#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?

Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Priyal dawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Priyal जी का जवाब
Future Doctor
1:24
प्रश्न पूछा गया है कि हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं तो देखिए यह एक प्रकार का ह्यूमन नेचर होता है कि हम सामने वाले के अंदर वही चीजें कुछ नहीं लगते हैं ढूंढने लगते हैं जो हमें पसंद है या फिर मैं क्यों कहूं कि अगर दो लोगों के बीच में सेम इंटरेस्ट है दोनों को सेंड चीजों में इंटरेस्ट है तो उन लोगों की काफी बनती है क्योंकि वह अपने इंटरेस्ट के हिसाब से अब काम चूस कर पाते हैं और उसमें खुशी ढूंढ पाते हैं पर देखिए एक यह भी है कि ह्यूमन साइकोलॉजी होती है कि हम अपने अपॉजिट नेचर की तरफ ज्यादा अट्रैक्ट होते हैं और उससे क्या होता है कि सिग्नेचर है तो अभी सी बात है कि उसमें बहुत सारे डिफरेंसेस होंगे मतभेद होंगे आदतों में डिफरेंस होंगे काम करने के तरीकों में डिफरेंस होने के लिए और इन्हीं सब छोटी छोटी चीजों के कारण मतभेद पैदा होने लगते हैं और झगड़े होने लगते हैं नफरत होने लगती है तो देखिए हमें छोटी मोटी नफरत और पर मतभेद तो चलते ही है लेकिन हमें यह ध्यान रखना चाहिए कोशिश करनी चाहिए कि हम सामने वाले को भी समझने की कोशिश करें उसके पॉइंट ऑफ यू को भी समझने की कोशिश करें और इन डिफरेंस इसके कारण अपने रिश्तो में नफरत और दूध लाने के ना कोशिश करें बल्कि हम अंडरस्टैंडिंग के साथ खुशी के साथ अपना जीवन बिताने की कोशिश करें धन्यवाद
Prashn poochha gaya hai ki ham apane matabhedon ke kaaran ek doosare se napharat kyon karate hain to dekhie yah ek prakaar ka hyooman nechar hota hai ki ham saamane vaale ke andar vahee cheejen kuchh nahin lagate hain dhoondhane lagate hain jo hamen pasand hai ya phir main kyon kahoon ki agar do logon ke beech mein sem intarest hai donon ko send cheejon mein intarest hai to un logon kee kaaphee banatee hai kyonki vah apane intarest ke hisaab se ab kaam choos kar paate hain aur usamen khushee dhoondh paate hain par dekhie ek yah bhee hai ki hyooman saikolojee hotee hai ki ham apane apojit nechar kee taraph jyaada atraikt hote hain aur usase kya hota hai ki signechar hai to abhee see baat hai ki usamen bahut saare dipharenses honge matabhed honge aadaton mein dipharens honge kaam karane ke tareekon mein dipharens hone ke lie aur inheen sab chhotee chhotee cheejon ke kaaran matabhed paida hone lagate hain aur jhagade hone lagate hain napharat hone lagatee hai to dekhie hamen chhotee motee napharat aur par matabhed to chalate hee hai lekin hamen yah dhyaan rakhana chaahie koshish karanee chaahie ki ham saamane vaale ko bhee samajhane kee koshish karen usake point oph yoo ko bhee samajhane kee koshish karen aur in dipharens isake kaaran apane rishto mein napharat aur doodh laane ke na koshish karen balki ham andarastainding ke saath khushee ke saath apana jeevan bitaane kee koshish karen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
1:14
प्रश्न करना जाना चाहते हैं कि हम अपने मतभेदों के कारण एक एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं ताकि इसका तो जवाब है एक शब्द में अगर मैं कहूं तो वह है अपेक्षा कि यह है कि जैसे कि कोई दूसरा व्यक्ति है तो उससे कई बार ही अपेक्षा करते कि वह भी हमारी तरह सोचेगा लेकिन जब हमारी तरह नहीं सोचता तो हम कर दुखी हो जाते हैं जैसे कि मान कर चलो कि हम किसी टॉपिक पर बात कर रहे हैं और उसके विचार हम से नहीं मिलते तो अगर आओ तो हम क्या करते हैं कि हम जब उससे उस टॉपिक पर बात कर रहे होते हैं तब मन में यह सोच के रखते हैं कि वह भी