#जीवन शैली

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:24
आकाश चौहान जी द्वारा अनूदित वाले कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी और चतुर्वेदी शब्द लिखते हैं कि आपने मुझसे यह सवाल किया है कि वे त्रिवेदी चतुर्वेदी होता है होता है जैसे कष्ट होता है अगर वह मेरी नहीं है यह कोई अदर कास्ट नहीं है इसलिए कोई भी मांगे लेकिन दे दी नहीं लिखेगा तो क्योंकि मेरा कालू पटेल है वह का टशन है जिसकी वजह से लिखती हूं इसके अलावा अगर किसी का काश यादव होता है ना कि आगे यादव लगाते हैं किसी का जो हाल होता है जयसवाल लगाते हैं के होते हैं वह घर नहीं होता है और वह वही शब्द लगाते हैं या फिर कास्ट विधि नहीं है इसलिए वह भी दिक्कत नहीं लगाएंगे दी जाती है कोई खास नहीं है सवाल का जवाब बदल जाएगा और आप हमेशा खुश रहिए दूसरों को भी खा चुकी सवाल पूछने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद
Aakaash chauhaan jee dvaara anoodit vaale kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee aur chaturvedee shabd likhate hain ki aapane mujhase yah savaal kiya hai ki ve trivedee chaturvedee hota hai hota hai jaise kasht hota hai agar vah meree nahin hai yah koee adar kaast nahin hai isalie koee bhee maange lekin de dee nahin likhega to kyonki mera kaaloo patel hai vah ka tashan hai jisakee vajah se likhatee hoon isake alaava agar kisee ka kaash yaadav hota hai na ki aage yaadav lagaate hain kisee ka jo haal hota hai jayasavaal lagaate hain ke hote hain vah ghar nahin hota hai aur vah vahee shabd lagaate hain ya phir kaast vidhi nahin hai isalie vah bhee dikkat nahin lagaenge dee jaatee hai koee khaas nahin hai savaal ka javaab badal jaega aur aap hamesha khush rahie doosaron ko bhee kha chukee savaal poochhane ke lie aapako bahut-bahut dhanyavaad

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
6:59
कैंची से किसके नाम से स्पष्ट है आपका उसे कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी चतुर्वेदी सब लिखते हैं लेकिन कोई केवल विधि नहीं लेता बेदी जैसे अभी ₹1 है तो तेरे को कितना रूपया तक एक के लिए वह नहीं बताता लेकिन यह भाई चंपा पंडित हैं वेद का ज्ञाता है चारों वेद नहीं मालूम है इसलिए कह देती इसलिए वो खुलकर नहीं पता था लेकिन जो दोगे दूंगा गया था द्विवेदी हो गया 3 दिन हो गया था त्रिवेदी हो गया चार वेदों का ज्ञाता चतुर्वेदी हो गया इस तरह से इन्होंने अपने मन से अपने पद में रख ली
Kainchee se kisake naam se spasht hai aapaka use kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee chaturvedee sab likhate hain lekin koee keval vidhi nahin leta bedee jaise abhee ₹1 hai to tere ko kitana roopaya tak ek ke lie vah nahin bataata lekin yah bhaee champa pandit hain ved ka gyaata hai chaaron ved nahin maaloom hai isalie kah detee isalie vo khulakar nahin pata tha lekin jo doge doonga gaya tha dvivedee ho gaya 3 din ho gaya tha trivedee ho gaya chaar vedon ka gyaata chaturvedee ho gaya is tarah se inhonne apane man se apane pad mein rakh lee

Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:44
मुझे कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी चतुर्वेदी शब्द लिखते हैं लेकिन कोई भी बेटी अथवा एक कम बेटी नहीं रखते हैं क्योंकि ऐसी कोई काम नहीं होता है कोई सनम नहीं होता है जो है वही होती है द्विवेदी त्रिवेदी चतुर्वेदी जी जोशी चाहिए सरनेम है ऐसे कोई सरनेम अभी तक कोई नहीं है प्रीति एक कमरे दी जो चीज चली आ रही है मुझको वही लिखे हम पलट के अपने मन से कुछ भी तो नहीं लिख सकते हैं जैसे ठाकुरों में भी चौहान लिखते हैं कोई ठाकुर लिखते हैं कोई राजपूत लगते हैं तो उनमें से अगर कोई भी बोल दे कि इनमें से सिर्फ पीछे पीछे की सब्जी क्यों नहीं लिखते तो वह चीज तो नहीं है ना इन सब चीजों की कुछ अर्थ होते हैं इसीलिए यह सब चीजें लिखी जाती है
