#undefined

bolkar speaker

क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?

Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:29
आज आपका सवाल है कि क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है इंसान कौन से मिल जाता है सिचुएशन आरती होती है कि घर में निकली नहीं दिया जा रहा है कि कोई भी प्रॉब्लम है लड़ाई झगड़े हो रहे जैसे होता है कि हम वृद्धाश्रम में जाएंगे एक जैसे होते हैं किस में आते हैं तो हमें कहीं ना कहीं डर भी लगता है कि हम बहुत ही नहीं मतलब इस दुनिया से जाने वाले उसकी भी हम करीब आ गया कि डिटेंशन सताता है बाल बच्चे जो भी गलत करते हैं जिस वजह से उनको वृद्धाश्रम आना पड़ता पर कहीं ना कहीं दिल में थोड़ा बहुत बच्चों के लिए भी केयर और फिर प्यार रहता है तो इस वजह से भी वह थोड़ा और सब ठीक और फिर वृद्धाश्रम में क्या हो रहा है किस तरह सूरज जरूरी नहीं होता है कि आप किसी भी जगह अच्छे बहुत अच्छे रिलेशन बना ले या फिर आपको वैसे इंसान भी मिल जाए तू अगर कोई रिलेशन अच्छा नहीं बना है आखिर आप अकेले मेरा इसमें कोई फैसेलिटीज नहीं है जैसे जून में आप रहते हैं वैसा जोन आपको आकर नहीं मिल रहा तो यह सब चिंता जनरल वृद्ध आश्रम में इंसान को सताती है इस तरह का ही मानसिकता रहता है
Aaj aapaka savaal hai ki kya vrddh aashram mein maanasik tanaav hotee hai insaan kaun se mil jaata hai sichueshan aaratee hotee hai ki ghar mein nikalee nahin diya ja raha hai ki koee bhee problam hai ladaee jhagade ho rahe jaise hota hai ki ham vrddhaashram mein jaenge ek jaise hote hain kis mein aate hain to hamen kaheen na kaheen dar bhee lagata hai ki ham bahut hee nahin matalab is duniya se jaane vaale usakee bhee ham kareeb aa gaya ki ditenshan sataata hai baal bachche jo bhee galat karate hain jis vajah se unako vrddhaashram aana padata par kaheen na kaheen dil mein thoda bahut bachchon ke lie bhee keyar aur phir pyaar rahata hai to is vajah se bhee vah thoda aur sab theek aur phir vrddhaashram mein kya ho raha hai kis tarah sooraj jarooree nahin hota hai ki aap kisee bhee jagah achchhe bahut achchhe rileshan bana le ya phir aapako vaise insaan bhee mil jae too agar koee rileshan achchha nahin bana hai aakhir aap akele mera isamen koee phaiseliteej nahin hai jaise joon mein aap rahate hain vaisa jon aapako aakar nahin mil raha to yah sab chinta janaral vrddh aashram mein insaan ko sataatee hai is tarah ka hee maanasikata rahata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Amar shing yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amar जी का जवाब
Unknown
0:02

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:43
क्या वर्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है जी आप दोस्तों बिल्कुल वर्धा आश्रम के अंदर मानचित्र देखने को मिल जाती है इसके पीछे कारण यह उठता है कि जो भी बुजुर्ग वहां पर जाते हैं उनको दोस्तों अपने परिवार की चिंता होती अपने पोते पोतियो से मिलने की इच्छा होती है बेटों से मिलने की इच्छा होती है परंतु उनके उत्तर दोस्तों उनको वर्ध आश्रम में डाले जाते हैं एक बात मान कर चले वह पढ़ने की भागीदारी नहीं है और ना ही उनके लिए अगर यह कह सकते हैं कि उनके माता-पिता की भी वह बिल्कुल रजत करते हो मुझे बर्दाश्त उनके दर्द हो तो मानसिक तनाव होता है परिवार को चिंतित होकर के वहां पर बुजुर्ग रहते हैं
Kya vardh aashram mein maanasik tanaav hotee hai jee aap doston bilkul vardha aashram ke andar maanachitr dekhane ko mil jaatee hai isake peechhe kaaran yah uthata hai ki jo bhee bujurg vahaan par jaate hain unako doston apane parivaar kee chinta hotee apane pote potiyo se milane kee ichchha hotee hai beton se milane kee ichchha hotee hai parantu unake uttar doston unako vardh aashram mein daale jaate hain ek baat maan kar chale vah padhane kee bhaageedaaree nahin hai aur na hee unake lie agar yah kah sakate hain ki unake maata-pita kee bhee vah bilkul rajat karate ho mujhe bardaasht unake dard ho to maanasik tanaav hota hai parivaar ko chintit hokar ke vahaan par bujurg rahate hain

