#undefined

bolkar speaker

घमंड से बचने का उपाय क्या है?

Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
2:09
नमस्ते मित्रों आपके सवाल का उत्तर यह है कि शुद्ध मानसिकता के व्यक्ति घमंड करते हैं क्योंकि वह विराट चेतना का एक अंश मात्र है इस बात से अनभिज्ञ रहते हैं जो हमारी पहचान हमारी माता पिता के लिए नाम अपने छोटे से कार्य को समझते हैं जैसे गुलाब के पौधे का अस्तित्व है बिना जड़ों के नहीं है अब जड़ों का अस्तित्व बिना मिट्टी के नहीं है पोते का वस्तु का अस्तित्व है जल मिट्टी हवा आकाश प्रकाश में है अब उनको अपनी विराट अस्तित्व में जोड़िए फिर समस्त मनुष्यों को स्वयं को देखिए उनमें भी जल मिट्टी हवा का और पर कासा मौजूद है वस्तुत कोई भी अलग नहीं है सब एक जैसे तत्व से बने हैं सबके अंदर जो आतम तत्व से भरा है जिससे वह जीवित है वह भी वस्तुत एक ही परमात्मा से प्राप्त है हम ब्रह्मा के अंदर है वह ब्रह्मा हमारे अंदर है घमंड हमारे देश के अंग्रेजों ने किया था जो हमारे देश को स्वतंत्रता सेनानियों ने अंग्रेजों का घमंड चकनाचूर कर दिया और भारत को स्वतंत्र करा लिया था घमंड रावण ने किया था जो उनका घमंड को दूर कर दिया था ग्रामीण से हमारा मानसिक संतुलन खराब हो जाता है दिन से विवेक में कमजोर हो जाता है इसलिए घमंड नहीं करना चाहिए घमंड हमारे देश की सरकार कर रही है जो किसानों के काले कानून थोप रही है उनका भी घमंड टूट जाएगा धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaste mitron aapake savaal ka uttar yah hai ki shuddh maanasikata ke vyakti ghamand karate hain kyonki vah viraat chetana ka ek ansh maatr hai is baat se anabhigy rahate hain jo hamaaree pahachaan hamaaree maata pita ke lie naam apane chhote se kaary ko samajhate hain jaise gulaab ke paudhe ka astitv hai bina jadon ke nahin hai ab jadon ka astitv bina mittee ke nahin hai pote ka vastu ka astitv hai jal mittee hava aakaash prakaash mein hai ab unako apanee viraat astitv mein jodie phir samast manushyon ko svayan ko dekhie unamen bhee jal mittee hava ka aur par kaasa maujood hai vastut koee bhee alag nahin hai sab ek jaise tatv se bane hain sabake andar jo aatam tatv se bhara hai jisase vah jeevit hai vah bhee vastut ek hee paramaatma se praapt hai ham brahma ke andar hai vah brahma hamaare andar hai ghamand hamaare desh ke angrejon ne kiya tha jo hamaare desh ko svatantrata senaaniyon ne angrejon ka ghamand chakanaachoor kar diya aur bhaarat ko svatantr kara liya tha ghamand raavan ne kiya tha jo unaka ghamand ko door kar diya tha graameen se hamaara maanasik santulan kharaab ho jaata hai din se vivek mein kamajor ho jaata hai isalie ghamand nahin karana chaahie ghamand hamaare desh kee sarakaar kar rahee hai jo kisaanon ke kaale kaanoon thop rahee hai unaka bhee ghamand toot jaega dhanyavaad doston khush raho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
4:01
नमस्कार दोस्तों आप का प्रेस तो है कमांड से बचने का क्या उपाय है दोस्तों घमंड से बचने के लिए हमें घमंड नहीं करना है जितना हो सके हमें लोगों की भलाई करनी है दूसरों को परोपकार करना है दोस्तों चित्रा भी आपके पास है धन दौलत है तो उसका घमंड नहीं करते हुए केवल अपनों के बीच में ला रहे करके और ऐसे लोगों के बीच में रहे या दौरे पर जाएं और आप देखें कि दूसरों की जिंदगी आंख कैसी है उनसे मिले उसे हाथ मिलाए और उनके दुख में दोस्तों शामिल हूं और बोले कुछ सहयोग राशि प्रदान करें या दान के रुप में आप जितना भी आपके पास है उसमें से थोड़ा बहुत आप दूसरों में दान करें और दूसरों के सुख दुख में शामिल हो तो दोस्तों आपको घमंड कभी भी नहीं आएगा क्योंकि दोस्तों चाणक्य ने कहा है कि दूसरों से सीख लेकर आपको अपनी सीख बदल लेनी चाहिए आशिक ले लेनी चाहिए और उन्होंने यह भी कहा है कि यदि आप छोटी सी उम्र में या अपने जीवन में जल्दी ही सफलता हासिल करना चाहती है तो दूसरों की ठोकर से आपको सीखना चाहिए अपनी आप अपने आप पर ही थे ठोकर लग लग कैसी कहोगे तो आप बूढ़े हो जाओगे तब तक तो दोस्तों दूसरे लोगों को देखकर उसके अंदर समय बिताकर और अपनी जगह बर्ड की प्रवृत्ति है वह कम या बहुत ही कम या समाप्त कर सकते हैं क्योंकि दोस्तों जब हम दुनियादारी में रहते हैं तो हमें पक पक की खबर रहती है चप्पे-चप्पे की खबर रहती है कि कैसे करने से दूसरों में मान सम्मान प्राप्त होगा कैसे करने से हमें अच्छी छवि की प्राप्ति होगी और किस-किस का है कौन से कौन से कार्य करने से क्या अच्छा स्वभाव अपनाने से क्या व्यवहार करने से हम लोगों के दिलों को जीत सकते हैं और उनके दिल में घर बना सकते हैं और अपनी छवि को ऊंचा कर सकते हैं तो दोस्तों इस प्रकार से आप अपने घमंड को जरा भी आने से भूल सकते हैं और उसे बिल्कुल आप नष्ट कर सकते हैं अपने घमंड को दोस्तों जब हम आप अपनों में रहते हैं और बड़े बड़ों के साथ समिति बना लेते हैं तो धीरे-धीरे धीरे-धीरे पैसों की तो जरूरत पड़ती ही है इधर उधर आने जाने के लिए बड़े लोगों को पढ़ने के लिए वह सभी चीजें चाहिए जो आपके पास बड़ी मेहनत से बनाई गई होती है जैसे कि पैसा गाड़ी मोटर अच्छा अच्छा रहने का स्थान उसके बैठने का स्थान तो दोस्तों फिर 29 और 17 खड़ी शुरू कर देते हैं लोग तो इस प्रकार से उसे पैसे की ज्यादा खर्च होते हैं तो इस प्रकार से फिर उनके करते भी बुरे हो जाते हैं कोई भी जल्दी जल्दी से रुपए कमाने के लिए और जल्दी से इंसाफ बनने के लिए कुछ ना कुछ तो ऐसा करना पड़ता है जिससे कि लोग स्वीकार थाना समाजसेवी करता नहीं है या फिर जिसे घमंड कहा जा सकता है या फिर लालच कहा जा सकता है तो ऐसे कृत्य से बचें जी समिति में हम रहते हैं तो उसी की हमें समझ आने लगती है यानी कि जो ऐसे लोगों में रहेंगे जो घमंड करते हैं या उन सब का दिखावा करते हैं ऐसे लोगों के पास में रहने से हमारे में बुद्धि भी वैसे ही आ जाती है दोस्तों एक बात तो ध्यान रखने की हमेशा जरूरत होती है कि जो नकारात्मक उर्जा होती है या नकारात्मक सोच होती है वह व्यक्ति में सबसे पहले आती है और जो सकारात्मक सोच होती है पॉजिटिव थिंकिंग थोड़ी सी देरी से समझ में आती है लेकिन दोस्तों देरी से ही सही है ऐसे ही सोच रखें जो कि समाज के लिए अच्छी हो तो उनसे भी खबर से बचा जा सकता है ऐसी सोच वाले व्यक्तियों के बीच में रहने से अवैध शराब भी नहीं उत्पन्न हो जाता है तो दोस्तों आम जनता होती है कमाने लोग होते हैं उनमें ज्यादा समय बिताएं अच्छी सोच पैदा होगी और जो भी उतार-चढ़ाव जिंदगी कहते हैं उनको सीखने में मदद मिलेगी और आप का भी नाम रोशन होगा वह घमंड तो जरा भी नहीं होगा धन्यवाद
Namaskaar doston aap ka pres to hai kamaand se bachane ka kya upaay hai doston ghamand se bachane ke lie hamen ghamand nahin karana hai jitana ho sake hamen logon kee bhalaee karanee hai doosaron ko paropakaar karana hai doston chitra bhee aapake paas hai dhan daulat hai to usaka ghamand nahin karate hue keval apanon ke beech mein la rahe karake aur aise logon ke beech mein rahe ya daure par jaen aur aap dekhen ki doosaron kee jindagee aankh kaisee hai unase mile use haath milae aur unake dukh mein doston shaamil hoon aur bole kuchh sahayog raashi pradaan karen ya daan ke rup mein aap jitana bhee aapake paas hai usamen se thoda bahut aap doosaron mein daan karen aur doosaron ke sukh dukh mein shaamil ho to doston aapako ghamand kabhee bhee nahin aaega kyonki doston chaanaky ne kaha hai ki doosaron se seekh lekar aapako apanee seekh badal lenee chaahie aashik le lenee chaahie aur unhonne yah bhee kaha hai ki yadi aap chhotee see umr mein ya apane jeevan mein jaldee hee saphalata haasil karana chaahatee hai to doosaron kee thokar se aapako seekhana chaahie apanee aap apane aap par hee the thokar lag lag kaisee kahoge to aap boodhe ho jaoge tab tak to doston doosare logon ko dekhakar usake andar samay bitaakar aur apanee jagah bard kee pravrtti hai vah kam ya bahut hee kam ya samaapt kar sakate hain kyonki doston jab ham duniyaadaaree mein rahate hain to hamen pak pak kee khabar rahatee hai chappe-chappe kee khabar rahatee hai ki kaise karane se doosaron mein maan sammaan praapt hoga kaise karane se hamen achchhee chhavi kee praapti hogee aur kis-kis ka hai kaun se kaun se kaary karane se kya achchha svabhaav apanaane se kya vyavahaar karane se ham logon ke dilon ko jeet sakate hain aur unake dil mein ghar bana sakate hain aur apanee chhavi ko ooncha kar sakate hain to doston is prakaar se aap apane ghamand ko jara bhee aane se bhool sakate hain aur use bilkul aap nasht kar sakate hain apane ghamand ko doston jab ham aap apanon mein rahate hain aur bade badon ke saath samiti bana lete hain to dheere-dheere dheere-dheere paison kee to jaroorat padatee hee hai idhar udhar aane jaane ke lie bade logon ko padhane ke lie vah sabhee cheejen chaahie jo aapake paas badee mehanat se banaee gaee hotee hai jaise ki paisa gaadee motar achchha achchha rahane ka sthaan usake baithane ka sthaan to doston phir 29 aur 17 khadee shuroo kar dete hain log to is prakaar se use paise kee jyaada kharch hote hain to is prakaar se phir unake karate bhee bure ho jaate hain koee bhee jaldee jaldee se rupe kamaane ke lie aur jaldee se insaaph banane ke lie kuchh na kuchh to aisa karana padata hai jisase ki log sveekaar thaana samaajasevee karata nahin hai ya phir jise ghamand kaha ja sakata hai ya phir laalach kaha ja sakata hai to aise krty se bachen jee samiti mein ham rahate hain to usee kee hamen samajh aane lagatee hai yaanee ki jo aise logon mein rahenge jo ghamand karate hain ya un sab ka dikhaava karate hain aise logon ke paas mein rahane se hamaare mein buddhi bhee vaise hee aa jaatee hai doston ek baat to dhyaan rakhane kee hamesha jaroorat hotee hai ki jo nakaaraatmak urja hotee hai ya nakaaraatmak soch hotee hai vah vyakti mein sabase pahale aatee hai aur jo sakaaraatmak soch hotee hai pojitiv thinking thodee see deree se samajh mein aatee hai lekin doston deree se hee sahee hai aise hee soch rakhen jo ki samaaj ke lie achchhee ho to unase bhee khabar se bacha ja sakata hai aisee soch vaale vyaktiyon ke beech mein rahane se avaidh sharaab bhee nahin utpann ho jaata hai to doston aam janata hotee hai kamaane log hote hain unamen jyaada samay bitaen achchhee soch paida hogee aur jo bhee utaar-chadhaav jindagee kahate hain unako seekhane mein madad milegee aur aap ka bhee naam roshan hoga vah ghamand to jara bhee nahin hoga dhanyavaad

