#भारत की राजनीति

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Personal Life guidance session book Appointment ID - discoveryourjourney23@gmail.com
2:58
कृष्ण किसान आंदोलन की वास्तविकता क्या है क्यों सरकार और किसान के बीच बातचीत नहीं बन पा रही है तो किसान आंदोलन वह 20% लोग हैं जो अमीर है और इतनी पर्सेंट किसान गरीब है जिनके लिए यह योजना एक्चुअली में बनी गई है और आप देख रहे होंगे कि जो धरना दे रहे हैं वह लोग अपने घर घर से यहां आ गए हैं ना दिल्ली में आकर धरना दे रहे जबकि किसानों का तो मीन काम क्या होता है कि अपनी खेती बाड़ी में बिल्कुल बिजी रहना इतनी पसंद लोग हैं वह अपने खेतों में बिजी है वह इसलिए बिजी है क्योंकि उन्हीं से उनका खाना पीना भी चलता है तो वह अपनी खेती किसानी कर रहे हैं बाकी लोगों के पास एक प्रकार से जो भी 20% है उनके अंदर कुछ ऐसे सरकार भी है कुछ आतंकवादी भी शामिल है और इसी बातचीत नहीं बन पा रही है वह जा रहे हैं कि मुझे अति प्रसन्न किसान हैं जिन्हें प्रॉफिट होगा उनकी सब्जियां नाभि के अधीन की संधि पर्सेंट लोग हैं उनकी सब्जियां भी कि वह पहले से करते आ रहे थे लेकिन किसी को यह इस चीज का पता नहीं था लेकिन यह 20% लोग जो अभी जो नियम चल रहे हैं अभी जो नियम बना है जिसके कारण वह विरोध कर रहे हैं उसी नियम के कोडिंग वो अपना काम करते हैं ठीक है मुझे चोरी चुपके इस मार्केट में नहीं उस मार्केट में किस तरीके से काम करते हैं लेकिन अब वह नियम सबके लिए सरकार ने लागू कर दिया तो उन्हें प्रॉब्लम हो रही है कि नहीं चाहते क्यों ग्रो करें ठीक है लेकिन जब इतनी पसंद है उन्हें कोई प्रॉब्लम नहीं है इस बिल के पारित होने से वह तो ज्यादा खुश हो गए कम से कम उम्र की सब्जी में सड़कों में नहीं दिख रही उनकी सब्जियां आप घरों में रहेंगी कंपनियों में रहेंगे उनकी मेहनत जो उन्होंने मेहनत की है उनका उनको सही दाम मिलेगा उनके बच्चे भी अच्छे से पढ़ पाएंगे अच्छे से जूनियर डॉक्टर बन पाएंगे देखिए दोस्तों कारण बस यही है कि सरकार ने सभी के लिए वह नियम बनाए लेकिन वह 20% लोग वह किसान लोग और वह आतंकवादी लोग और वह थोड़ी कुछ ऐसी मिली जुली सरकार है इंडिया में ज्यादा ग्रोथ इंडिया की ग्रोथ को रोकने के लिए हो रहा है जबकि वेजिटेबल आप देखते हैं कि सड़कों में कैसे बिखरी रहती थी आज सही दाम सबको मिल रहे हैं तो उस जितने भी किसान हैं खुलकर वह चीज कर पा रहे हैं कोई यह नहीं सोच रहा है कि किस लिए बिल पारित हुआ है क्यों ना हम सुसाइड करने पहले सुसाइड कर लेते थे अब इस बिल के पारित होने से क्या हो रहा है कि वह लोग मेहनत कर रहे हैं और तेजी से और विरोध कर रहे हैं और तेजी से तो किसान अगर भारत की विग सीधी नहीं होगी तो हमारे इंडिया आगे बढ़ेगा कैसे इसलिए किसानों की विकास के लिए यह बिल पारित हुआ है बाकी लोग बस उनके विकास को रोकने के लिए लगे
Krshn kisaan aandolan kee vaastavikata kya hai kyon sarakaar aur kisaan ke beech baatacheet nahin ban pa rahee hai to kisaan aandolan vah 20% log hain jo ameer hai aur itanee parsent kisaan gareeb hai jinake lie yah yojana ekchualee mein banee gaee hai aur aap dekh rahe honge ki jo dharana de rahe hain vah log apane ghar ghar se yahaan aa gae hain na dillee mein aakar dharana de rahe jabaki kisaanon ka to meen kaam kya hota hai ki apanee khetee baadee mein bilkul bijee rahana itanee pasand log hain vah apane kheton mein bijee hai vah isalie bijee hai kyonki unheen se unaka khaana peena bhee chalata hai to vah apanee khetee kisaanee kar rahe hain baakee logon ke paas ek prakaar se jo bhee 20% hai unake andar kuchh aise sarakaar bhee hai kuchh aatankavaadee bhee shaamil hai aur isee baatacheet nahin ban pa rahee hai vah ja rahe hain ki mujhe ati prasann kisaan hain jinhen prophit hoga unakee sabjiyaan naabhi ke adheen kee sandhi parsent log hain unakee sabjiyaan bhee ki