Mujhe kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee chaturvedee shabd likhate hain lekin koee bhee betee athava ek kam betee nahin rakhate hain kyonki aisee koee kaam nahin hota hai koee sanam nahin hota hai jo hai vahee hotee hai dvivedee trivedee chaturvedee jee joshee chaahie saranem hai aise koee saranem abhee tak koee nahin hai preeti ek kamare dee jo cheej chalee aa rahee hai mujhako vahee likhe ham palat ke apane man se kuchh bhee to nahin likh sakate hain jaise thaakuron mein bhee chauhaan likhate hain koee thaakur likhate hain koee raajapoot lagate hain to unamen se agar koee bhee bol de ki inamen se sirph peechhe peechhe kee sabjee kyon nahin likhate to vah cheej to nahin hai na in sab cheejon kee kuchh arth hote hain iseelie yah sab cheejen likhee jaatee hai

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:57
कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी चतुर्वेदी शब्द लिखते हैं तो एक विधि क्यों नहीं लिखते या इसका क्या अर्थ है तो यह जो नाम बन गए हैं उसके पीछे कुछ ऐतिहासिक बातें तो आर यू में वर्णित है 4 * 6 ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र और आर्यों के कुछ ग्रंथ निर्मल हुई थी पहले वह ग्रंथ के रूप में ग्रंथि नहीं किए थे बाद में वह ग्रंथि किए गए और उनको वेद नाम दिया गया ऐसे मुख्यतः चारों वेद थे तू जो चारों वेदों का ज्ञान रखते थे उनको चतुर्वेदी कहा जाता जाता था जो तीनों वेद का ज्ञान रखते थे उनको त्रिवेदी कहा था कहा जाता था और जो दो वेदों का ज्ञान रखते थे उनको द्विवेदी कहा जाता था लेकिन एक ही वेद के लिए ऐसा कोई शब्द नहीं बना कैसे हैं सपने में भी है और भेजो से इसका इस तरह का संबंध है लेकिन इनके पुरखों के पूर्व कोठे पूर्वज वह पहले इस तरह का ज्ञान रखने वाले थे और आखिर यह भेद क्या है यह वह हर एक व्यक्ति ने खुद पढ़ना चाहिए उसको कई भाषाओं में ट्रांसलेशन ट्रांसलेट किया गया है ट्रांसलेशन अधिक समझ में आ सकता है लोकल लैंग्वेज लैंग्वेज इसके लिए मैंने मराठी में पड़े हैं तो किसी ने भी कोई भी टिप्पणी करने से पहले वेदों को पढ़ना चाहिए ऐसा मैं मानता हूं जाता कि ना नामों का सवाल है तो शुरुआत तो ऐसी हुई थी लेकिन बाद में वेदों का अध्ययन इनके वर्षों से ने कितना किया है और कितना नहीं यह बात तो निश्चित रूप से कहीं नहीं जा सकती और आज भी इस नाम के व्यक्ति वेद कितने पड़ते हैं कितने नहीं या जन्म से ही चतुर्वेदी बन जाते हैं चारों वेदों के ज्ञाता तो वैसा भी होता होगा क्योंकि अभी सब जन्म उसे होता है कर्म से नहीं होता है वैसे कर मुझसे जो ब्रह्म जान लेता था यानी ब्रह्मांड पूरा सच अल्टीमेट ट्रुथ उसको ब्राह्मण मारा जाता था लेकिन सारी दुनिया में ऐसा एक भी ब्राह्मण हुआ होगा कि नहीं इस व्याख्या से अभी तो पता नहीं चल सकता लेकिन 45 करोड़ लोग ब्राह्मण लगाते हैं और उन्होंने ब्रह्म को जान लिया है कहीं होटल में काम करते हैं कई 10वीं फेल हुए होते हैं कई बिल्कुल मत पागल होते हैं लेकिन फिर भी ब्रह्म को जानते हैं और बाकी जो समाज है वह उनका उनके पास जो है वह होता है चाहे वह गधा भी क्यों ना हो लेकिन बाकी समाज की मूर्खता के बारे में कहने के लिए कोई शब्द नहीं है तो यह कि एक तरफ मानसिक गुलाम के लिए और एक तरफ है जम्मू से आया