#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?

Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:09
हेलो आजाद का सवाल है कि क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा राम जी हां यह बिल्कुल सही है लोग आज अपने सेल्फिश के लिए मतलब के लिए अपनी जरूरत के लिए पेड़ पौधे काटे जा रहे हैं बड़े-बड़े लैंग्वेज मतलब जो भी गंदगी है वह नदी में फेंक रहे हैं देख रहे हैं तो इस तरह से हम अपने मतलब के लिए अपनी जरूरत के लिए अपनी प्रकृति के साथ खिलवाड़ करने की यह भी पॉसिबल नहीं है कि हां पेड़ पौधे को बचाने के लिए अपने मित्र को इंडस्ट्रीज कोई कारण कुछ भी आप नहीं बनाई बनाई है कोई भी चीज बनारस के बदले कहीं और लगा दीजिए सीरिया में तू मेरे हिसाब से यह बात आपने सारे 200 300 पर आपने काट दिया उसके बाद आपने कुछ लगाया ही नहीं और उसके बाद हम पर फैक्ट्री एरिया इस तरह से हमने नुकसान भी किया उसके बाद भी हम नुकसान ही नुकसान कर रहे हैं यह हमारे प्रकृति के लिए बहुत ही खतरनाक हो जाता है और जब इतना कि हर एक चीज के अनुभव का मंदिर आर कर रहे घर आने का इंतजार करें तो प्रकृति भी बर्दाश्त करके जिस दिन ग्लोबल वार्मिंग देख ले ठंड के मौसम में ठंडी गर्मी के मौसम में मतलब कुछ ज्यादा ही गर्मी होता है आप के मौसम में बारिश होगा ताकि सीरिया में यह संभव है इसके जिम्मेदार है मतलब हमें अपने बारे में प्रकृति के साथ खिलवाड़ करते इसीलिए आज हम यह सब देखने के लिए मिल रहा है ट्यूशन के लोगों को सांस लेने में प्रॉब्लम हो रहा है जगना चाहिए प्रकृति हमें एक तोहफा मिला है वह हमारा ही है किसी और करें उसमें हमारा ही हक है हक है इसका मतलब यह नहीं कि हम सब चीज मतलब बर्बाद करते काटते हैं जितना अपने मतलब के लिए सोचते अपनी जरूरत के लिए सोचते हो कि हमें अलग आप भी देना चाहिए ताकि हर एक चीज बैलेंस तरीके से चले
Helo aajaad ka savaal hai ki kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raam jee haan yah bilkul sahee hai log aaj apane selphish ke lie matalab ke lie apanee jaroorat ke lie ped paudhe kaate ja rahe hain bade-bade laingvej matalab jo bhee gandagee hai vah nadee mein phenk rahe hain dekh rahe hain to is tarah se ham apane matalab ke lie apanee jaroorat ke lie apanee prakrti ke saath khilavaad karane kee yah bhee posibal nahin hai ki haan ped paudhe ko bachaane ke lie apane mitr ko indastreej koee kaaran kuchh bhee aap nahin banaee banaee hai koee bhee cheej banaaras ke badale kaheen aur laga deejie seeriya mein too mere hisaab se yah baat aapane saare 200 300 par aapane kaat diya usake baad aapane kuchh lagaaya hee nahin aur usake baad ham par phaiktree eriya is tarah se hamane nukasaan bhee kiya usake baad bhee ham nukasaan hee nukasaan kar rahe hain yah hamaare prakrti ke lie bahut hee khataranaak ho jaata hai aur jab itana ki har ek cheej ke anubhav ka mandir aar kar rahe ghar aane ka intajaar karen to prakrti bhee bardaasht karake jis din global vaarming dekh le thand ke mausam mein thandee garmee ke mausam mein matalab kuchh jyaada hee garmee hota hai aap ke mausam mein baarish hoga taaki seeriya mein yah sambhav hai isake jimmedaar hai matalab hamen apane baare mein prakrti ke saath khilavaad karate iseelie aaj ham yah sab dekhane ke lie mil raha hai tyooshan ke logon ko saans lene mein problam ho raha hai jagana chaahie prakrti hamen ek tohapha mila hai vah hamaara hee hai kisee aur karen usamen hamaara hee hak hai hak hai isaka matalab yah nahin ki ham sab cheej matalab barbaad karate kaatate hain jitana apane matalab ke lie sochate apanee jaroorat ke lie sochate ho ki hamen alag aap bhee dena chaahie taaki har ek cheej bailens tareeke se chale

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
Unknown
1:50
शिवाला में क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है जी हां बिल्कुल प्रगति जो है आजकल के जमाने में प्रकृति के विनाश के साथ ही जो है आ रहा है क्योंकि मुझे मनुष्य है जो भी प्रगति करते हैं चाहे वह प्रगति हो किसी इंडस्ट्री खोलने का या फिर किसी भी ऐसी चीजें करने का ऐप जिससे चाहे इंसान की प्रगति होती है वह एक कीमत पर आती है और वह कीमत होती है प्रकृति के विनाश का क्योंकि प्रकृति स्वयं काफी भरपूर मात्र में जो है प्रकृति के जो देन है वह प्रकृति की देन का इस्तेमाल करती ही जगह कहीं ना कहीं तो हर इंसान अपनी प्रगति कर पाया है और साथ ही साथ में जो है प्रकृति को विनाश कर के ही इंसान से अपनी जो प्रकृति की चीजें हैं वह बना पा रहा है आपने जो कंफर्ट की चीज है वह बना पा रहा है और यही कारण है कि प्रकृति के विनाश के वजह से ही हमने बहुत सारी चीजों को देखने को मिल रहा है जैसे कि आपने देखा होगा कि जो ओजोन होल है वह सुन होल भी हो चुका है और यही कारण है कि आजकल ग्लोबल वार्मिंग हो रहा है और प्रकृति के साथ-साथ एक जो प्रकृति का विनाश हो रहा है यह कहीं ना कहीं जाए हमें आने वाले दिनों में से हैं बहुत उसका भरपाई करने का जो है अंदाज में तो हो सकता है कि हमारा कुछ बहुत बड़ी कीमत है इसका चुकाना पड़े मेरे ख्याल से यह सवाल का जवाब
