#भारत की राजनीति

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:30
नमस्कार मेरे देशवासियों आज का आपका सवाल है किसान आंदोलन में लगभग 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं तो मेरे देशवासियों आपके सवाल का उत्तर यह है हमारे देश की सरकार को मानते हैं क्योंकि हमारे देश में किसानों के अच्छे कानून बना सकते तो उनका जो पुराना कानून को छेड़ना नहीं चाहिए अगर कानून में फेरबदल करना होता तो करो ना के दौरान कानून को लागू नहीं करना चाहिए था क्योंकि यह कानून कृषि संगठन और विपक्ष और कृषि विशेषज्ञ का नजरअंदाज करके बनाया गया है और इन कानून में एमएसपी की कोई गारंटी नहीं है इसलिए किसान आंदोलन करते अपने हक के लिए प्राण त्याग दिए हमारे देश के महान किसान है जो हमारे देश की भूख मिटाने का काम करते हैं जो हमारे अन्नदाता हैं जो उनकी आत्मा को शांति दे भगवान और उनके परिवार को हिम्मत दे जय जवान जय किसान जय अन्नदाता जय मेरे देश के शहीद अन्नदाता ओ धन्यवाद मेरे देशवासियों
Namaskaar mere deshavaasiyon aaj ka aapaka savaal hai kisaan aandolan mein lagabhag 150 kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar aap kise maanate hain to mere deshavaasiyon aapake savaal ka uttar yah hai hamaare desh kee sarakaar ko maanate hain kyonki hamaare desh mein kisaanon ke achchhe kaanoon bana sakate to unaka jo puraana kaanoon ko chhedana nahin chaahie agar kaanoon mein pherabadal karana hota to karo na ke dauraan kaanoon ko laagoo nahin karana chaahie tha kyonki yah kaanoon krshi sangathan aur vipaksh aur krshi visheshagy ka najarandaaj karake banaaya gaya hai aur in kaanoon mein emesapee kee koee gaarantee nahin hai isalie kisaan aandolan karate apane hak ke lie praan tyaag die hamaare desh ke mahaan kisaan hai jo hamaare desh kee bhookh mitaane ka kaam karate hain jo hamaare annadaata hain jo unakee aatma ko shaanti de bhagavaan aur unake parivaar ko himmat de jay javaan jay kisaan jay annadaata jay mere desh ke shaheed annadaata o dhanyavaad mere deshavaasiyon

और जवाब सुनें

Dr. Shivam Kumar Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dr. जी का जवाब
Unknown
1:29

KANHAIYA  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए KANHAIYA जी का जवाब
Student
2:58
भूतकाल तो मेरा मन इतनी नफरत है तो आपका हमारे बोलकर आपकी जरूरत दोस्तो आज का आपने उनसे पूछा कि किसान आंदोलन में लगभग डेढ़ सौ किसानों की मौत का जिम्मेदार हम आप किसे मानते हैं तू गाइस मैं इस क्वेश्चन का जवाब जरूर देना जाऊंगा और मेरी इस बात से ज्यादा लोग एग्री भी करेंगे तो गाय मैं आपको बताना चाहूंगा कि जो किसान आंदोलन के दौरान जो डेढ़ सौ लोगों की लगभग मौत हो चुकी है उसका जिम्मेदार सरकार बिल्कुल भी नहीं क्योंकि सरकार ने तीन बिलों को पास करते हुए संसद में जब यह बिल पास हुए थे तो इसमें सभी विपक्षी दल और पक्षी दोनों की देखरेख में यह बिल पास हुए थे और कोई दिल तभी पास होता है जब विपक्षी दल और सरकार दल दोनों उस में खामियों को दूर कर देते हैं और जो सही तरीके से बन जाता है उसके बाद ही कोई भी कानून लागू होता है यानी कि पारित होता है संसद में संसद होने के बाद में जब यह पारित हुए तो कुछ ऐसे बच्चे बच्चे जो सरकार की भूत के लिए किसानों को इस को बिल्कुल नहीं देखा और वह अपनी राजनीतिक देखने में लग गए जबकि सरकार पूर्ण स्पष्ट कर चुकी है कि ये तीनों किसानों के साथ बिल किसानों के पक्ष में ही है इससे किसानों को कोई भी नुकसान नहीं होने वाला लेकिन कुछ राजनीतिक दल अपनी राजनीतिक रोटी सेकने के लिए किसानों को भड़काया और पंजाब के किसानों को बहुत बुरी तरीके से भड़का दिया पंजाब हरियाणा किसानों को और उसके बाद नई दिल्ली की ओर रवाना कर दिया क्योंकि किसान आंदोलन आंदोलन इतना लंबा इसलिए चल रहा है क्योंकि किसान जय दिल्ली में बैठे और दिल्ली हमारी देश की राजधानी है और राजधानी में कोई प्रदर्शन होता है तो उसका पूरे देश पर प्रभाव पड़ता है और रही बात किसानों की मृत्यु के जिम्मेदार कि इसके विपक्षी दल जिम्मेदार है क्योंकि सरकार ने कहा था कि क्या आप घर जाइए लेकिन किसान वहीं पर डटे रहे किसान जितने भी वहां पर मृत्यु हुई है टावर दोस्तों के संग उन सब की जान बचाई जा सकती थी अगर किसानों को भड़काया ना गए हो तो थोड़ी दिनों बाद आप प्रदर्शन कर सकते लेकिन किसानों को इतनी कड़कती ठंड में पकाकर उन्हें दिल्ली के बॉर्डर पर लाकर ठंड में खुले मैदान में आपने खड़ा कर दिया
