#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:36
बस नहीं किसान आंदोलन लगातार उग्र रूप लेता जा रहा है सरकार उनकी मांगें पूरी करने में असमर्थ था क्यों बता रही है कि सरकार भी अभी किसानों के हित में कुछ भी नहीं सोचने की बात करी वह भी अपनी जिद पर अड़ी हुई है वहीं सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया और सुप्रीम कोर्ट ने इस बिल को पूरी तरह से फोल्ड करने की बात कही और सुप्रीम कोर्ट की तरफ से यह भी आदेश दिया गया की एक कमेटी बनाई जाएगी उसमें किसान की भी पक्ष रखे जाएंगे और सरकार के विपक्ष रखे जाएंगे और इसको एक कमेटी निष्पक्ष रुप से देखेगी उसके बाद ही निर्णय होगा कि हां इसे लागू करना चाहिए या नहीं लागून करना चाहिए लेकिन ईशान भाई की तरफ से यहां किसान आंदोलन की तरफ से जो नेता है वह कह रहे हैं कि जब हम इस बिल का पूरी तरह से विरोध कर रहे हैं इस बिल को हम पूरी तरह से खंडित कर रहे हैं तब इस बिल का हम हमें यही नहीं तो हम इस पर कानून क्यों बैठा है क्यों हम इसमें किसी प्रकार की संशोधना किसी प्रकार की बातचीत करें इसमें क्या बदलाव होने चाहिए क्या नहीं होनी चाहिए मतलब हमको यह जब चाहिए ही नहीं तो हमें इस पर कोई भी बैठक नहीं होगी बस हमें यह सुनना है कि हां इस सरकार की जो नई बिल है उसे खत्म कर रही है कि नहीं कर रही है अगर नहीं कर रही है तो हमारा आंदोलन जारी रहेगा 26 जनवरी को सबसे बड़ा आंदोलन की शान भाई लोग करने जा रहे हैं तो कहीं न कहीं यह देश के लिए बहुत ही घातक साबित होगा और सरकार के लिए भी सरकार नहीं जिम्मेदारियां उठा रही है तो अब सरकार की क्या मानसिकता है अभी भी पीएम मोदी की तरफ से किसान आंदोलन के बारे में कुछ भी नहीं बताया गया है कि हां मैं किसान भाइयों को बातचीत करना चाहता हूं या किसान भाइयों की भी मजबूरी सुनना चाहता हूं अभी कुछ भी नहीं बताया गया बस कि सा और बीजेपी के जो नेता है उनके अब से अपनी किसान बिल के प्रोत्साहन में जो जो गुणगान करने हैं वही किया जा रहा है ना कि किसान भाइयों को कुछ भी किया सरकार या मोदी जी ने खुद पीएम होकर अभी तक इतने दिन इतना बड़ा आंदोलन हो गया अब इतनी ज्यादा दिन चला फिर भी अभी मोदी जी का कुछ भी इनके प्रति बातचीत नहीं हुआ न कुछ भी शब्द बोले हैं बस किसानों को परेशान कर रहे हैं और कई जगह जो किसानों के अकाउंट में दो-दो ₹2000 हैं वह डाले जा रहे हैं तो अभी सरकार की जो भी मानसिकता है वह किसी को समझ में नहीं आई है
Bas nahin kisaan aandolan lagaataar ugr roop leta ja raha hai sarakaar unakee maangen pooree karane mein asamarth tha kyon bata rahee hai ki sarakaar bhee abhee kisaanon ke hit mein kuchh bhee nahin sochane kee baat karee vah bhee apanee jid par adee huee hai vaheen supreem kort ka bhee daravaaja khatakhataaya aur supreem kort ne is bil ko pooree tarah se phold karane kee baat kahee aur supreem kort kee taraph se yah bhee aadesh diya gaya kee ek kametee banaee jaegee usamen kisaan kee bhee paksh rakhe jaenge aur sarakaar ke vipaksh rakhe jaenge aur isako ek kametee nishpaksh rup se dekhegee usake baad hee nirnay hoga ki haan ise laagoo karana chaahie ya nahin laagoon karana chaahie lekin eeshaan bhaee kee taraph se yahaan kisaan aandolan kee taraph se jo neta hai vah kah rahe hain ki jab ham is bil ka pooree tarah se virodh kar rahe hain is bil ko ham pooree tarah se khandit kar rahe hain tab is bil ka ham hamen yahee nahin to ham is par kaanoon kyon baitha hai kyon ham isamen kisee prakaar kee sanshodhana kisee prakaar kee baatacheet karen isamen kya badalaav hone chaahie kya nahin honee chaahie matalab hamako yah jab chaahie hee nahin to hamen is par koee bhee baithak nahin hogee bas hamen