#undefined

bolkar speaker

क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?

Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:08
नमस्कार दोस्तों प्रश्न के असीमित इच्छाएं एक दिन मौत की तरफ ले जाती है तो दोस्तों ऐसा नहीं है कि मैं आपको मौत की तरफ ले जाती हैं लेकिन प्रश्न उठता है कि देखिए तो मनुष्य की कभी समाप्त नहीं होती पहले मनुष्य साइकिल पर चलाता था फिर सोचा कि शूटर आजा स्कूटर पर चलने लग गया अब से सोचता है कि चलना चार पहिए की गाड़ी आ जाए छोटी सी छोटी गाड़ी आई पुरवा बड़ी गाड़ी लेने की इच्छा रखने लग जाता है फिर मैं ही गाड़ी चलेगी रखने लग जाता है तो भूख तो कभी शांत नहीं होती है लेकिन वह निर्भर भूख आए के ऊपर भी निर्भर करती है आपकी निश्चित रूप से अगर आए बढ़ती रहेगी तो आपकी भूख भी बढ़ती रहेगी और इच्छाएं रखना जो चलो जिस जीवन में स्वाभाविक है नहीं तो नहीं रस्ता आ जाएगी इसके अंदर लेकिन ऐसा नहीं है कि मौत का कारण बन सकती है लेकिन आप इच्छाओं को पूरा करने के लिए अपने तो चादर से पैर पसारने की तरफ बाहर जाते हो या कोई ऐसा गलत कार्य करते हो तो निश्चित रूप से वह या तो परेशानी में डाल सकता है या आपको मानसिक दबाव में डलवा सकता है ऐसी हर जो किए कभी कबार मौत के रूप में साबित हो सकती है अन्यथा मौत से इसका कोई ज्यादा लगाओ ऐसा नहीं है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn ke aseemit ichchhaen ek din maut kee taraph le jaatee hai to doston aisa nahin hai ki main aapako maut kee taraph le jaatee hain lekin prashn uthata hai ki dekhie to manushy kee kabhee samaapt nahin hotee pahale manushy saikil par chalaata tha phir socha ki shootar aaja skootar par chalane lag gaya ab se sochata hai ki chalana chaar pahie kee gaadee aa jae chhotee see chhotee gaadee aaee purava badee gaadee lene kee ichchha rakhane lag jaata hai phir main hee gaadee chalegee rakhane lag jaata hai to bhookh to kabhee shaant nahin hotee hai lekin vah nirbhar bhookh aae ke oopar bhee nirbhar karatee hai aapakee nishchit roop se agar aae badhatee rahegee to aapakee bhookh bhee badhatee rahegee aur ichchhaen rakhana jo chalo jis jeevan mein svaabhaavik hai nahin to nahin rasta aa jaegee isake andar lekin aisa nahin hai ki maut ka kaaran ban sakatee hai lekin aap ichchhaon ko poora karane ke lie apane to chaadar se pair pasaarane kee taraph baahar jaate ho ya koee aisa galat kaary karate ho to nishchit roop se vah ya to pareshaanee mein daal sakata hai ya aapako maanasik dabaav mein dalava sakata hai aisee har jo kie kabhee kabaar maut ke roop mein saabit ho sakatee hai anyatha maut se isaka koee jyaada lagao aisa nahin hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:15
तो दुनिया दोस्तों अश्मित इच्छाएं हमें मौत की तरफ ले जाती हैं क्योंकि हमारी इच्छाएं कभी भी खत्म नहीं होती है और इच्छाओं को पूरा करते करते एक दिन हम मर जाते हैं तो दोस्तों अगर आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज लाइक जरूर करें
To duniya doston ashmit ichchhaen hamen maut kee taraph le jaatee hain kyonki hamaaree ichchhaen kabhee bhee khatm nahin hotee hai aur ichchhaon ko poora karate karate ek din ham mar jaate hain to doston agar aapako jaanakaaree achchhee lagee ho to pleej laik jaroor karen