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
1:10
घमंड से बचने का उपाय क्या है देखिए घमंड या अभिमान मनुष्य को हमेशा हां नहीं पहुंचाता है इस दुनिया में आने वाली हर चीज एक न एक दिन चली जाएगी घमंड की वजह से आदमी अपने आप को खो देता है और जीवन भर अकेला रह जाता है क्योंकि अभिमानी व्यक्ति से कोई भी बात करना पसंद नहीं करता किसी भी परिस्थिति में मनुष्य को अभिमान या घमंड नहीं करना चाहिए अहंकार से छुटकारा पाने की पहली और अंतिम सीढ़ी है मृत्यु बोध हम जिस सुंदर शरीर सांसारिक उपलब्धि और पद प्रतिष्ठा पर गुमान करते हैं वह सभी क्षणभंगुर ही है इस दुनिया से हर किसी की विदाई होनी है जो भी आया है इस दुनिया में वह एक न एक दिन चला जाएगा यह यह शरीर नश्वर है इसे नष्ट होना ही है यह कड़वा सच है इसलिए किस बात का हम घमंड करें धन्यवाद
Ghamand se bachane ka upaay kya hai dekhie ghamand ya abhimaan manushy ko hamesha haan nahin pahunchaata hai is duniya mein aane vaalee har cheej ek na ek din chalee jaegee ghamand kee vajah se aadamee apane aap ko kho deta hai aur jeevan bhar akela rah jaata hai kyonki abhimaanee vyakti se koee bhee baat karana pasand nahin karata kisee bhee paristhiti mein manushy ko abhimaan ya ghamand nahin karana chaahie ahankaar se chhutakaara paane kee pahalee aur antim seedhee hai mrtyu bodh ham jis sundar shareer saansaarik upalabdhi aur pad pratishtha par gumaan karate hain vah sabhee kshanabhangur hee hai is duniya se har kisee kee vidaee honee hai jo bhee aaya hai is duniya mein vah ek na ek din chala jaega yah yah shareer nashvar hai ise nasht hona hee hai yah kadava sach hai isalie kis baat ka ham ghamand karen dhanyavaad

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
2:06
प्रेस वालों की घमंड से बचने का क्या उपाय है तो कभी कभी घमंड घमंड मत बनो जीवन हमेशा तकदीर बदलती रहती है शीशा की दीवार वही रहता है क्या वह तस्वीर बदलती रहती है तुम कभी अपनी तो कभी अपनी उम्र और पैसे के बारे में डिग्गी नहीं मानना क्योंकि इन चीजों का तुम घमंड करते हो तो कभी अस्थाई नहीं होती लेकिन खत्म हो जाती है घमंड शराब की तरह होती है अपने आप को छोड़कर वह किसी को महसूस करा देती हैं कि इस कीचड़ गई है उसका आना सब खुद को सुबह देती है जन्म किसी और ने दिया और नाम किसी और ने दिया शिक्षा किसी और ने दी रिश्ता भी किसी और का काम करना किसी और ने सिखाया अंत में कब्रिस्तान में भी कोई दूसरे लोग ले जाएंगे तुम्हारे संसार में क्या है और तुम किस बात का घमंड करते हैं इस दुनिया में 2 दिनों से देखने की चीज जो छोटी लड़की एक दूसरे से गुरूर आपको जो मिला है इस पर गर्व नहीं करें जो लोग ऐसा और घमंड करते हैं उन्हें कभी भी मानसिक शांति नहीं मिलती है अभी मान्या घमंड है मशहूर नहीं होने देता कि आप को गलत है मैं जीवन में कभी भी किसी हुनर का घमंड ना करें क्योंकि जब पत्थर पानी में गिरते हैं तो अपने वतन से डूब जाता है इनका और बंद के कारण मनुष्य अपने मिशन को बिगाड़ लेते हैं हाथ ठंड में काम नहीं करता तो इस तरह के घमंड में काम में दिमाग काम नहीं करता है कभी भी अपने स्वार्थ इस तरह प्रकरण नहीं करना यार कभी जेत्ताओं कि उसका जो कर लेते हैं ऐसे बहुत से कारण इसमें बताया गया है कि मर्द नहीं करना चाहिए
Pres vaalon kee ghamand se bachane ka kya upaay hai to kabhee kabhee ghamand ghamand mat bano jeevan hamesha takadeer badalatee rahatee hai sheesha kee deevaar vahee rahata hai kya vah tasveer badalatee rahatee hai tum kabhee apanee to kabhee apanee umr aur paise ke baare mein diggee nahin maanana kyonki in cheejon ka tum ghamand karate ho to kabhee asthaee nahin hotee lekin khatm ho jaatee hai ghamand sharaab kee tarah hotee hai apane aap ko chhodakar vah kisee ko mahasoos kara detee hain ki is keechad gaee hai usaka aana sab khud ko subah detee hai janm kisee aur ne diya aur naam kisee aur ne diya shiksha kisee aur ne dee rishta bhee kisee aur ka kaam karana kisee aur ne sikhaaya ant mein kabristaan mein bhee koee doosare log le jaenge tumhaare sansaar mein kya hai aur tum kis baat ka ghamand karate hain is duniya mein 2 dinon se dekhane kee cheej jo chhotee ladakee ek doosare se guroor aapako jo mila hai is par garv nahin karen jo log aisa aur ghamand karate hain unhen kabhee bhee maanasik shaanti nahin milatee hai abhee maanya ghamand hai mashahoor nahin hone deta ki aap ko galat hai main jeevan mein kabhee bhee kisee hunar ka ghamand na karen kyonki jab patthar paanee mein girate hain to apane vatan se doob jaata hai inaka aur band ke kaaran manushy apane mishan ko bigaad lete hain haath thand mein kaam nahin karata to is tarah ke ghamand mein kaam mein dimaag kaam nahin karata hai kabhee bhee apane svaarth is tarah prakaran nahin karana yaar kabhee jettaon ki usaka jo kar lete hain aise bahut se kaaran isamen bataaya gaya hai ki mard nahin karana chaahie