yah sunana hai ki haan is sarakaar kee jo naee bil hai use khatm kar rahee hai ki nahin kar rahee hai agar nahin kar rahee hai to hamaara aandolan jaaree rahega 26 janavaree ko sabase bada aandolan kee shaan bhaee log karane ja rahe hain to kaheen na kaheen yah desh ke lie bahut hee ghaatak saabit hoga aur sarakaar ke lie bhee sarakaar nahin jimmedaariyaan utha rahee hai to ab sarakaar kee kya maanasikata hai abhee bhee peeem modee kee taraph se kisaan aandolan ke baare mein kuchh bhee nahin bataaya gaya hai ki haan main kisaan bhaiyon ko baatacheet karana chaahata hoon ya kisaan bhaiyon kee bhee majabooree sunana chaahata hoon abhee kuchh bhee nahin bataaya gaya bas ki sa aur beejepee ke jo neta hai unake ab se apanee kisaan bil ke protsaahan mein jo jo gunagaan karane hain vahee kiya ja raha hai na ki kisaan bhaiyon ko kuchh bhee kiya sarakaar ya modee jee ne khud peeem hokar abhee tak itane din itana bada aandolan ho gaya ab itanee jyaada din chala phir bhee abhee modee jee ka kuchh bhee inake prati baatacheet nahin hua na kuchh bhee shabd bole hain bas kisaanon ko pareshaan kar rahe hain aur kaee jagah jo kisaanon ke akaunt mein do-do ₹2000 hain vah daale ja rahe hain to abhee sarakaar kee jo bhee maanasikata hai vah kisee ko samajh mein nahin aaee hai

और जवाब सुनें

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:03
जन आंदोलन लगातार उग्र रूप लेता जा रहा है सरकार उनकी मांगें पूरी करने में असमर्थ था क्यों बता रही है लोरी को लेकर भी बताया जा रहा है कि किसान आंदोलन जो है वह फिर से करेंगे और ट्रैक्टर ट्रॉली आदि के जरिए मांगे वह पूरी करनी है जानते हैं कि इस कानून को पारित कर दिया एमएसपी को लेकर की वीडियो में दूसरी बात किसानों की और सरकार की बातें हो गई सरकार मान नहीं रही है अब क्या लाभ है क्या नहीं है पक्ष विपक्ष जो है इसके ऊपर अलग-अलग अपनी राय दे रहे हैं परंतु हमें फेसबुक तक रुकना चाहिए हो सके तो किसानों की जीत होगी
Jan aandolan lagaataar ugr roop leta ja raha hai sarakaar unakee maangen pooree karane mein asamarth tha kyon bata rahee hai loree ko lekar bhee bataaya ja raha hai ki kisaan aandolan jo hai vah phir se karenge aur traiktar trolee aadi ke jarie maange vah pooree karanee hai jaanate hain ki is kaanoon ko paarit kar diya emesapee ko lekar kee veediyo mein doosaree baat kisaanon kee aur sarakaar kee baaten ho gaee sarakaar maan nahin rahee hai ab kya laabh hai kya nahin hai paksh vipaksh jo hai isake oopar alag-alag apanee raay de rahe hain parantu hamen phesabuk tak rukana chaahie ho sake to kisaanon kee jeet hogee

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
2:07
स्वागत है आपका आपका प्रश्न किसान आंदोलन लगातार उग्र रूप लेता जा रहा है सरकार उनकी मांगें पूरी करने में असमर्थ था क्यों बता रही है तो ऐसी बात नहीं है फ्रेंड्स सरकार बिल्कुल भी समय-समय पर किसानों की बात भी सुन रही है और वह कोई भी ग्रुप इतना भी नहीं लिया है और अभी हमने सुना ही होगा कल कि कानून डेढ़ साल तक टालने का प्रस्ताव भी रखा गया है कि किसी मंत्री ने कहा है कि तीनों कानूनों को एक डेढ़ साल के लिए लंबित रखा जा सकता है और इस अवधि में आपसी बातचीत से समाधान पर पहुंचा जा सकता है तो इसीलिए किसान नेताओं ने भी कहा है कि हम कानून वापसी की बात कर रहे हैं पर क्योंकि यह प्रस्ताव केंद्र की ओर से आया है इसलिए हम चर्चा करेंगे इसीलिए सब बातें चल रही है और ट्रैक्टर रैली पुलिस को दे दी गई है जो ट्रैक्टर एली आजकल सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को