vah pahale se karate aa rahe the lekin kisee ko yah is cheej ka pata nahin tha lekin yah 20% log jo abhee jo niyam chal rahe hain abhee jo niyam bana hai jisake kaaran vah virodh kar rahe hain usee niyam ke koding vo apana kaam karate hain theek hai mujhe choree chupake is maarket mein nahin us maarket mein kis tareeke se kaam karate hain lekin ab vah niyam sabake lie sarakaar ne laagoo kar diya to unhen problam ho rahee hai ki nahin chaahate kyon gro karen theek hai lekin jab itanee pasand hai unhen koee problam nahin hai is bil ke paarit hone se vah to jyaada khush ho gae kam se kam umr kee sabjee mein sadakon mein nahin dikh rahee unakee sabjiyaan aap gharon mein rahengee kampaniyon mein rahenge unakee mehanat jo unhonne mehanat kee hai unaka unako sahee daam milega unake bachche bhee achchhe se padh paenge achchhe se jooniyar doktar ban paenge dekhie doston kaaran bas yahee hai ki sarakaar ne sabhee ke lie vah niyam banae lekin vah 20% log vah kisaan log aur vah aatankavaadee log aur vah thodee kuchh aisee milee julee sarakaar hai indiya mein jyaada groth indiya kee groth ko rokane ke lie ho raha hai jabaki vejitebal aap dekhate hain ki sadakon mein kaise bikharee rahatee thee aaj sahee daam sabako mil rahe hain to us jitane bhee kisaan hain khulakar vah cheej kar pa rahe hain koee yah nahin soch raha hai ki kis lie bil paarit hua hai kyon na ham susaid karane pahale susaid kar lete the ab is bil ke paarit hone se kya ho raha hai ki vah log mehanat kar rahe hain aur tejee se aur virodh kar rahe hain aur tejee se to kisaan agar bhaarat kee vig seedhee nahin hogee to hamaare indiya aage badhega kaise isalie kisaanon kee vikaas ke lie yah bil paarit hua hai baakee log bas unake vikaas ko rokane ke lie lage

और जवाब सुनें

KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Gmind institute
2:00
देखी वास्तविकता क्या है यह तो अभी एक अलग बात है लेकिन इसको पूरा समझने की जरूरत है क्योंकि 20 से 25 दिनों से अधिक किसान आंदोलन लगातार चल रहा है और 12 से 13 राउंड की बातचीत भी सरकार से किसानों की हो चुकी है हालांकि इसमें बहुत सारे छोटे बड़े संगठन शामिल है लेकिन इस बात को समझने की भी जरूरत है कि जैसे कि लगातार सचिन उठ रहा है किसानों के ऊपर भी कि यह प्रायोजित है या फिर लगातार सरकार भी तमाम ऐसे संशोधन है जिनको मानने के लिए तैयार है यानी जो किसान एमएसपी की बात कर रहे हैं उसको भी किसान ने सरकार ने मान लिया उसके बाद भी आप देखे तो किसान बिल्कुल इस मूड में नहीं है कि वह धरना अपना खत्म करें प्रदर्शन खत्म करें और कहीं ना कहीं कोर्ट भी अब इसमें शामिल हो चुका है लेकिन यह बात महत्वपूर्ण है कि कहीं न कहीं सरकारों की ही जिम्मेदारी होती है कि कानून बनाना इस तरह से आप देखें बहुत सारे लेवल पर सरकार फैसले ले रही है क्या सब का एक ही गो समझ कर भेज भूत होना शुरू हो जाए उससे पहले भी एनआरसी और सीएबी ऊपर भी विरोध बहुत लंबा चला था जिसको सरकार को टालना पड़ा था और फिर हाल के लिए भी सरकार ने इस चीज को ठंडे बस्ते में भी डाल दिया है कि वे 2 साल तक हम फिलहाल कोई इस तरह का कानून नहीं बनाने जा रहे हैं लेकिन उसके बाद भी लगातार किसान आंदोलन कर रहे हैं प्रदर्शन कर रहे हैं और एक खास तरीके से उनको प्रायोजित भी किया जा रहा है इन सब में वास्तविकता यही है कि सही चीजें किसानों तक भी नहीं पहुंच पा रही हो सही चीज है सरकार तक भी नहीं पहुंच पा रही है तो दोनों में एक कन्फ्यूजन की स्थिति क्रिएट हुई है कहीं ना कहीं मीडिया का भी तो उसमें बहुत अहम हो जाता है क्योंकि दूधडे मीडिया के भी हो गए हैं जहां वह इसके विरोध में भी कुछ लोग खबरें दिखा रहे हैं कुछ लोग इसके पक्ष में दिखा रहे हैं तो इस वजह से कहीं न कहीं इस को एक फ्लोर मिल रहा है तो निश्चित तौर पर इसका एक समाधान निकालना चाहिए क्योंकि जहां पर भी जो लोग भी आंदोलन कर रहे हैं बातचीत से ही उनको बेहतर तरीके से कुछ रास्ता निकल सकता
