#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?

Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:34
सारा कपास में क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं तो आपको बता दें बिल्कुल पूजा करने के लिए भी बहुत सारे नियम कायदे कानून सनातन धर्म में बताए गए हैं जिनका अनुसरण व्यक्ति को करना चाहिए जैसे कि छोटी सी बात बताएं कि कभी भी फर्श पर खड़े होकर नंगे पैर आपको पूजा नहीं करनी चाहिए आपके पैरों के नीचे कोई ना कोई आसन जरूर होना चाहिए तो ऐसे तमाम में छोटी-छोटी जानकारी और बातें होती हैं जिनको आपको पूजा करते हुए ध्यान रखना चाहिए हमें शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Saara kapaas mein kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain to aapako bata den bilkul pooja karane ke lie bhee bahut saare niyam kaayade kaanoon sanaatan dharm mein batae gae hain jinaka anusaran vyakti ko karana chaahie jaise ki chhotee see baat bataen ki kabhee bhee pharsh par khade hokar nange pair aapako pooja nahin karanee chaahie aapake pairon ke neeche koee na koee aasan jaroor hona chaahie to aise tamaam mein chhotee-chhotee jaanakaaree aur baaten hotee hain jinako aapako pooja karate hue dhyaan rakhana chaahie hamen shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:18
सिवान तो आज आप का सवाल है कि क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं तो देख मेरे हिसाब से अगर आपको मतलब कभी कदार होता है क्यों देर से उठते हैं या फिर रात में कोई काम पड़ जाता है जिसकी वजह से नींद नहीं खुल पाती है तो ऐसा नहीं कि आपको सुबह 7:00 बजे से मेरे बहुत सारे दोस्त हैं क्या मतलब उनको अगर उसके मम्मी पापा अगर बोलते हैं की पूजा करनी चाहिए और वह लेट उठते हैं या फिर खेलने घूमने चले जाते तो ऐसा नहीं कि वह गलत समय पर नहीं कर पाते पूजा तो दोपहर में या फिर उसके बाद में करते कर ले तेरे हिसाब से अगर ऐसा कोई सलूशन कभी हो जाता है तो आप लेट ही कर सकते हैं लेकिन कुछ नहीं है मैं जैसे की चप्पल पहन कर रही क्योंकि एक तरह का डिस्टेंस वेक्टर और एक तरफ अच्छा चीज नहीं है क्योंकि जब भी हम किसी चीज को बहुत ही दिल से और अच्छे से मानते हैं तो वहां पर चप्पल और फिर ऐसे हंसना खिलखिलाना ध्यान के समय जानबूझकर ऐसे में जबरदस्त शीला है मन नहीं कर रहा है सब करके नहीं करना चाहिए सबसे इंपॉर्टेंट जो मुझे लगता है कि चप्पल पहन चली जाना चाहे तो यह कुछ नहीं है मेरा और टाइम का अगर आपके पास अगर टाइम में इधर-उधर हो जा रहा है तब भी खराब ध्यान करना चाहे पूजा करना चाहे तो जिस समय आपको इतना टाइम मिला आंख खुली उसमें भी आप कर सकते हैं
Sivaan to aaj aap ka savaal hai ki kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain to dekh mere hisaab se agar aapako matalab kabhee kadaar hota hai kyon der se uthate hain ya phir raat mein koee kaam pad jaata hai jisakee vajah se neend nahin khul paatee hai to aisa nahin ki aapako subah 7:00 baje se mere bahut saare dost hain kya matalab unako agar usake mammee paapa agar bolate hain kee pooja karanee chaahie aur vah let uthate hain ya phir khelane ghoomane chale jaate to aisa nahin ki vah galat samay par nahin kar paate pooja to dopahar mein ya phir usake baad mein karate kar le tere hisaab se agar aisa koee salooshan kabhee ho jaata hai to aap let hee kar sakate hain lekin kuchh nahin hai main jaise kee chappal pahan kar rahee kyonki ek tarah ka distens vektar aur ek taraph achchha cheej nahin hai kyonki jab bhee ham kisee cheej ko bahut hee dil se aur achchhe se maanate hain to vahaan par chappal aur phir aise hansana khilakhilaana dhyaan ke samay jaanaboojhakar aise mein jabaradast sheela hai man nahin kar raha hai sab karake nahin karana chaahie sabase importent jo mujhe lagata hai ki chappal pahan chalee jaana chaahe to yah kuchh nahin hai mera aur taim ka agar aapake paas agar taim mein idhar-udhar ho ja raha hai tab bhee kharaab dhyaan karana chaahe pooja karana chaahe to jis samay aapako itana taim mila aankh khulee usamen bhee aap kar sakate hain

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:09
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है पूजा पाठ करने के नियम होते हैं लेकिन एक भगवान की एक ऐसे देवता हैं जिनके आगे कोई भी नियम में कोई भी नहीं थी या कोई भी जगह पर हम उसकी पूजा पाठ कर सकते हैं लेकिन वह देवताओं की पूजा पाठ हमें चानन में अर्थात शुक्ल पक्ष में ही इनकी पूजा पाठ हैं विधिवत यह सब करने होते हैं सभी देवता के बाकी भगवान शिव का चेक अभी भी पूजा पाठ करते हैं रात में करो 4 दिन में एक रोचक कहीं भी करो वह शायद यह काम में रहकर करो सबके सामने करो जिसमें कोई भी नियम नहीं है लेकिन और देवता के नियम है जो कि जो तिथि के अनुसार मृत्यु के अनुसार संविधान के अनुसार ही उनकी पूजा पाठ करना चाहिए ऐसा शुभ माना जाता है
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai pooja paath karane ke niyam hote hain lekin ek bhagavaan kee ek aise devata hain jinake aage koee bhee niyam mein koee bhee nahin thee ya koee bhee jagah par ham usakee pooja paath kar sakate hain lekin vah devataon kee pooja paath hamen chaanan mein arthaat shukl paksh mein hee inakee pooja paath hain vidhivat yah sab karane hote hain sabhee devata ke baakee bhagavaan shiv ka chek abhee bhee pooja paath karate hain raat mein karo 4 din mein ek rochak kaheen bhee karo vah shaayad yah kaam mein rahakar karo sabake saamane karo jisamen koee bhee niyam nahin hai lekin aur devata ke niyam hai jo ki jo tithi ke anusaar mrtyu ke anusaar sanvidhaan ke anusaar hee unakee pooja paath karana chaahie aisa shubh maana jaata hai