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:55
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आपका प्रश्न घमंड से बचने का उपाय क्या है फ्रेंड से हर इंसान को अपने जीवन में घमंड नहीं करना चाहिए कमेंट से कुछ नहीं कहीं उपाय है कि हमें यह सोचना चाहिए कि हमने जन्म के समय यहां क्या लेकर आए हैं और जब हमारी मृत्यु होगी तुम क्या लेकर जाए किस चीज का घमंड है घमंड नहीं करना चाहिए जो भी हमने कमाया है उसको आराम से खाती लोग सब से सुख शांति से रहना चाहिए और सब से प्यार से बात करना चाहिए एंड नहीं दिखाना चाहिए क्योंकि घमंड दिखाता है का सर्वनाश हो जाता है घमंडी व्यक्ति किसी से बात करने के लायक नहीं होता है तो घमंड से बचने के लिए आपको यह करना चाहिए कि आपको यह सोचना चाहिए कि हम संसार में अगर किसी को कमेंट करना है तो हम नहीं करना है मैं घमंड क्योंकि यह शरीर भगवान का दिया हुआ है और जब भगवान ने शरीर दिया है तो 1 दिन में मृत्यु भी होती है यह शरीर भी मिट्टी में मिल जा टाइम का कोई घमंड नहीं करना चाहिए और धन दौलत भी कभी-कभी किसी को अचानक भी मिल जाती है और बड़े से बड़े लोग रंग बन जाते हैं और रंग राजा बन जाते हैं तो धन कभी घमंड नहीं करना चाहिए लक्ष्मी इधर से उधर आती जाती रहती है तो तुम कभी घमंड नहीं करना चाहिए हमें और हमारे पास कोई अगर योग्यता है कोई चीज का हुनर है उसका भी घमंड नहीं करना चाहिए क्योंकि हमें प्रकृति नहीं आती सिखाया है तो हमें घमंड नहीं करना चाहिए हमें प्रकृति से सीख लेना चाहिए टेस्ट क्रिकेट में कभी भी घमंड नहीं करती है जो पेड़ पौधे होते हैं वह जो फल फूल देते हैं कभी घमंड नहीं करती हो ऐसा नहीं कहते कि हमें मत तोड़ो और जो नदियां होती है बारिश से जल गिरता है और पानी भी कभी घमंड नहीं करता है मैं नहीं बोलता कि हमें मत दीजिए आप तुझे प्रकृति घमंड नहीं करती है तो इंसानों को भी घमंड नहीं करना चाहिए धन्यवाद
Helo doston svaagat hai aapaka aapaka prashn ghamand se bachane ka upaay kya hai phrend se har insaan ko apane jeevan mein ghamand nahin karana chaahie kament se kuchh nahin kaheen upaay hai ki hamen yah sochana chaahie ki hamane janm ke samay yahaan kya lekar aae hain aur jab hamaaree mrtyu hogee tum kya lekar jae kis cheej ka ghamand hai ghamand nahin karana chaahie jo bhee hamane kamaaya hai usako aaraam se khaatee log sab se sukh shaanti se rahana chaahie aur sab se pyaar se baat karana chaahie end nahin dikhaana chaahie kyonki ghamand dikhaata hai ka sarvanaash ho jaata hai ghamandee vyakti kisee se baat karane ke laayak nahin hota hai to ghamand se bachane ke lie aapako yah karana chaahie ki aapako yah sochana chaahie ki ham sansaar mein agar kisee ko kament karana hai to ham nahin karana hai main ghamand kyonki yah shareer bhagavaan ka diya hua hai aur jab bhagavaan ne shareer diya hai to 1 din mein mrtyu bhee hotee hai yah shareer bhee mittee mein mil ja taim ka koee ghamand nahin karana chaahie aur dhan daulat bhee kabhee-kabhee kisee ko achaanak bhee mil jaatee hai aur bade se bade log rang ban jaate hain aur rang raaja ban jaate hain to dhan kabhee ghamand nahin karana chaahie lakshmee idhar se udhar aatee jaatee rahatee hai to tum kabhee ghamand nahin karana chaahie hamen aur hamaare paas koee agar yogyata hai koee cheej ka hunar hai usaka bhee ghamand nahin karana chaahie kyonki hamen prakrti nahin aatee sikhaaya hai to hamen ghamand nahin karana chaahie hamen prakrti se seekh lena chaahie test kriket mein kabhee bhee ghamand nahin karatee hai jo ped paudhe hote hain vah jo phal phool dete hain kabhee ghamand nahin karatee ho aisa nahin kahate ki hamen mat todo aur jo nadiyaan hotee hai baarish se jal girata hai aur paanee bhee kabhee ghamand nahin karata hai main nahin bolata ki hamen mat deejie aap tujhe prakrti ghamand nahin karatee hai to insaanon ko bhee ghamand nahin karana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:39
सवाल है कि घमंड से बचने के क्या उपाय अगर आप घमंडी अहंकार से निजात छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप एक छोटा सा प्रयोग कर सकते गुलाब के पौधे में खिले गुलाब को देखिए अब गुलाब का स्वतंत्र अस्तित्व तो है नहीं मैं डालियों से जुड़ा हुआ है तो सूक्ष्मा मानसिक चेतना द्वारा गुलाब के भीतर ध्यान सतहो प्रवेश कीजिए गुलाब के फूल से उसकी डालियों में प्रवेश फिर उसकी जड़ों तक पहुंची यह और गुलाब के पौधे का अस्तित्व बिना जड़ों के नहीं है अब चरणों का अस्तित्व बिना मिट्टी के नहीं है पौधों का वस्तुतः अस्तित्व जल मिट्टी हवा अकाशत प्रकाश से बना है अपने चेतना को अपने विराट अस्तित्व से जोड़िए फिर समस्त मनुष्य और स्वयं को देखें और में भी जल मिट्टी हवा आकाश पत्रकारिता मौजूद है वस्तुत है कोई अलग नहीं है सब एक जैसे तत्वों से बने हैं सबके अंदर जो आत्मा तत्व भरा है उसी से वे जीवित है वह भी वस्तुत एक ही परमात्मा से प्राप्त है हम ब्रह्म के अंदर है मैं ब्रह्मा हमारे अन्य अपनी चेतना को विराट से मिट्टी फिर गुलाब की जानवर टहनियों से होते हुए गुलाब तक ले आइए अब आपको पता लगेगा कि आप और गुलाब वस्तुतः एक ही चेतना से जुड़े हैं आप और हर मनुष्य एक ही महोदय देना तुझसे जुड़ा है आपका अस्तित्व एक महा अस्तित्व का अंग है विश्व विश्वास मानिए यह प्रयोग 40 दिन करके देखें फिर आप किसी से नफरत नहीं कर पाएंगे प्रकृति के कण-कण से जुड़ाव महसूस करेंगे सब से प्रेम करेंगे घमंड की भावना से नहीं रहेगी
Savaal hai ki ghamand se bachane ke kya upaay agar aap ghamandee ahankaar se nijaat chhutakaara paana chaahate hain to aap ek chhota sa prayog kar sakate gulaab ke paudhe mein khile gulaab ko dekhie ab gulaab ka svatantr astitv to hai nahin main daaliyon se juda hua hai to sookshma maanasik chetana dvaara gulaab ke bheetar dhyaan sataho pravesh keejie gulaab ke phool se usakee daaliyon mein pravesh phir usakee jadon tak pahunchee yah aur gulaab ke paudhe ka astitv bina jadon ke nahin hai ab charanon ka astitv bina mittee ke nahin hai paudhon ka vastutah astitv jal mittee hava akaashat prakaash se bana hai apane chetana ko apane viraat astitv se jodie phir samast manushy aur svayan ko dekhen aur mein bhee jal mittee hava aakaash patrakaarita maujood hai vastut hai koee alag nahin hai sab ek jaise tatvon se bane hain sabake andar jo aatma tatv bhara hai usee se ve jeevit hai vah bhee vastut ek hee paramaatma se praapt hai ham brahm ke andar hai main brahma hamaare any apanee chetana ko viraat se mittee phir gulaab kee jaanavar tahaniyon se hote hue gulaab tak le aaie ab aapako pata lagega ki aap aur gulaab vastutah ek hee chetana se jude hain aap aur har manushy ek hee mahoday dena tujhase juda hai aapaka astitv ek maha astitv ka ang hai vishv vishvaas maanie yah prayog 40 din karake dekhen phir aap kisee se napharat nahin kar paenge prakrti ke kan-kan se judaav mahasoos karenge sab se prem karenge ghamand kee bhaavana se nahin rahegee

