#भारत की राजनीति

bolkar speaker

काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?

Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:04
हेलो एवरीवन तू आज आपका सवाल है कि काफी लोग एनडीटीवी चैनल से उनकी पत्रकारों से नफरत करते हैं क्यों करते हैं वीडियो चैनल है वहां पर बहुत मतलब जनता मतलब दिखती क्योंकि हर एक इंसान न्यूज़ पेपर पढ़ नहीं सकता है तो वह सुनता है तो ज्यादा से ज्यादा लोग देखिए न्यूज़ देखते हैं तो जो भी चीज हमारे देश दुनिया में हो रहा है हमें सूचना से पता चलता है कि हां और क्या हो रहा है क्या लागू हो रहा है क्या नहीं हो रहा है क्या हमारे देश में नया और तू बहुत सारे चैनल जो है वह पपेट और जो हम कठपुतली कहते हैं वह बन गया है मतलब जो भी रूलिंग पार्टी जो भी सरकार है उसके चारों पर नाचता है अगर एनडीटीवी की बात करें तो वह आम चैनलों से बिल्कुल भी अलग है और मैं भी उस चैनल को बहुत पसंद करती हूं लेकिन कहा जाता है कि जो लोग हिंदी टीवी चैनल को पसंद करते हैं वह मतलब हमारे मोदी सरकार से नफरत करते हैं और बीजेपी सरकार से नफरत करते हैं लेकिन देखिए एनडीटीवी एक ऐसा चैनल है जहां पर आप को फैक्स एक्यूरेसी दिखा देखने के लिए मिलता है ऐसा नहीं है कि कुछ भी चीज बढ़ा चढ़ाकर किसी की तारीफ किसी की बाबा बीजेपी सरकार की वादा या फिर कोई कुछ अच्छा काम नहीं किया फिर भी किसी के बारे में बस दिखाते रहना एनडीटीवी में कभी भी ऐसा नहीं होता है जो चीज आपको जो न्यूज़ पूरे चैनल में नहीं मिल रहा है जहां से ढूंढ कर नहीं निकाला गया बहुत बार वहां पर ऐसे ऐसे टॉपिक के बारे में ज्यादा से ज्यादा मैंने उस चैनल में रोजगार को देखकर गंदगी साफ सफाई और उसके बाद पढ़ाई लिखाई है सबको लेकर उसमें मतलब दिखाया जाता लेकिन वहां पर कहां घूमने जा रहा है कोलकाता से ज्यादा बार तारीफ के लिए सब चैनल में दिखाया जाता है तो पर्सनली मैं भी टीवी चैनल को बहुत पसंद करती हूं लोगों को लगता है कि वह मतलब खिलाफ है बीजेपी सरकार के तो इसलिए बहुत सारे लोग उस चैनल को पसंद नहीं करते हैं
Helo evareevan too aaj aapaka savaal hai ki kaaphee log enadeeteevee chainal se unakee patrakaaron se napharat karate hain kyon karate hain veediyo chainal hai vahaan par bahut matalab janata matalab dikhatee kyonki har ek insaan nyooz pepar padh nahin sakata hai to vah sunata hai to jyaada se jyaada log dekhie nyooz dekhate hain to jo bhee cheej hamaare desh duniya mein ho raha hai hamen soochana se pata chalata hai ki haan aur kya ho raha hai kya laagoo ho raha hai kya nahin ho raha hai kya hamaare desh mein naya aur too bahut saare chainal jo hai vah papet aur jo ham kathaputalee kahate hain vah ban gaya hai matalab jo bhee rooling paartee jo bhee sarakaar hai usake chaaron par naachata hai agar enadeeteevee kee baat karen to vah aam chainalon se bilkul bhee alag hai aur main bhee us chainal ko bahut pasand karatee hoon lekin kaha jaata hai ki jo log hindee teevee chainal ko pasand karate hain vah matalab hamaare modee sarakaar se napharat karate hain aur beejepee sarakaar se napharat karate hain lekin dekhie enadeeteevee ek aisa chainal hai jahaan par aap ko phaiks ekyooresee dikha dekhane ke lie milata hai aisa nahin hai ki kuchh bhee cheej badha chadhaakar kisee kee taareeph kisee kee baaba beejepee sarakaar kee vaada ya phir koee kuchh achchha kaam nahin kiya phir bhee kisee ke baare mein bas dikhaate rahana enadeeteevee mein kabhee bhee aisa nahin hota hai jo cheej aapako jo nyooz poore chainal mein nahin mil raha hai jahaan se dhoondh kar nahin nikaala gaya bahut baar vahaan par aise aise topik ke baare mein jyaada se jyaada mainne us chainal mein rojagaar ko dekhakar gandagee saaph saphaee aur usake baad padhaee likhaee hai sabako lekar usamen matalab dikhaaya jaata lekin vahaan par kahaan ghoomane ja raha hai kolakaata se jyaada baar taareeph ke lie sab chainal mein dikhaaya jaata hai to parsanalee main bhee teevee chainal ko bahut pasand karatee hoon logon ko lagata hai ki vah matalab khilaaph hai beejepee sarakaar ke to isalie bahut saare log us chainal ko pasand nahin karate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:54
