#धर्म और ज्योतिषी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:40
हेलो शिवांशु आज आपका सवाल है कि जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वासी हो गए जब भी किसी की मौत होती है या फिर किसी का जन्म होता है हर चीज हमारे मतलब रीजन के जो भी हमारे धार्मिक जो भी किताबें है उसमें भी लिखा गया है हर एक चीज और साइंस के हिसाब से भी हमने पढ़ा जो आत्मा होती है वह एक तरह का एनर्जी होता है साइंस के नाम से व्यक्ति रहकर भी होता है और हमारी किताबों में भी लिखा हुआ है कि जब किसी की मौत होती है तो स्वर्ग हो या फिर नर्क हो वहां चले जाते फिर उनका जन्म होता है दूसरा जन्म भी होता है यह भी इस बारे में भी डिटेल में लिखा गया और सबसे फूल और आत्मा एनर्जी है और इन्हीं में पता है कि नहीं डिस्ट्रॉय हो सकता है ना ही उसे हम अमृत क्रिएट कर सकते हैं लेकिन हम उसे में कन्वर्ट कर सकते मतलब बदल सकते हैं गुजराती आत्मा केनर्जी गंजा से आत्मा निकलती है वह कन्वर्ट हो जाती है और परिवर्तन हो जाता है उसके दूसरे शरीर में तो साइंस के सबसे और धार्मिक के हिसाब से दोनों हिसाब से यह तरह का परिवर्तन नहीं होता इसलिए नहीं कि हां यहां पर यह ड्रेस को चारा खत्म हो जा रहा है सही से एक परिवर्तन होता है जिसे हम कहते हैं कि नहीं वह दूसरे जगह है फिर दूसरे इंसान में किसी में आत्मा चली गई है और फिर वह इंसान के अंदर की आत्मा है और वह इंसान अभी किसी और जगह होगा मैं नहीं पता होता है आपसे यही लिखा क्या है यही हम समझे यही हमने पढ़ा है इसीलिए और सारे लोग ही कहते हैं कि और जब किसी की मौत होती है तो वह पर लोग चले जाते हैं
Helo shivaanshu aaj aapaka savaal hai ki jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaasee ho gae jab bhee kisee kee maut hotee hai ya phir kisee ka janm hota hai har cheej hamaare matalab reejan ke jo bhee hamaare dhaarmik jo bhee kitaaben hai usamen bhee likha gaya hai har ek cheej aur sains ke hisaab se bhee hamane padha jo aatma hotee hai vah ek tarah ka enarjee hota hai sains ke naam se vyakti rahakar bhee hota hai aur hamaaree kitaabon mein bhee likha hua hai ki jab kisee kee maut hotee hai to svarg ho ya phir nark ho vahaan chale jaate phir unaka janm hota hai doosara janm bhee hota hai yah bhee is baare mein bhee ditel mein likha gaya aur sabase phool aur aatma enarjee hai aur inheen mein pata hai ki nahin distroy ho sakata hai na hee use ham amrt kriet kar sakate hain lekin ham use mein kanvart kar sakate matalab badal sakate hain gujaraatee aatma kenarjee ganja se aatma nikalatee hai vah kanvart ho jaatee hai aur parivartan ho jaata hai usake doosare shareer mein to sains ke sabase aur dhaarmik ke hisaab se donon hisaab se yah tarah ka parivartan nahin hota isalie nahin ki haan yahaan par yah dres ko chaara khatm ho ja raha hai sahee se ek parivartan hota hai jise ham kahate hain ki nahin vah doosare jagah hai phir doosare insaan mein kisee mein aatma chalee gaee hai aur phir vah insaan ke andar kee aatma hai aur vah insaan abhee kisee aur jagah hoga main nahin pata hota hai aapase yahee likha kya hai yahee ham samajhe yahee hamane padha hai iseelie aur saare log hee kahate hain ki aur jab kisee kee maut hotee hai to vah par log chale jaate hain

और जवाब सुनें

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:57
क्वेश्चन पूछा गया कि जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वार्षिक आधार पर अगला जन्म लेना अगर हम तो आज तक कोई भी इसके बाद की जो है रहस्य को नहीं जान पाया है और सभी लोग जो होते हैं कल्पना करते हैं लेकिन अगर हम उन्हीं सत्य की अगर बात करें तो कुछ समय पहले जैसे लोगों की धारणा है और लोग कहते भी हैं ऐसे जो है मिले हैं जो अपने पूर्व जन्म की कहानी को बताते हैं और यह लोग जो हैं यह इस बात पर विश्वास भी कर लेते थे और आज बना लिया है कि इसी बात को जो है चारों तरफ फैलने के कारण आज कितने लोग जो है मानते हैं कि व्यक्ति की जब मृत्यु होती है तो वह उसका जो होता है अगला जन्म होता है और वह लोग वासियों ने की जो भी स्वर्ग और नर्क होता है उसके बाद से हो जाते हैं
Kveshchan poochha gaya ki jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaarshik aadhaar par agala janm lena agar ham to aaj tak koee bhee isake baad kee jo hai rahasy ko nahin jaan paaya hai aur sabhee log jo hote hain kalpana karate hain lekin agar ham unheen saty kee agar baat karen to kuchh samay pahale jaise logon kee dhaarana hai aur log kahate bhee hain aise jo hai mile hain jo apane poorv janm kee kahaanee ko bataate hain aur yah log jo hain yah is baat par vishvaas bhee kar lete the aur aaj bana liya hai ki isee baat ko jo hai chaaron taraph phailane ke kaaran aaj kitane log jo hai maanate hain ki vyakti kee jab mrtyu hotee hai to vah usaka jo hota hai agala janm hota hai aur vah log vaasiyon ne kee jo bhee svarg aur nark hota hai usake baad se ho jaate hain

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:42