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Ankit Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Student
1:34
हेलो एवरीबॉडी क्वेश्चन है कि घमंड से बचने का उपाय क्या है क्वेश्चन है अगर मान लो अगर मालिक कोई क्लास 10th का लड़का है वह अपने क्लास में सबसे टॉपर है उसे इस बात का घमंड हो गया है कि वह प्रॉपर है लड़का उसे इस बात का घमंड घमंड से कैसे बच सकता मान लिया करो यह दिमाग में बैठा लिया कि मैं क्लास का टॉपर हूं उसे इस बात का घमंड है उसे उस समय यह सोचना चाहिए कि वह शिफ्ट क्लास का टॉपर है क्या वह पूरे क्वेश्चन जहां सिटी में रहता है उस पूरा सिटी का टॉपर है अगर सिटी का टॉपर है तू पूरे स्टेट का टॉपर है क्या उसे यह दिमाग में अगर आप अपने हर लेवल को हाय करते जाएंगे अपनी चैलेंज को बढ़ा करते जाएंगे तो आपका मन होगा ही नहीं जैसे आप अगर क्लास टॉपर हैं अगर आपके दिमाग में फ्री है आएगा कि नहीं मैं क्लास सीटों पर हूं स्टेट कंपनी अगर स्टेट टॉपर होती इंडिया टॉपर नहीं दूंगा अगर आपके दिमाग में आएगा बातें आप घमंड कर ही नहीं सकते लेकिन आपके दिमाग में उपलब्ध है इसलिए आपको घमंड हो जाता है जब आपको वास्तविकता से ज्ञान नहीं होती है तो घमंड का आना अनिवार्य है इसलिए आपको घमंड हो जाता है इससे बचने का एक ही उपाय है कि आप वास्तविकता जो आपके रियल चलेंगे बाहर आइए आप से कहीं तक सीमित ना रहे थैंक यू
Helo evareebodee kveshchan hai ki ghamand se bachane ka upaay kya hai kveshchan hai agar maan lo agar maalik koee klaas 10th ka ladaka hai vah apane klaas mein sabase topar hai use is baat ka ghamand ho gaya hai ki vah propar hai ladaka use is baat ka ghamand ghamand se kaise bach sakata maan liya karo yah dimaag mein baitha liya ki main klaas ka topar hoon use is baat ka ghamand hai use us samay yah sochana chaahie ki vah shipht klaas ka topar hai kya vah poore kveshchan jahaan sitee mein rahata hai us poora sitee ka topar hai agar sitee ka topar hai too poore stet ka topar hai kya use yah dimaag mein agar aap apane har leval ko haay karate jaenge apanee chailenj ko badha karate jaenge to aapaka man hoga hee nahin jaise aap agar klaas topar hain agar aapake dimaag mein phree hai aaega ki nahin main klaas seeton par hoon stet kampanee agar stet topar hotee indiya topar nahin doonga agar aapake dimaag mein aaega baaten aap ghamand kar hee nahin sakate lekin aapake dimaag mein upalabdh hai isalie aapako ghamand ho jaata hai jab aapako vaastavikata se gyaan nahin hotee hai to ghamand ka aana anivaary hai isalie aapako ghamand ho jaata hai isase bachane ka ek hee upaay hai ki aap vaastavikata jo aapake riyal chalenge baahar aaie aap se kaheen tak seemit na rahe thaink yoo

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Ekta Sahni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ekta जी का जवाब
Unknown
2:19
नमस्कार आपका प्रश्न है ब्राह्मण से बचने का उपाय क्या है आई रिपीट आपका प्रश्न है कमेंट यानी प्राउड से बचने का उपाय क्या है तो सबसे बढ़िया तो एक ही उपाय है अगर आप इस बात को हमेशा अपने दिमाग में रखें कि सब कुछ नश्वर है सिर्फ आपकी कदमों को छोड़ता है तो आपके अंदर घमंड कभी नहीं बन पाएगा ज्यादा घमंड धन दोलत का होता है खुद धन दौलत आपकी नहीं आपके साथ लेके नहीं जा सकते या दूसरा घमंड होता है आपके सदा रहेगा लोगों को जो चैनल ही देखा जाता है जो बहुत सुंदर होती है फिर भी होती है उसको होता है तो रुक भी समाप्त हो जाता है समय के साथ-साथ उसका भी घमंड नहीं कर सकते बेसिकली उसने भी अंत में राख हो जाना है जाते हैं आपकी तरफ आपकी गंदे कर्म और आपके अच्छे तरह यही कहो तो नहीं इस बात को अगर आप हमेशा में दिमाग दे रहे हैं कि कि धन दौलत कुछ नहीं है सभी छोड़कर जाना है रूपसुंदरी भी कुछ नहीं है यह भी यहीं रह जाना है जब मैं इनमें से कुछ साथ ले जा ही नहीं सकता तुम्हें क्या ले जा सकता हूं आप सिर्फ वह करें आप अपनी कर्म ले जा सकते हैं आपकी कदमों के ऊपर ही आपका हिसाब किताब होगा लेखा-जोखा होगा वह हर समय देखना है व्हाट्सएप में आपको देखा इसने आज क्या केस में आज क्या किया तो कोशिश करें पुण्य कर्म कमाए मेडिटेशन करें गरीबों की मदद करें और हमेशा कहते हैं नानी वाह ओके चल बंदेया मीयान्नूर अब मिलता हमेशा झुकता चलें और भी कहावत है कि हमेशा सूखा वृक्ष खड़ा रहता है फलदार वृक्ष तो हमेशा ही झुका रहता है तो आप फलदार वृक्ष की तरह रहे फल भी हो जिसके ऊपर रो झुका हुआ भी हो तो हमें शनिवार को करेंगे ही सोच अपनाएंगे तो आपके अंदर कभी भी घमंड नहीं आएगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai braahman se bachane ka upaay kya hai aaee ripeet aapaka prashn hai kament yaanee praud se bachane ka upaay kya hai to sabase badhiya to ek hee upaay hai agar aap is baat ko hamesha apane dimaag mein rakhen ki sab kuchh nashvar hai sirph aapakee kadamon ko chhodata hai to aapake andar ghamand kabhee nahin ban paega jyaada ghamand dhan dolat ka hota hai khud dhan daulat aapakee nahin aapake saath leke nahin ja sakate ya doosara ghamand hota hai aapake sada rahega logon ko jo chainal hee dekha jaata hai jo bahut sundar hotee hai phir bhee hotee hai usako hota hai to ruk bhee samaapt ho jaata hai samay ke saath-saath usaka bhee ghamand nahin kar sakate besikalee usane bhee ant mein raakh ho jaana hai jaate hain aapakee taraph aapakee gande karm aur aapake achchhe tarah yahee kaho to nahin is baat ko agar aap hamesha mein dimaag de rahe hain ki ki dhan daulat kuchh nahin hai sabhee chhodakar jaana hai roopasundaree bhee kuchh nahin hai yah bhee yaheen rah jaana hai jab main inamen se kuchh saath le ja hee nahin sakata tumhen kya le ja sakata hoon aap sirph vah karen aap apanee karm le ja sakate hain aapakee kadamon ke oopar hee aapaka hisaab kitaab hoga lekha-jokha hoga vah har samay dekhana hai vhaatsep mein aapako dekha isane aaj kya kes mein aaj kya kiya to koshish karen puny karm kamae mediteshan karen gareebon kee madad karen aur hamesha kahate hain naanee vaah oke chal bandeya meeyaannoor ab milata hamesha jhukata chalen aur bhee kahaavat hai ki hamesha sookha vrksh khada rahata hai phaladaar vrksh to hamesha hee jhuka rahata hai to aap phaladaar vrksh kee tarah rahe phal bhee ho jisake oopar ro jhuka hua bhee ho to hamen shanivaar ko karenge hee soch apanaenge to aapake andar kabhee bhee ghamand nahin aaega dhanyavaad