बस वाले की काफी लोग हैं कि टीवी चैनल है उसके पकाना से नफरत क्यों करते हैं 20 दिन में बहुत से सरकार ऐसे हैं जो नहीं पक्ष यानी कि दोनों पार्टियों की बराबर बात करते हैं और वह से ऐसे पत्रकार हैं जो केवल कांग्रेस के हैं कौन कहते हैं जिसे हद एनडीटीवी में केवल रवीश कुमार है वह केवल कांग्रेस के पक्ष में ही बोलते हैं और भाजपा के विपक्ष में बोलते हैं और जो भी है एनडीटीवी के पत्रकार है वह कब्रों को इतना कॉल करते हैं कि हो कुछ और ही आए हैं और इसे तोड़ना और तोड़ के कुछ और ही बयां करते हैं इसके लिए मेरे ख्याल से एन टीवी के बलिदान से लोग नफरत करते हैं
Bas vaale kee kaaphee log hain ki teevee chainal hai usake pakaana se napharat kyon karate hain 20 din mein bahut se sarakaar aise hain jo nahin paksh yaanee ki donon paartiyon kee baraabar baat karate hain aur vah se aise patrakaar hain jo keval kaangres ke hain kaun kahate hain jise had enadeeteevee mein keval raveesh kumaar hai vah keval kaangres ke paksh mein hee bolate hain aur bhaajapa ke vipaksh mein bolate hain aur jo bhee hai enadeeteevee ke patrakaar hai vah kabron ko itana kol karate hain ki ho kuchh aur hee aae hain aur ise todana aur tod ke kuchh aur hee bayaan karate hain isake lie mere khyaal se en teevee ke balidaan se log napharat karate hain

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:46
बात केवल हिंदी टीवी चैनल की ही नहीं टीवी के बहुत सारे चैनल ऐसे हैं जो सरकार की मतलब वाहवाही करते हैं और वास्तविक जो खतना के साहित्य समाज का दर्पण और सब समाचार जो होते हुए साहित्य का ही एक अंश होते हैं मीडिया जो है वह जनता के वास्तविक स्वरूप को दिखाएं दिखाना चाहिए लेकिन सरकार के दबाव में आकर तो सरकार की चापलूसी वाली बात करती है जिसमें एनडीटीवी और मुल्क का काफी चैनल है उसमें ज़ी टीवी एनडीटीवी एग्जिट लिए दो टीमें ऐसी हैं जो पूंजीपतियों के ही हैं और यह सरकार के हिसाब से ही चलते हैं चाहे देश में जाए जो भी घटना घटित हो जाएं वह और अन्य कोई भी दिखाती है इसलिए लोग नफरत करते हैं
Baat keval hindee teevee chainal kee hee nahin teevee ke bahut saare chainal aise hain jo sarakaar kee matalab vaahavaahee karate hain aur vaastavik jo khatana ke saahity samaaj ka darpan aur sab samaachaar jo hote hue saahity ka hee ek ansh hote hain meediya jo hai vah janata ke vaastavik svaroop ko dikhaen dikhaana chaahie lekin sarakaar ke dabaav mein aakar to sarakaar kee chaapaloosee vaalee baat karatee hai jisamen enadeeteevee aur mulk ka kaaphee chainal hai usamen zee teevee enadeeteevee egjit lie do teemen aisee hain jo poonjeepatiyon ke hee hain aur yah sarakaar ke hisaab se hee chalate hain chaahe desh mein jae jo bhee ghatana ghatit ho jaen vah aur any koee bhee dikhaatee hai isalie log napharat karate hain

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:45
