#जीवन शैली

bolkar speaker

आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?

Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:51
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है सबके जीवन में कभी ना कभी कोई ऐसी परिस्थितियां आती है कोई ऐसी स्थिति आती है ऐसे लगता है कि कितने जात हैं और हमारे जीवन में आने की किरण नजर ही नहीं आती है और समय एक व्यक्ति होता है जो कि हमें और समझाता है या प्लीज इनको देखने में आता है कि आप इससे हमारे जीवन में कहा था कि किरण आएगी या फिर से प्रयास करें तो फिर से हम कहते हैं कि जब प्रीति निराश होता उसको कुछ भी अच्छा नहीं लगता है और आप अच्छी बातें भी सिखाए तभी उनको अच्छा नहीं लगेगा इसके बात है कुछ ऐसी स्थिति आ जाती हैं कुछ ऐसे लिखा जाता है जिनकी वजह से हम निराश हो जाते हैं तो उस समय हमें जो है गाना चाहिए और जैसे ही चली जाती है दुख का समय भी चला जाता है लेकिन उसमें कुछ नहीं देखा जाता है और उन्हें बिल्कुल भी यही है समझ में नहीं आता क्या किया जाए और तुम्हें बस आपको इतना करना है आपको आज भी इस पर जाना है जो भी अधिकारी या करना चाहिए अपने दोस्त से चाय माता-पिता से क्योंकि शेयर करने से परेशानी होती है जो किसी के काम करना है अभी पता चला जाए तो अपने दोस्तों से शेयर कीजिए क्योंकि दोस्त बताते हैं कुछ नहीं सीखी देते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग को चाहिए दूसरों को भी ठीक है ना
Aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai sabake jeevan mein kabhee na kabhee koee aisee paristhitiyaan aatee hai koee aisee sthiti aatee hai aise lagata hai ki kitane jaat hain aur hamaare jeevan mein aane kee kiran najar hee nahin aatee hai aur samay ek vyakti hota hai jo ki hamen aur samajhaata hai ya pleej inako dekhane mein aata hai ki aap isase hamaare jeevan mein kaha tha ki kiran aaegee ya phir se prayaas karen to phir se ham kahate hain ki jab preeti niraash hota usako kuchh bhee achchha nahin lagata hai aur aap achchhee baaten bhee sikhae tabhee unako achchha nahin lagega isake baat hai kuchh aisee sthiti aa jaatee hain kuchh aise likha jaata hai jinakee vajah se ham niraash ho jaate hain to us samay hamen jo hai gaana chaahie aur jaise hee chalee jaatee hai dukh ka samay bhee chala jaata hai lekin usamen kuchh nahin dekha jaata hai aur unhen bilkul bhee yahee hai samajh mein nahin aata kya kiya jae aur tumhen bas aapako itana karana hai aapako aaj bhee is par jaana hai jo bhee adhikaaree ya karana chaahie apane dost se chaay maata-pita se kyonki sheyar karane se pareshaanee hotee hai jo kisee ke kaam karana hai abhee pata chala jae to apane doston se sheyar keejie kyonki dost bataate hain kuchh nahin seekhee dete hain savaal ka javaab pasand aaega aap log ko chaahie doosaron ko bhee theek hai na

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
mukesh kushwaha Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mukesh जी का जवाब
None
0:28

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:33
आपका प्रश्न है आप भी जीवन में नहीं रह सकती होता है लेकिन किसी कार्य घटना निर्णय या हमारे द्वारा किसी से की गई या किसी आशा का परिणाम जब हमारे अनुकूल नहीं होता या हमारी पसंद के अनुरूप नहीं होता तो जो माने स्थिति उत्पन्न ना होती है उसे निराशा कहते हैं इसके लिए केवल हम ही हर घर उत्तरदाई होना जरूरी नहीं तो बुधवार परिणाम हमारे नियंत्रण से बाहर होते हैं
Aapaka prashn hai aap bhee jeevan mein nahin rah sakatee hota hai lekin kisee kaary ghatana nirnay ya hamaare dvaara kisee se kee gaee ya kisee aasha ka parinaam jab hamaare anukool nahin hota ya hamaaree pasand ke anuroop nahin hota to jo maane sthiti utpann na hotee hai use niraasha kahate hain isake lie keval ham hee har ghar uttaradaee hona jarooree nahin to budhavaar parinaam hamaare niyantran se baahar hote hain