Bhootakaal to mera man itanee napharat hai to aapaka hamaare bolakar aapakee jaroorat dosto aaj ka aapane unase poochha ki kisaan aandolan mein lagabhag dedh sau kisaanon kee maut ka jimmedaar ham aap kise maanate hain too gais main is kveshchan ka javaab jaroor dena jaoonga aur meree is baat se jyaada log egree bhee karenge to gaay main aapako bataana chaahoonga ki jo kisaan aandolan ke dauraan jo dedh sau logon kee lagabhag maut ho chukee hai usaka jimmedaar sarakaar bilkul bhee nahin kyonki sarakaar ne teen bilon ko paas karate hue sansad mein jab yah bil paas hue the to isamen sabhee vipakshee dal aur pakshee donon kee dekharekh mein yah bil paas hue the aur koee dil tabhee paas hota hai jab vipakshee dal aur sarakaar dal donon us mein khaamiyon ko door kar dete hain aur jo sahee tareeke se ban jaata hai usake baad hee koee bhee kaanoon laagoo hota hai yaanee ki paarit hota hai sansad mein sansad hone ke baad mein jab yah paarit hue to kuchh aise bachche bachche jo sarakaar kee bhoot ke lie kisaanon ko is ko bilkul nahin dekha aur vah apanee raajaneetik dekhane mein lag gae jabaki sarakaar poorn spasht kar chukee hai ki ye teenon kisaanon ke saath bil kisaanon ke paksh mein hee hai isase kisaanon ko koee bhee nukasaan nahin hone vaala lekin kuchh raajaneetik dal apanee raajaneetik rotee sekane ke lie kisaanon ko bhadakaaya aur panjaab ke kisaanon ko bahut buree tareeke se bhadaka diya panjaab hariyaana kisaanon ko aur usake baad naee dillee kee or ravaana kar diya kyonki kisaan aandolan aandolan itana lamba isalie chal raha hai kyonki kisaan jay dillee mein baithe aur dillee hamaaree desh kee raajadhaanee hai aur raajadhaanee mein koee pradarshan hota hai to usaka poore desh par prabhaav padata hai aur rahee baat kisaanon kee mrtyu ke jimmedaar ki isake vipakshee dal jimmedaar hai kyonki sarakaar ne kaha tha ki kya aap ghar jaie lekin kisaan vaheen par date rahe kisaan jitane bhee vahaan par mrtyu huee hai taavar doston ke sang un sab kee jaan bachaee ja sakatee thee agar kisaanon ko bhadakaaya na gae ho to thodee dinon baad aap pradarshan kar sakate lekin kisaanon ko itanee kadakatee thand mein pakaakar unhen dillee ke bordar par laakar thand mein khule maidaan mein aapane khada kar diya

SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:54
किसान आंदोलन में लगभग 20 किसानों की मृत्यु क्या जिम्मेदारी दोनों पक्षों में जाती है एक तो किसान दल की आर्थिक स्थिति में दूसरी सरकार इस पर कोई भी अपना वह नहीं देना चाहती है वह किसानों पर कोई दबाव ना बनाकर उनकी किसी भी बात की सुनवाई नहीं की से पता चलता है कि सरकार कुछ लापरवाही कर रही है जिसे भी किसान दर-दर भटक रहे हैं जिससे कि उनकी समस्या का समाधान नहीं मिल पा रहा है जिसमें सरकार की कमियां हैं उनके कारण किसानों को बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है
Kisaan aandolan mein lagabhag 20 kisaanon kee mrtyu kya jimmedaaree donon pakshon mein jaatee hai ek to kisaan dal kee aarthik sthiti mein doosaree sarakaar is par koee bhee apana vah nahin dena chaahatee hai vah kisaanon par koee dabaav na banaakar unakee kisee bhee baat kee sunavaee nahin kee se pata chalata hai ki sarakaar kuchh laaparavaahee kar rahee hai jise bhee kisaan dar-dar bhatak rahe hain jisase ki unakee samasya ka samaadhaan nahin mil pa raha hai jisamen sarakaar kee kamiyaan hain unake kaaran kisaanon ko bahut see dikkaton ka saamana karana pad raha hai