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं दोस्तों आपको जानकारी के लिए बता दूं जो भी देश होता है वह आपके न्यूज़ चैनल होते हैं कि वह कुछ भी चीजें दिखाइए सरकार की जरूरत पड़ती कैसा है जो भी कुछ निर्णय लिया गया सरकार के द्वारा पूजन में कैसा होगा क्योंकि आज के दौर में हम देख रहे हैं कि नेट चलन जो है वह सरकार के पक्ष इत्यादि के अंदर कुछ ज्यादा बोल रहा है परंतु वही है जी बात करें एनडीटीवी के बारे में दोस्तों एनडीटीवी भारत का एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जो कि हमेशा से ही सरकार की नीतियों और उनके द्वारा कोई भी जो मिलाया गया है उनका मूल्यांकन करके निष्पक्षता के साथ सवालों का जवाब का यही वजह है दोस्तों की एक बहुत बड़ा एक समूह है जो तब गया जो सरकार को सपोर्ट करता है इस वजह से इस चैनल वालों से नफरत करते हैं क्योंकि यह अक्सर से सरकार की विरोध दिखाते हैं दोस्तों एक बहुत बड़े नेता रहे हैं और वह प्रधानमंत्री रह चुके श्री चौधरी चरण सिंह जी उनका यही मानना था कि जब तक इस देश का मीडिया मेरे कल आप लिखता रहेगा देश विकास करता रहेगा और जिस दिन मेरे पास हो जाएगी एनडीटीवी चैनल है पूरी तरीके से चौधरी चरण सिंह के शब्दों के ऊपर चल रहा है इस सरकार के पक्ष और विपक्ष दोनों ही मुद्दों के ऊपर निष्पक्षता के साथ सवालों के जवाब देता है और यही कारण है कि एक बहुत बड़ा समूह जो सरकार को सपोर्ट करते हैं नफरत के साथ
Kaaphee log enadeeteevee chainal hai unake patrakaaron se napharat kyon karate hain doston aapako jaanakaaree ke lie bata doon jo bhee desh hota hai vah aapake nyooz chainal hote hain ki vah kuchh bhee cheejen dikhaie sarakaar kee jaroorat padatee kaisa hai jo bhee kuchh nirnay liya gaya sarakaar ke dvaara poojan mein kaisa hoga kyonki aaj ke daur mein ham dekh rahe hain ki net chalan jo hai vah sarakaar ke paksh ityaadi ke andar kuchh jyaada bol raha hai parantu vahee hai jee baat karen enadeeteevee ke baare mein doston enadeeteevee bhaarat ka ek aisa nyooz chainal hai jo ki hamesha se hee sarakaar kee neetiyon aur unake dvaara koee bhee jo milaaya gaya hai unaka moolyaankan karake nishpakshata ke saath savaalon ka javaab ka yahee vajah hai doston kee ek bahut bada ek samooh hai jo tab gaya jo sarakaar ko saport karata hai is vajah se is chainal vaalon se napharat karate hain kyonki yah aksar se sarakaar kee virodh dikhaate hain doston ek bahut bade neta rahe hain aur vah pradhaanamantree rah chuke shree chaudharee charan sinh jee unaka yahee maanana tha ki jab tak is desh ka meediya mere kal aap likhata rahega desh vikaas karata rahega aur jis din mere paas ho jaegee enadeeteevee chainal hai pooree tareeke se chaudharee charan sinh ke shabdon ke oopar chal raha hai is sarakaar ke paksh aur vipaksh donon hee muddon ke oopar nishpakshata ke saath savaalon ke javaab deta hai aur yahee kaaran hai ki ek bahut bada samooh jo sarakaar ko saport karate hain napharat ke saath

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
Vikas Sharma  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikas जी का जवाब
No
0:45
फ्रेंड्स और अब क्वालिटी काफी लोग एंड टीवी चैनल और उनके पत्रकारों से नफरत करते हैं सेंट्स नफ़रत करने का सबसे मुख्य एनडीटीवी फ्रेंड्स मैं लगभग मैं भी टीवी देखता हूं फ्रेंड्स जो राजू कुमार जो थोड़ी बुजुर्ग शरीफ फ्रेंड्स फ्रेंड्स बिल्कुल सच्ची किफायती बात बोलते सेंड शो और हमेशा सच्ची बात बोलते और फ्रेंड्स कि सच्चे बाबा के लोगों के पति ने उपस्थित इनोसेंट्स इसलिए फ्रेंड्स वह एलईटीवी और उनके पत्रकारों से नफरत करते हैं क्योंकि सारे पत्रकार फ्रेंड्स लगभग सच्ची रिपोर्ट दिखाते हैं और मेरे को वहीं चैनल सबसे बढ़िया लगता है फ्रेंड्स देखने के लिए ठीक है फ्रेंड अगर आपको अच्छा लगा हो तो प्लीज लाइक कर देना जय हिंद जय भारत
