#जीवन शैली

bolkar speaker

आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?

Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:41
मैं तेरे पीछे वाले अब जरूरत से ज्यादा चलाक लोगों से कैसे बनाते हैं आपके नॉलेज को या फिर आपको याद करते हैं जिसकी वजह से कहना पसंद है कि नहीं मुझे नहीं आता है और मुझे मैं नहीं दिखाऊंगी पैसा ही पैसा तो बेटा मुझसे बेटा आप ही दे सकते हैं और आप ही दे सकते हैं मैं ऐसा कुछ जवाब देती हूं जिसकी वजह से लगा कर के अगर आप कुछ तो जवाब भी देते हैं ना तो वह अपने आप क्योंकि वह वापस जचता नहीं होते और वह उस पर तब अपनी राय देते हैं और अपनी जवाब देते हैं और अपनी बातों को भी गुस्सा दिखाना जानते हैं तो मैं रात बात करूं तो मैं कुछ ऐसे ही जवाब देती हूं और जहां तक सवाल है कि जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों से कैसे पैसा दे तू मेरे सामने भी एक है ऐसी जो कि ऐसे ही वह अपने आप को इतना ना चला कि मैं तेनु इतना ही स्मार्ट समझती है उन्हें लगता है कि मेरे जैसे किसी को आता ही नहीं है सबको जज करती रहती है जो कि मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है इसलिए मैं उनके सामने कभी नहीं किसी सवाल का जवाब देना नहीं किसी बात पर उसे बात करना चित्र जरूरत रहता है उतनी ही बात करती हूं तो मैं ऐसे पेश आती हूं तो सब का अंदाज अलग अलग होता सब लोग अलग तरीके से पेश आते होंगे तुम ही कहते हैं सवाल का जवाब बताओ मैं आप लोग को चाहिए दोस्तों को भी खुश रखे
Main tere peechhe vaale ab jaroorat se jyaada chalaak logon se kaise banaate hain aapake nolej ko ya phir aapako yaad karate hain jisakee vajah se kahana pasand hai ki nahin mujhe nahin aata hai aur mujhe main nahin dikhaoongee paisa hee paisa to beta mujhase beta aap hee de sakate hain aur aap hee de sakate hain main aisa kuchh javaab detee hoon jisakee vajah se laga kar ke agar aap kuchh to javaab bhee dete hain na to vah apane aap kyonki vah vaapas jachata nahin hote aur vah us par tab apanee raay dete hain aur apanee javaab dete hain aur apanee baaton ko bhee gussa dikhaana jaanate hain to main raat baat karoon to main kuchh aise hee javaab detee hoon aur jahaan tak savaal hai ki jaroorat se jyaada chaalaak logon se kaise paisa de too mere saamane bhee ek hai aisee jo ki aise hee vah apane aap ko itana na chala ki main tenu itana hee smaart samajhatee hai unhen lagata hai ki mere jaise kisee ko aata hee nahin hai sabako jaj karatee rahatee hai jo ki mujhe bilkul bhee pasand nahin hai isalie main unake saamane kabhee nahin kisee savaal ka javaab dena nahin kisee baat par use baat karana chitr jaroorat rahata hai utanee hee baat karatee hoon to main aise pesh aatee hoon to sab ka andaaj alag alag hota sab log alag tareeke se pesh aate honge tum hee kahate hain savaal ka javaab batao main aap log ko chaahie doston ko bhee khush rakhe

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:41