हुआ फायदा अपनी गरज के अनुसार अनुसार लेते हैं और सुविधा के अनुसार चलते हुए लोगों यह प्रवृति हर चीज जगह पर है देश में हमारे सुविधानुसार कुछ तत्वों का पुरस्कार करते हैं तो सुविधानुसार तत्वों का विरोध करते हैं यह प्रवृत्ति सारे देश में है तो इस तरह का है मेरा छोटा सा विश्लेषण यह बहुत बड़ी चीज बातें बातें इस पर इसमें बहुत सालों तक अभ्यास करने की जरूरत होती है अगर मेरा जवाब सही लगा तो इसे कृपया लाइक करें और किसी भी साहित्य को मुझे अपने विचार करें चिंतन करें और बाद में अपने मत मत बनाएं धन्यवाद
Kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee chaturvedee shabd likhate hain to ek vidhi kyon nahin likhate ya isaka kya arth hai to yah jo naam ban gae hain usake peechhe kuchh aitihaasik baaten to aar yoo mein varnit hai 4 * 6 braahman kshatriy vaishy aur shoodr aur aaryon ke kuchh granth nirmal huee thee pahale vah granth ke roop mein granthi nahin kie the baad mein vah granthi kie gae aur unako ved naam diya gaya aise mukhyatah chaaron ved the too jo chaaron vedon ka gyaan rakhate the unako chaturvedee kaha jaata jaata tha jo teenon ved ka gyaan rakhate the unako trivedee kaha tha kaha jaata tha aur jo do vedon ka gyaan rakhate the unako dvivedee kaha jaata tha lekin ek hee ved ke lie aisa koee shabd nahin bana kaise hain sapane mein bhee hai aur bhejo se isaka is tarah ka sambandh hai lekin inake purakhon ke poorv kothe poorvaj vah pahale is tarah ka gyaan rakhane vaale the aur aakhir yah bhed kya hai yah vah har ek vyakti ne khud padhana chaahie usako kaee bhaashaon mein traansaleshan traansalet kiya gaya hai traansaleshan adhik samajh mein aa sakata hai lokal laingvej laingvej isake lie mainne maraathee mein pade hain to kisee ne bhee koee bhee tippanee karane se pahale vedon ko padhana chaahie aisa main maanata hoon jaata ki na naamon ka savaal hai to shuruaat to aisee huee thee lekin baad mein vedon ka adhyayan inake varshon se ne kitana kiya hai aur kitana nahin yah baat to nishchit roop se kaheen nahin ja sakatee aur aaj bhee is naam ke vyakti ved kitane padate hain kitane nahin ya janm se hee chaturvedee ban jaate hain chaaron vedon ke gyaata to vaisa bhee hota hoga kyonki abhee sab janm use hota hai karm se nahin hota hai vaise kar mujhase jo brahm jaan leta tha yaanee brahmaand poora sach alteemet truth usako braahman maara jaata tha lekin saaree duniya mein aisa ek bhee braahman hua hoga ki nahin is vyaakhya se abhee to pata nahin chal sakata lekin 45 karod log braahman lagaate hain aur unhonne brahm ko jaan liya hai kaheen hotal mein kaam karate hain kaee 10veen phel hue hote hain kaee bilkul mat paagal hote hain lekin phir bhee brahm ko jaanate hain aur baakee jo samaaj hai vah unaka unake paas jo hai vah hota hai chaahe vah gadha bhee kyon na ho lekin baakee samaaj kee moorkhata ke baare mein kahane ke lie koee shabd nahin hai to yah ki ek taraph maanasik gulaam ke lie aur ek taraph hai jammoo se aaya hua phaayada apanee garaj ke anusaar anusaar lete hain aur suvidha ke anusaar chalate hue logon yah pravrti har cheej jagah par hai desh mein hamaare suvidhaanusaar kuchh tatvon ka puraskaar karate hain to suvidhaanusaar tatvon ka virodh karate hain yah pravrtti saare desh mein hai to is tarah ka hai mera chhota sa vishleshan yah bahut badee cheej baaten baaten is par isamen bahut saalon tak abhyaas karane kee jaroorat hotee hai agar mera javaab sahee laga to ise krpaya laik karen aur kisee bhee saahity ko mujhe apane vichaar karen chintan karen aur baad mein apane mat mat banaen dhanyavaad

