#undefined

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:06
हेलो शिवांशु आज आपका सवाल है कि वर्तमान स्थितियों में पक्षियों का कम हो जाना क्या कारणों से हो सकता है तो देखिए सबसे पहली बात तो लगती है वह यह है कि हम जो पेड़ पौधे काट देते हैं तो हर एक इंसान का अपना हैबिटेट होता जैसे कि हम इस एरिया में रह पा रहे थे हमारा हैबिटेट हुआ हमारा घर तो पशु पक्षी के बीच जंगल पेड़-पौधे ही उनका हैबिटेट और उनका घर होता तो गुजार देंगे तो हर एक इंसान और दूर दूर नहीं जा सकता पानी की तलाश में खाने के तलाश में रहने के लिए उसे कुछ तो चाहिए वह जरूरी नहीं कि प्रदान कर सकता है जिससे उसकी मौत हो जाती है और बहुत सारे ऐसे प्रजाति है जो हम अभी तक फोटोस में देखते हैं क्योंकि रियल में वह है ही नहीं हम ही पेड़-पौधे काट देते दूसरा यह है कि जो भी डस्ट पलूशन इतनी रियाज हमारी वजह से यह सब वातावरण में बहुत सारे पक्षी क्या है सरवाइव नहीं कर पाते हैं उनको ऐसे वातावरण में वह मर जाते हैं जिसकी वजह से मतलब बहुत सारे पक्षी है जो बहुत ही मतलब सुंदर और बहुत अच्छी प्रजाति के थे वह भी हम नहीं देख पाते और सारे एक्सपेरिमेंट भी होता है जो पक्षियों में किया जाता है और जब पक्षियों में कोई भी इंफेक्शन एलर्जी बीमारियां होती है तो देश से पता चलती है जिस वजह से उनकी मृत्यु हो जाती है तो ऐसे बहुत सारे वही सब बड़े बड़े कारण है जिसकी वजह से आज हम जो पक्षियों को मतलब देखना चाहते हैं चाह कर भी नहीं देख पाते हैं क्योंकि वह एक स्टिंग पूरी तरह से हो चुकी है तो अभी भी हमारे हाथ में हमारी प्रकृति नेचर जीव जंतु जितने भी हैं हमारी जिम्मेदारी है कि उसे ठीक से रखना संभाल कर रखना ताकि अभी भी हमारा नीचे अच्छा हुआ और फ्यूचर जनरेशन को भी हमें अखिलेश कुछ गिफ्ट दे सके कुछ अच्छा वातावरण दे सके
Helo shivaanshu aaj aapaka savaal hai ki vartamaan sthitiyon mein pakshiyon ka kam ho jaana kya kaaranon se ho sakata hai to dekhie sabase pahalee baat to lagatee hai vah yah hai ki ham jo ped paudhe kaat dete hain to har ek insaan ka apana haibitet hota jaise ki ham is eriya mein rah pa rahe the hamaara haibitet hua hamaara ghar to pashu pakshee ke beech jangal ped-paudhe hee unaka haibitet aur unaka ghar hota to gujaar denge to har ek insaan aur door door nahin ja sakata paanee kee talaash mein khaane ke talaash mein rahane ke lie use kuchh to chaahie vah jarooree nahin ki pradaan kar sakata hai jisase usakee maut ho jaatee hai aur bahut saare aise prajaati hai jo ham abhee tak photos mein dekhate hain kyonki riyal mein vah hai hee nahin ham hee ped-paudhe kaat dete doosara yah hai ki jo bhee dast palooshan itanee riyaaj hamaaree vajah se yah sab vaataavaran mein bahut saare pakshee kya hai saravaiv nahin kar paate hain unako aise vaataavaran mein vah mar jaate hain jisakee vajah se matalab bahut saare pakshee hai jo bahut hee matalab sundar aur bahut achchhee prajaati ke the vah bhee ham nahin dekh paate aur saare eksaperiment bhee hota hai jo pakshiyon mein kiya jaata hai aur jab pakshiyon mein koee bhee imphekshan elarjee beemaariyaan hotee hai to desh se pata chalatee hai jis vajah se unakee mrtyu ho jaatee hai