#undefined

bolkar speaker

ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?

Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:37
राकेश ने ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमा क्यों हो जाती है तो आपको बता दें कि देखिए जवाब ध्यान करते हैं मेडिसिन करते हैं उस समय आप अपने इंद्रियों पर कंट्रोल करते हैं और ऐसे में जो श्वास लेने की गति है वह भी काफी सेटल हो जाती हैं और आप जब अच्छे से ध्यान करते हैं तो जो कॉस्मिक तरंगे है जो आपके ऊपर जो पड़ती हैं और जो आप ध्यान करते हैं तभी आपका वह सार्थक हो पाता है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Raakesh ne dhyaan karate vakt saans kee gati bilkul dheema kyon ho jaatee hai to aapako bata den ki dekhie javaab dhyaan karate hain medisin karate hain us samay aap apane indriyon par kantrol karate hain aur aise mein jo shvaas lene kee gati hai vah bhee kaaphee setal ho jaatee hain aur aap jab achchhe se dhyaan karate hain to jo kosmik tarange hai jo aapake oopar jo padatee hain aur jo aap dhyaan karate hain tabhee aapaka vah saarthak ho paata hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:15
अरे इंसान तो आज आपका सवाल है कि ध्यान करते वक्त शाम की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है तू दिखे में क्या होता है कि जब हम कोई भी काम करते हैं इधर से उधर चलते हैं इस तरह से हमारे बॉडी के हर एक व्हाट्सएप का फंक्शन और काम करती है जब कोई भी चार-पांच मशीन मिलकर अगर काम करें तो आवाज देखिए ज्यादा होगा लेकिन मैं यह एक मशीन सिर्फ का काम करें तो कम साउंड होगा अब चार-पांच लोहा लीजिए और 45 लोहा मूवी साथ बजाइए साउंड कितना ज्यादा होगा एक लोहा को बजाइए तो चार-पांच के मुकाबले कम साउंड होगा अपनी बॉडी को काम करवाते इधर से उधर काम होता है तुम्हारी चीज का फंक्शन होता जिस वजह से हमारी जो सांस है उसकी भी प्रक्रिया और वह तेजी से होने लगती है 30 30 बढ़ने लगती है नॉर्मल रेट से और वही जीवन ध्यान लगाते हैं तो पूरा हमारा बॉडी रे लाड शांत एक जगह बैठे रहते किसी भी तरह का काम है मतलब पूरा है जिसे अंदर से सब चीज को हमने इस पोजीशन में ले लिया है वैसा मतलब हम रहते हैं तो इसीलिए जो गति होती है वह भी धीमी हो जाती है
Are insaan to aaj aapaka savaal hai ki dhyaan karate vakt shaam kee gati bilkul dheemee kyon ho jaatee hai too dikhe mein kya hota hai ki jab ham koee bhee kaam karate hain idhar se udhar chalate hain is tarah se hamaare bodee ke har ek vhaatsep ka phankshan aur kaam karatee hai jab koee bhee chaar-paanch masheen milakar agar kaam karen to aavaaj dekhie jyaada hoga lekin main yah ek masheen sirph ka kaam karen to kam saund hoga ab chaar-paanch loha leejie aur 45 loha moovee saath bajaie saund kitana jyaada hoga ek loha ko bajaie to chaar-paanch ke mukaabale kam saund hoga apanee bodee ko kaam karavaate idhar se udhar kaam hota hai tumhaaree cheej ka phankshan hota jis vajah se hamaaree jo saans hai usakee bhee prakriya aur vah tejee se hone lagatee hai 30 30 badhane lagatee hai normal ret se aur vahee jeevan dhyaan lagaate hain to poora hamaara bodee re laad shaant ek jagah baithe rahate kisee bhee tarah ka kaam hai matalab poora hai jise andar se sab cheej ko hamane is pojeeshan mein le liya hai vaisa matalab ham rahate hain to iseelie jo gati hotee hai vah bhee dheemee ho jaatee hai

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Ramlal Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramlal जी का जवाब
Students
0:45

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:40
सवाल विकी ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है ध्यान की कोशिश में आकर बैठ जाते हैं तो शरीर की क्रियाएं और मन की क्रिया है जैसी ही कमियां स्थिर हो जाती है शरीर की साथ की जरूरत भी कम हो जाती है साफ बिल्कुल ही धीमी और कम लंबाई वाली हो जाती है और गहरे ध्यान की स्थिति में तो शास्त्रों की जाती है पर यह सामान्य है इसे अन्यथा ना लें आप ध्यान की कोशिश लगातार जारी रखें और जब कुछ समझ ना आए तो उचित मार्गदर्शन लिया अस्तित्व शक्ति से ही मदद की गुहार लगा आपको सुनिश्चित मदद मिल जाएगी
Savaal vikee dhyaan karate vakt saans kee gati bilkul dheemee kyon ho jaatee hai dhyaan kee koshish mein aakar baith jaate hain to shareer kee kriyaen aur man kee kriya hai jaisee hee kamiyaan sthir ho jaatee hai shareer kee saath kee jaroorat bhee kam ho jaatee hai saaph bilkul hee dheemee aur kam lambaee vaalee ho jaatee hai aur gahare dhyaan kee sthiti mein to shaastron kee jaatee hai par yah saamaany hai ise anyatha na len aap dhyaan kee koshish lagaataar jaaree rakhen aur jab kuchh samajh na aae to uchit maargadarshan liya astitv shakti se hee madad kee guhaar laga aapako sunishchit madad mil jaegee

