#भारत की राजनीति

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:12
भारत के प्रधानमंत्री किसान कानूनों को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे हैं ताकि कानून भी वापस लिया जाए और कीर्ति ना हो सकते प्रधानमंत्री गाया सेंट्रल गवर्नमेंट का क्या चल रहा है उसके बारे में कुछ कहना मुश्किल होगा आप सिर्फ कयास लगा सकते हैं और निश्चित तौर पर दोनों पक्षों में इसमें दोषी मानता हूं क्योंकि अगर कानून सही है तो विरोधियों और जब अगर इनको कानून में गलतियां नजर आ रही है तक सुधार क्यों नहीं होना चाहिए क्योंकि सुधार के माध्यम से ही दिखे बातचीत के माध्यम से सुधार के माध्यम से ही हो सकता है अब इस तरह से दोनों पक्ष के लड़के बैठते हैं कि नहीं भाई साहब को कानून वापस लेना होगा कि कानून में वापस लेना है तो भेजो रे क्या जाएगा तौर पर यह जो आपको कयास लगा रहे हो यह दुर्भाग्यपूर्ण है ऐसा हो ही नहीं सकता हो भी सकता है सरकार का तो हम लोग कैसे कह सकते हैं कि सरकार की नियत क्या है किस तरह से है और कुछ हद तक अगर किसानों की सही स्थिति देखना चाहेंगे तो निश्चित तौर पर जरूरत है ऐसे मंच की ऐसे कानून की जो शक्ति के साथ है और हजारों लाखों किसान इसका समर्थन में कर रहे हैं ऐसा कह नहीं सकता कि कुछ लोगों के कारण चाहिए गलत कानून होगा और इसमें जब वह गलत पॉलिटिक्स पहुंच जाती है निश्चित तौर पर तो वहां पर बड़ा बुरा हो सकता है और जिस तरह से हो रहा है यह दुर्भाग्यपूर्ण है अगर आगे भी ऐसा होता रहा तो निश्चित तौर पर कोई समाधान नहीं होगा अब आपको कह सकते हो कि सरकार अपना फ्रेंड छुड़ाना चाहते हैं उसने तो कानून बनाया था कानून का अनुपालन करना या न करना या जो भी है इन सरकारों के हाथ में तेरे ही अब यह लोग क्या चाहते हैं कैसे इसके बारे में कुछ कहना गलत होगा
Bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoonon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe hain taaki kaanoon bhee vaapas liya jae aur keerti na ho sakate pradhaanamantree gaaya sentral gavarnament ka kya chal raha hai usake baare mein kuchh kahana mushkil hoga aap sirph kayaas laga sakate hain aur nishchit taur par donon pakshon mein isamen doshee maanata hoon kyonki agar kaanoon sahee hai to virodhiyon aur jab agar inako kaanoon mein galatiyaan najar aa rahee hai tak sudhaar kyon nahin hona chaahie kyonki sudhaar ke maadhyam se hee dikhe baatacheet ke maadhyam se sudhaar ke maadhyam se hee ho sakata hai ab is tarah se donon paksh ke ladake baithate hain ki nahin bhaee saahab ko kaanoon vaapas lena hoga ki kaanoon mein vaapas lena hai to bhejo re kya jaega taur par yah jo aapako kayaas laga rahe ho yah durbhaagyapoorn hai aisa ho hee nahin sakata ho bhee sakata hai sarakaar ka to ham log kaise kah sakate hain ki sarakaar kee niyat kya hai kis tarah se hai aur kuchh had tak agar kisaanon kee sahee sthiti dekhana chaahenge to nishchit taur par jaroorat hai aise manch kee aise kaanoon kee jo shakti ke saath hai aur hajaaron laakhon kisaan isaka samarthan mein kar rahe hain aisa kah nahin sakata ki kuchh logon ke kaaran chaahie galat kaanoon hoga aur isamen jab vah galat politiks pahunch jaatee hai nishchit taur par to vahaan par bada bura ho sakata hai aur jis tarah se ho raha hai yah durbhaagyapoorn hai agar aage bhee aisa hota raha to nishchit taur par koee samaadhaan nahin hoga ab aapako kah sakate ho ki sarakaar apana phrend chhudaana chaahate hain usane to kaanoon banaaya tha kaanoon ka anupaalan karana ya na karana ya jo bhee hai in sarakaaron ke haath mein tere hee ab yah log kya chaahate hain kaise isake baare mein kuchh kahana galat hoga