आरा का प्रश्न और जोर से ज्यादा चलाक लोगों से कैसे पेश आते हैं तो आपको बता दें कि अगर आप जो से ज्यादा चलाक लोगों से पेश आना चाहते हैं तो बता तरीका होता है कि आप वहां पर खामोशी धारण करने क्योंकि वह व्यक्ति कभी भी आपकी बात से सहमत नहीं होगा हमेशा आप में कमियां निकालने की कोशिश करता रहेगा तो ऐसे व्यक्ति के साथ सर खपाने सच है कि आप अपने आप को शांत रखें और अपने कामों का अच्छा से करें उस को निष्पादित करें तभी आप की जो प्रशंसा है वह सभी लोग करेंगे और फिर ऐसे लोगों के मुंह पर तमाचा पड़ेगा मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn aur jor se jyaada chalaak logon se kaise pesh aate hain to aapako bata den ki agar aap jo se jyaada chalaak logon se pesh aana chaahate hain to bata tareeka hota hai ki aap vahaan par khaamoshee dhaaran karane kyonki vah vyakti kabhee bhee aapakee baat se sahamat nahin hoga hamesha aap mein kamiyaan nikaalane kee koshish karata rahega to aise vyakti ke saath sar khapaane sach hai ki aap apane aap ko shaant rakhen aur apane kaamon ka achchha se karen us ko nishpaadit karen tabhee aap kee jo prashansa hai vah sabhee log karenge aur phir aise logon ke munh par tamaacha padega main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:44
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों से कैसे पेश आते हैं उसे ज्यादा चालाक बनते हैं उनके साथ आपको ज्यादा मतलब नहीं रखनी चाहिए और उनसे दूरी बना कर रखनी चाहिए और उनके साथ अगर परेशानी की बात करें तो ज्यादा चला कर दिखा रहे हैं तो आपसे भी जो आता है आप उसका उत्तर दीजिए बताइए और उन से पीछे हटने की आपको जरूरत नहीं है हमें चालाक बन रहे दिखाइए बताइए कि हम कोई गधे नहीं है अगर आप चालाक है तो हम भी चालाक हैं हर व्यक्ति चालाक होता लेकिन ज्यादा चला कर दिखाने की जरूरत नहीं है ज्यादा चालाक लोग अपने आपको ज्यादा चलाक समझती तो आपने उनकी बातों का सटीक उत्तर दीजिए सटीक जवाब दीजिए धन्यवाद
Aap jaroorat se jyaada chaalaak logon se kaise pesh aate hain use jyaada chaalaak banate hain unake saath aapako jyaada matalab nahin rakhanee chaahie aur unase dooree bana kar rakhanee chaahie aur unake saath agar pareshaanee kee baat karen to jyaada chala kar dikha rahe hain to aapase bhee jo aata hai aap usaka uttar deejie bataie aur un se peechhe hatane kee aapako jaroorat nahin hai hamen chaalaak ban rahe dikhaie bataie ki ham koee gadhe nahin hai agar aap chaalaak hai to ham bhee chaalaak hain har vyakti chaalaak hota lekin jyaada chala kar dikhaane kee jaroorat nahin hai jyaada chaalaak log apane aapako jyaada chalaak samajhatee to aapane unakee baaton ka sateek uttar deejie sateek javaab deejie dhanyavaad

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:55
सवाल पूछा गया है कि आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों से कैसे पेश आते हैं यह हर किसी के पर्सनल व्यूज होंगे इसके जवाब के ऊपर और सवाल करता को बता दें कि अगर आप मेरा खुद का एक्सपीरियंस पूछना चाहते हैं तो जितने भी मुझे चालाक लोग मिले हैं उनके साथ हमेशा नम्रता से पेश आएं उनको ज्यादा मानदेय लें कि हां भाई आप बहुत ही ऊपर है और हम बहुत ही नीचे हैं और हमारे तो दिमाग में हमारे दिमाग की शान है कि नहीं कुछ कैपेसिटी ही नहीं है कि हम आपके जितना सोच सके हैं उसी तरीके से हम लोग उनको व्यवहार करते हैं यह हमारी सोच होती है हम उनको बोलना नहीं है कि आप बहुत ज्यादा चालाक हैं आप बहुत ज्यादा तेज हैं हम बहुत ज्यादा बेवकूफ हैं परंतु हमारे व्यवहार में हमेशा यह रहता है कि हां भाई आप बहुत ही ऊंचे हैं आप अपनी ऊंचाई को हमेशा टॉप पर यहां तो फिर दूसरा चीज यह हो सकता है कि अगर हम वह हमारे बहुत ही ज्यादा करीब है तो उस चालाक लोगों को हम मोटिवेशनल स्टोरीज बता सकते हैं जिसमें यह पता चल सके कि घमंड जो होता है वह हमेशा उसका नाश हो जाता है जैसे कि शिशुपाल का