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
5:20
विजय जी के द्वारा अनुरोध एक प्रश्न है कि किसान आंदोलन में लगभग 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते दिखी आप सभी को यह पता होगा कि हमारा जो भारत देश है किसान प्रधान देश है क्योंकि किसानों की ही बदौलत आज हमारे देश की 70 पर्सेंट जनसंख्या जो है किसानों पर डिपेंड है क्योंकि वह चाहती है कि किसानों की ही बदौलत जो हमें सस्ते अनाज मिल रहे हैं जो मैं खाने के लिए पानी मिले हैं किसानों की वजह से हो रहा है और सबसे बड़ी बात है कि हमारा भारत देश है किसान प्रधान देश है इसीलिए कहा गया है कि जय जवान जय किसान जैसे हमारे देश की रक्षा करते हैं जवान हमारे देश के बॉर्डर पर उसी तरह हमारे देश के किसान हैं इन पूरे देश के अंदर रह कर हर एक इंसान को भोजन पहुंचाने का काम करते हैं भोजन देने का काम करते हैं अगर हम हमारे देश में अन्य नहीं वह गुप्ता तो देखिए जब विदेश से हम मंगाते तो कितनी महंगाई होती लेकिन हमारे देश में उनकी इतनी ज्यादा भंडार है कि हमें बहुत सस्ते अनाज मिलते हैं और हम अपने पेट भरने का काम करते हैं अब आते हैं प्रश्न क्योंकि प्रश्न जो पूछा बचा रहा है जैसे क्या है कि हमारा पूरा भारत देश एक परिवार है उसी तरह हमारी फैमिली है जब हम अपनी छोटी फैमिली से देखते हैं तो हमारा एक छोटा परिवार है उस परिवार में जो भी मेन गार्जियन होता है चाहे आपके मामू चाय पीता हूं चाहे दादा हो जाए दादी हो जो भी हो तू क्या होता है कि जब उनका यही दायित्व बनता है कि अगर परिवार में किसी प्रकार की परेशानी हो या किसी के द्वारा कुछ उलंघन या कुछ भी किया गया चीज हो तो क्या होता है कि पूरा परिवार समझकर बैठकर उचित को सॉल्व करता है ना कि उसे नजरअंदाज करता है क्योंकि वह नजरअंदाज की गई चीजें पूरे परिवार को खंडित करते हैं तो मेरे सवाल का यही जवाब था कि समझाने का उदाहरण को कि हम जब परिवार है परिवार में अगर कोई भी दिक्कत होती है कोई भी नया काम होता है तो कुछ ना कुछ हम सदस्य के साथ गठन कर दें कि हां यह काम हमें करना चाहिए और हम अगर करेंगे तो हमें क्या फायदा हुआ क्या नुकसान होगा जब पूरा परिवार कुछ ना कुछ सामत ही बताता है कुछ उसमें गलतियां बता दे कि हां ऐसे नहीं ऐसे करेंगे तो हमें फायदा होता है ठीक उसी प्रकार इस प्रश्न का एक ही जवाब देना चाहूंगा कि इस पूरे 150 किसानों की जो जिम्मेदार है वह हमारी सरकार है कि सरकार की ऐसी नीतियां हैं जो आज भी किसान इतने दिन से मतलब खा जाएगी 50 दिन से ऊपर हो गए आज अभी भी सड़कों पर हैं इस 2 से 5 डिग्री के बीच में तापमान है पप्पू स्टडी इतनी न्यूनतम तापमान में रोड पर हमारे देश की जो किसान है वह सो रहे हैं कितने लोगों की ठंड की वजह से मृत्यु हो गई तो सोचिए कि हमारी सरकार इतनी तानाशाही कर रही है कितनी अपनी जो दिखाना चाहिए वह दिखा रही है कि हां आज जो किसान आंदोलन पर है किसान आज परेशान हैं किसान आज कहीं ना कहीं भुखमरी का शिकार हो रहे हैं किसान 150 किसान आज मृत्यु हो गई उनके घर परिवार के लोग कैसे होंगे उनकी 150 किसान मरे हैं उनके परिवार का देखरेख कैसे होगा उनके घरवाले उतना उससे आशा रखते थे विश्वास रखते हैं उनके बच्चे जो रहे होंगे कितना ज्यादा विश्वास किए होंगे मेरे पापा होंगे मेरे दादा होंगे मैं इनके साथ उठूंगा बैठूंगा हर एक सपने सजाए थे लेकिन अब सब बच आज किसानों के सपने टूट गए उनके परिवार के सपने टूट गए तो आप सोचिए कि कितना सरकार जो है इतना ज्यादा कठोर दिल की है और हम सभी ने मिलकर जो बीजेपी की सरकार बनाएं कि हमारे देश का भविष्य होगा हमारे हर एक नागरिक का भविष्य आगे जाएगा लेकिन कहां पीछे ही जा रहा है नीचे जा रहा है कि इसका कोई अस्तित्व नहीं है तू बस में ही कहूंगा कि आज जो किसान आंदोलन कर रहे हैं वह सरकार के बदौलत कर रहे हैं सरकार की जिम्मेदारियां सरकार अपनी जिम्मेदारियों पर खरे नहीं उतर रही है कहीं न कहीं हमसे परेशानी है और जनता आज रोड पर है तो इसी तरह हर भारत के लोग परेशान हैं चाहे वह बेरोजगारी हो चाहे उनकी आर्थिक स्थिति हो चाहे उनकी बिजनेस रिलेटेड हो चाहे उनके काम धाम से रिलेटेड हो उसी तरह हमारे देश की जो किसान है आज आंदोलन कर रहे हैं उसकी जो कुछ भी जिम्मेदारी है क्योंकि सरकार ने उनसे बातचीत नहीं की सरकार ने उनसे कुछ भी बात नहीं किया अभी तक और मैं खासकर मोदी जी से कहूंगा कि मोदी जी जो किसानों से अभी तक बात नहीं किया कहीं ना कहीं यह उनकी सूची समझी रणनीति है चाल है जो किसानों को परेशान कर रहे हैं
