#भारत की राजनीति

bolkar speaker

सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?

Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:14
मनोज जी के द्वारा अनूदित प्रश्न है कि सरकार क्यों किसानों की बात नहीं मानना चाहती है देखिए बहुत बड़ा राजनीतिक मुद्दा के साथ-साथ कुछ लोगों का सरकार के ऊपर हाथ है और उन लोगों की वजह से जो सरकार है इन किसानों की बात नहीं मानी है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि हमारा जो देश है वो किसान प्रधान देश है और इसमें 70 पर्सेंट जनसंख्या जो है किसानों के बदौलत ही सस्ते अनाज पर अपना जीवन यापन का चला चला रही है तो आप सोचिए कि पूरे देश की 70% जनसंख्या कर किसानों पर है तो क्यों किसानों की बातें नहीं सुनी जा रही है मतलब सरकार सरकार के ऊपर दबाव है कुछ लोगों का जो आप समझते होंगे कि कुछ पूछी पति लोग हैं जो अपने फायदे के लिए इन पूरी किसानों को किसान के साथ-साथ 70 परसेंट जनसंख्या प्रभावित होगी आप सोच लीजिए कि अगर किसान प्रभावित होंगे तो पूरी सत्तर परसेंट जनसंख्या भारत की प्रभावित होगी क्योंकि जब किसानों की बात नहीं सुनी जाएगी तो वह अपने अनाज को अगर गलत तरीके से आपको अगर उग आएंगे या नहीं उग आएंगे वह कुछ और अपने मर्जी का करेंगे तो आप करेंगे क्या क्योंकि हम जानते हैं कि हम किसानों के बदौलत ही सस्ते अनाज पाते हैं फिर भी सरकार नहीं सुनी है मतलब सरकार की भी साजिश है अब कुछ चंद पूजी पतियों का ऐसा हाथ है कि किसानों को इस तरीके के कानून लाकर और किसानों को परेशान करने की बातें चल रही है मैं बस यही कहूंगा कि सरकार बस यही चाहती है कि किसानों को या आम जनता पर हम अपने हिसाब से किसी कानून को सौंप दें तब हम स्वतंत्र भारत में रह रहे हैं हम ऐसा तो नहीं हम किसी तानाशाह में रह रहे किसी राजा के अधीन रह रहे हैं हम लोकतंत्र में रह रहे हैं तो लोकतंत्र का यही फर्ज होता है कि अगर जनता विरोध करती है जनता जानती है कि हमारा इसमें नुकसान होगा तो सरकार को भी समझना चाहिए क्या नुकसान है तुझसे नहीं लगा लगाना चाहिए क्योंकि जनता के बदौलत ही 5 साल सरकारी शासन करते हैं अगली बार जनता के ही बदौलत पर दूसरी बार होगी या कोई दूसरा शासन करेगा लेकिन अगर परेशान आम पब्लिक परेशान होगी तो कहीं ना कहीं मुझे लगता है कि सरकार भी परेशान होगी धन्य
Manoj jee ke dvaara anoodit prashn hai ki sarakaar kyon kisaanon kee baat nahin maanana chaahatee hai dekhie bahut bada raajaneetik mudda ke saath-saath kuchh logon ka sarakaar ke oopar haath hai aur un logon kee vajah se jo sarakaar hai in kisaanon kee baat nahin maanee hai kyonki ham sabhee jaanate hain ki hamaara jo desh hai vo kisaan pradhaan desh hai aur isamen 70 parsent janasankhya jo hai kisaanon ke badaulat hee saste anaaj par apana jeevan yaapan ka chala chala rahee hai to aap sochie ki poore desh kee 70% janasankhya kar kisaanon par hai to kyon kisaanon kee baaten nahin sunee ja rahee hai matalab sarakaar sarakaar ke oopar dabaav hai kuchh logon ka jo aap samajhate honge ki kuchh poochhee pati log hain jo apane phaayade ke lie in pooree kisaanon ko kisaan ke saath-saath 70 parasent janasankhya prabhaavit hogee aap soch leejie ki agar kisaan prabhaavit honge to pooree sattar parasent janasankhya bhaarat kee prabhaavit hogee kyonki jab kisaanon kee baat nahin sunee jaegee to vah apane anaaj ko agar galat tareeke se aapako agar ug aaenge ya nahin ug aaenge vah kuchh aur apane marjee ka karenge to aap karenge kya kyonki ham jaanate hain ki ham kisaanon ke badaulat hee saste anaaj paate hain phir bhee sarakaar nahin sunee