फिर कहा है कि किसानों के ट्रैक्टर रैली पर अदालत कोई फैसला नहीं देगी यह पुलिस का मसला है और इसे ही निपटा ना पड़े पुलिस ने किसानों से बातचीत किए और दिल्ली के बाहर रैली निकालने का सुझाव दिया है लेकिन किसानों ने तो अभी इसे नामंजूर कर दिया है और साफ कह दिया है कि वे आउटर रिंग रोड पर ट्रैक्टर वाली रैली निकालेंगे तो अभी तो कानून डेढ़ साल तक हटाने की बात हो चुकी है फिर भी अभी 22 जनवरी को फिर वार्ता होनी है कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बैठक के बाद कहा कि किसान संगठनों के साथ उनकी सुहागपुर मोबाइल में बैठक हुई है पर अंतिम निर्णय पहुंचने के लिए सरकार पूरी तरह से तैयार भी है और दोनों पक्ष 22 जनवरी को फिर मिलेंगे और हम आंदोलन समाप्त करने के लिए किसी ना किसी सहमति पर जरूर पहुंच जाएंगे कृषि मंत्री ने कहा है कि जिस दिन किसानों का आंदोलन समाप्त होगा भारतीय लोकतंत्र के लिए जीत होगी बैठक में किसानों ने एनआईए की ओर से नोटिस का मसला भी उठाया है और कहा कि सरकार किसानों को मदद करें बस यही सब बातें भी चल रही है फ्रेंड्स किसान आंदोलन धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा और सरकार किसानों को मना लेगी धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn kisaan aandolan lagaataar ugr roop leta ja raha hai sarakaar unakee maangen pooree karane mein asamarth tha kyon bata rahee hai to aisee baat nahin hai phrends sarakaar bilkul bhee samay-samay par kisaanon kee baat bhee sun rahee hai aur vah koee bhee grup itana bhee nahin liya hai aur abhee hamane suna hee hoga kal ki kaanoon dedh saal tak taalane ka prastaav bhee rakha gaya hai ki kisee mantree ne kaha hai ki teenon kaanoonon ko ek dedh saal ke lie lambit rakha ja sakata hai aur is avadhi mein aapasee baatacheet se samaadhaan par pahuncha ja sakata hai to iseelie kisaan netaon ne bhee kaha hai ki ham kaanoon vaapasee kee baat kar rahe hain par kyonki yah prastaav kendr kee or se aaya hai isalie ham charcha karenge iseelie sab baaten chal rahee hai aur traiktar railee pulis ko de dee gaee hai jo traiktar elee aajakal supreem kort ne budhavaar ko phir kaha hai ki kisaanon ke traiktar railee par adaalat koee phaisala nahin degee yah pulis ka masala hai aur ise hee nipata na pade pulis ne kisaanon se baatacheet kie aur dillee ke baahar railee nikaalane ka sujhaav diya hai lekin kisaanon ne to abhee ise naamanjoor kar diya hai aur saaph kah diya hai ki ve aautar ring rod par traiktar vaalee railee nikaalenge to abhee to kaanoon dedh saal tak hataane kee baat ho chukee hai phir bhee abhee 22 janavaree ko phir vaarta honee hai krshi mantree narendr sinh tomar ne baithak ke baad kaha ki kisaan sangathanon ke saath unakee suhaagapur mobail mein baithak huee hai par antim nirnay pahunchane ke lie sarakaar pooree tarah se taiyaar bhee hai aur donon paksh 22 janavaree ko phir milenge aur ham aandolan samaapt karane ke lie kisee na kisee sahamati par jaroor pahunch jaenge krshi mantree ne kaha hai ki jis din kisaanon ka aandolan samaapt hoga bhaarateey lokatantr ke lie jeet hogee baithak mein kisaanon ne enaeee kee or se notis ka masala bhee uthaaya hai aur kaha ki sarakaar kisaanon ko madad karen bas yahee sab baaten bhee chal rahee hai phrends kisaan aandolan dheere-dheere khatm ho jaega aur sarakaar kisaanon ko mana legee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन, किसान आंदोलन क्या है, किसान आंदोलन क्यों हो रहा है
URL copied to clipboard