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:03
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल देर में क्यों हो जाती है मानचित्र का है और नहीं कहीं नहीं हम जान के दौरान अपने मन को एकाग्र चित्त कर लेते हैं और मन को स्थिर कर ले तो हमारी जितने भी जैविक क्रियाएं हैं सही चाहे वह हार्टबीट हो जाए स्वसन क्रिया हो या दूसरे सब नॉर्मल हो जाते हैं और नॉर्मल से भी कम स्थिति हो जाती है क्योंकि हमारी पूरी की पूरी उर्जा से होती है एक दिशा में मन को एकाग्र चित्त करने में लग जाती ध्यान में लग जाती है और पूरी एनर्जी उधर तो हो जाती है तो नतीजा क्या होता है कुछ समय के लिए गतियां धीमी होती है जो हमारे जितने भी फिजियोलॉजी है और कोई ऐसा वैज्ञानिक कारण नहीं है या और कोई इस तरह का कारण है क्योंकि हम अपने मन को स्थिर करके एक दिशा में ले जाते हैं उसका ही प्रभाव कारण है कि ही रुक जाता
Dhyaan karate vakt saans kee gati bilkul der mein kyon ho jaatee hai maanachitr ka hai aur nahin kaheen nahin ham jaan ke dauraan apane man ko ekaagr chitt kar lete hain aur man ko sthir kar le to hamaaree jitane bhee jaivik kriyaen hain sahee chaahe vah haartabeet ho jae svasan kriya ho ya doosare sab normal ho jaate hain aur normal se bhee kam sthiti ho jaatee hai kyonki hamaaree pooree kee pooree urja se hotee hai ek disha mein man ko ekaagr chitt karane mein lag jaatee dhyaan mein lag jaatee hai aur pooree enarjee udhar to ho jaatee hai to nateeja kya hota hai kuchh samay ke lie gatiyaan dheemee hotee hai jo hamaare jitane bhee phijiyolojee hai aur koee aisa vaigyaanik kaaran nahin hai ya aur koee is tarah ka kaaran hai kyonki ham apane man ko sthir karake ek disha mein le jaate hain usaka hee prabhaav kaaran hai ki hee ruk jaata