हुआ अर्जुन का हुआ ऐसी ऐसी जो चोरी होती है वह उनको सुना दी जाती है परंतु जब विच व्यवहार का जब बाद आता है तब हमेशा उनको ज्यादा मान देना चाहिए ताकि ताकि वह लोग कभी भी ज्यादा बढ़ कि नहीं और नॉर्मल जो संतुलन है वह बना रहे उम्मीद करता हूं इस सवाल के साथ इस जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अगले सवाल के साथ व्हाट्सएप जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aap jaroorat se jyaada chaalaak logon se kaise pesh aate hain yah har kisee ke parsanal vyooj honge isake javaab ke oopar aur savaal karata ko bata den ki agar aap mera khud ka eksapeeriyans poochhana chaahate hain to jitane bhee mujhe chaalaak log mile hain unake saath hamesha namrata se pesh aaen unako jyaada maanadey len ki haan bhaee aap bahut hee oopar hai aur ham bahut hee neeche hain aur hamaare to dimaag mein hamaare dimaag kee shaan hai ki nahin kuchh kaipesitee hee nahin hai ki ham aapake jitana soch sake hain usee tareeke se ham log unako vyavahaar karate hain yah hamaaree soch hotee hai ham unako bolana nahin hai ki aap bahut jyaada chaalaak hain aap bahut jyaada tej hain ham bahut jyaada bevakooph hain parantu hamaare vyavahaar mein hamesha yah rahata hai ki haan bhaee aap bahut hee oonche hain aap apanee oonchaee ko hamesha top par yahaan to phir doosara cheej yah ho sakata hai ki agar ham vah hamaare bahut hee jyaada kareeb hai to us chaalaak logon ko ham motiveshanal storeej bata sakate hain jisamen yah pata chal sake ki ghamand jo hota hai vah hamesha usaka naash ho jaata hai jaise ki shishupaal ka hua arjun ka hua aisee aisee jo choree hotee hai vah unako suna dee jaatee hai parantu jab vich vyavahaar ka jab baad aata hai tab hamesha unako jyaada maan dena chaahie taaki taaki vah log kabhee bhee jyaada badh ki nahin aur normal jo santulan hai vah bana rahe ummeed karata hoon is savaal ke saath is javaab ke saath aap santusht rahe honge agar haan to agale savaal ke saath vhaatsep jaroor jud jaega dhanyavaad

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
paramveer koshlaindra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए paramveer जी का जवाब
Unknown
0:09
सिंपल टिट फॉर टैट चला कहता भी चला करें वह सीधे था भी सीधे मैंने बस और कुछ नहीं
Simpal tit phor tait chala kahata bhee chala karen vah seedhe tha bhee seedhe mainne bas aur kuchh nahin

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:43
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं दोस्तों जैसे कि सबसे पहले हमें कुछ भी पता नहीं होता है कि सामने वाला व्यक्ति चालाक है चतुर है या बोला है सहना है कुछ भी पता नहीं चलता है जैसे जैसे उसके साथ समय बीतता जाता है वैसे वैसे उनकी कुछ आदतों के बारे में हमें पता चलता है जैसे कि कुछ आदतें उनकी बुरी कुछ अच्छी दोनों ही मिक्स रूप से होती है दोस्तों जो उनमें दुर्गुण होते हैं यदि बहुत ही ज्यादा बुरे हो अच्छे हो तो उन्हें कड़वे रूप से बोलकर कह देना उचित होता है ऐसा ही हम सभी करते हैं क्योंकि दोस्तों बर्दाश्त करने से अच्छा है कि उनमें जो दुर्गुण है उनको दूर किया जाए और उनको इंसान बनाया जाए बता देना ही सबसे बेहतर होता है क्योंकि वह आज हमें यदि चालाक बना रहा है कल को किसी और को बनाएगा तो उनकी ऐसे बुरी हरकतों को शेयर करने सहन करना यह किसी के लिए भी उचित नहीं