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:30
नमस्कार पहले तो क्या है कि जी उसको दो वेदों का ज्ञान था तीन वेदों का ज्ञान था या 4 पदों कल्याण था जिसके आधार पर जी लिखा जाता था लेकिन अब यह जातियां बन चुके या फिर वह कोई मतलब नहीं है कि ज्ञान है या नहीं इसलिए अब यह माफी चाहती रह गई है और जिसकी वजह से लोग हैं वह पुराने ढर्रे को लेकर चल रहे हैं जिनके पिताजी त्रिवेदी है तो वह उनके पुत्र भी द्विवेदी लगा देते हैं यही कारण धन्यवाद
Namaskaar pahale to kya hai ki jee usako do vedon ka gyaan tha teen vedon ka gyaan tha ya 4 padon kalyaan tha jisake aadhaar par jee likha jaata tha lekin ab yah jaatiyaan ban chuke ya phir vah koee matalab nahin hai ki gyaan hai ya nahin isalie ab yah maaphee chaahatee rah gaee hai aur jisakee vajah se log hain vah puraane dharre ko lekar chal rahe hain jinake pitaajee trivedee hai to vah unake putr bhee dvivedee laga dete hain yahee kaaran dhanyavaad

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:32
हैप्पी रिपब्लिक डे टो ऑल सब्सक्राइब अशोक बोलकर देखी मैं बार-बार यही कहता हूं कि मैं समय क्या भाव से गुजर रहा हूं बस यही विडंबना है मेरे साथ वरना मैं सवालों का जवाब बहुत देना चाहता हूं वह दे सकता हूं बहुत से सवालों का जवाब क्या कहूं बस मेरी मजबूरी है तो ठीक है फिर भी जो होता है कर रहा हूं सवाल ये है कि कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी और चतुर्वेदी शब्द लिखते हैं लेकिन कोई भी केवल वेदी अथवा एकंबे दी शब्द नहीं लिखता तो बस इंटरेस्टिंग सवाल नहीं है क्या इसका जवाब दिया जा सकता है मुझे लगता है कि कहां जाता है जैसे कि द्विवेदी मतलब जो वेदों का ज्ञाता त्रिवेदी मतलब तीन वेदों का ज्ञाता और चतुर्वेदी मतलब चार वेदों का ज्ञाता लेकिन एक वेद के ज्ञाता का कोई अर्थ नहीं है मुझे लगता है कि उसकी कोई गिनती नहीं है मतलब एक से अधिक वेद का ज्ञान ही रखने पर वह ब्राह्मण की श्रेणी में आते थे मुझे लगता है मुझे इतना तार्किक रूप से लगता है कि जो मतलब ब्राह्मण ब्राह्मण का जो पूर्व काल में जो बनाया गया था तो वेद के ज्ञाता जो होते थे उनको ब्राह्मण कहा जाता था तो उसमें कम से कम दो वेदों के ज्ञाता से उसको ब्राह्मण में गिनती की जाती थी संभवत मैं यही मानता हूं तो इसीलिए वहां से उनको यह टाइटल मिलना शुरू हुआ होगा दो उसी लिए दूर-दूर दो वेदों का ज्ञाता हुआ उसे द्विवेदी कहा गया और इस तरह से त्रिवेदी चतुर्वेदी इस तरह से मुझे लगता है कि इस तरह से यह शुरुआत दुआ होगा और इसके बाद और इसके पीछे क्या रहस्य है मैं भी जानना चाहूंगा
Haippee ripablik de to ol sabsakraib ashok bolakar dekhee main baar-baar yahee kahata hoon ki main samay kya bhaav se gujar raha hoon bas yahee vidambana hai mere saath varana main savaalon ka javaab bahut dena chaahata hoon vah de sakata hoon bahut se savaalon ka javaab kya kahoon bas meree majabooree hai to theek hai phir bhee jo hota hai kar raha hoon savaal ye hai ki kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee aur chaturvedee shabd likhate hain lekin koee bhee keval vedee athava ekambe dee shabd nahin likhata to bas intaresting savaal nahin hai kya isaka javaab diya ja sakata hai mujhe lagata hai ki kahaan