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:24
हरा कृष्ण घमंड से बचने का उपाय क्या है तो आपको बता देंगे कि घमंड और अति आत्मविश्वास जो चीज होती हैं यह उसका ही परिणाम होता है कोशिश करें कि व्यक्ति अपने ऊपर आत्मविश्वास रखें उसको अति आत्मविश्वास में परिवर्तित ना होने दें क्योंकि अगर आती है आपने स्वास वहां पर उत्पन्न होगा तो वह घमंड का रूप ले लेगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Hara krshn ghamand se bachane ka upaay kya hai to aapako bata denge ki ghamand aur ati aatmavishvaas jo cheej hotee hain yah usaka hee parinaam hota hai koshish karen ki vyakti apane oopar aatmavishvaas rakhen usako ati aatmavishvaas mein parivartit na hone den kyonki agar aatee hai aapane svaas vahaan par utpann hoga to vah ghamand ka roop le lega main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
4:38
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि घमंड से बचने का उपाय क्या है तो देखिए इंसान को घमंड कब आता है इंसान को घमंड तब आता है जब वह समझता है कि मैं ही सर्वोच्च हूं मेरे जैसा कोई नहीं है जो मैं हूं यह सारे थॉट्स जब उसके अंदर आ जाता है तो फिर उसको घमंड आने लगता है फिर वह किसी बात को लेकर आप में बहुत ज्यादा सुपर मतलब बाकी मैं बहुत ज्यादा सुपर मेरे जैसा कोई नहीं है मैं इस चीज में बहुत ज्यादा टैलेंटेड हूं तो किसी को खूबसूरती का घमंड होता है तो किसी को पढ़ाई का घमंड होता तो किसी को कुछ किसी का मतलब हर चीज में कोई ना कोई एक ऐसा अपने आप को सोचेगा कि मेरे जैसा कोई नहीं है तो यह सारी चीज है जो इंसान को घमंडी बना देती लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए इंसान के अंदर यह थॉट्स रखना चाहिए कि क्योंकि जो घमंड है वह इंसान का सबसे ज्यादा बड़ा दुश्मन वही है और कोई नहीं है तो जब इंसान में मंडाने लगता है तो फिर वह दूसरों की बेज्जती कर देता और उस को समझता नहीं है और अब मतलब किसी को कुछ भी बोल देगा और वह नहीं समझेगा कि वह हर्ट हुआ है यह क्या हुआ है उसे तो यह सब उसकी में आदतें आ जाती है क्योंकि वह अपने आपको बहुत ज्यादा सबसे ऊपर समझने लगता है तो इसको कैसे इससे बचा जा सकता है तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि कोई इंसान कितना भी सीख ले कभी भी वह पूरा कुछ नहीं पिक्चर सकेगा क्योंकि लाइफ में पढ़ने के लिए बहुत कुछ है और जानने के लिए बहुत कुछ है आप कितना भी जान लो कुछ ना कुछ तो कमियां रहेंगे हर इंसान कुछ ना कुछ एक बेटर मतलब कुछ ऐसा जानता है जो दूसरा नहीं जानता तो यह सारी भावनाएं अपने अंदर रखनी चाहिए और इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि हमें कर्मयोगी बनना चाहिए जैसे कि भागवत गीता में लिखा है कि कर्मियों की कमी योग्य बनना चाहिए हमें यह नहीं कि हम जो भी या जो अच्छा किया जो बुरा किया सब भगवान को दे देना है कि जो किया मैंने भगवान की वजह से किया जो दिया है भगवान ने दिया है जो किया मैंने भगवान के लिए किया मतलब जो भी किया उसको जब आप भगवान को दे दोगे तो यह जो समर्पण का भाव ना आप में आ जाएगा तो फिर जाहिर सी बात है कि आपके अंदर यह घमंड पैदा नहीं होगा यह तो यही काम करना है कि समर्पण करना है कि जो भी मतलब अच्छा बुरा जो भी कर रहे हो बस बोलो कि मैंने जो भी किया है वह भगवान की दया से किया क्योंकि उन्होंने मेरे को ऐसा शरीर एक ऐसा दिमाग एक ऐसा सोसाइटी दिया जिसके वजह से मैं इतना काबिल बन सका यह बन सके कि मैं यह कर सका या कर सके यह सारा समर्पण का भाव ना जब कोई इंसान किसी में आ जाए तो फिर उसमें यह घमंड की भावना मतलब पर भेजी नहीं तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि कोई इंसान कितना भी सीख ले अधूरा ही रहेगा कोई कितना भी टैलेंटेड हो जाए कोई एक ऐसा व्यक्ति है जिससे वह अधूरा ही रहेगा तो बस अपने अंदर यह थॉट्स रखना चाहिए कि मैं कितना भी सीख लूं मैं कितना भी कर लूं मैं मतलब खाली ही रहूंगा और अपने आपको खाली ही रखना चाहिए क्योंकि जब आप अपने आपको खाली रखोगे तो फिर आप में घमंड की भावना नहीं आएगी और जब आप अपने आप को बहुत बड़ा हुआ महसूस करोगे तो फिर घमंड की भावना है आ जाएगी और बस यह थॉट्स रखना है कि एक कोई भी इंसान हो तो आप से छोटा हो या बड़ा हो कैसा भी हो बस यह सोच रखना चाहिए कि वह इंसान कुछ ऐसा जानता है जो मैं नहीं जानता वही थॉट्स उससे मेरे को सीखना तो यह सारी भावनाएं जब अपने अंदर आ जाएंगे यह घमंड घमंड की जो चीजें हैं यह हमारे अगल-बगल भी नहीं पढ़ पाएंगे और इन सब चीजों से हमें बहुत दूर रहना चाहिए क्योंकि वह सबसे ज्यादा खुद का नुकसान करती है दूसरों का कम अपने को ज्यादा दुख होता है क्योंकि जब पानी मतलब जमुना में पानी अंदर घुस जाता है तो नाव डूब जाती है और अगल-बगल रहता है तो फिर वह नाव तैरती रहती है तो यही है लाइफ में इंसान में जब घमंड आने लगता है तो फिर वह वह खुद ही डूब जाता है ना कि वह करता है उसी लिए हमें इन सब चीजों से बचने के लिए यह उपाय रखना चाहिए और यही थर्ड रखना चाहिए मैं कितना भी सीख लो खाली ही रहूंगा कुछ ना कुछ मेरे में कमी ही रहेगी जो मेरे को दूसरों दूसरों से सीखनी है थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya ki ghamand se bachane ka upaay kya hai to dekhie insaan ko ghamand kab aata hai insaan ko ghamand tab aata hai jab vah samajhata hai ki main hee sarvochch hoon mere jaisa koee nahin hai jo main hoon yah saare thots jab usake andar aa jaata hai to phir usako ghamand aane lagata hai phir vah kisee baat ko lekar aap mein bahut jyaada supar matalab baakee main bahut jyaada supar mere jaisa koee nahin hai main is cheej mein bahut jyaada tailented hoon to kisee ko khoobasooratee ka ghamand hota hai to kisee ko padhaee ka ghamand hota to kisee ko kuchh kisee ka matalab har cheej mein koee na koee ek aisa apane aap ko sochega ki mere jaisa koee nahin hai to yah saaree cheej hai jo insaan ko ghamandee bana detee lekin aisa nahin karana chaahie insaan ke andar yah thots rakhana chaahie ki kyonki jo ghamand hai vah insaan ka sabase jyaada bada dushman vahee hai aur koee nahin hai to jab insaan mein mandaane lagata hai to phir vah doosaron kee bejjatee kar deta aur us ko samajhata nahin hai aur ab matalab kisee ko kuchh bhee bol dega aur vah nahin samajhega ki vah hart hua hai yah kya hua hai use to yah sab usakee mein aadaten aa jaatee hai kyonki vah apane aapako bahut jyaada sabase oopar samajhane lagata hai to isako kaise isase bacha ja sakata hai to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki koee insaan kitana bhee seekh le kabhee bhee vah poora kuchh nahin pikchar sakega kyonki laiph mein padhane ke lie bahut kuchh hai aur jaanane ke lie bahut kuchh hai aap kitana bhee jaan lo kuchh na kuchh to kamiyaan rahenge har insaan kuchh na kuchh ek betar matalab kuchh aisa jaanata hai jo doosara nahin jaanata to yah saaree bhaavanaen apane andar rakhanee chaahie aur isase bachane ka sabase achchha tareeka yah hai ki hamen karmayogee banana chaahie jaise ki bhaagavat geeta mein likha hai ki karmiyon kee kamee yogy banana chaahie hamen yah nahin ki ham jo bhee ya jo achchha kiya jo bura kiya sab bhagavaan ko de dena hai ki jo kiya mainne bhagavaan kee vajah se kiya jo diya hai bhagavaan ne diya hai jo kiya mainne bhagavaan ke lie kiya matalab jo bhee kiya usako jab aap bhagavaan ko de doge to yah jo samarpan ka bhaav na aap mein aa jaega to phir jaahir see baat hai ki aapake andar yah ghamand paida nahin hoga yah to yahee kaam karana hai ki samarpan karana hai ki jo bhee matalab achchha bura jo bhee kar rahe ho bas bolo ki mainne jo bhee kiya hai vah bhagavaan kee daya se kiya kyonki unhonne mere ko aisa shareer ek aisa dimaag ek aisa sosaitee diya jisake vajah se main itana kaabil ban saka yah ban sake ki main yah kar saka ya kar sake yah saara samarpan ka bhaav na jab koee insaan kisee mein aa jae to phir usamen yah ghamand kee bhaavana matalab par bhejee nahin to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki koee insaan kitana bhee seekh le adhoora hee rahega koee kitana bhee tailented ho jae koee ek aisa vyakti hai jisase vah adhoora hee rahega to bas apane andar yah thots rakhana chaahie ki main kitana bhee seekh loon main kitana bhee kar loon main matalab khaalee hee rahoonga aur apane aapako khaalee hee rakhana chaahie kyonki jab aap apane aapako khaalee rakhoge to phir aap mein ghamand kee bhaavana nahin aaegee aur jab aap apane aap ko bahut bada hua mahasoos karoge to phir ghamand kee bhaavana hai aa jaegee aur bas yah thots rakhana hai ki ek koee bhee insaan ho to aap se chhota ho ya bada ho kaisa bhee ho bas yah soch rakhana chaahie ki vah insaan kuchh aisa jaanata hai jo main nahin jaanata vahee thots usase mere ko seekhana to yah saaree bhaavanaen jab apane andar aa jaenge yah ghamand ghamand kee jo cheejen hain yah hamaare agal-bagal bhee nahin padh paenge aur in sab cheejon se hamen bahut door rahana chaahie kyonki vah sabase jyaada khud ka nukasaan karatee hai doosaron ka kam apane ko jyaada dukh hota hai kyonki jab paanee matalab jamuna mein paanee andar ghus jaata hai to naav doob jaatee hai aur agal-bagal rahata hai to phir vah naav tairatee rahatee hai to yahee hai laiph mein insaan mein jab ghamand aane lagata hai to phir vah vah khud hee doob jaata hai na ki vah karata hai usee lie hamen in sab cheejon se bachane ke lie yah upaay rakhana chaahie aur yahee thard rakhana chaahie main kitana bhee seekh lo khaalee hee rahoonga kuchh na kuchh mere mein kamee hee rahegee jo mere ko doosaron doosaron se seekhanee hai thaink yoo

