#जीवन शैली

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:14
नमस्कार पहली बात तो इस पर जवाब मैं देना पसंद करूंगा दूसरी बात कि आप कामयाब नहीं होते या नहीं हो पाती यह बिल्कुल गलत है आप अगर मन लगाकर मेहनत करेंगे तो आप जरूर कामयाब होंगे आपके अंदर एक सफलता का डर बैठ गया जिसकी वजह से आप किसी की भी काम को करते हैं तो आपका आत्मविश्वास गिरा वह होने के कारण आप उस काम को नहीं कर पाते हैं आप बुरा नहीं जितनी भी बातें हम सबको भूल कर अपनी असफलताओं को भूल गई और मन लगाकर पूरे जोश के साथ किसी भी काम को शुरू कीजिए और सिर्फ सफलता क्यों सोचें कि मैं सफल ही होंगा तो यह मेरा दावा है कि आप जरुर सफल होगी और कितनी बार आप ऐसा करोगे सफलता की सीढ़ियां बनाते जाएगी कभी ना कभी तो सफलता मिलेगी ऐसा बोलता हूं कि मेरे मत सोचिए जितनी ज्यादा हो या नहीं मान लो आपके जीवन में 100 बार पुराने 50 बारो है उसके बच्चे में 50 को जल्द से जल्द पूरा कर देंगे ताकि आप सफलता पा सके पिछले असफलताओं से मत घबराइए और आगे बढ़ते रहिए
Namaskaar pahalee baat to is par javaab main dena pasand karoonga doosaree baat ki aap kaamayaab nahin hote ya nahin ho paatee yah bilkul galat hai aap agar man lagaakar mehanat karenge to aap jaroor kaamayaab honge aapake andar ek saphalata ka dar baith gaya jisakee vajah se aap kisee kee bhee kaam ko karate hain to aapaka aatmavishvaas gira vah hone ke kaaran aap us kaam ko nahin kar paate hain aap bura nahin jitanee bhee baaten ham sabako bhool kar apanee asaphalataon ko bhool gaee aur man lagaakar poore josh ke saath kisee bhee kaam ko shuroo keejie aur sirph saphalata kyon sochen ki main saphal hee honga to yah mera daava hai ki aap jarur saphal hogee aur kitanee baar aap aisa karoge saphalata kee seedhiyaan banaate jaegee kabhee na kabhee to saphalata milegee aisa bolata hoon ki mere mat sochie jitanee jyaada ho ya nahin maan lo aapake jeevan mein 100 baar puraane 50 baaro hai usake bachche mein 50 ko jald se jald poora kar denge taaki aap saphalata pa sake pichhale asaphalataon se mat ghabaraie aur aage badhate rahie

और जवाब सुनें

kaalki Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए kaalki जी का जवाब
Marketing executive,,deals with wellness products,,Driver,
2:58
सवाल काफी अच्छा है और यह सवाल ही नहीं का नहीं ऐसे बहुत से लोगों का है तो मैं सवाल कहता हूं कि मैं कभी कामयाब नहीं हो पाता यार कुछ भी कर लो कितनी भी मेहनत कर लो कहीं ना कहीं कोई ना कोई कमी रह जाती है तो दोस्तों यह जो सवाल है यह सिर्फ आप ही का नहीं ऐसे बहुत से लोग तो मैं आज आप कोई सवाल का जवाब देने के लिए एक बात बता तो देखो दोस्त जीवन में इस संसार में तो हर एक एक इंसान पड़ेगा चाहे आप इंडिया ले लो अमेरिका ले लो जी ले लो चाहे ना कहीं पर भी आप चले जाइए हमेशा आपको दो तरह के लोग भी एक वह जो अपने रिलीजन के घाट पर भगवान पर अल्लाह पर वाहेगुरु पर विश्वास रखते हैं और एक वह जो इन सभी बातों पर विश्वास नहीं रखते तो आइए देखते कि इन दोनों की जिंदगी किस तरीके की होती है जो ईश्वर में विश्वास नहीं रखता सर मैं मेहनत वह भी कर रहे हैं ईश्वर पर विश्वास रखता है अर्जुन रखता है ईश्वर पर विश्वास खुद को यह सब कुछ मानता है तो क्या होता है कि वह मेहनत करता है हर तरह का काम करने की कोशिश करता है लेकिन सफल नहीं हुआ तो जरूरी नहीं है कि दुनिया में जितने लोग सभी एक बड़ा सपना लेकर पैदा होते हैं और यह भी जरूरी नहीं है कि हर कोई अपने को खा ले तो क्या होता है जो इंसान सिर्फ खुद को ही मानता है क्योंकि देखो या को ईश्वर को मानो या तो खुद को मानो ऐसा ही इंसान कि मैं डिलीट होती है अगर वह ईश्वर में विश्वास रखता है तो वह खुद को कुछ नहीं मानता और अपने आप को सिर्फ ईश्वर के भरोसे रखता है और जो ईश्वर को नहीं मानता वह सब कुछ खुद को ही मानता है तो अब ऐसे में क्या होता है जब ऐसा इंसान है जो ईश्वर में विश्वास नहीं रखता गॉड पर ट्रस्ट नहीं रखता तो ऐसा इंसान जब फेल होता है अपनी लाइफ में मेहनत करता है और फिर भी कुछ ना कुछ कमी रह जाती हो कि काम हो गया तो क्या है कि इन कामों को बनाने के लिए उम्मीद दूसरों से करता है और एक छोटी सी उम्मीद खुद से भी करता है लेकिन इसे फिर भी कामयाबी नहीं मिलती तो ऐसे में क्या है कि एक दिन यह कमजोर पड़ जाता है पॉजिटिव एनर्जी स्टार्टिंग में होती है मेहनत के टाइम पर वह सब नेगेटिव बन जाती है और यह कैसा इंसान बन जाता है जिसमें किसी भी प्रकार का जिज्ञासा नहीं रहती तो ईश्वर पर विश्वास रखते हैं वह हमेशा सोचता है कि अगर कुछ भी गलत काम पड़ता है लेकिन जितनी भी मेहनत का फल होता हूं तो शायद पिछले जन्म के पुराने कर्मों का ही मेरे को फल मिलता है लेकिन उसकी दोस्त कैसी होती उसकी सोच ऐसी होती कि यार शायद मुझे जितना इस टाइम पर मिल रहा है या जितना मेरे को भोगना पड़ रहा है वह ईश्वर के नाम लेने से कम मिल रहे हैं तो इसके अंदर ही रहती है हमेशा की तो बस दोस्ती है या घर ईश्वर को मान लोगे तो शायद एनर्जी हमेशा बरकरार रहेगी और अपना
Savaal kaaphee achchha hai aur yah savaal hee nahin ka nahin aise bahut se logon ka hai to main savaal kahata hoon ki main kabhee kaamayaab nahin ho paata yaar kuchh bhee kar lo kitanee bhee mehanat kar lo kaheen na kaheen koee na koee kamee rah jaatee hai to doston yah jo savaal hai yah sirph aap hee ka nahin aise bahut se log to main aaj aap koee savaal ka javaab dene ke lie ek baat bata to dekho dost jeevan mein is sansaar mein to har ek ek insaan padega chaahe aap indiya le lo amerika le lo jee le lo chaahe na kaheen par bhee aap chale jaie hamesha aapako do tarah ke log bhee ek vah jo apane rileejan ke ghaat par bhagavaan par allaah par vaaheguru par vishvaas rakhate hain aur ek vah jo in sabhee baaton par vishvaas nahin rakhate to aaie dekhate ki in donon kee jindagee kis tareeke kee hotee hai jo eeshvar mein vishvaas nahin rakhata sar main mehanat vah bhee kar rahe hain eeshvar par vishvaas rakhata hai arjun rakhata hai eeshvar par vishvaas khud ko yah sab kuchh maanata hai to kya hota hai ki vah mehanat karata hai har tarah ka kaam karane kee koshish karata hai lekin saphal nahin hua to jarooree nahin hai ki duniya mein jitane log sabhee ek bada sapana lekar paida hote hain aur yah bhee jarooree nahin hai ki har koee apane ko kha le to kya hota hai