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:07
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है देखिए भाई जवाब वृद्ध आश्रम में कहीं न कहीं आप अपने घर से दूर है जैसे जैसे आदमी वृद्ध हो जाता है उसको ज्यादा प्यार की जरूरत अपनेपन की जरूरत होती है उसे अपने घर की हवा आबोहवा जिसको आप कर सकते उसकी जरूरत होती है आपने देखा नहीं कि ब्रिटेन में एक कंपनी है जो हवा भेज रही हो और घर की हवा विश्वास होगा लेकिन कहते हैं कि जब हम अपने घर की हवा अपने गांव की हवा के इर्द-गिर्द होते हैं हमारी मन प्रफुल्लित होता है हमारे मानसिक स्थिति को चावल और आपने तो प्रश्न कर दी है कि वृद्ध आश्रम में मां जब हम अपनों से दूर होंगे मैं मानता हूं कुछ वृद्ध आश्रम में बहुत सारे साथी होंगे नए नए साथी होंगे जो आपको सपोर्ट करेंगे आपको लेकिन उस उम्र की उस मुकाम पर जहां अपनों की ज्यादा जरूरत है अपने घर की पुस्तक सेवा की जरूरत है अपने घर का वो आंगन की जरूरत है वह नहीं मिलता है तो मानसिक तनाव को रहेगा आप अपने घर से दूर हजारों के नोट अल्लापुर में लेकिन कभी मन से स्थिर होकर इंतजार कीजिए कि मेरी वह गलियां को मानले देश में घूमता था वहां की आंखों को अब कुछ समय के लिए बेचैन हो जाते हैं तो कहीं न कहीं वृद्धाश्रम तो उनके लिए ही मैं मानता हूं कि या तो सब कुछ मोह माया छोड़ दीजिए लेकिन इस उम्र में छोड़ता नहीं है और मान के चलिए कि वहां वृद्ध आश्रम में आप ही होगा सकते हैं अपना खाना खाते हैं टाइम पर कुछ छोटा मोटा काम करते हैं बॉडी को फिट रखने का प्रयास करते तो अपनी मानसिक तनाव को कम कर सकते हैं लेकिन वह कहते हैं ना कि दिल है कि मानता नहीं बच्चे की तरह बुढ़ापे का भी दिल हो जाता है वह हमेशा ढूंढता है अपनों का प्यार विश्वास नहीं है तो आप देख लीजिए किसी वजह से मिलते हो पैर छूते हो आशीर्वाद लेते हो अक्सर उसके उनकी आंखों में आंसू आ जाते हैं बड़ी ख़ुशी से आ जा ऑटोमेटिक निकल आते हैं तो वह चीजें हैं आप विश्वास नहीं होगा जब मैं अपने गांव जाता हूं रेलवे स्टेशन पर जो पहला का धंधा कहां हो तो मेरे आंखों में आंसू आ गए क्योंकि वह हकीकत कर लेता हूं जो बचपन में देखा उसी स्टेशन से स्टार्ट कर के हम कॉलेज जाते थे मोस्ट आ जाते थे नौकरी तलाश में आते थे वही रात में प्लेटफार्म आकर सो जाती है उसको याद करते हैं कि हम लोग सो जाते थे और जब घर के लिए सवारी नहीं मिलती थी राशि 40 साल पहले की बात करता हूं जब रात में सवारियां चलती नहीं लेट कानपुर पूरी राशि चक्र हंड्रेड परसेंट हो और हां उस तनाव से मुक्त होने के लिए अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति मानसिक स्थिति को मेडिटेशन करें योगा करें तो सबका दूर किया जा सकता है लेकिन दोस्त वृद्ध आश्रम में पहुंच जाना कोई समस्या है अगर उसकी कोई रिश्ता नहीं है सब दूर हो चुके हैं कोई नहीं है तब तो ठीक है लेकिन अगर कुछ जिंदा है लोग तो कभी भी ऐसा ना करें तो ज्यादा ही मेरी अपनी
Kya vrddh aashram mein maanasik tanaav hotee hai dekhie bhaee javaab vrddh aashram mein kaheen na kaheen aap apane ghar se door hai jaise jaise aadamee vrddh ho jaata hai usako jyaada pyaar kee jaroorat apanepan kee jaroorat hotee hai use apane ghar kee hava aabohava jisako aap kar sakate usakee jaroorat hotee hai aapane dekha nahin ki briten mein ek kampanee hai jo hava bhej rahee ho aur ghar kee hava vishvaas hoga lekin kahate hain ki jab ham apane ghar kee hava apane gaanv kee hava ke ird-gird hote hain hamaaree man praphullit hota hai hamaare maanasik sthiti ko chaaval aur aapane to prashn kar dee hai ki vrddh aashram mein maan jab ham apanon se door honge main maanata hoon kuchh vrddh aashram mein bahut saare saathee honge nae nae saathee honge jo aapako saport karenge aapako lekin us umr kee us mukaam par jahaan apanon kee jyaada jaroorat hai apane ghar kee pustak seva kee jaroorat hai apane ghar ka vo aangan kee jaroorat hai vah nahin milata hai to maanasik tanaav ko rahega aap apane ghar se door hajaaron ke not allaapur mein lekin kabhee man se sthir hokar intajaar keejie ki meree vah galiyaan ko maanale desh mein ghoomata tha vahaan kee aankhon ko ab kuchh samay ke lie bechain