एक्सप्रेस ने जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वासी यानी अगला जन्म हो गया मैं आपको बताना चाहता हूं मैं अभी यह बात सुना हूं इसलिए आपके साथ शेयर कर रहा हूं कि मैं सुनता हूं ज्यादा लोग से सुनता हूं कि कहते हैं कि शरीर मरता है आत्मा नहीं आत्मा इस शरीर से जो जन्म लेने वाला होता है उस शरीर में प्रवेश कर जाता है इसी के चलते लोग कहते हैं कि किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा वहां पर लोग बांसी या नहीं अगला जन्म हो जाता है धन्यवाद
Eksapres ne jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaasee yaanee agala janm ho gaya main aapako bataana chaahata hoon main abhee yah baat suna hoon isalie aapake saath sheyar kar raha hoon ki main sunata hoon jyaada log se sunata hoon ki kahate hain ki shareer marata hai aatma nahin aatma is shareer se jo janm lene vaala hota hai us shareer mein pravesh kar jaata hai isee ke chalate log kahate hain ki kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa vahaan par log baansee ya nahin agala janm ho jaata hai dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:17
जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि परलोक वासी अलग जन्म होगा लेकिन ऐसा सिर्फ अपने मन को तसल्ली देने की कहीं नहीं जब अपना जाता है तो उसे हमारा लगा होता है और बहुत ज्यादा लगा होता है मानो कम मानो का अपने रिश्तो से हमें पता नहीं होता है कि पर लोग लेकिन हम वीडियो से सुनते आ रहे हैं कि दूसरी दुनिया में चला गया यमराज आ रहे हैं और कोई आ रहा हूं होली के जा रहा है कुछ अच्छे लोग चले जाते हैं तो सब और दुख होता है लेकिन हम सांत्वना देते हैं कि भगवान को जरूरत थी अच्छे लोगों की से बुला लिया अपने मन को ढाल डस देते हैं अपने आप को समझने का प्रयास करती है और जीने का प्रयास करते हैं और ऐसी बताए चली आ रही है सब लोग कहते हैं लेकिन सभी वैज्ञानिक कारण तो नहीं है अब हम भी कह रहे हैं जो हमारे दादा परदादा देखते थे हमारे धर्म के लोग कहते हैं हमारे शास्त्रों में वर्णित गए ऐसी खाए हैं तो हम उसको मंत्र चले आ रहे हैं
Jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki paralok vaasee alag janm hoga lekin aisa sirph apane man ko tasallee dene kee kaheen nahin jab apana jaata hai to use hamaara laga hota hai aur bahut jyaada laga hota hai maano kam maano ka apane rishto se hamen pata nahin hota hai ki par log lekin ham veediyo se sunate aa rahe hain ki doosaree duniya mein chala gaya yamaraaj aa rahe hain aur koee aa raha hoon holee ke ja raha hai kuchh achchhe log chale jaate hain to sab aur dukh hota hai lekin ham saantvana dete hain ki bhagavaan ko jaroorat thee achchhe logon kee se bula liya apane man ko dhaal das dete hain apane aap ko samajhane ka prayaas karatee hai aur jeene ka prayaas karate hain aur aisee batae chalee aa rahee hai sab log kahate hain lekin sabhee vaigyaanik kaaran to nahin hai ab ham bhee kah rahe hain jo hamaare daada paradaada dekhate the hamaare dharm ke log kahate hain hamaare shaastron mein varnit gae aisee khae hain to ham usako mantr chale aa rahe hain

Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:38
लोकगीत हिंदी में धकेल रहे सरकार ने की थी और मैंने तेरे से पूछा कि तुम कितनी बोलियां बोली जाती है फोटो आपके जवाब दो अपने जन्म हो सकता है हम कहां मस्ती 2 पिक्चर एचडी कहते हैं
Lokageet hindee mein dhakel rahe sarakaar ne kee thee aur mainne tere se poochha ki tum kitanee boliyaan bolee jaatee hai photo aapake javaab do apane janm ho sakata hai ham kahaan mastee 2 pikchar echadee kahate hain

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:07
खाना कब तक ने जो किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि मैं पढ़ लो को वासी अगला जन्म हो गए तो आपको बता दें देखिए ऐसा माना जाता है कि संसार में हर एक एनर्जी जो है जो एनर्जी सोर्स है वह नश्वर है वह मरता नहीं है वह सिर्फ ट्रांसफार्म होता है एक फोन से दूसरे फोन में जैसे कि अगर हम बात करें कि हम जैसे हाथों को अपनाया करते हैं मरते हैं तो क्या होता है उससे कह दे कि नहीं जी जो है वह ट्रांसफर हो जाती है कन्वर्ट जाती है हीट एनर्जी में हमारे हाथ गर्म हो जाते हैं तो यहां से उसका टाइप बदलता है यही चीज इंप्लीमेंट होती है पूरी दुनिया के ऊपर और कहा जाता है कि जब कोई व्यक्ति मर जाता है तो वह उसका अगला जन्म होता है और वकील फॉर्म में होता है क्या बनकर आता है यह किसी को नहीं पता था लेकिन अगले जन्म के लिए वह व्यक्ति अपना जो पुराना जाना है उसको छोड़ देता है तो यानी कि उसका यहां से ट्रांस हो जाता है आपकी क्या राय है तुम्हारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Khaana kab tak ne jo kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki main padh lo ko vaasee agala janm ho gae to aapako bata den dekhie aisa maana jaata hai ki sansaar mein har ek enarjee jo hai jo enarjee sors hai vah nashvar hai vah marata nahin hai vah sirph traansaphaarm hota hai ek phon se