Vijay jee ke dvaara anurodh ek prashn hai ki kisaan aandolan mein lagabhag 150 kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar aap kise maanate dikhee aap sabhee ko yah pata hoga ki hamaara jo bhaarat desh hai kisaan pradhaan desh hai kyonki kisaanon kee hee badaulat aaj hamaare desh kee 70 parsent janasankhya jo hai kisaanon par dipend hai kyonki vah chaahatee hai ki kisaanon kee hee badaulat jo hamen saste anaaj mil rahe hain jo main khaane ke lie paanee mile hain kisaanon kee vajah se ho raha hai aur sabase badee baat hai ki hamaara bhaarat desh hai kisaan pradhaan desh hai iseelie kaha gaya hai ki jay javaan jay kisaan jaise hamaare desh kee raksha karate hain javaan hamaare desh ke bordar par usee tarah hamaare desh ke kisaan hain in poore desh ke andar rah kar har ek insaan ko bhojan pahunchaane ka kaam karate hain bhojan dene ka kaam karate hain agar ham hamaare desh mein any nahin vah gupta to dekhie jab videsh se ham mangaate to kitanee mahangaee hotee lekin hamaare desh mein unakee itanee jyaada bhandaar hai ki hamen bahut saste anaaj milate hain aur ham apane pet bharane ka kaam karate hain ab aate hain prashn kyonki prashn jo poochha bacha raha hai jaise kya hai ki hamaara poora bhaarat desh ek parivaar hai usee tarah hamaaree phaimilee hai jab ham apanee chhotee phaimilee se dekhate hain to hamaara ek chhota parivaar hai us parivaar mein jo bhee men gaarjiyan hota hai chaahe aapake maamoo chaay peeta hoon chaahe daada ho jae daadee ho jo bhee ho too kya hota hai ki jab unaka yahee daayitv banata hai ki agar parivaar mein kisee prakaar kee pareshaanee ho ya kisee ke dvaara kuchh ulanghan ya kuchh bhee kiya gaya cheej ho to kya hota hai ki poora parivaar samajhakar baithakar uchit ko solv karata hai na ki use najarandaaj karata hai kyonki vah najarandaaj kee gaee cheejen poore parivaar ko khandit karate hain to mere savaal ka yahee javaab tha ki samajhaane ka udaaharan ko ki ham jab parivaar hai parivaar mein agar koee bhee dikkat hotee hai koee bhee naya kaam hota hai to kuchh na kuchh ham sadasy ke saath gathan kar den ki haan yah kaam hamen karana chaahie aur ham agar karenge to hamen kya phaayada hua kya nukasaan hoga jab poora parivaar kuchh na kuchh saamat hee bataata hai kuchh usamen galatiyaan bata de ki haan aise nahin aise karenge to hamen phaayada hota hai theek usee prakaar is prashn ka ek hee javaab dena chaahoonga ki is poore 150 kisaanon kee jo jimmedaar hai vah hamaaree sarakaar hai ki sarakaar kee aisee neetiyaan hain jo aaj bhee kisaan itane din se matalab kha jaegee 50 din se oopar ho gae aaj abhee bhee sadakon par hain is 2 se 5 digree ke beech mein taapamaan hai pappoo stadee itanee nyoonatam taapamaan mein rod par hamaare desh kee jo kisaan hai vah so rahe hain kitane logon kee thand kee vajah se mrtyu ho gaee to sochie ki hamaaree sarakaar itanee taanaashaahee kar rahee hai kitanee apanee jo dikhaana chaahie vah dikha rahee hai ki haan aaj jo kisaan aandolan par hai kisaan aaj pareshaan hain kisaan aaj kaheen na kaheen bhukhamaree ka shikaar ho rahe hain kisaan 150 kisaan aaj mrtyu ho gaee unake ghar parivaar ke log kaise honge unakee 150 kisaan mare hain unake parivaar ka dekharekh kaise hoga unake gharavaale utana usase aasha rakhate the vishvaas rakhate hain unake bachche jo rahe honge kitana jyaada vishvaas kie honge mere paapa honge mere daada honge main inake saath uthoonga baithoonga har ek sapane sajae