Shivaala mein kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai jee haan bilkul pragati jo hai aajakal ke jamaane mein prakrti ke vinaash ke saath hee jo hai aa raha hai kyonki mujhe manushy hai jo bhee pragati karate hain chaahe vah pragati ho kisee indastree kholane ka ya phir kisee bhee aisee cheejen karane ka aip jisase chaahe insaan kee pragati hotee hai vah ek keemat par aatee hai aur vah keemat hotee hai prakrti ke vinaash ka kyonki prakrti svayan kaaphee bharapoor maatr mein jo hai prakrti ke jo den hai vah prakrti kee den ka istemaal karatee hee jagah kaheen na kaheen to har insaan apanee pragati kar paaya hai aur saath hee saath mein jo hai prakrti ko vinaash kar ke hee insaan se apanee jo prakrti kee cheejen hain vah bana pa raha hai aapane jo kamphart kee cheej hai vah bana pa raha hai aur yahee kaaran hai ki prakrti ke vinaash ke vajah se hee hamane bahut saaree cheejon ko dekhane ko mil raha hai jaise ki aapane dekha hoga ki jo ojon hol hai vah sun hol bhee ho chuka hai aur yahee kaaran hai ki aajakal global vaarming ho raha hai aur prakrti ke saath-saath ek jo prakrti ka vinaash ho raha hai yah kaheen na kaheen jae hamen aane vaale dinon mein se hain bahut usaka bharapaee karane ka jo hai andaaj mein to ho sakata hai ki hamaara kuchh bahut badee keemat hai isaka chukaana pade mere khyaal se yah savaal ka javaab

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
0:49
आज प्रगति प्रगति करने की अंधी दौड़ में मानव पिता सा भाग रहा है इस प्रगति प्रगति करने की दौड़ में पीता सब भागता हुआ इंसान एकदम निर्जीव धन कमाने की मशीन बन गया है चित्र नहीं होता जा रहा है इसलिए रिश्तो को खोखला कर डाला है और एक दूसरे को धोखा दे रहा है छल कपट अन्य धर्म बीमारी का प्रयोग कर रहा है और पर्यावरण को प्रदूषित कर रहा है प्रकृति का शोषण कर रहा है दोहन कर रहा है
Aaj pragati pragati karane kee andhee daud mein maanav pita sa bhaag raha hai is pragati pragati karane kee daud mein peeta sab bhaagata hua insaan ekadam nirjeev dhan kamaane kee masheen ban gaya hai chitr nahin hota ja raha hai isalie rishto ko khokhala kar daala hai aur ek doosare ko dhokha de raha hai chhal kapat any dharm beemaaree ka prayog kar raha hai aur paryaavaran ko pradooshit kar raha hai prakrti ka shoshan kar raha hai dohan kar raha hai

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:47
सोने की चप्पल की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहे हैं तो मैं आपकी बात से बिल्कुल सहमत हूं क्योंकि प्रकृति ने मानव को सभी वस्तुएं प्रदान की है जिसमें से किसी न किसी रूप में रिलायंस होता है परंतु आधुनिक की दौड़ में इंसान इन प्राकृतिक स्रोतों को अंजान ने स्वयं ही खत्म कर रहे हैं जीव जंतु वनस्पति तेजी से के साथ खत्म हो रही है तथा प्रभाव मानव जीवन पर पड़ रहा है नतीजा सामने ग्लोबल वार्निंग बांट रहे हैं तथा कैल्सियम डिफिकल्ट रहा है यदि समय रहते संदेश कि नहीं है कि तेरे गया कि मानव जीवन सदा प्रभावित होगा धन्यवाद
Sone kee chappal kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja rahe hain to main aapakee baat se bilkul sahamat hoon kyonki prakrti ne maanav ko sabhee vastuen pradaan kee hai jisamen se kisee na kisee roop mein rilaayans hota hai parantu aadhunik kee daud mein insaan in praakrtik sroton ko anjaan ne svayan hee khatm kar rahe hain jeev jantu vanaspati tejee se ke saath khatm ho rahee hai tatha prabhaav maanav jeevan par pad raha hai nateeja saamane global vaarning baant rahe hain tatha kailsiyam diphikalt raha hai yadi samay rahate sandesh ki nahin hai ki tere gaya ki maanav jeevan sada prabhaavit hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:04
अब प्रकृति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है दोस्तों आज मनुष्य ने इतना विकास कर लिया है कि इसके विकास की गति माँब्रुक और भी ज्यादा हो रही है इसी के कारण दोस्तों को टावरों की वजह से जो है यह टावर बगैर नेटवर्क जो इतनी चलते हैं चीज को लेकर दो पक्षों की धनु राशि की औरतों लिख कर के जा रही है क्योंकि आप जानते हैं कि रेलवे लाइन इत्यादि के लिए आप देखेंगे कि लकड़िया पेड़ों को काटा जा रहा है प्रकृति ने जो चीजें मनुष्य उसका दोस्तों दोहन करने में लगा हुआ है कुछ कह दिया जो बंजर हो चुकी हैं कि मनुष्य दोस्तों प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है