doosare phon mein jaise ki agar ham baat karen ki ham jaise haathon ko apanaaya karate hain marate hain to kya hota hai usase kah de ki nahin jee jo hai vah traansaphar ho jaatee hai kanvart jaatee hai heet enarjee mein hamaare haath garm ho jaate hain to yahaan se usaka taip badalata hai yahee cheej impleement hotee hai pooree duniya ke oopar aur kaha jaata hai ki jab koee vyakti mar jaata hai to vah usaka agala janm hota hai aur vakeel phorm mein hota hai kya banakar aata hai yah kisee ko nahin pata tha lekin agale janm ke lie vah vyakti apana jo puraana jaana hai usako chhod deta hai to yaanee ki usaka yahaan se traans ho jaata hai aapakee kya raay hai tumhaare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:53
सवाल पूछा गया है जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वारसी हो गए तो सवाल करता ने बहुत खूब प्रश्न किया है तो उसके जवाब में मैं आपको बता देता हूं कि हमारा जो यूनिवर्स है हमारा जो यूनिवर्स है जिसमें हम रहते हैं जो यह ब्रह्मांड है उस ब्रह्मांड में 14 लोग अलग-अलग हैं सबसे ऊपर वाला है जो उसको सत्य लोग कहा जाता है फिर नीचे तब्बू लोग है उसे अमरलोक आता है स्वर्ग लोक आता है वह लोग आता है फिर बीच में हमारा भी लोग देश अमृत यू मरते लोग भी कहा जाता है उसके नीचे और चाहते हैं आजकल है वेतन में सुतल है काला तिल है महाकाल है रसातल है फिर नीचे लास्ट में आता है पाताल इस तरीके से 14 लोग हैं अलग-अलग इस पूरे ब्रह्मांड में और इस 14 लोगों में जब भी इंसान धरती मरता है तो उस धरती तो मरने के बाद वह किसी न किसी लोक में जाएगा और अन्य लोग किसी भी लोक में जाए वह पढ़ लो कि हुआ हमारे लोक में तो नहीं रहा ना इसीलिए अन्य लोक में जाना ही पर लोगों को लोग वासी होना कहा गया है तो यह एक पूरा सिस्टम है जो भगवान द्वारा बनाया गया है जो लोग हैं एक ब्रह्मांड है उसके अंदर 14 लोग हैं उसके साथ जब भी कोई मरता है तो कौन से लोक में जाना है यह हमें नहीं पता उनके कर्म डिसाइड करते हैं परंतु जब कोई मरता है तो वह धरती को छोड़कर किसी अन्य लोग नहीं जाएगा यह बिल्कुल है और अगर मेरा ही जवाब आपको पसंद आया हो तो अपने सवाल के साथ जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaarasee ho gae to savaal karata ne bahut khoob prashn kiya hai to usake javaab mein main aapako bata deta hoon ki hamaara jo yoonivars hai hamaara jo yoonivars hai jisamen ham rahate hain jo yah brahmaand hai us brahmaand mein 14 log alag-alag hain sabase oopar vaala hai jo usako saty log kaha jaata hai phir neeche tabboo log hai use amaralok aata hai svarg lok aata hai vah log aata hai phir beech mein hamaara bhee log desh amrt yoo marate log bhee kaha jaata hai usake neeche aur chaahate hain aajakal hai vetan mein sutal hai kaala til hai mahaakaal hai rasaatal hai phir neeche laast mein aata hai paataal is tareeke se 14 log hain alag-alag is poore brahmaand mein aur is 14 logon mein jab bhee insaan dharatee marata hai to us dharatee to marane ke baad vah kisee na kisee lok mein jaega aur any log kisee bhee lok mein jae vah padh lo ki hua hamaare lok mein to nahin raha na iseelie any lok mein jaana hee par logon ko log vaasee hona kaha gaya hai to yah ek poora sistam hai jo bhagavaan dvaara banaaya gaya hai jo log hain ek brahmaand hai usake andar 14 log hain usake saath jab bhee koee marata hai to kaun se lok mein jaana hai yah hamen nahin pata unake karm disaid karate hain parantu jab koee marata hai to vah dharatee ko chhodakar kisee any log nahin jaega yah bilkul hai aur agar mera hee javaab aapako pasand aaya ho to apane savaal ke saath jaroor jud jaega dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:07
जब किसी की मृत्यु होती है तो उस कहते हैं पढ़ लो बासी हो गया है या दिवंगत हो गया है या स्वर्गवासी हो गया है या बैकुंठ लोक गया है क्या वह शुद्ध पहुंच गया है जब पंचतत्व में विलीन हो गया है कि विभिन्न प्रकार के शब्दों के अर्थ वही है और पशु पक्षी कहने से तात्पर्य होता है कि वह हिंदू धर्म में हमेशा मानते हैं कि सब कुछ भी मृत्यु होती है तो उसके लिए हम कहते हैं कि 10 वर्ग को किया है वह बैकुंठ लोक को गया है अर्थात भगवान के पास में जाना ही हमारा परमार्थ है हमारा हमारे जन का सार्थक प्रयास है और इसी को मोक्ष कहते हैं जब मानव आवागमन से मुक्त हो जाए तो वह मुक्त कहलाता है और यही जीवन के चौथे प्रशांत है जिसे हम धर्म अर्थ काम मोक्ष कहते हैं तो यह जो है जीवन का अंतिम और शाश्वत परम प्रशांत है
Jab kisee kee mrtyu hotee hai to us kahate hain padh lo baasee ho gaya hai ya divangat ho gaya hai ya svargavaasee ho gaya hai ya baikunth lok gaya hai kya vah shuddh pahunch gaya hai jab panchatatv mein vileen ho gaya hai ki vibhinn prakaar ke shabdon ke arth vahee hai aur pashu pakshee kahane se taatpary hota hai ki vah hindoo dharm mein hamesha maanate hain ki sab kuchh bhee mrtyu hotee hai to usake lie ham kahate hain ki 10 varg ko kiya hai vah baikunth lok ko gaya hai arthaat bhagavaan ke paas mein jaana hee hamaara paramaarth hai hamaara hamaare jan ka saarthak prayaas hai aur isee ko moksh kahate hain jab maanav aavaagaman se mukt ho jae to vah mukt kahalaata hai aur yahee jeevan ke chauthe prashaant hai jise ham dharm arth kaam moksh kahate hain to yah jo hai jeevan ka antim aur shaashvat param prashaant hai