Dekhee vaastavikata kya hai yah to abhee ek alag baat hai lekin isako poora samajhane kee jaroorat hai kyonki 20 se 25 dinon se adhik kisaan aandolan lagaataar chal raha hai aur 12 se 13 raund kee baatacheet bhee sarakaar se kisaanon kee ho chukee hai haalaanki isamen bahut saare chhote bade sangathan shaamil hai lekin is baat ko samajhane kee bhee jaroorat hai ki jaise ki lagaataar sachin uth raha hai kisaanon ke oopar bhee ki yah praayojit hai ya phir lagaataar sarakaar bhee tamaam aise sanshodhan hai jinako maanane ke lie taiyaar hai yaanee jo kisaan emesapee kee baat kar rahe hain usako bhee kisaan ne sarakaar ne maan liya usake baad bhee aap dekhe to kisaan bilkul is mood mein nahin hai ki vah dharana apana khatm karen pradarshan khatm karen aur kaheen na kaheen kort bhee ab isamen shaamil ho chuka hai lekin yah baat mahatvapoorn hai ki kaheen na kaheen sarakaaron kee hee jimmedaaree hotee hai ki kaanoon banaana is tarah se aap dekhen bahut saare leval par sarakaar phaisale le rahee hai kya sab ka ek hee go samajh kar bhej bhoot hona shuroo ho jae usase pahale bhee enaarasee aur seeebee oopar bhee virodh bahut lamba chala tha jisako sarakaar ko taalana pada tha aur phir haal ke lie bhee sarakaar ne is cheej ko thande baste mein bhee daal diya hai ki ve 2 saal tak ham philahaal koee is tarah ka kaanoon nahin banaane ja rahe hain lekin usake baad bhee lagaataar kisaan aandolan kar rahe hain pradarshan kar rahe hain aur ek khaas tareeke se unako praayojit bhee kiya ja raha hai in sab mein vaastavikata yahee hai ki sahee cheejen kisaanon tak bhee nahin pahunch pa rahee ho sahee cheej hai sarakaar tak bhee nahin pahunch pa rahee hai to donon mein ek kanphyoojan kee sthiti kriet huee hai kaheen na kaheen meediya ka bhee to usamen bahut aham ho jaata hai kyonki doodhade meediya ke bhee ho gae hain jahaan vah isake virodh mein bhee kuchh log khabaren dikha rahe hain kuchh log isake paksh mein dikha rahe hain to is vajah se kaheen na kaheen is ko ek phlor mil raha hai to nishchit taur par isaka ek samaadhaan nikaalana chaahie kyonki jahaan par bhee jo log bhee aandolan kar rahe hain baatacheet se hee unako behatar tareeke se kuchh raasta nikal sakata

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:55
तो सरकार बीएसएनल हो या रेलवे विभाग हो या बैंकिंग का चित्र या एयर इंडिया हो या सरकारी विद्यालय स्कूल तो सबका प्राइवेट ही कारण कर रही है तो यह किसी कानून है यह भी एक प्रकार का निजीकरण करना ही है तो इन सब में देखिए गरीब इंसान तो रेलवे खरीद नहीं सकता एयर इंडिया खरीद नहीं सकता पूंजीपति लोग ही खरीदेंगे तो इसी प्रकार किसी कानून से भी पूंजी पतियों कोई लाभ होने वाला है किसानों को तो कल मिलना नहीं है और इसीलिए किसान आंदोलन कर रहे हैं अब सरकार के पास इस समय बहुमत है तो सरकार कड़ा रुख अपना रही है तो सरकार घमंड में तो इसलिए बात नहीं बन पा रही है और किसान चाहते हैं कि एमएसपी पर कानून बने और सरकार से 2 साल के लिए टाल देना शादी तो यह किसानों का कहना है कि ताकि किसी भी बीमारी है तो जैसे यह कानून एक कैंसर की तरह आप जितना इनको रोकोगे डालोगे 2 साल पा लोगे तो कैंसर का खतरा उतना ही अधिक बढ़ जाता है तो किसान चाहते हैं कि इस बीमारी को जड़ से खत्म किया जाए और रही कानूनों की बात तो इसमें जब तक यह सरकार कहती है कि हम सुधार कर देंगे सुधार कर देंगे तो यहां आने की बीमारी आने कानून गलत है तो इस से अच्छा है कि नहीं खत्म कर दिया जाना चाहिए और कानून फिर से भी बना सकती मगर सरकार अपनी रणनीति अपना रही है कि किसी भी प्रकार से आंदोलन को टाल दिया जाए और 2024 में हमारी फिर से सरकार बन जाए जबकि किसान अब जाग चुका है अब ऐसा होना मुमकिन नहीं है देखते हैं आगे क्या होता है धन्यवाद