Ab prakrti kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai doston aaj manushy ne itana vikaas kar liya hai ki isake vikaas kee gati maanbruk aur bhee jyaada ho rahee hai isee ke kaaran doston ko taavaron kee vajah se jo hai yah taavar bagair netavark jo itanee chalate hain cheej ko lekar do pakshon kee dhanu raashi kee auraton likh kar ke ja rahee hai kyonki aap jaanate hain ki relave lain ityaadi ke lie aap dekhenge ki lakadiya pedon ko kaata ja raha hai prakrti ne jo cheejen manushy usaka doston dohan karane mein laga hua hai kuchh kah diya jo banjar ho chukee hain ki manushy doston prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:48
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है जी हां यह बात बिल्कुल सही है और काफी हद तक यथार्थ आपको नजर भी आ रही होंगी में फर्क दिखाई देता था अब बहुत ज्यादा हो गए हैं गरीबों के दिल में होते जा रहे हैं जिसकी वजह से ग्लोबल वार्मिंग का सामना करना पड़ रहा है और ऐसे ही अगर चलता रहा नहीं ध्यान दिया गया अभी भी ना ही प्रदूषण को रोका जा रहा है और ना ही किया जा रहा है इसी तरीके से चलता रहेगा तो निश्चित तौर पर हम खुद अपने ही हाथों से प्रकृति को बर्बाद कर लेंगे और कहीं ना कहीं हमारे खुद के लिए भी डेंजरस हो सकता है
Kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai jee haan yah baat bilkul sahee hai aur kaaphee had tak yathaarth aapako najar bhee aa rahee hongee mein phark dikhaee deta tha ab bahut jyaada ho gae hain gareebon ke dil mein hote ja rahe hain jisakee vajah se global vaarming ka saamana karana pad raha hai aur aise hee agar chalata raha nahin dhyaan diya gaya abhee bhee na hee pradooshan ko roka ja raha hai aur na hee kiya ja raha hai isee tareeke se chalata rahega to nishchit taur par ham khud apane hee haathon se prakrti ko barbaad kar lenge aur kaheen na kaheen hamaare khud ke lie bhee denjaras ho sakata hai

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:58
लेकिन कुछ की प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्राकृतिक को विनाश की ओर ले जा रहा है तुझे बिल्कुल भी मतलब काम होता है मतलब कोई भी चीज बनता है तू मैक्सिमम चीज इंडस्ट्री से बनता है और वह जब इंडस्ट्री से बनता है तो उसमें पानी का यूज़ होता है उस में कोयले का यूज़ होता है तो क्या होता है कि जब हमारा पानी कब वह उसमें से जो वेस्टेज मटेरियल निकलते हैं वह पानी को दूषित करते हैं फिर ऊपर से जो मतलब कार में इमेशन होता है फ्लिपकार्बन निकलते हैं तो वह हमारे हवा को म्यूट करते हैं और बहुत वहां की जो जमीन है वह वह भी पहली उठ होती है जो इंसान वहां पर रहते हैं मतलब अगल-बगल व हिंदुस्तान में वह सब इफेक्ट होते हैं तू यह सब मतलब उनको नुकसान होता है और यह मतलब एक और इंसान की जो कहते ना गांधी जी ने बोला था कि अर्थ के पास इतना सारा मटेरियल इतना सारा रिसोर्सेज है कि हर इंसान की नीड को पूरा कर सके लेकिन आपके पास इतना रिसोर्सेज नहीं है कि हर वह इंसान का ग्रिड को कंप्लीट कर सके यह पूरा कर यही बात को हर इंसान को अपने अंदर या हर चीज में एक्सेप्ट करना चाहिए और जितना सिंपल लाइफ हो उसे जीना चाहिए क्योंकि अगर आप नोटिस करोगे तो क्या होगा कि हर इंसान मतलब किसी के पास संतुष्टि हम की चीज नहीं है जैसे कि हां जैसे कि एसपीजी 7:30 तक कंप्लीट करने को बोला है जो 70 गोल दिया है अगर वह गोल कंप्लीट करता है तो मतलब वह सस्टेनेबल डेवलपमेंट सस्टेनेबल डेवलपमेंट क्या होता है देखिए सस्टेनेबल डेवलपमेंट होता है कि हमारी जो नीड है उसको हम अपना कंप्लीट भी करते हैं और जो अगले वाले जनरेशन उनके लिए भी बचा कर रखें तो उसी को सस्टेनेबल डेवलपमेंट बोलते हैं क्या हो गया कि जानकी मंदिर भूत मतलब कंपटीशन का भावना गया दूसरे को देख कर ही परेशान हो गए हैं कि उसके पास यह है तो मैं भी कर लूंगा भले कुछ उसको बेचना भी पड़ेगा तो वह बेचकर वह करेगा तो उसको करने के लिए वह मतलब इतना कह देना कि जितना डिमांड रहता है वह कंपनी उतना उतना ही वह सप्लाई करेगा तो जितना डिमांड रहेगा वह उतना प्रोडक्शन करेगा जब वह उतना प्रोडक्शन करेगा तो जितनी भी मटेरियल है जितना मतलब इन्वायरमेंट का मटेरियल है या कुछ भी वह उसे दूषित करेगा तो और सब भी विकल्प मतलब बहुत से निकल गए हैं जैसे कि जो डीजल पेट्रोल से गाड़ियां चलती है तो उसको इंसान को अगर आपको ही देखे होंगे नोटिस की होगी छोटे-छोटे काम