और जवाब सुनें

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:57
प्रश्न है क्या भारत के प्रधानमंत्री किसान कानूनों को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे हैं ताकि करोड़ भी वापस हो जाए और किसी तरह का कोई दिक्कत भी ना हो तो दिखे फ्रेंड्स क्या अभी भी सरकार और किसान के बीच मतभेद बना हुआ है और अभी कानूनों को लेकर अभी भी सरकार अपने वादों पर अड़ी हुई है किसान भाई लोगों अपने बातों पर लड़ाई हुई तो देखिए शायद कल ऐसा कुछ निर्णय आए जो लगे कि 25 जनवरी को शायद किसानों के हित में कुछ बातें हो सकती हो तो कल का दिन देखने को रहेगा कि हां कैसा समय रहता है किसके पक्ष में क्या बात है आती है और तो अभी देखा जाए तो भी दोनों लोग अपनी अपनी बातों पर अड़े हुए हैं और देखा जाए तो कल का दिन बहुत खास रहेगा धन्यवाद
Prashn hai kya bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoonon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe hain taaki karod bhee vaapas ho jae aur kisee tarah ka koee dikkat bhee na ho to dikhe phrends kya abhee bhee sarakaar aur kisaan ke beech matabhed bana hua hai aur abhee kaanoonon ko lekar abhee bhee sarakaar apane vaadon par adee huee hai kisaan bhaee logon apane baaton par ladaee huee to dekhie shaayad kal aisa kuchh nirnay aae jo lage ki 25 janavaree ko shaayad kisaanon ke hit mein kuchh baaten ho sakatee ho to kal ka din dekhane ko rahega ki haan kaisa samay rahata hai kisake paksh mein kya baat hai aatee hai aur to abhee dekha jae to bhee donon log apanee apanee baaton par ade hue hain aur dekha jae to kal ka din bahut khaas rahega dhanyavaad

Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:21
नहीं मेरे को नहीं लगता कि मुझे मंडे ना ही कोई फैसला करेगा और ना ही करना को वापस ले मुझे लगता है कि खुद ही कोई फैसला करेंगे क्योंकि
Nahin mere ko nahin lagata ki mujhe mande na hee koee phaisala karega aur na hee karana ko vaapas le mujhe lagata hai ki khud hee koee phaisala karenge kyonki

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:48
यारों का टशन के भारत के प्रधानमंत्री किसान कानूनों को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे हैं ताकि कानून भी वापस लेने और किरकिरी भी ना हो तो को बता देते कि यहां पर बिल्कुल सही बात है कि अगर सरकार कानून वापस लेती है तो इसमें बहुत बड़ी कृत्रिम सरकार की ही होगी ऐसे में सरकार कभी नहीं जाएगी कि कानून वापस हो भले ही उसको पूरा का पूरा बदल दिया जाए तो वह किसानों के साथ बातचीत करके यही मुद्दों पर डिस्कशन करना चाहती है कि आंखें किसानों को क्या-क्या दिक्कतें हैं और कहां-कहां उसमें बदलाव किए जा सकते हैं अलग ही सरकार पूरे के पूरे कानून हेरिटेज वापस लेने के पक्ष में बिल्कुल नहीं है आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Yaaron ka tashan ke bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoonon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe hain taaki kaanoon bhee vaapas lene aur kirakiree bhee na ho to ko bata dete ki yahaan par bilkul sahee baat hai ki agar sarakaar kaanoon vaapas letee hai to isamen bahut badee krtrim sarakaar kee hee hogee aise mein sarakaar kabhee nahin jaegee ki kaanoon vaapas ho bhale hee usako poora ka poora badal diya jae to vah kisaanon ke saath baatacheet karake yahee muddon par diskashan karana chaahatee hai ki aankhen kisaanon ko kya-kya dikkaten hain aur kahaan-kahaan usamen badalaav kie ja sakate hain alag hee sarakaar poore ke poore kaanoon heritej vaapas lene ke paksh mein bilkul nahin hai aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:51