To sarakaar beeesenal ho ya relave vibhaag ho ya bainking ka chitr ya eyar indiya ho ya sarakaaree vidyaalay skool to sabaka praivet hee kaaran kar rahee hai to yah kisee kaanoon hai yah bhee ek prakaar ka nijeekaran karana hee hai to in sab mein dekhie gareeb insaan to relave khareed nahin sakata eyar indiya khareed nahin sakata poonjeepati log hee khareedenge to isee prakaar kisee kaanoon se bhee poonjee patiyon koee laabh hone vaala hai kisaanon ko to kal milana nahin hai aur iseelie kisaan aandolan kar rahe hain ab sarakaar ke paas is samay bahumat hai to sarakaar kada rukh apana rahee hai to sarakaar ghamand mein to isalie baat nahin ban pa rahee hai aur kisaan chaahate hain ki emesapee par kaanoon bane aur sarakaar se 2 saal ke lie taal dena shaadee to yah kisaanon ka kahana hai ki taaki kisee bhee beemaaree hai to jaise yah kaanoon ek kainsar kee tarah aap jitana inako rokoge daaloge 2 saal pa loge to kainsar ka khatara utana hee adhik badh jaata hai to kisaan chaahate hain ki is beemaaree ko jad se khatm kiya jae aur rahee kaanoonon kee baat to isamen jab tak yah sarakaar kahatee hai ki ham sudhaar kar denge sudhaar kar denge to yahaan aane kee beemaaree aane kaanoon galat hai to is se achchha hai ki nahin khatm kar diya jaana chaahie aur kaanoon phir se bhee bana sakatee magar sarakaar apanee rananeeti apana rahee hai ki kisee bhee prakaar se aandolan ko taal diya jae aur 2024 mein hamaaree phir se sarakaar ban jae jabaki kisaan ab jaag chuka hai ab aisa hona mumakin nahin hai dekhate hain aage kya hota hai dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:11
किसान आंदोलन की वास्तविकता क्या है सरकार किसानों के बीच बातचीत नहीं हो पा रही इनका संयुक्त मोर्चा हुआ यार छोटे छोटे किसान आंदोलन है ग्रुप है संगठन जिसको कह सकते हो कोई बम पंक्ति का है कोई स्वराज इंडिया है कोई और है महेंद्र सिंह टिकैत की लड़की का कष्ट करें और कोई और कहीं इसमें राजनीति मुझे लगता है और कुछ जो प्रतिबंधित ग्रुप में है वह इनको सपोर्ट करने लगे और इन लोगों को मुझे लगता है कि कहीं नहीं छोड़ा कुछ कानून गलत हो सकता है मैं जानता हूं मैं मानता हूं या तीनो के तीनो कानूनों गलत हो सकते हैं इसमें संशोधन नहीं हो सकती जो सरकार कह रही है भाई 2 साल तक आप लोग हम इस कानून को होल्ड कर दे रहे हैं और आप के मेंबर हमारे मेंबर बैठकर समिति बनाइए और उसमें जो अच्छी बातें हैं कानून में जो चाहिए उसे सम्मिलित कर लो और फिर हम भी बैठकर करते हैं आपकी और भारत जैसे विकासशील देश में जहां पर 70 से 80% आबादी कृषि पर डिपेंड है क्या यहां गुंजाइश नहीं है सही सख्त कानून की क्या इंसानों में जो हजारों लाखों में मर रहे हैं जो अपने पशुओं को बेच नहीं पा रहे हैं क्या उनको जरूरत नहीं है निश्चित तौर पर आप सोच लो कि सरकार एमएसपी पर पैसा लेकर के पंजाब हरियाणा से खरीदते गेहूं चावल और जा कर दो रुपए किलो भेजती है सब्सिडी पर दूसरे स्टेट ऑफ में सूचना सरकार कितना पैसा करती है लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण है कोई भी मानने को तैयार नहीं अब कहीं न कहीं वह दिखता ही है इस धर्म में विश्व आंदोलन में हठधर्मिता भी लालच आ गया है और इस फंक्शन लगने लगा इस तरह से जिद करना कि हम ट्रैक्टर रैली निकालेंगे तीन लाख मैं जानता हूं चार लाख ट्रैक्टर ला दो दिल्ली को ब्लॉक कर दो लिखने से होने वाला 300000 ट्रैक्टर में जितना डीजल कहां से आएगा कौन देगा वो किसान जो डीजल पर सब्सिडी मांग रहा है बिजली पर सर्च डी मांग रहा है सिंचाई प्रविष्टि मांग रहा हो तीन लाख ट्रैक्टरों को 10 घंटे तक चल आएगा दिल्ली के रोड पर उसका कंजक्शन क्या होगा तो बहुत सारी चीजें हैं जो सोचने के लिए मजबूर कर देते हैं कि कहीं न कहीं इसमें कुछ गलत हो रहा है