ho jaate hain to kaheen na kaheen vrddhaashram to unake lie hee main maanata hoon ki ya to sab kuchh moh maaya chhod deejie lekin is umr mein chhodata nahin hai aur maan ke chalie ki vahaan vrddh aashram mein aap hee hoga sakate hain apana khaana khaate hain taim par kuchh chhota mota kaam karate hain bodee ko phit rakhane ka prayaas karate to apanee maanasik tanaav ko kam kar sakate hain lekin vah kahate hain na ki dil hai ki maanata nahin bachche kee tarah budhaape ka bhee dil ho jaata hai vah hamesha dhoondhata hai apanon ka pyaar vishvaas nahin hai to aap dekh leejie kisee vajah se milate ho pair chhoote ho aasheervaad lete ho aksar usake unakee aankhon mein aansoo aa jaate hain badee khushee se aa ja otometik nikal aate hain to vah cheejen hain aap vishvaas nahin hoga jab main apane gaanv jaata hoon relave steshan par jo pahala ka dhandha kahaan ho to mere aankhon mein aansoo aa gae kyonki vah hakeekat kar leta hoon jo bachapan mein dekha usee steshan se staart kar ke ham kolej jaate the most aa jaate the naukaree talaash mein aate the vahee raat mein pletaphaarm aakar so jaatee hai usako yaad karate hain ki ham log so jaate the aur jab ghar ke lie savaaree nahin milatee thee raashi 40 saal pahale kee baat karata hoon jab raat mein savaariyaan chalatee nahin let kaanapur pooree raashi chakr handred parasent ho aur haan us tanaav se mukt hone ke lie apanee drdh ichchhaashakti maanasik sthiti ko mediteshan karen yoga karen to sabaka door kiya ja sakata hai lekin dost vrddh aashram mein pahunch jaana koee samasya hai agar usakee koee rishta nahin hai sab door ho chuke hain koee nahin hai tab to theek hai lekin agar kuchh jinda hai log to kabhee bhee aisa na karen to jyaada hee meree apanee

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:28
इतना दिया होता 1 तरीके से नहीं में तनाव इसलिए होता कि दो दिल होते हो अपने पुत्र के अखियां जो भी बता दो कैसे होंगे क्या कर रही होंगी अभी देखे नहीं भेजूंगा तेरे बिना कोई दर्द ना पूछता
Itana diya hota 1 tareeke se nahin mein tanaav isalie hota ki do dil hote ho apane putr ke akhiyaan jo bhee bata do kaise honge kya kar rahee hongee abhee dekhe nahin bhejoonga tere bina koee dard na poochhata

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:33
र क पत्नी के वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है तो आपको बता दें बिल्कुल विद्याश्रम में भी जो लोग होते हैं वह अपनी खुशी से वहां पर नहीं होते बल्कि परिवार द्वारा यह समाज द्वारा तिरस्कार होने की वजह से वहां पर होते हैं तो ऐसी स्थिति में उनका मानसिक तनाव में होना स्वाभाविक सी बात है कोशिश करना चाहिए कि अपने घर के जितने बड़े बुजुर्ग हैं उनका आदर सम्मान करें और हमको अपने साथ ही रखें या उनके साथ ही रहे उनका तिरस्कार बिल्कुल ना करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Ra ka patnee ke vrddh aashram mein maanasik tanaav hotee hai to aapako bata den bilkul vidyaashram mein bhee jo log hote hain vah apanee khushee se vahaan par nahin hote balki parivaar dvaara yah samaaj dvaara tiraskaar hone kee vajah se vahaan par hote hain to aisee sthiti mein unaka maanasik tanaav mein hona svaabhaavik see baat hai koshish karana chaahie ki apane ghar ke jitane bade bujurg hain unaka aadar sammaan karen aur hamako apane saath hee rakhen ya unake saath hee rahe unaka tiraskaar bilkul na karen main shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:13