वापस वाले क्या भारत में दावत की सभा से कानून को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे ताकि कानून को वापस लिया जाए तो ऐसी कुछ बात नहीं है भारतीय प्रधानमंत्री किसानों के लिए कुछ करने के लिए ही तो सब कुछ करने के लिए तैयार रहते हैं किस क्षेत्र के बुनियादी ढांचा के लिए एक लाख करोड़ का रुपए का मतलब वित्त मंत्री सीतारमण ने किसी क्षेत्र के लिए धर्म चक्र मजबूत करने के लिए 100000 करोड का बजट पेश किया है इसमें किसानों की आय बढ़ाने की मदद मिलेगी इस फंड में किसी को कुछ भंडार वैल्यू एडमिशन सहायता कई तरह की गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा प्राइमरी को-ऑपरेटिव सोसायटी स्टार्टअप किसान उत्पादक संघ के सहित कई भी संगठन इसका फंड लाभ उठा सकते हैं और हाल ही छोटी खादून परसों इकाइयों के लिए 10000 करोड वित्त मंत्री ने कहा कि माइक्रोफूड इंटरप्राइजेज 10 करोड़ की स्कीम लाए हैं उन्हें कहा कि की खाल संरक्षण के क्षेत्र में की जाने वाली इकाई में फायदा मिलेगा और प्रधानमंत्री ने अभी मस्ती संपादक योजना के लिए ₹20000 करोड़ का बजट पास किया है राष्ट्रीय पशु बीमारी नियंत्रण के लिए कार्य के लिए भी 13346 रुपए का करोड का बजट पास किया है पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए 15 साल का बजट पास हुआ है हर्बल पौधों को बढ़ावा देने के लिए 4000 करोड का बजट पास में मधुमक्खी पालन के लिए 500 करोड की मदद मिलेगी ऑपरेशन क्लीन का विस्तार होगा और टोपी टोटल के लिए 500 करोड़ का बजट पेश हुआ है आवश्यक वस्तु अधिनियम का होगा बदलाव और किसान जहां चाहे वहां पे सकेंगे थे उसके का किसानों का उत्पीड़न जी धन्यवाद आपको जवाब अच्छा लगा तो लाइक जरूर की
Vaapas vaale kya bhaarat mein daavat kee sabha se kaanoon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe taaki kaanoon ko vaapas liya jae to aisee kuchh baat nahin hai bhaarateey pradhaanamantree kisaanon ke lie kuchh karane ke lie hee to sab kuchh karane ke lie taiyaar rahate hain kis kshetr ke buniyaadee dhaancha ke lie ek laakh karod ka rupe ka matalab vitt mantree seetaaraman ne kisee kshetr ke lie dharm chakr majaboot karane ke lie 100000 karod ka bajat pesh kiya hai isamen kisaanon kee aay badhaane kee madad milegee is phand mein kisee ko kuchh bhandaar vailyoo edamishan sahaayata kaee tarah kee gatividhiyon ko badhaava milega praimaree ko-oparetiv sosaayatee staartap kisaan utpaadak sangh ke sahit kaee bhee sangathan isaka phand laabh utha sakate hain aur haal hee chhotee khaadoon parason ikaiyon ke lie 10000 karod vitt mantree ne kaha ki maikrophood intarapraijej 10 karod kee skeem lae hain unhen kaha ki kee khaal sanrakshan ke kshetr mein kee jaane vaalee ikaee mein phaayada milega aur pradhaanamantree ne abhee mastee sampaadak yojana ke lie ₹20000 karod ka bajat paas kiya hai raashtreey pashu beemaaree niyantran ke lie kaary ke lie bhee 13346 rupe ka karod ka bajat paas kiya hai pashupaalan ko badhaava dene ke lie 15 saal ka bajat paas hua hai harbal paudhon ko badhaava dene ke lie 4000 karod ka bajat paas mein madhumakkhee paalan ke lie 500 karod kee madad milegee opareshan kleen ka vistaar hoga aur topee total ke lie 500 karod ka bajat pesh hua hai aavashyak vastu adhiniyam ka hoga badalaav aur kisaan jahaan chaahe vahaan pe sakenge the usake ka kisaanon ka utpeedan jee dhanyavaad aapako javaab achchha laga to laik jaroor kee