जो जो मतलब अगर हाथ पाव से भी किया जा सकता कुछ दूर तक चल कर भी जा सकते तो भी वह गाड़ी का यूज़ करेगा तो उससे क्या हो रहा है जो मतलब हमारा जो इन्वायरमेंट है वह भी दूषित हो रहा है फिर उसका भी खर्चा बड़ा है क्यों इंसान मतलब सोचना चाहिए इसके बाद और मतलब और जैसे कि बोला कि आप उन्हें कि मतलब जो वह प्रगति के चक्कर में विनाश को वह क्या कहते हैं कि इनवाइट कर रहा है तो देखिए जी बिल्कुल जैसे कि हम कहते हैं ना कि झगड़ा कार्बन एमिशन होगा तो क्या होगा कि जो हमारा टेंपरेचर है वह अधिक होगा अगर टेंपरेचर बढ़ेगा तो टेंपरेचर जब बढ़ेगा तो जितना हमारा ग्लेशियर है उसका दो पिक लेगा जब वह पिक लेगा तो समुंदर में पानी की मात्रा बढ़ेगी जब पानी की मात्रा बढ़ेगी तो जितने साइक्लोन फिर जितने भी महादीपो उस में डूबने लगेंगे और ऐसी बीमारियां बहुत जैसे कि कोरोनावायरस बहुत सारी बीमारी आएंगे तो इसीलिए इंसान को जो उसका रिसोर्सेज है उसको अच्छे से यूटिलाइज करना चाहिए मैक्सिमम यूटिलाइज करना चाहिए और जितना हो सके उतना हमें सस्टेनेबल डेवलपमेंट पर ध्यान रखना चाहिए थैंक यू
Lekin kuchh kee pragati kee daud mein manushy praakrtik ko vinaash kee or le ja raha hai tujhe bilkul bhee matalab kaam hota hai matalab koee bhee cheej banata hai too maiksimam cheej indastree se banata hai aur vah jab indastree se banata hai to usamen paanee ka yooz hota hai us mein koyale ka yooz hota hai to kya hota hai ki jab hamaara paanee kab vah usamen se jo vestej materiyal nikalate hain vah paanee ko dooshit karate hain phir oopar se jo matalab kaar mein imeshan hota hai phlipakaarban nikalate hain to vah hamaare hava ko myoot karate hain aur bahut vahaan kee jo jameen hai vah vah bhee pahalee uth hotee hai jo insaan vahaan par rahate hain matalab agal-bagal va hindustaan mein vah sab iphekt hote hain too yah sab matalab unako nukasaan hota hai aur yah matalab ek aur insaan kee jo kahate na gaandhee jee ne bola tha ki arth ke paas itana saara materiyal itana saara risorsej hai ki har insaan kee need ko poora kar sake lekin aapake paas itana risorsej nahin hai ki har vah insaan ka grid ko kampleet kar sake yah poora kar yahee baat ko har insaan ko apane andar ya har cheej mein eksept karana chaahie aur jitana simpal laiph ho use jeena chaahie kyonki agar aap notis karoge to kya hoga ki har insaan matalab kisee ke paas santushti ham kee cheej nahin hai jaise ki haan jaise ki esapeejee 7:30 tak kampleet karane ko bola hai jo 70 gol diya hai agar vah gol kampleet karata hai to matalab vah sastenebal devalapament sastenebal devalapament kya hota hai dekhie sastenebal devalapament hota hai ki hamaaree jo need hai usako ham apana kampleet bhee karate hain aur jo agale vaale janareshan unake lie bhee bacha kar rakhen to usee ko sastenebal devalapament bolate hain kya ho gaya ki jaanakee mandir bhoot matalab kampateeshan ka bhaavana gaya doosare ko dekh kar hee pareshaan ho gae hain ki usake paas yah hai to main bhee kar loonga bhale kuchh usako bechana bhee padega to vah bechakar vah karega to usako karane ke lie vah matalab itana kah dena ki jitana dimaand rahata hai vah kampanee utana utana hee vah saplaee karega to jitana dimaand rahega vah utana prodakshan karega jab vah utana prodakshan karega to jitanee bhee materiyal hai jitana matalab invaayarament ka materiyal hai ya kuchh bhee vah use dooshit karega to aur sab bhee vikalp matalab bahut se nikal gae hain jaise ki jo deejal petrol se gaadiyaan chalatee hai to usako insaan ko agar aapako hee dekhe honge notis kee hogee chhote-chhote kaam jo jo matalab agar haath paav se bhee kiya ja sakata kuchh door tak chal kar bhee ja sakate to bhee vah gaadee ka yooz karega to usase kya ho raha hai jo matalab hamaara jo invaayarament hai vah bhee dooshit ho raha hai phir usaka bhee kharcha bada hai kyon insaan matalab sochana chaahie isake baad aur matalab aur jaise ki bola ki aap unhen ki matalab jo vah pragati ke chakkar mein vinaash ko vah kya kahate hain ki inavait kar raha hai to dekhie jee bilkul jaise ki ham kahate hain na ki jhagada kaarban emishan hoga to kya hoga ki jo hamaara temparechar hai vah adhik hoga agar temparechar badhega to temparechar jab badhega to jitana hamaara gleshiyar hai usaka do pik lega jab vah pik lega to samundar mein paanee kee maatra badhegee jab paanee kee maatra badhegee to jitane saiklon phir jitane bhee mahaadeepo us mein doobane lagenge aur aisee beemaariyaan bahut jaise ki koronaavaayaras bahut saaree beemaaree aaenge to iseelie insaan ko jo usaka risorsej hai usako achchhe se yootilaij karana chaahie maiksimam yootilaij karana chaahie aur jitana ho sake utana hamen sastenebal devalapament par dhyaan rakhana chaahie thaink yoo