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:10
हंसकर दोस्तों आपका प्रश्न है क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं तो हां दोस्तों हमारा मानना है कि पूजा करने के लिए भी नियम होने चाहिए और होते भी दोस्तों पूजा हम इसलिए करते हैं ताकि हमारा मन शांत रहेगा यदि कोई इस दुनिया में ईश्वर है भगवान है तो उसके सहारे हम अपनी मन की शांति को कायम रख पाते हैं यह एक आश्रय भी हो जाता है और एक आधार भी होता है जिसकी वजह से हम मन को शांत रखते हैं तो दोस्तों पूजा करने के लिए हमारे नियम होते हैं जब हमारा मन अशांत रहता है इसका मतलब है कि हम पूजा पाठ में कुछ गलत हो रहा है मन की शांति और जिस भी मनोकामना से पूजा की जा रही है तो उसकी पूर्ति के लिए पूरे विधान से पूजा का किया जाना बहुत ही जरूरी है तो आइए जानते हैं जरूरी नियमों का पालन कुछ जान लेते हैं जैसे किसी भी गणेश जी और भैरव जी को तुलसी नहीं चलानी चाहिए तुलसी का पत्ता बिना स्नान किए नहीं तोड़ना शास्त्रों के अनुसार यदि कोई व्यक्ति बिना नहाए तुलसी पत्ते पत्ते तोड़ लेता है तो उज्जैन में ऐसे पत्ते भगवान द्वारा स्वीकार नहीं किए जाते हैं इसके अलावा तुलसी के पत्तों को 11 दिनों तक बाकी नहीं माना जाता इसकी पत्तियों पर हर रोज जल छिड़क कर पूरे भगवान को अर्पित किया जा सकता है रविवार एकादशी द्वादशी सक्रांति गधा संध्याकाल में तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए सूर्य देव को शंख के जल से अर्घ्य नहीं देना चाहिए दुर्गा अनेक प्रकार की घास रविवार को नहीं छोड़नी चाहिए दोस्तों इसके अलावा बुधवार को बुधवार और रविवार को पीपल के वृक्ष में जल अर्पित नहीं करना चाहिए और दोस्तों प्लास्टिक की बोतलों में या अपवित्र धातु के बर्तन में गंगाजल नहीं रखना चाहिए अपवित्र धातु जैसे एल्युमीनियम और लोहे से बनी बर्तन गंगाजल तांबे के बर्तन में रखना शुभ रहता है वह तो केतकी का फूल शिवलिंग पर अर्पित नहीं चढ़ाना चाहिए और किसी भी पूजा में मनोका की सफलता के लिए दक्षिणा अवश्य चढ़ाने चाहिए तो दोस्तों यह तो कुछ नियम जो की पूजा के लिए बहुत ही जरूरी माने जाते हैं धन्यवाद
Hansakar doston aapaka prashn hai kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain to haan doston hamaara maanana hai ki pooja karane ke lie bhee niyam hone chaahie aur hote bhee doston pooja ham isalie karate hain taaki hamaara man shaant rahega yadi koee is duniya mein eeshvar hai bhagavaan hai to usake sahaare ham apanee man kee shaanti ko kaayam rakh paate hain yah ek aashray bhee ho jaata hai aur ek aadhaar bhee hota hai jisakee vajah se ham man ko shaant rakhate hain to doston pooja karane ke lie hamaare niyam hote hain jab hamaara man ashaant rahata hai isaka matalab hai ki ham pooja paath mein kuchh galat ho raha hai man kee shaanti aur jis bhee manokaamana se pooja kee ja rahee hai to usakee poorti ke lie poore vidhaan se pooja ka kiya jaana bahut hee jarooree hai to aaie jaanate hain jarooree niyamon ka paalan kuchh jaan lete hain jaise kisee bhee ganesh jee aur bhairav jee ko tulasee nahin chalaanee chaahie tulasee ka patta bina snaan kie nahin todana shaastron ke anusaar yadi koee vyakti bina nahae tulasee patte patte tod leta hai to ujjain mein aise patte bhagavaan dvaara sveekaar nahin kie jaate hain isake alaava tulasee ke patton ko 11 dinon tak baakee nahin maana jaata isakee pattiyon par har roj jal chhidak kar poore bhagavaan ko arpit kiya ja sakata hai ravivaar ekaadashee dvaadashee sakraanti gadha sandhyaakaal mein tulasee ke patte nahin todana chaahie soory dev ko shankh ke jal se arghy nahin dena chaahie durga anek prakaar kee ghaas ravivaar ko nahin chhodanee chaahie doston isake alaava budhavaar ko budhavaar aur ravivaar ko peepal ke vrksh mein jal arpit nahin karana chaahie aur doston plaastik kee botalon mein ya apavitr dhaatu ke bartan mein gangaajal nahin rakhana chaahie apavitr dhaatu jaise elyumeeniyam aur lohe se banee bartan gangaajal taambe ke bartan mein rakhana shubh rahata hai vah to ketakee ka phool shivaling par arpit nahin chadhaana chaahie aur kisee bhee pooja mein manoka kee saphalata ke lie dakshina avashy chadhaane chaahie to doston yah to kuchh niyam jo kee pooja ke lie bahut hee jarooree maane jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Ramlal Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramlal जी का जवाब
Students
0:48

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Usha Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Usha जी का जवाब
Housewife
0:29
नकटी पूछा गया कि क्या पूजा करने की भी कोई नियम होते हैं यह बिल्कुल पूजा घर का स्थान हमेशा शकुन में बना होना चाहिए क्योंकि ऐसा कौन में ही देवी देवताओं का वास होता है पूजा घर में देवी देवताओं की मूर्तियां या तस्वीर ज्यादा नहीं होनी चाहिए पूजा करते समय मुंह उत्तर या पूर्व की दिशा में होना चाहिए नहाने से पहले ही भगवान को चढ़ाने के लिए फूल को तोड़ लेना चाहिए धन्यवाद
Nakatee poochha gaya ki kya pooja karane kee bhee koee niyam hote hain yah bilkul pooja ghar ka sthaan hamesha shakun mein bana hona chaahie kyonki aisa kaun mein hee devee devataon ka vaas hota hai pooja ghar mein devee devataon kee moortiyaan ya tasveer jyaada nahin honee chaahie pooja karate samay munh uttar ya poorv kee disha mein hona chaahie nahaane se pahale hee bhagavaan ko chadhaane ke lie phool ko tod lena chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:17
कव्वाली की क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं तो कुछ नियम है जो आपको फॉलो करने चाहिए जैसे विष्णु भगवान को चावल गणेश जी को तुलसी देवी को दूर्वा और सूर्य को बेलपत्र कभी नहीं चढ़ाना चाहिए शिवजी को बेलपत्र विष्णु को तुलसी गणेश जी को हरी दुर्गा सूर्य भगवान को लाल कनेर के फूल और मां दुर्गा को लोंगवा लाल फूल बेहद प्रिय होते हैं पूजा में दीपक सही जगह रखना चाहिए घी का दीपक हमेशा दाएं तरफ और तेल का दीपक बाएं तरफ रखना चाहिए जल 5 घंटा धूप नानी जैसी चीजें हमेशा बाई तरफ रखनी चाहिए भगवान को स्नान कराने के बाद चंदन टीका करते हैं इस दौरान ध्यान रहे कि देवी देवताओं को हमेशा अनामिका हाथ की तीसरी उंगली से तिलक लगाया सिंदूर लगाएं गणेश जी हनुमान जी दुर्गा माता के किसी भी मूर्ति से सिंदूर लेकर माथे पर नहीं लगाना चाहिए भगवान की शादी की तैयारी करते समय एक दीपक से दूसरा दीपक दुबे
Kavvaalee kee kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain to kuchh niyam hai jo aapako pholo karane chaahie jaise vishnu bhagavaan ko chaaval ganesh jee ko tulasee devee ko doorva aur soory ko belapatr kabhee nahin chadhaana chaahie shivajee ko belapatr vishnu ko tulasee ganesh jee ko haree durga soory bhagavaan ko laal kaner ke phool aur maan durga ko longava laal phool behad priy hote hain pooja mein deepak sahee jagah rakhana chaahie ghee ka deepak hamesha daen taraph aur tel ka deepak baen taraph rakhana chaahie jal 5 ghanta dhoop naanee jaisee cheejen hamesha baee taraph rakhanee chaahie bhagavaan ko snaan karaane ke baad chandan teeka karate hain is dauraan dhyaan rahe ki devee devataon ko hamesha anaamika haath kee teesaree ungalee se tilak lagaaya sindoor lagaen ganesh jee hanumaan jee durga maata ke kisee bhee moorti se sindoor lekar maathe par nahin lagaana chaahie bhagavaan kee shaadee kee taiyaaree karate samay ek deepak se doosara deepak dube