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Shahin fidai Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shahin जी का जवाब
Career & Relationship Counselor
2:39
घमंड से बचने का उपाय क्या है घमंड मतलब होता है और ईगो मतलब कि मैं ऐसा मैं वैसा हर बात में मैं में का शामिल करना और अपनी बड़ाई करना अपनी उस प्यारी मारना इसी घमंड कहते हैं और इसे बचने के लिए बहुत जरूरी है कि आप ग्राउंडेड रहे कनेक्ट रहे नीचे के साथ अगर आप कनेक्ट करते हो लोगों की अगर आप इज्जत करते हो सम्मान करते हो तो फिर इस तरह से आप घमंड से बच सकते हो यह चीज है दूसरी अगर आप अपनी सोच में ऐसा समझते हो कि हर इंसान को जो है वह ईश्वर ने बनाया है और हर इंसान को देखभाल करने वाला ईश्वर है तो अगर आप उस ग्रिटीट्यूड की स्थिति में रहते हो ईश्वर को धन्यवाद करते हो सुखद करते हो ईश्वर को थैंक यू कहते हो तो भी आप घमंड से बच सकते हो विकसित एटीट्यूड आफ ग्रिटीट्यूड गिफ्ट जिओ एंड एबिलिटी ट्यूसडे ग्राउंडेड तो यह एक ग्रिटीट्यूड तीसरा अनफॉरगिवनेस थेरेपी को अपना सकते हो अगर पास्ट में या कोई भी आप ऐसे क्वेश्चन में किसी ने आपको दुख पहुंचाया है या आपको किसी ने याद किया है कड़वी बातें कहिए तो आप उन्हें क्षमा कर दें और गिव करें तो ऑफ फॉरगिव ने थेरेपी से भी आप घमंड से बच सकते हो जो अपने आप के साथ बातचीत करना और यह बहुत जरूरी है कि अपने आप अच्छे अच्छे अपने आपको सबकॉन्शियस माइंड को आप ऐसे कमांडो की जिससे वह आपके हित में सोचे और आपको जो पसंद है वैसी वैसी बातें सोचे सकारात्मकता भर दे आप की चित्र में और आपकी उर्जा में जिसे कि आप अपना जीवन सुख शांति और खुशी के साथ आगे बढ़ा सके तो इस तरह से आप घमंड से बच सकते हो यह कुछ उपाय और जहां तक मैंने कहा है पर गिरने थेरेपी एफर्मेशन थेरेपी सेल्फ कनेक्शन थेरेपी आपको मेरी यूट्यूब चैनल शाहीन टॉक्स पर मिलेगी जिसका लिंक मैंने अपने प्रोफाइल पर रखा है तो आप मेरे चैनल पर जा सकते हैं यह सारी थेरेपी इसको आप देख सकते हैं समझ सकते हैं और अपने जीवन में अपनाकर आप घमंड से बच सकते हैं और एक बहुत ही सच्चाई पूर्वक और पवित्रता पूर्वक जीवन गुजार सकते हैं जिससे कि आप हर पल हर वक्त खुश रह सकते हैं धन्यवाद प्रश्न पूछने के लिए आपका जीवन शुभ हो
Ghamand se bachane ka upaay kya hai ghamand matalab hota hai aur eego matalab ki main aisa main vaisa har baat mein main mein ka shaamil karana aur apanee badaee karana apanee us pyaaree maarana isee ghamand kahate hain aur ise bachane ke lie bahut jarooree hai ki aap graunded rahe kanekt rahe neeche ke saath agar aap kanekt karate ho logon kee agar aap ijjat karate ho sammaan karate ho to phir is tarah se aap ghamand se bach sakate ho yah cheej hai doosaree agar aap apanee soch mein aisa samajhate ho ki har insaan ko jo hai vah eeshvar ne banaaya hai aur har insaan ko dekhabhaal karane vaala eeshvar hai to agar aap us griteetyood kee sthiti mein rahate ho eeshvar ko dhanyavaad karate ho sukhad karate ho eeshvar ko thaink yoo kahate ho to bhee aap ghamand se bach sakate ho vikasit eteetyood aaph griteetyood gipht jio end ebilitee tyoosade graunded to yah ek griteetyood teesara anaphoragivanes therepee ko apana sakate ho agar paast mein ya koee bhee aap aise kveshchan mein kisee ne aapako dukh pahunchaaya hai ya aapako kisee ne yaad kiya hai kadavee baaten kahie to aap unhen kshama kar den aur giv karen to oph phoragiv ne therepee se bhee aap ghamand se bach sakate ho jo apane aap ke saath baatacheet karana aur yah bahut jarooree hai ki apane aap achchhe achchhe apane aapako sabakonshiyas maind ko aap aise kamaando kee jisase vah aapake hit mein soche aur aapako jo pasand hai vaisee vaisee baaten soche sakaaraatmakata bhar de aap kee chitr mein aur aapakee urja mein jise ki aap apana jeevan sukh shaanti aur khushee ke saath aage badha sake to is tarah se aap ghamand se bach sakate ho yah kuchh upaay aur jahaan tak mainne kaha hai par girane therepee epharmeshan therepee selph kanekshan therepee aapako meree yootyoob chainal shaaheen toks par milegee jisaka link mainne apane prophail par rakha hai to aap mere chainal par ja sakate hain yah saaree therepee isako aap dekh sakate hain samajh sakate hain aur apane jeevan mein apanaakar aap ghamand se bach sakate hain aur ek bahut hee sachchaee poorvak aur pavitrata poorvak jeevan gujaar sakate hain jisase ki aap har pal har vakt khush rah sakate hain dhanyavaad prashn poochhane ke lie aapaka jeevan shubh ho

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Som Prakash Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Som जी का जवाब
Open to work
1:13
घमंड से बचने के लिए इंसान को विवेक को अपनाना चाहिए धैर्य को अपनाना चाहिए संतुलन को अपनाना चाहिए अपनी महत्वकांक्षी कंट्रोल में रखना चाहिए हर इंसान का कृतज्ञ होना चाहिए कि हमने जो भी पाया है उससे हमें सुख मिला है हमारे दुखों का नाश हुआ है हमारा कल्याण हुआ है हमें शक्ति मिली है हम पर कृपा हुई है इस तरह के विचार आने चाहिए मन के अंदर की इंसान जब भी उठे जब भी चले जब भी फ्री उसके मन में इस तरह के विचार आने चाहिए जिससे कि वह कभी घमंड में नहीं रहेगा ऐसा नहीं कि हमने कभी क्लास में टॉप कर लिया हो तो हमें कभी ऐसा नहीं सोचा कि हमने सोचा कि प्रभु ने हमें ईश्वर ईश्वर ने हम पर कृपा की है ईश्वर ने हमें एक रास्ता दिखाया है ईश्वर की कृपा रही है तभी ऐसा हुआ हमें शक्ति मिले तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ गई थी या फेल भी हो जाए या टोपी करदे तो ए कांस्टेंट रहना चाहिए शाम को तभी आप घमंड से बच सकते हैं
Ghamand se bachane ke lie insaan ko vivek ko apanaana chaahie dhairy ko apanaana chaahie santulan ko apanaana chaahie apanee mahatvakaankshee kantrol mein rakhana chaahie har insaan ka krtagy hona chaahie ki hamane jo bhee paaya hai usase hamen sukh mila hai hamaare dukhon ka naash hua hai hamaara kalyaan hua hai hamen shakti milee hai ham par krpa huee hai is tarah ke vichaar aane chaahie man ke andar kee insaan jab bhee uthe jab bhee chale jab bhee phree usake man mein is tarah ke vichaar aane chaahie jisase ki vah kabhee ghamand mein nahin rahega aisa nahin ki hamane kabhee klaas mein top kar liya ho to hamen kabhee aisa nahin socha ki hamane socha ki prabhu ne hamen eeshvar eeshvar ne ham par krpa kee hai eeshvar ne hamen ek raasta dikhaaya hai eeshvar kee krpa rahee hai tabhee aisa hua hamen shakti mile to usase koee phark nahin pad gaee thee ya phel bhee ho jae ya topee karade to e kaanstent rahana chaahie shaam ko tabhee aap ghamand se bach sakate hain