to aise bahut saare vahee sab bade bade kaaran hai jisakee vajah se aaj ham jo pakshiyon ko matalab dekhana chaahate hain chaah kar bhee nahin dekh paate hain kyonki vah ek sting pooree tarah se ho chukee hai to abhee bhee hamaare haath mein hamaaree prakrti nechar jeev jantu jitane bhee hain hamaaree jimmedaaree hai ki use theek se rakhana sambhaal kar rakhana taaki abhee bhee hamaara neeche achchha hua aur phyoochar janareshan ko bhee hamen akhilesh kuchh gipht de sake kuchh achchha vaataavaran de sake

और जवाब सुनें

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:31
पहले वर्तमान स्थिति में पक्षियों का कम हो जाना क्या कारण हो सकता है लेकिन यह कारण प्रदूषण प्रदूषण वजह से पेड़ों का कटना अगर पेड़ मान लीजिए बहुत सारे हैं और वहां सब तरह काट देते हैं तो बच्चे चले जाएंगे और कहीं अपना निवासस्थान ढूंढ लेंगे क्योंकि उनका घर होता है और उसी पर पेड़ पर ही पश्चिमी बात करते हैं जैसे कि अगर हमारा घर कोई उजाड़ दे तुम कहां पर रहेंगे कहीं दूसरी जगह जा सके रहने लगेंगे अन्ना को कोई वापस सुविधा होगी ना कुछ होगा अगर माली जी खाने पीने को ना मिले तो हमारा क्या होगा उसी तरीके से पक्षी भी होते हैं अगर मुझसे उनका स्थान के लावा जैसे हो जहां सिसवा लीजिए अपने खाने पीने की व्यवस्था करते थे वह दूसरी जगह जाएंगे तुम्हारे बीते आतिफ तो होने के लिए या नहीं रहने के लिए उन्हें घर बनाना पड़ेगा घर के अलावा करो को खाने पीने की व्यवस्था करेगी के नहीं हो पाए तो उनकी मौत हो जाती है धीरे-धीरे करके ऐसे विलुप्त होने लगते हैं उससे ज्यादा जल्दी है क्या कुछ भी पड़ा रहता खाने लगते हैं और प्रदूषण किया हमारा ही रहता है यही सब कारण है जिसकी वजह से भी कम होते जा रहे हैं और यह इसका सबसे अगर मैं सीधा एग्जाम देने जाओगी तो प्रदूषण खुशी दे नाचूंगी तो मिस करते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा मैं सब कुछ चाहिए दूसरों को खुश रखें धन्यवाद
Pahale vartamaan sthiti mein pakshiyon ka kam ho jaana kya kaaran ho sakata hai lekin yah kaaran pradooshan pradooshan vajah se pedon ka katana agar ped maan leejie bahut saare hain aur vahaan sab tarah kaat dete hain to bachche chale jaenge aur kaheen apana nivaasasthaan dhoondh lenge kyonki unaka ghar hota hai aur usee par ped par hee pashchimee baat karate hain jaise ki agar hamaara ghar koee ujaad de tum kahaan par rahenge kaheen doosaree jagah ja sake rahane lagenge anna ko koee vaapas suvidha hogee na kuchh hoga agar maalee jee khaane peene ko na mile to hamaara kya hoga usee tareeke se pakshee bhee hote hain agar mujhase unaka sthaan ke laava jaise ho jahaan sisava leejie apane khaane peene kee vyavastha karate the vah doosaree jagah jaenge tumhaare beete aatiph to hone ke lie ya nahin rahane ke lie unhen ghar banaana padega ghar ke alaava karo ko khaane peene kee vyavastha karegee ke nahin ho pae to unakee maut ho jaatee hai dheere-dheere karake aise vilupt hone lagate hain usase jyaada jaldee hai kya kuchh bhee pada rahata khaane lagate hain aur pradooshan kiya hamaara hee rahata hai yahee sab kaaran hai jisakee vajah se bhee kam hote ja rahe hain aur yah isaka sabase agar main seedha egjaam dene jaogee to pradooshan khushee de naachoongee to mis karate hain savaal ka javaab pasand aaega main sab kuchh chaahie doosaron ko khush rakhen dhanyavaad