jo insaan sirph khud ko hee maanata hai kyonki dekho ya ko eeshvar ko maano ya to khud ko maano aisa hee insaan ki main dileet hotee hai agar vah eeshvar mein vishvaas rakhata hai to vah khud ko kuchh nahin maanata aur apane aap ko sirph eeshvar ke bharose rakhata hai aur jo eeshvar ko nahin maanata vah sab kuchh khud ko hee maanata hai to ab aise mein kya hota hai jab aisa insaan hai jo eeshvar mein vishvaas nahin rakhata god par trast nahin rakhata to aisa insaan jab phel hota hai apanee laiph mein mehanat karata hai aur phir bhee kuchh na kuchh kamee rah jaatee ho ki kaam ho gaya to kya hai ki in kaamon ko banaane ke lie ummeed doosaron se karata hai aur ek chhotee see ummeed khud se bhee karata hai lekin ise phir bhee kaamayaabee nahin milatee to aise mein kya hai ki ek din yah kamajor pad jaata hai pojitiv enarjee staarting mein hotee hai mehanat ke taim par vah sab negetiv ban jaatee hai aur yah kaisa insaan ban jaata hai jisamen kisee bhee prakaar ka jigyaasa nahin rahatee to eeshvar par vishvaas rakhate hain vah hamesha sochata hai ki agar kuchh bhee galat kaam padata hai lekin jitanee bhee mehanat ka phal hota hoon to shaayad pichhale janm ke puraane karmon ka hee mere ko phal milata hai lekin usakee dost kaisee hotee usakee soch aisee hotee ki yaar shaayad mujhe jitana is taim par mil raha hai ya jitana mere ko bhogana pad raha hai vah eeshvar ke naam lene se kam mil rahe hain to isake andar hee rahatee hai hamesha kee to bas dostee hai ya ghar eeshvar ko maan loge to shaayad enarjee hamesha barakaraar rahegee aur apana

Gulab Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gulab जी का जवाब
Unknown
2:59

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:58
लॉजिकल रूप से मैं ऐसे साइक्लोजेस्ट की तरह से यदि विचार करूं आपकी इस देश पर तो निश्चित रूप से आपके व्यक्तित्व में स्टेशन झलक रहा है कॉन्फिडेंस का भाग जलक रहा है और मैं छुट्टी का बाद रखा है क्योंकि जब आप अपने मन से ही हार चुके हैं तो फिर आपको कुछ बता नहीं सकता है बड़ी पिक्चर कैसा कहते हैं मन के हारे हार है मन के जीते जीत की ठान लिया तो मुझे प्राप्त विजय प्राप्त करनी उसे संसार में कोई नहीं रोक सकता क्योंकि वह उसके लिए कमर कस के हाथ धोकर पीछे पड़ जाएगा जिससे यह निश्चय कर लिया कि मुझे जीतना ही चाहे उसके लिए मेरे प्राण चले जाएं उसे कोई रोक नहीं सकता तुम शायद नेपोलियन बोनापार्ट की उस एग्जांपल को याद करो कि नेपोलियन बोनापार्ट नहीं बार ओलंपिक पर्वत को पार करके दूसरे देश पर आक्रमण करने के विचार बनाया अब उसके सैनिक मन से हार गई थी और सैनिकों ने कहा कि हम कैसे ओलंपिक पर्वत को पार करेंगे ओलंपिक को लांघना पार जाना असंभव है तब पूनम नेपोलियन बोनापार्ट ने कहा था मेरे मित्रों कहां है नमकीन पर्वत और वह देखते देखते पूरा अपना सबसे आगे किया और नेतृत्व करते हुए सारी कठिनाइयों को पार करके ओलंपियन पर्वत को पार किया और उस देश को जाकर कि जीत निपुण पार्टी के एक शब्द को भी याद कीजिए वह बहुत अच्छा डायलॉग है उसका असंभव शब्द केवल मुक्तक डिक्शनरी में