हमसे ऐड नहीं करेगा हमारी हर बात पर आखिरी करेगा और बाद में जब हमें पता चलता है कि दोस्ती हमारी बात से एग्री नहीं करता तो हम सच हो जाते हैं इसके कारण अगर नफरत ना करें उसके लिए हम अपने मन में बैठा के रखता है कि सामने वाले श्याम पास तो करें लेकिन जरूरी है कि सामने वाला हमारी हर बात से एग्री करेगा हो सकता है कि उसके अपने अपने कुछ विचार होगा सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Prashn karana jaana chaahate hain ki ham apane matabhedon ke kaaran ek ek doosare se napharat kyon karate hain taaki isaka to javaab hai ek shabd mein agar main kahoon to vah hai apeksha ki yah hai ki jaise ki koee doosara vyakti hai to usase kaee baar hee apeksha karate ki vah bhee hamaaree tarah sochega lekin jab hamaaree tarah nahin sochata to ham kar dukhee ho jaate hain jaise ki maan kar chalo ki ham kisee topik par baat kar rahe hain aur usake vichaar ham se nahin milate to agar aao to ham kya karate hain ki ham jab usase us topik par baat kar rahe hote hain tab man mein yah soch ke rakhate hain ki vah bhee hamase aid nahin karega hamaaree har baat par aakhiree karega aur baad mein jab hamen pata chalata hai ki dostee hamaaree baat se egree nahin karata to ham sach ho jaate hain isake kaaran agar napharat na karen usake lie ham apane man mein baitha ke rakhata hai ki saamane vaale shyaam paas to karen lekin jarooree hai ki saamane vaala hamaaree har baat se egree karega ho sakata hai ki usake apane apane kuchh vichaar hoga sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
1:15
नमस्कार डे यह मत भेज कुछ नहीं होता है हमारे अंदर की सोच होती है हमारी खुद की बनाई हुई एक मानसिक कल्पना होती है कि यह अच्छा नहीं होगा इनसे हम दूर रहना चाहिए कि अच्छे लोग नहीं गए तो यह बचपन से किसी को देखकर यह हमारे माता-पिता के कारण हम किसी से नफरत करने लगते हैं और वह नफरत उम्र के साथ बढ़ती जाती है इंसान सभी एक से होते हैं हर इंसान में अच्छा होती है रोज करती है यह दूसरों को समझने की और और सभी प्रकार की मांगी क्रश ना होती है सभी इंसानों में एक सी होती है जो किस खोज के कारण अलग दिखने लगती है तो किसी के किसी प्रकार का मतभेद ना रखें मिलजुल कर रहे खुश रहे धन्यवाद
Namaskaar de yah mat bhej kuchh nahin hota hai hamaare andar kee soch hotee hai hamaaree khud kee banaee huee ek maanasik kalpana hotee hai ki yah achchha nahin hoga inase ham door rahana chaahie ki achchhe log nahin gae to yah bachapan se kisee ko dekhakar yah hamaare maata-pita ke kaaran ham kisee se napharat karane lagate hain aur vah napharat umr ke saath badhatee jaatee hai insaan sabhee ek se hote hain har insaan mein achchha hotee hai roj karatee hai yah doosaron ko samajhane kee aur aur sabhee prakaar kee maangee krash na hotee hai sabhee insaanon mein ek see hotee hai jo kis khoj ke kaaran alag dikhane lagatee hai to kisee ke kisee prakaar ka matabhed na rakhen milajul kar rahe khush rahe dhanyavaad

bolkar speaker
हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:40