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
3:09
नमस्कार दोस्तों प्रस्ताव क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है बहुत ही अच्छा प्रश्न किया निश्चित रूप से मनुष्य अपनी प्रगति की दौड़ दौड़ जा रहा है लेकिन वह अपने प्रकृति जो आसपास पकड़ती है उसको विनाश करता जा रहा है और वह यह नहीं पता उसे की प्रकृति को नष्ट करने से उसी का अंत हो जाएगा आपने करो ना काल में देख लिया गोसाई की ऐसी हुई तो हम फिर प्रकृति करीब आए हमने कहा दिया हमें औषधि आयुर्वेदिक लिंग से बचाव किया हमने अपना जो हम पुराने जमाने का किया करते थे पता चला वही सब चीज अच्छी होती है लेकिन जैसे-जैसे इसका प्रकोप खत्म होता जा रहा है हम फिर से प्रकृति की दौड़ में फिर दौड़ने लग गए हैं गाड़ियां कितनी ज्यादा होती जा रही है प्रदूषण का स्तर वैसे के वैसे ही है दिवाली में पटाखे बहन कर दी है कि कहीं प्रदूषण होता है लेकर प्रदूषण उससे भी खतरनाक स्तर पर है तो चिंता का विषय है हम धीरे-धीरे आजकल प्रॉपर्टी डीलर से मकान को ज्यादा बढ़ा बनाने दिखाने की वजह से पेड़ों को नष्ट कर रहे हैं यहां तक तो मैं देख रहा हूं खिड़कियां भी नहीं जा रही है मैंने आज कल तो जो फ्लैट्स बनाए जा रहे हैं डीलर द्वारा या कोठियां बनाई जा रही हैं हम धीरे करते जा रहे हैं धीरे-धीरे हम मोबाइल तक ही सीमित हो गए हैं मोबाइल में ही जकड़े रह रहे हैं ना ही हम बाहर खेल रहे हैं ना ही लोगों से हम रूबरू हो रहे हैं बस जिंदगी अपनी मोबाइल और अपनी तरक्की में देख रहे हैं और हम एक तरफ से कम कम आ रहे हैं दूसरी जगह किसी न किसी बीमारी के रूप में हमारे हैं चाहे परिवार का कोई भी देख सदस्य बीमार है कि आपको कोई गंभीर बीमारी है तो को प्रगति की दौड़ ऐसा लग रहा है हम सोने जा रहे हैं लेकिन पीछे से कुछ ना कुछ हमारा नुकसान हो रहा है और प्रदूषण जब इतना ज्यादा रहेगा तो कैंसर बीमारी में हवा की मात्राओं कितना भी साफ कर देंगे प्राकृतिक नहीं रहेगी तो बीमारियां निश्चित रूप से हो आजकल मनुष्य जो है प्लास्टिक में झगड़ते प्लास्टिक की चीजें आ रही है इतनी प्लास्टिक आ रहा है वह धीरे-धीरे अपने आप को नष्ट करने की कोशिश कर रहा है साथ में बेकसूर पशु पक्षियों को भी नष्ट करता जा रहा है अपनी करतूतों से तो हमें सजग रहना चाहिए तो दोस्तों अगर आप एक गाड़ी लेते हैं तो कम से कम आप 5 मिनट तो खड़े कर दें कि यह जिम्मेवारी दी है कि स्कूटर ले रहे हो कम से कम दो पेड़ खड़े करने की जिम्मेवारी दीजिए आप बच्चों के लिए धन अर्जित कर सकते हो धनी नहीं रहेगा तो फायदा क्या गिरधारी आती रहेंगी तो बच्चों को उज्जवल भविष्य देना चाहते हैं तो कम से कम आप शुद्ध वातावरण शुद्ध जल दें तो ज्यादा अच्छा रहेगा तो पेड़ पौधे लगाए रानी की प्रकृति सुंदर रहेगी तो निश्चित रूप से आगे आने वाली पीढ़ी हमारे स्वस्थ रहेगी और ऐसा आ गया ना उस समय में ऐसा ना हो जाएगी गैस का सिलेंडर लेकर यूपी मजबूरी बन जाए जैसे आज सैनिटाइजर मजबूरी है कहीं गैस के सिलेंडर में टांग के ना चल ना पड़े आगे वाले बच्चों के लिए 1 पदों के लिए कम ध्यान दें धन्यवाद
Namaskaar doston prastaav kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai bahut hee achchha prashn kiya nishchit roop se manushy apanee pragati kee daud daud ja raha hai lekin vah apane prakrti jo aasapaas pakadatee hai usako vinaash karata ja raha hai aur vah yah nahin pata use kee prakrti ko nasht karane se usee ka ant ho jaega aapane karo na kaal mein dekh liya gosaee kee aisee huee to ham phir prakrti kareeb aae hamane kaha diya hamen aushadhi aayurvedik ling se bachaav kiya hamane apana jo ham puraane jamaane ka kiya karate the pata chala vahee sab cheej achchhee hotee hai lekin jaise-jaise isaka prakop khatm hota ja raha hai ham phir se prakrti kee daud mein phir daudane lag gae hain gaadiyaan kitanee jyaada hotee ja rahee hai pradooshan ka star vaise ke vaise hee hai divaalee mein pataakhe bahan kar dee hai ki kaheen pradooshan hota hai lekar pradooshan usase bhee khataranaak star par hai to chinta ka vishay hai ham dheere-dheere aajakal propartee deelar se makaan ko jyaada badha banaane dikhaane kee vajah se pedon ko nasht kar rahe hain yahaan tak to main dekh raha hoon khidakiyaan bhee nahin ja rahee hai mainne aaj kal to jo phlaits banae ja rahe hain deelar dvaara ya kothiyaan banaee ja rahee hain ham