नमस्कार दोस्तों बरसने की क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है तो दोस्तों में बताना चाहता हूं कि मनुष्य है तो मानसिक तनाव तो हर जगह ही रहेगा ऐसा नहीं हो कि तनाव से लोग वंचित रहते हैं जो अपने बच्चों को याद में पौधों के याद में ध्यान करता रहता है तो निश्चित रूप से मानसिक तनाव के बना रहता है जिसने इन सब चीजों मोह माया को त्याग दिया है वह स्वीकार कर लेता है कि मैं यहां पर खुश हूं यहां की जो दुनिया मेरे लिए यहां के जो साथी हैं मेरे साथी हैं और हमें जिंदगी में मजे करने हैं तो उसमें इतना तनाव नहीं रहता है नहीं तो तनाव मानसिक तनाव तो किसी अन्य कारण से भी हो जाता है तो बीमार हो गया है स्वास्थ्य के प्रति तनाव हो गया उसके अंदर तिथि को अपनों की याद आ रही है या वह अपने आपको पूछ रहा होता है कि मैंने ऐसे कैसे कर्म करे जो मेरे को बच्चे होने के बाद भी वृद्ध आश्रम में आना पड़ रहा है कई बार ऐसी हो जाती है और कई बार तू तू मैं मैं भी हो जाती है लोग यहां साथ ही रह रहे होते हैं तो उसे तनाव हो सकता है लेकिन वहां जा दिखाया जाता है मर गया तो नहीं है कि लोग उपस्थित रहते हैं अपने आपको प्रतिमा लोगों को ज्यादा बिजी रखा जाता है तो सोचने को कोई खास समय नहीं मिलता है लेकिन जहां मनुष्य हैं वहां पर तनाव को नकारा नहीं जा सकता है धन्यवाद
Namaskaar doston barasane kee kya vrddh aashram mein maanasik tanaav hotee hai to doston mein bataana chaahata hoon ki manushy hai to maanasik tanaav to har jagah hee rahega aisa nahin ho ki tanaav se log vanchit rahate hain jo apane bachchon ko yaad mein paudhon ke yaad mein dhyaan karata rahata hai to nishchit roop se maanasik tanaav ke bana rahata hai jisane in sab cheejon moh maaya ko tyaag diya hai vah sveekaar kar leta hai ki main yahaan par khush hoon yahaan kee jo duniya mere lie yahaan ke jo saathee hain mere saathee hain aur hamen jindagee mein maje karane hain to usamen itana tanaav nahin rahata hai nahin to tanaav maanasik tanaav to kisee any kaaran se bhee ho jaata hai to beemaar ho gaya hai svaasthy ke prati tanaav ho gaya usake andar tithi ko apanon kee yaad aa rahee hai ya vah apane aapako poochh raha hota hai ki mainne aise kaise karm kare jo mere ko bachche hone ke baad bhee vrddh aashram mein aana pad raha hai kaee baar aisee ho jaatee hai aur kaee baar too too main main bhee ho jaatee hai log yahaan saath hee rah rahe hote hain to use tanaav ho sakata hai lekin vahaan ja dikhaaya jaata hai mar gaya to nahin hai ki log upasthit rahate hain apane aapako pratima logon ko jyaada bijee rakha jaata hai to sochane ko koee khaas samay nahin milata hai lekin jahaan manushy hain vahaan par tanaav ko nakaara nahin ja sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:26
आपके सोने की क्या वर्ड आश्रम में मानसिक तनाव होता है तुम्हें बिल्कुल वर्धा से हमें मानसिक तनाव होता है क्योंकि जो भी वृद्धाश्रम में जाते हैं अच्छे से रह नहीं पाते और बार-बार अपने परिवार वालों के बारे में सोचते रहते हैं इसलिए मानसिक तनाव होना तो सुपरमैन
Aapake sone kee kya vard aashram mein maanasik tanaav hota hai tumhen bilkul vardha se hamen maanasik tanaav hota hai kyonki jo bhee vrddhaashram mein jaate hain achchhe se rah nahin paate aur baar-baar apane parivaar vaalon ke baare mein sochate rahate hain isalie maanasik tanaav hona to suparamain

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
क्या उर्दू आश्रम में मानसिकता होती है मानसिक तनाव किशोर के मजा स्वर्ग में बिठाकर या पहुंचा कर भी उसको हो सकता है अगर उसके मन में ही पहले से सारी विकारों से भरा हुआ लाल सी कौन सी क्या तामसी व्यक्तिमत्व होगा तो चाहे वह बूढ़ा हो या जवान तो उसके मन में मानसिक तनाव तो रहेगा ही उस दशम में उर्दू को डालने के कई कारण वहां पर ठीक समय पर भोजन की व्यवस्था होती है लेने के लिए के लिए अच्छी जगह होती है सम विचारी और एक ही उम्र के लगभग एनीबॉडी लोग होते हैं और उनका आपस में हम दो और शेयर करना अच्छी बात होती है और अगर उदास लम्हों की क्वालिटी अच्छी है खाने की और बाकी रहने की जगह सब कुछ अच्छा है और ऐसे उदास तुम्हें भी तो कई लोग जो है अपने आप पसंद करते हैं पति पत्नी दोनों जाकर उदास रूम में रहते हैं उनके बेटे होते हैं अगर नौकरी के लिए बाहर है तुमको वापस भेजते हैं उस अवस्था को भी पैसा देते हैं अरुण की सेवा के लिए कोई घर में नहीं रहता है इसलिए वहां पर रहते हैं और पैरी बाजे दूसरी बात यह है कि गरीबों को ₹10 लेते भी नहीं है गरीब और मध्यम वर्ग एवं को ज्यादा करके उनका श्रम प्राइवेट है हमारे शहर के