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:12
ध्यान करते वक्त साथी गति बिल्कुल धीमा क्यों हो जाती है और एक चीज हमेशा सुनी होगी साइंस में भी सुनोगे योगा में भी सुनी होगी कि अगर आपको गुस्सा आता है या कोई आप बीपी ब्लड प्रेशर हाई हो जाते तो हम लोग लंबी गहरी सांस लेते हैं तो हम लोग जब दीप रिंग करते हैं तो अपने आप आपको गुस्सा भी फिर दिखेगा कि आपका दिमाग शांत हो जाता है या फिर आप थोड़े स्कूल हो जाते हो तो इसका मतलब क्या होता है कि आपके जो साथ किसके साथ आपकी मोशन डायरेक्ट अटैच हो जब हम ध्यान करते हैं तो ध्यान करते समय एक तो आप नहीं हो अगर ध्यान करने में तो शुरुआत यहीं से होती है कि हम लोग सास के ऊपर कंट्रोल करते हैं कि आप एक लंबी सांस लेते हैं 1789 काउंटर की फिर उसके बाद एक अकाउंट के लिए रुक नहीं छोड़ते साथ कोरिअर भिवाड़ी सेटिंग कंसेशन ऐसे ही चलाते हैं अब इससे क्या होता है किस्सा धीरे-धीरे हो जाती है और अब जब मेडिटेशन के अंदर चले जाते हो सासाराम से चलते क्योंकि उसके साथ आपका माइंड भी शांत होता है तो बाकी की इमोशंस भी नहीं होते तो इसके वजह से धीरे-धीरे अपने आप माइंड के अंदर में हमें स्कूल न्यूज़ देखेगा तो जब मन शांत होता है तो अपने आप आपका जो वृद्धि पैटर्न है यह स्लो हो जाता है उसी रे से ब्रीडिंग करता है औरत हीरे से और उसका रिमाइंडर दिखता तो यह 22 वर्ष फैक्ट होता है तो आप इसमें ब्रीडिंग पैटर्न अपने आप कम होने से आप अपने आप पार्क इमोशंस के ऊपर कंट्रोल लेना शुरू कर देते हैं और यह बार-बार करने से किसी लव मेडिसिन मेडिटेशन करने से हमारे लाइफ के ऊपर हमारा कंट्रोल आता है ना हम लोग गुस्सा नहीं होते हैं जल्दी अवेयरनेस के लेवल बहुत ज्यादा बढ़ जाती है तो यह बार-बार करने से होता है तो फीमेल बॉडी होती है हमारे ब्रेन के अंदर में तो यह तो उसके ऊपर भी फेक करता है मेडिटेशन कंसिस्टेंटली तो यह एक आपके लाइफ को एक अलग टाइप के हाय के तरफ लेकर जाता है
Dhyaan karate vakt saathee gati bilkul dheema kyon ho jaatee hai aur ek cheej hamesha sunee hogee sains mein bhee sunoge yoga mein bhee sunee hogee ki agar aapako gussa aata hai ya koee aap beepee blad preshar haee ho jaate to ham log lambee gaharee saans lete hain to ham log jab deep ring karate hain to apane aap aapako gussa bhee phir dikhega ki aapaka dimaag shaant ho jaata hai ya phir aap thode skool ho jaate ho to isaka matalab kya hota hai ki aapake jo saath kisake saath aapakee moshan daayarekt ataich ho jab ham dhyaan karate hain to dhyaan karate samay ek to aap nahin ho agar dhyaan karane mein to shuruaat yaheen se hotee hai ki ham log saas ke oopar kantrol karate hain ki aap ek lambee saans lete hain 1789 kauntar kee phir usake baad ek akaunt ke lie ruk nahin chhodate saath koriar bhivaadee seting kanseshan aise hee chalaate hain ab isase kya hota hai kissa dheere-dheere ho jaatee hai aur ab jab mediteshan ke andar chale jaate ho saasaaraam se chalate kyonki usake saath aapaka maind bhee shaant hota hai to baakee kee imoshans bhee nahin hote to isake vajah se dheere-dheere apane aap maind ke andar mein hamen skool nyooz dekhega to jab man shaant hota hai to apane aap aapaka jo vrddhi paitarn hai yah slo ho jaata hai usee re se breeding karata hai aurat heere se aur usaka rimaindar dikhata to yah 22 varsh phaikt hota hai to aap isamen breeding paitarn apane aap kam hone se aap apane aap paark imoshans ke oopar kantrol lena shuroo kar dete hain aur yah baar-baar karane se kisee lav medisin mediteshan karane se hamaare laiph ke oopar hamaara kantrol aata hai na ham log gussa nahin hote hain jaldee aveyaranes ke leval bahut jyaada badh jaatee hai to yah baar-baar karane se hota hai to pheemel bodee hotee hai hamaare bren ke andar mein to yah to usake oopar bhee phek karata hai mediteshan kansistentalee to yah ek aapake laiph ko ek alag taip ke haay ke taraph lekar jaata hai

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:13
धन-धन कर ध्यान करते वक्त संस्कृति बिल्कुल धीमा क्यों हो जाती है ध्यान एक ऐसी संस्था है जो अपनी सांसो पर हमारी सांसों सांसों पर मन पर आधारित होती है धन में हम ज्यादा से ज्यादा अपने मन को शांत करने का एक जगह पर कांटेक्ट करने का प्रयास करते हैं लेकिन ऐसा सहेली रूप से होता नहीं बार-बार यह मन बदल जाता है उसके बाद भी तो फिर कल का मैं जाता है और एकाग्रता जाती है ऐसा बार बार होता है बार-बार में यह मटका मटकनी का स्वभाव कम हो जाता जाता है और एक वक्त मन एक जगह जगह नहीं लगता है और जब मनुष्य बहने लगता है तो हमारे मन में कोई या दिल की धड़कन बढ़ जाए या कम हो जाए ऐसी अवस्था नहीं आती मिथुन की एचडी में पूरा श्वास को अंदर शक्कर अंदर लेकर कुछ समय के लिए उसी तरीके से उसका अंदाजा कल कुछ समय के लिए समय के बाद धीरे से बाहर छोड़ना होता है जिगरिया स्लोली होती है मुझे वॉइस का प्रैक्टिस हो जाता है धन के वक्त संस्कृति कम हो जाती है क्योंकि शांति व्यवस्था निर्माण हो जाती है और शांति की अवस्था में सास की लड़की बिल्कुल बिल्कुल नंगे हो जाती है इसे प्रत्यक्ष रूप में प्रयोग करके देखना चाहिए इस समय चला दूंगा अपनी मां के ऊपर कई सारे प्रयोग करो और प्रयोग से गुजरो समझ में आ जाएगी कि मन को आखिर क्या चाहिए और आखिर वह शांत और आनंदी इस तरीके से हो सकता है और होता है हमें समझने के बाद जिंदगी जीने का एक सही तरीका और सही रास्ता मिल जाता है धन
Dhan-dhan kar dhyaan karate vakt sanskrti bilkul dheema kyon ho jaatee hai dhyaan ek aisee sanstha hai jo apanee saanso par hamaaree saanson saanson par man par aadhaarit hotee hai dhan mein ham jyaada se jyaada apane man ko shaant karane ka ek jagah par kaantekt karane ka prayaas karate hain lekin aisa sahelee roop se hota nahin baar-baar yah man badal jaata hai usake baad bhee to phir kal ka main jaata hai aur ekaagrata jaatee hai aisa baar baar hota hai baar-baar mein yah mataka matakanee ka svabhaav kam ho jaata jaata hai aur ek vakt man ek jagah jagah nahin lagata hai aur jab manushy bahane lagata hai to hamaare man mein koee ya dil kee dhadakan badh jae ya kam ho jae aisee avastha nahin aatee mithun kee echadee mein poora shvaas ko andar shakkar andar lekar kuchh samay ke lie usee tareeke se usaka andaaja kal kuchh samay ke lie samay ke baad dheere se baahar chhodana hota hai jigariya slolee hotee hai mujhe vois ka praiktis ho jaata hai dhan ke vakt sanskrti kam ho jaatee hai kyonki shaanti vyavastha nirmaan ho jaatee hai aur shaanti kee avastha mein saas kee ladakee bilkul bilkul nange ho jaatee hai ise pratyaksh roop mein prayog karake dekhana chaahie is samay chala doonga apanee maan ke oopar kaee saare prayog karo aur prayog se gujaro samajh mein aa jaegee ki man ko aakhir kya chaahie aur aakhir vah shaant aur aanandee is tareeke se ho sakata hai aur hota hai hamen samajhane ke baad jindagee jeene ka ek sahee tareeka aur sahee raasta mil jaata hai dhan