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
1:37
सवाल है क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं देखिए दिन की शुरुआत देवी देवताओं की पूजा से ही हो तो मन शांत रहता है हर पूजा के बीच कुछ खास नियम होते हैं जिनका पालन करना जरूरी माना जाता है सनातन परंपरा को मानने वालों के घर में कम से कम 5 देवी-देवताओं यानी भगवान गणेश भगवान शिव देवी दुर्गा भगवान सूर्य एवं भगवान विष्णु की पूजा अवश्य होनी चाहिए इन्हें भगवान के साथ दूंगा और भगवान विष्णु की चार परिक्रमा गणपत की तीन पत्र मा दुर्गा जी की एक भक्त और भगवान शिव की आधी परिक्रमा करनी चाहिए सनातन परंपरा में देवी देवताओं की पूजा करने के तमाम तरह की विधियां बताई गई है मसलन कोई देवी मात्र जल से तो कोई महेश फूल बत्ती से तो कोई दुर्गा से ही प्रसन्न हो जाते हैं वही जब हम अपने आराध्य की साधना आराधना विधि विधान से करते हैं तो हमें कई चीजों की जरूरत पड़ती है पूजा करने के कई नियमों का पालन भी करना पड़ता है जैसे दिन विशेष या फिर सुबह और शाम की पूजा में क्या करना चाहिए आदि बातों का ध्यान रखते हुए शास्त्र विधि के अनुसार ही पूजन करना चाहिए
Savaal hai kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain dekhie din kee shuruaat devee devataon kee pooja se hee ho to man shaant rahata hai har pooja ke beech kuchh khaas niyam hote hain jinaka paalan karana jarooree maana jaata hai sanaatan parampara ko maanane vaalon ke ghar mein kam se kam 5 devee-devataon yaanee bhagavaan ganesh bhagavaan shiv devee durga bhagavaan soory evan bhagavaan vishnu kee pooja avashy honee chaahie inhen bhagavaan ke saath doonga aur bhagavaan vishnu kee chaar parikrama ganapat kee teen patr ma durga jee kee ek bhakt aur bhagavaan shiv kee aadhee parikrama karanee chaahie sanaatan parampara mein devee devataon kee pooja karane ke tamaam tarah kee vidhiyaan bataee gaee hai masalan koee devee maatr jal se to koee mahesh phool battee se to koee durga se hee prasann ho jaate hain vahee jab ham apane aaraadhy kee saadhana aaraadhana vidhi vidhaan se karate hain to hamen kaee cheejon kee jaroorat padatee hai pooja karane ke kaee niyamon ka paalan bhee karana padata hai jaise din vishesh ya phir subah aur shaam kee pooja mein kya karana chaahie aadi baaton ka dhyaan rakhate hue shaastr vidhi ke anusaar hee poojan karana chaahie

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:34
आपका सवाल है कि क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होता है धोखा हिंदू धर्म के अनुसार अगर आप पूजा का स्थान इस आंकड़े में बना होना चाहिए कोई इंसान कोने में ही देवी देवता का वास होता है पूजा घर में देवी देवता की मूर्ति या तस्वीर ज्यादा नहीं होनी चाहिए पूजन करते समय मुंह उत्तर या पूर्व की दिशा में होना चाहिए
Aapaka savaal hai ki kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hota hai dhokha hindoo dharm ke anusaar agar aap pooja ka sthaan is aankade mein bana hona chaahie koee insaan kone mein hee devee devata ka vaas hota hai pooja ghar mein devee devata kee moorti ya tasveer jyaada nahin honee chaahie poojan karate samay munh uttar ya poorv kee disha mein hona chaahie

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
डॉ0 सीता शुक्ला Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डॉ0 जी का जवाब
Unknown
2:48
नमस्कार मित्र आपका प्रश्न है क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं तो हां मित्र अवश्य पूजा करने के नियम होते हैं हम अगर नियम बदल तरीके से पूजा करने में भगवान करने से भगवान बहुत प्रसन्न होते हैं और मेरा मन भी बहुत शांत रहता है वह घर में हमेशा सुख और समृद्धि रहती है पूजा करते समय हमें कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जो कि हमारी धार्मिक पुस्तकों में बताया गया है पूजा का स्थान जो है सबसे पहले ईशान कोण में सर्वश्रेष्ठ माना गया है ईसा पूर्व और उत्तर दिशा में जहां पर मिलती हैं वहीं शाम को कहीं जाती हैं ईशान भगवान शिव का भी नाम है और इसे ऊर्जा का स्रोत भी माना गया है पूजा करते समय मन हमेशा पवित्र रखना चाहिए और बड़े-बड़े लोगों और गुरु और देवी-देवताओं का हमें कभी भी अनादर नहीं करना चाहिए पूजा करते समय मुंह उत्तर या पूर्व की दिशा में होना चाहिए पूजा घर में देवी देवताओं की बहुत अधिक मूर्ति और तस्वीरें यह सब नहीं होना चाहिए भगवान श्री गणेश और भगवान शिव और भगवान भैरव जी को की पूजा में तुलसी दल कभी भी हमें नहीं चढ़ाना चाहिए शास्त्रों में कहा जाता है कि पूजा करने के लिए हमें फूल भी हमें नहाने से पहले नहीं तोड़ना चाहिए रविवार एकादशी द्वादशी संक्रांति और संध्या काल में भी हमें तुलसी के पत्ते कभी नहीं तोड़ने चाहिए तुलसी के पत्ते भी हमें बिना नहाए कभी नहीं तोड़ने चाहिए क्योंकि उनको भगवान स्वीकार नहीं करते हैं और यह तुलसीदल जो होता है वह 11 दिनों तक बात ही नहीं माना जाता है हर दिन हम इस पर जल्द छिड़ककर हम भगवान को अर्पित कर सकते हैं सूर्य सूर्य गणेश दुर्गा शिव और विष्णु यह पंचदेव कहलाते हैं हमें प्रतिदिन जब भी हम किसी कोई भी शुभ कार्य करते हैं या फिर दिन भी हम जो पूर्व जो भी पूजा करते हैं उनका ध्यान देने में पांचो देवताओं का ध्यान अवश्य रखना चाहिए और तू लक्ष्मी की कृपा और समृद्धि हमें प्राप्त होती है माता दुर्गा देवी को दूर्वा कभी नहीं चलानी चाहिए विशेष रूप से गणेश जी को चढ़ाने चाहिए और दूर्वा में रविवार को कभी नहीं छोड़नी चाहिए मैं मंदिर में सुबह और शाम के समय दीपक अवश्य लाना चाहिए हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए हमें दीपक से दीपक कभी नहीं जलाना चाहिए प्लास्टिक की बोतल में मैं कभी भी गंगाजल नहीं रखना चाहिए सबसे शुभ होता है थावे के बर्तन में रखना सूर्य देवता को संघ के जल से कभी आगे नहीं देना चाहिए और केतकी के फूल भगवान शिव जी को नहीं चढ़ाना चाहिए कमल का फूल लक्ष्मी जी को अर्पित करना चाहिए किसी भी यह मनोकामना करने के लिए हमें दक्षिणा अवश्य चढ़ाने चाहिए जय हिंद जय हिंद नमस्कार
Namaskaar mitr aapaka prashn hai kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain to haan mitr avashy pooja karane ke niyam hote hain ham agar niyam badal tareeke se pooja karane mein bhagavaan karane se bhagavaan bahut prasann hote hain aur mera man bhee bahut shaant rahata hai vah ghar mein hamesha sukh aur samrddhi rahatee hai pooja karate samay hamen kuchh baaton ka vishesh dhyaan rakhana chaahie jo ki hamaaree dhaarmik pustakon mein bataaya gaya hai pooja ka sthaan jo hai sabase pahale eeshaan kon mein sarvashreshth maana gaya hai eesa poorv aur uttar disha mein jahaan par milatee hain vaheen shaam ko kaheen jaatee hain eeshaan bhagavaan shiv ka bhee naam hai aur ise oorja ka srot bhee maana gaya hai pooja karate samay man hamesha pavitr rakhana chaahie aur bade-bade logon aur guru aur devee-devataon ka hamen kabhee bhee anaadar nahin karana chaahie pooja karate samay munh uttar ya poorv kee disha mein hona chaahie pooja ghar mein devee devataon kee bahut adhik moorti aur tasveeren yah sab nahin hona chaahie bhagavaan shree ganesh aur bhagavaan shiv aur bhagavaan bhairav jee ko kee pooja mein tulasee dal kabhee bhee hamen nahin chadhaana chaahie shaastron mein kaha jaata hai ki pooja karane ke lie hamen phool bhee hamen nahaane se pahale nahin todana chaahie ravivaar ekaadashee dvaadashee sankraanti aur sandhya kaal mein bhee hamen tulasee ke patte kabhee nahin todane chaahie tulasee ke patte bhee hamen bina nahae kabhee nahin todane chaahie kyonki unako bhagavaan sveekaar nahin karate hain aur yah tulaseedal jo hota hai vah 11 dinon tak baat hee nahin maana jaata hai har din ham is par jald chhidakakar ham bhagavaan ko arpit kar sakate hain soory soory ganesh durga shiv aur vishnu yah panchadev kahalaate hain hamen pratidin jab bhee ham kisee koee bhee shubh kaary karate hain ya phir din bhee ham jo poorv jo bhee pooja karate hain unaka dhyaan dene mein paancho devataon ka dhyaan avashy rakhana chaahie aur too lakshmee kee krpa aur samrddhi hamen praapt hotee hai maata durga devee ko doorva kabhee nahin chalaanee chaahie vishesh roop se ganesh jee ko chadhaane chaahie aur doorva mein ravivaar ko kabhee nahin chhodanee chaahie main mandir mein subah aur shaam ke samay deepak avashy laana chaahie hamesha yah dhyaan rakhana chaahie hamen deepak se deepak kabhee nahin jalaana chaahie plaastik kee botal mein main kabhee bhee gangaajal nahin rakhana chaahie sabase shubh hota hai thaave ke bartan mein rakhana soory devata ko sangh ke jal se kabhee aage nahin dena chaahie aur ketakee ke phool bhagavaan shiv jee ko nahin chadhaana chaahie kamal ka phool lakshmee jee ko arpit karana chaahie kisee bhee yah manokaamana karane ke lie hamen dakshina avashy chadhaane chaahie jay hind jay hind namaskaar

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:29
आपका प्रश्न है क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं दिखे जी हां बिल्कुल और शिव जी गणेश जी और भेरू जी को तुलसी नहीं चलानी चाहिए और तुलसी का पत्ता बिना स्नान किए नहीं तोड़ना चाहिए और तुलसी के पत्ते को 11 दिनों तक बात ही नहीं माना जाता है रविवार एकादशी द्वादशी और संक्रांति तथा संधि काल में तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए
Aapaka prashn hai kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain dikhe jee haan bilkul aur shiv jee ganesh jee aur bheroo jee ko tulasee nahin chalaanee chaahie aur tulasee ka patta bina snaan kie nahin todana chaahie aur tulasee ke patte ko 11 dinon tak baat hee nahin maana jaata hai ravivaar ekaadashee dvaadashee aur sankraanti tatha sandhi kaal mein tulasee ke patte nahin todana chaahie

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:28
राष्ट्रवाद प्लान के अनुसार जब कोई नहीं होता है कभी भी पढ़े लिखे नहीं हो क्या
Raashtravaad plaan ke anusaar jab koee nahin hota hai kabhee bhee padhe likhe nahin ho kya

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:02
आपका प्रश्न है क्या पूजा करने के भी कोई नियम होते हैं कि बिल्कुल नियम होते हैं पूजा सत्यता पर आधारित होती है पूजा धर्म पर आधारित होती है पूजा ज्ञान पर आधारित होती है और पूजा विश्वास पर आधारित होती है अगर आपके अंदर ईश्वर पर भरोसा है विश्वास है ईश्वर आपके अंदर है आत्मा जो है एक ईश्वर कांत सहाय ईश्वर अंश जीव अविनाशी चेतन अमल सहज सुख राशि अगर आप चाहते हैं कि जिस प्रभु ने आपको जीवन में विश्वास है दी है और आत्मा के रूप में आपके अंदर विद्यमान है उसको आप हमेशा याद रखिए और दूसरी चीज सबसे बड़ी चीज जो ईश्वर है जो पैदा करता है आप को भोजन की व्यवस्था करता है संसार में चलने फिरने लायक आप को बनाए रखता वह ईश्वर है और वह ईश्वर हैं आपके माता पिता माता पिता आप के प्रथम ईश्वर हैं इसके बाद दूसरे ईश्वर है जो अलौकिक है उनकी दोनों इन दोनों के नियमों का यह एक कि श्रद्धा और भक्ति से इनकी सेवा कीजिए वही सबसे बड़ा नियम है नियम को कठिन मत बनाइए कठिन ता के कारण बहुत सारी समस्याएं जाती है
Aapaka prashn hai kya pooja karane ke bhee koee niyam hote hain ki bilkul niyam hote hain pooja satyata par aadhaarit hotee hai pooja dharm par aadhaarit hotee hai pooja gyaan par aadhaarit hotee hai aur pooja vishvaas par aadhaarit hotee hai agar aapake andar eeshvar par bharosa hai vishvaas hai eeshvar aapake andar hai aatma jo hai ek eeshvar kaant sahaay eeshvar ansh jeev avinaashee chetan amal sahaj sukh raashi agar aap chaahate hain ki jis prabhu ne aapako jeevan mein vishvaas hai dee hai aur aatma ke roop mein aapake andar vidyamaan hai usako aap hamesha yaad rakhie aur doosaree cheej sabase badee cheej jo eeshvar hai jo paida karata hai aap ko bhojan kee vyavastha karata hai sansaar mein chalane phirane laayak aap ko banae rakhata vah eeshvar hai aur vah eeshvar hain aapake maata pita maata pita aap ke pratham eeshvar hain isake baad doosare eeshvar hai jo alaukik hai unakee donon in donon ke niyamon ka yah ek ki shraddha aur bhakti se inakee seva keejie vahee sabase bada niyam hai niyam ko kathin mat banaie kathin ta ke kaaran bahut saaree samasyaen jaatee hai