Kisaan aandolan kee vaastavikata kya hai sarakaar kisaanon ke beech baatacheet nahin ho pa rahee inaka sanyukt morcha hua yaar chhote chhote kisaan aandolan hai grup hai sangathan jisako kah sakate ho koee bam pankti ka hai koee svaraaj indiya hai koee aur hai mahendr sinh tikait kee ladakee ka kasht karen aur koee aur kaheen isamen raajaneeti mujhe lagata hai aur kuchh jo pratibandhit grup mein hai vah inako saport karane lage aur in logon ko mujhe lagata hai ki kaheen nahin chhoda kuchh kaanoon galat ho sakata hai main jaanata hoon main maanata hoon ya teeno ke teeno kaanoonon galat ho sakate hain isamen sanshodhan nahin ho sakatee jo sarakaar kah rahee hai bhaee 2 saal tak aap log ham is kaanoon ko hold kar de rahe hain aur aap ke membar hamaare membar baithakar samiti banaie aur usamen jo achchhee baaten hain kaanoon mein jo chaahie use sammilit kar lo aur phir ham bhee baithakar karate hain aapakee aur bhaarat jaise vikaasasheel desh mein jahaan par 70 se 80% aabaadee krshi par dipend hai kya yahaan gunjaish nahin hai sahee sakht kaanoon kee kya insaanon mein jo hajaaron laakhon mein mar rahe hain jo apane pashuon ko bech nahin pa rahe hain kya unako jaroorat nahin hai nishchit taur par aap soch lo ki sarakaar emesapee par paisa lekar ke panjaab hariyaana se khareedate gehoon chaaval aur ja kar do rupe kilo bhejatee hai sabsidee par doosare stet oph mein soochana sarakaar kitana paisa karatee hai lekin durbhaagyapoorn hai koee bhee maanane ko taiyaar nahin ab kaheen na kaheen vah dikhata hee hai is dharm mein vishv aandolan mein hathadharmita bhee laalach aa gaya hai aur is phankshan lagane laga is tarah se jid karana ki ham traiktar railee nikaalenge teen laakh main jaanata hoon chaar laakh traiktar la do dillee ko blok kar do likhane se hone vaala 300000 traiktar mein jitana deejal kahaan se aaega kaun dega vo kisaan jo deejal par sabsidee maang raha hai bijalee par sarch dee maang raha hai sinchaee pravishti maang raha ho teen laakh traiktaron ko 10 ghante tak chal aaega dillee ke rod par usaka kanjakshan kya hoga to bahut saaree cheejen hain jo sochane ke lie majaboor kar dete hain ki kaheen na kaheen isamen kuchh galat ho raha hai

Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:43
के पीछे दो कारण हो सकता है कारण हमारी किस्मत में युवक युवक के बारे में चर्चा कर रहे हैं अपने आपको छोड़कर कहीं और हल्दी की मांग कर रहे हैं और दूसरी बात जो करना मैडम किसी भी अनुष्का यकीन नहीं हो सकता इसलिए गलत है इसलिए बात नहीं हो पा रही है फिल्म के बाद महिमा
Ke peechhe do kaaran ho sakata hai kaaran hamaaree kismat mein yuvak yuvak ke baare mein charcha kar rahe hain apane aapako chhodakar kaheen aur haldee kee maang kar rahe hain aur doosaree baat jo karana maidam kisee bhee anushka yakeen nahin ho sakata isalie galat hai isalie baat nahin ho pa rahee hai philm ke baad mahima

Naman Singh Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Naman जी का जवाब
Student & Social worker
1:44