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:45
कि आपका जो सवाल है कभी बढ़िया है और यदि बात करें किसान कानूनों को ले करके तो देखिए दोस्तों प्रधानमंत्री और उनकी बैठक में इस कानून को बनाया गया था मंत्रिमंडल द्वारा और इसको फिर वहां से लागू किया गया अब जब से उसके बाद जो जनता के समर्थन करते हो और साथ ही दूसरी बात विपक्ष को पूरी तरीके से सत्ता पक्ष को एक तरीके से टारगेट बना रखा है इनका विरोध कर रहा है बात करें प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री जो है वह किसान कानूनों को अच्छा बताते हैं और साथ-साथ सब तरफ से वह भी स्कोर अच्छा बता दिया परंतु विपक्ष के साथ और किसान समर्थ के नुकसान के नाते बात के ऊपर इस चीज के लिए आंदोलन कर रहे हैं वर्तमान समय में देश के अंदर जो विरोध हो रहा है तो प्रधानमंत्री जी सोच रहे हैं कि इस बिल को वापस लेना चाहिए भाने ढूंढ रही है नहीं ढूंढ रहे और उनके मन के अंदर क्या है उनके 27 चीज को लेकर के क्या सोचती है उनके ऊपर निर्भर करता है परंतु आए इतना तो तय है यदि यह बिल लागू रहते हैं तो सरकार की आप देख सकते हैं तो हो सकता है कि प्रधानमंत्री जी कोई बहाना भी बना रहे हो किस को कैसे ना कैसे वापस ले ले और हो सकता है किसको लागू भी रहने दिया जाए तो यह तो हमारी सप्ताह के ऊपर निर्भर करता है कि वह इसके ऊपर कुछ दिनों बाद क्या राय देते हैं सर सुप्रीम कोर्ट के अंदर भी मामला गया तो वहां से भी हमें कुछ देखने को मिलेगा
Ki aapaka jo savaal hai kabhee badhiya hai aur yadi baat karen kisaan kaanoonon ko le karake to dekhie doston pradhaanamantree aur unakee baithak mein is kaanoon ko banaaya gaya tha mantrimandal dvaara aur isako phir vahaan se laagoo kiya gaya ab jab se usake baad jo janata ke samarthan karate ho aur saath hee doosaree baat vipaksh ko pooree tareeke se satta paksh ko ek tareeke se taaraget bana rakha hai inaka virodh kar raha hai baat karen pradhaanamantree ko pradhaanamantree jo hai vah kisaan kaanoonon ko achchha bataate hain aur saath-saath sab taraph se vah bhee skor achchha bata diya parantu vipaksh ke saath aur kisaan samarth ke nukasaan ke naate baat ke oopar is cheej ke lie aandolan kar rahe hain vartamaan samay mein desh ke andar jo virodh ho raha hai to pradhaanamantree jee soch rahe hain ki is bil ko vaapas lena chaahie bhaane dhoondh rahee hai nahin dhoondh rahe aur unake man ke andar kya hai unake 27 cheej ko lekar ke kya sochatee hai unake oopar nirbhar karata hai parantu aae itana to tay hai yadi yah bil laagoo rahate hain to sarakaar kee aap dekh sakate hain to ho sakata hai ki pradhaanamantree jee koee bahaana bhee bana rahe ho kis ko kaise na kaise vaapas le le aur ho sakata hai kisako laagoo bhee rahane diya jae to yah to hamaaree saptaah ke oopar nirbhar karata hai ki vah isake oopar kuchh dinon baad kya raay dete hain sar supreem kort ke andar bhee maamala gaya to vahaan se bhee hamen kuchh dekhane ko milega

Satyabhan Rathiya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Satyabhan जी का जवाब
Unknown
0:15
हां उन्हें और हमें भी ऐसा लगता है पर उन्हें थोड़ा वक्त चाहिए इतना बड़ा जवाबदेही काम है

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:35