होता है मेरे मित्र आप मन से मत हारो आप युवा आप कर सकते हो फसल आप मन में दृढ़ निश्चय कर लेंगे कमरकस लेंगे ठान लेंगे क्योंकि श्री रामधारी सिंह दिनकर राष्ट्र कवि ने बहुत अच्छे शब्दों में कहा है कि ठान लेता है जब नर पर्वत के जाते पांव उखड़ मानव जब जोर लगाता है पत्थर पानी बन जाता है जिसने दिया उसने कर दिया जो बंसी की हार चुका है मेरे मित्र कभी जीत नहीं सकता हम भारतीय लोग आज इसी आप कह सकते हो कि भारतीय लोग स्वतंत्र हैं आज भी इस बात को दावे से कहता हूं कि भारत के लोग मानसिक रूप से आज भी गुलाम है हम शारीरिक रूप से अंग्रेजों से स्वतंत्र हो गए लेकिन आज भी अंग्रेजों की बनाई हुए नियमों के चलते अजमा अंग्रेजों की बनाई हुई नियम ही आज भारत में न्याय व्यवस्था पर लागू है अंग्रेजी खानपान अरिजीत सिंह अंग्रेजी विचार वेस्टर्न कल्चर हम पर भारतीयों पर आज भी आप यह हम आज भी मानसिक रूप से अंग्रेजों के गुलाम हैं क्योंकि हम मन से कभी सौतन ना हो सके इसके लिए आपको बाल गंगाधर तिलक का बॉस डायलॉग याद करना होगा तो सुनीता प्राप्त कर लेना शारीरिक क्षमता प्राप्त कर लेना बहुत आसान है किंतु मानसिक तो तुम तो होना ही चिंता का वास्तविक अर्थ है जब तक आप भी मन मन से स्वतंत्र नहीं होगा मन से खाना नहीं मिलेगा तब तक मैं कुछ नहीं कर सकता है जिसने ठान लिया उसने कर दिया और जो सोचता रह गया जो घबराता रहा वो कभी कर नहीं सकता जिन खोजा तिन पाइयां गहरे पानी पैठ और पूरक क्या पाया जो रही किनारे बैठ तू जाने के भय से समय कोताही नहीं लगाते हैं गीले हो जाने के भय से समझ में कोताही नहीं लगाते हैं पिक हक मोती पाते हैं मोती तो भी पाते हैं जो अपने जीवन को दांव पर लगाकर के समुद्र में हैं और मोती निकाल करके लाते हैं इसलिए मेरे मित्र मन को मजबूत रखो धड़कनों में चोट बनो विचारों पर रखो एस्त्र मत बनो मंच का मजबूत होगा उतना ही कृपा से आप कामयाब होंगे मुख्य कामयाब होंगे और याद रखो हम होंगे कामयाब हम होंगे कामयाब एक स्थान
Lojikal roop se main aise saiklojest kee tarah se yadi vichaar karoon aapakee is desh par to nishchit roop se aapake vyaktitv mein steshan jhalak raha hai konphidens ka bhaag jalak raha hai aur main chhuttee ka baad rakha hai kyonki jab aap apane man se hee haar chuke hain to phir aapako kuchh bata nahin sakata hai badee pikchar kaisa kahate hain man ke haare haar hai man ke jeete jeet kee thaan liya to mujhe praapt vijay praapt karanee use sansaar mein koee nahin rok sakata kyonki vah usake lie kamar kas ke haath dhokar peechhe pad jaega jisase yah nishchay kar liya ki mujhe jeetana hee chaahe usake lie mere praan chale jaen use koee rok nahin sakata tum shaayad nepoliyan bonaapaart kee us egjaampal ko yaad karo ki nepoliyan bonaapaart nahin baar olampik parvat ko paar karake doosare desh par aakraman karane ke vichaar banaaya ab usake sainik man se haar gaee thee aur sainikon ne kaha ki ham kaise olampik parvat ko paar karenge olampik ko laanghana paar jaana asambhav hai tab poonam nepoliyan bonaapaart ne kaha tha mere mitron kahaan hai namakeen parvat aur vah dekhate dekhate poora apana sabase aage kiya aur netrtv karate hue saaree kathinaiyon ko