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:56
वर्तमान स्थितियों में पक्षियों का कम हो जाना रेडिएशन के कारण होता है अर्थात जब भी मोबाइल को यूज में लेते हैं तो मुझे सिर्फ किसी को कॉल करते हैं तो मोबाइल के माध्यम से रेडियो तरंगे निकलती है जिससे पक्षी ज्यादा ऊंचाई तक उड़ान नहीं भर पाते हैं जैसे कि कभी किसी ने देखा होगा कि टावर के आसपास जब भी पक्ष होते हैं तो जितना बड़ा टावर होता है उसे ऊंचाई तक वह पक्षी नहीं उठ पाते हैं क्योंकि वहां रेडिएशन ज्यादा होने की वजह से वह नहीं बोल पाते हैं क्योंकि रेडिएशन की जो तरंग होती है वह खतरनाक होती है जिससे पक्षियों के पंख पूर्णा में जोड़ना नहीं देते हैं कि कई पक्षी इसी टावर के बराबर में ही उड़ान भरते हैं और तड़प तड़प के मर भी जाते हैं इसके ऊपर एक मूवी बनी थी 2.0 अक्षय कुमार वाली वह भी तो इसी इसी पर मूवी बनी थी पक्षियों के लिए जो रेडिएशन फैला रहे थे लोग उसको कम करने के लिए यह मूवी बनाई गई थी कि रेडिएशन कम फैलाए लोग और फोन का इस्तेमाल कम से कम करें ताकि पक्षियों का भी होना बहुत जरूरी है जैसे कीट पतंग हां उनको पक्षी खाते हैं यदि गेट पता नहीं ज्यादा होंगे तो किसी न किसी रूप में बीमारी का भी सामना करना पड़ सकता है मनुष्य को साथ ही पेड़ पौधों को भी
Vartamaan sthitiyon mein pakshiyon ka kam ho jaana redieshan ke kaaran hota hai arthaat jab bhee mobail ko yooj mein lete hain to mujhe sirph kisee ko kol karate hain to mobail ke maadhyam se rediyo tarange nikalatee hai jisase pakshee jyaada oonchaee tak udaan nahin bhar paate hain jaise ki kabhee kisee ne dekha hoga ki taavar ke aasapaas jab bhee paksh hote hain to jitana bada taavar hota hai use oonchaee tak vah pakshee nahin uth paate hain kyonki vahaan redieshan jyaada hone kee vajah se vah nahin bol paate hain kyonki redieshan kee jo tarang hotee hai vah khataranaak hotee hai jisase pakshiyon ke pankh poorna mein jodana nahin dete hain ki kaee pakshee isee taavar ke baraabar mein hee udaan bharate hain aur tadap tadap ke mar bhee jaate hain isake oopar ek moovee banee thee 2.0 akshay kumaar vaalee vah bhee to isee isee par moovee banee thee pakshiyon ke lie jo redieshan phaila rahe the log usako kam karane ke lie yah moovee banaee gaee thee ki redieshan kam phailae log aur phon ka istemaal kam se kam karen taaki pakshiyon ka bhee hona bahut jarooree hai jaise keet patang haan unako pakshee khaate hain yadi get pata nahin jyaada honge to kisee na kisee roop mein beemaaree ka bhee saamana karana pad sakata hai manushy ko saath hee ped paudhon ko bhee

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:11