hai matalab sarakaar kee bhee saajish hai ab kuchh chand poojee patiyon ka aisa haath hai ki kisaanon ko is tareeke ke kaanoon laakar aur kisaanon ko pareshaan karane kee baaten chal rahee hai main bas yahee kahoonga ki sarakaar bas yahee chaahatee hai ki kisaanon ko ya aam janata par ham apane hisaab se kisee kaanoon ko saump den tab ham svatantr bhaarat mein rah rahe hain ham aisa to nahin ham kisee taanaashaah mein rah rahe kisee raaja ke adheen rah rahe hain ham lokatantr mein rah rahe hain to lokatantr ka yahee pharj hota hai ki agar janata virodh karatee hai janata jaanatee hai ki hamaara isamen nukasaan hoga to sarakaar ko bhee samajhana chaahie kya nukasaan hai tujhase nahin laga lagaana chaahie kyonki janata ke badaulat hee 5 saal sarakaaree shaasan karate hain agalee baar janata ke hee badaulat par doosaree baar hogee ya koee doosara shaasan karega lekin agar pareshaan aam pablik pareshaan hogee to kaheen na kaheen mujhe lagata hai ki sarakaar bhee pareshaan hogee dhany

और जवाब सुनें

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:27
आपको सपना सरकार किसानों के बाद क्यों नहीं मानना चाहते सरकार असल में पूंजी पतियों के पक्ष की बात करती है सरकार हमारी है वह बनिया है और व्यवसाय पर चलती है वह किसानों के माल को खरीद करके उससे भी मत दो पैसा पैदा करें किसानों के हित से सरकार का कोई मतलब नहीं रह गया है इसलिए सरकार ने अपने इन कुशी कानूनों को प्रतिष्ठा का प्रश्न बना दिया है इसलिए उन्हें मारना चाहते हैं
Aapako sapana sarakaar kisaanon ke baad kyon nahin maanana chaahate sarakaar asal mein poonjee patiyon ke paksh kee baat karatee hai sarakaar hamaaree hai vah baniya hai aur vyavasaay par chalatee hai vah kisaanon ke maal ko khareed karake usase bhee mat do paisa paida karen kisaanon ke hit se sarakaar ka koee matalab nahin rah gaya hai isalie sarakaar ne apane in kushee kaanoonon ko pratishtha ka prashn bana diya hai isalie unhen maarana chaahate hain

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:34
खरा कपास में सरकार क्यों किसानों की बात नहीं मानना चाहती तो आपको बता देते कि जो सरकार है वह बिल बना चुकी है और वह संसद में पारित हो चुके हैं वैसी स्थिति में अगर सरकार इस बिल को यहां पर किसानों के प्रश्न में आकर दबाव में आकर आकर वापस ले लेती है तो आगे भी बहुत सारे ऐसे बिल है जिसके ऊपर सरकार पर दबाव बनाया जा सकता है उनको वापस भी करवाया जा सकता है सरकार झुकने को राजी नहीं है सरकार उसको चेंज करने को तैयार है लेकिन उसको वह वापस देने को तैयार करते ही नहीं है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Khara kapaas mein sarakaar kyon kisaanon kee baat nahin maanana chaahatee to aapako bata dete ki jo sarakaar hai vah bil bana chukee hai aur vah sansad mein paarit ho chuke hain vaisee sthiti mein agar sarakaar is bil ko yahaan par kisaanon ke prashn mein aakar dabaav mein aakar aakar vaapas le letee hai to aage bhee bahut saare aise bil hai jisake oopar sarakaar par dabaav banaaya ja sakata hai unako vaapas bhee karavaaya ja sakata hai sarakaar jhukane ko raajee nahin hai sarakaar usako chenj karane ko taiyaar hai lekin usako vah vaapas dene ko taiyaar karate hee nahin hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:42