dheere karate ja rahe hain dheere-dheere ham mobail tak hee seemit ho gae hain mobail mein hee jakade rah rahe hain na hee ham baahar khel rahe hain na hee logon se ham roobaroo ho rahe hain bas jindagee apanee mobail aur apanee tarakkee mein dekh rahe hain aur ham ek taraph se kam kam aa rahe hain doosaree jagah kisee na kisee beemaaree ke roop mein hamaare hain chaahe parivaar ka koee bhee dekh sadasy beemaar hai ki aapako koee gambheer beemaaree hai to ko pragati kee daud aisa lag raha hai ham sone ja rahe hain lekin peechhe se kuchh na kuchh hamaara nukasaan ho raha hai aur pradooshan jab itana jyaada rahega to kainsar beemaaree mein hava kee maatraon kitana bhee saaph kar denge praakrtik nahin rahegee to beemaariyaan nishchit roop se ho aajakal manushy jo hai plaastik mein jhagadate plaastik kee cheejen aa rahee hai itanee plaastik aa raha hai vah dheere-dheere apane aap ko nasht karane kee koshish kar raha hai saath mein bekasoor pashu pakshiyon ko bhee nasht karata ja raha hai apanee karatooton se to hamen sajag rahana chaahie to doston agar aap ek gaadee lete hain to kam se kam aap 5 minat to khade kar den ki yah jimmevaaree dee hai ki skootar le rahe ho kam se kam do ped khade karane kee jimmevaaree deejie aap bachchon ke lie dhan arjit kar sakate ho dhanee nahin rahega to phaayada kya giradhaaree aatee rahengee to bachchon ko ujjaval bhavishy dena chaahate hain to kam se kam aap shuddh vaataavaran shuddh jal den to jyaada achchha rahega to ped paudhe lagae raanee kee prakrti sundar rahegee to nishchit roop se aage aane vaalee peedhee hamaare svasth rahegee aur aisa aa gaya na us samay mein aisa na ho jaegee gais ka silendar lekar yoopee majabooree ban jae jaise aaj sainitaijar majabooree hai kaheen gais ke silendar mein taang ke na chal na pade aage vaale bachchon ke lie 1 padon ke lie kam dhyaan den dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:08
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न क्या प्रकृति प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है जी हां फ्रेंड से जिस तरह से माफी नहीं करते जा रहे शहरीकरण हो रहा है हम प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहे हैं जैसे प्रदूषण फैला रहे हैं तो प्रकृति के साथ हवा है उसे गंदी बना रहे हैं पानी का लगातार इस्तेमाल हो रहा है कहीं कहीं फालतू में पानी बर्बाद किया जाता है तो यह प्राकृतिक संसाधन में पानी भी होता है तो पानी कभी बहुत ज्यादा रो प्रेस्टीज कर रहे हैं और फ्रेंड से हम लोग पेड़ पौधों को काट रहे हैं पेड़ पौधों के काटने से तो प्रकृति को बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है इसलिए बारिश भी कम होती है और सर्दियां भी कम होती है बस गर्मी ही गर्मी मौसम में ज्यादा होती है बस गर्मी बहुत पड़ती है तो हम प्रकृति के संतुलन को बिगाड़ रहे हैं ऐसा नहीं करना है और ज्यादा से ज्यादा पेड़ पौधे लगाना है प्रदूषण नहीं फैलाना है जहां भी जल वेस्टिज देख रहे हैं तो नल बंद कर देना है पा फालतू नहीं फैलाना है इन सब बातों का ध्यान रखना है तो हम प्रकृति को विनाश से बचा सकते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kya prakrti pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai jee haan phrend se jis tarah se maaphee nahin karate ja rahe shahareekaran ho raha hai ham prakrti ko vinaash kee or le ja rahe hain jaise pradooshan phaila rahe hain to prakrti ke saath hava hai use gandee bana rahe hain paanee ka lagaataar istemaal ho raha hai kaheen kaheen phaalatoo mein paanee barbaad kiya jaata hai to yah praakrtik sansaadhan mein paanee bhee hota hai to paanee kabhee bahut jyaada ro presteej kar rahe hain aur phrend se ham log ped paudhon ko kaat rahe hain ped paudhon ke kaatane se to prakrti ko bahut jyaada nukasaan ho raha hai isalie baarish bhee kam hotee hai aur sardiyaan bhee kam hotee hai bas garmee hee garmee mausam mein jyaada hotee hai bas garmee bahut padatee hai to ham prakrti ke santulan ko bigaad rahe hain aisa nahin karana hai aur jyaada se jyaada ped paudhe lagaana hai pradooshan nahin phailaana hai jahaan bhee jal vestij dekh rahe hain to nal band kar dena hai pa phaalatoo nahin phailaana hai in sab baaton ka dhyaan rakhana hai to ham prakrti ko vinaash se bacha sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Rajesh Kumar swami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Student