अपने मतभेदों के कारण दूसरे से नफरत क्यों करते हैं नफरत है इसलिए करते हैं कि हमारे मान सम्मान पर कोई आंच आती है तो हम उसको साहनी का पाते हैं और जो कहते हैं क्रोध अचार का मुरब्बा है तो जो प्यार होता है धीरे-धीरे टूर में परिवर्तित हो जाता है और उसमें पैर के कारण मजबूत होने लगते हैं मतभेद होते हैं स्वाभिमान के मतभेद होते हैं मन ना मिलने के कारण एक दूसरे के मन में मिलते नहीं है हाथी वे अपनी रक्षा करता है जैसे जी का लांच हो जाए ना जिसे कहते हैं नीम ना मीठी हुए खाओ गर्दिश में तो अपने परिवार को भी छोड़ना नहीं चाहता है यह बदलता नहीं है रिश्ते मजबूत बढ़ते जाते हैं दूसरों का सम्मान करना छोड़ दें तो मत भेज दे वरना तो हो जाए हमारे लिए जरूरी है कि हम आपस में एक साथ बैठकर सहमति से दोस्ती से रीवा जला पाते हैं तो मतभेद को दूर होते हैं परंतु जब कोई तुम्हारी बात सुनाई नहीं चाहता है किसी मतभेद बातें ही आते हैं और यह सब नासमझी चाहिए या कम पढ़े लिखे लोगों में होता है जो पढ़े लिखे लोग होते हैं वह इसका नैना जानते हैं बंटू बिहार में में गांव में जो कम पढ़े लिखे लोग हैं या रूढ़ीवादी हैं तो उनमें निवेश भरता जाता है वह भी अपनी हटके का स्कूल छोड़ना नहीं चाहते हैं तुम मतभेद बना स्वागत है वैसे हम आप की विचारधारा से ही दूर कर सकते हैं हमें एक दूसरों के स्वाभिमान का ध्यान रखना चाहिए आत्मसम्मान को किसी के पास नहीं है ताकि मतभेद हो सकते हैं थैंक यू धन्यवाद
Apane matabhedon ke kaaran doosare se napharat kyon karate hain napharat hai isalie karate hain ki hamaare maan sammaan par koee aanch aatee hai to ham usako saahanee ka paate hain aur jo kahate hain krodh achaar ka murabba hai to jo pyaar hota hai dheere-dheere toor mein parivartit ho jaata hai aur usamen pair ke kaaran majaboot hone lagate hain matabhed hote hain svaabhimaan ke matabhed hote hain man na milane ke kaaran ek doosare ke man mein milate nahin hai haathee ve apanee raksha karata hai jaise jee ka laanch ho jae na jise kahate hain neem na meethee hue khao gardish mein to apane parivaar ko bhee chhodana nahin chaahata hai yah badalata nahin hai rishte majaboot badhate jaate hain doosaron ka sammaan karana chhod den to mat bhej de varana to ho jae hamaare lie jarooree hai ki ham aapas mein ek saath baithakar sahamati se dostee se reeva jala paate hain to matabhed ko door hote hain parantu jab koee tumhaaree baat sunaee nahin chaahata hai kisee matabhed baaten hee aate hain aur yah sab naasamajhee chaahie ya kam padhe likhe logon mein hota hai jo padhe likhe log hote hain vah isaka naina jaanate hain bantoo bihaar mein mein gaanv mein jo kam padhe likhe log hain ya roodheevaadee hain to unamen nivesh bharata jaata hai vah bhee apanee hatake ka skool chhodana nahin chaahate hain tum matabhed bana svaagat hai vaise ham aap kee vichaaradhaara se hee door kar sakate hain hamen ek doosaron ke svaabhimaan ka dhyaan rakhana chaahie aatmasammaan ko kisee ke paas nahin hai taaki matabhed ho sakate hain thaink yoo dhanyavaad

bolkar speaker
हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Abhinay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abhinay जी का जवाब
Artist
2:53

bolkar speaker
हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
4:59
प्रश्न है हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करने लगते हैं देखिए दोस्तों एग्जांपल में देती हूं आपको उसी की तो बताते हो किसी को नॉनवेज पसंद है किसी को नॉनवेज नहीं पसंद है ठीक है अब आप दोनों एक साथ हैं आपको नॉनवेज पसंद है तो आप चाहते हैं कि सामने वाला खाए ठीक है पर वह नहीं खाना चाहता लेकिन फिर भी आप चाहते हैं वह खाए दिन दूसरा मुझे नॉनवेज पसंद नहीं है तो तुम भी खाना छोड़ दो वह भी अपने आप जो उसका भी कोई एक डिलीट सिस्टम में तो वह भी हो तो फ्री है तो पड़ा है तू फ्री है जो भी है ठीक है तू आप लोगों को जो पसंद है आप लोग वह करिए ना आप लोग क्या करते हो कि मुझे जो पसंद नहीं है तुम वह मत ही करो हम क्या करते हैं सामने वाले को रोका टोकी करते हैं एक पाबंदी लगा देते हैं सबसे पहले तो हमें यह देखना होगा कि अगर मुझे नॉनवेज पसंद है तो मैं बनाऊंगा मैं खा लूंगा मैं बर्तन धो के रख दूंगा जो भी है लड़का हो