पास 1 जनों का उदाहरण है मैं पत्रकार के रूप में वहां पर गया था तो उसने बाबा बताया पहले मुझे एक बात तो हम यह करते हैं कि हमारे लोग ब्राह्मण या मराठा छोड़कर किसी को लेते ही नहीं क्योंकि बाकी लाज जातियों के लोग अच्छे रहते नहीं तो यह केवल एक उदाहरण है लेकिन ऐसी व्यवस्था है जो प्राइवेट संस्थाओं के जस सुनाएं अब जो गवर्नमेंट के है उसमें भी बहुत सारा भ्रष्टाचार है अच्छी तरीके का भोजन नहीं होता है मजबूरी में जाना पड़ता है तो मन सीताराम ईश्वर होता है वहां पर और वहां पर एक्सपर्ट तब भी नहीं होता है उनको कौन से लिंक करने के लिए कोई व्यवस्था नहीं होती है उनके मनोरंजन के लिए कोई दोस्त होती ऐसे ही मर जाती भर दी जाती है और कुछ लोग हैं वहां पर अपना जिसको को शीला कहते हैं वह शीला लगाकर अपने रिश्तेदार को यह किसी को पैसे लेकर वहां पर एडमिशन दिलवा देते हैं बाकी जिन जिन को जरूरत है उनको नहीं मिलता है सभी क्षेत्रों में अगर भ्रष्टाचार नहीं खत्म हो जाता तो ऐसी स्थिति सभी क्षेत्रों में कुछ लोगों को जड़ों में मैंने पूछा था एक औरत को 3 महीने जेल में जाकर आई तो आप इतने मच्छर ओरिजिन इतनी है जिंदगी अब चाहे जैसे उसके शब्द में हमारे बताता हूं जैसे मित्र होता है मुद्रा मराठी में मुक्त कैसे कहते हैं उसे गांव की भाषा में जैसे मित्र मित्रों सोच स्टाइल में उसने बताया था एक ही गोली दी जाती है कोई अगर कभी थोड़ा बीमार हो जाए तो एक ही पेरासिटामोल की बोली होती है वही दी जाती तो गरीब और मध्यम और भी उनकी हालत है हर दिशा में कठिन है पूरा पर सोसाइटी और पैसों वालों की हालत किसी भी तरह तरीके से रहे तो अच्छी होती है और एक दोहरा चरित्र लेकर हमारा समाज जीता है एक तरफ माध्यम की ध्वज की बात करता है और दूसरी तरफ अपने राष्ट्र के अपने कुछ भाइयों को अपना ही मानता उनको अपशकुन मानता है
Kya urdoo aashram mein maanasikata hotee hai maanasik tanaav kishor ke maja svarg mein bithaakar ya pahuncha kar bhee usako ho sakata hai agar usake man mein hee pahale se saaree vikaaron se bhara hua laal see kaun see kya taamasee vyaktimatv hoga to chaahe vah boodha ho ya javaan to usake man mein maanasik tanaav to rahega hee us dasham mein urdoo ko daalane ke kaee kaaran vahaan par theek samay par bhojan kee vyavastha hotee hai lene ke lie ke lie achchhee jagah hotee hai sam vichaaree aur ek hee umr ke lagabhag eneebodee log hote hain aur unaka aapas mein ham do aur sheyar karana achchhee baat hotee hai aur agar udaas lamhon kee kvaalitee achchhee hai khaane kee aur baakee rahane kee jagah sab kuchh achchha hai aur aise udaas tumhen bhee to kaee log jo hai apane aap pasand karate hain pati patnee donon jaakar udaas room mein rahate hain unake bete hote hain agar naukaree ke lie baahar hai tumako vaapas bhejate hain us avastha ko bhee paisa dete hain arun kee seva ke lie koee ghar mein nahin rahata hai isalie vahaan par rahate hain aur pairee baaje doosaree baat yah hai ki gareebon ko ₹10 lete bhee nahin hai gareeb aur madhyam varg evan ko jyaada karake unaka shram praivet hai hamaare shahar ke paas 1 janon ka udaaharan hai main patrakaar ke roop mein vahaan par gaya tha to usane baaba bataaya pahale mujhe ek baat to ham yah karate hain ki hamaare log braahman ya maraatha chhodakar kisee ko lete hee nahin kyonki baakee laaj jaatiyon ke log achchhe rahate nahin to yah keval ek udaaharan hai lekin aisee vyavastha hai jo praivet sansthaon ke jas sunaen ab jo gavarnament ke hai usamen bhee bahut saara bhrashtaachaar hai achchhee tareeke ka bhojan nahin hota hai majabooree mein jaana padata hai to man seetaaraam eeshvar hota hai vahaan par aur vahaan par eksapart tab bhee nahin hota hai unako kaun se link karane ke lie koee vyavastha nahin hotee hai unake manoranjan ke lie koee dost hotee aise hee mar jaatee bhar dee jaatee hai aur kuchh log hain vahaan par apana jisako ko sheela kahate hain vah sheela lagaakar apane rishtedaar ko yah kisee ko paise lekar vahaan par edamishan dilava dete hain baakee jin jin ko jaroorat hai unako nahin