jaata hai jaise ki dvivedee matalab jo vedon ka gyaata trivedee matalab teen vedon ka gyaata aur chaturvedee matalab chaar vedon ka gyaata lekin ek ved ke gyaata ka koee arth nahin hai mujhe lagata hai ki usakee koee ginatee nahin hai matalab ek se adhik ved ka gyaan hee rakhane par vah braahman kee shrenee mein aate the mujhe lagata hai mujhe itana taarkik roop se lagata hai ki jo matalab braahman braahman ka jo poorv kaal mein jo banaaya gaya tha to ved ke gyaata jo hote the unako braahman kaha jaata tha to usamen kam se kam do vedon ke gyaata se usako braahman mein ginatee kee jaatee thee sambhavat main yahee maanata hoon to iseelie vahaan se unako yah taital milana shuroo hua hoga do usee lie door-door do vedon ka gyaata hua use dvivedee kaha gaya aur is tarah se trivedee chaturvedee is tarah se mujhe lagata hai ki is tarah se yah shuruaat dua hoga aur isake baad aur isake peechhe kya rahasy hai main bhee jaanana chaahoonga

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:51
आरा का बस में कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी को चतुर्वेदी शब्द लिखो आते हैं लेकिन कोई भी केवल विधि अथवा एकदम वेदी नहीं लिखाता है ऐसा क्यों तो आपको बता देंगे ऐसा कोई लिखवाता नहीं है यह उनकी कास्ट होती है भारतवर्ष में सभी लोग जानते हैं जातिगत व्यवस्था है सामाजिक रूप से तो यहां पर अपनी जाति लोग दिखाते हैं जिसकी कुल में जब भी जाती है पैदा होते हैं तो यहां पर जो द्विवेदी त्रिवेदी आप बता रहे हैं यह सारे इनकी जाती हैं इसलिए इनको यह जाती क्योंकि वहां पर उस कुल में पैदा हुए इसलिए मिली है अपने से कोई वहां पर जाती नहीं लिखाता है और रही बात वे दीया एक अमीर दिखाने की तरह से कोई जाति होती है नहीं है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka bas mein kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee ko chaturvedee shabd likho aate hain lekin koee bhee keval vidhi athava ekadam vedee nahin likhaata hai aisa kyon to aapako bata denge aisa koee likhavaata nahin hai yah unakee kaast hotee hai bhaaratavarsh mein sabhee log jaanate hain jaatigat vyavastha hai saamaajik roop se to yahaan par apanee jaati log dikhaate hain jisakee kul mein jab bhee jaatee hai paida hote hain to yahaan par jo dvivedee trivedee aap bata rahe hain yah saare inakee jaatee hain isalie inako yah jaatee kyonki vahaan par us kul mein paida hue isalie milee hai apane se koee vahaan par jaatee nahin likhaata hai aur rahee baat ve deeya ek ameer dikhaane kee tarah se koee jaati hotee hai nahin hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:20
हम आपको डिस्टर्ब कैसे सभा में कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी राष्ट्रपति सब लिखते लेकिन कोई भी अपशब्द नहीं लगता क्या कल लोग अपने नाम के पीछे चित्र विचित्र जी सकती है तो मतलब होता है कि ब्राह्मण कास्ट से बिलॉन्ग करते हैं जो मिले द्विवेदी होती विद्युत क्यों मतलब जानने वाले ब्राह्मण होती ऐसा मतलब हमने लोगों को कहते हुए सुना है और भेजो तीन वेदों के ज्ञाता होता और जो चतुर्वेदी को चार वेदों के ज्ञाता होते और सभी लोग ब्राह्मण कास्ट से बिलॉन्ग करते हैं तो नहीं होते होते हो दो ही यार 3:00 बजे चाबी लगाते हैं तुमसे गरीब लोग नहीं करते फिर भी बहुत लोगों को देखा कि लेकिन जो अधिकांश लोग लोग ब्राह्मण कार्ड से बिलॉन्ग करते हैं तुम्हें करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Ham