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:36
हेलो दोस्तों आप का सवाल है क्या पूजा करने के लिए कोई नियम होते हैं जी हार पूजा करने के कुछ नियम होते पूजा घर का स्थान हमेशा ईशान कोण में बना हुआ होना चाहिए क्योंकि जब भी आप ईशान कोण में ही देवी देवताओं को बाद सोता है और पूजा घर में देवी देवताओं की मूर्तियों या तस्वीर जायदा नहीं होनी चाहिए पूजन तथा समय उत्तर या पूर्व दिशा में होना अवश्य के आने से पहले ही भगवान को चढ़ावा चढ़ाने के लिए फूल को तोड़ लेना चाहिए धनी
Helo doston aap ka savaal hai kya pooja karane ke lie koee niyam hote hain jee haar pooja karane ke kuchh niyam hote pooja ghar ka sthaan hamesha eeshaan kon mein bana hua hona chaahie kyonki jab bhee aap eeshaan kon mein hee devee devataon ko baad sota hai aur pooja ghar mein devee devataon kee moortiyon ya tasveer jaayada nahin honee chaahie poojan tatha samay uttar ya poorv disha mein hona avashy ke aane se pahale hee bhagavaan ko chadhaava chadhaane ke lie phool ko tod lena chaahie dhanee

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:05
सवाल पूछा गया है कि क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं या नहीं तो बहुत ही अच्छा प्रश्न है और इसके जवाब में मैं आपको बता दूं की पूजा करने के लिए जो नियम होते हैं जो आपने सुने होंगे वह सेकेंडरी हैं मतलब इतने ज्यादा प्राइमरी नहीं होते हैं परंतु जो 2 नियम सबसे मेन है पूजा करने के लिए तो वह 2 नियम में आपको बता देता हूं बाकी जो जितने भी गेम है वह सब बाद में आते हैं तो जो 2 नियम है वह पहला यह है कि आपको अगर आप पूजा कर रहे हैं आप जिस तरीके से पूजा कर रहे हैं उसमें आप लगे रहे हर रोज एक भी दिन मिस ना हो भले तूफान हो आंधी हो बारिश हो या सर्दी हो ठंडी हो या फूल पूर्ण रूप से गर्मी तो उसमें आप लगे रहें यह सबसे बड़ा नियम है और दूसरा नियम यह है कि आपकी श्रद्धा होनी चाहिए बिना श्रद्धा कि आप पूजा नहीं कर सकते इसलिए आप लगे रहे और श्रद्धा से लगे रहे यह दो नियम सबसे मेन है बाकी जितने भी नियम होते हैं जो आपने सुने होंगे या इस तरीके से हाथ घुमा रहा है इस तरीके से घंटी बजानी है वह सब की सब सेकेंडरी हैं और जैसे ही आप को पूजा करते हैं शुरुआत करते हैं लगे रहते हैं तो वह अपने आप चेंज होता रहेगा यकीन मानिए कि अगर आप लगे रहेंगे अगर आप श्रद्धा से लगे रहेंगे तो बाकी जो नियम है वह अपने आप ठीक हो जाएंगे अपने आप ही आपको उसको अलग से ठीक करने की जरूरत नहीं पड़ेगी उम्मीद करता हूं मेरा जवाब आपको पसंद आया होगा अगर हां अगर मेरा ही जवाब आपको संतुष्टि दे दो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ेगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain ya nahin to bahut hee achchha prashn hai aur isake javaab mein main aapako bata doon kee pooja karane ke lie jo niyam hote hain jo aapane sune honge vah sekendaree hain matalab itane jyaada praimaree nahin hote hain parantu jo 2 niyam sabase men hai pooja karane ke lie to vah 2 niyam mein aapako bata deta hoon baakee jo jitane bhee gem hai vah sab baad mein aate hain to jo 2 niyam hai vah pahala yah hai ki aapako agar aap pooja kar rahe hain aap jis tareeke se pooja kar rahe hain usamen aap lage rahe har roj ek bhee din mis na ho bhale toophaan ho aandhee ho baarish ho ya sardee ho thandee ho ya phool poorn roop se garmee to usamen aap lage rahen yah sabase bada niyam hai aur doosara niyam yah hai ki aapakee shraddha honee chaahie bina shraddha ki aap pooja nahin kar sakate isalie aap lage rahe aur shraddha se lage rahe yah do niyam sabase men hai baakee jitane bhee niyam hote hain jo aapane sune honge ya is tareeke se haath ghuma raha hai is tareeke se ghantee bajaanee hai vah sab kee sab sekendaree hain aur jaise hee aap ko pooja karate hain shuruaat karate hain lage rahate hain to vah apane aap chenj hota rahega yakeen maanie ki agar aap lage rahenge agar aap shraddha se lage rahenge to baakee jo niyam hai vah apane aap theek ho jaenge apane aap hee aapako usako alag se theek karane kee jaroorat nahin padegee ummeed karata hoon mera javaab aapako pasand aaya hoga agar haan agar mera hee javaab aapako santushti de do apane agale savaal ke saath mujhase jaroor judega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:43
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं वैसे पूजा करने का कोई नियम तो होता नहीं है बट जो है पहले के पूर्वजो हैं जिस नियम को फॉलो करते थे आज भी उनके जो हैं पीढ़ी दर पीढ़ी जो है वही फॉलो किया जाता है ऐसा देखा जाता है क्योंकि कई लोग जो होते हैं पूजा करने के अलग अलग तरीके अपनाते हैं कोई किसी देवता की पूजा करता है तो कोई किसी इसके अलावा देखा जाए तो हमारे देश में जो है कई धर्म में किसके धर्म के अनुसार जो पूजा भी अलग-अलग होती हैं तो इस मामले में जो है कोई तरीका नखास नहीं होते हैं बट हम लोग तुम नियम के द्वारा जो पूजा करना जाए हमें अच्छा लगता है
Kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain vaise pooja karane ka koee niyam to hota nahin hai bat jo hai pahale ke poorvajo hain jis niyam ko pholo karate the aaj bhee unake jo hain peedhee dar peedhee jo hai vahee pholo kiya jaata hai aisa dekha jaata hai kyonki kaee log jo hote hain pooja karane ke alag alag tareeke apanaate hain koee kisee devata kee pooja karata hai to koee kisee isake alaava dekha jae to hamaare desh mein jo hai kaee dharm mein kisake dharm ke anusaar jo pooja bhee alag-alag hotee hain to is maamale mein jo hai koee tareeka nakhaas nahin hote hain bat ham log tum niyam ke dvaara jo pooja karana jae hamen achchha lagata hai

