#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?

Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:26
हेलो बेबी जान तो आज आप का सवाल है कि मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं तो देखिए और कोई भी चीज मतलब भविष्य बिगड़ता नहीं हमें उसका इस्तेमाल करना और समझना बहुत जरूरी होता है जहां मोबाइल और इंटरनेट की बात कही है तो देखिए बहुत उपयोगी और बहुत हेल्पफुल है अगर हम अच्छी तरह से यूज करें तो घर बैठे हर काम कर सकते हैं कनेक्टेड रह सकते हैं देश दुनिया के बारे में जान सकते हैं बहुत ही सिंपल और सरल हो चुका है इस मोबाइल और इंटरनेट के माध्यम से जैसे कि अगर बच्चे पढ़ने की जगह क्लासेस करने की जगह कुछ देखने की जगह करके और फिर आरती वीडियोस दिन भर देखते रह रहे हैं अपना पढ़ाई-लिखाई हर चीज छोड़ दे रहे उनके लिए नुकसान होगा लेकिन मैं यह फोन और वह इंटरनेट जगह कुछ सर्च कर रहे हैं क्लासेस कर रहे हैं हमेशा कुछ न कुछ ऐसे अपलोड कर दें कि यह से सीखते हैं वह चीज सीखना नहीं सकती मौका बहुत लोग डिपेंड करता है इंसान पर कि वह कोई भी चीज को कैसे इस्तेमाल करता रिचा मिश्रा सही और गलत दोनों पता होता अगर मैं जानबूझकर गलत करूं कोई अच्छा चीज से भी तो यह मेरे लिए ही नुकसान बच्चों को यह समझना बहुत जरूरी है कि उनके लिए यह क्या गलत और क्या सही है और पेरेंट्स को भी साथ ही साथ ध्यान देना कि वह ज्यादा से ज्यादा मोबाइल फोन का मतलब फालतू चीजों में ना करें
Helo bebee jaan to aaj aap ka savaal hai ki mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy bigaad rahe hain to dekhie aur koee bhee cheej matalab bhavishy bigadata nahin hamen usaka istemaal karana aur samajhana bahut jarooree hota hai jahaan mobail aur intaranet kee baat kahee hai to dekhie bahut upayogee aur bahut helpaphul hai agar ham achchhee tarah se yooj karen to ghar baithe har kaam kar sakate hain kanekted rah sakate hain desh duniya ke baare mein jaan sakate hain bahut hee simpal aur saral ho chuka hai is mobail aur intaranet ke maadhyam se jaise ki agar bachche padhane kee jagah klaases karane kee jagah kuchh dekhane kee jagah karake aur phir aaratee veediyos din bhar dekhate rah rahe hain apana padhaee-likhaee har cheej chhod de rahe unake lie nukasaan hoga lekin main yah phon aur vah intaranet jagah kuchh sarch kar rahe hain klaases kar rahe hain hamesha kuchh na kuchh aise apalod kar den ki yah se seekhate hain vah cheej seekhana nahin sakatee mauka bahut log dipend karata hai insaan par ki vah koee bhee cheej ko kaise istemaal karata richa mishra sahee aur galat donon pata hota agar main jaanaboojhakar galat karoon koee achchha cheej se bhee to yah mere lie hee nukasaan bachchon ko yah samajhana bahut jarooree hai ki unake lie yah kya galat aur kya sahee hai aur perents ko bhee saath hee saath dhyaan dena ki vah jyaada se jyaada mobail phon ka matalab phaalatoo cheejon mein na karen

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
रंगन Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए रंगन जी का जवाब
Business,Student🤓
1:44
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं देखिए ऐसा क्या कहना आपके लिए तो लगता है कि सही बात है आपकी जो सोचो चाहिए लेकिन अगर उस दिन देखे तो कोई भी चीज हो ठीक है बच्चे कैसे हैं बच्चे के बच्चे जन्म लेते हैं उसका धीरे-धीरे उनके जो ट्रेन में एक एक चीज बता मतलब मेमोरी टूटेगी से पहले तो ब्लैक रहता हूं उसके बाद धीरे-धीरे से जमा होता है उसे दे दे दे दे दे दे दे जब मैं खुद ही आ गया था स्कूल होने लगता है मुझे भी काम करते हैं तो अगर कोई भी चीज अगर एक बच्चा ज्यादा पर ज्यादा यूज करेगा तो वह चीज में ज्यादा जगह खाएगा वह इंटरनेट हो या फिर दूसरा कोई चीज को मोबाइल हो गया फिर दूसरा कोई अगर किसी को टीवी देखना बहुत ज्यादा पसंद है किसी बच्चे को अगर वह हमेशा टीवी देख कर आएगा 24 घंटे में दर्द 12 घंटे तो फिर वह टीवी में भविष्य में इस तरह मिला लें तो कोई भी चीज करना बिल्कुल भी अच्छा नहीं हो बच्चे हों या बड़े हो कोई भी चीज एक्टर करना बिल्कुल भी सही बात नहीं है तो मेरे हिसाब से इंटरनेट की वजह से बच्चों का भविष्य मुझे लगता अच्छा हो सकता कर उसको सही ढंग से सही हम करें तो अगर गलत दिशा में चला जाएगा बच्चे के दिमाग तो फिर बालाजी होगा इसके लिए हम पेरेंट्स को उसके बाद आस पड़ोस में जो रहता है सबको उस बच्चे के ऊपर ध्यान रखना चाहिए कि वह आप जा रहे हैं या फिर गलत राह पर अगर गलत राह पर जा रहे हैं उनको समझाओ उनको तेरा पर लाने का जिम्मेदारी हम लोग
Mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy bigaad rahe hain dekhie aisa kya kahana aapake lie to lagata hai ki sahee baat hai aapakee jo socho chaahie lekin agar us din dekhe to koee bhee cheej ho theek hai bachche kaise hain bachche ke bachche janm lete hain usaka dheere-dheere unake jo tren mein ek ek cheej bata matalab memoree tootegee se pahale to blaik rahata hoon usake baad dheere-dheere se jama hota hai use de de de de de de de jab main khud hee aa gaya tha skool hone lagata hai mujhe bhee kaam karate hain to agar koee bhee cheej agar ek bachcha jyaada par jyaada yooj karega to vah cheej mein jyaada jagah khaega vah intaranet ho ya phir doosara koee cheej ko mobail ho gaya phir doosara koee agar kisee ko teevee dekhana bahut jyaada pasand hai kisee bachche ko agar vah hamesha teevee dekh kar aaega 24 ghante mein dard 12 ghante to phir vah teevee mein bhavishy mein is tarah mila len to koee bhee cheej karana bilkul bhee achchha nahin ho bachche hon ya bade ho koee bhee cheej ektar karana bilkul bhee sahee baat nahin hai to mere hisaab se intaranet kee vajah se bachchon ka bhavishy mujhe lagata achchha ho sakata kar usako sahee dhang se sahee ham karen to agar galat disha mein chala jaega bachche ke dimaag to phir baalaajee hoga isake lie ham perents ko usake baad aas pados mein jo rahata hai sabako us bachche ke oopar dhyaan rakhana chaahie ki vah aap ja rahe hain ya phir galat raah par agar galat raah par ja rahe hain unako samajhao unako tera par laane ka jimmedaaree ham log

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
jyoti sharma  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए jyoti जी का जवाब
Unknown
0:03

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:35
हाय फ्रेंड्स क्वेश्चन पूछा गया है कि मोबाइल और इंटरनेट बच्चों के भविष्य बिगाड़ रहे हैं कि नहीं तो अगर हम सही रूप से अगर हम मोबाइल का यूज करते हैं और इंटरनेट का तो हमारे भविष्य के लिए काफी लाभदायक हो सकता है लेकिन इसके ही अपॉजिट अगर हम मोबाइल का दुरुपयोग करें और इंटरनेट काम सही से यूज नहीं करें मतलब कि हम जो भी इंटरनेट के जरिए देखते हैं उस चीजों से हमें कोई भी लाभ अगर नहीं पहुंचता है तो यह जो होता है आगे चलकर दिक्कत पैदा कर सकते हैं
Haay phrends kveshchan poochha gaya hai ki mobail aur intaranet bachchon ke bhavishy bigaad rahe hain ki nahin to agar ham sahee roop se agar ham mobail ka yooj karate hain aur intaranet ka to hamaare bhavishy ke lie kaaphee laabhadaayak ho sakata hai lekin isake hee apojit agar ham mobail ka durupayog karen aur intaranet kaam sahee se yooj nahin karen matalab ki ham jo bhee intaranet ke jarie dekhate hain us cheejon se hamen koee bhee laabh agar nahin pahunchata hai to yah jo hota hai aage chalakar dikkat paida kar sakate hain

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:33
चलिए पहले चोर को जगदीश बारिश कब तक होगा उत्तर देंगे तो किसी प्रश्न पूछा इंटरनेट बच्चों का बच्चों का भविष्य मोबाइल के बारे में क्या पढ़ना चाहिए तो बहुत कुछ सीख सकते उसका सही सही उपयोग करना चाहिए
Chalie pahale chor ko jagadeesh baarish kab tak hoga uttar denge to kisee prashn poochha intaranet bachchon ka bachchon ka bhavishy mobail ke baare mein kya padhana chaahie to bahut kuchh seekh sakate usaka sahee sahee upayog karana chaahie

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:25