होता है तो उनमें कहा भी गया है कि यदि जो जिस किसी के पास रहता है वह एक दोस्त की बनती होता है मित्र की बनती है और दोस्त वही होता है जो दोस्त का अंत कर देता है लेकिन कुछ आदमी कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं जो कि बहुत ही ज्यादा आती कर देते हैं बुराइयों को और बहुत ही ज्यादा चालाक बनने की कोशिश करते हैं तो ऐसे व्यक्तियों को त्याग देना चाहिए दोस्तों को आपके लिए घातक सिद्ध हो सकते हैं ऐसा आपके साथ भी हुआ होगा हमारे साथ भी हुआ है ऐसा अनेकों ने काफी लोगों के साथ ऐसा होता ही है कुछ व्यक्ति होते हैं यह जो बहुत ही ज्यादा चालाक बहुत ही ज्यादा अच्छा तो मूर्ख बनाने की कोशिश करते रहते हैं तो उसको त्याग देना चाहिए जैसा कि चाणक्य ने कहा था विद्वान लोगों ने भी कहा है कि ऐसे मित्र जिसके मुख्य पर दूध लगा हुआ हो और अंदर जहर से भरे घड़े के समान हो तो ऐसे जो दोस्त होते हैं मित्र होते हैं उनको त्याग देना ही अच्छा होता है वो किसी काम के नहीं होते हैं सामने वह मीठे बोलते हैं अच्छाइयां गिनाते हैं लेकिन पीठ पीछे बुराई करते हैं तो यह खुद के लिए भी घातक सिद्ध होते हैं और औरों की भी औरों के लिए भी अच्छे नहीं होते हैं तो दोस्तों ऐसे चलाओ लोगों से हमेशा बच के रहना चाहिए हमको भी आपको भी धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai aap jaroorat se jyaada chaalaak logon ke saath kaise pesh aate hain doston jaise ki sabase pahale hamen kuchh bhee pata nahin hota hai ki saamane vaala vyakti chaalaak hai chatur hai ya bola hai sahana hai kuchh bhee pata nahin chalata hai jaise jaise usake saath samay beetata jaata hai vaise vaise unakee kuchh aadaton ke baare mein hamen pata chalata hai jaise ki kuchh aadaten unakee buree kuchh achchhee donon hee miks roop se hotee hai doston jo unamen durgun hote hain yadi bahut hee jyaada bure ho achchhe ho to unhen kadave roop se bolakar kah dena uchit hota hai aisa hee ham sabhee karate hain kyonki doston bardaasht karane se achchha hai ki unamen jo durgun hai unako door kiya jae aur unako insaan banaaya jae bata dena hee sabase behatar hota hai kyonki vah aaj hamen yadi chaalaak bana raha hai kal ko kisee aur ko banaega to unakee aise buree harakaton ko sheyar karane sahan karana yah kisee ke lie bhee uchit nahin hota hai to unamen kaha bhee gaya hai ki yadi jo jis kisee ke paas rahata hai vah ek dost kee banatee hota hai mitr kee banatee hai aur dost vahee hota hai jo dost ka ant kar deta hai lekin kuchh aadamee kuchh vyakti aise hote hain jo ki bahut hee jyaada aatee kar dete hain buraiyon ko aur bahut hee jyaada chaalaak banane kee koshish karate hain to aise vyaktiyon ko tyaag dena chaahie doston ko aapake lie ghaatak siddh ho sakate hain aisa aapake saath bhee hua hoga hamaare saath bhee hua hai aisa anekon ne kaaphee logon ke saath aisa hota hee hai kuchh vyakti hote hain yah jo bahut hee jyaada chaalaak bahut hee jyaada achchha to moorkh banaane kee koshish karate rahate hain to usako tyaag dena chaahie jaisa ki chaanaky ne kaha tha vidvaan logon ne bhee kaha hai ki aise mitr jisake mukhy par doodh laga hua ho aur andar jahar se bhare ghade ke samaan ho to aise jo dost hote hain mitr hote hain unako tyaag dena hee achchha hota hai vo kisee kaam ke nahin hote hain saamane vah meethe bolate hain achchhaiyaan ginaate hain lekin peeth peechhe buraee karate hain to yah khud ke lie bhee ghaatak siddh hote hain aur auron kee bhee auron ke lie bhee achchhe nahin hote hain to doston aise chalao logon se hamesha bach ke rahana chaahie hamako bhee aapako bhee dhanyavaad