का मुख्य प्रश्न क्या भारत के प्रधानमंत्री किसान कानूनों को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ धागे कानून भी वापस ले लिया जाए और किरकिरी भी ना होए तो दोस्त मैं बताना चाहता हूं कि जो प्रधानमंत्री ने काफी उनके साथ जनता का सहयोग है पूर्ण बहुमत की सरकार है तो उनको कहीं पीछे झुकने की कोई खास जरूरत है नहीं वह तो एक समाधान निकालना चाहते हैं कि कुछ दिनों के लिए टाल दिया जाए अन्यथा बाद में ऐसा हो सकता है कि यह कर दिया जाए कि कोई राज्य मानना चाहिए ना मानना चाहे उसके ऊपर छोड़ दिया जाए जैसे जीएसटी में कुछ राज्य नहीं मानते थे बाद में उन्हें स्वीकार ना पड़ा जीएसटी चौक 20 लोग करने लग गए उसे राज्य से वैसे यह भी हो सकता है लेकिन इसके बहुत सारे फायदे भी हैं तो भी किसान जिद पर अड़े में तो किसी ना किसी को तो पीछे हटना ही पड़ेगा एक 26 जनवरी का भी त्यौहार है हमारे यहां देश में तो उसको भी था कम करने की एक मनसा होगी प्रधानमंत्री जी की लेकिन वह मेरे को ऐसा लगता है कि कानून जरूर लागू होगा क्योंकि किसानों के फायदेमंद वाली बात है इसके अंदर और जो किताबों में किसान वास्तव में किसान नहीं है उनको ज्यादा दर्द हो रहा है इससे इसलिए किसान भी समझता आम जनता भी समझती है तो फिर तेरी का कोई डर नहीं है दिल तो आते आते जाते रहते हैं लेकिन जो अच्छी चीज है वह तो निकालना ही पड़ेगा चाहे आज नहीं तो कल निश्चित रूप से पास होगा पास तो हो ही गया लागू कर दिया जाएगा धन्यवाद
Ka mukhy prashn kya bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoonon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh dhaage kaanoon bhee vaapas le liya jae aur kirakiree bhee na hoe to dost main bataana chaahata hoon ki jo pradhaanamantree ne kaaphee unake saath janata ka sahayog hai poorn bahumat kee sarakaar hai to unako kaheen peechhe jhukane kee koee khaas jaroorat hai nahin vah to ek samaadhaan nikaalana chaahate hain ki kuchh dinon ke lie taal diya jae anyatha baad mein aisa ho sakata hai ki yah kar diya jae ki koee raajy maanana chaahie na maanana chaahe usake oopar chhod diya jae jaise jeeesatee mein kuchh raajy nahin maanate the baad mein unhen sveekaar na pada jeeesatee chauk 20 log karane lag gae use raajy se vaise yah bhee ho sakata hai lekin isake bahut saare phaayade bhee hain to bhee kisaan jid par ade mein to kisee na kisee ko to peechhe hatana hee padega ek 26 janavaree ka bhee tyauhaar hai hamaare yahaan desh mein to usako bhee tha kam karane kee ek manasa hogee pradhaanamantree jee kee lekin vah mere ko aisa lagata hai ki kaanoon jaroor laagoo hoga kyonki kisaanon ke phaayademand vaalee baat hai isake andar aur jo kitaabon mein kisaan vaastav mein kisaan nahin hai unako jyaada dard ho raha hai isase isalie kisaan bhee samajhata aam janata bhee samajhatee hai to phir teree ka koee dar nahin hai dil to aate aate jaate rahate hain lekin jo achchhee cheej hai vah to nikaalana hee padega chaahe aaj nahin to kal nishchit roop se paas hoga paas to ho hee gaya laagoo kar diya jaega dhanyavaad

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:42
नमस्कार दोस्तों चलिए बहन का प्रश्न नहीं थी इसके बाद इनका उत्तर देंगे बहुत इस्तेमाल का इन्होंने प्रश्न पूछा है चलिए तो फिर चलते हैं प्रश्न क्यों किया क्या भारत के प्रधानमंत्री किसान कानूनों को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे हैं ताकि का निर्वाचन लिए या और कोई किरकिरी बिना बिल्कुल सही बात है प्रधानमंत्री ऐसा ही सोच रहे हैं बहाना ढूंढ रहे हैं और जहां तक हुआ यह किशन बिल वापस लिया जाएगा किसानों के समर्थन में यह बिलाफाव फायदा होगा किसान इसे मत के बिना नहीं होना चाहिए ऐसा हुआ तो गलत है पैसे के साथ देखने जाना चाहिए सारा फैसला