सवाल पूछा गया है क्या मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं या नहीं बहुत अच्छा सवाल है और आजकल के जो मां बाप है वह बहुत ही ज्यादा चिंतित है और हो गए हैं अपने बच्चों को लेकर कि वह ज्यादा मोबाइल यूज कर रहे हैं या दादा इंटरनेट यूज कर रहे हैं अपना ज्यादा से ज्यादा जो समय रहता है वह मोबाइल के साथ ही वह बताते रहते हैं ऐसे मां बाप को बहुत ज्यादा तकलीफ हो रही है और होनी भी चाहिए क्योंकि यह उनके बच्चों का करियर का सवाल है तो आपको बता दें कि मोबाइल और इंटरनेट जैसे मार्केट में जहर मिलता है तो उस जहर से मच्छर को मारना है या खुद लेकर उसको खुद के ऊपर डाल कर हमारी जिंदगी खराब करनी है हमारी सेहत खराब करनी है तो मोबाइल और इंटरनेट भी बिल्कुल वैसे ही चीज है वहां जैसे शहर मिलता है उसको कहां प्रॉपर यूज करना है वह हमें उन को सिखाना पड़ेगा ना अगर आप मोबाइल लेकर दे रहे हो अपने बच्चों को तो आपके बच्चों को आपको सिखाना होगा कि मोबाइल किस चीज के लिए हाथ में लेना है और कितना समय हाथ में लेना है क्योंकि इंटरनेट और मोबाइल के द्वारा ही आज पढ़ाई हो रही है ऐसे कोविड-19 स्कूल जब बंद हो गए हैं तो पढ़ाया भी सिर्फ मोबाइल और इंटरनेट के थ्रू ही हो रही है इसलिए वह सही यूज़ है तो जो सही उस करेगा तो बिल्कुल सही है परंतु अगर सही यूज नहीं कर रहे हैं तो मां-बाप की जिम्मेदारी सबसे पहले ही बनती है कि उनके ऊपर निगरानी रखें उनको बताएं उनका मार्गदर्शन करें कि कितना लिमिट में यूज करना है और क्या यूज करना है किस पर्पस के लिए यूज करना है अगर वह टाइम डिसाइड किया हुआ जाएगा तो बच्चे बिल्कुल भी नहीं बिगड़ेंगे और बिल्कुल संतुलन उनका बना रहेगा और इसके साथ भविष्य में भी इनके इससे कुछ भी बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा मां-बाप चाहे तो अपने बच्चों को बहुत अच्छी शिक्षा दे सकते हैं परंतु तकलीफ यही है कि वह खुद भी मोबाइल में ज्यादा उलझे हुए हैं उम्मीद करता हूं मेरा ही जवाब आपको पसंद आया होगा अगर हां तो अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़े धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai kya mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy bigaad rahe hain ya nahin bahut achchha savaal hai aur aajakal ke jo maan baap hai vah bahut hee jyaada chintit hai aur ho gae hain apane bachchon ko lekar ki vah jyaada mobail yooj kar rahe hain ya daada intaranet yooj kar rahe hain apana jyaada se jyaada jo samay rahata hai vah mobail ke saath hee vah bataate rahate hain aise maan baap ko bahut jyaada takaleeph ho rahee hai aur honee bhee chaahie kyonki yah unake bachchon ka kariyar ka savaal hai to aapako bata den ki mobail aur intaranet jaise maarket mein jahar milata hai to us jahar se machchhar ko maarana hai ya khud lekar usako khud ke oopar daal kar hamaaree jindagee kharaab karanee hai hamaaree sehat kharaab karanee hai to mobail aur intaranet bhee bilkul vaise hee cheej hai vahaan jaise shahar milata hai usako kahaan propar yooj karana hai vah hamen un ko sikhaana padega na agar aap mobail lekar de rahe ho apane bachchon ko to aapake bachchon ko aapako sikhaana hoga ki mobail kis cheej ke lie haath mein lena hai aur kitana samay haath mein lena hai kyonki intaranet aur mobail ke dvaara hee aaj padhaee ho rahee hai aise kovid-19 skool jab band ho gae hain to padhaaya bhee sirph mobail aur intaranet ke throo hee ho rahee hai isalie vah sahee yooz hai to jo sahee us karega to bilkul sahee hai parantu agar sahee yooj nahin kar rahe hain to maan-baap kee jimmedaaree sabase pahale hee banatee hai ki unake oopar nigaraanee rakhen unako bataen unaka maargadarshan karen ki kitana limit mein yooj karana hai aur kya yooj karana hai kis parpas ke lie yooj karana hai agar vah taim disaid kiya hua jaega to bachche bilkul bhee nahin bigadenge aur bilkul santulan unaka bana rahega aur isake saath bhavishy mein bhee inake isase kuchh bhee bura prabhaav nahin padega maan-baap chaahe to apane bachchon ko bahut achchhee shiksha de sakate hain parantu takaleeph yahee hai ki vah khud bhee mobail mein jyaada ulajhe hue hain ummeed karata hoon mera hee javaab aapako pasand aaya hoga agar haan to agale savaal ke saath mujhase jaroor jude dhanyavaad

