#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्या हर समय नरम होना सही है?

Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Student
1:53

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:30
आपका आपका प्रश्न है क्या हर समय नरम हो ना सही लेकिन फ्रेंड सर्च नेनाराम होना सही नहीं है कभी-कभी हमारे हिसाब से एक ही बात की सबसे थोड़ा गर्म भी होना पड़ता है जैसे मेरे बच्चे हद से भी ज्यादा अगर शैतानी करें तो हमें थोड़ा करोगी होना पड़ेगा थोड़ा गुस्सा भी उसको डांटना भी पड़ेगा हर समय हम नरमी से पेश आएंगे तो यह बच्चे बिगड़ जाएंगे हमारी बात नहीं मानेंगे कभी-कभी शक्ति भी दिखाना जरूरी होता है हर समय नरम हो ना ठीक बात नहीं होता है धन्यवाद
Aapaka aapaka prashn hai kya har samay naram ho na sahee lekin phrend sarch nenaaraam hona sahee nahin hai kabhee-kabhee hamaare hisaab se ek hee baat kee sabase thoda garm bhee hona padata hai jaise mere bachche had se bhee jyaada agar shaitaanee karen to hamen thoda karogee hona padega thoda gussa bhee usako daantana bhee padega har samay ham naramee se pesh aaenge to yah bachche bigad jaenge hamaaree baat nahin maanenge kabhee-kabhee shakti bhee dikhaana jarooree hota hai har samay naram ho na theek baat nahin hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:55
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है क्या हर समय नरम होना सही है दिखे फ्रेंड नरम होने का तात्पर्य दिया जाता है कि आप नरम हो उसका तात्पर्य होता है स्वभाव से आप कड़वी बातें ना करें ऐसा ना रखें द्वेष ना रखें किसी से झगड़ालू प्रवृति के आप ना हो आपका स्वभाव जो है वह हमेशा हर एक शख्स से मिलनसार रहने वाला हो यह नहीं कि आप इंसानों से जो है नफरत करते हो इंसान आज से आकर आपके पास बैठ जाए तो वह आपको लगे कि यह क्या आ गया आपको लगे किसी से कोई जानवर आ गया आप जो है इंसानों से नफरत करते हो इस तरह की विचारधारा आपके अंदर ना हो आप सरल स्वभाव की हो सबसे मिलनसार हो सबसे भाईचारे के समान व्यवहार करें इस कंडीशन में कहा जाता है कि आप जो है नरम हो अब इतना धर्म होना नहीं खा जाता फ्रेंड की आप को जो चाहे जिस कंडीशन में परिवर्तित कर दी फ्रेंड देखिए परिस्थितियों के अनुसार जो है हमें धर्म और कर्म दोनों होना पड़ता है यह कंडीशन आती है कि आपको नर्मदा से पेश आना पड़ता है एक कंडीशन ऐसे ही आती है क्या आपको ना चाहते हुए भी कर्म का सहारा लेना पड़ता है उत्तेजना में होना पड़ता है कोदित होना पड़ता है प्रेम क्योंकि आप तो अभी तक जो नरम है जब तक आप के अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन नहीं होता फ्रेंड मान लीजिए आपके हक की कोई चीज है अगर आपके हाथ की चीज आपको मिल जा रही है फ्रेंड तब तो कोई प्रॉब्लम नहीं है आपका नरम होना लाजमी है लेकिन अगर आपका हक तो है कुछ छीन लिया जा रहा है आप को प्रताड़ित किया जा रहा है लेकिन आप फिर भी कुछ ना बोलिए आप हंसते रहिए नर्म भाव से और देखिएगा आप फ्रेंड की आपके पास जो बचा खुचा रहेगा वह भी एक समय आएगा कि आप की गर्माहट की वजह से लोग आपसे छीन लेंगे तो यह कंडीशन ना उत्पन्न हो जब भी आपके अधिकारों पर जो है आक्रमण हो उस वक्त हमें जो है गर्मजोशी से जो है रहना पड़ता है थोड़ा सा उत्तेजित होना पड़ता है थोड़ा सा भी दिखाना पड़ता है फ्रेंड कंडीशन के अनुसार जो है इंसान को परिस्थितियों के अनुसार जो है बदलना चाहिए चाहे परिस्थितियों जो है उसके अनुकूल हो या फिर प्रतिकूल हो अगर कंडीशन आपके खिलाफ है तो आपको उसी तरीके से जुड़े परिवर्तन करना चाहिए कंडीशन के रूप होता है फ्रेंड की किस कंडीशन में हमें धर्म होना चाहिए और किस कंडीशन में हमें गर्व होना चाहिए आशा है कर्म का मतलब फ्रेंड क्रोध से है आपके अंदर भी दिखाने से है खुद से आशा है कि आप सभी को ऐसा पसंद आया होगा नमस्कार
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai kya har samay naram hona sahee hai dikhe phrend naram hone ka taatpary diya jaata hai ki aap naram ho usaka taatpary hota hai svabhaav se aap kadavee baaten na karen aisa na rakhen dvesh na rakhen kisee se jhagadaaloo pravrti ke aap na ho aapaka svabhaav jo hai vah hamesha har ek shakhs se milanasaar rahane vaala ho yah nahin ki aap insaanon se jo hai napharat karate ho insaan aaj se aakar aapake paas baith jae to vah aapako lage ki yah kya aa gaya aapako lage kisee se koee jaanavar aa gaya aap jo hai insaanon se napharat karate ho is tarah kee vichaaradhaara aapake andar na ho aap saral svabhaav kee ho sabase milanasaar ho sabase bhaeechaare ke samaan vyavahaar karen is kandeeshan mein kaha jaata hai ki aap jo hai naram ho ab itana dharm hona nahin kha jaata phrend kee aap ko jo chaahe jis kandeeshan mein parivartit kar dee phrend dekhie paristhitiyon ke anusaar jo hai hamen dharm aur karm donon hona padata hai yah kandeeshan aatee hai ki aapako narmada se pesh aana padata hai ek kandeeshan aise hee aatee hai kya aapako na chaahate hue bhee karm ka sahaara lena padata hai uttejana mein hona padata hai kodit hona padata hai prem kyonki aap to abhee tak jo naram hai jab tak aap ke adhikaar kshetr ka ullanghan nahin hota phrend maan leejie aapake hak kee koee cheej hai agar aapake haath