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
उसका जीवन चक्र और सृष्टि की रचना जो है काफी ज्यादा पर्ची दी है जिसको समझना बहुत ही ज्यादा मुश्किल है सहज नहीं है इस को सहज रूप में उतारने के लिए हम इन सब चीजों का सहारा लेते हैं कि जब कोई हमारे बीच नहीं रहता जिसके साथ आप उठे हैं बैठे हैं बहुत पूरा जीवन जिनके साथ आपने गुजारा है और एक दिन आपको पता चलता है कि वह व्यक्ति आपके पास नहीं और आज के बाद आपको कभी नहीं मिलेंगे तो इस चीज का बहुत ज्यादा आघात पड़ता है हमारे दिमाग में हमारे दिल पर तो इन चीजों को हमें एक्सेप्ट करने में स्वीकार करने में बहुत ज्यादा तकलीफ होती बहुत ज्यादा मुश्किल आती है हम उसे चाह कर भी स्वीकार नहीं करते कि जो व्यक्ति जिसे साथ हमने पूरा जीवन बिताया वह एक पल में अगले क्षण नहीं है हमारे साथ तो और आगे वह हमें कभी दोबारा देखने को नहीं मिलेगा यह जो सत्य है वह बहुत ज्यादा कड़वा है जिसको हमें डाइजेश करने में पहचानने में बहुत मुश्किल होती है तो यही कारण होता है कि हम उस व्यक्ति के लिए शांत भावना देने के लिए कि भाई यह व्यक्ति नंबर लोग सुधर गए हैं अब यह दूसरे लोग में चले गए हैं या दूसरों के जन्म होने वाला है हो गया है क्योंकि जिस तरह से हमारा हर एक शरीर में नस वान है हर एक चीज नसवा ने सृष्टि की और वह खत्म होती है फिर उत्पन्न होती है जिस प्रकार से अपने खेतों में देखा होगा एक बार फसल उगाते हैं फिर से काटते हैं फिर दोबारा से उस फसल को गाई जाती है तो यह निरंतर जीवन चक्र चलता रहता है और इस चीज में हमें हमें संभालने के लिए सद्दाम ना देने के लिए ताकि हम ठीक तरीके से काम कर सके हमें हमारे पर इसका दुष्प्रभाव ना पढ़ सके क्योंकि बहुत मुश्किल होता है जब कोई व्यक्ति आपको छोड़कर जाता है और उसकी यादों से उसके रिप्लाई एफआर 200 भाव से आप उससे निकल पाना बहुत मुश्किल होता है और जब हमें यह पता रहता कि वह व्यक्ति ठीक है जहां भी है जैसा भी है अच्छी जगह पर है तो कहीं ना कहीं हमारे दिल को भी तसल्ली मिलती है ठीक है उसकी खुशी में इसे कहते हैं ना कि सच्चे प्यार की जो कहानी निशानी होती है वह यही होती है कि वह दूसरों की खुशी में अपनी खुशी पड़ता है सेल्फिश नहीं होता ट्रू लव कभी भी सेल्फिश नहीं होता हमेशा देना चाहता है हर एक को खुशी देना चाहता है अच्छाई देना चाहता है प्रेम बांटना चाहता है क्या खुद के लिए कुछ हो ना हो लेकिन दूसरों को जरूर देने की कोशिश करता जितना हो सके है जब वह हमारे बीच कोई ऐसा जो हमारा सबसे ज्यादा फ्री होता नहीं होता हमारे पास तो हम उसकी अच्छाई के लिए उसकी खुशी के लिए कामना करते हैं और यही कहते हैं कि वह व्यक्ति जहां स्वर्ग में पढ़ लो है या नए जन्म में बहुत अच्छे से खुश हैं थैंक यू फॉर लिसेन दिस व्हाट आई होप सो दैट यू पूनम सभी को बहुत अच्छा लगा हुआ आप सभी के लिए बहुत है खोलो और आपको कमेंट के माध्यम से मुझे बता सकते हैं कि कैसा लगा आपकी राय दे सकते हैं और लाइक कर सकते हैं
Usaka jeevan chakr aur srshti kee rachana jo hai kaaphee jyaada parchee dee hai jisako samajhana bahut hee jyaada mushkil hai sahaj nahin hai is ko sahaj roop mein utaarane ke lie ham in sab cheejon ka sahaara lete hain ki jab koee hamaare beech nahin rahata jisake saath aap uthe hain baithe hain bahut poora jeevan jinake saath aapane gujaara hai aur ek din aapako pata chalata hai ki vah vyakti aapake paas nahin aur aaj ke baad aapako kabhee nahin milenge to is cheej ka bahut jyaada aaghaat padata hai hamaare dimaag mein hamaare dil par to in cheejon ko hamen eksept karane mein sveekaar karane mein bahut jyaada takaleeph hotee bahut jyaada mushkil aatee hai ham use chaah kar bhee sveekaar nahin karate ki jo vyakti jise saath hamane poora jeevan bitaaya vah ek pal mein agale kshan nahin hai hamaare saath to aur aage vah hamen kabhee dobaara dekhane ko nahin milega yah jo saty hai vah bahut jyaada kadava hai jisako hamen daijesh karane mein pahachaanane mein bahut mushkil hotee hai to yahee kaaran hota hai ki ham us vyakti ke lie shaant bhaavana dene ke lie ki bhaee yah vyakti nambar log sudhar gae hain ab yah doosare log mein chale gae hain ya doosaron ke janm hone vaala hai ho gaya hai kyonki jis tarah se hamaara har ek shareer mein nas vaan hai har ek cheej nasava ne srshti kee aur vah khatm hotee hai phir utpann hotee hai jis prakaar se apane kheton mein dekha hoga ek baar phasal ugaate hain phir se kaatate hain phir dobaara se us phasal ko gaee jaatee hai to yah nirantar jeevan chakr chalata rahata hai aur is cheej mein hamen hamen sambhaalane ke lie saddaam na dene ke lie taaki ham theek tareeke se kaam kar sake hamen hamaare par isaka dushprabhaav