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Ankit Singh Kshatriya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Unknown
2:59
नमस्कार दोस्तों आप ने प्रश्न किया है घमंड से बचने का उपाय क्या है दोस्तों घमंड जो होता है लोगों को वह दो कारणों से होता है पहला कारण होता है उनका ओवरकॉन्फिडेंस और दूसरा कारण होता है उनकी मिसअंडरस्टैंडिंग जब लोगों को गलतफहमी हो जाती है और साथ ही साथ ऊपर कॉन्फिडेंस हो जाता है किसी चीज को लेकर तब उनके अंदर प्राउड या फिर से घमंड पहले वह उत्पन्न होता है यह दोनों चीज है किसी के अंदर भी बहुत जल्दी और बहुत आसानी से आ जाती हैं जैसे उदाहरण के तौर पर बात कर ले कि कोई व्यक्ति है पहले गरीब था अपने लाइफ में सक्सेसफुल नहीं था उसने मेहनत करी और वह अमीर बन गया उसने कार्य किए पैसे कमाए और वह अमीर बन गया लेकिन जैसे ही उसने अमीर हुआ वह उसके अंदर यह गलतफहमी आ गई कि जो कार मैंने करके अमीर हुआ हूं वह का सिर्फ मैं ही कर सकता हूं या फिर मैं उस कार्य में निपुण उसके अंदर यह मिसअंडरस्टैंडिंग हो गई कि अब जो हूं मैं ही हूं अब मेरे अब जो गरीबों के सामने दिख रहे हैं उनको पूछ भी नहीं रहा उनकी उनका मजाक उड़ा रहा है बना रहा है तो यह चीज घमंड है घमंड को कम करने का सबसे अच्छा कारण है कि आपने आपको हमेशा धरती से जुड़े रखे हमेशा डाउन टू अर्थ रहे और अपनी सोच को अपने विचारों पर कभी भी किसी को हावी ना होने देना अपने रुतबे का ना आपने पैसे का ना अपने अचीवमेंट्स का अब हर किसी को प्यार की नजर से आधार की नजर से देखें आपको जब भी ऐसा प्रतीत होता है कि आप बहुत घमंडी हो रहे हैं या आपको किसी का घमंड हो रहा है आप उसी क्षण अपने से बड़े लोगों के बारे में जानकारी प्राप्त करें उनके बारे में पढ़ें उनके बारे में जाने और देखें क्यों आप से कहीं ज्यादा ऊपर हैं लेकिन वह कितने धरातल पर हैं तो घमंड का सबसे अच्छा कारण है रुकने का क्या हमेशा अपने आप को धरातल पर रखें
Namaskaar doston aap ne prashn kiya hai ghamand se bachane ka upaay kya hai doston ghamand jo hota hai logon ko vah do kaaranon se hota hai pahala kaaran hota hai unaka ovarakonphidens aur doosara kaaran hota hai unakee misandarastainding jab logon ko galataphahamee ho jaatee hai aur saath hee saath oopar konphidens ho jaata hai kisee cheej ko lekar tab unake andar praud ya phir se ghamand pahale vah utpann hota hai yah donon cheej hai kisee ke andar bhee bahut jaldee aur bahut aasaanee se aa jaatee hain jaise udaaharan ke taur par baat kar le ki koee vyakti hai pahale gareeb tha apane laiph mein saksesaphul nahin tha usane mehanat karee aur vah ameer ban gaya usane kaary kie paise kamae aur vah ameer ban gaya lekin jaise hee usane ameer hua vah usake andar yah galataphahamee aa gaee ki jo kaar mainne karake ameer hua hoon vah ka sirph main hee kar sakata hoon ya phir main us kaary mein nipun usake andar yah misandarastainding ho gaee ki ab jo hoon main hee hoon ab mere ab jo gareebon ke saamane dikh rahe hain unako poochh bhee nahin raha unakee unaka majaak uda raha hai bana raha hai to yah cheej ghamand hai ghamand ko kam karane ka sabase achchha kaaran hai ki aapane aapako hamesha dharatee se jude rakhe hamesha daun too arth rahe aur apanee soch ko apane vichaaron par kabhee bhee kisee ko haavee na hone dena apane rutabe ka na aapane paise ka na apane acheevaments ka ab har kisee ko pyaar kee najar se aadhaar kee najar se dekhen aapako jab bhee aisa prateet hota hai ki aap bahut ghamandee ho rahe hain ya aapako kisee ka ghamand ho raha hai aap usee kshan apane se bade logon ke baare mein jaanakaaree praapt karen unake baare mein padhen unake baare mein jaane aur dekhen kyon aap se kaheen jyaada oopar hain lekin vah kitane dharaatal par hain to ghamand ka sabase achchha kaaran hai rukane ka kya hamesha apane aap ko dharaatal par rakhen

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
4:59
चेहरे के घमंड कोई ऐसी वस्तु नहीं है कोई ऐसा तीर नहीं है जिससे आपको बचना होता है ऐसा नहीं है जो आपके सामने आ रहा है और आप भाग रहे हैं कि भाई घमंड से मैं बची राम जी नहीं अगर आप देखेंगे तो हम घमंड के साथ क्या बोलते हैं हम बोलते हैं कि भाई उसको तो घमंड है मेरे अंदर घमंड है इसका घमंड बहुत ज्यादा है उसको या मुझ को घमंड होता है यह तो बहुत घमंडी है आप सोच कर देखें इसका मतलब क्या हमारे अंदर होता है अब जब पहले से ही होता है तो उससे आप बच कर कहां जाएंगे सोच कर देखे तुझे बचना इसमें नहीं होता इसमें यह होता है कि हम उस पर काबू पा सके हम उसको दिनचर्या ना लाए हम उसको अपनी बात व्यवहार में ना लाएं हम उसको अपने एक्शंस में ना लाएं जितना है वहीं पर रुक जाए तो बहुत अच्छी बात है इससे ज्यादा उस को बढ़ावा देने की जरूरत नहीं है सबके अंदर होता है किसी के अंदर 1 डिग्री का होगा तो किसी के अंदर 4 डिग्री का होगा किसी के अंदर या किसी किसी को किसी स्पेसिफिक समय पर होता है और किसी को दवाई नहीं होता है या कभी-कभी होता है किसी को किसी के कारण होता है किसी को दिखाने के लिए होता है किसी को हमेशा होता है तो बहुत सारी बातें होती हैं लेकिन यह सब में होता है थोड़ा बहुत हमें यह देखना होता है कि भाई मेरे बात व्यवहार में कम्युनिकेशन में आसन में घमंड ना हो अब यह कैसे होगा अगर हम आगे रहेंगे अगर हम सक्रिय रहेंगे कॉन्शियसली यह देखेंगे जानेंगे सोचेंगे समझेंगे कि मेरे अंदर चल क्या रहा है मैं बर्ताव कैसे कर रहा हूं मैं किसी परिस्थिति में किसी इंसान को इंजेंडर लिया दवाई कैसे देखता हूं कैसे ट्रीट करता हूं मैं अपने आपको कैसे देखता हूं दूसरों के मुकाबले और दूसरों को कैसा देखता हूं घमंड आता है आपके व्यक्तित्व थे और व्यक्तित्व का निर्माण रातों-रात नहीं होता है आपकी सोच से होता है नियत से होता है विचारधारा से होता है आपके कर्म से होता है आपके नजरिए से होता है आपके व्यक्तित्व का विकास आप एक तरीके के व्यक्तित्व वाले व्यक्ति बनते हैं और उसके व्यक्तित्व में यह घमंड होता है कोई बात नहीं जो भी है जहां भी है आप अगर समझ आता है कि वह घमंड है और मुझे घमंडी नहीं देखना है तेरो ऐसा अच्छा अच्छा प्रतीत नहीं होता तो सिंपल सी बात है आपकी देखे कि आप दूसरों को कैसे देखते हैं अपने आप को कैसे देखते हैं अपने आप को किस तरीके से दूसरों के सामने या परिस्थिति में प्रस्तुत करते हैं बस वही तो है घमंड वही तो नहीं करना सोच कर देखें घमंड अच्छा लगता है घमंड दिखता है कैसे आपकी बोलचाल से आपके पहनावा से हाथ के रहन-सहन से आप के बर्ताव से आपकी बातचीत से यह सत्य जरिए से घमंड दिखता है ना किसी और को देखता है ना अब आपको यह देखना है कि उसको ऐसा मैं ना देखो मैं था जब करूं तो उसको कैसा लगेगा इसके बारे में सोचना जवाब ऐसा सोचने लगेंगे तो डेफिनेटली आप अपने आप पर काबू पाना सीखने लगेंगे और आप काबू पा पा लेंगे सोच कर देखिए क्योंकि घमंड जो है यह आप दीवार पर ताले पर रोड पर कार पर पेड़ पक्षी के सामने वहां नहीं दिखाते हैं घमंड आप लोगों के सामने दिखाते हैं अब वह लोग हैं आपके स्कूल में हो कॉलेज में हो प्रोफेशन में हो बाजार में हो मॉल में हो एक रात के अंदर हो कहीं भी हो वहां पर आपका घमंड अच्छा लग सकता है आपके पर है नाम है इससे आपके बातचीत से आपके व्यवहार से किसी भी तरीके से अच्छा लग सकता है बस उस पर ध्यान देना है कि मैं अपने आप को कैसे देखता हूं दुनिया को कैसे देखता हूं अपने आप को कैसे कारी करता करता हूं अगर इस पर थोड़ा ध्यान देने लगेंगे तो आपको समझ आ जाएगा कि किस चीज को कहां पर रोकना है किस बात को या किस एक्शन को कैसे परफॉर्म करना है दर्शक
Chehare ke ghamand koee aisee vastu nahin hai koee aisa teer nahin hai jisase aapako bachana hota hai aisa nahin hai jo aapake saamane aa raha hai aur aap bhaag rahe hain ki bhaee ghamand se main bachee raam jee nahin agar aap dekhenge to ham ghamand ke saath kya bolate hain ham bolate hain ki bhaee usako to ghamand hai mere andar ghamand hai isaka ghamand bahut jyaada hai usako ya mujh ko ghamand hota hai yah to bahut ghamandee hai aap soch kar dekhen isaka matalab kya hamaare andar hota hai ab jab pahale se hee hota hai to usase aap bach kar kahaan jaenge soch kar dekhe tujhe bachana isamen nahin hota isamen yah hota hai ki ham us par kaaboo pa sake ham usako dinacharya na lae ham usako apanee baat vyavahaar mein na laen ham usako apane ekshans mein na laen jitana hai vaheen par ruk jae to bahut achchhee baat hai isase jyaada us ko badhaava dene kee jaroorat nahin hai sabake andar hota hai kisee ke andar 1 digree ka hoga to kisee ke andar 4 digree ka hoga kisee ke andar ya kisee kisee ko kisee spesiphik samay par hota hai aur kisee ko davaee nahin hota hai ya kabhee-kabhee hota hai kisee ko kisee ke kaaran hota hai kisee ko dikhaane ke lie hota hai kisee ko hamesha hota hai to bahut saaree baaten hotee hain lekin yah sab mein hota hai thoda bahut hamen yah dekhana hota hai ki bhaee mere baat vyavahaar mein kamyunikeshan mein aasan mein ghamand na ho ab yah kaise hoga agar ham aage rahenge agar ham sakriy rahenge konshiyasalee yah dekhenge jaanenge sochenge samajhenge ki mere andar chal kya raha hai main bartaav kaise kar raha hoon main kisee paristhiti mein kisee insaan ko injendar liya davaee kaise dekhata hoon kaise treet karata hoon main apane aapako kaise dekhata hoon doosaron ke mukaabale aur doosaron ko kaisa dekhata hoon ghamand aata hai aapake vyaktitv the aur vyaktitv ka nirmaan raaton-raat nahin hota hai aapakee soch se hota hai niyat se hota hai vichaaradhaara se hota hai aapake karm se hota hai aapake najarie se hota hai aapake vyaktitv ka vikaas aap ek tareeke ke vyaktitv vaale vyakti banate hain aur usake vyaktitv mein yah ghamand hota hai koee baat nahin jo bhee hai jahaan bhee hai aap agar samajh aata hai ki vah ghamand hai aur mujhe ghamandee nahin dekhana hai tero aisa achchha achchha prateet nahin hota to simpal see baat hai aapakee dekhe ki aap doosaron ko kaise dekhate hain apane aap ko kaise dekhate hain apane aap ko kis tareeke se doosaron ke saamane ya paristhiti mein prastut karate hain bas vahee to hai ghamand vahee to nahin karana soch kar dekhen ghamand achchha lagata hai ghamand dikhata hai kaise aapakee bolachaal se aapake pahanaava se haath ke rahan-sahan se aap ke bartaav se aapakee baatacheet se yah saty jarie se ghamand dikhata hai na kisee aur ko dekhata hai na ab aapako yah dekhana hai ki usako aisa main na dekho main tha jab karoon to usako kaisa lagega isake baare mein sochana javaab aisa sochane lagenge to dephinetalee aap apane aap par kaaboo paana seekhane lagenge aur aap kaaboo pa pa lenge soch kar dekhie kyonki ghamand jo hai yah aap deevaar par taale par rod par kaar par ped pakshee ke saamane vahaan nahin dikhaate hain ghamand aap logon ke saamane dikhaate hain ab vah log hain aapake skool mein ho kolej mein ho propheshan mein ho baajaar mein ho mol mein ho ek raat ke andar ho kaheen bhee ho vahaan par aapaka ghamand achchha lag sakata hai aapake par hai naam hai isase aapake baatacheet se aapake vyavahaar se kisee bhee tareeke se achchha lag sakata hai bas us par dhyaan dena hai ki main apane aap ko kaise dekhata hoon duniya ko kaise dekhata hoon apane aap ko kaise kaaree karata karata hoon agar is par thoda dhyaan dene lagenge to aapako samajh aa jaega ki kis cheej ko kahaan par rokana hai kis baat ko ya kis ekshan ko kaise paraphorm karana hai darshak