दोस्तों इसके कई कारण हो सकते हैं एक तो सरकार जिस प्रकार से बीएसएनल हो चाहे बैंकिंग हो या रेलवे विभाग हर क्षेत्र में आने प्राइवेट ही करंट कर रही है तो इसी प्रकार किसानों का भी प्राइवेट ही कारण किया है जिसमें हो सकता है मुकेश अंबानी से कोई करार किया गया हो या पैर मुकेश अंबानी ने भारत से बाहर जाने की धमकी दी और मुकेश अंबानी यदि भारत से बाहर चले जाते तो हमारे देश की अर्थव्यवस्था और भी गिर जाए तो हो सकता है इसलिए सरकार किसानों की बात नहीं मान रही हो धन्यवाद
Doston isake kaee kaaran ho sakate hain ek to sarakaar jis prakaar se beeesenal ho chaahe bainking ho ya relave vibhaag har kshetr mein aane praivet hee karant kar rahee hai to isee prakaar kisaanon ka bhee praivet hee kaaran kiya hai jisamen ho sakata hai mukesh ambaanee se koee karaar kiya gaya ho ya pair mukesh ambaanee ne bhaarat se baahar jaane kee dhamakee dee aur mukesh ambaanee yadi bhaarat se baahar chale jaate to hamaare desh kee arthavyavastha aur bhee gir jae to ho sakata hai isalie sarakaar kisaanon kee baat nahin maan rahee ho dhanyavaad

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:43
सरकार क्यों किसानों की बात नहीं मानना चाहिए ऐसा तो नहीं है सरकार नहीं मरना चाहती है सरकार ने कह दिया खुले दिमाग पर आप लोग तय कर लीजिए कमेटी बना लीजिए उसका मोटी के अनुसार आपस में आप लोग तय कर ले और जो नीचे होगा कानून को बदलना कोई ज्यादा अच्छी बात नहीं है और उसे बदलाव से आपके घर क्या कर पाएंगे अभी के लिए तो मैं समझता हूं कि बसारी बंद बंद करने से क्या आपको हासिल होगा बेहतर होगा कि आप उस में जो बदलाव कर ले इस बदलाव के माध्यम से करें तो ज्यादा अच्छा रहेगा और इस तरह से कि नहीं निकाल उनको हटाना ही है और भी चीजें हैं वह थोड़ा ठीक नहीं रहता है और निश्चित तौर पर वह अच्छा नहीं होगा तो जो भी है उसको मिलजुल कर करें तो ज्यादा अच्छा रहेगा और दोनों पक्ष कहीं भी जिम्मेदार हैं और दोनों पक्ष अपनी हठधर्मिता लटके हुए हैं और जिसके कारण से ऐसा हो रहा है सरकार कह रही है कि हमने प्रपोजल दे दिया और बार-बार प्रपोजल दे रहे हैं उनका काम है तो खा लो अब करना और निश्चित तौर पर सरकार है इसमें से पीछे हट नहीं रही है कई बार वार्तालाप के लिए हमको इनवाइट भी किया है और कुछ स्तर तक माना भी गया है लेकिन मैं किसी कानून में कमियां हो सकती है उसको सुधारा जा सकता है और निश्चित तौर पर उसके लिए बेहतर आप करेंगे एक दूसरे से तभी हो पाएगा
Sarakaar kyon kisaanon kee baat nahin maanana chaahie aisa to nahin hai sarakaar nahin marana chaahatee hai sarakaar ne kah diya khule dimaag par aap log tay kar leejie kametee bana leejie usaka motee ke anusaar aapas mein aap log tay kar le aur jo neeche hoga kaanoon ko badalana koee jyaada achchhee baat nahin hai aur use badalaav se aapake ghar kya kar paenge abhee ke lie to main samajhata hoon ki basaaree band band karane se kya aapako haasil hoga behatar hoga ki aap us mein jo badalaav kar le is badalaav ke maadhyam se karen to jyaada achchha rahega aur is tarah se ki nahin nikaal unako hataana hee hai aur bhee cheejen hain vah thoda theek nahin rahata hai aur nishchit taur par vah achchha nahin hoga to jo bhee hai usako milajul kar karen to jyaada achchha rahega aur donon paksh kaheen bhee jimmedaar hain aur donon paksh apanee hathadharmita latake hue hain aur jisake kaaran se aisa ho raha hai sarakaar kah rahee hai ki hamane prapojal de diya aur baar-baar prapojal de rahe hain unaka kaam hai to kha lo ab karana aur nishchit taur par sarakaar hai isamen se peechhe hat nahin rahee hai kaee baar vaartaalaap ke lie hamako inavait bhee kiya hai aur kuchh star tak maana bhee gaya hai lekin main kisee kaanoon mein kamiyaan ho sakatee hai usako sudhaara ja sakata hai aur nishchit taur par usake lie behatar aap karenge ek doosare se tabhee ho paega