कार जैसा कि प्रश्न है कि किसान आंदोलन की वास्तविकता क्या है क्यों सरकार और किसान के बीच बातचीत नहीं बन पा रही है तू मैं आपको बताना चाहता हूं कि किसान नेताओं और सरकार के बीच 11 दौर की बात इन 60 दिनों के आंदोलन में हो चुकी है पर किसी भी मीटिंग का कोई भी फायदा निकलकर सामने नहीं आया है इसका कारण सरकार का रियल रवैया है क्योंकि यह आंदोलन जिन शर्तों के साथ चालू हुआ था सरकार उन शर्तों को छोड़कर कोई अलग प्रस्ताव बनाने के लिए कोई अलग प्रस्ताव मनवाने के लिए सरकार प्रयासरत है और जैसा की विधित है कि किसान आंदोलन जिन दो प्रमुख मांगों के कारण चालू हुआ था सरकार का कोई भी ध्यान उस तरफ नहीं है और सरकार यह है कि वह इन तीनों कानूनों को किसी भी स्थिति में रद्द नहीं करेगी और ना ही एमएसपी गारंटी को लागू करें और भाई दूसरे प्रस्ताव होती कर किसानों को बहलाने की कोशिश कर रहे हैं यह कारण बहुत ही ठोस कारण है कि अभी तक किसान आंदोलन में सरकार और किसान के बीच बातचीत नहीं बन पा रही है धन्यवाद
Kaar jaisa ki prashn hai ki kisaan aandolan kee vaastavikata kya hai kyon sarakaar aur kisaan ke beech baatacheet nahin ban pa rahee hai too main aapako bataana chaahata hoon ki kisaan netaon aur sarakaar ke beech 11 daur kee baat in 60 dinon ke aandolan mein ho chukee hai par kisee bhee meeting ka koee bhee phaayada nikalakar saamane nahin aaya hai isaka kaaran sarakaar ka riyal ravaiya hai kyonki yah aandolan jin sharton ke saath chaaloo hua tha sarakaar un sharton ko chhodakar koee alag prastaav banaane ke lie koee alag prastaav manavaane ke lie sarakaar prayaasarat hai aur jaisa kee vidhit hai ki kisaan aandolan jin do pramukh maangon ke kaaran chaaloo hua tha sarakaar ka koee bhee dhyaan us taraph nahin hai aur sarakaar yah hai ki vah in teenon kaanoonon ko kisee bhee sthiti mein radd nahin karegee aur na hee emesapee gaarantee ko laagoo karen aur bhaee doosare prastaav hotee kar kisaanon ko bahalaane kee koshish kar rahe hain yah kaaran bahut hee thos kaaran hai ki abhee tak kisaan aandolan mein sarakaar aur kisaan ke beech baatacheet nahin ban pa rahee hai dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:51
किसान आंदोलन बिल्कुल एकदम सरकार के गले की हड्डी में फंस गया सरकार अपनी बात को रखना चाहती है किसान उनकी बात को मानना नहीं चाहिए क्योंकि किसानों को भय है कि सरकार बीच वानिया को खत्म नहीं कर रही है और हम कहीं ना कहीं से हम परेशान उस पर होंगे और हम को उचित मूल्य नहीं मिलेगा और सरकार हमारी खेती की जमीन और यह सब कुछ सरकार उनको कोई गारंटी नहीं दे पा रहे इसलिए सरकार के गले की हड्डी बन गए हैं किसान और 89 दौर की बातचीत हो गई और अभी जब निर्णय नहीं हो पा रहा है तो बाकी समझ में कितने दौड़ के भी बातचीत होनी है निर्णय सरकार को ही करना सरकार किसान अड़े हुए हैं कि हम उसको समाप्त करा कर मानेंगे सरकार कहती है कि हम उस को स्थगित करेंगे समाप्त नहीं करेंगे अब देखिए किस करवट बैठता है कि आप भी देखना एक बार भी देखें
Kisaan aandolan bilkul ekadam sarakaar ke gale kee haddee mein phans gaya sarakaar apanee baat ko rakhana chaahatee hai kisaan unakee baat ko maanana nahin chaahie kyonki kisaanon ko bhay hai ki sarakaar beech vaaniya ko khatm nahin kar rahee hai aur ham kaheen na kaheen se ham pareshaan us par honge aur ham ko uchit mooly nahin milega aur sarakaar hamaaree khetee kee jameen aur yah sab kuchh sarakaar unako koee gaarantee nahin de pa rahe isalie sarakaar ke gale kee haddee ban gae hain kisaan aur 89 daur kee baatacheet ho gaee aur abhee jab nirnay nahin ho pa raha hai to baakee samajh mein kitane daud ke bhee baatacheet honee hai nirnay sarakaar ko hee karana sarakaar kisaan ade hue hain ki ham usako samaapt kara kar maanenge sarakaar kahatee hai ki ham us ko sthagit karenge samaapt nahin karenge ab dekhie kis karavat baithata hai ki aap bhee dekhana ek baar bhee dekhen