paar karake olampiyan parvat ko paar kiya aur us desh ko jaakar ki jeet nipun paartee ke ek shabd ko bhee yaad keejie vah bahut achchha daayalog hai usaka asambhav shabd keval muktak dikshanaree mein hota hai mere mitr aap man se mat haaro aap yuva aap kar sakate ho phasal aap man mein drdh nishchay kar lenge kamarakas lenge thaan lenge kyonki shree raamadhaaree sinh dinakar raashtr kavi ne bahut achchhe shabdon mein kaha hai ki thaan leta hai jab nar parvat ke jaate paanv ukhad maanav jab jor lagaata hai patthar paanee ban jaata hai jisane diya usane kar diya jo bansee kee haar chuka hai mere mitr kabhee jeet nahin sakata ham bhaarateey log aaj isee aap kah sakate ho ki bhaarateey log svatantr hain aaj bhee is baat ko daave se kahata hoon ki bhaarat ke log maanasik roop se aaj bhee gulaam hai ham shaareerik roop se angrejon se svatantr ho gae lekin aaj bhee angrejon kee banaee hue niyamon ke chalate ajama angrejon kee banaee huee niyam hee aaj bhaarat mein nyaay vyavastha par laagoo hai angrejee khaanapaan arijeet sinh angrejee vichaar vestarn kalchar ham par bhaarateeyon par aaj bhee aap yah ham aaj bhee maanasik roop se angrejon ke gulaam hain kyonki ham man se kabhee sautan na ho sake isake lie aapako baal gangaadhar tilak ka bos daayalog yaad karana hoga to suneeta praapt kar lena shaareerik kshamata praapt kar lena bahut aasaan hai kintu maanasik to tum to hona hee chinta ka vaastavik arth hai jab tak aap bhee man man se svatantr nahin hoga man se khaana nahin milega tab tak main kuchh nahin kar sakata hai jisane thaan liya usane kar diya aur jo sochata rah gaya jo ghabaraata raha vo kabhee kar nahin sakata jin khoja tin paiyaan gahare paanee paith aur poorak kya paaya jo rahee kinaare baith too jaane ke bhay se samay kotaahee nahin lagaate hain geele ho jaane ke bhay se samajh mein kotaahee nahin lagaate hain pik hak motee paate hain motee to bhee paate hain jo apane jeevan ko daanv par lagaakar ke samudr mein hain aur motee nikaal karake laate hain isalie mere mitr man ko majaboot rakho dhadakanon mein chot bano vichaaron par rakho estr mat bano manch ka majaboot hoga utana hee krpa se aap kaamayaab honge mukhy kaamayaab honge aur yaad rakho ham honge kaamayaab ham honge kaamayaab ek sthaan

BEBY SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए BEBY जी का जवाब
I am student
1:20
हेलो जैसा कि सवाल है कि मैं कभी कामयाब नहीं हो पाता यार कुछ नहीं कर लो कितनी मेहनत करो कहीं ना कहीं कमी रह ही जाती है इस पर आपका क्या विचार है तो मैं यही बताना चाहती हूं कि आप जो भी हो अपनी कामयाबी को हंड्रेड पर्सेंट दीजिए अपने कामयाबी बात जरूर कामयाब होंगे की कोशिश तो करते रहिए आप जब भी अपना काम होते हैं तो आप अपनी निराशा मत हो यह बल्कि देखेगा फिर गलती कहां थी आप गलत कहा कि आप मिस्टेक कहा कि यदि आप फिर आप वहां थे न्यू शुरुआत करें और आप एक दिन एक दिन जरूर कामयाब होंगे कामयाब भी आप बार-बार हार मानने से