na padh sake kyonki bahut mushkil hota hai jab koee vyakti aapako chhodakar jaata hai aur usakee yaadon se usake riplaee ephaar 200 bhaav se aap usase nikal paana bahut mushkil hota hai aur jab hamen yah pata rahata ki vah vyakti theek hai jahaan bhee hai jaisa bhee hai achchhee jagah par hai to kaheen na kaheen hamaare dil ko bhee tasallee milatee hai theek hai usakee khushee mein ise kahate hain na ki sachche pyaar kee jo kahaanee nishaanee hotee hai vah yahee hotee hai ki vah doosaron kee khushee mein apanee khushee padata hai selphish nahin hota troo lav kabhee bhee selphish nahin hota hamesha dena chaahata hai har ek ko khushee dena chaahata hai achchhaee dena chaahata hai prem baantana chaahata hai kya khud ke lie kuchh ho na ho lekin doosaron ko jaroor dene kee koshish karata jitana ho sake hai jab vah hamaare beech koee aisa jo hamaara sabase jyaada phree hota nahin hota hamaare paas to ham usakee achchhaee ke lie usakee khushee ke lie kaamana karate hain aur yahee kahate hain ki vah vyakti jahaan svarg mein padh lo hai ya nae janm mein bahut achchhe se khush hain thaink yoo phor lisen dis vhaat aaee hop so dait yoo poonam sabhee ko bahut achchha laga hua aap sabhee ke lie bahut hai kholo aur aapako kament ke maadhyam se mujhe bata sakate hain ki kaisa laga aapakee raay de sakate hain aur laik kar sakate hain

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
2:35
देखिए मनुष्य के दो अवस्थाएं होती हैं एवं मृत्यु लोग एक देव लोक नृत्य लोग यहां विचरण कर रहे हैं एक स्थूल शरीर होता है और एक सूट भुसारी होता है स्थूल शरीर में आत्मा निवास करती है शरीर में आत्मा बिल्कुल एकदम स्वतंत्र होती है आत्मा अजर अमर और अविनाशी आत्मा कभी उसका विकास नहीं होता मर के नहीं जलती नहीं हूं लेकिन शरीर के कहते हैं ना कि वासांसि जीर्णानि यथा विहाय नवानी दे ही नरों प्राणी जिस प्रकार से कपड़ा पुराने हो जाने पर मनुष्य उसका पड़े को त्याग कर देता है उसी प्रकार से आत्मा मनुष्य के शरीर को पुराना हो जाने पर वृद्ध हो जाने पर इस को त्याग देती है तो वह त्यागने के बाद जाती कहां है उसमें जाती है वह सुखदेव लोग जा उसको अपने कर्मों के हिसाब से फिर से स्पर्श मृत्यु पर आना पड़ता है अब उसे कैसे कर्म किए हैं मनुष्य लेकर या तो मनुष्य योनि में आएगा जानवरों वाले कर करती है तो जानवर की योनि में आएगा सूअर बनने वाला कृत्य किया तो सूअर बनेगा जाके साला महिला खाएगा और लोगों को सताया है तो खुद भी वह सताए जाएगा तो यह सारी चीजें उसको अपने कर्मों के हिसाब से उसको फल मिलता है तो इसलिए जो सूक्ष्म शरीर होता है वह आपको उसमें आत्मा निवास करती है और वह पर लोग का मतलब जो एक तो हो गए मृत्युलोक का दूसरा पाठ लोकमान्य देवला देवला में शाहजहां सारी आत्माएं जो है वहां जा कर के अपने कर्म के हिसाब से उनको फिर से वापस भेजा जाता है तीसरी स्थिति होती है वह मोक्ष की जवाब के पाप और पुण्य बिल्कुल बराबर हो जाते हैं ना माइनस प्लस बिलकुल जीरो हो जाता है कि वहां पर मुक्त हो जाता है अब यह दोनों स्थितियों में आपके क्षेत्र में आपको भोग भोगने के लिए आना पड़ता है तमाम प्रकार के दुख हो जाते हैं यह तो कैंसर भी हो जाता है एक्सीडेंट हो जाता है लोग मर जाते हैं तमाम प्रकाश को को तकलीफ मिलती है लेकिन जब उन्हें होता है तो बिल्कुल मुकेश अंबानी की हजारों नौकर लगे हो तो अरबों खरबों में खेलता है वह सारे सुखों की जो खानी होती है वह वह उसको वह मिलता है भाग्य से नहीं है कर्म के द्वारा ही आपको सारे प्राप्त होते जैसा कर्म करेंगे वैसा को फल मिलेगा इसलिए वह जो देवलोक हो जाता उसको परलोक है पर मैंने पराया लोग ऐसा लोग जिसकी परिकल्पना हम लोग अपने सपने में ही देखते हैं परिकल्पना ही कातिल एक नंबर तो लोग कौन सा है जहां माय तुझे इस लोक में है उन लोगों पर तो लोग कहते हैं और जहां हम जिसके विषय में नहीं जानते हैं उनको पर लोग कहते हैं जहां केवल आत्मा ही निवास करते हैं
Dekhie manushy ke do avasthaen hotee hain evan mrtyu log ek dev lok nrty log yahaan vicharan kar rahe hain ek sthool shareer hota hai aur ek soot bhusaaree hota hai sthool shareer mein aatma nivaas karatee hai shareer mein aatma bilkul ekadam svatantr hotee hai aatma ajar amar aur avinaashee aatma kabhee usaka vikaas nahin hota mar ke nahin jalatee nahin hoon lekin shareer ke kahate hain na ki vaasaansi jeernaani yatha vihaay navaanee de hee naron praanee jis prakaar se kapada puraane ho jaane par manushy usaka pade ko tyaag kar deta hai usee prakaar se aatma manushy ke shareer ko puraana ho jaane par vrddh ho jaane par is ko tyaag detee hai to vah tyaagane ke baad jaatee kahaan hai usamen jaatee hai vah sukhadev log ja usako apane karmon ke hisaab se phir se sparsh mrtyu par aana padata hai ab use kaise karm kie hain manushy lekar ya to manushy yoni mein aaega jaanavaron vaale kar karatee hai to jaanavar kee yoni mein aaega sooar banane vaala krty kiya to sooar banega jaake saala mahila khaega aur logon ko sataaya hai to khud