Namaskaar doston chalie bahan ka prashn nahin thee isake baad inaka uttar denge bahut istemaal ka inhonne prashn poochha hai chalie to phir chalate hain prashn kyon kiya kya bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoonon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe hain taaki ka nirvaachan lie ya aur koee kirakiree bina bilkul sahee baat hai pradhaanamantree aisa hee soch rahe hain bahaana dhoondh rahe hain aur jahaan tak hua yah kishan bil vaapas liya jaega kisaanon ke samarthan mein yah bilaaphaav phaayada hoga kisaan ise mat ke bina nahin hona chaahie aisa hua to galat hai paise ke saath dekhane jaana chaahie saara phaisala

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:15
नमस्कार श्रोताओं पक्के तौर पर कहना तो मुश्किल है कुछ भी कि कौन क्या कर रहे हैं कुछ लोग यह भी कहते हैं कि जो किसान है उनके पीछे कोई और का हाथ और वह समझौता नहीं होने दे रहे हैं और कुछ लोग जैसे क्वेश्चन में लिखा है कि वह बहाना ढूंढ कैसे सरकार कानून वापस ले तुझे मैंने कब पक्के तौर पर कहना क्या हो रहा है यह कहना मुश्किल है लेकिन यह बात जरूर है कि सरकार इन प्रदर्शन को देखकर झुकी जरूर है यह झुकी हुई सरकार ही है जिसने 1 साल तक कानूनों को सस्पेंड करने का प्रस्ताव आगे रखा है किसानों के आगे लेकिन किसानों ने उसे भी ठुकरा दिया है उनके भी अपने कारण है उन्हें लगता है कि सरकार इस से बच प्रदर्शन खत्म कराना चाहती है ताकि खत्म हो जाएगा एक बार फिर वह कुछ भी कर सकती है क्योंकि अगले साल जैसे 1 साल बाद वापस से ही कानून लगाने की कोई बात चल वापस से इतने सारे किसान एक बार वापस नहीं जीत पाएंगे तो दोनों ही पक्ष के लोग पूरी तरीके से बात खत्म करने के लिए अभी तैयार नहीं है यह बात पक्की है
Namaskaar shrotaon pakke taur par kahana to mushkil hai kuchh bhee ki kaun kya kar rahe hain kuchh log yah bhee kahate hain ki jo kisaan hai unake peechhe koee aur ka haath aur vah samajhauta nahin hone de rahe hain aur kuchh log jaise kveshchan mein likha hai ki vah bahaana dhoondh kaise sarakaar kaanoon vaapas le tujhe mainne kab pakke taur par kahana kya ho raha hai yah kahana mushkil hai lekin yah baat jaroor hai ki sarakaar in pradarshan ko dekhakar jhukee jaroor hai yah jhukee huee sarakaar hee hai jisane 1 saal tak kaanoonon ko saspend karane ka prastaav aage rakha hai kisaanon ke aage lekin kisaanon ne use bhee thukara diya hai unake bhee apane kaaran hai unhen lagata hai ki sarakaar is se bach pradarshan khatm karaana chaahatee hai taaki khatm ho jaega ek baar phir vah kuchh bhee kar sakatee hai kyonki agale saal jaise 1 saal baad vaapas se hee kaanoon lagaane kee koee baat chal vaapas se itane saare kisaan ek baar vaapas nahin jeet paenge to donon hee paksh ke log pooree tareeke se baat khatm karane ke lie abhee taiyaar nahin hai yah baat pakkee hai

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:38
क्या भारत के प्रधानमंत्री किसान कानून को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे हैं ताकि कानून भी वापस हो जाए और क्रिकेट भी ना हो बिल्कुल आप सही कह रहे हैं अब वह कहते हैं ना कि भाई गति सांप छछूंदर केरी गलत गलत प्रीति घनेरी मोदी जी जय मोदी सरकार की स्थिति बिल्कुल छछूंदर और सांप की तरह हो कि जिस प्रकार से छछूंदर को सांप पकड़ पकड़ लेता दवा लेता है तो बहुत स्थित गड़बड़ हो जाती है अगर वह उसको खाता है तो मर जाता है और अगर उगलता है तो अंधा हो जाता है वही स्थिति इस समय छछूंदर और सांप की गति की तरह हो रही है कि अब वह केवल अपनी इज्जत बचाने के लिए कोई न कोई बहाना ढूंढ रहा है कि हाईकोर्ट उस पर स्टे लगा दे या सुप्रीम कोर्ट