या बार-बार अपना कामयाब होने से आप अपनी कोशिश मत हो रही है क्योंकि आप एक ना एक दिन कामयाब जरूर होंगे लेकिन हां आप ही यह देखी क्या कहा आपसे गलती हो रहा है कि आप अपनी कामयाबी आपके हाथ नहीं आ पा रहे उस गलती को ढूंढिए और उससे आप काम की काम करने का कोई न कोई रीजन जरूर होना भी अपने काम की री जान को बहुत मेहनत और अपने हर जो भी आप करते हैं उसमें अपना हंड्रेड परसेंट दीजिए मैं कहती हूं कुछ जरूर पोस्ट वालों का इंपॉसिबल कहता है कि आई एम वॉच
Helo jaisa ki savaal hai ki main kabhee kaamayaab nahin ho paata yaar kuchh nahin kar lo kitanee mehanat karo kaheen na kaheen kamee rah hee jaatee hai is par aapaka kya vichaar hai to main yahee bataana chaahatee hoon ki aap jo bhee ho apanee kaamayaabee ko handred parsent deejie apane kaamayaabee baat jaroor kaamayaab honge kee koshish to karate rahie aap jab bhee apana kaam hote hain to aap apanee niraasha mat ho yah balki dekhega phir galatee kahaan thee aap galat kaha ki aap mistek kaha ki yadi aap phir aap vahaan the nyoo shuruaat karen aur aap ek din ek din jaroor kaamayaab honge kaamayaab bhee aap baar-baar haar maanane se ya baar-baar apana kaamayaab hone se aap apanee koshish mat ho rahee hai kyonki aap ek na ek din kaamayaab jaroor honge lekin haan aap hee yah dekhee kya kaha aapase galatee ho raha hai ki aap apanee kaamayaabee aapake haath nahin aa pa rahe us galatee ko dhoondhie aur usase aap kaam kee kaam karane ka koee na koee reejan jaroor hona bhee apane kaam kee ree jaan ko bahut mehanat aur apane har jo bhee aap karate hain usamen apana handred parasent deejie main kahatee hoon kuchh jaroor post vaalon ka imposibal kahata hai ki aaee em voch

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:38
कभी कामयाब नहीं हो पाता यार कुछ भी कर लो कितना भी मेहनत कर लो कहीं ना कहीं कोई कमी रह जाती है इस पर कोई अपना जवाब देना चाहेंगे जी हां मैं इस पर एक को आपसे बात करना चाहूंगी कि हमारे को पता है कि 2 प्लस टू 4 होता है ठीक है और हमको पता है कि अगर हम पानी में चीनी मिल आएंगे तो चली गोली जाएगी ठीक है अब आप जिंदगी में कुछ चोट लगा रहे हो कर्म कर रहे हो और उसका फल नहीं आ रहा है उसका जैसा आप वांछित फल नहीं आ रहे हैं देखो कोई भी कर्म करोगे उसका फल तो आएगा लेकिन वांछित फल नहीं आ रहा है जैसा चाहते हैं वैसा नहीं आ रहा है उसका क्या वजह हो सकती है उसकी वजह यह है कि जो फार्मूला है जो कांबिनेशन है चीजों का जो फैक्टर्स है जो कारक है वह सही मात्रा में नहीं है सही मात्रा में सही दिशा में सही कर्म नहीं किया जा रहा है वैसा फल नहीं आ रहा है जैसा चाहिए तो यह वजह है और इसका एक और भी है कि कई बार हम आज रेट भी कर लेते हैं हम यह नहीं देख पा रहे हैं कि मेरे तुम्हें कहां त्रुटि है हर कार्यकर्ता महोदय कार्यप्रणाली होती है जैसे अगर आपको आलू गोभी की सब्जी बनानी है तो उसका भी एक तरीका है आपने मन से कैसे भी बना लोगे बंद हो जाएगी लेकिन वैसी ही बनेगी जैसा आप पसंद करते ही चाहते हैं वैसे ही बनाना चाहते हैं तो उसका एक प्रॉपर सिस्टम है हर चीज का छोटी से छोटी आसान से आसान चीज जैसे कि एक सब्जी या