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे इस के दो पहलू हैं एक तो इस कैंडिडेट नेगेटिव प्रभाव प्रभाव और उसके पॉजिटिव प्रभाव तो नेगेटिव प्रभाव में ऐसी बातें कि बच्चे जाए वह मोबाइल करो हाथ में लेकर बटन दबा के चले जाते हैं उनके बाद उसको उनको कुछ एकदम सब पसंद आता है उसमें वह खेलते रहते हैं और एक बार उनको आदत लग जाती है तो वह इसको भी अपने हाथ से मोबाइल जीने नहीं देते अगर चिंता है कि तेरे घर के लोग तो गुरु पढ़ते वापस ले ली तो ग्रुप चलेगी तुम चैटिंग तो बन रहे हैं रगरी गंभीर रूप धारण करता है तो बहुत बड़ी मानसिक एप्लीकेशन बच्चों में हो सकती है एक तो वह उनकी आंखें खराब होती है अगर उस सुनते ही रहते हैं तुम के गानों को अभी कम करना बिगड़ जाता है पढ़ाई से मनाता है व्यायाम से मनाता है यहां तक कि खाना खाने से भी मना किया जाता है उनका हर समय उसमें इतना कुछ करते रहते हैं जातक उनको ऑनलाइन पढ़ाने का पढ़ने की बात है तो बहुत कम है ऐसे बच्चे की ऑनलाइन बिना घर के अपनी माननीय पिताजी ने बिना कह के तो चैटिंग कर रहे हैं चित्र से सुन रहे हैं देख रहे हैं समझ रहे हैं प्रैक्टिकल भी कर रहे हैं ऐसे बच्चों की संख्या कम है और यह अनुपात कितना कमरा तो आने वाले डिस्टेंस लर्निंग या ऑनलाइन लर्निंग आने वाले समय में आ रहा है उसको जैसी कोई चीज कभी ठीक ऐसा सुनने के बाद सोशल की प्रकाश पर विश्वास नहीं करेंगे लोग लेकिन भविष्य दिख रहा है घर में जो चाहता है या कोई कमर्शियल प्रैक्टिस जलाने वाले स्टेटस रहेंगे उस पर प्रैक्टिस कर के और बाकी सब घर में इस तरह की बता सकती है और छोरा जिंदगी का जीने का तरीका बदल जाने की लड़की के चित्र दिखाइए तो मोबाइल और जो है अगर मोबाइल का उपयोग से ऑनलाइन सीखने के लिए करते हैं उनके पालक और शिक्षक और समाज इस चीज को प्रोत्साहित कर सकता है क्यों मोबाइल से आखिर क्या चीज हमें निकलनी जो हमारे उपयुक्त हुआ पकड़ में आ जाए एक बार तो मोबाइल और इंटरनेट एक ऐसा खजीना है जिसके आगे हरि बाबा की गुफा के अंदर जो खजाना था वह भी कम पड़ जाएगा एंग्री बर्ड पकड़ में आ जाए तू ज्यादा प्रवेश न करते इंसान जो उसने घर स्मार्ट वर्क किया है डोर के और कल के अलावा केवल स्मार्ट वर्क करने में अपनी बुद्धि लगाए 232 हो सकता है और पदक भी हो सकता है लेकिन बात अभी बहुत दूर है या फिर बहुत नजदीक भी है और कुछ करूंगा लोग उसके इस में भर्ती किए जाएंगे इस क्षेत्र से इस तरह की दोनों की बातें इस मामले में दिखाई देती है
Mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy bigaad rahe is ke do pahaloo hain ek to is kaindidet negetiv prabhaav prabhaav aur usake pojitiv prabhaav to negetiv prabhaav mein aisee baaten ki bachche jae vah mobail karo haath mein lekar batan daba ke chale jaate hain unake baad usako unako kuchh ekadam sab pasand aata hai usamen vah khelate rahate hain aur ek baar unako aadat lag jaatee hai to vah isako bhee apane haath se mobail jeene nahin dete agar chinta hai ki tere ghar ke log to guru padhate vaapas le lee to grup chalegee tum chaiting to ban rahe hain ragaree gambheer roop dhaaran karata hai to bahut badee maanasik epleekeshan bachchon mein ho sakatee hai ek to vah unakee aankhen kharaab hotee hai agar us sunate hee rahate hain tum ke gaanon ko abhee kam karana bigad jaata hai padhaee se manaata hai vyaayaam se manaata hai yahaan tak ki khaana khaane se bhee mana kiya jaata hai unaka har samay usamen itana kuchh karate rahate hain jaatak unako onalain padhaane ka padhane kee baat hai to bahut kam hai aise bachche kee onalain bina ghar ke apanee maananeey pitaajee ne bina kah ke to chaiting kar rahe hain chitr se sun rahe hain dekh rahe hain samajh rahe hain praiktikal bhee kar rahe hain aise bachchon kee sankhya kam hai aur yah anupaat kitana kamara to aane vaale distens larning ya onalain larning aane vaale samay mein aa raha hai usako jaisee koee cheej kabhee theek aisa sunane ke baad soshal kee prakaash par vishvaas nahin karenge log lekin bhavishy dikh raha hai ghar mein jo chaahata hai ya koee kamarshiyal praiktis jalaane vaale stetas rahenge us par praiktis kar ke aur baakee sab ghar mein is tarah kee bata sakatee hai aur chhora jindagee ka jeene ka tareeka badal jaane kee ladakee ke chitr dikhaie to mobail aur jo hai agar mobail ka upayog se onalain seekhane ke lie karate hain unake paalak aur shikshak aur samaaj is cheej ko protsaahit kar sakata hai kyon mobail se aakhir kya cheej hamen nikalanee jo hamaare upayukt hua pakad mein aa jae ek baar to mobail aur intaranet ek aisa khajeena hai jisake aage hari baaba kee gupha ke andar jo khajaana tha vah bhee kam pad jaega engree bard pakad mein aa jae too jyaada pravesh na karate insaan jo usane ghar smaart vark kiya hai dor ke aur kal ke alaava keval smaart vark karane mein apanee buddhi lagae 232 ho sakata hai aur padak bhee ho sakata hai lekin baat abhee bahut door hai ya phir bahut najadeek bhee hai aur kuchh karoonga log usake is mein bhartee kie jaenge is kshetr se is tarah kee donon kee baaten is maamale mein dikhaee detee hai