1:23
हां प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर थेर जा रहा है इसका कारण खुद मनुष्य ही है क्योंकि मनुष्य अपने घर बसाने के लिए अपने परिवार को बचाने के लिए देसी जागृत धरती की जमीन से पढ़ती है उसको जो बने उन को नष्ट करता जा रहा है और अपने मकान से गरबा को पढ़ाया जाता है उधर करते जा रहा है तो वह मनुष्य के लिए हानिकारक हो सकती है विनाश की ओर ले जा रहे खुद का मकान है और ऐसे बहुत सारे बना करना आदि शक्ति एवं को नुकसान पहुंचा रही पहुंचा तो उसे नुकसान ज्वालामुखी बाढ़ क्योंकि मनुष्य के साथ छेड़छाड़ कर रहा है प्रकृति के अंदर छेड़छाड़ किए बिना कोई भी तूफान आंधी से नहीं आती होती है और करेंसी होती है तभी बारिश नहीं होती है ऐसी बहुत सारी जो मनुष्य गलतियां करता है उसकी वजह से ही बाढ़ ज्वालामुखी भूकंप सब आते हैं
Haan pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or ther ja raha hai isaka kaaran khud manushy hee hai kyonki manushy apane ghar basaane ke lie apane parivaar ko bachaane ke lie desee jaagrt dharatee kee jameen se padhatee hai usako jo bane un ko nasht karata ja raha hai aur apane makaan se garaba ko padhaaya jaata hai udhar karate ja raha hai to vah manushy ke lie haanikaarak ho sakatee hai vinaash kee or le ja rahe khud ka makaan hai aur aise bahut saare bana karana aadi shakti evan ko nukasaan pahuncha rahee pahuncha to use nukasaan jvaalaamukhee baadh kyonki manushy ke saath chhedachhaad kar raha hai prakrti ke andar chhedachhaad kie bina koee bhee toophaan aandhee se nahin aatee hotee hai aur karensee hotee hai tabhee baarish nahin hotee hai aisee bahut saaree jo manushy galatiyaan karata hai usakee vajah se hee baadh jvaalaamukhee bhookamp sab aate hain

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:10
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है जी हां काफी हद तक ए बात सही है कि मनुष्य प्रगति की दौड़ में बहुत आगे निकलना चाहता है और निकल रहा है जिसकी वजह से वह प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है आप देख सकते हैं कि प्रकृति के द्वारा प्रदान किए गए काफी सारी चीजें ऐसी हैं जिनका मनुष्य के सर्वनाश कर रहा है जैसे कि जंगल और काफी नदियां हैं काफी है सारी ऐसी चीजें हैं जो हमें प्रकृति के द्वारा प्रदान की गई और प्रकृति ने उन्हें बनाया तो कुछ सोच समझकर बनाया है उन्होंने उन्हें इंसान के भले के लिए बनाया लेकिन मनुष्य ने बर्बाद करने में लगा हुआ है जंगल तेजी से नष्ट होते जा रहे हैं काफी सारे जानवर काफी सारे पशु पक्षी नष्ट होते जा रहे हैं और काफी सारी ऐसी प्रकृति के द्वारा बनाई गई चीजें हैं जो विनाश की ओर जा रही है खत्म होती जा रही हैं तो यह सब नहीं होना चाहिए यह सब गलत है ठीक है अब प्रगति हर इंसान चाहता है हर कोई चाहता प्रगति है लेकिन प्रगति की दौड़ में कुछ ऐसे कदम नहीं उठाने चाहिए जिससे कि दूसरों को नुकसान पहुंचे या आगे चलकर के हमें खुद वह नुकसान पहुंचे ऐसा नहीं होना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai jee haan kaaphee had tak e baat sahee hai ki manushy pragati kee daud mein bahut aage nikalana chaahata hai aur nikal raha hai jisakee vajah se vah prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai aap dekh sakate hain ki prakrti ke dvaara pradaan kie gae kaaphee saaree cheejen aisee hain jinaka manushy ke sarvanaash kar raha hai jaise ki jangal aur kaaphee nadiyaan hain kaaphee hai saaree aisee cheejen hain jo hamen prakrti ke dvaara pradaan kee gaee aur prakrti ne unhen banaaya to kuchh soch samajhakar banaaya hai unhonne unhen insaan ke bhale ke lie banaaya lekin manushy ne barbaad karane mein laga hua hai jangal tejee se nasht hote ja rahe hain kaaphee saare jaanavar kaaphee saare pashu pakshee nasht hote ja rahe hain aur kaaphee saaree aisee prakrti ke dvaara banaee gaee cheejen hain jo vinaash kee or ja rahee hai khatm hotee ja rahee hain to yah sab nahin hona chaahie yah sab galat hai theek hai ab pragati har insaan chaahata hai har koee chaahata pragati hai lekin pragati kee daud mein kuchh aise kadam nahin uthaane chaahie jisase ki doosaron ko nukasaan pahunche ya aage chalakar ke hamen khud vah nukasaan pahunche aisa nahin hona chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:42
यह बात सत्य है की प्रकृति ही दौर में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है सबके लिए मकान लेना चाहते पर इसको हटा से ऑक्सीजन मिलती है कार्बन डाइऑक्साइड जानती है बारिश अच्छे से होती है फ्रूट वगैरह सस्ते मिलते होंगे नहीं मिलते ज्यादा इसे रोकने के लिए एक इंसान करावे बता सकता है इसके लिए बहुत सारे में जाना चाहिए जो कभी खत्म हो ही नहीं पाते हैं देखिए कैसे दे सकते हैं लेकिन यह होगा नहीं होगा आई डोंट नो पर बहुत अच्छा है