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:33
क्वेश्चन पूछा है कि क्या असीमित इच्छाएं एक दिन मौत की तरफ ले जाती हैं तो यह बात सही है क्या सीमित इच्छाएं हमारी जो भी सीमित इच्छाएं होती है उसको जो होता है अनंत रूप से असीमित बनाती हैं और भाई एक न एक दिन जो है हमारी मौत की तरफ से होती हैं वह कर लेती हैं अगर देखा जाए हर एक व्यक्ति के जो इच्छाएं होती है वह अनंत होती है और इसी अनंत इच्छाओं को पूरा करते-करते व्यक्ति की उम्र जो होती है निकल जाती है
Kveshchan poochha hai ki kya aseemit ichchhaen ek din maut kee taraph le jaatee hain to yah baat sahee hai kya seemit ichchhaen hamaaree jo bhee seemit ichchhaen hotee hai usako jo hota hai anant roop se aseemit banaatee hain aur bhaee ek na ek din jo hai hamaaree maut kee taraph se hotee hain vah kar letee hain agar dekha jae har ek vyakti ke jo ichchhaen hotee hai vah anant hotee hai aur isee anant ichchhaon ko poora karate-karate vyakti kee umr jo hotee hai nikal jaatee hai

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:57
आपका प्रश्न है कि क्या और सीमित इच्छाएं एक दिन मौत की तरफ ले जाती हैं इसके दो उत्तर हैं मेरी दृष्टि में विकी व्यक्ति को जीवन में एक बात तय करनी पड़ेगी की इच्छाएं और आवश्यकताएं दोनों में से उसको क्या चलना है अगर व्यक्ति आवश्यकताओं के साथ में अपने जीवन में संतोष कर ले तो उसको जीवन में कोई कष्ट नहीं है उसको कोई तकलीफ नहीं है और वह अपने जीवन को बहुत अच्छे से गुजार सकता है दूसरा अगर आपके जीवन में इच्छाओं की अहमियत है लेकिन अगर आप उन इच्छाओं को पूरी करने के लिए सही तरीके से लेकर आते पर आगे बढ़कर के कठिन परिश्रम के माध्यम से समर्पण के माध्यम से दृढ़ निश्चय के माध्यम से अब तक के प्रति तत्पर रहकर इच्छाओं को प्राप्त करने के लिए अगर गतिशील रहे और उन्हें छांव को प्राप्त कर पाए तो उसमें कोई तकलीफ नहीं है उसमें कोई बुरी बात नहीं है लेकिन अगर आप अपनी इच्छाओं को पूर्ण करने के लिए नकारात्मक रास्ते पर चल पड़ते हैं या अपनी शिक्षा अपनी इच्छाओं को तो आपने पाल रखा है लेकिन उन्हें इच्छाओं के अनुरूप आप वैसा कठिन परिश्रम नहीं करते वैसा प्रयास नहीं करते और फिर आप उन इच्छाओं को मन में हमेशा रख कर के अपने आप में गिलानी भाव में अगर जीने लगेंगे तो निश्चित रूप से यह आपको बहुत मुसीबत में डाल डाल सकता है आपको जीवन में मैं मौत की तरफ तो नहीं कहूंगा लेकिन हां आपको बहुत मुश्किल परिस्थितियों में डाल सकती है तो व्यक्ति को यह सोचना पड़ेगा कि उसको कहां आवश्यकताओं के बारे में सोचना है और कहां इच्छाओं के बारे में सोचना है इच्छाएं भी आपकी सही चीजों के लिए इच्छाएं हैं या बुरी चीजों के लिए यह भी आपको देखना पड़ेगा क्योंकि उनके साथ में तो व्यक्ति आगे बढ़ेगा तो निश्चित रूप से पतन होना ही होना है लेकिन उसकी दृष्टि किस रूप में है यह आपको सोचना पड़ेगा धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya aur seemit ichchhaen ek din maut kee taraph le jaatee hain isake do uttar hain meree drshti mein vikee vyakti ko jeevan mein ek baat tay karanee padegee kee ichchhaen aur aavashyakataen donon mein se usako kya chalana hai agar vyakti aavashyakataon ke saath mein apane jeevan mein santosh kar le to usako jeevan mein koee kasht nahin hai usako koee takaleeph nahin hai aur vah apane jeevan ko bahut achchhe se gujaar sakata hai doosara agar aapake jeevan mein ichchhaon kee ahamiyat hai lekin agar aap un ichchhaon ko pooree karane ke lie sahee tareeke se lekar aate par aage badhakar ke kathin parishram ke maadhyam se samarpan ke maadhyam se drdh nishchay ke maadhyam se ab tak ke prati tatpar rahakar ichchhaon ko praapt karane ke lie agar gatisheel rahe aur unhen chhaanv ko praapt kar pae to usamen koee takaleeph nahin hai usamen koee buree baat nahin hai lekin agar aap apanee ichchhaon ko poorn karane ke lie nakaaraatmak raaste par chal padate hain ya apanee shiksha apanee ichchhaon ko to aapane paal rakha hai lekin unhen ichchhaon ke anuroop aap vaisa kathin parishram nahin karate vaisa prayaas nahin karate aur phir aap un ichchhaon ko man mein hamesha rakh kar ke apane aap mein gilaanee bhaav mein agar jeene lagenge to nishchit roop se yah aapako bahut museebat mein daal daal sakata hai aapako jeevan mein main maut kee taraph to nahin kahoonga lekin haan aapako bahut mushkil paristhitiyon mein daal sakatee hai to vyakti ko yah sochana padega ki usako kahaan aavashyakataon ke baare mein sochana hai aur kahaan ichchhaon ke baare mein sochana hai ichchhaen bhee aapakee sahee cheejon ke lie ichchhaen hain ya buree cheejon ke lie yah bhee aapako dekhana padega kyonki unake saath mein to vyakti aage badhega to nishchit roop se patan hona hee hona hai lekin usakee drshti kis roop mein hai yah aapako sochana padega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
ravideep singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ravideep जी का जवाब
students
0:44