Phrends aur ab kvaalitee kaaphee log end teevee chainal aur unake patrakaaron se napharat karate hain sents nafarat karane ka sabase mukhy enadeeteevee phrends main lagabhag main bhee teevee dekhata hoon phrends jo raajoo kumaar jo thodee bujurg shareeph phrends phrends bilkul sachchee kiphaayatee baat bolate send sho aur hamesha sachchee baat bolate aur phrends ki sachche baaba ke logon ke pati ne upasthit inosents isalie phrends vah eleeteevee aur unake patrakaaron se napharat karate hain kyonki saare patrakaar phrends lagabhag sachchee riport dikhaate hain aur mere ko vaheen chainal sabase badhiya lagata hai phrends dekhane ke lie theek hai phrend agar aapako achchha laga ho to pleej laik kar dena jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है काफी लोग एनडीटीवी चैनल के पत्रकारों को नफरत करते हैं तो ऐसा क्यों है क्योंकि दोस्तों जो एनडीटीवी के पत्रकार हैं वह काफी एग्रेसिव लैंग्वेज का प्रयोग करते हैं और काफी गुस्सैल लैंग्वेज इन या फिर जो सब लोग नहीं देख सकते ऐसी लाइनों का प्रयोग करते हैं और खबरों को मसालेदार बनाने के लिए मैं थोड़े अलग शब्दों का प्रयोग करते हैं इसीलिए लोग उनको पसंद नहीं करते हैं और नफरत करते हैं तो अगर आपको दोस्तों मेरा जवाब सही लगा हो तो प्लीज लाइक के बटन को जरूर दवाई आएगा और सब्सक्राइब भी कर लीजिएगा धन्यवाद दोस्तों
Namaskaar doston aapaka prashn hai kaaphee log enadeeteevee chainal ke patrakaaron ko napharat karate hain to aisa kyon hai kyonki doston jo enadeeteevee ke patrakaar hain vah kaaphee egresiv laingvej ka prayog karate hain aur kaaphee gussail laingvej in ya phir jo sab log nahin dekh sakate aisee lainon ka prayog karate hain aur khabaron ko masaaledaar banaane ke lie main thode alag shabdon ka prayog karate hain iseelie log unako pasand nahin karate hain aur napharat karate hain to agar aapako doston mera javaab sahee laga ho to pleej laik ke batan ko jaroor davaee aaega aur sabsakraib bhee kar leejiega dhanyavaad doston

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:52
नमस्कार आपके द्वारा काफी लोग हिंदी टीवी चैनल थे और उनकी पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं कुछ लोगों की बात होती है क्योंकि सबकी पसंद एक नहीं हो सकती क्योंकि अभी कोई और नहीं पसंद है किसी को कोई और नहीं पसंद है तो जहां तक सवाल है एनडीटीवी चैनल में कोई बुराई नहीं है बस इतना है कि जो सालों में दिखाया जाता है उस तरीके चीज में थोड़ा बहुत नहीं दिखाया जाता है कुछ लोगों की बात है कि कुछ लोग पसंद नहीं करते हैं हम तो हर जगह कुछ लोग होते हैं यहां तक कि अगर कोई व्यक्ति बहुत अच्छा काम करें कि भी वहां पर भी कुछ लोग आते रहेंगे जिनको वह काम पसंद नहीं होगा बल्कि वह सब की भलाई के लिए होगा तभी भी उनको हो सकता है पसंद ना हो तो कुछ लोग तो हर जगह पर हम कुछ लोगों के बारे में सोचें तो इस तरीके से भगवान से भी सब लोग खुश नहीं रहते हैं क्योंकि माली जी मेरे वहां सूखा पड़ा है एक ही बारिश हो जाए हो जाए ठीक है भगवान एसोचैम बारिश कर देते हैं बारिश होती है तो क्या मनीष हमारे यहां के लोग खुश हैं और दूसरे क्षेत्र में वहीं पर बारिश की जरूरत नहीं थी तुमको अच्छा नहीं लगता है कि बिन मौसम के बारिश या फिर यहां पर बारिश की जरूरत नहीं थी तेरी भगवान को भी कुछ लोग ऐसे होते हैं जो उनको लगता है कि मैं रिकॉर्डिंग काम हो जबकि भगवान की भलाई के लिए सोचते हैं कि कोई और अच्छा काम भी करे तो सबको पसंद हो तो एनडीटीवी चैनल की बात हुई है तो मुझे लगता है कि आई डी टीवी चैनल से कोई इतना नफरत करता है यह सवाल उठाने की जरूरत है हमको सब पसंद नहीं होगा यह अलग बात है तो मिलते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग खुश रहिए दोस्तों को भी कुछ चाहिए