the lekin ab sab bach aaj kisaanon ke sapane toot gae unake parivaar ke sapane toot gae to aap sochie ki kitana sarakaar jo hai itana jyaada kathor dil kee hai aur ham sabhee ne milakar jo beejepee kee sarakaar banaen ki hamaare desh ka bhavishy hoga hamaare har ek naagarik ka bhavishy aage jaega lekin kahaan peechhe hee ja raha hai neeche ja raha hai ki isaka koee astitv nahin hai too bas mein hee kahoonga ki aaj jo kisaan aandolan kar rahe hain vah sarakaar ke badaulat kar rahe hain sarakaar kee jimmedaariyaan sarakaar apanee jimmedaariyon par khare nahin utar rahee hai kaheen na kaheen hamase pareshaanee hai aur janata aaj rod par hai to isee tarah har bhaarat ke log pareshaan hain chaahe vah berojagaaree ho chaahe unakee aarthik sthiti ho chaahe unakee bijanes rileted ho chaahe unake kaam dhaam se rileted ho usee tarah hamaare desh kee jo kisaan hai aaj aandolan kar rahe hain usakee jo kuchh bhee jimmedaaree hai kyonki sarakaar ne unase baatacheet nahin kee sarakaar ne unase kuchh bhee baat nahin kiya abhee tak aur main khaasakar modee jee se kahoonga ki modee jee jo kisaanon se abhee tak baat nahin kiya kaheen na kaheen yah unakee soochee samajhee rananeeti hai chaal hai jo kisaanon ko pareshaan kar rahe hain

paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:12
इसमें कोई शक नहीं कि इसका जिम्मेदार भारत सरकार है क्योंकि एक प्रकार की जिम्मेदारी होती है उसके नागरिकों की सुरक्षा इंतजाम की रक्षा
Isamen koee shak nahin ki isaka jimmedaar bhaarat sarakaar hai kyonki ek prakaar kee jimmedaaree hotee hai usake naagarikon kee suraksha intajaam kee raksha

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:09
करीना कपूर ने किस आंदोलन में लगभग 150 नाना की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं तो फ्रेंड सारी जिम्मेदारी बहुत सारे कारण है जैसे कि बहुत ज्यादा ठंड किस नंबर से आंदोलन चालू है तो और जनवरी में तो बहुत ज्यादा सर्दी होती है तो कुछ तो ठंड की वजह से लोगों के और कुछ लोग तो जिस जिस को कोई गंभीर बीमारी हो गई है ठंड की वजह से हर्ट अटैक बंद हो गया होगा उसे भी खत्म हो गए हैं कुछ लोग उनके पैसे खत्म हो गए हैं और कुछ लोग अपनी जिद के कारण भी तुम लोगों को भी समझना चाहिए कि इतनी सर्दी पड़ रही है और जो बुजुर्ग है बीमार लोग हैं तो अगर बीजेपी रहेंगे तो उनकी मृत्यु कब होगी इसीलिए उनको अपने आंदोलन के बारे में सरकारी बात कर रही है लेकिन वह लोग मान नहीं रहे हैं तो शान लोग तो अगर ऐसे मौसम में तुमने तो होगी ही तो इसके लिए कोई जवाब अभी मौसम के कारण मृत्यु हुई है क्योंकि बहुत ज्यादा सर्दी पड़ रही है धन्यवाद
Kareena kapoor ne kis aandolan mein lagabhag 150 naana kee mrtyu ka jimmedaar aap kise maanate hain to phrend saaree jimmedaaree bahut saare kaaran hai jaise ki bahut jyaada thand kis nambar se aandolan chaaloo hai to aur janavaree mein to bahut jyaada sardee hotee hai to kuchh to thand kee vajah se logon ke aur kuchh log to jis jis ko koee gambheer beemaaree ho gaee hai thand kee vajah se hart ataik band ho gaya hoga use bhee khatm ho gae hain kuchh log unake paise khatm ho gae hain aur kuchh log apanee jid ke kaaran bhee tum logon ko bhee samajhana chaahie ki itanee sardee pad rahee hai aur jo bujurg hai beemaar log hain to agar beejepee rahenge to unakee mrtyu kab hogee iseelie unako apane aandolan ke baare mein sarakaaree baat kar rahee hai lekin vah log maan nahin rahe hain to shaan log to agar aise mausam mein tumane to hogee hee to isake lie koee javaab abhee mausam ke kaaran mrtyu huee hai kyonki bahut jyaada sardee pad rahee hai dhanyavaad

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
