#undefined

bolkar speaker

स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे?

Swami Vivekanand America Kyun Gaye The
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:35
नमस्ते दोस्तों आज का आपका सवाल है स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे स्वामी विवेकानंद जो हमारे भारत का आधा आत्मीयता से परिपूर्ण वेदांत दर्शन अमेरिका यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानंद की वक्रता के कारण ही पहुंचा है और विश्व धर्म संसद 1893 में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए प्रस्थान किया था धन्यवाद और खुश रहो
Namaste doston aaj ka aapaka savaal hai svaamee vivekaanand amerika kyon gae the svaamee vivekaanand jo hamaare bhaarat ka aadha aatmeeyata se paripoorn vedaant darshan amerika yoorop ke har ek desh mein svaamee vivekaanand kee vakrata ke kaaran hee pahuncha hai aur vishv dharm sansad 1893 mein bhaarat ka pratinidhitv karane ke lie sanyukt raajy amerika ke lie prasthaan kiya tha dhanyavaad aur khush raho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे?Swami Vivekanand America Kyun Gaye The
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:23
क्या आपका प्रश्न है स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे आदि के स्वामी विवेकानंद एक 11 सितंबर 28 जनवरी को शिकागो में हुए विश्व धर्म सम्मेलन में एक बेहद चर्चित भाषण दिया था विवेकानंद का जब भी जिक्र आता है उनके इस भाषण की चर्चा जरूर होती है

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे?Swami Vivekanand America Kyun Gaye The
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:43
स्वागत है आपका आपका प्रश्न स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों कहेंगे तो अंग्रेजों ने यह शर्त रखी थी कि अंग्रेजी में कोई स्पीच नहीं दे सकता है एक घंटा बोल नहीं सकता तो स्वामी विवेकानंद ऐसी शर्त को स्वीकार करती हुई अमेरिका गए थे और उन्होंने एक घंटा लगाता रुके हुए दिन में स्पीच दी थी और बोल के सिद्ध किया था यह कि हम भी भारतवासी किसी से कम नहीं और हम इंग्लिश में बोलना अच्छी तरह से जानते हैं और भी बहुत ही ज्यादा प्रतिभावान देती थी विवेकानंद जी के विचार इतनी अच्छे थे जिनका आज मिश्रण किया जाता है आज भी उन्हें याद किया जाता है कि वे अमेरिका और चाहिए अंग्रेजी बोलने के लिए ही गए थे धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn svaamee vivekaanand amerika kyon kahenge to angrejon ne yah shart rakhee thee ki angrejee mein koee speech nahin de sakata hai ek ghanta bol nahin sakata to svaamee vivekaanand aisee shart ko sveekaar karatee huee amerika gae the aur unhonne ek ghanta lagaata ruke hue din mein speech dee thee aur bol ke siddh kiya tha yah ki ham bhee bhaaratavaasee kisee se kam nahin aur ham inglish mein bolana achchhee tarah se jaanate hain aur bhee bahut hee jyaada pratibhaavaan detee thee vivekaanand jee ke vichaar itanee achchhe the jinaka aaj mishran kiya jaata hai aaj bhee unhen yaad kiya jaata hai ki ve amerika aur chaahie angrejee bolane ke lie hee gae the dhanyavaad

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे?Swami Vivekanand America Kyun Gaye The
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:26
ऑफिस वाले की स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे स्वामी विवेकानंद जी ने एक धर्म सम्मेलन में भाग लेने के लिए अमेरिका के शिकागो शहर में गए थे उन्होंने अपने धर्म को आगे बढ़ाने के लिए एक सम्मेलन किया गया था उसे अपने धर्म की चर्चा करने के लिए अमेरिका गए थे धन्यवाद
Ophis vaale kee svaamee vivekaanand amerika kyon gae the svaamee vivekaanand jee ne ek dharm sammelan mein bhaag lene ke lie amerika ke shikaago shahar mein gae the unhonne apane dharm ko aage badhaane ke lie ek sammelan kiya gaya tha use apane dharm kee charcha karane ke lie amerika gae the dhanyavaad

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे?Swami Vivekanand America Kyun Gaye The
Gopal rana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gopal जी का जवाब
Unknown
0:20
स्वामी विवेकानंद अमेरिका हिंदू धर्म सत्य सनातन हिंदू धर्म के प्रचार प्रसार करने के लिए हिंदू धर्म सम्मेलन में भाग लेने के लिए वह अमेरिका के शिकागो स्थान में गए थे
Svaamee vivekaanand amerika hindoo dharm saty sanaatan hindoo dharm ke prachaar prasaar karane ke lie hindoo dharm sammelan mein bhaag lene ke lie vah amerika ke shikaago sthaan mein gae the

bolkar speaker
स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे?Swami Vivekanand America Kyun Gaye The
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:21
स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे उस समय अमेरिका में एक विश्वधर्म परिषद का आयोजन किया जाने वाला वाला था लेकिन हिंदू धर्म को कोई निमंत्रण नहीं मिला था बाकी सारे धर्मों के बीच में दीवार पुराने वाले थे और अपनी अपनी बातें रखने वाली थी तो अपने भारत की कुछ लोगों ने उन्हें एक हिंदू धर्म का प्रतीक के रूप में उनकी विद्वत्ता को देखते हुए अमरीका भेजा वहां पर उनको उस सम्मेलन में है पहले इजाजत नहीं मिल रही थी लेकिन कुछ प्रेस करने के बाद जब इजाजत मिली तो उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत जो है वह ब्रदर और सिस्टर से कि इसका मतलब पूरी दुनिया को हिंदू धर्म दूसरे धर्म के अनुयायियों को भी अपना भाई मानता है यह मैसेज दिया उसके पहले उसके वाले वक्ता जोशी वह शुरुआत लेडीज एंड जेंटलमैन मैंने करती थी शब्दों में ही एक दूरी है जंक्शन के बीच में लेकिन भाइयों और बहनों कहने में इतनी दूरी नहीं है और हिंदू धर्म का जो अपन तत्वज्ञान था वह अद्वैत का तत्वज्ञान जो था जिसका मतलब होता है कि सब एक ही है एक ही सच्ची से निकल कर आए हुए सभी इंसान में और पूरा ब्रह्मांड इसलिए आपस में किसी तरह के भेदभाव नहीं करनी चाहिए सबको अपने भाई बहन समान कर जिंदगी जी लेनी चाहिए इस तरह के जो पूरा पूरा हिंदू 950va होने पर दर्शाया और बाद में उसे अमेरिका के बहुत लोग प्रभावित हुए हैं और कई जगह पर उनको लेक्चर के लिए बुलाया गया और उन्होंने हिंदू धर्म के इंफॉर्मेशन जो जगह-जगह पर भाषण करके अमेरिका में जी और उस समय से विश्व हिंदू धर्म को विदेशों में जाना गया उसकी और लोगों का अभ्यास होगा लक्ष गया निगाहें अब चर्चा होने लगी और स्टडी होने लगा उसको संशोधन होने लगे लेकिन पहली बार वीडियो हनुमान के प्रवक्ता के रूप में विदेश गए और हिंदू धर्म का रोहित प्रसाद प्रचार किया और वह भी बड़ी ताकत के साथ स्टडी के साथ और दुनिया को प्रभावित किया तो इस काम के लिए स्वामी विवेकानंद अमेरिका गए थे और उसके बाद उनको कई शिष्य वहां पर मिले धन्यवाद
Svaamee vivekaanand amerika kyon gae the us samay amerika mein ek vishvadharm parishad ka aayojan kiya jaane vaala vaala tha lekin hindoo dharm ko koee nimantran nahin mila tha baakee saare dharmon ke beech mein deevaar puraane vaale the aur apanee apanee baaten rakhane vaalee thee to apane bhaarat kee kuchh logon ne unhen ek hindoo dharm ka prateek ke roop mein unakee vidvatta ko dekhate hue amareeka bheja vahaan par unako us sammelan mein hai pahale ijaajat nahin mil rahee thee lekin kuchh pres karane ke baad jab ijaajat milee to unhonne apane bhaashan kee shuruaat jo hai vah bradar aur sistar se ki isaka matalab pooree duniya ko hindoo dharm doosare dharm ke anuyaayiyon ko bhee apana bhaee maanata hai yah maisej diya usake pahale usake vaale vakta joshee vah shuruaat ledeej end jentalamain mainne karatee thee shabdon mein hee ek dooree hai jankshan ke beech mein lekin bhaiyon aur bahanon kahane mein itanee dooree nahin hai aur hindoo dharm ka jo apan tatvagyaan tha vah advait ka tatvagyaan jo tha jisaka matalab hota hai ki sab ek hee hai ek hee sachchee se nikal kar aae hue sabhee insaan mein aur poora brahmaand isalie aapas mein kisee tarah ke bhedabhaav nahin karanee chaahie sabako apane bhaee bahan samaan kar jindagee jee lenee chaahie is tarah ke jo poora poora hindoo 950va hone par darshaaya aur baad mein use amerika ke bahut log prabhaavit hue hain aur kaee jagah par unako lekchar ke lie bulaaya gaya aur unhonne hindoo dharm ke imphormeshan jo jagah-jagah par bhaashan karake amerika mein jee aur us samay se vishv hindoo dharm ko videshon mein jaana gaya usakee aur logon ka abhyaas hoga laksh gaya nigaahen ab charcha hone lagee aur stadee hone laga usako sanshodhan hone lage lekin pahalee baar veediyo hanumaan ke pravakta ke roop mein videsh gae aur hindoo dharm ka rohit prasaad prachaar kiya aur vah bhee badee taakat ke saath stadee ke saath aur duniya ko prabhaavit kiya to is kaam ke lie svaamee vivekaanand amerika gae the aur usake baad unako kaee shishy vahaan par mile dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • स्वामी विवेकानंद अमेरिका क्यों गए थे
URL copied to clipboard