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:31
सरकारी असली बात नहीं करना चाहती किसानों की चिंता नहीं अभी का नहीं हो तो मैं पी का नाम अच्छा है अपनी अपनी चीज की जगह पर दोस्तों के लिए भी हड़ताल पर बेहतरीन भी सेकंड बात नहीं करना चाहती है
Sarakaaree asalee baat nahin karana chaahatee kisaanon kee chinta nahin abhee ka nahin ho to main pee ka naam achchha hai apanee apanee cheej kee jagah par doston ke lie bhee hadataal par behatareen bhee sekand baat nahin karana chaahatee hai

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:31
इसलिए दिन का तिथि प्रस्तुत के बारे में बताओ उत्तर देंगे संस्कृत में सरकार क्योंकि सा नंबर नहीं मानना चाहती कि सरकार नहीं जाती किसानों की बात मानी जाए जिससे कि किसान समाधान सरकार चाहती है कि हम फायदा नुकसान फायदा नुकसान हो रहा है उसे कर बहुत गलत कर रही है ऐसा नहीं करना चाहिए यह बहुत गलत है तो अन्याय हो रहा है कसाना
Isalie din ka tithi prastut ke baare mein batao uttar denge sanskrt mein sarakaar kyonki sa nambar nahin maanana chaahatee ki sarakaar nahin jaatee kisaanon kee baat maanee jae jisase ki kisaan samaadhaan sarakaar chaahatee hai ki ham phaayada nukasaan phaayada nukasaan ho raha hai use kar bahut galat kar rahee hai aisa nahin karana chaahie yah bahut galat hai to anyaay ho raha hai kasaana

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:59
सरकार क्यों किसानों की बात नहीं मानी मरना चाहती तू पहले से रमैया जो सरकार का था वो अडेल था और अब ऐसा लगता है कि उनकी समझ में कुछ आ गया है लेकिन सीधा वापस लेने के मूड में नहीं है आप उससे विरोधियों को राजनीतिक लाभ हो सकता है उसका श्रेय विरोधियों को जा सकता है और यह सरकार नहीं चाहती है और दूसरी तरफ अंतरराष्ट्रीय एक प्रेशर भारत सरकार के ऊपर है ऐसा लगता है पिछले कई निर्णय जो है वह लेने के बाद नरेंद्र मोदी जी का बॉडी लैंग्वेज पहले की तरह नहीं रहा है खास करके लोगों को कोरोनावायरस की सरकार किसी के दबाव में और भारत की भी इंडस्ट्रियलिस्ट जो है कारपोरेट सेक्टर जो है जिन्होंने सरकार बना कर दी थी उसका भी सरकार के ऊपर एक प्रेशर है अगर वह कारपोरेट सैया उद्योग जगत जगत के लोग एक बार उस कदम पीछे ले सकते हैं अगले भी रहे ऐसा दिखाई देता है इसमें कुछ समय निकालकर कुछ मुद्दों पर रकम सरकार कंप्रोमाइज करना चाहती है लेकिन किसान भी जो है वह ऐसी बातों को जानते हैं और वह मांग की मांग कर रहे हैं कि तीनो के तीनो के तीनो के दिन का जो पहले वापस ले लिया जाए इस पर किसान मरे हुए हैं और किसान जानता है कि उसके साथ क्या हो रहा है होगा अब किसान हमारे देश का सबसे बड़ा वर्ग भी है और उत्पादक हो रहे श्रमिक वर्ग है वह अगर इस सरकार के खिलाफ गया तो इस सरकार कभी नहीं आएगी इसका भी एक प्रेशर मोदी सरकार पर है इसलिए वह दूसरे किसानों की आय नेताओं को आगे करके डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश कर रहे हैं तो इस तरीके से आंदोलन और भी ज्यादा दूर हुआ तेज हुआ तो सरकार को यह बिल वापस लेना पड़ेगा और उसके साथ भी नहीं वापस लिया तुझे से गेट करार लाया गया मान्य किया गया उसी तरीके से यह माननीय कर दिया जाएगा अब देश के किसानों का आरोप लोगों का एक बहुत बड़ा नुकसान इसमें होगा आगे जाकर तो सरकार ने भी कुछ समझदारी और स्वाभिमान दिखाकर यह बिल वापस लेनी चाहिए नहीं तो आगे जाकर उसकी बहुत गंभीर परिणाम होने वाले हैं ऐसा लगता है धन्यवाद