Namaskaar aapake dvaara kaaphee log hindee teevee chainal the aur unakee patrakaaron se napharat kyon karate hain kuchh logon kee baat hotee hai kyonki sabakee pasand ek nahin ho sakatee kyonki abhee koee aur nahin pasand hai kisee ko koee aur nahin pasand hai to jahaan tak savaal hai enadeeteevee chainal mein koee buraee nahin hai bas itana hai ki jo saalon mein dikhaaya jaata hai us tareeke cheej mein thoda bahut nahin dikhaaya jaata hai kuchh logon kee baat hai ki kuchh log pasand nahin karate hain ham to har jagah kuchh log hote hain yahaan tak ki agar koee vyakti bahut achchha kaam karen ki bhee vahaan par bhee kuchh log aate rahenge jinako vah kaam pasand nahin hoga balki vah sab kee bhalaee ke lie hoga tabhee bhee unako ho sakata hai pasand na ho to kuchh log to har jagah par ham kuchh logon ke baare mein sochen to is tareeke se bhagavaan se bhee sab log khush nahin rahate hain kyonki maalee jee mere vahaan sookha pada hai ek hee baarish ho jae ho jae theek hai bhagavaan esochaim baarish kar dete hain baarish hotee hai to kya maneesh hamaare yahaan ke log khush hain aur doosare kshetr mein vaheen par baarish kee jaroorat nahin thee tumako achchha nahin lagata hai ki bin mausam ke baarish ya phir yahaan par baarish kee jaroorat nahin thee teree bhagavaan ko bhee kuchh log aise hote hain jo unako lagata hai ki main rikording kaam ho jabaki bhagavaan kee bhalaee ke lie sochate hain ki koee aur achchha kaam bhee kare to sabako pasand ho to enadeeteevee chainal kee baat huee hai to mujhe lagata hai ki aaee dee teevee chainal se koee itana napharat karata hai yah savaal uthaane kee jaroorat hai hamako sab pasand nahin hoga yah alag baat hai to milate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log khush rahie doston ko bhee kuchh chaahie

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:53
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं वह जो है वह मोदी के अंध भक्त हैं और मोदी मोदी ने जो और उसकी है जो यंत्रणा है उन्होंने बाकी सब चैनल से जो है उनको खरीद कर लिया है और वह बीजेपी कार्यकर्ता बनकर पत्रकारिता कर रहे हैं तो इसमें हजारों लाखों में एक तो ईमानदार होता है तू रवीश कुमार जी वापस सच्चाई बताने का अपना कर्तव्य कर रहे हैं चाहे कुछ भी हो हो पीछे हटने वाले व्यक्ति को तो नहीं है वह जो है तो दोस्त रूप से पत्रकारिता करते हैं पुरोगामी विचार विचारधारा के हैं सेकुलर विचारधारा के धर्मेंद्र विचारधारा के और यह माहौल ऐसा मीडिया के माध्यम से लोगों के मन में बाकी सब चैनल पर प्रिंट मीडिया ने एक ट्रेडिशनल मीडिया होता है जिसमें साधु संत भी आते हैं और एक वह कल मीडियम होता है जिसमें बोलने से प्रचारित किया जाता है तो पत्रकारिता क्या हर प्रकार जो है उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो नहीं लेकिन उनका जो संगठन है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उसके पास यह सारी यंत्रणा है और वह बहुत इफेक्टिव ही काम करती है कृषि यंत्र नानी एक कुछ गुट है ज्यादा भी लोग नहीं है उसमें उसमें एक धर्मांधता फाइल आएगी और वह धर्मांधता जी भी है कोई कंस्ट्रक्टिव नहीं है वह मुस्लिम विरोधी मानसिकता का या मुस्लिम देश का देश की मानसिकता रखने वाले लोगों का लोगों का ग्रुप है और यह जो नफरत करने वाले लोग हैं यह भी बहुत कम माइनॉरिटी में है और असली चुनाव हो जाए तुझे जीत नहीं सकते क्योंकि आम लोगों में मेजोरिटी में लोग जो जो है वह परेशान है और इस सरकार के काम से समाधानी नहीं इसलिए वह सरकार फिर नहीं रह जाएंगे या अभी भी नहीं लाया था वह पहले भी नहीं रहे थे लेकिन इलेक्ट्रॉनिक वाशिंग मशीन मशीन में घोटाला करके यह सब इन्होंने किया है और इसको कोई रोक नहीं सकता था क्योंकि सत्ताधारी और विपक्षी भी दोनों ने भी इसका यही तरीका अपनाया है अपनाया था और यह आपस में मिलीजुली होते हैं लेकिन इस ऐसे माहौल में सारे एनडीटीवी चैनल के जो पत्रकार रवीश कुमार जैसे लोग हैं एक निष्पक्ष निष्पक्ष पत्रकारिता करते हैं और लोग जब नफरत करते हैं तो यह उसका मतलब यह होता है कि आदमी कोई सच्चाई बोलो बोल रहा है तभी नफरत करते हैं अन्यथा दुर्लक्ष करते हैं जान मानते नहीं है लेकिन एक एक स्टेप बढ़कर लोग कुछ भी कर सकते हैं जान भी दे सकते हैं लेकिन यह कब होता है जब उसकी वह व्यक्ति सच्चे सच्चा हो तो चर्चा उन्हीं पर होती है जो प्रभावी लोग हैं पत्थर उन्हें पेड़ों पर पंप मारे जाते हैं जिससे फल लगे हुए हैं फूलों से भरा हुआ है तो यह मूल कारण है धन्यवाद
Kaaphee log enadeeteevee chainal hai unake patrakaaron se napharat kyon karate hain vah jo hai vah modee ke andh bhakt hain aur modee modee ne jo aur usakee hai jo yantrana hai unhonne baakee sab chainal se jo hai unako khareed kar liya hai aur vah beejepee kaaryakarta banakar patrakaarita kar rahe hain to isamen hajaaron laakhon mein ek to eemaanadaar hota hai too raveesh kumaar jee vaapas sachchaee bataane ka apana kartavy kar rahe hain chaahe kuchh bhee ho ho peechhe hatane vaale vyakti ko to nahin hai vah jo hai to dost roop se patrakaarita karate hain purogaamee vichaar vichaaradhaara ke hain sekular vichaaradhaara ke dharmendr vichaaradhaara ke aur yah maahaul aisa meediya ke maadhyam se logon ke man mein baakee sab chainal par print meediya ne ek tredishanal meediya hota hai jisamen saadhu sant bhee aate hain aur ek vah kal meediyam hota hai jisamen bolane se prachaarit kiya jaata hai to patrakaarita kya har prakaar jo hai usamen pradhaanamantree narendr modee to nahin lekin unaka jo sangathan hai raashtreey svayansevak sangh usake paas yah saaree yantrana hai aur vah bahut iphektiv hee kaam karatee hai krshi yantr naanee ek kuchh gut hai jyaada bhee log nahin hai usamen usamen ek dharmaandhata phail aaegee aur vah dharmaandhata jee bhee hai koee kanstraktiv nahin hai vah muslim virodhee maanasikata ka ya muslim desh ka desh kee maanasikata rakhane vaale logon ka logon ka grup hai aur yah jo napharat karane vaale log hain yah bhee bahut kam mainoritee mein hai aur asalee chunaav ho jae tujhe jeet nahin sakate kyonki aam logon mein mejoritee mein log jo jo hai vah pareshaan hai aur is sarakaar ke kaam se samaadhaanee nahin isalie vah sarakaar phir nahin rah jaenge ya abhee bhee nahin laaya tha vah pahale bhee nahin rahe the lekin ilektronik vaashing masheen masheen mein ghotaala karake yah sab inhonne kiya hai aur isako koee rok nahin sakata tha kyonki sattaadhaaree aur vipakshee bhee donon ne bhee isaka yahee tareeka apanaaya hai apanaaya tha aur yah aapas mein mileejulee hote hain lekin is aise maahaul mein saare enadeeteevee chainal ke jo patrakaar raveesh kumaar jaise log hain ek nishpaksh nishpaksh patrakaarita karate hain aur log jab napharat karate hain to yah usaka matalab yah hota hai ki aadamee koee sachchaee bolo bol raha hai tabhee napharat karate hain anyatha durlaksh karate hain jaan maanate nahin hai lekin ek ek step badhakar log kuchh bhee kar sakate hain jaan bhee de sakate hain lekin yah kab hota hai jab usakee vah vyakti sachche sachcha ho to charcha unheen par hotee hai jo prabhaavee log hain patthar unhen pedon par pamp maare jaate hain jisase phal lage hue hain phoolon se bhara hua hai to yah mool kaaran hai dhanyavaad

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:49
नमस्कार सोता तो जो लोग एनडीटीवी चैनल से नफरत करते हैं उनकी जो एक बड़ी बात होती है वह यह होती है कि वह एनडीटीवी चैनल वाले कांग्रेस के सपोर्टर कहते हैं कि कांग्रेस उन्हें पैसे देती है लेकिन मेरा मानना है कि कोई भी चैनल हो गया कहीं से पैसे आ रहे हो लेकिन जो मुख्य काम होता है चैनल वालों का जर्नलिस्ट कब होता है कि सरकार को अकाउंटेबल ठहरा है कोई भी कुछ चीज हो रही हो अच्छी चीज हो रही हो बुरी चीज होती है लेकिन सरकार से सवाल करें उनसे प्रश्न पूछे उनसे मांगे कि अगर यह चीज गलत हो यह तो किसकी गलती हुई उसको अकाउंटेबिलिटी थायराइड है कि अगर कुछ गलत हुआ तो सरकार ने गलत है उन्हें माफी मांगनी चाहिए लेकिन आज के समय में कई सारे ऐसे चैनल से या बताऊंगा 90% ऐसे टीवी चैनल से जो क्वेश्चन नहीं पूछते उन्हें पता है गलत होने पर वह तब भी उसे इधर-उधर करके बात करते हैं जैसे अभी हाल ही में अन्य की चैट लीक हुई थी चैट में लिखा था कि आपको पता है कि बहुत खराब है लेकिन वह कभी भी टीवी पर ऐसी बात नहीं करेंगे तो ऐसी ही कई सारी बातें हैं एक नाम एक ही हो अनइंप्लॉयमेंट की हो भुखमरी की हो या लॉक डॉन की हो गलत चीज नहीं है कुछ फायदे भी होते हैं कुछ चीजों के कुछ गलत चीजें भी होती हैं लेकिन जब चैनल्स गलत चीजों पर सवाल नहीं उठाते तो सरकार को एक ताकत मिलती है उन्हें लगता है कि आप कभी हमसे नहीं पूछेगा क्योंकि जो सिटीजंस होते हैं जो आम नागरिक होते हैं उन्हें तो वह प्रदर्शन करेंगे उन पर लाठी चालू है कि वह घर चले जाएंगे लेकिन जनरलिस्ट को पावर मिली होते कि वह सरकार से पूछे लेकिन नहीं पूछा जाता हाथरस कांड हुआ दिन शोर मचा लेकिन वापस छोड़ दिया उसको
Namaskaar sota to jo log enadeeteevee chainal se napharat karate hain unakee jo ek badee baat hotee hai vah yah hotee hai ki vah enadeeteevee chainal vaale kaangres ke saportar kahate hain ki kaangres unhen paise detee hai lekin mera maanana hai ki koee bhee chainal ho gaya kaheen se paise aa rahe ho lekin jo mukhy kaam hota hai chainal vaalon ka jarnalist kab hota hai ki sarakaar ko akauntebal thahara hai koee bhee kuchh cheej ho rahee ho achchhee cheej ho rahee ho buree cheej hotee hai lekin sarakaar se savaal karen unase prashn poochhe unase maange ki agar yah cheej galat ho yah to kisakee galatee huee usako akauntebilitee thaayaraid hai ki agar kuchh galat hua to sarakaar ne galat hai unhen maaphee maanganee chaahie lekin aaj ke samay mein kaee saare aise chainal se ya bataoonga 90% aise teevee chainal se jo kveshchan nahin poochhate unhen pata hai galat hone par vah tab bhee use idhar-udhar karake baat karate hain jaise abhee haal hee mein any kee chait leek huee thee chait mein likha tha ki aapako pata hai ki bahut kharaab hai lekin vah kabhee bhee teevee par aisee baat nahin karenge to aisee hee kaee saaree baaten hain ek naam ek hee ho animployament kee ho bhukhamaree kee ho ya lok don kee ho galat cheej nahin hai kuchh phaayade bhee hote hain kuchh cheejon ke kuchh galat cheejen bhee hotee hain lekin jab chainals galat cheejon par savaal nahin uthaate to sarakaar ko ek taakat milatee hai unhen lagata hai ki aap kabhee hamase nahin poochhega kyonki jo siteejans hote hain jo aam naagarik hote hain unhen to vah pradarshan karenge un par laathee chaaloo hai ki vah ghar chale jaenge lekin janaralist ko paavar milee hote ki vah sarakaar se poochhe lekin nahin poochha jaata haatharas kaand hua din shor macha lekin vaapas chhod diya usako

bolkar speaker
काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं?Kafi Log Ndtv Channel Hai Unke Patrakaro Se Nafrat Kyo Karte Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
Author
1:53
नमस्कार आपका प्रश्न है काफी लोग एनडीटीवी चैनल है उनके पत्रकारों से नफरत क्यों करते हैं वर्तमान स्वरूप में किसी भी न्यूज़ चैनल को आप देखा तो उसके पत्रकारों से कुछ लोग नफरत करते हुए पाए जाएंगे क्योंकि वर्तमान में अधिकांश लोगों ने अपने आप को किसी न किसी जाति धर्म या राजनीतिक पार्टी से जोड़ रखा है और वह उसी के संदर्भ में हर चीज की व्याख्या करते हैं क्योंकि यह सच है कि दुनिया में 95% लोग इतने समझने से विकसित नहीं होते तो हर चीज की सही व्याख्या कर पाए तो अपने नेता और अपने जो भी उनके जिसके 1 उसके हिसाब से व्याख्या करते हैं मिलता है इसकी मुख्य वजह है उसके द्वारा दिखाई जाने वाली न्यूज़ की प्रक्रिया या जिस तरीके से न्यूज़ की व्याख्या करता है उसके कारण लोग उसके विरोध करते हैं जैसे दिल्ली दंगों के समय जो आरोपी पकड़ा गया पहले दिन एक बंदूक पास में नहीं हुए उसका गलत नाम देकर इन एनडीटीवी ने प्रचारित किया दिखाना चाहते हैं उसके अलावा कोई खबर होगी यदि मान लीजिए कई कभी ऐसी खबर आती है कि किसी एक मुस्लिम व्यक्ति और एक हिंदू व्यक्ति की आपस में लड़ाई हुई जिसमें जो किसी भी कारण से लड़ाई हुआ कि मुस्लिम व्यक्ति को पीटा गया खबरें दिखा दे एक मुस्लिम को मारा गया वहीं यदि 4 मुस्लिम मिलकर भी किसी भी व्यक्ति को पीटा तो खबर दिखाते हैं कि दोस्तों की मामूली विवाद पर 4 लोगों ने एक व्यक्ति को पीटा भी छुपाने की कोशिश करते हैं और यहां जाति धर्म दिखाने की कोशिश करते हैं विरोध करते हैं और एनडीटीवी के साथ भी होता है कहीं ना कहीं मीडिया का शक है कि धीरे-धीरे हमारा दिखाई दे रहा है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai kaaphee log enadeeteevee chainal hai unake patrakaaron se napharat kyon karate hain vartamaan svaroop mein kisee bhee nyooz chainal ko aap dekha to usake patrakaaron se kuchh log napharat karate hue pae jaenge kyonki vartamaan mein adhikaansh logon ne apane aap ko kisee na kisee jaati dharm ya raajaneetik paartee se jod rakha hai aur vah usee ke sandarbh mein har cheej kee vyaakhya karate hain kyonki yah sach hai ki duniya mein 95% log itane samajhane se vikasit nahin hote to har cheej kee sahee vyaakhya kar pae to apane neta aur apane jo bhee unake jisake 1 usake hisaab se vyaakhya karate hain milata hai isakee mukhy vajah hai usake dvaara dikhaee jaane vaalee nyooz kee prakriya ya jis tareeke se nyooz kee vyaakhya karata hai usake kaaran log usake virodh karate hain jaise dillee dangon ke samay jo aaropee pakada gaya pahale din ek bandook paas mein nahin hue usaka galat naam dekar in enadeeteevee ne prachaarit kiya dikhaana chaahate hain usake alaava koee khabar hogee yadi maan leejie kaee kabhee aisee khabar aatee hai ki kisee ek muslim vyakti aur ek hindoo vyakti kee aapas mein ladaee huee jisamen jo kisee bhee kaaran se ladaee hua ki muslim vyakti ko peeta gaya khabaren dikha de ek muslim ko maara gaya vaheen yadi 4 muslim milakar bhee kisee bhee vyakti ko peeta to khabar dikhaate hain ki doston kee maamoolee vivaad par 4 logon ne ek vyakti ko peeta bhee chhupaane kee koshish karate hain aur yahaan jaati dharm dikhaane kee koshish karate hain virodh karate hain aur enadeeteevee ke saath bhee hota hai kaheen na kaheen meediya ka shak hai ki dheere-dheere hamaara dikhaee de raha hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रवीश कुमार की सैलरी कितनी है,NDTV का इतिहास,NDTV का पूरा नाम
URL copied to clipboard