bhee vah satae jaega to yah saaree cheejen usako apane karmon ke hisaab se usako phal milata hai to isalie jo sookshm shareer hota hai vah aapako usamen aatma nivaas karatee hai aur vah par log ka matalab jo ek to ho gae mrtyulok ka doosara paath lokamaany devala devala mein shaahajahaan saaree aatmaen jo hai vahaan ja kar ke apane karm ke hisaab se unako phir se vaapas bheja jaata hai teesaree sthiti hotee hai vah moksh kee javaab ke paap aur puny bilkul baraabar ho jaate hain na mainas plas bilakul jeero ho jaata hai ki vahaan par mukt ho jaata hai ab yah donon sthitiyon mein aapake kshetr mein aapako bhog bhogane ke lie aana padata hai tamaam prakaar ke dukh ho jaate hain yah to kainsar bhee ho jaata hai ekseedent ho jaata hai log mar jaate hain tamaam prakaash ko ko takaleeph milatee hai lekin jab unhen hota hai to bilkul mukesh ambaanee kee hajaaron naukar lage ho to arabon kharabon mein khelata hai vah saare sukhon kee jo khaanee hotee hai vah vah usako vah milata hai bhaagy se nahin hai karm ke dvaara hee aapako saare praapt hote jaisa karm karenge vaisa ko phal milega isalie vah jo devalok ho jaata usako paralok hai par mainne paraaya log aisa log jisakee parikalpana ham log apane sapane mein hee dekhate hain parikalpana hee kaatil ek nambar to log kaun sa hai jahaan maay tujhe is lok mein hai un logon par to log kahate hain aur jahaan ham jisake vishay mein nahin jaanate hain unako par log kahate hain jahaan keval aatma hee nivaas karate hain

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:56
नहीं कि जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वासी हो गए अब अगला जन्म हो गए तो दिखे फिर क्या होता है पर लोग का मतलब क्या होता है कि जब हम किसी से नहीं मिल पाते हैं तब जो इंसान एक बार मरने के बाद हम उसकी चर्चा तो करेंगे उसकी कुछ भावनाओं को हम महसूस करेंगे लेकिन उसे देख नहीं पाएंगे उसे मिल नहीं पाएंगे तू यही चीजें होती है इसी वजह से कहा जाता है क्यों परलोक वासी हो गए मतलब यहां के नहीं अब निवासी हैं वह हमारे साथ जो रहते थे हमारे साथ बोलते थे उठते बैठते थे हर दुख सुख में साथी होते थे विषक आज वह हमारे साथ नहीं है बस उनकी इस शरीर है और आज ए बी ए बी कुछ पल के लिए और वह भी खत्म हो जाएगी और उसके बाद हमें कभी मिलेंगे नहीं जो क्या होता है कि पब्लिक वासी का मतलब होता है कभी भी आप मुझसे नहीं मिल पाना ही ऊपर लोग वासियों तो मत अब यह मत कहना कि हम विदेश चलेंगे विदेश भी चले जाए तो किसी न किसी माध्यम से आप बातें कर लेंगे लेकिन मरने के बाद कोई भी इंसान होता है उम्मीद नहीं पाता है हम उसे महसूस करते हैं हम उन्हें याद करते हैं लेकिन हम उसकी उनके साथ बैठ नहीं सकते उठ नहीं सकते मेरे हम उनके साथ किसी भी रिलेशन को नहीं बना सकते इसी वजह से कहा जाता है कि परलोक वासियों के इनका अगला जन्म अगला जन्म जो भी हुआ हो हम किसी ने आज तक डिसाइड नहीं किया है न कोई ऐसा बता सकता है कि इनका इस जन्म में होगा मरने के बाद यह जन्म हुआ इनका बस लोग अपनी-अपनी कुछ ऐसी कहानियां है या कुछ कहिए कि उनके कुछ तरीके हैं उस के माध्यम से लोग अपने ही अनुसार बता देते कि हां इसमें जन्म हुआ है वह भी शक्ल अच्छी बात है लेकिन बस यही मैं कहूंगा कि वह लोग जब छोड़ जाते हैं हमें हमें किसी भी हालत में कभी भी नहीं मिलते हैं उसी उसी लिए कहा जाता है यह परलोक वासी हो गए
Nahin ki jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaasee ho gae ab agala janm ho gae to dikhe phir kya hota hai par log ka matalab kya hota hai ki jab ham kisee se nahin mil paate hain tab jo insaan ek baar marane ke baad ham usakee charcha to karenge usakee kuchh bhaavanaon ko ham mahasoos karenge lekin use dekh nahin paenge use mil nahin paenge too yahee cheejen hotee hai isee vajah se kaha jaata hai kyon paralok vaasee ho gae matalab yahaan ke nahin ab nivaasee hain vah hamaare saath jo rahate the hamaare saath bolate the uthate baithate the har dukh sukh mein saathee hote the vishak aaj vah hamaare saath nahin hai bas unakee is shareer hai aur aaj e bee e bee kuchh pal ke lie aur vah bhee khatm ho jaegee aur usake baad hamen kabhee milenge nahin jo kya hota hai ki pablik vaasee ka matalab hota hai kabhee bhee aap mujhase nahin mil paana hee oopar log vaasiyon to mat ab yah mat kahana ki ham videsh chalenge videsh bhee chale jae to kisee na kisee maadhyam se aap baaten kar lenge lekin marane ke baad koee bhee insaan hota hai ummeed nahin paata hai ham use mahasoos karate hain ham unhen yaad karate hain lekin ham usakee unake saath baith nahin sakate uth nahin sakate mere ham unake saath kisee bhee rileshan ko nahin bana sakate isee vajah se kaha jaata hai ki paralok vaasiyon ke inaka agala janm agala janm jo bhee hua ho ham kisee ne aaj tak disaid nahin kiya hai na koee aisa bata sakata hai ki inaka is janm mein hoga marane ke baad yah janm hua inaka bas log apanee-apanee kuchh aisee kahaaniyaan hai ya kuchh kahie ki unake kuchh tareeke hain us ke maadhyam se log apane hee anusaar bata dete ki haan isamen janm hua hai vah bhee shakl achchhee baat hai lekin bas yahee main kahoonga ki vah log jab chhod jaate hain hamen hamen kisee bhee haalat mein kabhee bhee nahin milate hain usee usee lie kaha jaata hai yah paralok vaasee ho gae