Sarakaar kyon kisaanon kee baat nahin maanee marana chaahatee too pahale se ramaiya jo sarakaar ka tha vo adel tha aur ab aisa lagata hai ki unakee samajh mein kuchh aa gaya hai lekin seedha vaapas lene ke mood mein nahin hai aap usase virodhiyon ko raajaneetik laabh ho sakata hai usaka shrey virodhiyon ko ja sakata hai aur yah sarakaar nahin chaahatee hai aur doosaree taraph antararaashtreey ek preshar bhaarat sarakaar ke oopar hai aisa lagata hai pichhale kaee nirnay jo hai vah lene ke baad narendr modee jee ka bodee laingvej pahale kee tarah nahin raha hai khaas karake logon ko koronaavaayaras kee sarakaar kisee ke dabaav mein aur bhaarat kee bhee indastriyalist jo hai kaaraporet sektar jo hai jinhonne sarakaar bana kar dee thee usaka bhee sarakaar ke oopar ek preshar hai agar vah kaaraporet saiya udyog jagat jagat ke log ek baar us kadam peechhe le sakate hain agale bhee rahe aisa dikhaee deta hai isamen kuchh samay nikaalakar kuchh muddon par rakam sarakaar kampromaij karana chaahatee hai lekin kisaan bhee jo hai vah aisee baaton ko jaanate hain aur vah maang kee maang kar rahe hain ki teeno ke teeno ke teeno ke din ka jo pahale vaapas le liya jae is par kisaan mare hue hain aur kisaan jaanata hai ki usake saath kya ho raha hai hoga ab kisaan hamaare desh ka sabase bada varg bhee hai aur utpaadak ho rahe shramik varg hai vah agar is sarakaar ke khilaaph gaya to is sarakaar kabhee nahin aaegee isaka bhee ek preshar modee sarakaar par hai isalie vah doosare kisaanon kee aay netaon ko aage karake daimej kantrol karane kee koshish kar rahe hain to is tareeke se aandolan aur bhee jyaada door hua tej hua to sarakaar ko yah bil vaapas lena padega aur usake saath bhee nahin vaapas liya tujhe se get karaar laaya gaya maany kiya gaya usee tareeke se yah maananeey kar diya jaega ab desh ke kisaanon ka aarop logon ka ek bahut bada nukasaan isamen hoga aage jaakar to sarakaar ne bhee kuchh samajhadaaree aur svaabhimaan dikhaakar yah bil vaapas lenee chaahie nahin to aage jaakar usakee bahut gambheer parinaam hone vaale hain aisa lagata hai dhanyavaad

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Personal Life guidance session book Appointment ID - discoveryourjourney23@gmail.com
2:58
सवाल है सरकार क्यों किसान की बात नहीं मानना चाहती तो डिअर मैंने अपनी कितने सारे क्वेश्चन में इनका आंसर दिया हुआ है लेकिन इसमें भी मैं आपको देखना चाहती हूं सरकार इसलिए किसानों की बात नहीं मानना चाहती क्योंकि हमारे देश में हंड्रेड परसेंट किसान में 20% किसान ऐसे हैं जो यह बिल पारित नहीं हुआ था उससे पहले ही इस बिल के अनुसार ही यह 20% किसान अपनी सब्जियों को जितने भी वेजिटेबल सेंड जो भी सुनते हैं वह ऐसे ही सेंड करते थे इसलिए वह आज एक अमीर किसान है और वह आज धरना में अगर बैठे हुए हैं तो आप देखते हैं कि वह गाड़ियों में आए हैं उनके पास बड़े-बड़े सेलफोन है ठीक है तो उसमें अगर वह बैठे हुए लेकिन जो इतनी पसंद के साथ हैं जिन्हें राहत की सांस मिली है जो गरीब किसानों की फसल किसान गरीब ही है इस तरीके का काम नहीं कर सकते थे जो 20% किसान करते हैं 20% किसान है जो भी दे बैठे हैं उन के बीचो बीच कुछ आतंकवादी भी बैठे हुए अब कुछ ऐसे नेता है जो इंडिया को क्रोध को रोकने के लिए बैठे हुए और ध्यान से देखा जाए तो जो इतनी पसंद है वह अपने घरों में है खेतों में है और काम कर रहे हैं उनके पास समय नहीं है कि वह इस तरीके का