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है मोबाइल और इंटरनेट का विश कैसे करते हैं तो फ्रेंडशिप जब हद से भी ज्यादा मोबाइल का इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो बच्चों का भविष्य काटते हैं और बच्चे आसानी से इंटरनेट पर कोई भी चीज खोल लेते हैं और देख लेते हैं जो उन्हें उम्र से पहले नहीं देखनी चाहिए लेकिन वे इंटरनेट के माध्यम से सब कुछ देख लेते हैं सुन लेते हैं इसलिए इंटरेक्शन को बिगाड़ भी रहा है लेकिन आजकल तो ऑनलाइन पढ़ाई चल रही है पढ़ाई के लिए तो ऐसा है लेकिन फालतू की चीजें बोल कर देख ने सेहत बिगड़ भी रहे धन्यवाद
Phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai mobail aur intaranet ka vish kaise karate hain to phrendaship jab had se bhee jyaada mobail ka intaranet ka upayog karate hain to bachchon ka bhavishy kaatate hain aur bachche aasaanee se intaranet par koee bhee cheej khol lete hain aur dekh lete hain jo unhen umr se pahale nahin dekhanee chaahie lekin ve intaranet ke maadhyam se sab kuchh dekh lete hain sun lete hain isalie intarekshan ko bigaad bhee raha hai lekin aajakal to onalain padhaee chal rahee hai padhaee ke lie to aisa hai lekin phaalatoo kee cheejen bol kar dekh ne sehat bigad bhee rahe dhanyavaad

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Udham Prasad Gautam Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Udham जी का जवाब
Unknown
2:36
हाय दोस्तों नमस्कार गुड इवनिंग आपका प्रश्न है कि मोबाइल अटेंड बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं दोस्तों यह आप हंड्रेड परसेंट रूप से नहीं कह सकता है कि बच्चों का भविष्य मोबाइल इंटरनेट बिगाड़ रहे हैं दोस्तों बशर्ते नजरिया कैसा होना चाहिए बच्चों के प्रति इंटरनेट और मोबाइल देने का कि बच्चों को उसी अवस्था में दीजिए ऐसी स्थिति में दीजिए ताकि उनको लाभों इंटरनेट और मोबाइल से टिकट क्योंकि आजकल बहुत से ऐसे बच्चे हैं आजकल लॉक डाउन के दौरान बच्चे मोबाइल और इंटरनेट की जरिया ही पढ़ाई की है ठीक है बहुत ज्यादा मात्रा में तो सोचिए अगर मोबाइल इंटरनेट नहीं रहा होता तो क्या बच्चों का भविष्य लाल डाउनलोड बन पाता कुछ नहीं दोस्तों क्योंकि ऑफलाइन पढ़ाई नहीं हो रही थी उसी से ऑनलाइन बच्चे पढ़ते रहे जिससे कि उनका नॉलेज कुछ ना कुछ बेहतर रहा ठीक है तो उसी प्रकार से हमें हमारा फर्ज होता है कि हम बच्चों को किस हिसाब से मोबाइल फोन इस्तेमाल करने के लिए दे रहे हैं किस तरह से देना कितने घंटे के लिए ताकि बच्चा जो है वह सही सीख रहा है या नहीं सीख रहा है उसके बारे में जानकारी हमारा फर्ज है बच्चे नासमझ होते वह कुछ भी अगर मोबाइल फोन पाए जाते गेम खेलने लगते और कई तरह के मारे वेबसाइट खोलने लगते हैं तुमको ज्यादा स्पीक वर्ल्ड नॉलेज नहीं होता वह उसमें घुस जाते हैं मतलब हर चीज के बारे में जानना चाहते हैं ठीक है तो उससे उनको अच्छा उसमें लगने लगता है तो लेकिन आप यह देखिए कि अपना जो उनका जो टाइम है पढ़ने कहा है लिखने का खेलने का है तो उनके हिसाब से जब टाइम बचाए कहां इस वक्त मोबाइल हमको उनको दे देना चाहिए तो उस हिसाब से अब मोबाइल में को दीजिए ना ताकि उससे कुछ सीख सके देखें अगर हमेशा दिन भर आप उसको फोन ही दे रहा है क्या तू फोन से क्या सीखेगा जितना आएगा उतना तो सीख सकता है या फिर उसमें सिर्फ गेम खेलने लगता है आजकल बच्चों के सबसे ज्यादा यही पर्सनल स्थिति आ जाती है कि वह हमेशा गर्मी से लोग कहने लगते हैं कि बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहा है पर वास्तव में है या नहीं है आप अगर फॉर मोबाइल फोन उसको गेम खेलने के लिए नहीं देंगे फिर वह कैसे लेकर गेम खेलने लगे उसको भाई लिखा है उसके बाद जो टाइम मस्ती करने का उसमें आप दे सकते हैं एक बार थोड़ा बहुत गेम खेलो ठीक है या फिर गेम खेलने का एक ब्लैक मेलिंग वाला सिस्टम करके बच्चों को भी पढ़ाने का एक अच्छा तरीका बन जाता है या दो घंटा की 3 घंटा पढ़ोगे तो हम तुमको गेम खेलने के लिए देंगे इस तरह से बच्चा क्या करेगा पढ़ाई करेगा वैसे भी स्थिति आ जाती बच्चों के अंदर ठीक है तू नजरिया आपका होना चाहिए कि आप कैसे बच्चों को देखते हैं बच्चों को कैसे मोबाइल फोन देते हैं कभी उस करते हैं काम को बच्चा क्या करें मोबाइल फोन में यह सब देखने का जो तरीका है आपको इस्तेमाल करना चाहिए ठीक आशा करता हूं जॉब अच्छा लगा धन्यवाद