बड़ी से बड़ी कोई भी चीज बड़ी से बड़ी कोई मशीन है बड़े से बड़ा कोई और आपकी कृति है जिसको आप बनाते हैं जिसमें हो जिस भी क्षेत्र में हो उसका भी कुछ एक फार्मूला है कुछ उसका पैमाना होगा जिस पर आप जजमेंट नहीं हुआ गलत हुआ अच्छा हुआ या बुरा हुआ ऐसा चाहिए था वैसा चाहिए था नहीं मिला तो क्यों नहीं मिला उस पर एक फोन करना बहुत जरूरी है उसके कारणों का पता लगाना जरूरी है उनको दूर कर कर और फिर आगे बढ़ना जरूरी है मैंने तो रिक्शावाला भी करता है तो मेहनत तो सब कर रहे हैं लेकिन मेहनत अगर सही दिशा में नहीं की जा रही है सही लेवल में नहीं जा रही है आपको तो उसका उतना रिजल्ट पैसा नहीं मिलेगा जब मिलना चाहिए तो खुलकर डिटेल में आपको किसी से कंसल्ट करें आप चाहे तो मुझसे भी बात कर सकते हैं और क्या क्या प्रॉब्लम आ रही है कहां क्या नहीं हो रहा है वह जाने बिना उन कारकों को हम यह नहीं बता सकते क्यों नहीं हो रहा है इसका एक सरल से उपाय तो यह हो सकता है आप किसी पंडित के पास चले जाओ किसी तांत्रिक के पास चले जाओ आपको कुछ उपाय बताए जाएंगे लाल किताब के या आप की जन्मपत्री देखकर बताएंगे कौन सा गाड़ी है 1 तारीख को है दूसरा लेकर और सोचे कि मैं गर्म कर रहा हूं कौन से कार्य कर रहा हूं मुझे क्या दिक्कत आ रही है कहां मेरे को शॉट आउट करने की कोशिश करें तो अभी मैं सीरियस ले रही हूं फ्री में एक वेबीनार है यूट्यूब के ऊपर जिसमें हमारी जो डालने की आदत है क्योंकि यह इंट्रोस्पेक्शन है यह जो हम पूरा सोच विचार कर रहे हैं यह सोच विचार भी हम डालते हैं हम एनालाइज नहीं करना चाहते हैं कहां गलती हो गई कहां क्या रह गया हम आसान तरीका ढूंढा भी बहुत हिम्मत चाहिए यह देखने के लिए कि मैं कहां गलत हूं तो गलती हर इंसान से होती है उसको पहचान कर संभल कर और आगे बढ़ने में ही समझदारी है तो मैं आपको लिंक भेज दी हूं आपको मेरे चैनल को सब्सक्राइब कीजिए और उसमें हिंदी में ही में फ्री में आपको बता रही हूं तो 5 दिन का है आज तीसरा दिन है तो आप देखकर कैसा नाते आप जो है अपने हाथों से भारत में जो डालने की आदतें हैं और अपने एक सिस्टम डेवलप कर सकते हैं जिससे आपके लक्ष्य की प्राप्ति हो धन्यवाद
Kabhee kaamayaab nahin ho paata yaar kuchh bhee kar lo kitana bhee mehanat kar lo kaheen na kaheen koee kamee rah jaatee hai is par koee apana javaab dena chaahenge jee haan main is par ek ko aapase baat karana chaahoongee ki hamaare ko pata hai ki 2 plas too 4 hota hai theek hai aur hamako pata hai ki agar ham paanee mein cheenee mil aaenge to chalee golee jaegee theek hai ab aap jindagee mein kuchh chot laga rahe ho karm kar rahe ho aur usaka phal nahin aa raha hai usaka jaisa aap vaanchhit phal nahin aa rahe hain dekho koee bhee karm karoge usaka phal to aaega lekin vaanchhit phal nahin aa raha hai jaisa chaahate hain vaisa nahin aa raha hai usaka kya vajah ho sakatee hai usakee vajah yah hai ki jo phaarmoola hai jo kaambineshan hai cheejon ka jo phaiktars hai jo kaarak hai vah sahee maatra mein nahin hai sahee maatra mein sahee disha mein sahee karm nahin kiya ja raha hai vaisa phal nahin aa raha hai jaisa chaahie to yah vajah hai aur isaka ek aur bhee hai ki kaee baar ham aaj ret bhee kar