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:10
नमस्कार मित्रों आदमी जीवन में निराश इसलिए होता है क्योंकि उसकी जो आसानी से उसकी जो चाहे वह सीमित है इसलिए मनुष्य उदास हो जाता है व्यक्ति सोचता है कि ऐसा होगा लेकिन जैसा वह सोचते हैं वैसा नहीं होने पर हो उदास हो जाता है इसलिए अपनी इच्छाओं को सीमित मत रखिए लेकिन अपनी इच्छाओं को उस अनुसार जो आप कर सको इसी अपने मन के अंदर हो बातें डालें कि मैं ऐसा कर सकता हूं उस चोर कदम उठाइए या मैंने सोचा कि मैं इस परीक्षा में पास हो जाऊंगा यह मेरी इच्छा है मेरी आकांक्षा है लेकिन मैंने इसकी तैयारी नहीं की मैं सिर्फ सोचता ही रहा हो जब परिणाम आया तो मैं उदास हो गया मैं निराश हो गया तो यहां पर किसकी गलती है मेरी गलती है तो इसलिए ऐसा ही रखिए आकांक्षा की लेकिन उनके लिए मेहनत कीजिए उनके लिए काम कीजिए आपको निराशा नहीं होगी तो मन सोने का प्रमुख कारण है कि उसकी इच्छा का होना लेकिन उस चरणों के अनुरूप कार्य वह करना ही मनुष्य की उदासी का निराशा का कारण होता है धन्यवाद
Namaskaar mitron aadamee jeevan mein niraash isalie hota hai kyonki usakee jo aasaanee se usakee jo chaahe vah seemit hai isalie manushy udaas ho jaata hai vyakti sochata hai ki aisa hoga lekin jaisa vah sochate hain vaisa nahin hone par ho udaas ho jaata hai isalie apanee ichchhaon ko seemit mat rakhie lekin apanee ichchhaon ko us anusaar jo aap kar sako isee apane man ke andar ho baaten daalen ki main aisa kar sakata hoon us chor kadam uthaie ya mainne socha ki main is pareeksha mein paas ho jaoonga yah meree ichchha hai meree aakaanksha hai lekin mainne isakee taiyaaree nahin kee main sirph sochata hee raha ho jab parinaam aaya to main udaas ho gaya main niraash ho gaya to yahaan par kisakee galatee hai meree galatee hai to isalie aisa hee rakhie aakaanksha kee lekin unake lie mehanat keejie unake lie kaam keejie aapako niraasha nahin hogee to man sone ka pramukh kaaran hai ki usakee ichchha ka hona lekin us charanon ke anuroop kaary vah karana hee manushy kee udaasee ka niraasha ka kaaran hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:27
प्रश्न है आदमी जीवन में निराश क्यों होता है मैं आपको बताना चाहता हूं आदमी की मन में नहीं रहा किस लिए होता है इसी को कार्यों को करके उसे अच्छी खुशी नहीं मिलती तो निराश होता है किसी के खुशी को देखकर आदमी निराश होता है कभी अपने हालत को देखकर आदमी के साथ होता है ऐसे कई सारे कारण जिससे आदमी निराश होता है धन्यवाद
Prashn hai aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai main aapako bataana chaahata hoon aadamee kee man mein nahin raha kis lie hota hai isee ko kaaryon ko karake use achchhee khushee nahin milatee to niraash hota hai kisee ke khushee ko dekhakar aadamee niraash hota hai kabhee apane haalat ko dekhakar aadamee ke saath hota hai aise kaee saare kaaran jisase aadamee niraash hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:13
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है सवाल है कि आदमी जीवन में निराश क्यों होता है क्योंकि कहा जाता है कि इंसान को उदास होना एक स्वाभाविक है कि जो कोई व्यक्ति मेहनत करता है इसके बावजूद भी उसे सफलता नहीं मिल पाती है शक्ति बार-बार प्रयास करता सफलता पाने के लिए फिर भी वह हार जाता है उसे निराश कहते हैं तथा मेराज का अर्थ उम्मीद छोड़ देना लिए व्यक्ति को जहां तक संभव हो तो उसे हर कार्य में प्रयास करते रहना चाहिए जितनी बार प्रयास करोगे सफलता आपके कदम चूमेगी क्योंकि जब तक हम प्रयास करते रहेंगे कर्म करते रहेंगे तो हमें रोकने वाला कोई नहीं होगा इसलिए कभी भी एक बार दो बार फेल होने पर पीछे नहीं हटना चाहिए हमें आगे बढ़ने के लिए प्रयास करते रहना चाहिए जिससे कि हमें निराशा नहीं होगी
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai savaal hai ki aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai kyonki kaha jaata hai ki insaan ko udaas hona ek svaabhaavik hai ki jo koee vyakti mehanat karata hai isake baavajood bhee use saphalata nahin mil paatee hai shakti baar-baar prayaas karata saphalata paane ke lie phir bhee vah haar jaata hai use niraash kahate hain tatha meraaj ka arth ummeed chhod dena lie vyakti ko jahaan tak sambhav ho to use har kaary mein prayaas karate rahana chaahie jitanee baar prayaas karoge saphalata aapake kadam choomegee kyonki jab tak ham prayaas karate rahenge karm karate rahenge to hamen rokane vaala koee nahin hoga isalie kabhee bhee ek baar do baar phel hone par peechhe nahin hatana chaahie hamen aage badhane ke lie prayaas karate rahana chaahie jisase ki hamen niraasha nahin hogee

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
1:46
सवाल है आदमी जीवन में निराश क्यों होता है देखिए निराशा के थानों को कभी भी जीवन पर हावी न होने दें बल्कि जीवन के हताशा से कुछ सीखने का प्रयास करें इन लम्हों से उबर कर आगे बढ़ना और खुद को बेहतर बनाने की कोशिश ही हमारा लक्ष्य होना चाहिए चाहे कामकाजी जीवन को व्यक्तिगत संबंध या फिर स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियां इन सभी कारणों से हमारे जीवन में निराशा के चढ़ाते हैं कुछ ऐसे जब हम अपनी शक्ति और सामर्थ्य को कम महसूस करने लगते हैं खुद को असमर्थ और असहाय पाते हैं लगने लगता है कि हम जीवन को आगे ले जाने में खुद को सामर्थ मानता नहीं पा रहे हैं निराशा के ऐसे थाना में अवसाद और दुख भी देते हैं लेकिन निराशा को जीवन पर हाथ होने दिया जाए तो जीवन की स्वाभाविक गति प्रभावित होने लगती है इसलिए उन पलों से बाहर आ जाने का अर्थ ही जीवन है कई बार पूर्व में दुर्घटनाएं हमारे मन को अपने कब्जे में कर रखती है और हम खुद को उस से मुक्त कर पाने में कठिनाई का अनुभव करते आगे बढ़ने की राह में सबसे बड़ी बाधा है हार असफलता और तकलीफों से उपजी निराशा को पीछे छोड़कर ही जीवन को अच्छे से जिया जा सकता है अपनी निराशा ओं से उबरने के लिए उस छोटे प्रयास भी कभी-कभी बिल्कुल कारगर साबित होते हैं धन्यवाद
Savaal hai aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai dekhie niraasha ke thaanon ko kabhee bhee jeevan par haavee na hone den balki jeevan ke hataasha se kuchh seekhane ka prayaas karen in lamhon se ubar kar aage badhana aur khud ko behatar banaane kee koshish hee hamaara lakshy hona chaahie chaahe kaamakaajee jeevan ko vyaktigat sambandh ya phir svaasthy se judee pareshaaniyaan in sabhee kaaranon se hamaare jeevan mein niraasha ke chadhaate hain kuchh aise jab ham apanee shakti aur saamarthy ko kam mahasoos karane lagate hain khud ko asamarth aur asahaay paate hain lagane lagata hai ki ham jeevan ko aage le jaane mein khud ko saamarth maanata nahin pa rahe hain niraasha ke aise thaana mein avasaad aur dukh bhee dete hain lekin niraasha ko jeevan par haath hone diya jae to jeevan kee svaabhaavik gati prabhaavit hone lagatee hai isalie un palon se baahar aa jaane ka arth hee jeevan hai kaee baar poorv mein durghatanaen hamaare man ko apane kabje mein kar rakhatee hai aur ham khud ko us se mukt kar paane mein kathinaee ka anubhav karate aage badhane kee raah mein sabase badee baadha hai haar asaphalata aur takaleephon se upajee niraasha ko peechhe chhodakar hee jeevan ko achchhe se jiya ja sakata hai apanee niraasha on se ubarane ke lie us chhote prayaas bhee kabhee-kabhee bilkul kaaragar saabit hote hain dhanyavaad