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
mahendra meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahendra जी का जवाब
Unknown
1:08
आपका सवाल है आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं अधिक से अधिक चालाक चालाक तो सभी होते हैं आठ परसेंट लोग चला क्यों होते हैं किंतु वह अपनी चालाकी दिखाते नहीं हो पर भरोसा नहीं करते उन्हें दिखाओ पसंद नहीं है कई लोगों को इसलिए वह दिखाओ नहीं करती वरना वह आपसे ज्यादा चालाक है यदि कोई अपने आपको स्मार्ट समझता है तो वह समझता कि हम ही दुनिया की नंबर वन साला का हमसे बड़ा चालाक सुने कोई है ही नहीं तो कोई आपको वैसा ही समझता बेकार पागल समझता है अपने आपको बहुत ज्यादा समझता है तो हमें अपनी चतुराई दिखाई देनी चाहिए उसे एहसास होगा ना चाहिए कि जो सोचता था वह गलत सोच रहा था थैंक यू
Aapaka savaal hai aap jaroorat se jyaada chaalaak logon ke saath kaise pesh aate hain adhik se adhik chaalaak chaalaak to sabhee hote hain aath parasent log chala kyon hote hain kintu vah apanee chaalaakee dikhaate nahin ho par bharosa nahin karate unhen dikhao pasand nahin hai kaee logon ko isalie vah dikhao nahin karatee varana vah aapase jyaada chaalaak hai yadi koee apane aapako smaart samajhata hai to vah samajhata ki ham hee duniya kee nambar van saala ka hamase bada chaalaak sune koee hai hee nahin to koee aapako vaisa hee samajhata bekaar paagal samajhata hai apane aapako bahut jyaada samajhata hai to hamen apanee chaturaee dikhaee denee chaahie use ehasaas hoga na chaahie ki jo sochata tha vah galat soch raha tha thaink yoo

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
1:25
सवाल आपने क्या आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं अगर कोई इंसान जरूरत से ज्यादा चालाक दिखा रहा है यानी कि वह आपको ऐसी हरकतें करता है आपके सामने ऐसी हरकतें मतलब दोस्तों के सामने करता है जैसे मतलब वह सब कुछ जानता है उसके उसको सब कुछ आता है ऐसे हरकतों का कोई भी इंसान आकर है आपके आस पड़ोस में तो इस इंसान को और आप उनसे दूर ही रहे तो ही बेहतर है क्योंकि ऐसे इंसान जो है क्या होता है कि उनके फायदे के लिए आपको मतलब कोई कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं फायदे मतलब जैसे कि वह आपको नीचा दिखाने के लिए और उन खुद के ऊपर दिखाने के लिए जाए कोई भी परिस्थिति में जो है आप का इस्तेमाल कर सकते हैं और यह आप को समझना चाहिए तो इसने मेरा यही मानना है कि ऐसे व्यक्ति से दूर रहे हो सके तो इनका सही रूप लोगों के को बताइए कि नहीं पता नहीं सकती क्या जो है कार्य में लोग इतना नहीं बोलेंगे उसका प्रूफ चाहिए होता है कि लोगों पर क्योंकि कहीं ना कहीं ऐसी परिस्थितियां बन जाती है कि आप खुद बोल नहीं पाता कि वह ऐसा नहीं है जैसा कि वह दिखाता है तो इसलिए जरूरी है कि आप चाहे जितना से जितना हो सके इनसे दूर रहे ऐसे व्यक्ति आपका इस्तेमाल कभी भी कर सकते हैं उनके फायदे के लिए साल का चार्ट
