने के बाद तब जाकर के मानव शरीर मिलते हैं और अगर यह मानव शरीर हमें मिला है तो हमें कुछ कर्म करके ही जाना है यहां से अगर हम कर्म नहीं करेंगे तो फिर हमें अच्छा रूप कहां से प्रदान होगा इसलिए करके मैं जीवन में अच्छे कर्म करना चाहिए भक्ति करना चाहिए लोगों का सेवा करना चाहिए दूसरों को सम्मान देना चाहिए बड़ों का आदर करना सबसे बड़ा यही है मैं संस्कृति अगर इन सब चीजों का अगर हम पालन नहीं करते तो हमारी जिंदगी का मकसद क्या है यह सब हमारे लिए सबसे बड़ा जरूरी है सबसे बड़ा तोहफा हमारी जिंदगी अगर मिले हैं भगवान की देन है तो मैं भगवान के पीछे भी भगवान यह नहीं कहता कि हमेशा हमारे पीछे ही लगे रहो लेकिन उसके पास साहब 2 मिनट या 5 मिनट का समय देते हैं तो उसी से भगवान खुश होते जीवन में भगवान का भी भजन करना चाहिए कीर्तन करना चाहिए उसके साथ भी थोड़ा बहुत समय बिताना चाहिए धन्यवाद मित्र
Namaskaar mitron jisase aapaka praarthana hai eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan upahaar die to dekhe mitron eeshvar ne sabase bada upahaar die vah jindagee maaree jeevan ab jindagee hamen kaise jeena hai aur kaise kya karana hai yah ham par nirbhar karata hai yah jindagee mein is letar ke mile hain ki ham kuchh achchha karen 8400000 jojan bhatakane ke baad tab jaakar ke maanav shareer milate hain aur agar yah maanav shareer hamen mila hai to hamen kuchh karm karake hee jaana hai yahaan se agar ham karm nahin karenge to phir hamen achchha roop kahaan se pradaan hoga isalie karake main jeevan mein achchhe karm karana chaahie bhakti karana chaahie logon ka seva karana chaahie doosaron ko sammaan dena chaahie badon ka aadar karana sabase bada yahee hai main sanskrti agar in sab cheejon ka agar ham paalan nahin karate to hamaaree jindagee ka makasad kya hai yah sab hamaare lie sabase bada jarooree hai sabase bada tohapha hamaaree jindagee agar mile hain bhagavaan kee den hai to main bhagavaan ke peechhe bhee bhagavaan yah nahin kahata ki hamesha hamaare peechhe hee lage raho lekin usake paas saahab 2 minat ya 5 minat ka samay dete hain to usee se bhagavaan khush hote jeevan mein bhagavaan ka bhee bhajan karana chaahie keertan karana chaahie usake saath bhee thoda bahut samay bitaana chaahie dhanyavaad mitr

bolkar speaker
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं?Ishwar Ne Manushya Ko Kya Mulyavan Uphar Die Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:07
ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं सब खुद ही दिया है अब हमें काम करने का बाकी है इस पृथ्वी के ऊपर जब हम आते हैं तो मनुष्य ऐसा प्राणी है कि जिस को काफी समय तक एक लालन पोषण की आवश्यकता होती है इसकी व्यवस्था मां-बाप के रुप में ऑलरेडी कर दी है आपको उसमें सोचना नहीं पड़ता था लेक चोटे बच्चे को मां बाप नहीं होते तो बड़ा मुश्किल हो जाता है लेकिन उसकी व्यवस्था कर दी है दूसरी व्यवस्था के आपको यह बॉडी दिए आपके बॉडी के अंदर आपको ब्रेन है जो अच्छा सोच रख सकता है अच्छा अच्छा काम आपके लिए कर सकता है और आपको ए हेल्दी बॉडी भी हुई है यह एक मीडिया में यहां पर काम करने का अगर बॉडी सही नहीं है यार आपको नहीं मिले तो आप नहीं काम कर सकते हो अगर मैं अपवाद को साइड में रख दो एक्सेप्टेंस को साइड में रख दूं तो सबको हेल्दी बॉडी मिली हुई है उसके बाद यहां पर शुद्ध हवा है प्रकृति देखो कितनी आने सब कुछ है यार पर जो भी चीज हमारे पास पूरे कपड़े से लेकर खाने से लेकर यह सब चीजें हमें उसी से उसी से आ रही