KANHAIYA  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KANHAIYA जी का जवाब
Student
2:16
तुम्हारे करने से नेवर ज्यादा कर मर जाने दो सनम तेरी कसम सच है कि किसान आंदोलन वास्तविकता क्या है और क्यों सरकार किसानों के बीच बातचीत नहीं बन पा रही है तो गए थे इस क्वेश्चन का जवाब को देना चाहो कि भारत के जो सरकार के अन सरकार हर संभव कोशिश करें और इसी में से 11 दौर की बातचीत भी हुई किसान और सरकार के बीच में किसानों और भारत सरकार के बीच बातचीत क्यों नहीं बन पा रही क्यों हर बार बातचीत असफल हो रही है क्या रीजन है हमारा विपक्ष के कुछ ऐसी पार्टियां जो देश हित में नहीं बल्कि देश विरोध में काम कर रही हैं वह चाहे कोई सा भी कानून हो जाए 35a को टर्न ओं थे 74 - हो या फिर पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक का न्यू बालास्ट बालाकोट स्ट्राइक का न्यू या फिर भारत के अंदर किसी एक ऐसे मुद्दे पर विपक्ष की की पार्टियां जो देश विरोधी पार्टियां हैं वह कोशिश में है कि किसी न किसी तरीके से भारत की केंद्र सरकार मोदी सरकार को घेरा जाएगा और इसी वजह से वह फुल प्लान के तहत काम कर रही है इस समय भी किसी तरीके से भारत सरकार को घेरा जाएगा व्यापक पर लाया जाए और हमें अपनी मांगों को मनवाने जाए भारत की सरकार किसानों को केंद्र सरकार के बीच बातचीत लेने करवा दें क्योंकि बिचौलियों की आय बिल्कुल खत्म हो जाएगी अगर कानून लागू हो गए यही वजह है कि भारत के सरकार और केंद्र किसानों के बीच में बातचीत नहीं बन पा रही है क्योंकि यह लोग अपने फायदे के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं उन किसानों को पूरी तरीके से बढ़ता है वह किसान इतनी आसानी से मानने वाले बिल्कुल भी नहीं है किसान पूरी तरीके से उनकी बातों में आ गए हैं और जैसे कि आज ही आप का बयान है क्या कल 26 जनवरी को होने वाली परेड में पूरी पार्टी के सदस्यों के साथ किसानों के समर्थन पर आएंगे लेकिन किसानों ने पूर्व तेरे को मना कर दे लेकिन उसके बाद भी यह मैदान में कूद चुके हैं अब यही से इनकी मंशा को आप समझ सकते हैं
Tumhaare karane se nevar jyaada kar mar jaane do sanam teree kasam sach hai ki kisaan aandolan vaastavikata kya hai aur kyon sarakaar kisaanon ke beech baatacheet nahin ban pa rahee hai to gae the is kveshchan ka javaab ko dena chaaho ki bhaarat ke jo sarakaar ke an sarakaar har sambhav koshish karen aur isee mein se 11 daur kee baatacheet bhee huee kisaan aur sarakaar ke beech mein kisaanon aur bhaarat sarakaar ke beech baatacheet kyon nahin ban pa rahee kyon har baar baatacheet asaphal ho rahee hai kya reejan hai hamaara vipaksh ke kuchh aisee paartiyaan jo desh hit mein nahin balki desh virodh mein kaam kar rahee hain vah chaahe koee sa bhee kaanoon ho jae 35a ko tarn on the 74 - ho ya phir paakistaan mein sarjikal straik ka nyoo baalaast baalaakot straik ka nyoo ya phir bhaarat ke andar kisee ek aise mudde par vipaksh kee kee paartiyaan jo desh virodhee paartiyaan hain vah koshish mein hai ki kisee na kisee tareeke se bhaarat kee kendr sarakaar modee sarakaar ko ghera jaega aur isee vajah se vah phul plaan ke tahat kaam kar rahee hai is samay bhee kisee tareeke se bhaarat sarakaar ko ghera jaega vyaapak par laaya jae aur hamen apanee maangon ko manavaane jae bhaarat kee sarakaar kisaanon ko kendr sarakaar ke beech baatacheet lene karava den kyonki bichauliyon kee aay bilkul khatm ho jaegee agar kaanoon laagoo ho gae yahee vajah hai ki bhaarat ke sarakaar aur kendr kisaanon ke beech mein baatacheet nahin ban pa rahee hai kyonki yah log apane phaayade ke lie kisee bhee had tak ja sakate hain un kisaanon ko pooree tareeke se badhata hai vah kisaan itanee aasaanee se maanane vaale bilkul bhee nahin hai kisaan pooree tareeke se unakee baaton mein aa gae hain aur jaise ki aaj hee aap ka bayaan hai kya kal 26 janavaree ko hone vaalee pared mein pooree paartee ke sadasyon ke saath kisaanon ke samarthan par aaenge lekin kisaanon ne poorv tere ko mana kar de lekin usake baad bhee yah maidaan mein kood chuke hain ab yahee se inakee mansha ko aap samajh sakate hain