kee cheej aapako mil ja rahee hai phrend tab to koee problam nahin hai aapaka naram hona laajamee hai lekin agar aapaka hak to hai kuchh chheen liya ja raha hai aap ko prataadit kiya ja raha hai lekin aap phir bhee kuchh na bolie aap hansate rahie narm bhaav se aur dekhiega aap phrend kee aapake paas jo bacha khucha rahega vah bhee ek samay aaega ki aap kee garmaahat kee vajah se log aapase chheen lenge to yah kandeeshan na utpann ho jab bhee aapake adhikaaron par jo hai aakraman ho us vakt hamen jo hai garmajoshee se jo hai rahana padata hai thoda sa uttejit hona padata hai thoda sa bhee dikhaana padata hai phrend kandeeshan ke anusaar jo hai insaan ko paristhitiyon ke anusaar jo hai badalana chaahie chaahe paristhitiyon jo hai usake anukool ho ya phir pratikool ho agar kandeeshan aapake khilaaph hai to aapako usee tareeke se jude parivartan karana chaahie kandeeshan ke roop hota hai phrend kee kis kandeeshan mein hamen dharm hona chaahie aur kis kandeeshan mein hamen garv hona chaahie aasha hai karm ka matalab phrend krodh se hai aapake andar bhee dikhaane se hai khud se aasha hai ki aap sabhee ko aisa pasand aaya hoga namaskaar

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Ramlal Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramlal जी का जवाब
Students
0:31

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:22
राकेश वाले की चाहत में जलन होना चाहिए तो आए थे घर में गर्म होना विषय में कभी-कभी आपकी गलती है मैं होने पर कि आप अगर नाराज बात करते हैं तो लोग सुना कर चले जाएंगे इसलिए कभी-कभी गर्म होना भी चाहिए धन्यवाद
Raakesh vaale kee chaahat mein jalan hona chaahie to aae the ghar mein garm hona vishay mein kabhee-kabhee aapakee galatee hai main hone par ki aap agar naaraaj baat karate hain to log suna kar chale jaenge isalie kabhee-kabhee garm hona bhee chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Md Mahmud Alam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Md जी का जवाब
स्टूडेंट विद्यार्थी
0:36

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:46
आपका प्रश्न है कि क्या हर समय धर्म होना सही है बिल्कुल नहीं परिस्थितियों और सामने वाले व्यक्ति के अनुसार आपको नरम या गर्म होने की जरूरत पड़ती है अगर आप किसी ऐसी परिस्थिति में उग्र हो जाएंगे जहां पर पहले से ही परिस्थितियां उग्र है तो वहां पर बात और बिगड़ जाएगी अगर परिस्थितियां वहां पर ऐसी है माहौल वहां पर ऐसा है कि पहले से ही तनाव है तो आपको हम पर नरम होना चाहिए और सामने वाले व्यक्ति पर भी निर्भर करता है कि सामने वाला व्यक्ति आपसे बहुत नरम आई से पेश आ रहा हूं लेकिन अपना वैश्य शूद्र हो रहे हैं तब भी वह खराब है और वह संबंधों को खराब कर सकता है और सामने वाला अनावश्यक बाद से उग्र हो रहा गलत बात से ऊपर हो रहा है तब आपको एक बार उसको नरमा इसे समझाने की जरूरत होती है अन्यथा आपको कभी कभी उधर भी होना पड़ेगा यह ठीक वैसे ही जैसे आप अपने बच्चे को कैसे बड़ा करें आप अपने बच्चे को भी कभी प्यार से समझाते हैं और अपने बच्चे को कभी डांट के समझाते हैं कभी उस पर गुस्सा करके उसको समझाते हैं ठीक वैसे ही जीवन में परिस्थितियों के अनुसार व्यक्ति को निर्णय लेना चाहिए कब उसे गर्म होना है कब उसे नरम हो ना दूसरा सामने वाला व्यक्ति किस तरह का है सामने वाला व्यक्ति अगर हमेशा उदंड है और आप हमें शानदार भाई से पेश आएंगे तो इसे आर्थिक कमजोरी मान लिया जाएगा तो आपको वहां पर कभी-कभी ऊपर होना पड़ेगा आप अपने ऑफिस के अंदर भी आप अपने स्टाफ के साथ में कभी आप उनको मोटिवेटेड तरीके से आप उनको नरमा इसे समझाएंगे कभी आपको उनके खिलाफ थोड़ा सख्त भी होना पड़ेगा अगर कोई बार-बार कोई बात को समझाने के बावजूद कहने के बावजूद नहीं समझ रहा तो यह सब कुछ परिस्थितियों पर निर्भर करता है और सामने वाले व्यक्ति पर निर्भर करता है कि आपको कब गर्म होना है और कब गर्म होना है मेरी दृष्टि में यही मेरा मत धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya har samay dharm hona sahee hai bilkul nahin paristhitiyon aur saamane vaale vyakti ke anusaar aapako naram ya garm hone kee jaroorat padatee hai agar aap kisee aisee paristhiti mein ugr ho jaenge jahaan par pahale se hee paristhitiyaan ugr hai to vahaan par baat aur bigad jaegee agar paristhitiyaan vahaan par aisee hai maahaul vahaan par aisa hai ki pahale se hee tanaav hai to aapako ham par naram hona chaahie aur saamane vaale vyakti par bhee nirbhar karata hai ki saamane vaala vyakti aapase bahut naram aaee se pesh aa raha hoon lekin apana vaishy shoodr ho rahe hain tab bhee vah kharaab hai aur vah sambandhon ko kharaab kar sakata hai aur saamane vaala anaavashyak baad se ugr ho raha galat baat se oopar ho raha hai tab aapako ek baar usako narama ise samajhaane kee jaroorat hotee hai anyatha aapako kabhee kabhee udhar bhee hona padega yah theek vaise hee jaise aap apane bachche ko kaise bada karen aap apane bachche ko bhee kabhee pyaar se samajhaate hain aur apane bachche ko kabhee daant ke samajhaate hain kabhee us par gussa karake usako