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
Ekta Sahni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ekta जी का जवाब
Unknown
1:15
नमस्कार आपका प्रश्न है क्या अच्छी नहीं है 1 दिन मौत की तरफ ले जाती हैं तो मेरा जवाब है टेक्निटी मौत तो निश्चित है ही है तुम्हारी इच्छा ही सीमित ही होनी चाहिए वैसे तो इतना ही बहुत कम या ना के बराबर होनी चाहिए आप सोचिए अगर आपकी इच्छाएं और सीमित हैं आप परीक्षा के बाद नहीं आती बिल्कुल बिल्कुल कांग्रेस फिर और निश्चित है आपको पता भी नहीं चलेगा कब मौत आ जाएगी और आपकी इच्छाएं भी अच्छा ही है हम अपनी इच्छाओं को सीमित करें थोड़ी इच्छाएं या जितनी जरूरत है झूठ के हिसाब से हम अपनी इच्छा थी और उसे एक निश्चित समय में थोड़े समय में हो पूरी विधालय जगाए रखें करना भी क्या है हम जीवन का जो अमूल्य है फिर उसे पहचाने जीवन में सकारात्मक काम है हम लोग करें जितने भी पॉजिटिव थॉट्स या वाइब्रेशन हम उन्हें अपने जीवन को पहचाने की इच्छा को पूरा करते करते उसे यूं ही व्यर्थ न जाने दें धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai kya achchhee nahin hai 1 din maut kee taraph le jaatee hain to mera javaab hai teknitee maut to nishchit hai hee hai tumhaaree ichchha hee seemit hee honee chaahie vaise to itana hee bahut kam ya na ke baraabar honee chaahie aap sochie agar aapakee ichchhaen aur seemit hain aap pareeksha ke baad nahin aatee bilkul bilkul kaangres phir aur nishchit hai aapako pata bhee nahin chalega kab maut aa jaegee aur aapakee ichchhaen bhee achchha hee hai ham apanee ichchhaon ko seemit karen thodee ichchhaen ya jitanee jaroorat hai jhooth ke hisaab se ham apanee ichchha thee aur use ek nishchit samay mein thode samay mein ho pooree vidhaalay jagae rakhen karana bhee kya hai ham jeevan ka jo amooly hai phir use pahachaane jeevan mein sakaaraatmak kaam hai ham log karen jitane bhee pojitiv thots ya vaibreshan ham unhen apane jeevan ko pahachaane kee ichchha ko poora karate karate use yoon hee vyarth na jaane den dhanyavaad