किसान आंदोलन में लगभग 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं इस सारे घटनाक्रम को देख कर मुझे ऐसा लगता है कि जब यह खुशी मिल लाया गया संसद में और उस वक्त बिना किसी चर्चा को इसे बहुमत के द्वारा पास किया गया इस बात को मैं सनम की मृत्यु का जिम्मेदार पंतप्रधान नरेंद्र नरेंद्र मोदी और उनके कार्यकारी मंडल यानी मंत्रिमंडल इनको मंत्र क्योंकि कि कोई भी शामिल है जो बहुत आगे जाकर उल्टा पुल्टा पाठ पिया बड़े चेंज सकारात्मक व नकारात्मक को लॉक करने वाला है इग्निशन उसके संबंध में पूरे देश में समाज के सभी स्तरों के स्वरों में इसकी मुक्त रूप से चर्चा होनी चाहिए उस चर्चा से बहुत सारे नतीजे निकलते हैं और देश के किन लोगों के हित में और किन लोगों के हित में निर्णय लिया जा रहा है समझ में आ जाएगा उसके बाद अगर मैं मेजॉरिटी मानती है इस बिल को अपना हिट का रखें तभी उस बुक बिल को पास करना चाहिए था लेकिन इसमें भी हुकुम शादी की तरह बिल पास कर के आप के सांसद के आम आदमी पार्टी के साथ सचिन को तो हाउस से बाहर निकाला गया जो कि प्रोटेस्ट कर रहे थे इस बिल के खिलाफ संजय सिंह तो इस तरीके से उसमें बिल का पास होना यह लोकतांत्रिक ढंग का काम नहीं है यह उम्र चाहिए तंत्र का काम है अभी वो बातें आगे जाकर दो गुट आमने-सामने अपने निर्णय पर खड़े हुए खड़े हो गए एक तरफ सरकार है दूसरी तरफ के साथ ही किसानों के आंदोलन में सभी जिसके साथ शामिल नहीं हो रही है लेकिन उनकी सहमति जो रोड पर आंदोलन चल रहा है उसके लिए तो इन लोगों की मौत 150 किसानों की मूर्तियों को ना कोई हम बात नहीं है इसका अंजाम क्या होगा यह सब तो भाइयों को मालूम नहीं है क्या हो सकता है कि मामला कहां तक जा सकता है वैसे ही आप दिसावर बाकि पुर से से उनको आंदोलनकारियों को रोका गया लेकिन अगर ऐसे ही बैठे रहेंगे और इन को रोकना मुश्किल हो जाएगा और यह संसद की तरफ बढ़ जाएंगे तो क्या होगा स्वर्ण मंदिर अक्षय एक्शन कैसी हुई थी और उसके परिणाम क्या हुए पूरे देश को मालूम है और ऐसे क्या उसे और भी उदाहरण है इसलिए सरकार जो है वह हर चीज को विरोध को दबाकर अपना झंडा जो आगे लेकर जा रही है इसके लिए यह मेला
Kisaan aandolan mein lagabhag 150 kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar aap kise maanate hain is saare ghatanaakram ko dekh kar mujhe aisa lagata hai ki jab yah khushee mil laaya gaya sansad mein aur us vakt bina kisee charcha ko ise bahumat ke dvaara paas kiya gaya is baat ko main sanam kee mrtyu ka jimmedaar pantapradhaan narendr narendr modee aur unake kaaryakaaree mandal yaanee mantrimandal inako mantr kyonki ki koee bhee shaamil hai jo bahut aage jaakar ulta pulta paath piya bade chenj sakaaraatmak va nakaaraatmak ko lok karane vaala hai ignishan usake sambandh mein poore desh mein samaaj ke sabhee staron ke svaron mein isakee mukt roop se charcha honee chaahie us charcha se bahut saare nateeje nikalate hain aur desh ke kin logon ke hit mein aur kin logon ke hit mein nirnay liya ja raha hai samajh mein aa jaega usake baad agar main mejoritee maanatee hai is bil ko apana hit ka rakhen tabhee us buk bil ko paas karana chaahie tha lekin isamen bhee hukum shaadee kee tarah bil paas kar ke aap ke saansad ke aam aadamee paartee ke saath sachin ko to haus se baahar nikaala gaya jo ki protest kar rahe the is bil ke khilaaph sanjay sinh to is tareeke se usamen bil ka paas hona yah lokataantrik dhang ka kaam nahin hai yah umr chaahie tantr ka kaam hai abhee vo baaten aage jaakar do gut aamane-saamane apane nirnay par khade hue khade ho gae ek taraph sarakaar hai doosaree taraph ke saath hee kisaanon ke aandolan mein sabhee jisake saath shaamil nahin ho rahee hai lekin unakee sahamati jo rod par aandolan chal raha hai usake lie to in logon kee maut 150 kisaanon kee moortiyon ko na koee ham baat nahin hai isaka anjaam kya hoga yah sab to bhaiyon ko maaloom nahin hai kya ho sakata hai ki maamala kahaan tak ja sakata hai vaise hee aap disaavar baaki pur se se unako aandolanakaariyon ko roka gaya lekin agar aise hee baithe rahenge aur in ko rokana mushkil ho jaega aur yah sansad kee taraph badh jaenge to kya hoga svarn mandir akshay ekshan kaisee huee thee aur usake parinaam kya hue poore desh ko maaloom hai aur aise kya use aur bhee udaaharan hai isalie sarakaar jo hai vah har cheej ko virodh ko dabaakar apana jhanda jo aage lekar ja rahee hai isake lie yah mela