Yah baat saty hai kee prakrti hee daur mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai sabake lie makaan lena chaahate par isako hata se okseejan milatee hai kaarban daioksaid jaanatee hai baarish achchhe se hotee hai phroot vagairah saste milate honge nahin milate jyaada ise rokane ke lie ek insaan karaave bata sakata hai isake lie bahut saare mein jaana chaahie jo kabhee khatm ho hee nahin paate hain dekhie kaise de sakate hain lekin yah hoga nahin hoga aaee dont no par bahut achchha hai

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
शिवम मौर्या Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए शिवम जी का जवाब
Unknown
0:43
देखिए भैया कुछ कहा नहीं जा सकता है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का जमाना है जैसा कि मनुष्य जो है बहुत ही तरक्की कर लिया है और हो सकता है भविष्य में चांद पर मंगल पर पता नहीं कहां कहां चला जाए प्राकृतिक ने जो हमको दिया है उससे ज्यादा चीजें हो सकता है बना वीडियो बिगाड़ भी दे तो कुछ निश्चित कहा नहीं जा सकता है विनाश की ओर ले जा रहा है हो सकता कुछ अच्छा भी कर जाए मंगल पर जहां पानी नहीं है वहां पर पौधे उगाए तब क्या करेंगे आप तो प्राकृतिक का यूज कर रहा है बढ़िया से दूर करना चाहिए प्राकृत हमको दे रही तो हम यूज कर रहे हैं और जब जरूरत पड़ेगी जिस चीज की तो वह हम बना भी लेंगे बिगाड़ भेजेंगे
Dekhie bhaiya kuchh kaha nahin ja sakata hai aartiphishiyal intelijens ka jamaana hai jaisa ki manushy jo hai bahut hee tarakkee kar liya hai aur ho sakata hai bhavishy mein chaand par mangal par pata nahin kahaan kahaan chala jae praakrtik ne jo hamako diya hai usase jyaada cheejen ho sakata hai bana veediyo bigaad bhee de to kuchh nishchit kaha nahin ja sakata hai vinaash kee or le ja raha hai ho sakata kuchh achchha bhee kar jae mangal par jahaan paanee nahin hai vahaan par paudhe ugae tab kya karenge aap to praakrtik ka yooj kar raha hai badhiya se door karana chaahie praakrt hamako de rahee to ham yooj kar rahe hain aur jab jaroorat padegee jis cheej kee to vah ham bana bhee lenge bigaad bhejenge

bolkar speaker
क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है?Kya Pragati Ki Daud Mein Manusya Prakriti Ko Vinash Ki Or Le Ja Raha H
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:55
सवाल पूछा गया है क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है तो देखेंगे तो बिल्कुल सही बात है और इसके जो कंसीक्वेंसेस है या भी नजर आने लगे धीरे-धीरे देखे ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है प्रदूषण इस हद तक बढ़ चुका है हमने अपनी जरूरत जरूरत से ज्यादा पृथ्वी के सामानों को उपयोग कर लिया है और अब प्रकृति की जो हमने एक्सट्रीम में जो है वह दोहन कर चुके हैं अब बस हमको जरूरत है कि हम इस की तरफ ध्यान दें और प्रकृति को बचाने की कोशिश करें क्योंकि जितनी हम तरक्की कर रहे हैं उससे कई ज्यादा नुकसान हम झेल रहे हैं क्योंकि हम प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहे हम जरूरत से ज्यादा लग्जरी की उम्मीद कर रहे हैं और यही कारण है कि प्रकृति के जो नुकसान हो रहा है और उसके कारण हमको भी उसके कौनसे-कौनसे जेल है पढ़ रहे हैं उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai kya pragati kee daud mein manushy prakrti ko vinaash kee or le ja raha hai to dekhenge to bilkul sahee baat hai aur isake jo kanseekvenses hai ya bhee najar aane lage dheere-dheere dekhe global vaarming badh rahee hai pradooshan is had tak badh chuka hai hamane apanee jaroorat jaroorat se jyaada prthvee ke saamaanon ko upayog kar liya hai aur ab prakrti kee jo hamane eksatreem mein jo hai vah dohan kar chuke hain ab bas hamako jaroorat hai ki ham is kee taraph dhyaan den aur prakrti ko bachaane kee koshish karen kyonki jitanee ham tarakkee kar rahe hain usase kaee jyaada nukasaan ham jhel rahe hain kyonki ham prakrti ke saath khilavaad kar rahe ham jaroorat se jyaada lagjaree kee ummeed kar rahe hain aur yahee kaaran hai ki prakrti ke jo nukasaan ho raha hai aur usake kaaran hamako bhee usake kaunase-kaunase jel hai padh rahe hain ummeed karatee hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा है प्रगति की दौड़ में मनुष्य प्रकृति को विनाश की ओर ले जा रहा
URL copied to clipboard