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:39
पंतजलि मैंने का पतन देखते-देखते पूजा करने के लिए भी कोई नहीं होता आपको पूजा आप यहां पर फोन नहीं करना चाहती है इस में आने वाली जल्दी फोन करना चाहिए था आज शाम को अपने हाथ में बांधने का तरीका समझाता हूं संध्या का समय रहते इस समय माना जाता है और विनय नायक नायक तहसीलदार नेम और मोती रनिंग कैसे किया जाएगा
Pantajali mainne ka patan dekhate-dekhate pooja karane ke lie bhee koee nahin hota aapako pooja aap yahaan par phon nahin karana chaahatee hai is mein aane vaalee jaldee phon karana chaahie tha aaj shaam ko apane haath mein baandhane ka tareeka samajhaata hoon sandhya ka samay rahate is samay maana jaata hai aur vinay naayak naayak tahaseeladaar nem aur motee raning kaise kiya jaega

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:41
जेंट्स प्रश्न है क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि ऐसे तो पंडित जी के पास आ जाइएगा तो आपके ऊपर कितने सारे नियम बताएंगे ऐसे पूजा करो वैसे पूजा करो पर जो मन और श्रद्धा से भगवान को चाहता है इसके लिए कोई नियम नहीं है कोई बंधन नहीं है घर पर भी मैं अपने मन में भगवान का नाम ले सकता है और कोई भी नियम ऐसा नहीं है पूजा करनी है तो अपने मन से भी की जा सकती है अपने मन की श्रद्धा के लिए पूजा कर किया जाता है धन्यवाद
Jents prashn hai kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hota hai to main aapako bataana chaahoonga ki aise to pandit jee ke paas aa jaiega to aapake oopar kitane saare niyam bataenge aise pooja karo vaise pooja karo par jo man aur shraddha se bhagavaan ko chaahata hai isake lie koee niyam nahin hai koee bandhan nahin hai ghar par bhee main apane man mein bhagavaan ka naam le sakata hai aur koee bhee niyam aisa nahin hai pooja karanee hai to apane man se bhee kee ja sakatee hai apane man kee shraddha ke lie pooja kar kiya jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:32
नमस्कार साथियों आपका प्रसन्न है क्या पूजा करने के लिए कोई नियम होते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर यह है पूजा करते समय हमें मुख प्रांत अकाल पूर्व दिशा की ओर और एवं शाम के समय पश्चिम की तरफ होना चाहिए पूजा में हमेशा पहले या सफेद धुले कपड़े का प्रयोग करना चाहिए धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar saathiyon aapaka prasann hai kya pooja karane ke lie koee niyam hote hain to doston aapake savaal ka uttar yah hai pooja karate samay hamen mukh praant akaal poorv disha kee or aur evan shaam ke samay pashchim kee taraph hona chaahie pooja mein hamesha pahale ya saphed dhule kapade ka prayog karana chaahie dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:18
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं वैसे अध्यात्म की दृष्टि से देखा जाए कर्मकांड की दृष्टि से देखा जाए तू कर्मकांड की कोई आवश्यकता नहीं होती है यह पुरोहित वर्ग ने अपने फायदे के लिए बनाई और वो उसे शिवा समाज का शोषण करते हुए सैकड़ों साल से चले आ रहे तो पूजा और बाकी सब चीजें होती है उसके रिलेटेड और नियम भी होते हैं उनकी कोई भी जरूरत नहीं है पूजा एक समर्पण है स्पीच इन पर हम विश्वास करते हैं या भगवान पर विश्वास करते हैं तो उसके प्रति हम समापन करते हैं उस पर निष्ठा व्यक्त करते हैं अगर मन से यह समर्पण हो जाए तो बाकी कोई चीजों की जरूरत नहीं होती है हमारे मन को मालूम होता है कि हम सच में किसी की भक्ति किसकी पूजा किसी को पूजा योग्य समझते हैं कि नहीं समझते हैं यह किस तरह से हमारे मन को मालूम होता है और अगर आप हमारी मन को मालूम हो जाता है और मन में बैठ जाता है और मन से भक्त उत्पन्न होती हो या पूजा करने की भावना उत्पन्न होती हो तो उसके आगे कोई नियम कोई कर्मकांड की कोई जरूरत नहीं है और सामाजिक और आर्थिक रूप से देखा जाए तो ऐसे नियम और कर्मकांड में लोगों को बरसों से दुनिया के सारे धर्म बंद कर रखे गुलाम बनाया मानसिक रूप से उनका शोषण करते हुए के लिए आ रही है और उसके खिलाफ विरोधी आंदोलनों की अपनी कई महामानव हो गए महापुरुष जिन्होंने अपना पूरा जीवन में ऐसे शोषण के खिलाफ लड़ने में लगा दिया और उसे परिणाम भी डिटेल पूरी दुनिया भर में शोषण कम होता गया है उसको देखते हुए हम यह कह सकते हैं कि जो संस्थापक धर्म होता है वैसे नियम और ऐसे ही कम कारणों से कारणों का निर्माण करता है क्योंकि वह धर्म नहीं रहा होता है और शोषण करने का एक करने की एक सिस्टमैटिक अरे मीट होती है चलिए अच्छा होता है और उसमें सच्चाई को दवाई जाता है तो मन ही सब कुछ है मन ने चाहा तो कोई भी धर्म हो सकता है अपने मन में और मन ने चाहा तो कोई व्यक्ति भगवान भी हो सकता है अपने मन में सारे मन के खेल है और जितनी खोपड़ी है दुनिया में उसने मन है और हर एक मन ने अपनी अपना एक जगत निर्माण निर्माण किया होता है उसमें वह जीता एक जगह दूसरे के समान बिल्कुल नहीं होता है तो पूजा के लिए भी इसी नियमों की जरूरत नहीं है ऐसा मुझे लगता है धन्यवाद
Kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain vaise adhyaatm kee drshti se dekha jae karmakaand kee drshti se dekha jae too karmakaand kee koee aavashyakata nahin hotee hai yah purohit varg ne apane phaayade ke lie banaee aur vo use shiva samaaj ka shoshan karate hue saikadon saal se chale aa rahe to pooja aur baakee sab cheejen hotee hai usake rileted aur niyam bhee hote hain unakee koee bhee jaroorat nahin hai pooja ek samarpan hai speech in par ham vishvaas karate hain ya bhagavaan par vishvaas karate hain to usake prati ham samaapan karate hain us par nishtha vyakt karate hain agar man se yah samarpan ho jae to baakee koee cheejon kee jaroorat nahin hotee hai hamaare man ko maaloom hota hai ki ham sach mein kisee kee bhakti kisakee pooja kisee ko pooja yogy samajhate hain ki nahin samajhate hain yah kis tarah se hamaare man ko maaloom hota hai aur agar aap hamaaree man ko maaloom ho jaata hai aur man mein baith jaata hai aur man se bhakt utpann hotee ho ya pooja karane kee bhaavana utpann hotee ho to usake aage koee niyam koee karmakaand kee koee jaroorat nahin hai aur saamaajik aur aarthik roop se dekha jae to aise niyam aur karmakaand mein logon ko barason se duniya ke saare dharm band kar rakhe gulaam banaaya maanasik roop se unaka shoshan karate hue ke lie aa rahee hai aur usake khilaaph virodhee aandolanon kee apanee kaee mahaamaanav ho gae mahaapurush jinhonne apana poora jeevan mein aise shoshan ke khilaaph ladane mein laga diya aur use parinaam bhee ditel pooree duniya bhar mein shoshan kam hota gaya hai usako dekhate hue ham yah kah sakate hain ki jo sansthaapak dharm hota hai vaise niyam aur aise hee kam kaaranon se kaaranon ka nirmaan karata hai kyonki vah dharm nahin raha hota hai aur shoshan karane ka ek karane kee ek sistamaitik are meet hotee hai chalie achchha hota hai aur usamen sachchaee ko davaee jaata hai to man hee sab kuchh hai man ne chaaha to koee bhee dharm ho sakata hai apane man mein aur man ne chaaha to koee vyakti bhagavaan bhee ho sakata hai apane man mein saare man ke khel hai aur jitanee khopadee hai duniya mein usane man hai aur har ek man ne apanee apana ek jagat nirmaan nirmaan kiya hota hai usamen vah jeeta ek jagah doosare ke samaan bilkul nahin hota hai to pooja ke lie bhee isee niyamon kee jaroorat nahin hai aisa mujhe lagata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