धरना दें और वह इसलिए नहीं दे रहे हैं क्योंकि अब उनकी ग्रोथ का समय आया है यह बिल पारित हुआ है तो उस सब लोग खुश हैं और बहुत मेहनत से बनी सब्जियां भाजी लगा रहे हैं लेकिन जो 20% किसान है वह क्यों वहां बैठे हुए हैं क्या उनके पास काम नहीं है वो अपने खेतों में काम ना करें वहां इतने सारे किसान नहीं है जितने बताए जा रहे हैं इतनी पसंद के साथ बहुत खुश हैं जिनकी सब्जियां सड़कों में बिखरी रहती थी आज उन्हें राहत की सांस मिली है कि उनकी सब्जियां अच्छे दामों में भी बिकेगी और आई लव यू मंडियों में भी कर सकते हैं कंपनियों को भी सेंड कर सकती हैं तो उनके घर में भी आवाज वह भी अपने बच्चों को पढ़ाएंगे ठीक है और जितने भी 20% किसान हैं उन लोगों को डर हो गया है कि 30% गरीब किसान अमीर ना हो जाए क्योंकि वह तभी तो धरने में बैठे हैं उनकी सूची सरकार तो कुछ नहीं कर रही है ना लेकिन उनका खाना पीना यह सब कहां से आ रहा है रहने के लिए सोने की भी सारी चीजें कहां से आ रही है सरकार के पास इतना पैसा कहां है कि वह इनके लिए 2 जाएंगे यह बिल्कुल सोची समझी साजिश है इसी के बीच किसानों के बीच ही सारे लोग हैं जो कि यह सारी चीजें कर रहे हैं आतंकवादी नेता लोग और यह जो पैसे हारे कहां से आ रहे हैं इसके बारे में आप डिस्कवर करें अगर आप दीप जाएंगे ना तो आपको समझ में आएगा कि क्या खेल हो रहा है क्या माजरा से होता है तो हमारी देश की जनता जानती है कि अगर किसान की ग्रोथ रुक गई तो इंडिया रुक जाएगा
Savaal hai sarakaar kyon kisaan kee baat nahin maanana chaahatee to diar mainne apanee kitane saare kveshchan mein inaka aansar diya hua hai lekin isamen bhee main aapako dekhana chaahatee hoon sarakaar isalie kisaanon kee baat nahin maanana chaahatee kyonki hamaare desh mein handred parasent kisaan mein 20% kisaan aise hain jo yah bil paarit nahin hua tha usase pahale hee is bil ke anusaar hee yah 20% kisaan apanee sabjiyon ko jitane bhee vejitebal send jo bhee sunate hain vah aise hee send karate the isalie vah aaj ek ameer kisaan hai aur vah aaj dharana mein agar baithe hue hain to aap dekhate hain ki vah gaadiyon mein aae hain unake paas bade-bade selaphon hai theek hai to usamen agar vah baithe hue lekin jo itanee pasand ke saath hain jinhen raahat kee saans milee hai jo gareeb kisaanon kee phasal kisaan gareeb hee hai is tareeke ka kaam nahin kar sakate the jo 20% kisaan karate hain 20% kisaan hai jo bhee de baithe hain un ke beecho beech kuchh aatankavaadee bhee baithe hue ab kuchh aise neta hai jo indiya ko krodh ko rokane ke lie baithe hue aur dhyaan se dekha jae to jo itanee pasand hai vah apane gharon mein hai kheton mein hai aur kaam kar rahe hain unake paas samay nahin hai ki vah is tareeke ka dharana den aur vah isalie nahin de rahe hain kyonki ab unakee groth ka samay aaya hai yah bil paarit hua hai to us sab log khush hain aur bahut mehanat se banee sabjiyaan bhaajee laga rahe hain lekin jo 20% kisaan hai vah kyon vahaan baithe hue hain kya unake paas kaam nahin hai vo apane kheton mein kaam na karen vahaan itane saare kisaan nahin hai jitane batae ja rahe hain itanee pasand ke saath bahut khush hain jinakee sabjiyaan sadakon mein bikharee rahatee thee aaj unhen raahat kee saans milee hai ki unakee sabjiyaan achchhe daamon mein bhee bikegee aur aaee lav yoo mandiyon mein bhee kar sakate hain kampaniyon ko bhee send kar sakatee hain to unake ghar mein bhee aavaaj vah bhee apane bachchon ko padhaenge theek hai aur