को रोक दें किसी तरह से कि अब जब किसान नहीं मान रहा है सारा देश एक तरफ हो रहा है और उन्होंने कानून को बगैर किसी समर्थन के पारित कर दिया है तो ये की तानाशाही जनता क्या कि नहीं चलेगी इसलिए कोई न कोई बहाना ढूंढ रहे हैं और कानून तो इनको वापस लेना ही पड़ेगा और कानून वापस नहीं लेगा तो स्थिति यह आ रही है कि किसान इतना ही पैदा करेगा जिससे वह अपने घर का खर्च चला ले तू कितना अनुप्रिया बाहर से मंगा आएंगे की स्थिति आ रही है किसान ने तय कर लिया है कि हम उतना ही अन्य पैदा करेंगे जितना हमारे हमारे घर को संचालन करने के लिए जनता को भी फिर खेत पैदा करके नहीं देंगे क्योंकि वही अन्नदाता है इसलिए इन सब बातों को सोच कर के बहुत दूर तक की कोठी फेंकी जा रही है बात आपकी बिल्कुल सही है मैं समर्थन करता हूं
Kya bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe hain taaki kaanoon bhee vaapas ho jae aur kriket bhee na ho bilkul aap sahee kah rahe hain ab vah kahate hain na ki bhaee gati saamp chhachhoondar keree galat galat preeti ghaneree modee jee jay modee sarakaar kee sthiti bilkul chhachhoondar aur saamp kee tarah ho ki jis prakaar se chhachhoondar ko saamp pakad pakad leta dava leta hai to bahut sthit gadabad ho jaatee hai agar vah usako khaata hai to mar jaata hai aur agar ugalata hai to andha ho jaata hai vahee sthiti is samay chhachhoondar aur saamp kee gati kee tarah ho rahee hai ki ab vah keval apanee ijjat bachaane ke lie koee na koee bahaana dhoondh raha hai ki haeekort us par ste laga de ya supreem kort ko rok den kisee tarah se ki ab jab kisaan nahin maan raha hai saara desh ek taraph ho raha hai aur unhonne kaanoon ko bagair kisee samarthan ke paarit kar diya hai to ye kee taanaashaahee janata kya ki nahin chalegee isalie koee na koee bahaana dhoondh rahe hain aur kaanoon to inako vaapas lena hee padega aur kaanoon vaapas nahin lega to sthiti yah aa rahee hai ki kisaan itana hee paida karega jisase vah apane ghar ka kharch chala le too kitana anupriya baahar se manga aaenge kee sthiti aa rahee hai kisaan ne tay kar liya hai ki ham utana hee any paida karenge jitana hamaare hamaare ghar ko sanchaalan karane ke lie janata ko bhee phir khet paida karake nahin denge kyonki vahee annadaata hai isalie in sab baaton ko soch kar ke bahut door tak kee kothee phenkee ja rahee hai baat aapakee bilkul sahee hai main samarthan karata hoon

KANHAIYA  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KANHAIYA जी का जवाब
Student
1:38
मक्का उस मैडम का नर्सरी यादव का बोलकर आपने जो क्वेश्चन पूछा है बहुत इंटरेस्टिंग है और इसको संघ जवाब मैं आपको देना जरूर आपने हमसे पूछा कि क्या भारत के प्रधानमंत्री किसान कानून को वापस लेने का कोई बहाना ढूंढ रहे हैं ताकि कानूनी वापस ले ले जाए और सरकार के कोई करी करी भी ना होगा इस इस क्वेश्चन का जवाब मैं आप को धमकी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ऐसा कुछ भी नहीं सोच रहे हैं उन्होंने अपनी ऑफिशल अनाउंसमेंट को बिल्कुल साफ किया जाता है कि कानून तो वापस नहीं होने वाला फिलहाल हम इसे डेढ़ साल तक के लिए डिलीट कर सकते हैं जिसके बीच हम भारत के सभी किसानों को तीनों कानूनों के फायदे के बारे में बताएंगे उन्हें पुत्र के समझाने की कोशिश करेंगे और देवता के बाद जब किसान पुत्र के हिस्से से समझ जाएंगे उनके समझ में आएगा तो हम इससे फिर लागू कर सकते हैं लेकिन जब तक के जाना चाहिए हम लागू नहीं करेंगे डेढ़ साल तक 2 साल तक हम इसे डिलीट कर सकते लेकिन हमारा ऐसा कोई भी मन नहीं है कि हम इसे वापस ले तो इस तरीके से उन्होंने पूरा जवाब दे दिया है कि वह किसी कानूनों को वापस तो नहीं लेंगे लेकिन फिलहाल डिलीट कर सकते जब तक किसानों को उनके फायदे के बारे में इन से कोई नुकसान तो नहीं होने वाला या फिर हमारी एमएसपी जारी रहेगी और हमारी मस्ती परी सारी फसल खरीदी जाएंगी इन सब बातों के सवाल जब तक किसानों कोने में जब तक यह ढीले रहेगा ऐसा भारत की केंद्र सरकार ने बिल्कुल साफ तरीके से समझा दिया है