जब भी हम कोई क्रिया करते हैं चाहे वह फिजिकली हो चाहे वह मेंटली तौर पर शारीरिक या मानसिक तौर पर उसका कोई ना कोई प्रभाव होता है क्रिया का हमेशा प्रभाव होता है अगर आप कोई भी क्रिया सही ढंग से कर रहे हैं तो उसका आपको सही परिणाम मिलेगा जाए आपको शारीरिक व्यायाम से रिलेटेड कोई भी अगर आप टाइम टू टाइम फिटनेस का ख्याल रखें फिटनेस एक्सरसाइज करें योगा करें या कुछ भी तो इससे आपके ऊपर शरीर पर सही प्रभाव पड़ेगा लेकिन अगर उसको आप गलत तरीके से करें बेटाइम कर रहे हैं तो सब दूर पर प्रभाव भी देखने को मिलता है इसी प्रकार से जैसा कि आपने कहा कि पूजा पद्धति करने के लिए कोई नियम होता बिल्कुल जी हां इसका बहुत ज्यादा नियम अनुशासन करना पड़ता है ऐसा नहीं है कि आप करो तो बिल्कुल नियम के साथ करो तो ही होगा इसका बेनिफिट मिलेगा लेकिन अगर आप नियम के साथ करते तो बहुत अच्छी बात है अगर आप एक्सरसाइज करते हो आप और हल्की-फुल्की अगर समय नहीं होता आप थोड़ा बहुत एक्सरसाइज कर ले तो काम कर ले तो एवं आपका ले तो तो उससे भी बॉडी को अच्छा खासा रिलीफ मिल जाता आपकी बॉडी बैलेंस में रहती है लेकिन अगर आप फिटनेस को पूरी तरह से अगर आप अचीव करना चाहता अपनी अच्छी सेहत अच्छा हेल्पर अच्छा हेल्प अचीव करना चाहते हो एक आकर्षण बॉडी हेल्थ चाहते हो तो उसके लिए आपको प्रॉपर तरीके से टाइमिंग देनी पड़ेगी प्रॉपर तरीके से डाइट लेनी पड़ेगी हर एक चीज नियम के अनुसार करना अगर आप नियम से भटको गे तो कहीं ना कहीं बोला 25 नहीं कर पाओगे इसी तरह से पूजा करना वैसे भी कर सकते हो कोई बात नहीं कोई हर्ज नहीं है करनी भी चाहिए पूजा थोड़ा समय मिले आजकल के जीवन में इतना व्यस्त हो गया व्यक्ति समय नहीं दे पाता और कुछ नहीं है बस थोड़ा सा समय निकाल ना होता अपनी मानसिकता उन सब ने बना ली है कि हमारे पास समय नहीं है कि समय सबके पास होता है ऐसा नहीं है आपका नजरिया थोड़ा सा परिवर्तित करना पड़ेगा और बात है पूजा पद्धति की तो उसको मैं यही रे कमेंट करूंगा क्या पूरे नियम के साथ अनुशासन के साथ करें क्योंकि यह चीजें हमारे ही घर परिवार हमारे मॉल हमारे अंदर ही संस्कार बनाती है जैसा हम करते हैं इन चीजों को वैसे ही हमारे परिवार में हमारे छोटे बच्चे होंगे आप हमारे बड़े बुजुर्ग होंगे और हमारे साथ उनका संबंध होगा रिलेशन में बहुत अच्छी पॉजिटिव वाइब्रेशन आती है जिससे व्यक्ति पॉजिटिव तौर पर अगर घर से ही अच्छी सकारात्मक ऊर्जा बनती है तो फिर वह हर चीज अचीव कर सकता है बोल हर चीज हर एक गोला जीवन का लक्ष्य को प्राप्त कर सकता लेकिन घर से ही अगर वह सही तरीके से कितना सुबह का उठना जिस तरह से उतारकर अपील करते हैं सुबह उठकर सही तरीके होते हैं तब तो पूरा दिन अच्छा जाता वहीं अगर आप सुबह ही अपनी खराब कर लेते तो आपका पूरा दिन खराब जाता है तो यही है पूजा पद्धति का अगर आप सही तरीके से नियम आचरण करेंगे तो उसका आपको पूरा प्रभाव देखने को मिले कर्पूरी सकारात्मक ऊर्जा और आपको उसकी प्राप्त होगी पोस्ट आप सभी को बहुत अच्छा लगा आप जरूर इसे लाइक करें कमेंट के माध्यम से अपनी राय जरूर रखें
Jab bhee ham koee kriya karate hain chaahe vah phijikalee ho chaahe vah mentalee taur par shaareerik ya maanasik taur par usaka koee na koee prabhaav hota hai kriya ka hamesha prabhaav hota hai agar aap koee bhee kriya sahee dhang se kar rahe hain to usaka aapako sahee parinaam milega jae aapako shaareerik vyaayaam se rileted koee bhee agar aap taim too taim phitanes ka khyaal rakhen phitanes eksarasaij karen yoga karen ya kuchh bhee to isase aapake oopar shareer par sahee prabhaav padega lekin agar usako aap galat tareeke se karen betaim kar rahe hain to sab door par prabhaav bhee dekhane ko milata hai isee prakaar se jaisa ki aapane kaha ki pooja paddhati karane ke lie koee niyam hota bilkul jee haan isaka bahut jyaada niyam anushaasan karana padata hai aisa nahin hai ki aap karo to bilkul niyam ke saath karo to hee hoga isaka beniphit milega lekin agar aap niyam ke saath karate to bahut achchhee baat hai agar aap eksarasaij karate ho aap aur halkee-phulkee agar samay nahin hota aap thoda bahut eksarasaij kar le to kaam kar le to evan aapaka le to to usase bhee bodee ko achchha khaasa rileeph mil jaata aapakee bodee bailens mein rahatee hai lekin agar aap phitanes ko pooree tarah se agar aap acheev karana chaahata apanee achchhee sehat achchha helpar achchha help acheev karana chaahate ho ek aakarshan bodee helth chaahate ho to usake lie aapako propar tareeke se taiming denee padegee propar tareeke se dait lenee padegee har ek cheej niyam ke anusaar karana agar aap niyam se bhatako ge to kaheen na kaheen bola 25 nahin kar paoge isee tarah se pooja karana vaise bhee kar sakate ho koee baat nahin koee harj nahin hai karanee bhee chaahie pooja thoda samay mile aajakal ke jeevan mein itana vyast ho gaya vyakti samay nahin de paata aur kuchh nahin hai bas thoda sa samay nikaal na hota apanee maanasikata un sab ne bana lee hai ki hamaare paas samay nahin hai ki samay sabake paas hota hai aisa nahin hai aapaka najariya thoda sa parivartit karana padega aur baat hai pooja paddhati kee to usako main yahee re kament karoonga kya poore niyam ke saath anushaasan ke saath karen kyonki yah cheejen hamaare hee ghar parivaar hamaare mol hamaare andar hee sanskaar banaatee hai jaisa ham karate hain in cheejon ko vaise hee hamaare parivaar mein hamaare chhote bachche honge aap hamaare bade bujurg honge aur hamaare saath unaka sambandh hoga rileshan mein bahut achchhee pojitiv vaibreshan aatee hai jisase vyakti pojitiv taur par agar ghar se hee achchhee sakaaraatmak oorja banatee hai to phir vah har cheej acheev kar sakata hai bol har cheej har ek gola jeevan ka lakshy ko praapt kar sakata lekin ghar se hee agar vah sahee tareeke se kitana subah ka uthana jis tarah se utaarakar apeel karate hain subah uthakar sahee tareeke hote hain tab to poora din achchha jaata vaheen agar aap subah hee apanee kharaab kar lete to aapaka poora din kharaab jaata hai to yahee hai pooja paddhati ka agar aap sahee tareeke se niyam aacharan karenge to usaka aapako poora prabhaav dekhane ko mile karpooree sakaaraatmak oorja aur aapako usakee praapt hogee post aap sabhee ko bahut achchha laga aap jaroor ise laik karen kament ke maadhyam se apanee raay jaroor rakhen