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:14
नमस्कार आपका सवाल है क्या और लिमिट इच्छाएं दिन मौत की तरह मुझे जानती है उनकी इच्छाएं होती है ऐसी इच्छा होती है जो कि पहले पूरी हो जाती है तो दूसरी की इच्छा रखते हैं दूसरी चाबी पूरी हो जाती थी पीछे पीछे रहते हैं लेकिन कुछ लोग वहीं पर ऐसे भी होते हैं जिनकी आप कुछ इच्छाएं होती है अगर वह पूरा हो जाता है तो नहीं लगता है कि उनके सपने पूरे हो गए और उन्हें अच्छा लगता है लेकिन ज्यादा कौन सी मेरी इच्छा की बात करें तो व्यक्ति का जब जन्म होता है मृत्युंजय जीवित रहती है और कुछ ना कुछ नहीं चाय पीती रहती है कभी भी इतना इतनी इच्छा नहीं रखनी चाहिए कि जब वह अच्छा पूर्वज है तो दूसरी की चाहत है तुमसे अच्छा तो होनी चाहिए पर आवाज नहीं सुनी जाएगी क्यों असीमित इच्छा कहीं ना कहीं आपको गलत तरीके से आगे बढ़ने से रोकती है तो हमारे जो इच्छा है वह तो होनी चाहिए कम होनी चाहिए और सीमित होनी चाहिए और जितने हमारे पास साधन है जितने हमारे पास है क्षमता है उतनी अच्छा है होनी चाहिए तो मिलते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग को चाहिए तो चोखी धनी
Namaskaar aapaka savaal hai kya aur limit ichchhaen din maut kee tarah mujhe jaanatee hai unakee ichchhaen hotee hai aisee ichchha hotee hai jo ki pahale pooree ho jaatee hai to doosaree kee ichchha rakhate hain doosaree chaabee pooree ho jaatee thee peechhe peechhe rahate hain lekin kuchh log vaheen par aise bhee hote hain jinakee aap kuchh ichchhaen hotee hai agar vah poora ho jaata hai to nahin lagata hai ki unake sapane poore ho gae aur unhen achchha lagata hai lekin jyaada kaun see meree ichchha kee baat karen to vyakti ka jab janm hota hai mrtyunjay jeevit rahatee hai aur kuchh na kuchh nahin chaay peetee rahatee hai kabhee bhee itana itanee ichchha nahin rakhanee chaahie ki jab vah achchha poorvaj hai to doosaree kee chaahat hai tumase achchha to honee chaahie par aavaaj nahin sunee jaegee kyon aseemit ichchha kaheen na kaheen aapako galat tareeke se aage badhane se rokatee hai to hamaare jo ichchha hai vah to honee chaahie kam honee chaahie aur seemit honee chaahie aur jitane hamaare paas saadhan hai jitane hamaare paas hai kshamata hai utanee achchha hai honee chaahie to milate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log ko chaahie to chokhee dhanee

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
Ankit Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Student
1:17
हेलो एवरीवन क्या असीमित इच्छाएं एक दिन मौत की तरफ ले जाती हैं देखिए ऐसा है कि हमारा जो माइंड है एक बेचैन चिड़िया की तरह होती है महात्मा गांधी ने कहा था और माइंड इज ए रिस्टलेस दमोह दमोह एडवांस मतलब इसे जितना मिलता है उतना ही और यह अधिक की सजा इतना सा है जैसे अगर आपके पास आ जाए एक बढ़िया बाइक है तो आपकी इच्छा होगी एक बढ़िया का ले ले जाए जब आपके पास एक बढ़िया काम होगी तो आपके पास इच्छा हो गई नहीं अब मुझे बढ़िया से बढ़िया और महंगी कार ले ले लिया आपके पास और महंगी कारों की दावत है कि नहीं मेरे एक प्राइवेट जेट हो तो यह आपकी इच्छा हो रही है छोरी है जैसे ही वैसे एक शाह की जन्म हो रही है मतलब इच्छाएं एक शाम को जन्म दे रही है ऐसे आप क्या होता है कि आप अपनी लाइफ को एंजॉय नहीं कर पाते हैं आप सिर्फ इच्छाओं को पूरा करने में लग जाते हैं इच्छा कभी खत्म नहीं होती एक्शन इन फ्लाइट है आपको उसी 16 को सीमित रखना है आपको उसी क्षण में अपने आप को खुश रखना है यही खुश रहने का सबसे तरीका है तो आप कभी खुश नहीं रह सकते हैं क्योंकि इच्छाएं कभी खत्म नहीं होती थैंक यू
Helo evareevan kya aseemit ichchhaen ek din maut kee taraph le jaatee hain dekhie aisa hai ki hamaara jo maind hai ek bechain chidiya kee tarah hotee hai mahaatma gaandhee ne kaha tha aur maind ij e ristales damoh damoh edavaans matalab ise jitana milata hai utana hee aur yah adhik kee saja itana sa hai jaise agar aapake paas aa jae ek badhiya baik hai to aapakee ichchha hogee ek badhiya ka le le jae jab aapake paas ek badhiya kaam hogee to aapake paas ichchha ho gaee nahin ab mujhe badhiya se badhiya aur mahangee kaar le le liya aapake paas aur mahangee kaaron kee daavat hai ki nahin mere ek praivet jet ho to yah aapakee ichchha ho rahee hai chhoree hai jaise hee vaise ek shaah kee janm ho rahee hai matalab ichchhaen ek shaam ko janm de rahee hai aise aap kya hota hai ki aap apanee laiph ko enjoy nahin kar paate hain aap sirph ichchhaon ko poora karane mein lag jaate hain ichchha kabhee khatm nahin hotee ekshan in phlait hai aapako usee 16 ko seemit rakhana hai aapako usee kshan mein apane aap ko khush rakhana hai yahee khush rahane ka sabase tareeka hai to aap kabhee khush nahin rah sakate hain kyonki ichchhaen kabhee khatm nahin hotee thaink yoo