samajhaate hain theek vaise hee jeevan mein paristhitiyon ke anusaar vyakti ko nirnay lena chaahie kab use garm hona hai kab use naram ho na doosara saamane vaala vyakti kis tarah ka hai saamane vaala vyakti agar hamesha udand hai aur aap hamen shaanadaar bhaee se pesh aaenge to ise aarthik kamajoree maan liya jaega to aapako vahaan par kabhee-kabhee oopar hona padega aap apane ophis ke andar bhee aap apane staaph ke saath mein kabhee aap unako motiveted tareeke se aap unako narama ise samajhaenge kabhee aapako unake khilaaph thoda sakht bhee hona padega agar koee baar-baar koee baat ko samajhaane ke baavajood kahane ke baavajood nahin samajh raha to yah sab kuchh paristhitiyon par nirbhar karata hai aur saamane vaale vyakti par nirbhar karata hai ki aapako kab garm hona hai aur kab garm hona hai meree drshti mein yahee mera mat dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:58
जी देखे तो फिर हर समय गर्म हो रहा भी तो सही नहीं है ना यह कौन डिसाइड करता है किंतु इस समय नारम होना है इस समय गर्म होना है क्या नरम होने से काम नहीं बन सकता जी बिल्कुल बन सकता है सोच कर देखिए लेकिन गर्म होने से और वह भी हर समय क्या आपके सारे काम बन जायेंगे जी नहीं बनेंगे तो कम लेकिन बिगड़ेंगे ज्यादा तुझे इसका चयन कौन करता है चुनाव कौन करता है कि मुझे नरमी से रहना है इस समय या फिर कुछ और किसी और तरीके से अपने आप को प्रस्तुत करना है यह आप ही चयन करते हैं ना तो जितना हम विनम्र रहेंगे जितना हम नरम रहेंगे जितना हमारा स्वभाव शीतल रहेगा रिजल्ट इतना बढ़िया होने के चांसेस हो जाते हैं क्यों क्योंकि हम होते हैं धर्म का मतलब यह नहीं होता कि आप अपने आप को सरेंडर कर दें धर्म का मतलब यह नहीं होता कि आप झुक जाए धर्म का मतलब यह भी नहीं होता कि आप बर्दाश्त करते चले जाएं भी नहीं धर्म का मतलब यह होता है कि उस गर्माहट से या उस आक्रोश से उस उस उस बदले की भावना से आप कोई काम ना करें जब आप शांत रहते हैं आपका स्वभाव शांत रहता है तो जैसे आप सोचते हैं जैसे आपके अंदर बाहर नहीं आती है आप कई सारे पर्सपेक्टिव से नजरिए से चीजों को देख सकते हैं इंसान को देख सकते हैं परिस्थिति को जान सकते हैं सोच समझकर कोई निष्कर्ष पर पहुंचते हैं आप और वह रिजल्ट होता है वह हमेशा या अधिकांश समय बेहतर हो सकता है बेहतर होने के चांसेस होते हैं लेकिन अगर आप ऐसा नहीं करेंगे और हमेशा ताऊ में रहेंगे गर्मी में रहेंगे तो बदले की भावना से कोई काम करेंगे ऐसा करेंगे वैसा करेंगे वह सारी बातें सही नहीं है वहां चांसेस गड़बड़ हो जाते हैं वहां कहानी गड़बड़ हो जाती है कि आपका काम बने बड़ी सिंपल सी बात है इंसान को तो ऐसा रहना चाहिए इतना इतना इफेक्टिव चीज का मतलब ही नहीं होता है कि आप इन इफेक्टिव हो गए हैं सेना से चाहिए लेकिन स्थानीय रहना चाहिए उस तरीके से रहना चाहिए जिस तरीके से उसको कोई गलत तरीका ना बनाना पड़े उसके कर्म से उसके बातों से उसके व्यवहार से किसी को किसी भी प्रकार की हानि ना हो और उसका काम भी बन जाए तो इंसान का व्यवहार कैसा होना चाहिए ना कि हम इसको खाली ब्लैक एंड वाइट नरम और गरम में देखें वैसे देखना सही नहीं होगा हर इंसान को हर परिस्थिति में उस तरीके से रखना चाहिए जो कि मोस्ट एप्रोप्रियेट होता है जो कि एकदम उना से बहुत है एकदम सही होता है बस इतना ही करना है
Jee dekhe to phir har samay garm ho raha bhee to sahee nahin hai na yah kaun disaid karata hai kintu is samay naaram hona hai is samay garm hona hai kya naram hone se kaam nahin ban sakata jee bilkul ban sakata hai soch kar dekhie lekin garm hone se aur vah bhee har samay kya aapake saare kaam ban jaayenge jee nahin banenge to kam lekin bigadenge jyaada tujhe isaka chayan kaun karata hai chunaav kaun karata hai ki mujhe naramee se rahana hai is samay ya phir kuchh aur kisee aur tareeke se apane aap ko prastut karana hai yah aap hee chayan karate hain na to jitana ham vinamr rahenge jitana ham naram rahenge jitana hamaara svabhaav sheetal rahega rijalt itana badhiya hone ke chaanses ho jaate hain kyon kyonki ham hote hain dharm ka matalab yah nahin hota ki aap apane aap ko sarendar kar den dharm ka matalab yah nahin hota ki aap jhuk jae dharm ka matalab yah bhee nahin hota ki aap bardaasht karate chale jaen bhee nahin dharm ka matalab yah hota hai ki us garmaahat se ya us aakrosh se us us us badale kee bhaavana se aap koee kaam na karen jab aap shaant rahate hain aapaka svabhaav shaant rahata hai to jaise aap sochate hain jaise aapake andar baahar nahin aatee hai aap kaee saare parsapektiv se najarie se cheejon ko dekh sakate hain insaan ko dekh sakate hain paristhiti ko jaan sakate hain soch samajhakar koee nishkarsh par pahunchate hain aap aur vah rijalt hota hai vah hamesha ya adhikaansh samay behatar ho sakata hai behatar hone ke chaanses hote hain lekin agar aap aisa nahin karenge aur hamesha taoo mein rahenge garmee mein rahenge to badale kee bhaavana se koee kaam karenge aisa karenge vaisa karenge vah saaree baaten sahee nahin hai vahaan chaanses gadabad ho jaate hain vahaan kahaanee gadabad ho jaatee hai ki aapaka