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:47
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है तो देखिए हर आदमी जो है आशा को लेकर के कुछ उम्मीदें लेकर के सक्रिय होता है समझा अपना और विशेष करके निराशा उन्हें होती है जो अपने पूरे प्रयास के बावजूद सफलता से दूर रह जाते हैं या असफल हो जाते हैं और वहां निराशा ही नहीं निराशा तो उसे कहते हैं जो थोड़ी देर के लिए प्रभावी हो पर आ जाए और इसके बाद उस से मुक्त हो जाए उसके बाद एक तत्व और आतंक से हटा सा कहते हैं जहां अंत में आदमी अपनी हार को अंतिम रूप से स्वीकार कर ले ताकि अब मेरे बस में कुछ भी नहीं है इसे हताशा कहते हैं तो आदमी जब अपने पूरे चेतन का के साथ पूरे समर्पण के साथ पूरे मनोयोग के साथ योजना बद्ध तरीके से कोई काम करता है और सफलता नहीं मिलती है तब वह निराश होता है और बार-बार की निराशा से हताश होता है एक बात यह भी ध्यान में रखे जो कुछ लोगों की निराशा से होती वह कल्पना से जुड़ी होती है करना तो कुछ नहीं चाहते लेकिन कल्पना में पाना बहुत चाहते हैं ऐसे लोगों पर भी निराशा का प्रभाव दिखाई पड़ता है लेकिन उनकी निराशा को हताशा बनने में जल्दी लगती है बहुत जल्दी हो जाती है जो कर्म योगी होते हैं वह निराशा के प्रभाव से बहुत जल्दी मुक्त हो जाते हैं एक बार फिर से समझे ना नए सिरे से उत्साह के साथ में योजना के साथ काम करने का प्रयास करते हैं और अगर इसमें अपने जैसे लोग सहयोगी मिल जाए तो फिर तो कहना ही क्या है निराशा से मुक्ति जो है वह बहुत जल्दी मिल जाती है जहां अपनों की सदस्यता संवेदनशीलता मिल जाया करते थे
Aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai to dekhie har aadamee jo hai aasha ko lekar ke kuchh ummeeden lekar ke sakriy hota hai samajha apana aur vishesh karake niraasha unhen hotee hai jo apane poore prayaas ke baavajood saphalata se door rah jaate hain ya asaphal ho jaate hain aur vahaan niraasha hee nahin niraasha to use kahate hain jo thodee der ke lie prabhaavee ho par aa jae aur isake baad us se mukt ho jae usake baad ek tatv aur aatank se hata sa kahate hain jahaan ant mein aadamee apanee haar ko antim roop se sveekaar kar le taaki ab mere bas mein kuchh bhee nahin hai ise hataasha kahate hain to aadamee jab apane poore chetan ka ke saath poore samarpan ke saath poore manoyog ke saath yojana baddh tareeke se koee kaam karata hai aur saphalata nahin milatee hai tab vah niraash hota hai aur baar-baar kee niraasha se hataash hota hai ek baat yah bhee dhyaan mein rakhe jo kuchh logon kee niraasha se hotee vah kalpana se judee hotee hai karana to kuchh nahin chaahate lekin kalpana mein paana bahut chaahate hain aise logon par bhee niraasha ka prabhaav dikhaee padata hai lekin unakee niraasha ko hataasha banane mein jaldee lagatee hai bahut jaldee ho jaatee hai jo karm yogee hote hain vah niraasha ke prabhaav se bahut jaldee mukt ho jaate hain ek baar phir se samajhe na nae sire se utsaah ke saath mein yojana ke saath kaam karane ka prayaas karate hain aur agar isamen apane jaise log sahayogee mil jae to phir to kahana hee kya hai niraasha se mukti jo hai vah bahut jaldee mil jaatee hai jahaan apanon kee sadasyata sanvedanasheelata mil jaaya karate the

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:32
साथियों आपके प्रश्न का उत्तर यह है कि किसी काम या घटना निर्णय हमारे द्वारा सिंचित से की गई इसी भाषा का परिणाम जब हमारे अनुकूल नहीं होता है हमारी पसंद के अनुरूप नहीं होता है तो जो मन स्थिति उत्पन्न होती है उसे निराशा कहते हैं धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Saathiyon aapake prashn ka uttar yah hai ki kisee kaam ya ghatana nirnay hamaare dvaara sinchit se kee gaee isee bhaasha ka parinaam jab hamaare anukool nahin hota hai hamaaree pasand ke anuroop nahin hota hai to jo man sthiti utpann hotee hai use niraasha kahate hain dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
er. ramphal bind Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए er. जी का जवाब
Private job
0:51
दोस्तों आप का सवाल है आदमी जून में नहीं रह सके होता है दोस्तों एक दोहा है नर हो न निराश करो मन को कुछ काम करो कुछ काम करो दोस्तों आपको बता दूं इंसान तभी नहीं जा सकता यदि उसके सपने कुछ है या लक्ष कुछ है जब उसको सही से प्राप्त नहीं हो पाते तू उस समय के लिए नहीं रखना चाहिए कि ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि आप यदि किसी लक्ष्य को लेकर चलते हैं कि आप एक बार फेल हो जाते हो फिर क्यों हुए या 30 परसेंट आपकी कमी रह गया 40 मिनट आपकी कमी रह गई तो 7 परसेंट आपकी तो पूरे हैं आप दोबारा मेहनत कर सकते हैं 40 परसेंट हो मेहनत करिए तिवारी कहने का मतलब मेरी यह है आदमी को जीवन ही निराश नहीं होना चाहिए कुछ ना कुछ काम करते रहो तो सबसे अच्छा
Doston aap ka savaal hai aadamee joon mein nahin rah sake hota hai doston ek doha hai nar ho na niraash karo man ko kuchh kaam karo kuchh kaam karo doston aapako bata doon insaan tabhee nahin ja sakata yadi usake sapane kuchh hai ya laksh kuchh hai jab usako sahee se praapt nahin ho paate too us samay ke lie nahin rakhana chaahie ki aisa nahin karana chaahie kyonki aap yadi kisee lakshy ko lekar chalate hain ki aap ek baar phel ho jaate ho phir kyon hue ya 30 parasent aapakee kamee rah gaya 40 minat aapakee kamee rah gaee to 7 parasent aapakee to poore hain aap dobaara mehanat kar sakate hain 40 parasent ho mehanat karie tivaaree kahane ka matalab meree yah hai aadamee ko jeevan hee niraash nahin hona chaahie kuchh na kuchh kaam karate raho to sabase achchha