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:57
जब किसी की पूर्ति होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वासी हो गया है हिंदू मान्यता के अनुसार स्वर्ग और नर्क और बोलो 3 लोग होते हैं तुम आदमी मरता है तो भूलो छोड़ता है और अगर जिस ने जिस तरह से कर्म किए होंगे उसके हिसाब से अगर पापा की है तो वह नरक में जाता है और पुण्य करता है तो उस वर्ग में जाता है तो इनको पद पर लोग कहते हैं मुक्केबाजी है सब ऐसा सोचते हैं कि हमारा जो अभी रिश्तेदार था वह नरक में तो नहीं जाएगा बाकी समाज अगर कहता भी हो लेकिन परिवार वाले नहीं कर सकते सकते और अगर ऐसा करने की नौबत आई तो वह स्वर्ग नरक को झूठ है सच बताएगी यह सब अपनी सुविधा के अनुसार ऐसी कंसेप्ट का उपयोग करते हैं और अपनी सुविधा के अनुसार इस को चुनते भी है लॉकडाउन में हमने देखा है कि लोगों ने भगवान को भी छोड़ दिया था मंदिरों में जाना बंद हो गई मंदिरों में जाना बंद हो गए तो लोग आखिर भगवान से ज्यादा खुद खुद की जान को मानते हैं बचाना चाहते हैं इसलिए वो भगवान को भी कभी भी छोड़ सकते हैं और शायद भगवान भी है जानता है और उसने ऐसा सब कुछ पढ़ कर के रखा हुआ है और उस तरीके से दुनिया चलती है पूरा ब्राह्मण की तो नहीं बता सकते लेकिन तू चल के मुझसे शादी की और रानी राजी की जिनमें से आया मनुष्य की आत्मा गुजर जाती है कई लाख यूनिवर्सिटी और उसके बाद मनुष्य का जन्म हो पाती है समाचार जाता है मान्यता के अनुसार तो यह लोकमत लोक बताए गए हैं और वो लोग परकाश पर विश्वास है और वह लोग समझते हैं कि अब वह मृत व्यक्ति पल्लू का वासी हो गए हैं ऐसे जो विचार बनाए गए गए वह भी सोच समझ कर बनाए गए इंसान तो कहीं ना कहीं आसरा लगता है उसकी आवश्यकता लगती है इसलिए मन को कंट्रोल से बाहर जाने के जाने से बचने के लिए कुछ लोगों ने समाज के ऐसा सिद्धांत रची रची की मृत्यु के बाद भी कहीं पे अपना जो प्यारा बेटा है वह कहीं पर होता है या नहीं पुरुषों पर तो कहीं परलोक में होता है और ऐसे बहुत सारे वर्णन पुराणों में पुराणों ने और अन्य धर्म ग्रंथों ने किए हैं उस वर्ग के 29 वर्ग वीडियो देवता रहती है उनकी पत्नी रहती है उनके पास नाचने गाने वाली आप सराय रहती है शराब की नदियां रहती है एक पल को कुछ भी होता है जिसके नीचे बैठ कर लो मन में इच्छा करीब आ पाया जाता है अगर किसी ने चकिया की इच्छा थी कि मुझे गुलाब जामुन खाने को मिल जाए इतना अच्छा हो तो गुलाबजाम हाजिर हो जाते हो जो जो कि मनुष्य की वासना है वह इच्छाएं सपने हैं ओ रिफ्लेक्ट बकरे सी सुंदर सी चीजें बनी है और उसके जो ऐसी इच्छा भी होती है कि उस को तकलीफ देने वाले लोग जो है वह उनको भगवान ऐसी शिक्षा दे कि उनको तड़प तड़प तड़प तड़प के हजारों लाखों साल जीने की नौबत आ जाए इसलिए नरक की कल्पना की गई और लोग भी भयभीत हो जाए और उस पर मना करें बात ना करें इस तरीके से सोच कर कई होशियार लोगों ने ऐसी तरकीब निकाली है फिर भी आपको बहुत सारा नया ज्ञान जले मुझको मिला है तो ऐसी कृपा ना गलत साबित हो गई है लेकिन दूसरे उपाय मनुष्य के हित के लिए निर्माण वित्त निर्माण में किए गए हैं धन्यवाद
Jab kisee kee poorti hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaasee ho gaya hai hindoo maanyata ke anusaar svarg aur nark aur bolo 3 log hote hain tum aadamee marata hai to bhoolo chhodata hai aur agar jis ne jis tarah se karm kie honge usake hisaab se agar paapa kee hai to vah narak mein jaata hai aur puny karata hai to us varg mein jaata hai to inako pad par log kahate hain mukkebaajee hai sab aisa sochate hain ki hamaara jo abhee rishtedaar tha vah narak mein to nahin jaega baakee samaaj agar kahata bhee ho lekin parivaar vaale nahin kar sakate sakate aur agar aisa karane kee naubat aaee to vah svarg narak ko jhooth hai sach bataegee yah sab apanee suvidha ke anusaar aisee kansept ka upayog karate hain aur apanee suvidha ke anusaar is ko chunate bhee hai lokadaun mein hamane dekha hai ki logon ne bhagavaan ko bhee chhod diya tha mandiron mein jaana band ho gaee mandiron mein jaana band ho gae to log aakhir bhagavaan se jyaada khud khud kee jaan ko maanate hain bachaana chaahate hain isalie vo bhagavaan ko bhee kabhee bhee chhod sakate hain aur shaayad bhagavaan bhee hai jaanata hai aur usane aisa sab kuchh padh kar ke rakha hua hai aur us tareeke se duniya chalatee hai poora braahman kee to nahin bata sakate lekin too chal ke mujhase shaadee kee aur raanee raajee kee jinamen se aaya manushy kee aatma gujar jaatee hai kaee laakh yoonivarsitee aur usake baad manushy ka janm ho paatee hai samaachaar jaata hai maanyata ke anusaar to yah lokamat lok batae gae hain aur vo log parakaash par vishvaas