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:35
ध्यान करते वक्त हमारा मुख्यमंत्री हो जाता है क्योंकि हमारी ताकि होती है वह बंद हो जाती है उसके बाद देखते तो जग रुठ जाए जग की अजब तस्वीर देखी होने का समय हो चुका है
Dhyaan karate vakt hamaara mukhyamantree ho jaata hai kyonki hamaaree taaki hotee hai vah band ho jaatee hai usake baad dekhate to jag ruth jae jag kee ajab tasveer dekhee hone ka samay ho chuka hai

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:21
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है आज का सवाल है कि ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमा क्यों हो जाती है तो मेरा मानना है कि जब भी हम ध्यान अर्थात एकाग्रता से किसी का ध्यान करते हैं या मंत्र जप करते हैं या ओम का उच्चारण करते तो हमारी शान नियंत्रण रखती है जिससे कि हम धीरे-धीरे बोलते हैं तो जिसकी वजह से सांस भी धीरे धीरे चलता है और जब जैसे कि हमारे शरीर में स्पंदन बंद हो जाता है जिसकी वजह से हम धीरे-धीरे सांस लेते हैं तथा सांप सबसे ज्यादा एक तक दौड़ते हैं तब आता है और एक आम गुस्से में हो जाते हैं तब सांस हो ज्यादा झड़ जाता तुझ को नियंत्रित करने के लिए हमें एकांत जगह की आवश्यकता होती है और धान की आवश्यकता होती है ध्यान के माध्यम से हम अपने सांस की गति को नियमित सही तरीके से चला सकते हैं जिससे हम ज्यादा बिजी सकते हैं
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai aaj ka savaal hai ki dhyaan karate vakt saans kee gati bilkul dheema kyon ho jaatee hai to mera maanana hai ki jab bhee ham dhyaan arthaat ekaagrata se kisee ka dhyaan karate hain ya mantr jap karate hain ya om ka uchchaaran karate to hamaaree shaan niyantran rakhatee hai jisase ki ham dheere-dheere bolate hain to jisakee vajah se saans bhee dheere dheere chalata hai aur jab jaise ki hamaare shareer mein spandan band ho jaata hai jisakee vajah se ham dheere-dheere saans lete hain tatha saamp sabase jyaada ek tak daudate hain tab aata hai aur ek aam gusse mein ho jaate hain tab saans ho jyaada jhad jaata tujh ko niyantrit karane ke lie hamen ekaant jagah kee aavashyakata hotee hai aur dhaan kee aavashyakata hotee hai dhyaan ke maadhyam se ham apane saans kee gati ko niyamit sahee tareeke se chala sakate hain jisase ham jyaada bijee sakate hain