या लड़की ठीक है जहां मैच खत्म दूसरा लड़का हो या लड़की मुझे पसंद नहीं है तो मैं ना खाऊंगी और ना ही मुझे किसी को बोलने की जरूरत है ठीक है तो यहां प्रॉब्लम खत्म हो गई अब खत्म तुम क्या करते हैं उल्टा ही करते हैं क्या करते हैं एक बात हुई तो वहां दोनों को दोनों एक साथ बहस करने लगते हैं क्योंकि सबकी प्लीज सिस्टम अलग है सबकी विचार अलग है सबके संस्कार लगे तो इतना तो समझना चाहिए कि यह मेरे जैसे नहीं है इसका मोहित के घर का माहौल अगर मेरे जैसे होता तो कहीं ना कहीं इस क्यों मेरे विचार एक होते हैं ना तो वहां भी मत गई तो होता ही होता कि मुझे चाहिए मुझे चाहिए ऐसे होता ना तो यहां हमें सबको सब के विचारों को तक के संस्कारों को सब की बलि सिस्टम को सम्मान देना चाहिए तुम्हें जो पसंद है तुम करो उन्हें आजादी देनी चाहिए कहीं अगर बहस वाली बात हो रही है तो वहां एक दूसरे को समझ कर यह कहना कि तुम्हें यह लगता है तुम मुझे यह लगता है मतलब हम दोनों का बिल सिस्टम हमारे संस्कार हमारे विचार अलग है ठीक है कोई बात नहीं हम मतलब वहां करना है इस चीज में आपको रोका टोकी ना करें इस चीज में मैं भी रोका टोकी नहीं करूंगा तो बहस खत्म हम लोग क्या करते हैं कि एक इंसान किसी के साथ बहुत बुरा करता है तो हम उस इंसान से नफरत करने लगते ना क्योंकि बहुत ज्यादा ही बुरा करता है बहुत ज्यादा ही इसके साथ लेकिन गलत वह भी नहीं है अगर वह आपके साथ बुरा भी कर रहा है तो क्या करते हो वह चीज चाहते हो तो गलत आप आपको इस टाइम देना चाहिए कहीं भी अगर आपकी सेल्फ रिस्पेक्ट योर कोई चीज में भी कुछ हो रहा है तो आपको स्टैंड लेना होगा ठीक है बहुत ही ज्यादा हो रहा है तो वहां आवाज उठानी हूं यह जरूरी है अगर आप अगर अपने लिए स्टैंड नहीं ले रहे हो सर और सर उसके बाद उस इंसान के साथ सहते सहते आप उस इंसान से नफरत करने लगते हो गलती उसकी भी नहीं है आप लेना नहीं सीखना यह आपकी गलती है तो आपको सबको फ्रीडम देनी होगी कहीं गलत हो रहा है तुम्हारे स्टैंड लेना सीखना होगा अगर रिलेशनशिप में भी कोई गलत चीज हो रही है तुम्हारा सीखना होगा ठीक है नफरत की कोई गुंजाइश नहीं है वह आपको बताना होगा कि मुझे यह सारी चीजें पसंद नहीं है अगर दोबारा ऐसा हुआ तो सॉरी तुझसे मैं एडजस्ट नहीं कर सकती आपको खुल कर बोलना होगा मैंने आपको इंडिपेंडेंट बनना होगा अपनी भावनाओं के थ्रू भी फाइनेंशियल्स भी होना जरूरी है ठीक है भावनाओं का भावनाओं के ऊपर अगर आपने किसी और को हक दे दिया तू इंसान आपको हर्ट ही करेगा तो यहां गलती आपकी है आपको अपने भावनाओं की छवियों को अपने पास रखना है अगर आप नौकरी करते हैं फाइनेंसियल डिपेंड है खुद पर तो काम करने तो आप ही जाएंगे ना कि कोई और जाएगा नहीं ना तो बस वही है कि भावनाओं भावनाएं आपकी है तू भावनाओं पर हक भी आपका होना चाहिए आपको दोनों चीज मिस्टर लेना होगा कहीं गलत हो रहा है तो खड़े हुए यह नहीं कि वह मेरे साथ ऐसा करता है वैसा करता हूं वह गलत नहीं कर रहा है कि आप गलत कर रहे हो खुद के साथ अगर आपने खुद को रिस्पेक्ट भी है तो कोई आपके साथ कुछ भी गलत नहीं कर सकता ठीक है जी याद रखिएगा नफरत की गुंजाइश नहीं होती है जहां आप दिन भर सोते रहते हो गलत आप ही हो सहने के लिए किसी ने नहीं कहा अर्जेस्ट करने के लिए किसी ने नहीं कहा बस वो 3D मेंटालिटी बना दी है कि हर लड़की हर लड़की को हर रिश्ते में सहना है समझौता करके रहना वहां खुश ही नहीं है वहां से उसे समझौता है एक्चुअली में हैप्पीनेस सिर्फ हमारे अंदर होती है वहां में समझौता करने की जरूरत नहीं होती वहां मैं समझ ना होता है एक दूसरे को समझ कर चलना है वहां समझौता नहीं करना तो हर चीज में स्टैंड लेना है अगर कोई आपके साथ बुरा बर्ताव कर रहा है तू वहां खड़े हो जाइए किसी से कोई नफरत की गुंजाइश इसलिए हो जाती है क्योंकि आप अपने लिए स्टैंड नहीं लेते हैं तो प्लीज स्टैंड लीजिए और नफरत को खत्म करें

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं
URL copied to clipboard