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है वर्तमान पर वर्तमान स्थिति में पक्षियों का कम हो जाने का क्या कारण हो सकता है तो सेंड सर आजकल जिस तरह से प्रदूषण बढ़ता जा रहा है तो और पेड़ पौधों की कटाई किस तरह से होती जा रही है तो इसलिए बच्चे भी कम होते जा रहे हैं फ्रेंड्स जैसे शहरों में बिल्डिंग बन रही है जो भी पेड़ पौधे होते हैं और जंगलों में भी और भी जहां वो सारे पेड़ लगे होते हैं तो उनकी जो कटाई करी जाती है तो उसमें अच्छी निवास करते हैं पेड़ पौधों में तो जो कटाई होती है तो होली पेड़ पौधे छोड़ कर चले जाते हैं वहीं पर रहते होते हैं उन्हें भाई खाना-पीना मिलता होता लेकिन जब वहां से चले जाते हैं कहीं और नई जगह तो जरूरी नहीं है कि उन्हें वहां खाना पीना मिले नहीं जगह मैं तुम्हें मर जाते हैं जाकर और दूसरी जगह की जलवायु बिना सूट नहीं होती तो इस वजह से भी हम मर जाते हैं और जो इस समय बर्ड फ्लू भी फैला हुआ है इस कारण भी बहुत सारे पक्षी मर रहे हैं उनको बीमारियों से भीम की मौत और इस प्रदूषण से भी मर रहे हैं तो फ्रेंड्स इसलिए वे बच्चों का कम हो रहे हैं तो अगर आपको जो पसंद आए तो लाइक करिएगा धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn hai vartamaan par vartamaan sthiti mein pakshiyon ka kam ho jaane ka kya kaaran ho sakata hai to send sar aajakal jis tarah se pradooshan badhata ja raha hai to aur ped paudhon kee kataee kis tarah se hotee ja rahee hai to isalie bachche bhee kam hote ja rahe hain phrends jaise shaharon mein bilding ban rahee hai jo bhee ped paudhe hote hain aur jangalon mein bhee aur bhee jahaan vo saare ped lage hote hain to unakee jo kataee karee jaatee hai to usamen achchhee nivaas karate hain ped paudhon mein to jo kataee hotee hai to holee ped paudhe chhod kar chale jaate hain vaheen par rahate hote hain unhen bhaee khaana-peena milata hota lekin jab vahaan se chale jaate hain kaheen aur naee jagah to jarooree nahin hai ki unhen vahaan khaana peena mile nahin jagah main tumhen mar jaate hain jaakar aur doosaree jagah kee jalavaayu bina soot nahin hotee to is vajah se bhee ham mar jaate hain aur jo is samay bard phloo bhee phaila hua hai is kaaran bhee bahut saare pakshee mar rahe hain unako beemaariyon se bheem kee maut aur is pradooshan se bhee mar rahe hain to phrends isalie ve bachchon ka kam ho rahe hain to agar aapako jo pasand aae to laik kariega dhanyavaad

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:13
देखिए वर्तमान परिस्थितियों में पक्षियों का कम होने का मल्टीपल रीजन से पहला तो मैं कहूंगा कि जो जलवायु परिवर्तन है देश में सबसे ज्यादा उसका नुकसान हो रहा है क्योंकि जलवायु परिवर्तन के अकॉर्डिंग पक्षी जो है अपने शरीर को ढाल नहीं पाते हैं और डालने नहीं पाने के कारण उनके शरीर में मल्टीपल विश्वजीत हो जाते हैं काफी बीमारियां उनके शरीर को घेर लेते हैं जिसकी वजह से जैसा वह सोचते हैं या जैसा उनकी जो बॉडी की पोजीशन होता है या सिस्टम होता है वह अचानक परिवर्तन को सहन नहीं कर पाता है और इससे उनमें प्रजनन क्षमता कम हो जाती है और इसके साथ-साथ उनमें जो है बीमारियां बहुत ज्यादा हो जाती हैं और अंत में उनकी मृत्यु हो जाती है और दूसरों मैं कहूंगा कि जिस तरह से खेतों में फर्टिलाइजर का जिस तरह से प्रयोग हुआ है और फर्टिलाइजर का प्रयोग होने से पक्षी जब वह उन दानों को खाते हैं उन चीजों को खाते हैं तो ऐसे होते हैं जिनकी कैपेसिटी उतनी नहीं होती है कि वह