bolkar speaker
क्या असीमित इच्छाये एक दिन मौत की तरफ ले जाती है?Kya Aseemit Ikchaye Ek Din Maut Ki Taraf Le Jati Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:32
नमस्कार दोस्तों आज आपका प्रश्न है क्या ए समिति नीच है 1 दिन मौत की तरफ ले जाती है तो दोस्तों आपके प्रश्न का उत्तर है हमें तो अगर सीमाओं से बाहर चला जाता है तो हमारे नियंत्रण में नहीं रहता है इसलिए अगर हम सीमित इच्छाओं के अनुसार चलेंगे तो हमें कोई परेशानी नहीं आती है लेकिन अगर हम ऐसी मीटिंग है अगर पाने लग जाएंगे तो हमें कुछ भी हानि उठानी पड़ सकती है जिस प्रकार से शेयर मार्केट में जो पैसे लगाते हैं और उनको अगर लालच आ जाता है और उन वजह से वह ज्यादा पैसे लगा देते हैं तो उनको कई आर्थिक हानियां उठानी पड़ सकती है और जिस प्रकार से मनुष्य को जब गोरमेंट जॉब करता है और उनको जोक्स मिलती है अगर उस सैलरी से वह संतोष नहीं मैं नहीं रहता है और उनकी sm36 पाल लेता है और रिश्वत भ्रष्टाचार करने लग जाता है तो उनकी नौकरी भी जा सकती है इसलिए हमें इस समिति ने नहीं पानी चाहिए हमें सीमित है रखनी चाहिए जिनसे आप कामयाब हो सकते हो और अश्मित है आप रखेंगे तो मौत की तरफ से आप जा सकते हो धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aaj aapaka prashn hai kya e samiti neech hai 1 din maut kee taraph le jaatee hai to doston aapake prashn ka uttar hai hamen to agar seemaon se baahar chala jaata hai to hamaare niyantran mein nahin rahata hai isalie agar ham seemit ichchhaon ke anusaar chalenge to hamen koee pareshaanee nahin aatee hai lekin agar ham aisee meeting hai agar paane lag jaenge to hamen kuchh bhee haani uthaanee pad sakatee hai jis prakaar se sheyar maarket mein jo paise lagaate hain aur unako agar laalach aa jaata hai aur un vajah se vah jyaada paise laga dete hain to unako kaee aarthik haaniyaan uthaanee pad sakatee hai aur jis prakaar se manushy ko jab gorament job karata hai aur unako joks milatee hai agar us sailaree se vah santosh nahin main nahin rahata hai aur unakee sm36 paal leta hai aur rishvat bhrashtaachaar karane lag jaata hai to unakee naukaree bhee ja sakatee hai isalie hamen is samiti ne nahin paanee chaahie hamen seemit hai rakhanee chaahie jinase aap kaamayaab ho sakate ho aur ashmit hai aap rakhenge to maut kee taraph se aap ja sakate ho dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard