#जीवन शैली

bolkar speaker

ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?

Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:58
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है तो फ्रेंड से ऐसा बहुत सारी चीजें हैं जो इंसान की समझ से परे होती है इस तो किसी का गंदा व्यवहार अगर कोई गंदा व्यवहार करता है तो कभी इंसान समझ नहीं पाता कि ऐसा क्यों कर रहा है और वे उसकी समझ से परे हो जाता है और कभी-कभी समाज में भी तो बीच में भ्रष्टाचार देखने को मिलता है तू समझ में नहीं आता कि यह क्यों ऐसा हो रहा है यह सब बातें इंसान की समझ से परे है और यह जो अभी किसानों का आंदोलन चल रहा है तो सरकार बहुत प्रकार से उन को समझाने की भी कोशिश कर रही है पर बात भी कर रही है तू भी वह अपनी जिद पर अड़े हुए हैं तो यह भी समझ से परे है ऐसी बहुत सारी बातें हमारे समाज में देश में और हमारे आसपास होती रहनी है जो हमारी समझ से परे हो जाती हैं क्योंकि वह बहुत ज्यादा ही अपनी जिद पर अड़े रहते हैं और अपनी ही बात मनवाने की कोशिश करते रहते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn aisa kya hai jo insaan kee samajh se pare hai to phrend se aisa bahut saaree cheejen hain jo insaan kee samajh se pare hotee hai is to kisee ka ganda vyavahaar agar koee ganda vyavahaar karata hai to kabhee insaan samajh nahin paata ki aisa kyon kar raha hai aur ve usakee samajh se pare ho jaata hai aur kabhee-kabhee samaaj mein bhee to beech mein bhrashtaachaar dekhane ko milata hai too samajh mein nahin aata ki yah kyon aisa ho raha hai yah sab baaten insaan kee samajh se pare hai aur yah jo abhee kisaanon ka aandolan chal raha hai to sarakaar bahut prakaar se un ko samajhaane kee bhee koshish kar rahee hai par baat bhee kar rahee hai too bhee vah apanee jid par ade hue hain to yah bhee samajh se pare hai aisee bahut saaree baaten hamaare samaaj mein desh mein aur hamaare aasapaas hotee rahanee hai jo hamaaree samajh se pare ho jaatee hain kyonki vah bahut jyaada hee apanee jid par ade rahate hain aur apanee hee baat manavaane kee koshish karate rahate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:16
सवाल पूछा गया है कि ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से बिल्कुल पड़े हैं बहुत ही अच्छा प्रश्न है और सवाल करता को बता दें कि इसके जो जवाब होते हैं वह बहुत अनगिनत हो सकते हैं बहुत ही अनगिनत हो सकते हैं किसी भी क्षेत्र में अगर पूर्ण रूप से उसकी सोच लिया उसकी समझ मिल जाए तो वह भी एक तरीके से हमारी समझ से परे हो सकता है परंतु इसके जो जवाब है मैं आपको दो रूप में अच्छे से ढंग से दे दूंगा तो उम्मीद करता हूं उन दो जवाब के साथ आपको संतुष्टि मिल जाएगी जो पहला रहेगा जवाब दो यह है कि अगर इंसान नॉर्मल आम जिंदगी में किसी एक इंसान को किसी दूसरे इंसान को समझ ले पूर्ण रूप से तो यह उसकी समझ कर बिल्कुल पर है क्योंकि इंसान की जो सोच है वह हमेशा बदलता रहता है वक्त हमेशा बदलता है तो इंसान की सोच भी उसी तरीके से बदलती रहती है तो अगर वह सोचता है कि मैं अपने पत्नी को वह अपने पति को या अपने बच्चों को समझ गया हूं तो यह चीज बिल्कुल ही नहीं हो सकती तो इंसान को समझ पाना इंसान की समझ से परे है तो पहला जवाब तो यह है और जो दूसरा जवाब है वह बिल्कुल ही साइंटिफिक है कि हमारी जो गैलेक्सी है जो हमारे प्लैनेट्स है उनके अंदर उनका सब कुछ रंग रूप जानना उनके बारे में पूर्ण रूप से जान लेना यह इंसान की समझ से बिल्कुल पर है क्योंकि यह हमारी पहुंच से बिल्कुल ही बाहर है आपने देखा होगा कि साइंस में भी शायद से मंगल है चांद पर जा पाए हैं परंतु बाकी जो बाकी जो 1110 11 प्लैनेट्स है तो वह उनके उनकी समझ तो उनके पास बिल्कुल भी नहीं होगी और यह वह भी सिर्फ एक ही मिल्की वे जो गैलेक्सी है उसके अंदर ही से आते हैं 11 मिनट बाकी जो है गैलेक्सी सन यह हजारों करोड़ों गैलेक्सी से उनके बारे में जान पाना इंसान की समझ से बिल्कुल ही पर है तो उम्मीद करता हूं दोनों सवाल के जो जवाब है उससे आपको संतुष्टि मिल गई होगी अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aisa kya hai jo insaan kee samajh se bilkul pade hain bahut hee achchha prashn hai aur savaal karata ko bata den ki isake jo javaab hote hain vah bahut anaginat ho sakate hain bahut hee anaginat ho sakate hain kisee bhee kshetr mein agar poorn roop se usakee soch liya usakee samajh mil jae to vah bhee ek tareeke se hamaaree samajh se pare ho sakata hai parantu isake jo javaab hai main aapako do roop mein achchhe se dhang se de doonga to ummeed karata hoon un do javaab ke saath aapako santushti mil jaegee jo pahala rahega javaab do yah hai ki agar insaan normal aam jindagee mein kisee ek insaan ko kisee doosare insaan ko samajh le poorn roop se to yah usakee samajh kar bilkul par hai kyonki insaan kee jo soch hai vah hamesha badalata rahata hai vakt hamesha badalata hai to insaan kee soch bhee usee tareeke se badalatee rahatee hai to agar vah sochata hai ki main apane patnee ko vah apane pati ko ya apane bachchon ko samajh gaya hoon to yah cheej bilkul hee nahin ho sakatee to insaan ko samajh paana insaan kee samajh se pare hai to pahala javaab to yah hai aur jo doosara javaab hai vah bilkul hee saintiphik hai ki hamaaree jo gaileksee hai jo hamaare plainets hai unake andar unaka sab kuchh rang roop jaanana unake baare mein poorn roop se jaan lena yah insaan kee samajh se bilkul par hai kyonki yah hamaaree pahunch se bilkul hee baahar hai aapane dekha hoga ki sains mein bhee shaayad se mangal hai chaand par ja pae hain parantu baakee jo baakee jo 1110 11 plainets hai to vah unake unakee samajh to unake paas bilkul bhee nahin hogee aur yah vah bhee sirph ek hee milkee ve jo gaileksee hai usake andar hee se aate hain 11 minat baakee jo hai gaileksee san yah hajaaron karodon gaileksee se unake baare mein jaan paana insaan kee samajh se bilkul hee par hai to ummeed karata hoon donon savaal ke jo javaab hai usase aapako santushti mil gaee hogee agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