उससे केमिकल को या उससे फर्टिलाइजर से बनाई गई फसल का खाने से मतलब जीवित रह सके तो अंत जो जो है वह धीरे-धीरे उनमें कई तरह की बीमारियां पैदा होती हैं और वह धीरे-धीरे मर जाते हैं इसके अलावा जिस तरह से बहुत से पक्षी ऐसे होते हैं जो कि गले सड़े जिओ के ऊपर निर्भर होते हैं जो मतलब एक तरह से हमारे इन्वायरमेंट को सफाई करने का काम करते हैं लेकिन पिछले कुछ वर्षों में जिस तरह से पशुओं के लिए लोगों ने दूध को बढ़ाने के लिए केमिकल्स का यूज किया है या इसके अलावा काफी ऐसी चीजों का यूज किया है जिसकी वजह से काफी केमिकल से ऐसे हैं जो कि पक्षियों के लिए जो वह पशु मर जाते हैं तो वह अल्टीमेटली उन पक्षियों के लिए भी उनको चांद आए होते तो उससे भी काफी पक्षी जो है कम हो गए इसके अलावा जिस तरह से देश में हो जोगी करने की प्रोसेस चली है जिस तरह से हमार देश में अलग-अलग तरह से बिजनेसेस ओपन किए गए हैं क्या निकल को ज्यादा बढ़ावा दिया गया है इसका सी ऐसी चीज है जो पक्षियों के वर्तमान समय में हमारे देश में कम होने का एक बड़ा रीजन हो सकता है थैंक यू
Dekhie vartamaan paristhitiyon mein pakshiyon ka kam hone ka malteepal reejan se pahala to main kahoonga ki jo jalavaayu parivartan hai desh mein sabase jyaada usaka nukasaan ho raha hai kyonki jalavaayu parivartan ke akording pakshee jo hai apane shareer ko dhaal nahin paate hain aur daalane nahin paane ke kaaran unake shareer mein malteepal vishvajeet ho jaate hain kaaphee beemaariyaan unake shareer ko gher lete hain jisakee vajah se jaisa vah sochate hain ya jaisa unakee jo bodee kee pojeeshan hota hai ya sistam hota hai vah achaanak parivartan ko sahan nahin kar paata hai aur isase unamen prajanan kshamata kam ho jaatee hai aur isake saath-saath unamen jo hai beemaariyaan bahut jyaada ho jaatee hain aur ant mein unakee mrtyu ho jaatee hai aur doosaron main kahoonga ki jis tarah se kheton mein phartilaijar ka jis tarah se prayog hua hai aur phartilaijar ka prayog hone se pakshee jab vah un daanon ko khaate hain un cheejon ko khaate hain to aise hote hain jinakee kaipesitee utanee nahin hotee hai ki vah usase kemikal ko ya usase phartilaijar se banaee gaee phasal ka khaane se matalab jeevit rah sake to ant jo jo hai vah dheere-dheere unamen kaee tarah kee beemaariyaan paida hotee hain aur vah dheere-dheere mar jaate hain isake alaava jis tarah se bahut se pakshee aise hote hain jo ki gale sade jio ke oopar nirbhar hote hain jo matalab ek tarah se hamaare invaayarament ko saphaee karane ka kaam karate hain lekin pichhale kuchh varshon mein jis tarah se pashuon ke lie logon ne doodh ko badhaane ke lie kemikals ka yooj kiya hai ya isake alaava kaaphee aisee cheejon ka yooj kiya hai jisakee vajah se kaaphee kemikal se aise hain jo ki pakshiyon ke lie jo vah pashu mar jaate hain to vah alteemetalee un pakshiyon ke lie bhee unako chaand aae hote to usase bhee kaaphee pakshee jo hai kam ho gae isake alaava jis tarah se desh mein ho jogee karane kee proses chalee hai jis tarah se hamaar desh mein alag-alag tarah se bijaneses opan kie gae hain kya nikal ko jyaada badhaava diya gaya hai isaka see aisee cheej hai jo pakshiyon ke vartamaan samay mein hamaare desh mein kam hone ka ek bada reejan ho sakata hai thaink yoo