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Akash Chaudhary  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Motivational speaker
1:40
नमस्कार आपका सवाल है क्या पूजा करने के लिए कोई नियम होता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि हिंदू धर्म में अपने रीति-रिवाजों अनुसार पूजा की जाती है मुस्लिम धर्म में अपने रीति रिवाज अनुसार पूजा की जाती है अलग-अलग धर्म में अपने अपने धार्मिक विचारों के आधार पर और धार्मिक पुस्तकों के आधार पर पूजा की जाती है बात करते हैं पूजा करने का कोई नहीं होता है या नहीं तो आपने देखा होगा कि आप अपने घर पर आपके घर पर नल लगा हुआ है तो आप उसका पानी पीते हैं आप कहीं बाहर रिलेशन में जाते हैं रिश्तेदारी में जाते हैं रिलेटिव के पास जाते हैं तो आप वहां भी वही पानी पीते हैं जो आपके घर में पानी का कोई ढंग बदल गया नहीं बदला तो यही है परमात्मा एक है निराकार है और वह बहुत ही शक्तिशाली है वह सब जगह एक जैसा है और सब के लिए एक जैसा काम करता है क्योंकि अब अलग-अलग विशेषज्ञ अलग-अलग अपनी बातें कह रहे हैं तो उन के अकॉर्डिंग अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग मान्यताओं के आधार पर पूजा के नियम बना दिए थे नंबर एक सांस्कृतिक पूजा के नियम या वैदिक पूजा के नियम या आर्य पूजा के नियम या मुस्लिम पूजा पद्धति बहुत सारी हैं अलग अलग अलग अलग जगहों पर अलग-अलग नाम से जाना जाता है धन्यवाद अगर आपको मेरा जवाब अच्छा लगा हो तो लाइक और सब्सक्राइब जरूर करें
Namaskaar aapaka savaal hai kya pooja karane ke lie koee niyam hota hai to main aapako bataana chaahoonga ki hindoo dharm mein apane reeti-rivaajon anusaar pooja kee jaatee hai muslim dharm mein apane reeti rivaaj anusaar pooja kee jaatee hai alag-alag dharm mein apane apane dhaarmik vichaaron ke aadhaar par aur dhaarmik pustakon ke aadhaar par pooja kee jaatee hai baat karate hain pooja karane ka koee nahin hota hai ya nahin to aapane dekha hoga ki aap apane ghar par aapake ghar par nal laga hua hai to aap usaka paanee peete hain aap kaheen baahar rileshan mein jaate hain rishtedaaree mein jaate hain riletiv ke paas jaate hain to aap vahaan bhee vahee paanee peete hain jo aapake ghar mein paanee ka koee dhang badal gaya nahin badala to yahee hai paramaatma ek hai niraakaar hai aur vah bahut hee shaktishaalee hai vah sab jagah ek jaisa hai aur sab ke lie ek jaisa kaam karata hai kyonki ab alag-alag visheshagy alag-alag apanee baaten kah rahe hain to un ke akording alag-alag jagahon par alag-alag maanyataon ke aadhaar par pooja ke niyam bana die the nambar ek saanskrtik pooja ke niyam ya vaidik pooja ke niyam ya aary pooja ke niyam ya muslim pooja paddhati bahut saaree hain alag alag alag alag jagahon par alag-alag naam se jaana jaata hai dhanyavaad agar aapako mera javaab achchha laga ho to laik aur sabsakraib jaroor karen

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Om Prakash Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Om जी का जवाब
Now in home
0:49
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं अपने तो जूता चप्पल पहनकर आएं और साथ ही साथ आप नहा कर तब पूजा करें और अगर पूजा कर ही रहे हैं तो अपने मन से करें पूजा ऐसा ही नहीं कि सिर्फ पूजा करने और आप एक बात और बता दूंगी अगर आपको अगरबत्ती भी नहीं कुछ भी नहीं है मैं हूं अगर पसंद आए तो प्लीज एक लाइक कर दीजिएगा अगर चलो तो सब पता है
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain apane to joota chappal pahanakar aaen aur saath hee saath aap naha kar tab pooja karen aur agar pooja kar hee rahe hain to apane man se karen pooja aisa hee nahin ki sirph pooja karane aur aap ek baat aur bata doongee agar aapako agarabattee bhee nahin kuchh bhee nahin hai main hoon agar pasand aae to pleej ek laik kar deejiega agar chalo to sab pata hai

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
0:22

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं पूजा करने के लिए कोई नियम
URL copied to clipboard