jitane bhee 20% kisaan hain un logon ko dar ho gaya hai ki 30% gareeb kisaan ameer na ho jae kyonki vah tabhee to dharane mein baithe hain unakee soochee sarakaar to kuchh nahin kar rahee hai na lekin unaka khaana peena yah sab kahaan se aa raha hai rahane ke lie sone kee bhee saaree cheejen kahaan se aa rahee hai sarakaar ke paas itana paisa kahaan hai ki vah inake lie 2 jaenge yah bilkul sochee samajhee saajish hai isee ke beech kisaanon ke beech hee saare log hain jo ki yah saaree cheejen kar rahe hain aatankavaadee neta log aur yah jo paise haare kahaan se aa rahe hain isake baare mein aap diskavar karen agar aap deep jaenge na to aapako samajh mein aaega ki kya khel ho raha hai kya maajara se hota hai to hamaaree desh kee janata jaanatee hai ki agar kisaan kee groth ruk gaee to indiya ruk jaega

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:50
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है सरकार क्यों किसानों की बात नहीं मनाना चाहती तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर यह है सरकार किसानों की बात इसलिए नहीं माना करते क्योंकि हमारे देश की सरकार ने तीन काले कानून बनाए हैं वह किसान विरोधी हैं और हमारे देश के अन्नदाता ऊपर थोपना चाहती है क्योंकि उनसे चंद पूंजीपति लोगों को फायदा होने वाला है इसलिए सरकार इन बिलों को वापिस नहीं ले रही है क्योंकि सरकार को इन पूंजी पतियों से मोटा मोटा चंदा मिलता है जो किसानों के तीन कॉलेजों को वक्त नहीं लेना चाहती है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka prashn hai sarakaar kyon kisaanon kee baat nahin manaana chaahatee to doston aapake prashn ka uttar yah hai sarakaar kisaanon kee baat isalie nahin maana karate kyonki hamaare desh kee sarakaar ne teen kaale kaanoon banae hain vah kisaan virodhee hain aur hamaare desh ke annadaata oopar thopana chaahatee hai kyonki unase chand poonjeepati logon ko phaayada hone vaala hai isalie sarakaar in bilon ko vaapis nahin le rahee hai kyonki sarakaar ko in poonjee patiyon se mota mota chanda milata hai jo kisaanon ke teen kolejon ko vakt nahin lena chaahatee hai dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:56
आपका प्रश्न है कि सरकार क्यों किसानों की बात नहीं मानना चाहती किसानों की बात तो मानना चाहती है लेकिन जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं वह किसान नहीं तो बड़े-बड़े जमीदार हैं वह करोड़पति की शान है जिनके 500 500 1000 हजार पंद्रह सौ बीघा जमीन है जहां आपके मेरे जैसे गरीब किसान जिनके एक एक एक कर दो एक कर 3 एकड़ की छोटी छोटी जोत वाली जमीन है वह लोग उनके वहां पर जाकर की खेती करते हैं और वह मर्सिडीज में अपने खेत पर जाते हैं इसलिए उन किसानों के बारे में बात मत करिए और इसीलिए सरकार यह जानती है कि यह बिल वास्तव में उन लोगों के जीवन को बदलने वाला है उन लोगों की जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन लाने वाला है जिनके छोटी जोत है या मध्यम जोखिम के 1 एकड़ से लेकर के 10 एकड़ 15 एकड़ 20 एकड़ तक जमीन है ऐसे लोगों को वास्तव में इस कृषि बिल से अधिक फायदा होने वाला है कि किसानों के जीवन को बदल देने वाला और यह बोलो कि इसका विरोध कर रहे हैं जिनकी खुद की अपनी मंडियां हैं जिनके हजार हजार बड़े बड़े पूंजीपति किसान है खुद की अपनी मंडिया चलाते हैं उनको पता है कि सरकार के इस के बाजार की टीम इस बिल के कारण मार्केट में दूसरी प्राइवेट मंडिया भी आ जाएगी तो हमारा एकाधिकार खत्म हो जाएगा आज हम किसानों को चाहे जो रेट देते हमारी