Haay doston namaskaar gud ivaning aapaka prashn hai ki mobail atend bachchon ka bhavishy bigaad rahe hain doston yah aap handred parasent roop se nahin kah sakata hai ki bachchon ka bhavishy mobail intaranet bigaad rahe hain doston basharte najariya kaisa hona chaahie bachchon ke prati intaranet aur mobail dene ka ki bachchon ko usee avastha mein deejie aisee sthiti mein deejie taaki unako laabhon intaranet aur mobail se tikat kyonki aajakal bahut se aise bachche hain aajakal lok daun ke dauraan bachche mobail aur intaranet kee jariya hee padhaee kee hai theek hai bahut jyaada maatra mein to sochie agar mobail intaranet nahin raha hota to kya bachchon ka bhavishy laal daunalod ban paata kuchh nahin doston kyonki ophalain padhaee nahin ho rahee thee usee se onalain bachche padhate rahe jisase ki unaka nolej kuchh na kuchh behatar raha theek hai to usee prakaar se hamen hamaara pharj hota hai ki ham bachchon ko kis hisaab se mobail phon istemaal karane ke lie de rahe hain kis tarah se dena kitane ghante ke lie taaki bachcha jo hai vah sahee seekh raha hai ya nahin seekh raha hai usake baare mein jaanakaaree hamaara pharj hai bachche naasamajh hote vah kuchh bhee agar mobail phon pae jaate gem khelane lagate aur kaee tarah ke maare vebasait kholane lagate hain tumako jyaada speek varld nolej nahin hota vah usamen ghus jaate hain matalab har cheej ke baare mein jaanana chaahate hain theek hai to usase unako achchha usamen lagane lagata hai to lekin aap yah dekhie ki apana jo unaka jo taim hai padhane kaha hai likhane ka khelane ka hai to unake hisaab se jab taim bachae kahaan is vakt mobail hamako unako de dena chaahie to us hisaab se ab mobail mein ko deejie na taaki usase kuchh seekh sake dekhen agar hamesha din bhar aap usako phon hee de raha hai kya too phon se kya seekhega jitana aaega utana to seekh sakata hai ya phir usamen sirph gem khelane lagata hai aajakal bachchon ke sabase jyaada yahee parsanal sthiti aa jaatee hai ki vah hamesha garmee se log kahane lagate hain ki bachchon ka bhavishy bigaad raha hai par vaastav mein hai ya nahin hai aap agar phor mobail phon usako gem khelane ke lie nahin denge phir vah kaise lekar gem khelane lage usako bhaee likha hai usake baad jo taim mastee karane ka usamen aap de sakate hain ek baar thoda bahut gem khelo theek hai ya phir gem khelane ka ek blaik meling vaala sistam karake bachchon ko bhee padhaane ka ek achchha tareeka ban jaata hai ya do ghanta kee 3 ghanta padhoge to ham tumako gem khelane ke lie denge is tarah se bachcha kya karega padhaee karega vaise bhee sthiti aa jaatee bachchon ke andar theek hai too najariya aapaka hona chaahie ki aap kaise bachchon ko dekhate hain bachchon ko kaise mobail phon dete hain kabhee us karate hain kaam ko bachcha kya karen mobail phon mein yah sab dekhane ka jo tareeka hai aapako istemaal karana chaahie theek aasha karata hoon job achchha laga dhanyavaad

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:28
हरा कृष्ण मोबाइल इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं तो आपको बता दें देखे बहुत पुरानी कहावत है कि अति हर चीज की बुरी होती है आज के समय में बच्चे जो उससे ज्यादा मोबाइल फोन का और इंटरनेट का उपयोग कर रहे हैं और इसका कहीं ना कहीं उनके स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव भी पड़ रहा है हमें जितनी जल्दी हो सके बच्चों को इस समस्या से पढ़ना चाहिए मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Hara krshn mobail intaranet bachchon ka bhavishy bigaad rahe hain to aapako bata den dekhe bahut puraanee kahaavat hai ki ati har cheej kee buree hotee hai aaj ke samay mein bachche jo usase jyaada mobail phon ka aur intaranet ka upayog kar rahe hain aur isaka kaheen na kaheen unake svaasthy par dushprabhaav bhee pad raha hai hamen jitanee jaldee ho sake bachchon ko is samasya se padhana chaahie main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