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:45
तो तुमने पूछा कि वर्तमान में पक्षियों को कम हो जाने का कारण क्या है वर्तमान में क्यों अभी काम हो रहे हैं पहली बात तो पक्षी की कम होने के कारण होते हमारे फोन कौन सी सी तरंगे होती है खा हमें तो दिखती नहीं हमें कुछ फर्क पड़ता नहीं पर पक्षियों को बहुत पड़ता है यह सब उन्हें छोटी छोटी चीजों को मिस कर देते हैं वह चीजें हमें ही नहीं किसी और को भी दी सबकी यह सब खत्म होती जा रही है वैसे ही जीव जंतु की खत्म होते जा रहे हैं और कुछ ही तो खत्म हो चुकी है लगभग अब क्या बचा है कुछ भी नहीं बचा देखने के लिए हिंदुस्तान में
To tumane poochha ki vartamaan mein pakshiyon ko kam ho jaane ka kaaran kya hai vartamaan mein kyon abhee kaam ho rahe hain pahalee baat to pakshee kee kam hone ke kaaran hote hamaare phon kaun see see tarange hotee hai kha hamen to dikhatee nahin hamen kuchh phark padata nahin par pakshiyon ko bahut padata hai yah sab unhen chhotee chhotee cheejon ko mis kar dete hain vah cheejen hamen hee nahin kisee aur ko bhee dee sabakee yah sab khatm hotee ja rahee hai vaise hee jeev jantu kee khatm hote ja rahe hain aur kuchh hee to khatm ho chukee hai lagabhag ab kya bacha hai kuchh bhee nahin bacha dekhane ke lie hindustaan mein

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:21
कैसा हाल है कि वर्तमान स्थितियों में पक्षियों का कम हो जाना क्या कारण हो सकता है तो एक तो प्रति का कारण हो सकता है जैसे अभी वर्तमान में पक्षियों में वाइट फ्लोर चल रहे हैं इसी के कारण ज्यादा कम हो रहे हैं धन्यवाद
Kaisa haal hai ki vartamaan sthitiyon mein pakshiyon ka kam ho jaana kya kaaran ho sakata hai to ek to prati ka kaaran ho sakata hai jaise abhee vartamaan mein pakshiyon mein vait phlor chal rahe hain isee ke kaaran jyaada kam ho rahe hain dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:13
वर्तमान स्थिति में पंक्तियां जो कम हो रहे हैं उसके लिए तो तीन कारण जिम्मेदार नंबर एक तो यह मानकर चलें कि वहीं पर्यावरण जो है वह तू तू तू तू तारा है इसके कारण से पक्षियों का जीवन भी खतरे में पड़ चुका है नंबर दो मांसाहारी लोगों ने भी इन पक्षियों का जीवन समाप्त कर डाला है क्योंकि यह शिकार के नाम पर इन्हें अपना भोजन बना जाते हैं नंबर तीन मनुष्य का पर्यावरण के प्रति या यह हमारी जो 64 हैं पक्षी जानवर आदि जो हमें मानवीय जीवन जीने के लिए बहुत बड़ी सहायता उपलब्ध कराते हैं हम हमें लाभ प्रदान करते हैं उन जानवरों की पक्षियों की मानव ने अगला करना प्रारंभ कर दिया है और स्वार्थ में उनका दोहन कर शोषण कर रहा है इसलिए धीरे-धीरे आप देख रहे हैं कि पक्षियों की संख्या निरंतर कम होती जा रही है यह पर्यावरण के असंतुलन का कारण बनेगी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:29