aapako distarb kaise sabha mein kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee raashtrapati sab likhate lekin koee bhee apashabd nahin lagata kya kal log apane naam ke peechhe chitr vichitr jee sakatee hai to matalab hota hai ki braahman kaast se bilong karate hain jo mile dvivedee hotee vidyut kyon matalab jaanane vaale braahman hotee aisa matalab hamane logon ko kahate hue suna hai aur bhejo teen vedon ke gyaata hota aur jo chaturvedee ko chaar vedon ke gyaata hote aur sabhee log braahman kaast se bilong karate hain to nahin hote hote ho do hee yaar 3:00 baje chaabee lagaate hain tumase gareeb log nahin karate phir bhee bahut logon ko dekha ki lekin jo adhikaansh log log braahman kaard se bilong karate hain tumhen karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:16
इसका कारण ने बेटी की पहली क्या था यह जो भारतीय प्रवार्थी ब्राह्मणों के परिवार थे वह वेदों का अध्ययन किया करते थे तो जिन परिवारों में जिनके पूर्वजों का दो बेटों पर अधिकार था जैसी जगबीर और यह जो भी के अच्छे ज्ञाता थे जिनके वह द्विवेदी कहलाए जिन परिवारों में जिनके पूर्वज गंज तीन बिंदुओं पर अच्छा मॉडलिंग रखते थे जिद्दी यजुर्वेद सामवेद तो वो त्रिवेदी कहलाए जिन परिवारों के पूर्वजों का चारों भी तो पर समान अधिकार था अच्छा होल्डिंग रखते थे उनके सिद्धांतों का पालन करते थे जैसे ऋग्वेद यजुर्वेद सामवेद और पत्थर पर भी लोग चतुर्वेदी क्या लाए एक बेदी कोई नहीं होता है क्योंकि एक भेदों का जंतु पर आया सभी ने किया होता है और ब्राह्मण परिवारों में उनके संस्कार जाते हैं रिक्वेस्ट सबसे प्राचीनतम है इसलिए ऋग्वेद का बारे में ही भारतीय संस्कृति में अधिक प्रचलन है प्रधानों में परंपराओं में आदि सब ने देखा जा सकता है
Isaka kaaran ne betee kee pahalee kya tha yah jo bhaarateey pravaarthee braahmanon ke parivaar the vah vedon ka adhyayan kiya karate the to jin parivaaron mein jinake poorvajon ka do beton par adhikaar tha jaisee jagabeer aur yah jo bhee ke achchhe gyaata the jinake vah dvivedee kahalae jin parivaaron mein jinake poorvaj ganj teen binduon par achchha modaling rakhate the jiddee yajurved saamaved to vo trivedee kahalae jin parivaaron ke poorvajon ka chaaron bhee to par samaan adhikaar tha achchha holding rakhate the unake siddhaanton ka paalan karate the jaise rgved yajurved saamaved aur patthar par bhee log chaturvedee kya lae ek bedee koee nahin hota hai kyonki ek bhedon ka jantu par aaya sabhee ne kiya hota hai aur braahman parivaaron mein unake sanskaar jaate hain rikvest sabase praacheenatam hai isalie rgved ka baare mein hee bhaarateey sanskrti mein adhik prachalan hai pradhaanon mein paramparaon mein aadi sab ne dekha ja sakata hai

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:07
नमस्कार दोस्तों प्लस नहीं कुछ लोग अपने नाम के पीछे द्विवेदी त्रिवेदी और चतुर्वेदी शब्द लिखते हैं लेकिन कोई भी केवल विधि अथवा एक में भी शब्द नहीं लिखता है बताना चाहता हूं ऐसा प्रश्न मेरे मन में भी आता है क्योंकि मेरे जो है सरनेम चतुर्वेदी है तो दोस्तों ऐसा नहीं है कि दीदी नहीं है जैसे कि सबसे अच्छा उदाहरण में आपको बता सकता हूं किरण बेदी हैं वह हो सकता है कि दीदी वह भी होगा वह लेकिन बा हो गया होगा वैसे बहुत लोगों के साथ बिजी हो सकता है और यह बिल्कुल सही है एक बेबी जरा अच्छा नहीं लगता तो बिजी ही होगा और द्विवेदी जैसे की है तो द्विवेदी का दूसरा नाम दुबे भी बोला जाता है त्रिवेदी को तिवारी बोला जाता हूं चतुर्वेदी को चौबे ही बोला जाता है लेकिन वे दी तो बिजी ही रहता है मैंने उसका नाम को बिगड़ा हुआ नाम या दूसरा नाम मैंने नहीं सुना है लेकिन भेजी नहीं होता है 4:00 बजे ऋग्वेद यजुर्वेद सामवेद अथर्ववेद तो निश्चित रूप से बेदी भी होते हैं ज्यादा उदाहरण मैंने आपको किरण बेदी का बताया धन्यवाद