bolkar speaker
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:59
कारक का सवाल ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है मुझे लगता है कि एक इंसान दूसरे इंसान को कभी भी पूर्ण रूप से नहीं समझ सकता है तो यही लगता है कि इंसान की समझ से परे है नहीं जाता है लोग कहते हैं कि 4 लोगों से बचकर रहना लोगों के बीच में अच्छी तरह नाते चालू है कौन सा भी तो है जितने भी इस दुनिया में जो कुछ भी होता है इंसान के कारण होता है यदि वह चोरी होती है अगर कहीं पर कुछ ऐसी घटना होती है तो सब इंसान के कारण ही मिलते मिलते शांति पूर्ण रुप से कभी भी नहीं समझ सकता है आ नहीं सकता है क्या कभी नहीं समझ सकते हैं मुझे लगता है कि यही एक ऐसी चीज है जो इंसान की समझ से परे है उम्मीद करते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग खुश रहिए दूसरों को भी खुश रखें धन्यवाद
Kaarak ka savaal aisa kya hai jo insaan kee samajh se pare hai mujhe lagata hai ki ek insaan doosare insaan ko kabhee bhee poorn roop se nahin samajh sakata hai to yahee lagata hai ki insaan kee samajh se pare hai nahin jaata hai log kahate hain ki 4 logon se bachakar rahana logon ke beech mein achchhee tarah naate chaaloo hai kaun sa bhee to hai jitane bhee is duniya mein jo kuchh bhee hota hai insaan ke kaaran hota hai yadi vah choree hotee hai agar kaheen par kuchh aisee ghatana hotee hai to sab insaan ke kaaran hee milate milate shaanti poorn rup se kabhee bhee nahin samajh sakata hai aa nahin sakata hai kya kabhee nahin samajh sakate hain mujhe lagata hai ki yahee ek aisee cheej hai jo insaan kee samajh se pare hai ummeed karate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log khush rahie doosaron ko bhee khush rakhen dhanyavaad

bolkar speaker
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
1:03
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है तो वह है दोस्तों ईश्वर अल्लाह उसकी माया उसकी दुनिया और उसके बनाए हुए इंसान और सभी जीव जंतु इन में ऐसा क्या है जो इनको सजीव और निर्जीव करता है इंसान में काफी उपलब्धियां हासिल की चंद्रमा पर पहुंचा कई ग्रह देखें हर चीज को खोजता और समझता है किसी व्यक्ति के दिमाग में क्या चल रहा है वह क्या सोच रहा है क्या करना चाहता है या इंसान की समझ से परे है कहां से आती है व्यक्ति मरने के बाद क्या होता है अपने हिसाब से कुछ ना कुछ बताता और समझाता है लेकिन सही मायने में देखा जाए तो बहुत सी ऐसी चीजें हैं जो समझ से पड़े हैं कुल मिलाकर कहने का मतलब यह है समझ समझ के समझ को समझो समझ समझना भी एक समझ है समझ समझ के जो ना समझे मैं समझ में वह नासमझ है धन्यवाद
Aisa kya hai jo insaan kee samajh se pare hai to vah hai doston eeshvar allaah usakee maaya usakee duniya aur usake banae hue insaan aur sabhee jeev jantu in mein aisa kya hai jo inako sajeev aur nirjeev karata hai insaan mein kaaphee upalabdhiyaan haasil kee chandrama par pahuncha kaee grah dekhen har cheej ko khojata aur samajhata hai kisee vyakti ke dimaag mein kya chal raha hai vah kya soch raha hai kya karana chaahata hai ya insaan kee samajh se pare hai kahaan se aatee hai vyakti marane ke baad kya hota hai apane hisaab se kuchh na kuchh bataata aur samajhaata hai lekin sahee maayane mein dekha jae to bahut see aisee cheejen hain jo samajh se pade hain kul milaakar kahane ka matalab yah hai samajh samajh ke samajh ko samajho samajh samajhana bhee ek samajh hai samajh samajh ke jo na samajhe main samajh mein vah naasamajh hai dhanyavaad