lete hain ham yah nahin dekh pa rahe hain ki mere tumhen kahaan truti hai har kaaryakarta mahoday kaaryapranaalee hotee hai jaise agar aapako aaloo gobhee kee sabjee banaanee hai to usaka bhee ek tareeka hai aapane man se kaise bhee bana loge band ho jaegee lekin vaisee hee banegee jaisa aap pasand karate hee chaahate hain vaise hee banaana chaahate hain to usaka ek propar sistam hai har cheej ka chhotee se chhotee aasaan se aasaan cheej jaise ki ek sabjee ya badee se badee koee bhee cheej badee se badee koee masheen hai bade se bada koee aur aapakee krti hai jisako aap banaate hain jisamen ho jis bhee kshetr mein ho usaka bhee kuchh ek phaarmoola hai kuchh usaka paimaana hoga jis par aap jajament nahin hua galat hua achchha hua ya bura hua aisa chaahie tha vaisa chaahie tha nahin mila to kyon nahin mila us par ek phon karana bahut jarooree hai usake kaaranon ka pata lagaana jarooree hai unako door kar kar aur phir aage badhana jarooree hai mainne to rikshaavaala bhee karata hai to mehanat to sab kar rahe hain lekin mehanat agar sahee disha mein nahin kee ja rahee hai sahee leval mein nahin ja rahee hai aapako to usaka utana rijalt paisa nahin milega jab milana chaahie to khulakar ditel mein aapako kisee se kansalt karen aap chaahe to mujhase bhee baat kar sakate hain aur kya kya problam aa rahee hai kahaan kya nahin ho raha hai vah jaane bina un kaarakon ko ham yah nahin bata sakate kyon nahin ho raha hai isaka ek saral se upaay to yah ho sakata hai aap kisee pandit ke paas chale jao kisee taantrik ke paas chale jao aapako kuchh upaay batae jaenge laal kitaab ke ya aap kee janmapatree dekhakar bataenge kaun sa gaadee hai 1 taareekh ko hai doosara lekar aur soche ki main garm kar raha hoon kaun se kaary kar raha hoon mujhe kya dikkat aa rahee hai kahaan mere ko shot aaut karane kee koshish karen to abhee main seeriyas le rahee hoon phree mein ek vebeenaar hai yootyoob ke oopar jisamen hamaaree jo daalane kee aadat hai kyonki yah introspekshan hai yah jo ham poora soch vichaar kar rahe hain yah soch vichaar bhee ham daalate hain ham enaalaij nahin karana chaahate hain kahaan galatee ho gaee kahaan kya rah gaya ham aasaan tareeka dhoondha bhee bahut himmat chaahie yah dekhane ke lie ki main kahaan galat hoon to galatee har insaan se hotee hai usako pahachaan kar sambhal kar aur aage badhane mein hee samajhadaaree hai to main aapako link bhej dee hoon aapako mere chainal ko sabsakraib keejie aur usamen hindee mein hee mein phree mein aapako bata rahee hoon to 5 din ka hai aaj teesara din hai to aap dekhakar kaisa naate aap jo hai apane haathon se bhaarat mein jo daalane kee aadaten hain aur apane ek sistam devalap kar sakate hain jisase aapake lakshy kee praapti ho dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कामयाब कैसे हो, मेहनत के बाद भी कमी क्यों रह जाती है
URL copied to clipboard