Namaskaar doston plas nahin kuchh log apane naam ke peechhe dvivedee trivedee aur chaturvedee shabd likhate hain lekin koee bhee keval vidhi athava ek mein bhee shabd nahin likhata hai bataana chaahata hoon aisa prashn mere man mein bhee aata hai kyonki mere jo hai saranem chaturvedee hai to doston aisa nahin hai ki deedee nahin hai jaise ki sabase achchha udaaharan mein aapako bata sakata hoon kiran bedee hain vah ho sakata hai ki deedee vah bhee hoga vah lekin ba ho gaya hoga vaise bahut logon ke saath bijee ho sakata hai aur yah bilkul sahee hai ek bebee jara achchha nahin lagata to bijee hee hoga aur dvivedee jaise kee hai to dvivedee ka doosara naam dube bhee bola jaata hai trivedee ko tivaaree bola jaata hoon chaturvedee ko chaube hee bola jaata hai lekin ve dee to bijee hee rahata hai mainne usaka naam ko bigada hua naam ya doosara naam mainne nahin suna hai lekin bhejee nahin hota hai 4:00 baje rgved yajurved saamaved atharvaved to nishchit roop se bedee bhee hote hain jyaada udaaharan mainne aapako kiran bedee ka bataaya dhanyavaad

Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:01
कुछ लोग द्विवेदी त्रिवेदी चतुर्वेदी के चोरी में पंच भी आ जाता है ऐसा इसलिए है कि लोग दुनिया को मूर्ख बनाने के लिए जान दे दी है दो वेद का ज्ञान है वह त्रिवेदी हमें तो 3 दिन का गाना चलाओ और बंसी हैं बताते हैं घमंड करते हैं परंतु यूपी दी है वेदों का ज्ञान है यह देखने में आया है कि वही महान मुल्क होते हैं वहां का घमंड करते हैं उसका अर्थ लगाते हैं सही ज्ञान तो वही है कि वेद का ज्ञान हो या ना हो परंतु मनुष्य का ज्ञान तो होना चाहिए मानवता तो होना चाहिए विमानों का नहीं है समाज में जो हर नहीं है गलत हेलो हां कौन हां मैडम जी दीजिए ज़ी टीवी लॉन्च नहीं नहीं नहीं मैडम लोन की जरूरत ही नहीं पड़ती ना हमको जी मैडम आया सामान को चलाए जाएंगे थैंक यू मैडम तो भांड के लिए ही आदमी ऐसा करते हैं हमें ऐसा नहीं करना चाहिए थैंक यू धन्यवाद
Kuchh log dvivedee trivedee chaturvedee ke choree mein panch bhee aa jaata hai aisa isalie hai ki log duniya ko moorkh banaane ke lie jaan de dee hai do ved ka gyaan hai vah trivedee hamen to 3 din ka gaana chalao aur bansee hain bataate hain ghamand karate hain parantu yoopee dee hai vedon ka gyaan hai yah dekhane mein aaya hai ki vahee mahaan mulk hote hain vahaan ka ghamand karate hain usaka arth lagaate hain sahee gyaan to vahee hai ki ved ka gyaan ho ya na ho parantu manushy ka gyaan to hona chaahie maanavata to hona chaahie vimaanon ka nahin hai samaaj mein jo har nahin hai galat helo haan kaun haan maidam jee deejie zee teevee lonch nahin nahin nahin maidam lon kee jaroorat hee nahin padatee na hamako jee maidam aaya saamaan ko chalae jaenge thaink yoo maidam to bhaand ke lie hee aadamee aisa karate hain hamen aisa nahin karana chaahie thaink yoo dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वेदी' और 'एकम्वेदी में क्या अंतर है, द्विवेदी', 'त्रिवेदी' और 'चतुर्वेदी' नाम के पीछे कौन लिखता है
URL copied to clipboard