hai aur vah log samajhate hain ki ab vah mrt vyakti palloo ka vaasee ho gae hain aise jo vichaar banae gae gae vah bhee soch samajh kar banae gae insaan to kaheen na kaheen aasara lagata hai usakee aavashyakata lagatee hai isalie man ko kantrol se baahar jaane ke jaane se bachane ke lie kuchh logon ne samaaj ke aisa siddhaant rachee rachee kee mrtyu ke baad bhee kaheen pe apana jo pyaara beta hai vah kaheen par hota hai ya nahin purushon par to kaheen paralok mein hota hai aur aise bahut saare varnan puraanon mein puraanon ne aur any dharm granthon ne kie hain us varg ke 29 varg veediyo devata rahatee hai unakee patnee rahatee hai unake paas naachane gaane vaalee aap saraay rahatee hai sharaab kee nadiyaan rahatee hai ek pal ko kuchh bhee hota hai jisake neeche baith kar lo man mein ichchha kareeb aa paaya jaata hai agar kisee ne chakiya kee ichchha thee ki mujhe gulaab jaamun khaane ko mil jae itana achchha ho to gulaabajaam haajir ho jaate ho jo jo ki manushy kee vaasana hai vah ichchhaen sapane hain o riphlekt bakare see sundar see cheejen banee hai aur usake jo aisee ichchha bhee hotee hai ki us ko takaleeph dene vaale log jo hai vah unako bhagavaan aisee shiksha de ki unako tadap tadap tadap tadap ke hajaaron laakhon saal jeene kee naubat aa jae isalie narak kee kalpana kee gaee aur log bhee bhayabheet ho jae aur us par mana karen baat na karen is tareeke se soch kar kaee hoshiyaar logon ne aisee tarakeeb nikaalee hai phir bhee aapako bahut saara naya gyaan jale mujhako mila hai to aisee krpa na galat saabit ho gaee hai lekin doosare upaay manushy ke hit ke lie nirmaan vitt nirmaan mein kie gae hain dhanyavaad

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:27
सवाल है कि जो पीछे की मृत्यु हो जाती है जैसा क्यों कहते हैं कि व्यापार लोग बासी हो गए हैं तो देखिए ऐसा बात है कि मान्यता चली आ रही है हिंदू धर्म में सनातन धर्म में से बनता है कि जब भी कोई इस संसार को विकी छोड़कर जाता है तो उसकी आत्मा इस लोक को छोड़कर के प्रयोग में सुधार जाती है और वहां पर ईश्वर ही उसके पाप और पुण्य के लेखकों के अनुसार उस आत्मा के साथ में एक कहावत है रखना है कैसे क्या करना है देखते हैं आपका दिन शुभ रहे थे बात
Savaal hai ki jo peechhe kee mrtyu ho jaatee hai jaisa kyon kahate hain ki vyaapaar log baasee ho gae hain to dekhie aisa baat hai ki maanyata chalee aa rahee hai hindoo dharm mein sanaatan dharm mein se banata hai ki jab bhee koee is sansaar ko vikee chhodakar jaata hai to usakee aatma is lok ko chhodakar ke prayog mein sudhaar jaatee hai aur vahaan par eeshvar hee usake paap aur puny ke lekhakon ke anusaar us aatma ke saath mein ek kahaavat hai rakhana hai kaise kya karana hai dekhate hain aapaka din shubh rahe the baat

Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
1:14
कृष्णा आपने पूछा जब किसी मोटी होती तब ऐसा क्यों कहते हो वह लोग बासी हो गया ब्लॉक वासियों की महात्मा काशी रहता है अगर उसने अच्छे कर्म किए पुणे के सर में चले जाते हैं और उन्होंने हमेशा दुख भरे के विचार की है जो विचार विचार काम क्रोध लोभ मोह अहंकार में विचार जानती हैं और जिन्होंने शिव की भक्ति की शक्ति से हमारे नकाश विचार अवश्य गिरीश शर्मा होते हैं ऐसे जो इस्त्र जाता है विचारों में तो वह व्यक्ति लोग महात्मा जाती है सही पड़ा रहता है इसलिए प्रवासी कहते हैं कि महाशिवरात्रि छोड़ने के बाद भी तो मैंने काफी ऑडियो अपलोड वहीं पर नेहा उसने अपना दूर करें या तो यह 3 मिनट से ज्यादा अब दूर हो नहीं पाएगा इसी मेरी बात पूरी नहीं हो पाएगी इसलिए वह आप जाएं और सुनो मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है उस विश्वास हो तो बार-बार पूछे इसी के पास उसे पता होगा और भक्ति में आगे बढ़ते रहिए भरतरी भरतरी
Krshna aapane poochha jab kisee motee hotee tab aisa kyon kahate ho vah log baasee ho gaya blok vaasiyon kee mahaatma kaashee rahata hai agar usane achchhe karm kie pune ke sar mein chale jaate hain aur unhonne hamesha dukh bhare ke vichaar kee hai jo vichaar vichaar kaam krodh lobh moh ahankaar mein vichaar jaanatee hain aur jinhonne shiv kee bhakti kee shakti se hamaare nakaash vichaar avashy gireesh sharma hote hain aise jo istr jaata hai vichaaron mein to vah vyakti log mahaatma jaatee hai sahee pada rahata hai isalie pravaasee kahate hain ki mahaashivaraatri chhodane ke baad bhee to mainne kaaphee odiyo apalod vaheen par neha usane apana door karen ya to yah 3 minat se jyaada ab door ho nahin paega isee meree baat pooree nahin ho paegee isalie vah aap jaen aur suno meree shubhakaamanaen aapake saath hai us vishvaas ho to baar-baar poochhe isee ke paas use pata hoga aur bhakti mein aage badhate rahie bharataree bharataree

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोको वासी (अगला जन्म) हो गए
URL copied to clipboard