milata hai sabhee kshetron mein agar bhrashtaachaar nahin khatm ho jaata to aisee sthiti sabhee kshetron mein kuchh logon ko jadon mein mainne poochha tha ek aurat ko 3 maheene jel mein jaakar aaee to aap itane machchhar orijin itanee hai jindagee ab chaahe jaise usake shabd mein hamaare bataata hoon jaise mitr hota hai mudra maraathee mein mukt kaise kahate hain use gaanv kee bhaasha mein jaise mitr mitron soch stail mein usane bataaya tha ek hee golee dee jaatee hai koee agar kabhee thoda beemaar ho jae to ek hee peraasitaamol kee bolee hotee hai vahee dee jaatee to gareeb aur madhyam aur bhee unakee haalat hai har disha mein kathin hai poora par sosaitee aur paison vaalon kee haalat kisee bhee tarah tareeke se rahe to achchhee hotee hai aur ek dohara charitr lekar hamaara samaaj jeeta hai ek taraph maadhyam kee dhvaj kee baat karata hai aur doosaree taraph apane raashtr ke apane kuchh bhaiyon ko apana hee maanata unako apashakun maanata hai

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:40
आपको पता क्या वृद्धावस्था आश्रम में मानसिक तनाव होता है जो व्यक्ति अपने बाल बच्चों को पैदा करता है अपनी सारी संपत्ति अपने सारे श्रम के माध्यम से बच्चों को सम्मान दिलाता है उनको घर द्वार देता हूं को पढ़ाई लिखाई करता अपने जीवन के सारी पूंजी उनके साथ लगा देता उनके साथ माया मोह ममता सब कुछ निछावर कर देता है अगर वृद्धावस्था वृद्धावस्था में अनुशासन में रहना पड़े तो यह उसके लिए एक बहुत ही दुखद परिस्थितियां होती है लेकिन जब नहीं मानते हैं और उसके साथ दो बाबा के साथ अन्याय होता तभी वृद्ध आश्रम जाते हैं और वहां जब जाते हैं तो उनका मन जो है क्योंकि माया मोह ममता में लगा रहता है इसलिए उनको चुनाव के रहते हो जल्दी मर जाते हैं बेचारे चिंता करके सोच सोच के
Aapako pata kya vrddhaavastha aashram mein maanasik tanaav hota hai jo vyakti apane baal bachchon ko paida karata hai apanee saaree sampatti apane saare shram ke maadhyam se bachchon ko sammaan dilaata hai unako ghar dvaar deta hoon ko padhaee likhaee karata apane jeevan ke saaree poonjee unake saath laga deta unake saath maaya moh mamata sab kuchh nichhaavar kar deta hai agar vrddhaavastha vrddhaavastha mein anushaasan mein rahana pade to yah usake lie ek bahut hee dukhad paristhitiyaan hotee hai lekin jab nahin maanate hain aur usake saath do baaba ke saath anyaay hota tabhee vrddh aashram jaate hain aur vahaan jab jaate hain to unaka man jo hai kyonki maaya moh mamata mein laga rahata hai isalie unako chunaav ke rahate ho jaldee mar jaate hain bechaare chinta karake soch soch ke

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:08
मित्रों आपका प्रश्न है क्या वर्धा आश्रम में मानसिक तनाव होती है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर है वर्धा आश्रम में मानसिक तनाव तो होता है क्योंकि बर्दाश्त रे में बुड्ढे जो माता-पिता होते हैं वह आश्रम में रहते हैं वह अपने बच्चों से दूर रहते हैं इसलिए बच्चों की भी टेंशन उनके दिमाग में रहती है और वर्ध आश्रम में उनका रिश्तेदार सभी दूर रहते हैं इसलिए कई प्रकार की मानसिक टेंशन से आहत पहुंचती है लेकिन क्या करें वहां आश्रम में ही संतोष करना पड़ता है जिस प्रकार से वहां उनका जीवन बिता है उसी प्रकार से वह अपना जीवन वही बिताते हैं और वहीं पर जो खाना पीना कपड़े जो भी मिलते हैं उन्हें में संतोष करना पड़ता है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Mitron aapaka prashn hai kya vardha aashram mein maanasik tanaav hotee hai to doston aapake savaal ka uttar hai vardha aashram mein maanasik tanaav to hota hai kyonki bardaasht re mein buddhe jo maata-pita hote hain vah aashram mein rahate hain vah apane bachchon se door rahate hain isalie bachchon kee bhee tenshan unake dimaag mein rahatee hai aur vardh aashram mein unaka rishtedaar sabhee door rahate hain isalie kaee prakaar kee maanasik tenshan se aahat pahunchatee hai lekin kya karen vahaan aashram mein hee santosh karana padata hai jis prakaar se vahaan unaka jeevan bita hai usee prakaar se vah apana jeevan vahee bitaate hain aur vaheen par jo khaana peena kapade jo bhee milate hain unhen mein santosh karana padata hai dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:29