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:28
प्रश्न किसान आंदोलन की वास्तविकता क्या है सरकार और किसान के बीच बातचीत नहीं बन पा रही है तो देखिए किसान आंदोलन की वास्तविकता यही है किसान आंदोलन कर रहे हैं किसान भाई लोग और किसान यूनियन क्या करें कि इस बिल का पूरी तरह से विरोध कर रहे हैं इस बिल को एक्सेप्ट नहीं इस डील को रद्द करने की बात कर रहे हैं उसमें कोई न कोई कुछ भी कुछ भी नहीं चाहते उसके साथ-साथ उनका यह भी नहीं है कि पराली जलाने वाले जो नियम है उसमें संशोधन और जो बिजली का नियम आया उसे भी हमें संशोधित होना चाहिए और पूरी तरह से रखनी चाहिए कि सरकार यही नहीं करना चाहती है बस करती है कि हम तीनों जो भी लाई है उसमें हम संशोधन कर सकते हैं हम पूरी तरह से उसे रद्द नहीं कर सकते और किसी भी कंडीशन दोनों लोग इसी बात से अड़े हुए हैं जिसमें क्या हुआ कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया है मतलब उससे भी बातचीत की लेकिन उसके बाद भी और जो भी निर्णय अभी सरकार मान रही है लेकिन किसान भाइयों करें कि जब हम उसे मानेंगे ही नहीं जब उसे हम चाहते हैं कि रात हो जाए तो उसमें हम ऐसी बैठक भी नहीं करेंगे ना उसके बारे में हम कुछ चर्चा करेंगे हमें बस चाहिए तो किसान जो भी नियम आया है कृषि का उसे पूरी तरह से रद्द होना चाहिए सरकारी चाहती है कुछ भी हम संशोधन करके उसे फिर से वो बिल पास कर दें और यही दोनों में बात नहीं बन पा रही है इसी वजह से आज भी मतभेद बना हुआ आज भी किसान आंदोलन चल रहा है
Prashn kisaan aandolan kee vaastavikata kya hai sarakaar aur kisaan ke beech baatacheet nahin ban pa rahee hai to dekhie kisaan aandolan kee vaastavikata yahee hai kisaan aandolan kar rahe hain kisaan bhaee log aur kisaan yooniyan kya karen ki is bil ka pooree tarah se virodh kar rahe hain is bil ko eksept nahin is deel ko radd karane kee baat kar rahe hain usamen koee na koee kuchh bhee kuchh bhee nahin chaahate usake saath-saath unaka yah bhee nahin hai ki paraalee jalaane vaale jo niyam hai usamen sanshodhan aur jo bijalee ka niyam aaya use bhee hamen sanshodhit hona chaahie aur pooree tarah se rakhanee chaahie ki sarakaar yahee nahin karana chaahatee hai bas karatee hai ki ham teenon jo bhee laee hai usamen ham sanshodhan kar sakate hain ham pooree tarah se use radd nahin kar sakate aur kisee bhee kandeeshan donon log isee baat se ade hue hain jisamen kya hua ki sarakaar ne supreem kort ka bhee daravaaja khatakhataaya hai matalab usase bhee baatacheet kee lekin usake baad bhee aur jo bhee nirnay abhee sarakaar maan rahee hai lekin kisaan bhaiyon karen ki jab ham use maanenge hee nahin jab use ham chaahate hain ki raat ho jae to usamen ham aisee baithak bhee nahin karenge na usake baare mein ham kuchh charcha karenge hamen bas chaahie to kisaan jo bhee niyam aaya hai krshi ka use pooree tarah se radd hona chaahie sarakaaree chaahatee hai kuchh bhee ham sanshodhan karake use phir se vo bil paas kar den aur yahee donon mein baat nahin ban pa rahee hai isee vajah se aaj bhee matabhed bana hua aaj bhee kisaan aandolan chal raha hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन की वास्तविकता क्या है क्यों सरकार और किसान के बीच बातचीत नहीं बन पा रही है किसान आंदोलन की वास्तविकता क्या है
URL copied to clipboard