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:12
तो आपका स्वागत ध्यान करते वक्त सांस की गति धीमी क्यों हो जाती है तो हम जानते हैं कि वेद लाभदायक होते गई सांस लेना उसके फायदे भी अच्छे रोजाना बस कुछ ही पलों के लिए गहरी सांस लेना भी आम चुनाव कब आ सकता है मन शरीर को आराम दिला सकता है वेद नींद की मदद कर सकता है सही ढंग से सांस लेना व्यक्ति संपूर्ण स्वास्थ्य महत्वपूर्ण होता है और फायदे भी बेशुमार होते हैं क्योंकि जब भी हम व्यायाम करते हैं तो हमारा मन एग्जिट हो जाता है जिससे क्या होते सांस एकदम थे अतुल धीरे धीरे से चलना शुरू हो जाती है और आराम से बैठे हैं तो सांस धीरे से शांति दे देते हैं और पेट में हवा भर लेते हैं जब नाक धीरे सर्फाबाद निकल जाती वापस दीपक परम बार-बार धोरा में चलती रहती है दीदी चलती है जिसे हमारा क्या होता है और शास्त्र पड़ता है बस उसमें सुधार होता है सूजन कम रहता है सर किसी की सूचना देता है तो शरीर में डिटॉक्स करता है पाचन क्रिया को स्वस्थ रखता है मन और शरीर को आराम मिलता है
To aapaka svaagat dhyaan karate vakt saans kee gati dheemee kyon ho jaatee hai to ham jaanate hain ki ved laabhadaayak hote gaee saans lena usake phaayade bhee achchhe rojaana bas kuchh hee palon ke lie gaharee saans lena bhee aam chunaav kab aa sakata hai man shareer ko aaraam dila sakata hai ved neend kee madad kar sakata hai sahee dhang se saans lena vyakti sampoorn svaasthy mahatvapoorn hota hai aur phaayade bhee beshumaar hote hain kyonki jab bhee ham vyaayaam karate hain to hamaara man egjit ho jaata hai jisase kya hote saans ekadam the atul dheere dheere se chalana shuroo ho jaatee hai aur aaraam se baithe hain to saans dheere se shaanti de dete hain aur pet mein hava bhar lete hain jab naak dheere sarphaabaad nikal jaatee vaapas deepak param baar-baar dhora mein chalatee rahatee hai deedee chalatee hai jise hamaara kya hota hai aur shaastr padata hai bas usamen sudhaar hota hai soojan kam rahata hai sar kisee kee soochana deta hai to shareer mein ditoks karata hai paachan kriya ko svasth rakhata hai man aur shareer ko aaraam milata hai

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
1:00
सवाले ध्यान करते वक्त सांस की गति गुरुकुल धीमी कौन हो जाती है देखिए हमारे मन में एक असंग कल्पनाएं और विचार चलते रहते हैं इससे मन मस्तिष्क कोलाहल समाचार रहता है हम नहीं चाहते हैं फिर भी यह चलता रहता है जिस तरह लगातार सोच सोचकर हम खुद को कमजोर करते रहते हैं ध्यान ऐसी गैरजरूरी कल्पना हो और विचारों को मन से हटा कर शुद्ध और निर्मल मन में चले जाना है ध्यान जैसे-जैसे गहराता है व्यक्ति साक्षी भाव में आने लगे उस पर किसी भी भाव कल्पना और विचारों का प्रभाव नहीं पड़ता है वास्तव में मन मस्तिष्क और मौन हो जाना ही ध्यान है विचार कल्पना और अतीत के सुख दुख में जीना ध्यान के खिलाफ है आता ध्यान की अवस्था में सामान्यता काश धीमी हो जाती है
Savaale dhyaan karate vakt saans kee gati gurukul dheemee kaun ho jaatee hai dekhie hamaare man mein ek asang kalpanaen aur vichaar chalate rahate hain isase man mastishk kolaahal samaachaar rahata hai ham nahin chaahate hain phir bhee yah chalata rahata hai jis tarah lagaataar soch sochakar ham khud ko kamajor karate rahate hain dhyaan aisee gairajarooree kalpana ho aur vichaaron ko man se hata kar shuddh aur nirmal man mein chale jaana hai dhyaan jaise-jaise gaharaata hai vyakti saakshee bhaav mein aane lage us par kisee bhee bhaav kalpana aur vichaaron ka prabhaav nahin padata hai vaastav mein man mastishk aur maun ho jaana hee dhyaan hai vichaar kalpana aur ateet ke sukh dukh mein jeena dhyaan ke khilaaph hai aata dhyaan kee avastha mein saamaanyata kaash dheemee ho jaatee hai

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:35
लेकिन करते हो सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है तो देखें ध्यान करते हुए बॉडी आपकी पूरी रात होती है आप कोई भी सर्जिकल वर्क नहीं कर रहे होते हैं जिसकी वजह से बॉडी पर एक दर्शन नहीं पड़ता है और तेज गति से सांस नहीं चलती है जब भी लास्ट बॉडी होती है साथ हमेशा अपने नार्मल स्पीड में ही चलेगी एकदम जो है वह नाटक प्रक्रिया जो होती है वह वही है और जब भी आप कोई काम करते हैं तेज चलने का काम करते हैं सीढ़ियां चढ़ने का काम करते हैं भागदौड़ वाला काम करते हैं उस समय आपकी बॉडी पर एग्जिबिशन ज्यादा पड़ता है इस वजह से सांस तेज चलने लगती है आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Lekin karate ho saans kee gati bilkul dheemee kyon ho jaatee hai to dekhen dhyaan karate hue bodee aapakee pooree raat hotee hai aap koee bhee sarjikal vark nahin kar rahe hote hain jisakee vajah se bodee par ek darshan nahin padata hai aur tej gati se saans nahin chalatee hai jab bhee laast bodee hotee hai saath hamesha apane naarmal speed mein hee chalegee ekadam jo hai vah naatak prakriya jo hotee hai vah vahee hai aur jab bhee aap koee kaam karate hain tej chalane ka kaam karate hain seedhiyaan chadhane ka kaam karate hain bhaagadaud vaala kaam karate hain us samay aapakee bodee par egjibishan jyaada padata hai is vajah se saans tej chalane lagatee hai aapaka din shubh rahe dhanyavaad