अच्छा मैं मानसिक तनाव होता है क्योंकि जो भी लोग वृद्धाश्रम चाहते हैं उनको उनके अपने सन डॉट अरे छोड़ कर आते हो वे चाहते हैं कि जैसा मैंने उन ब्रज लोग चाहते हैं जैसा मैंने उनकी बचपन में मदद की पढ़ाया बढ़ाए किया उनकी कर भी सोचते हैं कि यह सब टाइम वेस्ट हो क्योंकि वे एक न एक दिन चले जाएंगे जाता तो हर कोई है बस भी पहले जाते कोई बात नहीं जाता है तो हां वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव बहुत होता है
Achchha main maanasik tanaav hota hai kyonki jo bhee log vrddhaashram chaahate hain unako unake apane san dot are chhod kar aate ho ve chaahate hain ki jaisa mainne un braj log chaahate hain jaisa mainne unakee bachapan mein madad kee padhaaya badhae kiya unakee kar bhee sochate hain ki yah sab taim vest ho kyonki ve ek na ek din chale jaenge jaata to har koee hai bas bhee pahale jaate koee baat nahin jaata hai to haan vrddh aashram mein maanasik tanaav bahut hota hai

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Ankit Singh Kshatriya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Unknown
2:58
नमस्कार प्रश्न किया गया है क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है ना इस सवाल का जवाब देने से पहले एक प्रश्न पूछना चाहूंगा हम सब से इतनी जरूरत है कि क्या हमें वृद्धाश्रम की जरूरत है सच में जरूरत हमारे यहां विद्या विद्या आश्रम की क्या हम आज की डेट में ऐसे हो गए हैं कि हमें विधा संकेत पड़ेगी अपने मां बाप का ख्याल नहीं रह सकता जो मां-बाप हमें बचपन से लेकर जवानी तक हमारा ख्याल रखते हैं हमें जब भी जरूरत पड़ती है वह हमारे साथ खड़े मिलते हैं तो क्या जरूरत पड़ जाती है हमारे समाज में वृद्धाश्रम कि हम क्यों अपने मां बाप को वर्ध आश्रम में भेजना चाहते हैं अब कई लोगों के दिमाग में यह भी सवाल आएगा कि वृद्ध आश्रम में कोई जरूरी थोड़ी है कि मामा को भेजा जाए कई बार ऐसे लोग भी मिलते हैं रोड पर या फिर कहीं प्यार में ऐसे लोग मिल जाते हैं जिनका कोई नहीं होता और उनकी मदद करने के हमको विद आसन छोड़ जाते हैं अच्छी बात है वह भी अच्छी बात है अच्छा काम करते हैं लेकिन उनके भी तो बच्चे होंगे कि उन्होंने ऐसा कर दिया कि उनको अपने मां-बाप को इस तरीके से छोड़ देना पड़ गया रोड पर कि कोई दूसरा उनको विद्या आश्रम पहुंचा रहा है तो खैरियत अलग टॉपिक है लेकिन फिर भी हम इस बात पर सोचने की जरूरत है कि क्या सच में मैं बताता हूं जरूरत है अब आते हैं प्रश्न पर क्या वहां पर मानसिक तनाव होती है बिल्कुल होती है अगर एक बुजुर्ग को अपने परिवार से दूर एक वृद्ध आश्रम में रहना पड़ जाए तो उसको वृद्ध आश्रम में कितना अच्छा भी माहौल क्यों ना मिले उसके दिमाग में उनके मन मस्तिष्क में यह बात जरूर चलती है कि आज वह क्यों यहां पर हैं क्या ऐसा हो गया क्या ऐसी गलती हो गई या फिर क्या ऐसा समाज बन गया या फिर क्या से हालात पैदा हो गए जो उनको विधाता में आना पड़ गया और ऐसा क्यों हुआ क्या उनके परवरिश में कोई कमी रह गई अपने बच्चों की आखिर क्या हो गया ऐसा तो मानसिक तनाव तो होता है एक बच्चा जब हॉस्टल में रहता है तो उस पर होटल सिटी कितनी अच्छी हो अपने घर को मिस करता है एक बेटा जब अपने मां-बाप से दूर होकर कहीं बाहर नौकरी कर रहा होता है तो वहां पर महोल कैसा भी हो अपने घर से दूर होने का उसे गम होता है एक बेटी जो अपना घर छोड़कर ससुराल जाती है तो वहां पर कितना पैसा फैसिलिटी लेकिन उसको अपने मायके की याद आती है उसी तरीके से जब एक बुजुर्ग अपना घर अपने परिवार को छोड़कर उदास हो जाता है तो उनको आत्मा से चुनाव होता है तो वेदासरा में मात्र इतना होता है धन्यवाद
Namaskaar prashn kiya gaya hai kya vrddh aashram mein maanasik tanaav hotee hai na is savaal ka javaab dene se pahale ek prashn poochhana chaahoonga ham sab se itanee jaroorat hai ki kya hamen vrddhaashram kee jaroorat hai sach mein jaroorat hamaare yahaan vidya vidya aashram kee kya ham aaj kee det mein aise ho gae hain ki hamen vidha sanket padegee apane maan baap ka khyaal nahin rah sakata jo maan-baap hamen bachapan se lekar javaanee tak hamaara khyaal rakhate hain hamen jab bhee jaroorat padatee hai vah hamaare saath khade milate hain to kya jaroorat pad jaatee hai hamaare samaaj mein vrddhaashram ki ham kyon apane maan baap ko vardh aashram mein bhejana chaahate hain ab kaee logon ke dimaag mein yah bhee savaal aaega ki vrddh aashram mein koee jarooree thodee hai ki maama ko bheja jae kaee baar aise log bhee milate hain rod par ya phir kaheen pyaar mein aise log mil jaate hain jinaka koee nahin hota aur unakee madad karane ke hamako vid aasan chhod jaate hain achchhee baat hai vah bhee achchhee baat hai achchha kaam karate hain lekin unake bhee to bachche honge ki unhonne aisa kar diya ki unako apane maan-baap ko is tareeke se chhod dena pad gaya rod par ki koee doosara unako vidya aashram pahuncha raha hai to khairiyat alag topik hai lekin phir bhee ham is baat par sochane kee jaroorat hai ki kya sach mein main bataata hoon jaroorat hai ab aate hain prashn par kya vahaan par maanasik tanaav hotee hai bilkul hotee hai agar ek bujurg ko apane parivaar se door ek vrddh aashram mein rahana pad jae to usako vrddh aashram mein kitana achchha bhee maahaul kyon na mile usake dimaag mein unake man mastishk mein yah baat jaroor chalatee hai ki aaj vah kyon yahaan par hain kya aisa ho gaya kya aisee galatee ho gaee ya phir kya aisa samaaj ban gaya ya phir kya se haalaat paida ho gae jo unako vidhaata mein aana pad gaya aur aisa kyon hua kya unake paravarish mein koee kamee rah gaee apane bachchon kee aakhir kya ho gaya aisa to maanasik tanaav to hota hai ek bachcha jab hostal mein rahata hai to us par hotal sitee kitanee achchhee ho apane ghar ko mis karata hai ek beta jab apane maan-baap se door hokar kaheen baahar naukaree kar raha hota hai to vahaan par mahol kaisa bhee ho apane ghar se door hone ka use gam hota hai ek betee jo apana ghar chhodakar sasuraal jaatee hai to vahaan par kitana paisa phaisilitee lekin usako apane maayake kee yaad aatee hai usee tareeke se jab ek bujurg apana ghar apane parivaar ko chhodakar udaas ho jaata hai to unako aatma se chunaav hota hai to vedaasara mein maatr itana hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है?Kya Vridh Ashram Mein Mansik Tanav Hoti Hai
Dukh mitane ka upay Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:48
आपने पूछा क्या वर्धा आश्रम में मानसिक तनाव होता है कि वह मानसिक तनाव कम हो सकता है हनी सिंह स्किन स्थली जुड़ेंगे तब भी हमसे जुड़ने के लिए मानसिक हो शायरी भूल जाते हैं कि मानसिक पर छूट मिलती है उनकी प्रार्थना करें जो कुछ भी है जैसे आप सो रुपए कमाए ₹1 और कुछ भी नहीं है कि खाना खाने से पहले के जैसे एक रोटी का टुकड़ा दो रोटी चिड़िया कबूतर विचारधारा को अशांत को दीक्षित को सब का एक ही शक्ति है जो पूरे संसार को उत्पन्न करे हुए संस्था चला रहे हो हमारे शरीर में रामायण भाग 1 का सरपंच प्रार्थना की शक्ति प्रदान करें ऑडियो अपना ज्ञान शुभकामना
Aapane poochha kya vardha aashram mein maanasik tanaav hota hai ki vah maanasik tanaav kam ho sakata hai hanee sinh skin sthalee judenge tab bhee hamase judane ke lie maanasik ho shaayaree bhool jaate hain ki maanasik par chhoot milatee hai unakee praarthana karen jo kuchh bhee hai jaise aap so rupe kamae ₹1 aur kuchh bhee nahin hai ki khaana khaane se pahale ke jaise ek rotee ka tukada do rotee chidiya kabootar vichaaradhaara ko ashaant ko deekshit ko sab ka ek hee shakti hai jo poore sansaar ko utpann kare hue sanstha chala rahe ho hamaare shareer mein raamaayan bhaag 1 ka sarapanch praarthana kee shakti pradaan karen odiyo apana gyaan shubhakaamana

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव होती है वृद्ध आश्रम में मानसिक तनाव
URL copied to clipboard