bolkar speaker
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
2:34
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में आपका स्वागत है कि आज का सवाल है कि ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है तुम मेरा मानना तो यह है जिससे मनुष्य खुद ही था उसकी विचारधारा उसके बाद उसका बोलचाल यही है तथा जैसे कि जैसे कि उदाहरण कोई लड़ाई करता है कोई भी दो भाइयों की लड़ाई होती है तो छोटी बातों से तो जिसे बीच में उनकी बीवी या कोई लुगाईया पड़ोसी आ जाए तो बाबा धीरे धीरे बढ़कर बड़ी हो जाती है जिससे कि दोनों में बहुत तेज झगड़ा हो जाता है तो इसका जिम्मेदार हम स्वयं हैं क्योंकि दीपांशी चाहता तो इस मामले को शांत भी कर सकता था और हम भाई भी साथ कर सकते थे और भाई की जो पत्नी और वह भी शांत कर सकती थी लेकिन कोई लोग ऐसे होते हैं यह सोचते हो रही है तो अलग हो जाएंगे इसलिए लोग कुछ अलग अलग में बातें बनाकर लोगों को कई बेवकूफ बना देते हैं कई लड़ाई भी कर लेते हैं और कई किसी बातों में उलझा भी देते हैं उसके जिम्मेदार हम स्वयं हैं मतलब कोई भी व्यक्ति अपने आप से नहीं बिगड़ पाता है वह किसी की संगत में आकर ही बिगड़ता है जैसे कि एक से है उस जैसा बहुत सारे एक कटोरी में बहुत सारे शेर हैं जिनमें 16 खराब रख दिया तू सारे सेव खराब होंगे क्योंकि इसमें एक से खराब था बाकी सारे सहित है जिसकी वजह से एक के कारण सब सब को खराब होना पड़ा लिया मेरा मानना यह है कि सदा सोच को सही रखना चाहिए और किसी के किसी भी बातों में नहीं जाना चाहिए जो है वह सब सच बता देना चाहिए ताकि किसी का कोई उपचार हो सके या किसी का भला हो सके
Namaskaar doston bolakar aap mein aapaka svaagat hai ki aaj ka savaal hai ki aisa kya hai jo insaan kee samajh se pare hai tum mera maanana to yah hai jisase manushy khud hee tha usakee vichaaradhaara usake baad usaka bolachaal yahee hai tatha jaise ki jaise ki udaaharan koee ladaee karata hai koee bhee do bhaiyon kee ladaee hotee hai to chhotee baaton se to jise beech mein unakee beevee ya koee lugaeeya padosee aa jae to baaba dheere dheere badhakar badee ho jaatee hai jisase ki donon mein bahut tej jhagada ho jaata hai to isaka jimmedaar ham svayan hain kyonki deepaanshee chaahata to is maamale ko shaant bhee kar sakata tha aur ham bhaee bhee saath kar sakate the aur bhaee kee jo patnee aur vah bhee shaant kar sakatee thee lekin koee log aise hote hain yah sochate ho rahee hai to alag ho jaenge isalie log kuchh alag alag mein baaten banaakar logon ko kaee bevakooph bana dete hain kaee ladaee bhee kar lete hain aur kaee kisee baaton mein ulajha bhee dete hain usake jimmedaar ham svayan hain matalab koee bhee vyakti apane aap se nahin bigad paata hai vah kisee kee sangat mein aakar hee bigadata hai jaise ki ek se hai us jaisa bahut saare ek katoree mein bahut saare sher hain jinamen 16 kharaab rakh diya too saare sev kharaab honge kyonki isamen ek se kharaab tha baakee saare sahit hai jisakee vajah se ek ke kaaran sab sab ko kharaab hona pada liya mera maanana yah hai ki sada soch ko sahee rakhana chaahie aur kisee ke kisee bhee baaton mein nahin jaana chaahie jo hai vah sab sach bata dena chaahie taaki kisee ka koee upachaar ho sake ya kisee ka bhala ho sake

bolkar speaker
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:04
आत्मा और परमात्मा
Aatma aur paramaatma

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है क्या इंसान की समझ से परे है
  • ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है क्या इंसान की समझ से परे है
URL copied to clipboard