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:32
सैफ अली का लेने का प्रोजेक्ट है उसके बारे में उत्तर उत्तर देंगे नंबर से मुझे ध्यान करते हो तबीयत बिल्कुल धीमा क्यों हो जाती है साथ में आराम से जवाब शांति से बैठे धीरे धीरे प्यार में दौड़ लगाएंगे कुछ काम करें तो साथ तेरी चलती थी जैसे सांस फूल जाती है तेरी तेरे दर पर दीवाना हम बैठे शांति मुद्रा में तो कोई दिक्कत नहीं राम ध्यान लगाकर दोस्त को मिलता मिलता मौसम बहुत अच्छा महसूस होता हो जाती है ध्यान लगाकर पढ़ना चाहिए
Saiph alee ka lene ka projekt hai usake baare mein uttar uttar denge nambar se mujhe dhyaan karate ho tabeeyat bilkul dheema kyon ho jaatee hai saath mein aaraam se javaab shaanti se baithe dheere dheere pyaar mein daud lagaenge kuchh kaam karen to saath teree chalatee thee jaise saans phool jaatee hai teree tere dar par deevaana ham baithe shaanti mudra mein to koee dikkat nahin raam dhyaan lagaakar dost ko milata milata mausam bahut achchha mahasoos hota ho jaatee hai dhyaan lagaakar padhana chaahie

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:55
नमस्कार ध्यान एक ऐसी प्रणाली है जिसके कारण हम सारी ऊर्जा को एक केंद्र में समा लेते हैं हमारी जितनी भी ऊर्जा होती है जितना भी हमारा ध्यान होता है शरीर पर बाहरी तौर पर उन सबको हम एकाग्र करते हैं एक जगह एक केंद्र बिंदु पर्दा के स्थिर करते हैं इसी वजह से कारण ही होता कि हमारा जो ध्यान जो होते हैं हमारा सांसो पर या और किसी इंद्रियों पर नहीं होते ही कारणों को हिंदी आज जो होती है जब उन पर ध्यान नहीं रहता वह अपने आप ही अपने कार्य में धीरे-धीरे चलो होती चली जाती हैं उन पर क्योंकि जब हम किसी चीज पर फोकस करते हैं और जिस चीज का टेंशन देते हैं जिस चीज को आर्डर देते हैं वह चीजें सक्रिय हो जाती है और उसी तीव्रता के साथ कार्य करती है जिस तरह से हम उस पर सोच रहे हैं या जिस तरह से हम उसको आदेश करें या मुंह में चाहते हैं माइंड के थॉट क्या लेकिन जब हमारा माइंड पूरी तरह से रिलैक्स हो जाता है तो हमारी बॉडी को किसी प्रकार की कोई भी कैसे पर सिग्नल नहीं जाता किसी चीज का कि कोई काम करने के लिए किसी चीज की तू पूरी तरह से पूरी बॉडी रिलैक्स हो जाती है पूरी ब्रेकिंग जो सिस्टम है जो हमारे शासन प्रणाली वह पूरी तरह से रिलैक्स हो जाती थी यही कारण होता है कि हमारी जो शासन प्रणाली है वह बहुत ही धीमी होती चली जाती क्योंकि हमारा ध्यान ही नहीं रहता कि सांस तक जब हम बहुत अच्छे तरीके से ध्यान लगाने लग जाते हमारा ध्यान बहुत अच्छे से लगने लगता है तो हमारा किसी भी चीज पर ध्यान फोकस नहीं जाता तो यही कारण हो तो जब हम किसी का फोकस नहीं करते तो वह चीजें अपने आप ही वह निष्क्रिय होती चली जाती हैं जब कोई चीज है कोई मशीन भी है आपके सामने रखी हुई अगर आप उस पर काम करोगे तो वह ठीक रहेगी लेकिन अगर उसको आप छोड़ दोगे काम नहीं करोगे काफी लोग सब लंबे समय तक पूरी हो जाएगी यही एक सिंपल सा सहज कारण है आप सो जाइए आप सभी के काफी अच्छा लगा और आप सभी के लिए खाकर लाइक करा कर आपको अच्छा लगा और कमेंट के माध्यम से अपने विचार जरूर रखें इस पोस्ट के बारे में
Namaskaar dhyaan ek aisee pranaalee hai jisake kaaran ham saaree oorja ko ek kendr mein sama lete hain hamaaree jitanee bhee oorja hotee hai jitana bhee hamaara dhyaan hota hai shareer par baaharee taur par un sabako ham ekaagr karate hain ek jagah ek kendr bindu parda ke sthir karate hain isee vajah se kaaran hee hota ki hamaara jo dhyaan jo hote hain hamaara saanso par ya aur kisee indriyon par nahin hote hee kaaranon ko hindee aaj jo hotee hai jab un par dhyaan nahin rahata vah apane aap hee apane kaary mein dheere-dheere chalo hotee chalee jaatee hain un par kyonki jab ham kisee cheej par phokas karate hain aur jis cheej ka tenshan dete hain jis cheej ko aardar dete hain vah cheejen sakriy ho jaatee hai aur usee teevrata ke saath kaary karatee hai jis tarah se ham us par soch rahe hain ya jis tarah se ham usako aadesh karen ya munh mein chaahate hain maind ke thot kya lekin jab hamaara maind pooree tarah se rilaiks ho jaata hai to hamaaree bodee ko kisee prakaar kee koee bhee kaise par signal nahin jaata kisee cheej ka ki koee kaam karane ke lie kisee cheej kee too pooree tarah se pooree bodee rilaiks ho jaatee hai pooree breking jo sistam hai jo hamaare shaasan pranaalee vah pooree tarah se rilaiks ho jaatee thee yahee kaaran hota hai ki hamaaree jo shaasan pranaalee hai vah bahut hee dheemee hotee chalee jaatee kyonki hamaara dhyaan hee nahin rahata ki saans tak jab ham bahut achchhe tareeke se dhyaan lagaane lag jaate hamaara dhyaan bahut achchhe se lagane lagata hai to hamaara kisee bhee cheej par dhyaan phokas nahin jaata to yahee kaaran ho to jab ham kisee ka phokas nahin karate to vah cheejen apane aap hee vah nishkriy hotee chalee jaatee hain jab koee cheej hai koee masheen bhee hai aapake saamane rakhee huee agar aap us par kaam karoge to vah theek rahegee lekin agar usako aap chhod doge kaam nahin karoge kaaphee log sab lambe samay tak pooree ho jaegee yahee ek simpal sa sahaj kaaran hai aap so jaie aap sabhee ke kaaphee achchha laga aur aap sabhee ke lie khaakar laik kara kar aapako achchha laga aur kament ke maadhyam se apane vichaar jaroor rakhen is post ke baare mein

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
1:28
कृष्ण ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों जाती है अगर आप लोगों को मैं सच बताऊं तो आप जिस माहौल में सांसे ले रहे हैं आपको तो पता ही नहीं है कि आप अपनी एक नाक के दोनों ओर से सांसे ही नहीं ले रहे हैं किसी एक फूल से आप सांस ले रहे हैं जब आप ध्यान करने लगेंगे ना तब आपको पता चलेगा लेकिन आप ज्यादा ही ध्यान मुद्रा में जाना शुरु करेंगे ना तब आपको एहसास होगा कि सांस लेने का तरीका तो यही होता है जो कि हमारी हंड्रेड परसेंट में 98% 897 गेम कितने पर्सेंट लोग वह तो बिल्कुल भूल चुके की सांस कैसे लिया जाता है अगर वह गाड़ियां भी खरीद रहे हैं हीरे मोती जो भी खरीद वह चीज उनके लिए कीमती है लेकिन जिस चीज से वह जिंदा है उसका तभी शुक्रिया अदा ही नहीं करती हो जी हां मैं सांसो की बात कर रही हूं सांसो को बहुत दिन से लेना पड़ता है जैसे मुद्रा में लिया जाता है यही कारण होता है सांस लेने का यही तरीका होता है जो कि एक्चुअली में हर इंसान को लेना चाहिए सांसो को ऐसा नहीं है जल्दी-जल्दी नहीं है थोड़ा सा नहीं छोड़ दे ऐसा नहीं है सांस लेते वक्त आपको खुद ब खुद महसूस होगा कि हमारी बॉडी में बिल्कुल थोड़े से जाती तो फिर तुरंत आती है सांस लेने का तरीका यही होता है थैंक यू सो मच
Krshn dhyaan karate vakt saans kee gati bilkul dheemee kyon jaatee hai agar aap logon ko main sach bataoon to aap jis maahaul mein saanse le rahe hain aapako to pata hee nahin hai ki aap apanee ek naak ke donon or se saanse hee nahin le rahe hain kisee ek phool se aap saans le rahe hain jab aap dhyaan karane lagenge na tab aapako pata chalega lekin aap jyaada hee dhyaan mudra mein jaana shuru karenge na tab aapako ehasaas hoga ki saans lene ka tareeka to yahee hota hai jo ki hamaaree handred parasent mein 98% 897 gem kitane parsent log vah to bilkul bhool chuke kee saans kaise liya jaata hai agar vah gaadiyaan bhee khareed rahe hain heere motee jo bhee khareed vah cheej unake lie keematee hai lekin jis cheej se vah jinda hai usaka tabhee shukriya ada hee nahin karatee ho jee haan main saanso kee baat kar rahee hoon saanso ko bahut din se lena padata hai jaise mudra mein liya jaata hai yahee kaaran hota hai saans lene ka yahee tareeka hota hai jo ki ekchualee mein har insaan ko lena chaahie saanso ko aisa nahin hai jaldee-jaldee nahin hai thoda sa nahin chhod de aisa nahin hai saans lete vakt aapako khud ba khud mahasoos hoga ki hamaaree bodee mein bilkul thode se jaatee to phir turant aatee hai saans lene ka tareeka yahee hota hai thaink yoo so mach

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Akash Chaudhary  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Motivational speaker
1:32
नमस्कार आपका सवाल है ध्यान करते वक्त सांस की गति धीमी क्यों हो जाती है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि ध्यान करते वक्त हमारी जो स्वास है वह क्यों धीमी हो जाती है पहले तो हम किसी कार्य पर लगातार ध्यान रख रहे थे ऊर्जा को इस्तेमाल कर रहे थे क्योंकि शहर रियली ऊर्जा और बाकी और जा में बहुत फर्क होता है क्योंकि जब हम कार्य करते हैं उसमें ऊर्जा जो होती है वह खर्च होती है आंतरिक कार्य होते हैं उसमें बहुत कम ऊर्जा खर्च होती है अब्बा ही कार्य करते वक्त अब अगर हम दौड़ के आ रहे हैं तो हमारी साथ जरूर मिलेगी हमारे साथ की जो गाती है वह बहुत तेज बढ़ेगी अगर हम कहीं आराम कर रहे हैं बैठकर जल्द कर रहे हैं या कंसंट्रेट कर रहे हैं ध्यान और कंसंट्रेट एक ही बिंदु है तो इसमें ध्यान के वक्त जो हमारी स्वास होती है उसका धीमा होना निश्चित है इसमें कोई बड़ी बात नहीं है अब कहीं भी आराम करते हैं थके हारे आते हैं तो जो भी विश्वास को महसूस होती है कि वह हां मुझे शायद अगर आपको मेरा जवाब वाक्य में ही अच्छा लगा हो तो लाइक और सब्सक्राइब जरूर करें
Namaskaar aapaka savaal hai dhyaan karate vakt saans kee gati dheemee kyon ho jaatee hai to main aapako bataana chaahoonga ki dhyaan karate vakt hamaaree jo svaas hai vah kyon dheemee ho jaatee hai pahale to ham kisee kaary par lagaataar dhyaan rakh rahe the oorja ko istemaal kar rahe the kyonki shahar riyalee oorja aur baakee aur ja mein bahut phark hota hai kyonki jab ham kaary karate hain usamen oorja jo hotee hai vah kharch hotee hai aantarik kaary hote hain usamen bahut kam oorja kharch hotee hai abba hee kaary karate vakt ab agar ham daud ke aa rahe hain to hamaaree saath jaroor milegee hamaare saath kee jo gaatee hai vah bahut tej badhegee agar ham kaheen aaraam kar rahe hain baithakar jald kar rahe hain ya kansantret kar rahe hain dhyaan aur kansantret ek hee bindu hai to isamen dhyaan ke vakt jo hamaaree svaas hotee hai usaka dheema hona nishchit hai isamen koee badee baat nahin hai ab kaheen bhee aaraam karate hain thake haare aate hain to jo bhee vishvaas ko mahasoos hotee hai ki vah haan mujhe shaayad agar aapako mera javaab vaaky mein hee achchha laga ho to laik aur sabsakraib jaroor karen

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:32
ध्यान करते समय आप जितना अभ्यास करेंगे उतना ही आपकी शादी में चलेगी इसके लिए एक सतत अभ्यास की आवश्यकता होती है और ध्यान का तो समय जितने साथ धीमे-धीमे उतना ही ज्यादा फायदेमंद होता है और एक ओंकार मन में खूंखार पति के साथ जीप सांस का प्रश्न क्रिया को बाहर लाते हैं और अंदर ब्रीथिंग करते हैं उस तरह धीरे-धीरे लेते हैं उसका एक बहुत अच्छा एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है इसलिए श्वास की गति इतनी धीमी हो वही ज्यादा अच्छा माना जाता है खासतौर से योगा क्रिया
Dhyaan karate samay aap jitana abhyaas karenge utana hee aapakee shaadee mein chalegee isake lie ek satat abhyaas kee aavashyakata hotee hai aur dhyaan ka to samay jitane saath dheeme-dheeme utana hee jyaada phaayademand hota hai aur ek onkaar man mein khoonkhaar pati ke saath jeep saans ka prashn kriya ko baahar laate hain aur andar breething karate hain us tarah dheere-dheere lete hain usaka ek bahut achchha ek sakaaraatmak prabhaav padata hai isalie shvaas kee gati itanee dheemee ho vahee jyaada achchha maana jaata hai khaasataur se yoga kriya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है ध्यान करते वक्त सांस की गति
URL copied to clipboard