Ñámãñ ẞïñgh Påtël Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ñámãñ जी का जवाब
Student & Social worker
1:51
स्कार जैसा कि प्रश्न है किसान आंदोलन में लगभग 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं देखें हम इन 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार सिर्फ सरकार को ही मान सकते हैं क्योंकि यह आंदोलन सरकार के विरोध में नहीं इन कृषि कानूनों के विरोध में हो रहा है और जो कृषि कानून संसद के द्वारा सरकार ने ही बनवाए हैं और यह कानून सरकार के द्वारा ही बनाए गए हैं इस कारण किसान इन तीनों कानूनों से असंतुष्ट हैं और वह दिल्ली की ओर कूच कर रहे थे पर दिल्ली की सीमाओं पर उन्हें रोका गया जिससे कि वह दिल्ली की सीमाओं पर ही आज 55 से ज्यादा दिन हो चुके हैं इतनी ठंड इतनी सर्दी के बावजूद भी वह दिल्ली के सीमाओं पर डटे हुए और कहा जा रहा है कि 150 किसान शहीद हो चुकी है कहीं ना कहीं इसका जिम्मेदार सरकार को भी ठहराया जा सकता है क्योंकि आज 55 से ज्यादा दिन सही किसान आंदोलन चल रहा है 11 दौर की बातें सरकार और किसान संगठन के बीच हो चुकी है तो सरकार किसानों को कन्वेंस करने में क्यों असफल रही सरकार का कोई भी नेता या मंत्री ग्राउंड में जाकर उन किसानों से बातचीत क्यों नहीं कर पाया उन्हें क्यों नहीं बना पाया उनके शिकायतों को जो दूर नहीं कर पाया तो एक तरफ तो इसमें सरकार भी जिम्मेदार है धन्यवाद
Skaar jaisa ki prashn hai kisaan aandolan mein lagabhag 150 kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar aap kise maanate hain dekhen ham in 150 kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar sirph sarakaar ko hee maan sakate hain kyonki yah aandolan sarakaar ke virodh mein nahin in krshi kaanoonon ke virodh mein ho raha hai aur jo krshi kaanoon sansad ke dvaara sarakaar ne hee banavae hain aur yah kaanoon sarakaar ke dvaara hee banae gae hain is kaaran kisaan in teenon kaanoonon se asantusht hain aur vah dillee kee or kooch kar rahe the par dillee kee seemaon par unhen roka gaya jisase ki vah dillee kee seemaon par hee aaj 55 se jyaada din ho chuke hain itanee thand itanee sardee ke baavajood bhee vah dillee ke seemaon par date hue aur kaha ja raha hai ki 150 kisaan shaheed ho chukee hai kaheen na kaheen isaka jimmedaar sarakaar ko bhee thaharaaya ja sakata hai kyonki aaj 55 se jyaada din sahee kisaan aandolan chal raha hai 11 daur kee baaten sarakaar aur kisaan sangathan ke beech ho chukee hai to sarakaar kisaanon ko kanvens karane mein kyon asaphal rahee sarakaar ka koee bhee neta ya mantree graund mein jaakar un kisaanon se baatacheet kyon nahin kar paaya unhen kyon nahin bana paaya unake shikaayaton ko jo door nahin kar paaya to ek taraph to isamen sarakaar bhee jimmedaar hai dhanyavaad

umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:29
किसान आंदोलन में डेढ़ सौ लोगों की मृत्यु का कारण सीधे सरकार है ना कि कोई और सरकार ने कानून लगती न किसानों को आज दोनों करना पड़ता है लोन सरकार किसानों ने किया भी तो सरकार ने किसानों के आंदोलन को शिकारा भी नहीं वह अपनी बात पर अड़े रहे और किसान भी अपनी बात पर अड़े रहे इतने सारे दोस्त सरकार को जाता है सरकार का हिंदी लेकर किसानों की मृत्यु हुई है
Kisaan aandolan mein dedh sau logon kee mrtyu ka kaaran seedhe sarakaar hai na ki koee aur sarakaar ne kaanoon lagatee na kisaanon ko aaj donon karana padata hai lon sarakaar kisaanon ne kiya bhee to sarakaar ne kisaanon ke aandolan ko shikaara bhee nahin vah apanee baat par ade rahe aur kisaan bhee apanee baat par ade rahe itane saare dost sarakaar ko jaata hai sarakaar ka hindee lekar kisaanon kee mrtyu huee hai

Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:25
मुस्कान की बात कर रहा हूं मैं बताना चाहूंगा झुक के सामने 150 लोग मारे गए हैं मैं उसका जिम्मेदार और जो उसके नेता है उसको समझते हैं उन्होंने करवाया और जब यह हो रहा था तो वह वहां पर नहीं थे तो हम जिम्मेदार नेता को समझ सकते हैं
Muskaan kee baat kar raha hoon main bataana chaahoonga jhuk ke saamane 150 log maare gae hain main usaka jimmedaar aur jo usake neta hai usako samajhate hain unhonne karavaaya aur jab yah ho raha tha to vah vahaan par nahin the to ham jimmedaar neta ko samajh sakate hain

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:56
किसान आंदोलन में लगभग 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं देखिए सबसे पहले तो मैं यह कहना चाहता हूं कि 150 क्या एक भी व्यक्ति की मृत्यु दुखदाई है एक भी व्यक्ति अगर अपनी जान गवा ता है तो वह व्यक्ति अपने परिवार के लिए उसके चाहने वालों के लिए बड़ा अजीब होता है तो उसकी मृत्यु दुखदाई है और हम उस मृत्यु के प्रति शोक संतप्त परिवार को हम सांत्वना देना चाहते हैं और उसे मृत आत्मा के प्रति हम नमन करते हैं लेकिन इस मृत्यु का जिम्मेदार और कोई नहीं किसान स्वयं हैं और किसान कम कहिए वह कुछ हुड़दंग ही है जो सरकार को उस समाज को न्यायालय को धता बताते हुए अपनी मनमर्जी से अपने तरीके से अपना आंदोलन चला रहे हैं समाज राष्ट्र की गरिमा एकता को अखंडता को समाज के समाज की एकता को विखंडित कर रहे हैं और अपनी शर्तों पर सरकार को समाज को झुकाना चाहते हैं ऐसा लगता है जैसे संसार का सारा दुख उन्हीं पर आ पड़ा है और संसार में कोई दुखी दूसरा है ही नहीं सत्य मायनों में बोला जाए तुझे खुर्दन कहां पर कर रहे हैं जो आतंक वहां पर फैला रहे हैं वह सही मायनों में किसान नहीं होता पर एक बात में और बता दो कि जो आंदोलन वहां पर करने वाले लोग हैं वह गरीब नहीं है और जो गरीब है और जो वाकई किसान है उसको इस कृषि बिल से बहुत फायदा है इसलिए मैं इस आंदोलन में इन किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार उन किसान नेताओं को मानता हूं जो राजनीति साधने के लिए वहां पर बैठे हुए धन्यवाद
Kisaan aandolan mein lagabhag 150 kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar aap kise maanate hain dekhie sabase pahale to main yah kahana chaahata hoon ki 150 kya ek bhee vyakti kee mrtyu dukhadaee hai ek bhee vyakti agar apanee jaan gava ta hai to vah vyakti apane parivaar ke lie usake chaahane vaalon ke lie bada ajeeb hota hai to usakee mrtyu dukhadaee hai aur ham us mrtyu ke prati shok santapt parivaar ko ham saantvana dena chaahate hain aur use mrt aatma ke prati ham naman karate hain lekin is mrtyu ka jimmedaar aur koee nahin kisaan svayan hain aur kisaan kam kahie vah kuchh hudadang hee hai jo sarakaar ko us samaaj ko nyaayaalay ko dhata bataate hue apanee manamarjee se apane tareeke se apana aandolan chala rahe hain samaaj raashtr kee garima ekata ko akhandata ko samaaj ke samaaj kee ekata ko vikhandit kar rahe hain aur apanee sharton par sarakaar ko samaaj ko jhukaana chaahate hain aisa lagata hai jaise sansaar ka saara dukh unheen par aa pada hai aur sansaar mein koee dukhee doosara hai hee nahin saty maayanon mein bola jae tujhe khurdan kahaan par kar rahe hain jo aatank vahaan par phaila rahe hain vah sahee maayanon mein kisaan nahin hota par ek baat mein aur bata do ki jo aandolan vahaan par karane vaale log hain vah gareeb nahin hai aur jo gareeb hai aur jo vaakee kisaan hai usako is krshi bil se bahut phaayada hai isalie main is aandolan mein in kisaanon kee mrtyu ka jimmedaar un kisaan netaon ko maanata hoon jo raajaneeti saadhane ke lie vahaan par baithe hue dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आन्दोलन में लगभग 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं 150 किसानों की मृत्यु का जिम्मेदार आप किसे मानते हैं
URL copied to clipboard