मनमानी करते हैं फिर हमारा एकाधिकार खत्म हो जाएगा ज्यादा रेट में दूसरी जगह किसान भेज पाएंगे और हमारा जो बीच का कमीशन है वह सब खत्म हो जाएगा इस कमीशन खोरी के कारण यह बड़े-बड़े किसान सरकार के इस बिल का विरोध कर रहे हैं और इसके लिए सरकार जानती है कि यह किस कारण से विरोध कर रहे हैं वास्तव में जो किसान है जो छोटा किसान है मध्यम के सामने जिनको वास्तव में आमदनी की समस्या है जिनके वास्तव में बिचौलिए बीच में पैसे खा जाते हैं उन लोगों के लिए कृषि बिल आज से आने वाले 10 साल बाद वह लोग मोदी की जय जयकार करेंगे कि कोई प्रधानमंत्री व इसमें हमारा जीवन बदल दिया सरकार यह जानती है और इसीलिए मोदी सरकार इन किसानों की बात नहीं मानना चाहती है जो कि पूंजीपति करोड़पति किसान है वहां पर आ कर के बैठे हुए विरोध कर रहे हैं और आज की शर्मनाक हरकत के बाद तुमसे बात होना भी नहीं चाहिए धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki sarakaar kyon kisaanon kee baat nahin maanana chaahatee kisaanon kee baat to maanana chaahatee hai lekin jo log isaka virodh kar rahe hain vah kisaan nahin to bade-bade jameedaar hain vah karodapati kee shaan hai jinake 500 500 1000 hajaar pandrah sau beegha jameen hai jahaan aapake mere jaise gareeb kisaan jinake ek ek ek kar do ek kar 3 ekad kee chhotee chhotee jot vaalee jameen hai vah log unake vahaan par jaakar kee khetee karate hain aur vah marsideej mein apane khet par jaate hain isalie un kisaanon ke baare mein baat mat karie aur iseelie sarakaar yah jaanatee hai ki yah bil vaastav mein un logon ke jeevan ko badalane vaala hai un logon kee jeevan mein kraantikaaree parivartan laane vaala hai jinake chhotee jot hai ya madhyam jokhim ke 1 ekad se lekar ke 10 ekad 15 ekad 20 ekad tak jameen hai aise logon ko vaastav mein is krshi bil se adhik phaayada hone vaala hai ki kisaanon ke jeevan ko badal dene vaala aur yah bolo ki isaka virodh kar rahe hain jinakee khud kee apanee mandiyaan hain jinake hajaar hajaar bade bade poonjeepati kisaan hai khud kee apanee mandiya chalaate hain unako pata hai ki sarakaar ke is ke baajaar kee teem is bil ke kaaran maarket mein doosaree praivet mandiya bhee aa jaegee to hamaara ekaadhikaar khatm ho jaega aaj ham kisaanon ko chaahe jo ret dete hamaaree manamaanee karate hain phir hamaara ekaadhikaar khatm ho jaega jyaada ret mein doosaree jagah kisaan bhej paenge aur hamaara jo beech ka kameeshan hai vah sab khatm ho jaega is kameeshan khoree ke kaaran yah bade-bade kisaan sarakaar ke is bil ka virodh kar rahe hain aur isake lie sarakaar jaanatee hai ki yah kis kaaran se virodh kar rahe hain vaastav mein jo kisaan hai jo chhota kisaan hai madhyam ke saamane jinako vaastav mein aamadanee kee samasya hai jinake vaastav mein bichaulie beech mein paise kha jaate hain un logon ke lie krshi bil aaj se aane vaale 10 saal baad vah log modee kee jay jayakaar karenge ki koee pradhaanamantree va isamen hamaara jeevan badal diya sarakaar yah jaanatee hai aur iseelie modee sarakaar in kisaanon kee baat nahin maanana chaahatee hai jo ki poonjeepati karodapati kisaan hai vahaan par aa kar ke baithe hue virodh kar rahe hain aur aaj kee sharmanaak harakat ke baad tumase baat hona bhee nahin chaahie dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसानों की मांग क्या है 2020,किसान आंदोलन पर निबंध,तीन कृषि कानून क्या है
URL copied to clipboard