Makka us maidam ka narsaree yaadav ka bolakar aapane jo kveshchan poochha hai bahut intaresting hai aur isako sangh javaab main aapako dena jaroor aapane hamase poochha ki kya bhaarat ke pradhaanamantree kisaan kaanoon ko vaapas lene ka koee bahaana dhoondh rahe hain taaki kaanoonee vaapas le le jae aur sarakaar ke koee karee karee bhee na hoga is is kveshchan ka javaab main aap ko dhamakee bhaarat ke pradhaanamantree narendr modee jee aisa kuchh bhee nahin soch rahe hain unhonne apanee ophishal anaunsament ko bilkul saaph kiya jaata hai ki kaanoon to vaapas nahin hone vaala philahaal ham ise dedh saal tak ke lie dileet kar sakate hain jisake beech ham bhaarat ke sabhee kisaanon ko teenon kaanoonon ke phaayade ke baare mein bataenge unhen putr ke samajhaane kee koshish karenge aur devata ke baad jab kisaan putr ke hisse se samajh jaenge unake samajh mein aaega to ham isase phir laagoo kar sakate hain lekin jab tak ke jaana chaahie ham laagoo nahin karenge dedh saal tak 2 saal tak ham ise dileet kar sakate lekin hamaara aisa koee bhee man nahin hai ki ham ise vaapas le to is tareeke se unhonne poora javaab de diya hai ki vah kisee kaanoonon ko vaapas to nahin lenge lekin philahaal dileet kar sakate jab tak kisaanon ko unake phaayade ke baare mein in se koee nukasaan to nahin hone vaala ya phir hamaaree emesapee jaaree rahegee aur hamaaree mastee paree saaree phasal khareedee jaengee in sab baaton ke savaal jab tak kisaanon kone mein jab tak yah dheele rahega aisa bhaarat kee kendr sarakaar ne bilkul saaph tareeke se samajha diya hai

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:46
हां इस समय सरकार के लिए एक कृषि बिल गले की हड्डी बन चुकी है और जैसे सांप छछूंदर का खेल होता है सांप छछूंदर को पकड़ ले तो उसको ना निकल सकता है ना बोल सकता है बड़े असमंजस हो जाती है उसके वही हाल में सरकार का है सरकार ने एक बिल्ला करके अपने गले की हड्डी बना लिया है अब उसको समझ में नहीं आ रहा है अभी अगर हम इस बिल को यकायक खत्म कर देता हमारी बदनामी होगी और उसको कोई तरीका ऐसा झूठा जाए जिससे कि सांप भी मर जाए और लाठी भी ना टूटे सरकार ऐसी जुगत में लगी मुझे देखिए कब तक सरकार सफल होती है फिर मन समूह में
Haan is samay sarakaar ke lie ek krshi bil gale kee haddee ban chukee hai aur jaise saamp chhachhoondar ka khel hota hai saamp chhachhoondar ko pakad le to usako na nikal sakata hai na bol sakata hai bade asamanjas ho jaatee hai usake vahee haal mein sarakaar ka hai sarakaar ne ek billa karake apane gale kee haddee bana liya hai ab usako samajh mein nahin aa raha hai abhee agar ham is bil ko yakaayak khatm kar deta hamaaree badanaamee hogee aur usako koee tareeka aisa jhootha jae jisase ki saamp bhee mar jae aur laathee bhee na toote sarakaar aisee jugat mein lagee mujhe dekhie kab tak sarakaar saphal hotee hai phir man samooh mein

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम..भारत के प्रथम किसान प्रधानमंत्री कौन थे
URL copied to clipboard