Savaal aapane kya aap jaroorat se jyaada chaalaak logon ke saath kaise pesh aate hain agar koee insaan jaroorat se jyaada chaalaak dikha raha hai yaanee ki vah aapako aisee harakaten karata hai aapake saamane aisee harakaten matalab doston ke saamane karata hai jaise matalab vah sab kuchh jaanata hai usake usako sab kuchh aata hai aise harakaton ka koee bhee insaan aakar hai aapake aas pados mein to is insaan ko aur aap unase door hee rahe to hee behatar hai kyonki aise insaan jo hai kya hota hai ki unake phaayade ke lie aapako matalab koee kabhee bhee istemaal kar sakate hain phaayade matalab jaise ki vah aapako neecha dikhaane ke lie aur un khud ke oopar dikhaane ke lie jae koee bhee paristhiti mein jo hai aap ka istemaal kar sakate hain aur yah aap ko samajhana chaahie to isane mera yahee maanana hai ki aise vyakti se door rahe ho sake to inaka sahee roop logon ke ko bataie ki nahin pata nahin sakatee kya jo hai kaary mein log itana nahin bolenge usaka prooph chaahie hota hai ki logon par kyonki kaheen na kaheen aisee paristhitiyaan ban jaatee hai ki aap khud bol nahin paata ki vah aisa nahin hai jaisa ki vah dikhaata hai to isalie jarooree hai ki aap chaahe jitana se jitana ho sake inase door rahe aise vyakti aapaka istemaal kabhee bhee kar sakate hain unake phaayade ke lie saal ka chaart

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
2:45
उसने पूछा कि आप जरूरत से ज्यादा चल आप लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं लेकिन लाइफ में बहुत से ऐसे दोस्त मिले मुझे जो सिर्फ चला कि दिखाना चाहते हैं अच्छे दोस्त बुरे दोस्त हर दिल की जो मिले लाइफ में लेकिन जो चला कर दिखा था तो ऐसे लोगों के साथ तो मैं ज्यादातर तो दिखे दूरी में बनाकर रखता हूं मैं काफी दूर रहता हूं घर जब वह मुझसे मिलते भी तो उनके बातों को मैं सुनता हूं और चेहरे पर मुस्कुराहट हमेशा रखता हूं मैं हंसता ही रहता हूं मुझे पता होता है किसी के सामने वाला व्यक्ति कैसा है लेकिन वह जो बड़ी-बड़ी बातें हाई-फाई और बना चढ़ाकर कर बोलता है तो मुझे बहुत हंसी आती मैं मन में ही मन सोचता रहता हूं कि मुझे तो उसके बारे में सब कुछ पता है यह क्या बता रहा है अपने बारे में सब कुछ पता है तो जनाब पट्टी देखिए लाइफ में बहुत मुझे मिले तो कोशिश मेरी यही रहती है अपने को बिजी रखता हूं और थोड़ा दूरी बनाकर ही ऐसे लोगों से रखता हूं क्योंकि देखिए वह हमारी बातें तो नहीं सुनेंगे अपनी बातें हर तरीके की बोलेंगे और जो इंटरेस्ट होता है वह हो सकता है शायद आपकी बात हमारी बात में ना रखें चला वक्त होता बस अपनी वह चला कि दिखाता रहता उसके हर बातों में आपको चला कर देख जाएगी और वह सोचता है कि सामने वाले को नहीं पता वही तो उसकी बेवकूफी है अगर सामने वाला व्यक्ति सब समझता है उसके चेहरे पर मुस्कुराहट आती है उसको यह नहीं पता होता है कि वह जितना चला कर उससे भी बड़ा चलाक सामने वाला भी हो सकता है क्योंकि देखिए क्योंकि वह जो चलाक व्यक्ति होता ना उसको नहीं पता होता वो नहीं जानते कि शेर को सवा शेर हमेशा मिल जाता और कभी ना कभी झूठ होता ना वह पहाड़ के नीचे भी आता है चलाक लोगों को अपने से भी धुरंधर कभी ना कभी टकरा ही जाते हैं तो जो अपने को चलाक समझता है तो उनको मैं भी देखिए उनकी ही तरीके से मैं उनको जवाब देता हूं मेरे पर मुस्कुराहट लाता हूं और उनकी बातों को सुनता हूं कोशिश करता हूं कि ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रहो अपने में बिजी रहो मस्त रहो बोलकर हाथ में लेकर मैं प्रश्नों के जवाब देता रहता हूं अपने को मैं बिजी रहता हूं का लीटर में खाली समय जब भी भी मुझे मिलता मैं यहां प्रश्नों के जवाब देता रहता हूं और मैं अपने को बिजी रहता हूं और इधर उधर की बातें अपने दिमाग में कभी नहीं लाता उनकी चलाती है वह अपना जीवन कैसे जी रहे हैं वह जिए मैं कैसे जी रहा हूं मैं बस अपने तरीके से जीता हूं और हमेशा खुश रहने का प्रयास करता हूं कोशिश करता हूं सामने वाले को भी खुश रखो मेरा बस जीवन यही है जय हिंद जय भारत