1:21
देखें मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहा है बच्चे तो उतना ही काम करते हैं जितनी उनकी क्षमता होती है सोचने की क्षमता होती है मोबाइल और इंटरनेट जो चीजें हमारे लिए फायदेमंद है वही चीजें हमें नुकसान भी रहती हैं अगर आपका बच्चा मोबाइल और इंटरनेट से बिगड़ रहा है तो उसे आप मोबाइल देना बंद कर दें या फिर जब भी आप से मोबाइल नहीं तो यह ज्ञात रहे कि वह आपके ही पास बैठकर उससे पढ़ाई करें उसे उसकी पढ़ाई खत्म हो जाए तो आप उसे मोबाइल ले ले ताकि वह उस मोबाइल में वही चीज सर्च करें जो उसे पानी है अदर वाइज उसे इतनी टाइम के लिए मोबाइल ना दे कि वह अपनी चीजों को छोड़कर कहीं और कुछ और सर्च करने लगे इससे बचे पर इफेक्ट पड़ता है तो बच्चे छोटे हैं उनको तो थोड़ा कंट्रोल रखिए उन को समझाइए अच्छी बुरी बातें क्योंकि बच्चों का दिमाग उन्हीं चीजों को कैच करता है जो वह सुनते हैं अगर हम उन्हें अच्छी बातें बताएंगे तो वह अच्छी बातें ही समझेंगे और उस आज भी करेंगे और उसी की तरफ आगे बढ़ेंगे तो बच्चों को गाइड करना पेरेंट्स का काम है जब तक मोबाइल और इंटरनेट से पढ़ाई की जा रही है तब तक जब बचाओ पढ़ रहा हूं तो उसी के पास बैठी हूं और उससे जनता के साथ समझाएं कि आपको जो पढ़ना है सिर्फ वही सर्च करना है अदर वाइज नहीं धन्यवाद
Dekhen mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy bigaad raha hai bachche to utana hee kaam karate hain jitanee unakee kshamata hotee hai sochane kee kshamata hotee hai mobail aur intaranet jo cheejen hamaare lie phaayademand hai vahee cheejen hamen nukasaan bhee rahatee hain agar aapaka bachcha mobail aur intaranet se bigad raha hai to use aap mobail dena band kar den ya phir jab bhee aap se mobail nahin to yah gyaat rahe ki vah aapake hee paas baithakar usase padhaee karen use usakee padhaee khatm ho jae to aap use mobail le le taaki vah us mobail mein vahee cheej sarch karen jo use paanee hai adar vaij use itanee taim ke lie mobail na de ki vah apanee cheejon ko chhodakar kaheen aur kuchh aur sarch karane lage isase bache par iphekt padata hai to bachche chhote hain unako to thoda kantrol rakhie un ko samajhaie achchhee buree baaten kyonki bachchon ka dimaag unheen cheejon ko kaich karata hai jo vah sunate hain agar ham unhen achchhee baaten bataenge to vah achchhee baaten hee samajhenge aur us aaj bhee karenge aur usee kee taraph aage badhenge to bachchon ko gaid karana perents ka kaam hai jab tak mobail aur intaranet se padhaee kee ja rahee hai tab tak jab bachao padh raha hoon to usee ke paas baithee hoon aur usase janata ke saath samajhaen ki aapako jo padhana hai sirph vahee sarch karana hai adar vaij nahin dhanyavaad

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Tanvi  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Tanvi जी का जवाब
Unknown
0:26
मोबाइल और इंटरनेट से जाना जाता है वह सब बेकार रही है वह वापस नहीं होगा क्योंकि इन्हें कई सारी मदद हो जाती है लेकिन इंटरनेट की इंसानों पर हां इसीलिए भविष्य बनाना जब हमारी
Mobail aur intaranet se jaana jaata hai vah sab bekaar rahee hai vah vaapas nahin hoga kyonki inhen kaee saaree madad ho jaatee hai lekin intaranet kee insaanon par haan iseelie bhavishy banaana jab hamaaree

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:10
हां यह मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य जाओ बिगाड़ रहा है वह बना भी रहा है और यह दीगर बात है कि घर का वास्ता ऊपर डिपेंड होता है बहुत से बच्चे इस पर सारा समय गंवा देते हैं तो उन बच्चों का भविष्य निश्चित रूप से ही अंधकार में होता है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन बहुत से बच्चे लाभ उठाते हैं बीच में अच्छे-अच्छे प्रोग्राम देखते हैं भेज अच्छे टीचर्स के गाइड भी लेते हैं सब्जेक्ट की यूट्यूब आदि पर प्रोग्राम ही देखते हैं और उनका लाभ उठाते हैं लेटेस्ट जानकारियों की उनको इंटरनेट और मोबाइल से प्राप्त होती हैं गूगल की भी हेल्प लेते हैं तो वह बच्चे अपना भविष्य बना जाते हैं जो फालतू की चीजों में उस में उलझे रहते हैं उनका भविष्य बिगड़ जाता है इस बात पर किसी प्रकार का कोई दो राय नहीं है