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:43
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है वह तो आपका प्रश्न है निराशा की वजह क्या है जो आदमी जीवन में रविदास होता है तो मैंने देखा है मैं अभी मैं दुकान चाय तो है बहुत रखता है और मैं दुकान से अभी तक नहीं पाऊंगा बोलता है पर काम करता है या उनके लिए प्रयास करता है वह सफल होता है तब जाकर मैं मुख्य रूप से निराश होता तो किस प्रकार से आदमी है आशा करता हूं सभी ने अपने जीवन में ऐसे चलना है क्या सावधानी रखनी चाहिए और फोटो तो छोटे बच्चे बना कर सका लेना चाहिए
Aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai vah to aapaka prashn hai niraasha kee vajah kya hai jo aadamee jeevan mein ravidaas hota hai to mainne dekha hai main abhee main dukaan chaay to hai bahut rakhata hai aur main dukaan se abhee tak nahin paoonga bolata hai par kaam karata hai ya unake lie prayaas karata hai vah saphal hota hai tab jaakar main mukhy roop se niraash hota to kis prakaar se aadamee hai aasha karata hoon sabhee ne apane jeevan mein aise chalana hai kya saavadhaanee rakhanee chaahie aur photo to chhote bachche bana kar saka lena chaahie

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:29
आदमी जीवन में निराश अपनी महत्वाकांक्षाओं के कारण होता है क्योंकि समझदार व्यक्ति तो हर कोई जानता है क्या भाई ख्वाब बनाने से सपने कभी पूरे नहीं हुआ करते हैं क्योंकि आसमान में आप चंचल एक-दो दिन उड़ सकते हैं पर आकर आपको जमीन पर ही आना होगा और जमीन का धरातल जो है वह बहुत ही ऊंचा है कहीं नहीं चाहे कहीं पथरीला है कहीं मिट्टी कहां है तो भांति भांति के संघर्ष करने के बाद में ही जीवन का निर्माण होता है अब जो लोग हवाई किले बनाते हैं उच्च महत्वाकांक्षा पा लेते हैं लेकिन प्रयास उसके लिए करते नहीं हैं उन व्यक्तियों को अंत में जीवन में जाकर किन राशि प्राप्त होती है तथा सा प्राप्त होती हैं वह जो जीवन के कठोर धरातल को बस तू सूची को जानकर कि अपनी योग्यता और एबिलिटी के अनुसार सपने देखते हैं और उनके लिए कमर कस के पीछे पड़ जाते हैं वह लोग ईश्वर की दया से अपनी मंजिल भी प्राप्त कर लेते हैं अधिक महत्वाकांक्षी पालना भी निराशा का कारण है
Aadamee jeevan mein niraash apanee mahatvaakaankshaon ke kaaran hota hai kyonki samajhadaar vyakti to har koee jaanata hai kya bhaee khvaab banaane se sapane kabhee poore nahin hua karate hain kyonki aasamaan mein aap chanchal ek-do din ud sakate hain par aakar aapako jameen par hee aana hoga aur jameen ka dharaatal jo hai vah bahut hee ooncha hai kaheen nahin chaahe kaheen pathareela hai kaheen mittee kahaan hai to bhaanti bhaanti ke sangharsh karane ke baad mein hee jeevan ka nirmaan hota hai ab jo log havaee kile banaate hain uchch mahatvaakaanksha pa lete hain lekin prayaas usake lie karate nahin hain un vyaktiyon ko ant mein jeevan mein jaakar kin raashi praapt hotee hai tatha sa praapt hotee hain vah jo jeevan ke kathor dharaatal ko bas too soochee ko jaanakar ki apanee yogyata aur ebilitee ke anusaar sapane dekhate hain aur unake lie kamar kas ke peechhe pad jaate hain vah log eeshvar kee daya se apanee manjil bhee praapt kar lete hain adhik mahatvaakaankshee paalana bhee niraasha ka kaaran hai

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Dr. Shivam Kumar Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dr. जी का जवाब
Unknown
0:45

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
रमेश सिन्हा Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रमेश जी का जवाब
Unknown
0:34
आरुषि आपका प्रश्न है आदमी जीवन में निराश क्यों होता है मोस्टली आदमी की जब एक्सपेक्टेशन पूरी नहीं होती है तो वह निराश हो जाता है वह एक्सपेक्टेशन आप किसी और से कर सकते हैं या अगर वह एक्सपेक्टेशन आप खुद से भी कर सकते हैं अगर आप उन सारे एक्सपेक्टेशन को पूरा नहीं कर पाते थोड़ा निराश हो जाएंगे आपसे जानकारी स्पष्ट होगी धन्यवाद
Aarushi aapaka prashn hai aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai mostalee aadamee kee jab eksapekteshan pooree nahin hotee hai to vah niraash ho jaata hai vah eksapekteshan aap kisee aur se kar sakate hain ya agar vah eksapekteshan aap khud se bhee kar sakate hain agar aap un saare eksapekteshan ko poora nahin kar paate thoda niraash ho jaenge aapase jaanakaaree spasht hogee dhanyavaad

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
1:23
देख एक आदमी जीवन में निराश क्यों होता है आदमी जीवन में निराश तब होता है जब वह अपने से ज्यादा किसी दूसरे इंसान को इंपॉर्टेंट देने लगे और उस साइड से आपके लिए कोई फीडबैक नाउ कोई अच्छा फीडबैक ना हो इतना अच्छा रिजल्ट ना हो हम किसी को रख देते हैं तो हम कोशिश करते हैं कि हमें भी वही सब मिले लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो हम निराश हो जाते हैं उसका कारण यह है हम किसी को कुछ ज्यादा ही उसके तजुर्बे से ज्यादा ही अपने तजुर्बे से ज्यादा उसे सस्पेक्ट देने लगते हैं जबकि दूसरा चीज का हकदार ही नहीं होता तो इन सब चीजों को सोच कर भी हम हमेशा परेशान रहते हैं और दूसरी चीज कभी कभी दूसरों पर ज्यादा ध्यान देना उसके अच्छे पारो के बोरे पर अपने आप को बिल्कुल वापस ना करना सिर्फ दूसरों की तरफ ध्यान देना इससे भी हमारा मन परेशान और बेचैन रहता है कि वह क्या करता है वह क्या बोलता है कैसे करता है क्यों करता है यह सब चीजें सोच कर रहना है तो दूसरों को उनके ऊपर छोड़ दो अपने बारे में सोचो कि आप क्या हो आप कैसे बात करते हो आप कैसे चलते हो क्या करते हो यह सब चीजें अपने आप को खुद से डिवेलप करो दूसरों की तरह तो बिल्कुल मत बनो और दूसरों की तरह बिल्कुल भी मत सोचो अपनी सोच अपना हर एक तरीका सबसे अलग बनाओ डिफरेंट तभी आप अपनी लाइफ में खुश रह सकेंगे धन्यवाद
Dekh ek aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai aadamee jeevan mein niraash tab hota hai jab vah apane se jyaada kisee doosare insaan ko importent dene lage aur us said se aapake lie koee pheedabaik nau koee achchha pheedabaik na ho itana achchha rijalt na ho ham kisee ko rakh dete hain to ham koshish karate hain ki hamen bhee vahee sab mile lekin agar aisa nahin hota to ham niraash ho jaate hain usaka kaaran yah hai ham kisee ko kuchh jyaada hee usake tajurbe se jyaada hee apane tajurbe se jyaada use saspekt dene lagate hain jabaki doosara cheej ka hakadaar hee nahin hota to in sab cheejon ko soch kar bhee ham hamesha pareshaan rahate hain aur doosaree cheej kabhee kabhee doosaron par jyaada dhyaan dena usake achchhe paaro ke bore par apane aap ko bilkul vaapas na karana sirph doosaron kee taraph dhyaan dena isase bhee hamaara man pareshaan aur bechain rahata hai ki vah kya karata hai vah kya bolata hai kaise karata hai kyon karata hai yah sab cheejen soch kar rahana hai to doosaron ko unake oopar chhod do apane baare mein socho ki aap kya ho aap kaise baat karate ho aap kaise chalate ho kya karate ho yah sab cheejen apane aap ko khud se divelap karo doosaron kee tarah to bilkul mat bano aur doosaron kee tarah bilkul bhee mat socho apanee soch apana har ek tareeka sabase alag banao dipharent tabhee aap apanee laiph mein khush rah sakenge dhanyavaad

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:54
जब आदमी हिम्मत हार देता है मैं चली डांस होता है हिम्मत मत हारिए लाइफ में मेरे बहुत सारे आदमी के लाइफ में है जल होता है होने दीजिए कोई दिक्कत नहीं है लेकिन हिम्मत मत हारिए स्ट्रगल के पीछे मत करना जिस दिन आप इस टेबल से पीछे हट जाओ और अपना एक्शन लेना छोड़ दोगे एक्शन लेना बंद कर दोगे तो आपके लाइफ में निराशा भर जाएगी शुभ भी एक्शन टेक केयर टेक बेबी स्टेट यूनिट व्यक्ति विशेष अगर आप चलते रहोगे तो एक भी मंजिल मंजिल पर पहुंच ही जाओगे शिविर थैंक यू

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
2:38
नमस्कार दोस्तों ने अपने जीवन में निराश क्यों होता है तुम धाम थी और मैंने रास्ता नहीं होता है दोस्त उसकी उम्मीदें टूट जाती है फेसबुक के लिए उम्र करता है मेहनत करता है मुझे उसे हासिल नहीं होती है उस वजह से आज हम खुशी नहीं मिलती है तो इंसान जीवन में नहीं रह सकता चाहे किसी भी तरह से याद करने की किसी रिश्ते को लेकर या फिर किस चीज में ज्यादा प्यार किया और कुछ पैसे दे रहे हैं उसके लिए अपना सब कुछ होता है समय दे रहे हैं उसको अपने प्यार से रहना अपनी उसको टाइम देना हमें वापस ना मिले तो हम भी आ जाते हैं धीरे-धीरे उस दिन तक मुश्किल में अभी नहीं अभी नहीं 4 महीने साल जब उसको देने के बाद मिलता है झरिया मरिया सलूमिया हर एक खुशी के लिए हमारी के सामने से कुछ विश्वास नहीं है तो सामने आ जाता है कि इतना सा ही हस्बैंड करने के बाद भी हमें इस इस मामले को लेकर बहुत मेहनत कर रहे हो और उसके बाद जब वो रिजल्ट में आता है अच्छे परसेंटेज निशा सो जाता है क्या करने के बाद मुझे या फिर फैमिली को लेकर की फैमिली के लिए पूरा ईमानदारी से अनिश्चित कोटा कितना मिला वहां पर तो पति भी आ जाता है तो कहने का मतलब सिर्फ दोस्तों किसी भी काम करते हैं और उससे हमारी हो हमें जो चाहिए जितना हम करते हैं वह चीज ना मिले तो हम निराश हो जाते हैं उसका मेन मूल मतलब इसका यही है शाम की उम्मीद है मुझे ना होती है यह निराशा की भावना जाती है कि हमें इतना किया और उसे नहीं मिला और फिर वो धीरे धीरे धीरे चिपक कर लेती है तो इंसान के अंदर नेगेटिविटी भर जाती है पहुंचने का समय देने के बाद से मेरी बात हुई थी शादी क्यों नहीं हो रही है और मैं तो शायद किस्मत ही खराब हो उस इंसान के अंदर आ जाती है ऐसे में किसी मन में निराशा तब होती जब उसकी उम्मीदें पूरी नहीं होती है जब उसके मन मुताबिक उपलब्धि नहीं मिलती अशोक रेडियो मेहनत करो और वहीं पर खाना बनाते स्त्री मुस्कुराते रहिए
Namaskaar doston ne apane jeevan mein niraash kyon hota hai tum dhaam thee aur mainne raasta nahin hota hai dost usakee ummeeden toot jaatee hai phesabuk ke lie umr karata hai mehanat karata hai mujhe use haasil nahin hotee hai us vajah se aaj ham khushee nahin milatee hai to insaan jeevan mein nahin rah sakata chaahe kisee bhee tarah se yaad karane kee kisee rishte ko lekar ya phir kis cheej mein jyaada pyaar kiya aur kuchh paise de rahe hain usake lie apana sab kuchh hota hai samay de rahe hain usako apane pyaar se rahana apanee usako taim dena hamen vaapas na mile to ham bhee aa jaate hain dheere-dheere us din tak mushkil mein abhee nahin abhee nahin 4 maheene saal jab usako dene ke baad milata hai jhariya mariya saloomiya har ek khushee ke lie hamaaree ke saamane se kuchh vishvaas nahin hai to saamane aa jaata hai ki itana sa hee hasbaind karane ke baad bhee hamen is is maamale ko lekar bahut mehanat kar rahe ho aur usake baad jab vo rijalt mein aata hai achchhe parasentej nisha so jaata hai kya karane ke baad mujhe ya phir phaimilee ko lekar kee phaimilee ke lie poora eemaanadaaree se anishchit kota kitana mila vahaan par to pati bhee aa jaata hai to kahane ka matalab sirph doston kisee bhee kaam karate hain aur usase hamaaree ho hamen jo chaahie jitana ham karate hain vah cheej na mile to ham niraash ho jaate hain usaka men mool matalab isaka yahee hai shaam kee ummeed hai mujhe na hotee hai yah niraasha kee bhaavana jaatee hai ki hamen itana kiya aur use nahin mila aur phir vo dheere dheere dheere chipak kar letee hai to insaan ke andar negetivitee bhar jaatee hai pahunchane ka samay dene ke baad se meree baat huee thee shaadee kyon nahin ho rahee hai aur main to shaayad kismat hee kharaab ho us insaan ke andar aa jaatee hai aise mein kisee man mein niraasha tab hotee jab usakee ummeeden pooree nahin hotee hai jab usake man mutaabik upalabdhi nahin milatee ashok rediyo mehanat karo aur vaheen par khaana banaate stree muskuraate rahie

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Ekta Sahni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ekta जी का जवाब
Unknown
2:15
नमस्कार आपका प्रश्न है आदमी जीवन में निराश क्यों होता है यह बहुत ही कॉमन है और सब के साथ होता है तो इसका एक बहुत ही सिंपल आंसर है कि आदमी जीवन में इससे निराश होता है क्योंकि उस जैसा वह चाहता है परिस्थितियों उसके अनुसार वैसी नहीं हो पाती हैं जो पाना चाहता है उसे वह नहीं मिलता वो जीवन जीना चाहता है वैसा नहीं जी पाते जैसा जीवन साथी वह चाहता है कि जीवन साथी से जो एक स्पष्ट करता है उसके प्रत्येक क्षण के अनुसार व्यसन नहीं हो पाता चितरंगी जो चाहता है वैसा नहीं कर पाता दूसरे को प्यार जाता है नहीं हो पाता कई बार हम दूसरों से अब मिल जाए टेंशन हम चाहते हैं कि हमारे बिना बोले हमें अदाएं सुन मिले तो भी नहीं हो पाती तो ऐसे कोई रीज़न है जिसकी वजह से कोई भी प्रसाद इस अ पॉइंट हो जाता है उसमें चाहे मैं भी कर रहा हूं कई बार आपका बचपन में ऐसा नहीं मिल पाता आपकी फ्रेंड सब को कहते हैं कि अरे उनका दिन तो बहुत हैपनिंग रहा उनका बर्थडे है सारा उनका पैसा है सारा हमारी जब सराउंडिंग सब लोग ऐसे बोलते हैं तो हम ऑटोमेटिक हमारे अंदर भी इस तरह का मतलब फीलिंग आती है क्योंकि हमारा भी बर्थडे आ रहा है टिक टैक ऐसा चाहता है तो हम उसके कोडिंग अपना भी वैसा सोच लेते हैं क्योंकि नियर बाय सोच लेते हैं कि जैसे हमारी फ्रेंड के साथ हुआ उसके कहीं नियर बाय हमारे साथ भी हो गया उससे अच्छा भी होगा हम जनरल इंजेक्टिव पहले नहीं सोचेंगे यहां पर हम अपनी सोचेंगे कि हमारे को बहुत अच्छा लेकिन वैसा होता नहीं है या केवल तो कुछ भी नहीं होता है यह कई बार बहुत बुरा भी हो जाता है तो हम निराश हो जाते हैं कई बार हम जो जॉब करना चाहते हैं यह जिस तरह कम हम कोई काम करना चाहते हैं हम बहुत प्यार करते हैं बार-बार आप चाहते हैं मगर फिर भी वह काम पूरा नहीं हो पाता तो हम यह सारा दोष हम जख्मी पर भी डाल देते हैं हम उसके बाद भी हम भी पॉइंट हो जाते हैं तो बेसिकली तो इसमें यही है कि हमारी भी पूरी ना होने पर या जैसा हम चाहते हैं वैसा ना होने पर ही आदमी निराश होता है अगर आपको मेरा जवाब अच्छा लगा तो लाइक करें थैंक यू
Namaskaar aapaka prashn hai aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai yah bahut hee koman hai aur sab ke saath hota hai to isaka ek bahut hee simpal aansar hai ki aadamee jeevan mein isase niraash hota hai kyonki us jaisa vah chaahata hai paristhitiyon usake anusaar vaisee nahin ho paatee hain jo paana chaahata hai use vah nahin milata vo jeevan jeena chaahata hai vaisa nahin jee paate jaisa jeevan saathee vah chaahata hai ki jeevan saathee se jo ek spasht karata hai usake pratyek kshan ke anusaar vyasan nahin ho paata chitarangee jo chaahata hai vaisa nahin kar paata doosare ko pyaar jaata hai nahin ho paata kaee baar ham doosaron se ab mil jae tenshan ham chaahate hain ki hamaare bina bole hamen adaen sun mile to bhee nahin ho paatee to aise koee reezan hai jisakee vajah se koee bhee prasaad is a point ho jaata hai usamen chaahe main bhee kar raha hoon kaee baar aapaka bachapan mein aisa nahin mil paata aapakee phrend sab ko kahate hain ki are unaka din to bahut haipaning raha unaka barthade hai saara unaka paisa hai saara hamaaree jab saraunding sab log aise bolate hain to ham otometik hamaare andar bhee is tarah ka matalab pheeling aatee hai kyonki hamaara bhee barthade aa raha hai tik taik aisa chaahata hai to ham usake koding apana bhee vaisa soch lete hain kyonki niyar baay soch lete hain ki jaise hamaaree phrend ke saath hua usake kaheen niyar baay hamaare saath bhee ho gaya usase achchha bhee hoga ham janaral injektiv pahale nahin sochenge yahaan par ham apanee sochenge ki hamaare ko bahut achchha lekin vaisa hota nahin hai ya keval to kuchh bhee nahin hota hai yah kaee baar bahut bura bhee ho jaata hai to ham niraash ho jaate hain kaee baar ham jo job karana chaahate hain yah jis tarah kam ham koee kaam karana chaahate hain ham bahut pyaar karate hain baar-baar aap chaahate hain magar phir bhee vah kaam poora nahin ho paata to ham yah saara dosh ham jakhmee par bhee daal dete hain ham usake baad bhee ham bhee point ho jaate hain to besikalee to isamen yahee hai ki hamaaree bhee pooree na hone par ya jaisa ham chaahate hain vaisa na hone par hee aadamee niraash hota hai agar aapako mera javaab achchha laga to laik karen thaink yoo

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
1:05
श्री कृष्णा आप रुको से आदमी के जीवन में निराशा क्यों होती है मेरा असली होती है कि जीवात्मा किसी किसी का सहारा लेना चाहता है मुझे सुनना चाहता है जब इससे मदद मिलने शुरू हो जाती है और इससे भक्ति करते समय समय में सो जाती से निराशा में शादी खत्म हो जाती है मेरी निराशा दूर कैसे समाप्त हुआ यह मैंने काफी ऑडियो अपलोड की है वो के लिए पर आप एक-एक करके ध्यान से सुने और कुछ भी इससे उसके पास उसके बाद तो भक्ति में क्या नियम रखना मामूली नियमों को ज्यादा नहीं है और हर एक मोड़ से पालन कर सकता है और इसमें तो क्या 3 मिनट के लिए होगा यह उसमें 10 मिनट के लिए तो आप वापस पूछे मैं इससे के पास से बताओ का और आपकी बातें बहुत 3434 तेरी
Shree krshna aap ruko se aadamee ke jeevan mein niraasha kyon hotee hai mera asalee hotee hai ki jeevaatma kisee kisee ka sahaara lena chaahata hai mujhe sunana chaahata hai jab isase madad milane shuroo ho jaatee hai aur isase bhakti karate samay samay mein so jaatee se niraasha mein shaadee khatm ho jaatee hai meree niraasha door kaise samaapt hua yah mainne kaaphee odiyo apalod kee hai vo ke lie par aap ek-ek karake dhyaan se sune aur kuchh bhee isase usake paas usake baad to bhakti mein kya niyam rakhana maamoolee niyamon ko jyaada nahin hai aur har ek mod se paalan kar sakata hai aur isamen to kya 3 minat ke lie hoga yah usamen 10 minat ke lie to aap vaapas poochhe main isase ke paas se batao ka aur aapakee baaten bahut 3434 teree

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
sargam shukla Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sargam जी का जवाब
I am only student👩‍🎓
1:38
राधे राधे दोस्तों आज सवाल किया गया है कि आदमी जीवन में नाराज क्यों होता है तो देखिए आदमी अपने जीवन में तब होता है जब उसे तुरंत अपनी लाइफ में असफलताओं का सामना करना पड़े व्यक्ति एक बार ट्राई करेगा और उसे सफलता मिलेगी दोबारा ट्राई करेगा तो फिर सफलता मिलेगी लेकिन मेरा मानना है कि व्यक्तियों को भी अपने जीवन में हार नहीं माननी चाहिए या उसे अपने जीवन में निराशा नामक बीमारी रहना ही नहीं चाहिए दोबारा बिहार में एक बार और यह कहकर आपको दोबारा से ट्राई करना चाहिए और इसका सबसे बड़ा एग्जांपल है अभी वर्तमान में एलोन मस्क बंदे ने अपनी लगभग पूरी प्रॉपर्टी लगा दी उसको सक्सेसफुल बनाने में और अंततः वह सक्सेसफुल हुआ अपना पहला क्वेश्चन इंग्लिश में भेजा जो कि फेल हो गया दोबारा कोशिश की तब भी फेल हो गया तीसरी बार देखो तब भी फेल हो गया और फिर ना जाने का मजाक उड़ाया कोई भी प्राइवेट कंपनी ऐसे नहीं गलती उसने भी उसकी बात बची हुई थी और अंधता उसका भाई इस बीच में सक्सेसफुल हुआ और अब दुनिया का चौथा सबसे अमीर इंसान बन गया है राधे राधे
Raadhe raadhe doston aaj savaal kiya gaya hai ki aadamee jeevan mein naaraaj kyon hota hai to dekhie aadamee apane jeevan mein tab hota hai jab use turant apanee laiph mein asaphalataon ka saamana karana pade vyakti ek baar traee karega aur use saphalata milegee dobaara traee karega to phir saphalata milegee lekin mera maanana hai ki vyaktiyon ko bhee apane jeevan mein haar nahin maananee chaahie ya use apane jeevan mein niraasha naamak beemaaree rahana hee nahin chaahie dobaara bihaar mein ek baar aur yah kahakar aapako dobaara se traee karana chaahie aur isaka sabase bada egjaampal hai abhee vartamaan mein elon mask bande ne apanee lagabhag pooree propartee laga dee usako saksesaphul banaane mein aur antatah vah saksesaphul hua apana pahala kveshchan inglish mein bheja jo ki phel ho gaya dobaara koshish kee tab bhee phel ho gaya teesaree baar dekho tab bhee phel ho gaya aur phir na jaane ka majaak udaaya koee bhee praivet kampanee aise nahin galatee usane bhee usakee baat bachee huee thee aur andhata usaka bhaee is beech mein saksesaphul hua aur ab duniya ka chautha sabase ameer insaan ban gaya hai raadhe raadhe

bolkar speaker
आदमी जीवन में निराश क्यों होता है?Admi Jeevan Mein Niraash Kyun Hota Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:59
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है आदमी जीवन में निराश क्यों होता है देखी फ्रेंड अत्यधिक इच्छा जो है जागृत करना या फिर अपनी सोच के अपनी क्वालिटी के मुकाबले जो है काफी अधिक मात्रा में जो है यह सोच लेना कि हमें इस चीज की प्राप्ति हो जाए लेकिन आप उस काबिल नहीं है क्या चीज आपने मार लीजिए सोच लिया कि मेरा बहुत बड़ा घर हो जाए बहुत बड़ा हवेली हो जाए फिर मेरा मेरे पास जो है फोर व्हीलर आ जाए आप तो है उस कटेरी का काम नहीं किया आपका कर्तव्य जो है वह उस लायक नहीं है कि आपको जो है फोर व्हीलर और यह अच्छी खासी हुआ है बिल्डिंग भेजो है प्रोवाइड की जाए पुरस्कार दिया जाए मिल जाए या फिर आपकी सैलरी जो हो इतनी कि आप खुद बनवा सके यह आपका सपना है अक्सर लोग देखते रहते हैं कि मेरी अच्छी गाड़ी हो मेरे पास अच्छा घर हो रुपए कैसे हो यह सब का सपना होता है फ्रेंड कौन नहीं चाहता है यह आम बात होती है लेकिन अगर आप उस सपने के मुताबिक जो है अपना कार्य नहीं कर रहे हैं वह चीजें आपकी सपना सपना ही रहती हैं कभी पूरा नहीं हो पाती तुझे भर नहीं पूरा हो पाती फ्रेंड तो हमारे अंदर एक निराशा उत्पन्न होती है कि हम लाइफ में जो है यह चाहते हैं यह इसकी पूर्ति करना चाहते हैं लेकिन हमें उस चीज की पूर्ति या फिर उस चीज की प्राप्ति नहीं हो पा रही है तो अत्यधिक मात्रा में जब किसी से भी सपने को सोच लेते हैं मैं यह नहीं कह रहा हूं फ्रेंड कि आप सपना ना देखें बहुत जरूरी होता है कभी-कभी इंसान को सपने ही होते हैं जो उन्हें कार्य करने पर मजबूर कर देते हैं अपनी सफलता को पाने के लिए मजबूर कर देते हैं लेकिन प्रिंट अपनी इच्छा से ज्यादा अपनी औकात से ज्यादा जो है मुकाबले में जब हम कोई चीज मतलब देखते हैं सोनिया शाही पाएगी आपने अंगूर और लोमड़ी वाली कहानी सुनी होगी कि अंगूर भरा हुआ था पेड़ पर जो है लटका हुआ था तो लोमड़ी जो है कई बात याद करती है और जब उसकी आंखों में अंगूर का गुच्छा नहीं आता तो निराश होकर बोलती है कि अंगूर खट्टे हैं यह कहानी शायद सभी लोगों ने सुनी होगी जब अंगूर उसके लोमड़ी के हाथ में नहीं आती तू खुद ही बोल देती है कि अंगूर खट्टे हैं हालांकि उसने कोशिश किया फ्रेंड लेकिन यहां पर इंसानी जीवन में कई लोग होते हैं कोशिश नहीं करते लेकिन कई कई लोग होते हैं जो कोशिश करते हैं फिर भी उनको उस चीज की प्राप्ति नहीं होती है इसमें बस एक ही डिफरेंस होता है फ्रेंड कि वह अपनी इच्छा से कहीं अधिक जो है मांगने लगते हैं अपनी दिगि्प्रिंट इच्छा जो है रखना गलत बात नहीं है लेकिन वह लिमिट में रहे आशा है कि आप सभी को है जवाब पसंद आया होगा
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai aadamee jeevan mein niraash kyon hota hai dekhee phrend atyadhik ichchha jo hai jaagrt karana ya phir apanee soch ke apanee kvaalitee ke mukaabale jo hai kaaphee adhik maatra mein jo hai yah soch lena ki hamen is cheej kee praapti ho jae lekin aap us kaabil nahin hai kya cheej aapane maar leejie soch liya ki mera bahut bada ghar ho jae bahut bada havelee ho jae phir mera mere paas jo hai phor vheelar aa jae aap to hai us kateree ka kaam nahin kiya aapaka kartavy jo hai vah us laayak nahin hai ki aapako jo hai phor vheelar aur yah achchhee khaasee hua hai bilding bhejo hai provaid kee jae puraskaar diya jae mil jae ya phir aapakee sailaree jo ho itanee ki aap khud banava sake yah aapaka sapana hai aksar log dekhate rahate hain ki meree achchhee gaadee ho mere paas achchha ghar ho rupe kaise ho yah sab ka sapana hota hai phrend kaun nahin chaahata hai yah aam baat hotee hai lekin agar aap us sapane ke mutaabik jo hai apana kaary nahin kar rahe hain vah cheejen aapakee sapana sapana hee rahatee hain kabhee poora nahin ho paatee tujhe bhar nahin poora ho paatee phrend to hamaare andar ek niraasha utpann hotee hai ki ham laiph mein jo hai yah chaahate hain yah isakee poorti karana chaahate hain lekin hamen us cheej kee poorti ya phir us cheej kee praapti nahin ho pa rahee hai to atyadhik maatra mein jab kisee se bhee sapane ko soch lete hain main yah nahin kah raha hoon phrend ki aap sapana na dekhen bahut jarooree hota hai kabhee-kabhee insaan ko sapane hee hote hain jo unhen kaary karane par majaboor kar dete hain apanee saphalata ko paane ke lie majaboor kar dete hain lekin print apanee ichchha se jyaada apanee aukaat se jyaada jo hai mukaabale mein jab ham koee cheej matalab dekhate hain soniya shaahee paegee aapane angoor aur lomri vaalee kahaanee sunee hogee ki angoor bhara hua tha ped par jo hai lataka hua tha to lomri jo hai kaee baat yaad karatee hai aur jab usakee aankhon mein angoor ka guchchha nahin aata to niraash hokar bolatee hai ki angoor khatte hain yah kahaanee shaayad sabhee logon ne sunee hogee jab angoor usake lomri ke haath mein nahin aatee too khud hee bol detee hai ki angoor khatte hain haalaanki usane koshish kiya phrend lekin yahaan par insaanee jeevan mein kaee log hote hain koshish nahin karate lekin kaee kaee log hote hain jo koshish karate hain phir bhee unako us cheej kee praapti nahin hotee hai isamen bas ek hee dipharens hota hai phrend ki vah apanee ichchha se kaheen adhik jo hai maangane lagate hain apanee digiprint ichchha jo hai rakhana galat baat nahin hai lekin vah limit mein rahe aasha hai ki aap sabhee ko hai javaab pasand aaya hoga

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आदमी जीवन में निराश क्यों होता है आदमी में निराश क्यों होता है
URL copied to clipboard