Usane poochha ki aap jaroorat se jyaada chal aap logon ke saath kaise pesh aate hain lekin laiph mein bahut se aise dost mile mujhe jo sirph chala ki dikhaana chaahate hain achchhe dost bure dost har dil kee jo mile laiph mein lekin jo chala kar dikha tha to aise logon ke saath to main jyaadaatar to dikhe dooree mein banaakar rakhata hoon main kaaphee door rahata hoon ghar jab vah mujhase milate bhee to unake baaton ko main sunata hoon aur chehare par muskuraahat hamesha rakhata hoon main hansata hee rahata hoon mujhe pata hota hai kisee ke saamane vaala vyakti kaisa hai lekin vah jo badee-badee baaten haee-phaee aur bana chadhaakar kar bolata hai to mujhe bahut hansee aatee main man mein hee man sochata rahata hoon ki mujhe to usake baare mein sab kuchh pata hai yah kya bata raha hai apane baare mein sab kuchh pata hai to janaab pattee dekhie laiph mein bahut mujhe mile to koshish meree yahee rahatee hai apane ko bijee rakhata hoon aur thoda dooree banaakar hee aise logon se rakhata hoon kyonki dekhie vah hamaaree baaten to nahin sunenge apanee baaten har tareeke kee bolenge aur jo intarest hota hai vah ho sakata hai shaayad aapakee baat hamaaree baat mein na rakhen chala vakt hota bas apanee vah chala ki dikhaata rahata usake har baaton mein aapako chala kar dekh jaegee aur vah sochata hai ki saamane vaale ko nahin pata vahee to usakee bevakoophee hai agar saamane vaala vyakti sab samajhata hai usake chehare par muskuraahat aatee hai usako yah nahin pata hota hai ki vah jitana chala kar usase bhee bada chalaak saamane vaala bhee ho sakata hai kyonki dekhie kyonki vah jo chalaak vyakti hota na usako nahin pata hota vo nahin jaanate ki sher ko sava sher hamesha mil jaata aur kabhee na kabhee jhooth hota na vah pahaad ke neeche bhee aata hai chalaak logon ko apane se bhee dhurandhar kabhee na kabhee takara hee jaate hain to jo apane ko chalaak samajhata hai to unako main bhee dekhie unakee hee tareeke se main unako javaab deta hoon mere par muskuraahat laata hoon aur unakee baaton ko sunata hoon koshish karata hoon ki aise logon se dooree banaakar raho apane mein bijee raho mast raho bolakar haath mein lekar main prashnon ke javaab deta rahata hoon apane ko main bijee rahata hoon ka leetar mein khaalee samay jab bhee bhee mujhe milata main yahaan prashnon ke javaab deta rahata hoon aur main apane ko bijee rahata hoon aur idhar udhar kee baaten apane dimaag mein kabhee nahin laata unakee chalaatee hai vah apana jeevan kaise jee rahe hain vah jie main kaise jee raha hoon main bas apane tareeke se jeeta hoon aur hamesha khush rahane ka prayaas karata hoon koshish karata hoon saamane vaale ko bhee khush rakho mera bas jeevan yahee hai jay hind jay bhaarat

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आए, जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आना चाहिए
URL copied to clipboard