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि वर्तमान स्थितियों में पक्षियों का कम हो जाना या कारणों से हो सकता है दोस्तों हम विकास की गति से बहुत तीव्र गति से तेजी से बढ़ रहे हैं विकास इतनी तेजी से कर रहे हैं कि हम आसपास के जो हमारे जीव जंतु हैं चाहे पक्की हो चाहे जंतु हो सब धीरे-धीरे उससे प्रभावित हो रहे हैं पहले मेरे को याद है घरों में कितनी चीजें बाहर पड़ी रहती थी आजकल क्या होता है कि बिल्कुल शोभा जी करने के लिए बाहर आप का छज्जा बिल्कुल खाली रहता है प्रॉपर्टी डीलर उसको बिल्डर फ्लैट बना रहे हैं और पंखे इतने का प्रयोग हो रहा है किससे विचारे पक्षी कट के मर जाते हैं और दूसरा पॉलिथीन का इतना प्रयोग हो रहा है पॉलिथीन इतनी असीमित क्षेत्रों में हो रहा है तो उसमें क्या हो रहा है जिसके अंदर पक्षी है उसको खा रहे हैं हर चीज प्रदूषित हो रही है जल प्रदूषित हो रहा है वायु प्रदूषित हो रहा है और राजस्थान अपना इलाज करने में थोड़ा खत्म हो जा रहा है पक्षी बिचारे कहां जाएं तो आप देखेंगे कि शहरों के क्षेत्र में तो बिल्कुल खत्म होता जा रहा है क्योंकि दिनचर्या लोगों की बदलती जा रही है विकास के दौर में सब चीज नष्ट करते जा रहे हैं अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी लेकिन धीरे-धीरे शहरीकरण आता जा रहा है तो वहां से भी कई प्रजातियां पक्षियों की विलुप्त होती जा रही है जबकि शहरों में आप देखोगे तो चिड़िया जोबरिया थी अब तो वह लोग ही हो चुकी है तो हमें सजग रहना पड़ेगा प्रकृति को संभाल के रखना पड़ेगा धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki vartamaan sthitiyon mein pakshiyon ka kam ho jaana ya kaaranon se ho sakata hai doston ham vikaas kee gati se bahut teevr gati se tejee se badh rahe hain vikaas itanee tejee se kar rahe hain ki ham aasapaas ke jo hamaare jeev jantu hain chaahe pakkee ho chaahe jantu ho sab dheere-dheere usase prabhaavit ho rahe hain pahale mere ko yaad hai gharon mein kitanee cheejen baahar padee rahatee thee aajakal kya hota hai ki bilkul shobha jee karane ke lie baahar aap ka chhajja bilkul khaalee rahata hai propartee deelar usako bildar phlait bana rahe hain aur pankhe itane ka prayog ho raha hai kisase vichaare pakshee kat ke mar jaate hain aur doosara politheen ka itana prayog ho raha hai politheen itanee aseemit kshetron mein ho raha hai to usamen kya ho raha hai jisake andar pakshee hai usako kha rahe hain har cheej pradooshit ho rahee hai jal pradooshit ho raha hai vaayu pradooshit ho raha hai aur raajasthaan apana ilaaj karane mein thoda khatm ho ja raha hai pakshee bichaare kahaan jaen to aap dekhenge ki shaharon ke kshetr mein to bilkul khatm hota ja raha hai kyonki dinacharya logon kee badalatee ja rahee hai vikaas ke daur mein sab cheej nasht karate ja rahe hain ab graameen kshetron mein bhee lekin dheere-dheere shahareekaran aata ja raha hai to vahaan se bhee kaee prajaatiyaan pakshiyon kee vilupt hotee ja rahee hai jabaki shaharon mein aap dekhoge to chidiya jobariya thee ab to vah log hee ho chukee hai to hamen sajag rahana padega prakrti ko sambhaal ke rakhana padega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वर्तमान स्थितियों में पक्षियों का कम हो जाना क्या कारणों से हो सकता है पक्षियों का कम हो जाना क्या कारणों से हो सकता है
URL copied to clipboard