है अब इतना सब कुछ होने के बाद भी इंसान के जीवन में प्रॉब्लम फिर भी एग्जिट करती है तो यह प्रॉब्लम का झाड़ जो है उसका दिमाग है और उसके जो दिमाग के अंदर जो जिस साइड के सॉफ्टवेयर का इंस्टॉलेशन हो रहा है बचपन से आज इस तरीके को वह ने चैनेलाइज नहीं कर पा रहे थे अपने आजू-बाजू थी कि मुझे जो मिला है यह कुंडली बहुत ज्यादा अच्छा मिला और अभी मुझे इसमें आगे बढ़ने की आवश्यकता है मुझे खुद कुछ करने की आवश्यकता है उस पर ज्यादा फोकस नहीं हो रहा है और इंसान ज्यादा जो फोकस्ड हो रहा है उसका तो दूसरों के ऊपर उंगली उठाने में या यह खराब है वह खराब है या फिर दूसरों की चीज में ज्यादा इंटरेस्ट इंसान ले रहा है ऐसा ना होते हुए अगर हम इंट्रोवर्ट इंट्रोवर्ट बने नॉट एंटर इनटू वर्ड इन हम इंट्रोस्पेक्शन करें खुद का तो खुद के अंदर ही सब कुछ है यह सोचे तो सब कुछ आपको सिर्फ फ्लाइट टिकट लेने हैं व्हाइट ब्रेड बनाने अपने आप आप देखे क्या आपके पास में कितना ज्यादा है फाइनेंस धीरे-धीरे फ्लो होने लगता है
Eeshvar ne manushy ko kya moolyavaan upahaar die hain sab khud hee diya hai ab hamen kaam karane ka baakee hai is prthvee ke oopar jab ham aate hain to manushy aisa praanee hai ki jis ko kaaphee samay tak ek laalan poshan kee aavashyakata hotee hai isakee vyavastha maan-baap ke rup mein olaredee kar dee hai aapako usamen sochana nahin padata tha lek chote bachche ko maan baap nahin hote to bada mushkil ho jaata hai lekin usakee vyavastha kar dee hai doosaree vyavastha ke aapako yah bodee die aapake bodee ke andar aapako bren hai jo achchha soch rakh sakata hai achchha achchha kaam aapake lie kar sakata hai aur aapako e heldee bodee bhee huee hai yah ek meediya mein yahaan par kaam karane ka agar bodee sahee nahin hai yaar aapako nahin mile to aap nahin kaam kar sakate ho agar main apavaad ko said mein rakh do ekseptens ko said mein rakh doon to sabako heldee bodee milee huee hai usake baad yahaan par shuddh hava hai prakrti dekho kitanee aane sab kuchh hai yaar par jo bhee cheej hamaare paas poore kapade se lekar khaane se lekar yah sab cheejen hamen usee se usee se aa rahee hai ab itana sab kuchh hone ke baad bhee insaan ke jeevan mein problam phir bhee egjit karatee hai to yah problam ka jhaad jo hai usaka dimaag hai aur usake jo dimaag ke andar jo jis said ke sophtaveyar ka instoleshan ho raha hai bachapan se aaj is tareeke ko vah ne chainelaij nahin kar pa rahe the apane aajoo-baajoo thee ki mujhe jo mila hai yah kundalee bahut jyaada achchha mila aur abhee mujhe isamen aage badhane kee aavashyakata hai mujhe khud kuchh karane kee aavashyakata hai us par jyaada phokas nahin ho raha hai aur insaan jyaada jo phokasd ho raha hai usaka to doosaron ke oopar ungalee uthaane mein ya yah kharaab hai vah kharaab hai ya phir doosaron kee cheej mein jyaada intarest insaan le raha hai aisa na hote hue agar ham introvart introvart bane not entar inatoo vard in ham introspekshan karen khud ka to khud ke andar hee sab kuchh hai yah soche to sab kuchh aapako sirph phlait tikat lene hain vhait bred banaane apane aap aap dekhe kya aapake paas mein kitana jyaada hai phainens dheere-dheere phlo hone lagata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ईश्वर ने मनुष्य को क्या मूल्यवान उपहार दिए हैं,परमेश्वर ने मनुष्य को क्यों बनाया,परमेश्वर ने धरती क्यों बनाई
URL copied to clipboard