kaam bane badee simpal see baat hai insaan ko to aisa rahana chaahie itana itana iphektiv cheej ka matalab hee nahin hota hai ki aap in iphektiv ho gae hain sena se chaahie lekin sthaaneey rahana chaahie us tareeke se rahana chaahie jis tareeke se usako koee galat tareeka na banaana pade usake karm se usake baaton se usake vyavahaar se kisee ko kisee bhee prakaar kee haani na ho aur usaka kaam bhee ban jae to insaan ka vyavahaar kaisa hona chaahie na ki ham isako khaalee blaik end vait naram aur garam mein dekhen vaise dekhana sahee nahin hoga har insaan ko har paristhiti mein us tareeke se rakhana chaahie jo ki most epropriyet hota hai jo ki ekadam una se bahut hai ekadam sahee hota hai bas itana hee karana hai

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
चेनाराम होना बहुत बढ़िया बात है बिना विनम्रता मनुष्य का आभूषण कहलाता है लेकिन इतना बिना मरना होगे आज भी हम को बेवकूफ समझने लगे हम शाम को चोर हम से जो पैसा ले जाए उधार और इसके बाद हम को बेवकूफ समझने लगे हमारे द्वारा हमारे काम कराएं और हमारी हर जेब बेज्जती तो हां पर विनम्रता नहीं विनम्रता वहां तक अच्छी होती जहां पर आप अपनी विनम्रता और अपने मतलब स्वाभिमान की रक्षा कर सकें स्वाभिमानी भी होना चाहिए विनम्र भी होना चाहिए कर्तव्य शील भी होना चाहिए और लोक सेवक होना चाहिए समाज सेवक गाना चाहिए माता पिता की सेवा करना चाहिए इन सारे गुणों के साथ विनम्रता भी आवश्यक है लेकिन विनम्रता उतनी ही अच्छी है कि आपका आपको कोई आकर हंसी मजाक नहीं उड़ा सकते अगर कोई हंसी मजाक उड़ाता है तो उसको आपको उत्तर प्रदेश उत्तर के द्वारा उसे जरूर शांत करना चाहिए मैं तो इस पक्ष में हूं
Chenaaraam hona bahut badhiya baat hai bina vinamrata manushy ka aabhooshan kahalaata hai lekin itana bina marana hoge aaj bhee ham ko bevakooph samajhane lage ham shaam ko chor ham se jo paisa le jae udhaar aur isake baad ham ko bevakooph samajhane lage hamaare dvaara hamaare kaam karaen aur hamaaree har jeb bejjatee to haan par vinamrata nahin vinamrata vahaan tak achchhee hotee jahaan par aap apanee vinamrata aur apane matalab svaabhimaan kee raksha kar saken svaabhimaanee bhee hona chaahie vinamr bhee hona chaahie kartavy sheel bhee hona chaahie aur lok sevak hona chaahie samaaj sevak gaana chaahie maata pita kee seva karana chaahie in saare gunon ke saath vinamrata bhee aavashyak hai lekin vinamrata utanee hee achchhee hai ki aapaka aapako koee aakar hansee majaak nahin uda sakate agar koee hansee majaak udaata hai to usako aapako uttar pradesh uttar ke dvaara use jaroor shaant karana chaahie main to is paksh mein hoon

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:33
प्रश्न है क्या हर समय नरम हो ना सही है मैं आपको बताना चाहता हूं जी नहीं हर समय ना होने से ही नहीं क्योंकि आपको देखकर अगर कोई सोचेगा किया हो तो कुछ बोलता नहीं है इसलिए हम कुछ भी काम करा लेंगे कुछ भी धमकी आकर करा सकते हैं कुछ भी कर सकते हैं इसके यह तो ऐसे ही है इसी के कारण आपका वह कुछ भी कर सकता है इसी के चलते नाराज होना सही नहीं धन्यवाद
Prashn hai kya har samay naram ho na sahee hai main aapako bataana chaahata hoon jee nahin har samay na hone se hee nahin kyonki aapako dekhakar agar koee sochega kiya ho to kuchh bolata nahin hai isalie ham kuchh bhee kaam kara lenge kuchh bhee dhamakee aakar kara sakate hain kuchh bhee kar sakate hain isake yah to aise hee hai isee ke kaaran aapaka vah kuchh bhee kar sakata hai isee ke chalate naaraaj hona sahee nahin dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:19
क्या हाल समय नरम होना सही है बिल्कुल नहीं मदर 14 सभा के अध्यक्ष भी है किसके साथ साथ कैसा बर्ताव करना है यह जिससे लिरिक्स क्षमता वही तो होनी चाहिए हमारी यह डिवेलप करने
Kya haal samay naram hona sahee hai bilkul nahin madar 14 sabha ke adhyaksh bhee hai kisake saath saath kaisa bartaav karana hai yah jisase liriks kshamata vahee to honee chaahie hamaaree yah divelap karane

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:33
दोस्तों आप का सवाल है क्या हर समय धर्म होना सही है मैं बताना चाहता हूं दोस्तों हर समय धर्म रहना सही नहीं है आपके सामने जो व्यक्ति होते हैं आपके साथ जिस तरह व्यवहार करता है आप उसी तरह से हार कीजिए आप से नर्म के साथ आराम से पेश आना चाहिए अगर वह धर्म से पेट नहीं आ रहा है तो आपको भी नरम नहीं रहना चाहिए हर टाइम टाइम टाइम पर अपने
Doston aap ka savaal hai kya har samay dharm hona sahee hai main bataana chaahata hoon doston har samay dharm rahana sahee nahin hai aapake saamane jo vyakti hote hain aapake saath jis tarah vyavahaar karata hai aap usee tarah se haar keejie aap se narm ke saath aaraam se pesh aana chaahie agar vah dharm se pet nahin aa raha hai to aapako bhee naram nahin rahana chaahie har taim taim taim par apane

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:17
तारा का प्रश्न है क्या हर समय नरम होना सही है तो आपको बता दें कि हर समय नरम होने से भी काम नहीं चलता है कई बार ऐसी परिस्थितियां भी आती है जीवन में जहां पर आप को सख्त रवैया अपनाना पड़ता है और वह अपना ना भी चाहिए मैं सामने आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara ka prashn hai kya har samay naram hona sahee hai to aapako bata den ki har samay naram hone se bhee kaam nahin chalata hai kaee baar aisee paristhitiyaan bhee aatee hai jeevan mein jahaan par aap ko sakht ravaiya apanaana padata hai aur vah apana na bhee chaahie main saamane aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:31
नमस्ते साथियों आपके प्रश्न का उत्तर यह है कि हमें हर समय नरम होना सही नहीं है क्योंकि समय के अनुसार बदलाव होना जरूरी है जिस प्रकार से रात और दिन बनते हैं कभी खुशी कभी गम तो हमें भी परिवर्तन करना पड़ता है धन्यवाद साथियों को खुश रहो
Namaste saathiyon aapake prashn ka uttar yah hai ki hamen har samay naram hona sahee nahin hai kyonki samay ke anusaar badalaav hona jarooree hai jis prakaar se raat aur din banate hain kabhee khushee kabhee gam to hamen bhee parivartan karana padata hai dhanyavaad saathiyon ko khush raho

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Gopal rana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gopal जी का जवाब
Unknown
1:15
क्या हर समय नरम होना चाहिए इस वाक्य का उपयुक्त हम अर्थ निकाल सकते हैं उदाहरण के तौर पर श्री रामचंद्र जी का स्वरुप हम अपने आप में बिठा सकते हैं कि वह अपने आप में धीर वीर गंभीर थे जो हर परिस्थितियों में सामान्य स्थिति को बनाए रखने में कामयाब होते थे और जिस परिस्थिति हुआ क्रोध क्रोध अवस्था में क्रोध में भी वह शांत रहना पसंद करते थे और अपनी बुद्धि विवेक से लोगों के कल्याण के लिए कार्य करते थे और राक्षसों के प्रवृत्ति का भी वह भली भांति निरूपण करके उनका उद्धार किया कि श्री राम प्रभु जी ने रावण को भी और युद्ध ना करने की नीति को के पक्ष में उनके लिए कार्य किए थे जब उनके दरबार में अंगद जैसे शिष्टाचार व्यक्ति को भेजे थे आज दूध के स्वरूप में शांतिदूत के प्रस्ताव के लिए
Kya har samay naram hona chaahie is vaaky ka upayukt ham arth nikaal sakate hain udaaharan ke taur par shree raamachandr jee ka svarup ham apane aap mein bitha sakate hain ki vah apane aap mein dheer veer gambheer the jo har paristhitiyon mein saamaany sthiti ko banae rakhane mein kaamayaab hote the aur jis paristhiti hua krodh krodh avastha mein krodh mein bhee vah shaant rahana pasand karate the aur apanee buddhi vivek se logon ke kalyaan ke lie kaary karate the aur raakshason ke pravrtti ka bhee vah bhalee bhaanti niroopan karake unaka uddhaar kiya ki shree raam prabhu jee ne raavan ko bhee aur yuddh na karane kee neeti ko ke paksh mein unake lie kaary kie the jab unake darabaar mein angad jaise shishtaachaar vyakti ko bheje the aaj doodh ke svaroop mein shaantidoot ke prastaav ke lie

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:42
दोस्तों प्रश्न है कि क्या हर समय नरम होना सही है तो दोस्तों बिल्कुल सही नहीं है आपको नरम रहने के साथ-साथ कई बार कठोरता भी दिखानी पड़ती है हो सकता है कि आप कोई जो है जीवन में भिन्न-भिन्न भूमिकाएं अदा कर रहे हो सकता है कोई व्यक्ति पत्नी की भूमिका निभा रही हो कोई व्यक्ति पति का भूमिका निभा रहा हूं कोई पिता का या कोई पुत्री का या पुत्र का किरदार निभाता है जीवन में रिश्ता निभाता है कि हर जगह नरम रुख रखने से कई बार नुकसान हो जाता है कई बार हमें अपने पुत्र या पुत्री को भी थोड़ा सा कठोर शब्दों का कहना पड़ता है कठोरता दिखानी पड़ती है ज्यादा नरम से वह कमजोर समय लग जाता है और कई बार हमारी बातें अनदेखा कर देता है ऐसी चाहे आप ऑफिस में है व्यापार में है आपको नीचे जो है आपने जो नीचे काम करने वाले व्यक्ति हैं आपके कई बार कठोरता दिखानी पड़ती है क्योंकि आपके ऊपर भी ऊपर से अफसरों का दबाव रहता है या किसी ऊपर वाले व्यक्ति का दबाव रहता है तो कठोरता का जरूरी होती है लेकिन कठोरता के तरीके अलग-अलग होते हैं कई लोग बिल्कुल झूला जाते हैं किसी के ऊपर और गलत सही उल्टा सीधा बोलते हैं और कई जगह आ जाता है कि अब नरम रहकर भी गरम हो सकते हैं गर्मी में भी गर्मी दिखा सकते हैं तो आपकी बातों में ज्यादा दल रहेगा का दबदबा रहेगा इसके अंदर और आपका ऐसे रवैए को अच्छा माना जाता है आप पहले दूसरे पर जब जिसके पर गर्म होना चाह रहे हैं उसके पहले सारी बातें सुनने क्या पता आप भी फालतू में गर्म होने की कोशिश कर रहे हैं ऐसा ना हो कई लोग बे फालतू में लोगों पर गर्म होते रहते हैं वह गलत चीज होती है उसके अंदर आप को ध्यान से नरम रहने की जगह थोड़ा गर्म होना भी या गंभीरता होना भी जरूरी है जीवन में धन्यवाद
Doston prashn hai ki kya har samay naram hona sahee hai to doston bilkul sahee nahin hai aapako naram rahane ke saath-saath kaee baar kathorata bhee dikhaanee padatee hai ho sakata hai ki aap koee jo hai jeevan mein bhinn-bhinn bhoomikaen ada kar rahe ho sakata hai koee vyakti patnee kee bhoomika nibha rahee ho koee vyakti pati ka bhoomika nibha raha hoon koee pita ka ya koee putree ka ya putr ka kiradaar nibhaata hai jeevan mein rishta nibhaata hai ki har jagah naram rukh rakhane se kaee baar nukasaan ho jaata hai kaee baar hamen apane putr ya putree ko bhee thoda sa kathor shabdon ka kahana padata hai kathorata dikhaanee padatee hai jyaada naram se vah kamajor samay lag jaata hai aur kaee baar hamaaree baaten anadekha kar deta hai aisee chaahe aap ophis mein hai vyaapaar mein hai aapako neeche jo hai aapane jo neeche kaam karane vaale vyakti hain aapake kaee baar kathorata dikhaanee padatee hai kyonki aapake oopar bhee oopar se aphasaron ka dabaav rahata hai ya kisee oopar vaale vyakti ka dabaav rahata hai to kathorata ka jarooree hotee hai lekin kathorata ke tareeke alag-alag hote hain kaee log bilkul jhoola jaate hain kisee ke oopar aur galat sahee ulta seedha bolate hain aur kaee jagah aa jaata hai ki ab naram rahakar bhee garam ho sakate hain garmee mein bhee garmee dikha sakate hain to aapakee baaton mein jyaada dal rahega ka dabadaba rahega isake andar aur aapaka aise ravaie ko achchha maana jaata hai aap pahale doosare par jab jisake par garm hona chaah rahe hain usake pahale saaree baaten sunane kya pata aap bhee phaalatoo mein garm hone kee koshish kar rahe hain aisa na ho kaee log be phaalatoo mein logon par garm hote rahate hain vah galat cheej hotee hai usake andar aap ko dhyaan se naram rahane kee jagah thoda garm hona bhee ya gambheerata hona bhee jarooree hai jeevan mein dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:34
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि क्या हर समय नरम हो ना सही है तो देखिए कहते हैं ना कि जैसे हम हावित मतलब आदत डालते हैं जैसी वह धीरे-धीरे हमारे हार्दिक में शामिल हो जाती है तो हम क्या करते हैं कि कोई बात हम आराम से बोलेंगे तो फिर उस पर कोई ध्यान नहीं देता है अगर वही बात हम गुस्से से बोल देते हैं तो उसे सब ध्यान दे देते हैं अक्सर यही होता है क्या होता है कि जो हमारा हैबिट होता है वह धीरे-धीरे चेंज होने लगता है और हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगते हैं क्योंकि हमारा कोई बात माने और सुने कि आपने अक्सर नोटिस क्योंकि जब आप आराम से बात करोगे तो फिर कोई नोटिस नहीं करता लेकिन वह जब कोई डांट के बात करता है या फिर कोई गुस्से से बात करता है तो फिर वह नोटिस करने लगते हैं अंदर क्या होता कि जो हमारी हां बेटे होती है और आदत होती है वह धीरे-धीरे गुस्से टाइप में कन्वर्ट होने लगती है और हम ना चाहते हुए भी अगर क्रिकेट करते हैं छोटी-छोटी बातों पर क्योंकि हमारी बात को ही मान ले अंडर क्रिएट करते हैं इससे सबसे ज्यादा हमें नुकसान होता है जब हम एंगल क्रिएट करते हैं तो क्या होता है कि हमारे बॉडी पर बहुत ज्यादा इफेक्ट पड़ता है हमारा जो ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है और इससे हमारे शरीर पर बहुत ज्यादा इफेक्ट पड़ता है हमारे माइंड तो बहुत ज्यादा ही फर्क पड़ता है और जो कहते हैं कि अगर कोई इंसान ज्यादा गुस्सा करता है तो उसका ब्लड होता है वह गाढ़ा होने लगता है और उसे हार्ट अटैक आने की संभावना ज्यादा होती है कंपेयर आदर्श पेपर तो मैं यही कहना चाहूंगी कि कम से कम दूसरों के लिए नहीं कम से कम अपने लिए तो नरम होना चाहिए क्योंकि आप सबसे ज्यादा गुस्सा करके आप किसी और का नहीं बल्कि खुद का नुकसान करोगे तो मैं यही कहूंगी कि जहां पर गुस्सा करना है वहीं पर करो बाकी टाइप आफ नरम रहो क्योंकि अगर नरम रहोगे तो आपका जो हैबिट है वह धीरे-धीरे यही बनता जगह कि आप नार में ही रहोगे आपको हर बात पर गुस्सा नहीं आएगा क्योंकि वह सबसे ज्यादा गांधी जी ने बोला था कि वह इंसान सबसे ज्यादा स्ट्रांग है जो गुस्सा नहीं करता है क्योंकि जो इंसान गुस्सा नहीं करता हूं बहुत ज्यादा स्ट्रांग है यही करना चाहिए कि अपने अंदर यह कैरेक्टर डेवलप करना है गुस्सा नहीं करना है कि और नरम रहना है हर टाइम क्यों किया अगर आप नाराज रहोगे तो आपकी हेल्प सही रहेगी अगर आपकी हेल्प साइड है कि जो आपकी मेंटल फिजिकल हर चीज सही रहेगा तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि आप अपने हार्दिक में गर्म होने की ज्यादा मतलब आदत डालो क्योंकि आप अगर आप नोटिस किए होंगे कि अगर आपसे कोई गुस्से में बात करता है तो फिर आपको कैसा लगता है और फिर आपको कोई वही बात अच्छे से समझ आता है तो फिर आपको कैसा लगता है तो आप खुद एक्सपीरियंस कर सकते हो कि अगर आपको ऐसा लगता है तो अगर आप वैसी है पर दूसरों के साथ करोगे तो उसे कैसा लगेगा माइंडसेट अपने अंदर रखने और अब अपने को हमेशा अलार्म रखना क्योंकि अगर आप गुस्सा करोगे तो फिर आप को सबसे ज्यादा नुकसान होगा और किसी का उससे कुछ और नहीं बस 2 मिनट के लिए तो आपकी कोई बात मान लेगा लेकिन फिर वह समझ जाएगा आपकी जो हैबिट है वह वैसी बनती जाएगी तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि आप दूसरों के लिए नहीं कम से कम अपने लिए अपने स्वास्थ्य के लिए मतलब शांत रहना बहुत अच्छा है और गुस्सा करना बहुत खराब है क्योंकि इसके बारे दिसंबर थैंक यू
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki kya har samay naram ho na sahee hai to dekhie kahate hain na ki jaise ham haavit matalab aadat daalate hain jaisee vah dheere-dheere hamaare haardik mein shaamil ho jaatee hai to ham kya karate hain ki koee baat ham aaraam se bolenge to phir us par koee dhyaan nahin deta hai agar vahee baat ham gusse se bol dete hain to use sab dhyaan de dete hain aksar yahee hota hai kya hota hai ki jo hamaara haibit hota hai vah dheere-dheere chenj hone lagata hai aur ham chhotee-chhotee baaton par gussa karane lagate hain kyonki hamaara koee baat maane aur sune ki aapane aksar notis kyonki jab aap aaraam se baat karoge to phir koee notis nahin karata lekin vah jab koee daant ke baat karata hai ya phir koee gusse se baat karata hai to phir vah notis karane lagate hain andar kya hota ki jo hamaaree haan bete hotee hai aur aadat hotee hai vah dheere-dheere gusse taip mein kanvart hone lagatee hai aur ham na chaahate hue bhee agar kriket karate hain chhotee-chhotee baaton par kyonki hamaaree baat ko hee maan le andar kriet karate hain isase sabase jyaada hamen nukasaan hota hai jab ham engal kriet karate hain to kya hota hai ki hamaare bodee par bahut jyaada iphekt padata hai hamaara jo blad preshar haee ho jaata hai aur isase hamaare shareer par bahut jyaada iphekt padata hai hamaare maind to bahut jyaada hee phark padata hai aur jo kahate hain ki agar koee insaan jyaada gussa karata hai to usaka blad hota hai vah gaadha hone lagata hai aur use haart ataik aane kee sambhaavana jyaada hotee hai kampeyar aadarsh pepar to main yahee kahana chaahoongee ki kam se kam doosaron ke lie nahin kam se kam apane lie to naram hona chaahie kyonki aap sabase jyaada gussa karake aap kisee aur ka nahin balki khud ka nukasaan karoge to main yahee kahoongee ki jahaan par gussa karana hai vaheen par karo baakee taip aaph naram raho kyonki agar naram rahoge to aapaka jo haibit hai vah dheere-dheere yahee banata jagah ki aap naar mein hee rahoge aapako har baat par gussa nahin aaega kyonki vah sabase jyaada gaandhee jee ne bola tha ki vah insaan sabase jyaada straang hai jo gussa nahin karata hai kyonki jo insaan gussa nahin karata hoon bahut jyaada straang hai yahee karana chaahie ki apane andar yah kairektar devalap karana hai gussa nahin karana hai ki aur naram rahana hai har taim kyon kiya agar aap naaraaj rahoge to aapakee help sahee rahegee agar aapakee help said hai ki jo aapakee mental phijikal har cheej sahee rahega to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki aap apane haardik mein garm hone kee jyaada matalab aadat daalo kyonki aap agar aap notis kie honge ki agar aapase koee gusse mein baat karata hai to phir aapako kaisa lagata hai aur phir aapako koee vahee baat achchhe se samajh aata hai to phir aapako kaisa lagata hai to aap khud eksapeeriyans kar sakate ho ki agar aapako aisa lagata hai to agar aap vaisee hai par doosaron ke saath karoge to use kaisa lagega maindaset apane andar rakhane aur ab apane ko hamesha alaarm rakhana kyonki agar aap gussa karoge to phir aap ko sabase jyaada nukasaan hoga aur kisee ka usase kuchh aur nahin bas 2 minat ke lie to aapakee koee baat maan lega lekin phir vah samajh jaega aapakee jo haibit hai vah vaisee banatee jaegee to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki aap doosaron ke lie nahin kam se kam apane lie apane svaasthy ke lie matalab shaant rahana bahut achchha hai aur gussa karana bahut kharaab hai kyonki isake baare disambar thaink yoo

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
BHASKAR TIWARI Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BHASKAR जी का जवाब
Student
1:55
नमस्कार जैसा कि प्रश्न है क्या हर समय नरम हो ना सही है तो मेरा मानना है कि हर समय हमें नरम हो ना सही नहीं है यह सही नहीं है इसलिए नहीं है क्योंकि हमें अपना व्यवहार तो उस सरल करना चाहिए लोगों के प्रति इस प्रकार से हमारा व्यवहार कि लोग हमें पसंद करें और जहां तक नरम लाने का सवाल है नारा आपको एक निश्चित सीमा तक रहें अगर वह हमारा अत्यधिक जहां शोषण होने लगे अगर हम वहां आ रहे तो हमारा शोषण ही होता जाएगा अगर उसी का अगर हम विरोध करें चाहे हमारे हम अपने ही शोषण का विरोध करें चाहे किसी भी चीज को आप कोई चीज गलत हो रहा है अगर हम उसका उतनी ही कठोर सा और कठोरता से विरोध ना करें जितने की सरलता से हम किसी अच्छे कामों में सपोर्ट करते हैं तो वह संभव नहीं हो पाएगा कि उस चीज से निदान हो पाए वह समय अब नहीं रहा कि जब हम गांधीवादी विचारधारा से जीते थे चाहे गांधीवादी विचारधारा से चलते थे अब का समय यह है कि अगर आप नाराज हैं अगर आप किसी की बातों को उत्साह रहे हैं तो आपको इतने परेशान करेंगे इतने आपको शोषण करेंगे कि आप खुद ही एक बार आप आज हो जाएंगे या फिर कहेंगे कि यह क्या हो रहा है मेरे साथ तो हां हमारा व्यवहार जो है लोगों के प्रति सामान्य होना चाहिए लेकिन सही और गलत पर हमें समर्थन ही उतना सरलता से हो करनी चाहिए जितने की कठोरता से हम किसी भी चीज का विरोध करें तो या हमारे परिस्थितियों पर निर्भर करता है कि हमें किसी के प्रति नरम व्यवहार हो या फिर कठोर व्यवहार हो धन्यवाद
Namaskaar jaisa ki prashn hai kya har samay naram ho na sahee hai to mera maanana hai ki har samay hamen naram ho na sahee nahin hai yah sahee nahin hai isalie nahin hai kyonki hamen apana vyavahaar to us saral karana chaahie logon ke prati is prakaar se hamaara vyavahaar ki log hamen pasand karen aur jahaan tak naram laane ka savaal hai naara aapako ek nishchit seema tak rahen agar vah hamaara atyadhik jahaan shoshan hone lage agar ham vahaan aa rahe to hamaara shoshan hee hota jaega agar usee ka agar ham virodh karen chaahe hamaare ham apane hee shoshan ka virodh karen chaahe kisee bhee cheej ko aap koee cheej galat ho raha hai agar ham usaka utanee hee kathor sa aur kathorata se virodh na karen jitane kee saralata se ham kisee achchhe kaamon mein saport karate hain to vah sambhav nahin ho paega ki us cheej se nidaan ho pae vah samay ab nahin raha ki jab ham gaandheevaadee vichaaradhaara se jeete the chaahe gaandheevaadee vichaaradhaara se chalate the ab ka samay yah hai ki agar aap naaraaj hain agar aap kisee kee baaton ko utsaah rahe hain to aapako itane pareshaan karenge itane aapako shoshan karenge ki aap khud hee ek baar aap aaj ho jaenge ya phir kahenge ki yah kya ho raha hai mere saath to haan hamaara vyavahaar jo hai logon ke prati saamaany hona chaahie lekin sahee aur galat par hamen samarthan hee utana saralata se ho karanee chaahie jitane kee kathorata se ham kisee bhee cheej ka virodh karen to ya hamaare paristhitiyon par nirbhar karata hai ki hamen kisee ke prati naram vyavahaar ho ya phir kathor vyavahaar ho dhanyavaad

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:45
क्या हर समय नरम होना चाहिए देखिए मैं आपको बता दूं यह जिंदगी है और जिंदगी में नरम गरम होता ही है अब आप कह दो कि हर समय नरम हो ना तो मुझे नहीं लगता कि सही है तो के देखे कभी कभी गर्मी दिखानी पड़ती है क्योंकि जब सामने वाला सर के ऊपर चल जाता है तो उसको उसकी औकात दिखानी पड़ती है तो फिर देखिए क्या होता है कि अब सामने वाला जल्दी में गलती करते थे अब जैसे क्या है कहीं इंसान नौकरी कर रहा इंसान है उसका काम अच्छा है और हम यह सोच ले कि अच्छा काम है कभी गलतियां नहीं करेगा नहीं हर इंसान से गलती होती है और सामने वाला घर गलती करता है उसकी गलतियों को आप नहीं बताओगे तो वह नहीं जान पाएगा कभी कभी हम और आप नहीं जान पाते हैं अपनी गलती हम लोग यह सोचते हैं कि हां यह सही है यह सही है नहीं अपने अंदर कमियां हैं उसको निकालने की कोशिश करें तो यह नहीं कर सकती हर समय नाराम होना चाहिए कभी-कभी कुछ ऐसे वक्त आ जाता है कि जब जीवन में क्या होता है कि हम सही तो सही का दिखाना पड़ता है कि भैया हम सही हैं क्योंकि लोग सामने वाले क्या आएगी यही कहेंगे कि यह गलत है गलत है लेकिन आपका मन जानता कि आप कितने सही हो आप सकारात्मक सोच तक तो अच्छे इंसान हो तो एक टाइम आता है मेहनत करो आगे बढ़ो अपने लक्ष्य की ओर और अपने लक्ष्य को इतनी मेहनत करके दिखाओ लक्ष्य को हासिल करके कि वह गर्मी खुद ऑटोमेटिक दी जाएगी सामने वाले को तो नरम के साथ गर्म होना जरूरी है मेहनत की तरह मेहनत करोगे ऑटोमेटिक आप गर्म हो जाओगे क्योंकि यही एक गर्मी है तो नरम के साथ समय के हिसाब से गर्म भी होना बहुत जरूरी है जय हिंद जय भारत
Kya har samay naram hona chaahie dekhie main aapako bata doon yah jindagee hai aur jindagee mein naram garam hota hee hai ab aap kah do ki har samay naram ho na to mujhe nahin lagata ki sahee hai to ke dekhe kabhee kabhee garmee dikhaanee padatee hai kyonki jab saamane vaala sar ke oopar chal jaata hai to usako usakee aukaat dikhaanee padatee hai to phir dekhie kya hota hai ki ab saamane vaala jaldee mein galatee karate the ab jaise kya hai kaheen insaan naukaree kar raha insaan hai usaka kaam achchha hai aur ham yah soch le ki achchha kaam hai kabhee galatiyaan nahin karega nahin har insaan se galatee hotee hai aur saamane vaala ghar galatee karata hai usakee galatiyon ko aap nahin bataoge to vah nahin jaan paega kabhee kabhee ham aur aap nahin jaan paate hain apanee galatee ham log yah sochate hain ki haan yah sahee hai yah sahee hai nahin apane andar kamiyaan hain usako nikaalane kee koshish karen to yah nahin kar sakatee har samay naaraam hona chaahie kabhee-kabhee kuchh aise vakt aa jaata hai ki jab jeevan mein kya hota hai ki ham sahee to sahee ka dikhaana padata hai ki bhaiya ham sahee hain kyonki log saamane vaale kya aaegee yahee kahenge ki yah galat hai galat hai lekin aapaka man jaanata ki aap kitane sahee ho aap sakaaraatmak soch tak to achchhe insaan ho to ek taim aata hai mehanat karo aage badho apane lakshy kee or aur apane lakshy ko itanee mehanat karake dikhao lakshy ko haasil karake ki vah garmee khud otometik dee jaegee saamane vaale ko to naram ke saath garm hona jarooree hai mehanat kee tarah mehanat karoge otometik aap garm ho jaoge kyonki yahee ek garmee hai to naram ke saath samay ke hisaab se garm bhee hona bahut jarooree hai jay hind jay bhaarat

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या हर समय नरम होना सही है क्यानरम होना सही है
URL copied to clipboard