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:57
यह बेटाचे आपको हम कितनी भी उपाय बताएं लेकिन इस अभिमान को जीतना इस मन को जीतना बहुत सरल कार्य नहीं है प्रभुता पाई का हिम्मत नहीं यह धन शक्ति यह वैभव विज्ञान आदि का जो अभिमान है वह कितना भी प्रयास करें लेकिन वह किसी न किसी रूप में आ ही जाता है बड़े-बड़े ऋषि यों तपस्वी भी इस अभिमान को नहीं जीत पाए परिणाम स्वरुप वह भगवान के भक्त हो करके भी अपने आप को इस अभिमान से नहीं बचा पाए और मन की एकाग्रता नहीं पा सके मन की एकाग्रता जब तक नहीं होगी जब तक भगवान समर्पित नहीं होंगे अपने इष्ट देव के प्रति समर्पित नहीं होंगे तब तक इस अभिमान को रोकना अत्यंत सरल कार्य नहीं तो भगवत भगवत कृपा से ही अभिमान को दूर किया जा सकता है उनकी कृपा होती है तभी जाकर जब मांस दूर रह पाते हैं वरना यह अच्छे अच्छों को घेर लेता है इसके लिए आपको विनम्रता उदारता सहनशीलता सुता के जितने भाव आप में होंगे उतना ही अभिमान आपसे दूर होता हुआ चला जाएगा क्योंकि कहते बेटा अभिमान समस्त पापों का जनक है तो विनम्रता समस्त गुणों की जननी है ऐसा एक फ्रांस किस लेखक ने कहा है और सार्थक भी है विनम्रता आदमी में उदारता के बाप सेवा के भाव लाती है और जितनी विनम्रता होती है उतना ही अभिमान दूर हो जाता है आपको याद होगा बेटे जब इसकी लड़के लड़की का विवाह किया जाता है दोस्त विवाह कार्यक्रम में एक कारी जो होता है वह जन्म का कार्य होता है और उस जुनून कार्य में आप देखते हैं कि वह लड़का जिसकी शादी होने जा रही है उसको जन्म पहनाकर के गुरु उसको भिक्षा मांगने के लिए प्रेरित करता है और वह अपने रिश्तेदारों से भिक्षा मांगता है वह सिर्फ इसी बात का सूचक है कि मानव को अभिमान कभी नहीं करना चाहिए और उसकी अभिमान की बत्ती को गलाने के लिए ही किया जाता है
Yah betaache aapako ham kitanee bhee upaay bataen lekin is abhimaan ko jeetana is man ko jeetana bahut saral kaary nahin hai prabhuta paee ka himmat nahin yah dhan shakti yah vaibhav vigyaan aadi ka jo abhimaan hai vah kitana bhee prayaas karen lekin vah kisee na kisee roop mein aa hee jaata hai bade-bade rshi yon tapasvee bhee is abhimaan ko nahin jeet pae parinaam svarup vah bhagavaan ke bhakt ho karake bhee apane aap ko is abhimaan se nahin bacha pae aur man kee ekaagrata nahin pa sake man kee ekaagrata jab tak nahin hogee jab tak bhagavaan samarpit nahin honge apane isht dev ke prati samarpit nahin honge tab tak is abhimaan ko rokana atyant saral kaary nahin to bhagavat bhagavat krpa se hee abhimaan ko door kiya ja sakata hai unakee krpa hotee hai tabhee jaakar jab maans door rah paate hain varana yah achchhe achchhon ko gher leta hai isake lie aapako vinamrata udaarata sahanasheelata suta ke jitane bhaav aap mein honge utana hee abhimaan aapase door hota hua chala jaega kyonki kahate beta abhimaan samast paapon ka janak hai to vinamrata samast gunon kee jananee hai aisa ek phraans kis lekhak ne kaha hai aur saarthak bhee hai vinamrata aadamee mein udaarata ke baap seva ke bhaav laatee hai aur jitanee vinamrata hotee hai utana hee abhimaan door ho jaata hai aapako yaad hoga bete jab isakee ladake ladakee ka vivaah kiya jaata hai dost vivaah kaaryakram mein ek kaaree jo hota hai vah janm ka kaary hota hai aur us junoon kaary mein aap dekhate hain ki vah ladaka jisakee shaadee hone ja rahee hai usako janm pahanaakar ke guru usako bhiksha maangane ke lie prerit karata hai aur vah apane rishtedaaron se bhiksha maangata hai vah sirph isee baat ka soochak hai ki maanav ko abhimaan kabhee nahin karana chaahie aur usakee abhimaan kee battee ko galaane ke lie hee kiya jaata hai

bolkar speaker
घमंड से बचने का उपाय क्या है?Ghmand Se Bachne Ka Upay Kya Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:38
उसे क्या आपका प्रश्न है गमन से बचने का उपाय क्या है देखें घमंडी व्यक्ति को अपने काम में ज्यादा तवज्जो नहीं देना चाहिए अपना काम खुद करने की कोशिश करें ऐसे लोगों को अपनी तारीफ सुनना बहुत अच्छा लगता है इन लोगों की चापलूसी करने से बचें यह लोग किसी भी मुद्दे पर बहस करने से नहीं चूकते अपनी नॉलेज दूसरों से शेयर करने की बजाय उन पर बहस करते हैं बस तरीका यह है कि आप उनकी बहस पर ध्यान ही ना दें अपने काम पर फोकस रखें वह अपने आप शर्मिंदा होकर चुप हो जाएगा
Use kya aapaka prashn hai gaman se bachane ka upaay kya hai dekhen ghamandee vyakti ko apane kaam mein jyaada tavajjo nahin dena chaahie apana kaam khud karane kee koshish karen aise logon ko apanee taareeph sunana bahut achchha lagata hai in logon kee chaapaloosee karane se bachen yah log kisee bhee mudde par bahas karane se nahin chookate apanee nolej doosaron se sheyar karane kee bajaay un par bahas karate hain bas tareeka yah hai ki aap unakee bahas par dhyaan hee na den apane kaam par phokas rakhen vah apane aap sharminda hokar chup ho jaega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • घमंड से बचने का उपाय क्या है घमंड से बचने का उपाय
URL copied to clipboard