Haan yah mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy jao bigaad raha hai vah bana bhee raha hai aur yah deegar baat hai ki ghar ka vaasta oopar dipend hota hai bahut se bachche is par saara samay ganva dete hain to un bachchon ka bhavishy nishchit roop se hee andhakaar mein hota hai isamen koee do raay nahin hai lekin bahut se bachche laabh uthaate hain beech mein achchhe-achchhe prograam dekhate hain bhej achchhe teechars ke gaid bhee lete hain sabjekt kee yootyoob aadi par prograam hee dekhate hain aur unaka laabh uthaate hain letest jaanakaariyon kee unako intaranet aur mobail se praapt hotee hain googal kee bhee help lete hain to vah bachche apana bhavishy bana jaate hain jo phaalatoo kee cheejon mein us mein ulajhe rahate hain unaka bhavishy bigad jaata hai is baat par kisee prakaar ka koee do raay nahin hai

bolkar speaker
मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे है?Mobile Aur Internet Bachon Ka Bhavishya Bigad Rahe Hai
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:21
नमस्कार आपका सवाल है कि मोबाइल और इंटरनेट बच्चों का भविष्य बिगाड़ रहे हैं देखिए दोस्त कभी भी किसी उपकरण को यह टेक्नोलॉजी को दोष नहीं दिया जाता दोष दिया जाता उन लोगों को जिन्होंने को टेक्नोलॉजी आवरण बनाया है और जब वह टेक्नोलॉजी और उपकरण उन्होंने बनाया तो कुछ सोच करके बनाया है उन्होंने बच्चों का भविष्य बिगाड़ने के लिए नहीं बनाया यह तो गलती मां-बाप की होती है यह तो गलती बच्चों के गाड़ी अंश की है कि वह बच्चों को उचित शिक्षा नहीं दे पाते हैं या उनको उचित संस्कार नहीं दे पाते जिसकी वजह से उनका भविष्य बिगड़ने की वजह सुधर जाए या बन जाए कैरियर बने मोबाइल और इंटरनेट यदि आप सही तरीके से यूज करेंगे बच्चों को सही तरीके से यूज करना सिखाएंगे तो वह भविष्य बिगड़ने की जगह भविष्य सुधरेगा भविष्य बनेगा उनका कैरियर बनेगा वह आगे चलकर क्या अपने जीवन में सफल होंगे लेकिन अगर आप अपने बच्चों को ठीक से समझाएंगे नहीं उनको ध्यान नहीं देंगे और वह जो मर्जी साइट देखने लग जाएंगे या जो उसका अन्य उपयोग करने लग जाएंगे उसका आप मिस यूज़ करने लग जाएंगे तो डेफिनेटली जरूरी है कि उनका भविष्य बिगड़ी जाएगा इसलिए मोबाइल और इंटरनेट को दोष देने की जगह आप अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दें जिससे कि वह टेक्नोलॉजी का सदुपयोग करें और उनका भविष्य सफल हो और वह अपने जीवन में एक सफल व्यक्ति बने धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki mobail aur intaranet bachchon ka bhavishy bigaad rahe hain dekhie dost kabhee bhee kisee upakaran ko yah teknolojee ko dosh nahin diya jaata dosh diya jaata un logon ko jinhonne ko teknolojee aavaran banaaya hai aur jab vah teknolojee aur upakaran unhonne banaaya to kuchh soch karake banaaya hai unhonne bachchon ka bhavishy bigaadane ke lie nahin banaaya yah to galatee maan-baap kee hotee hai yah to galatee bachchon ke gaadee ansh kee hai ki vah bachchon ko uchit shiksha nahin de paate hain ya unako uchit sanskaar nahin de paate jisakee vajah se unaka bhavishy bigadane kee vajah sudhar jae ya ban jae kairiyar bane mobail aur intaranet yadi aap sahee tareeke se yooj karenge bachchon ko sahee tareeke se yooj karana sikhaenge to vah bhavishy bigadane kee jagah bhavishy sudharega bhavishy banega unaka kairiyar banega vah aage chalakar kya apane jeevan mein saphal honge lekin agar aap apane bachchon ko theek se samajhaenge nahin unako dhyaan nahin denge aur vah jo marjee sait dekhane lag jaenge ya jo usaka any upayog karane lag jaenge usaka aap mis yooz karane lag jaenge to dephinetalee jarooree hai ki unaka bhavishy bigadee jaega isalie mobail aur intaranet ko dosh dene kee jagah aap apane bachchon ko achchhe sanskaar den jisase ki vah teknolojee ka sadupayog karen aur unaka bhavishy saphal ho aur vah apane jeevan mein ek saphal vyakti bane dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard