#भारत की राजनीति

Dr. Shivam Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dr. जी का जवाब
Professor
2:17
कानून बनाना सरकार का कार्य और प्रजा यह जनता को चूस के हित के लिए कानून है वही बनना चाहिए और मेरे हिसाब से भी बंद है अपनी कार प्रजातंत्र में सरकार को जनता चाहती है कि बिल्कुल शतक जनता ही सरकार को छूती है तो जनता डायरेक्टली सरकार निकली थी कि हमें मोदी गवर्नमेंट करनी है और राहुल गांधी को रुलाने नहीं हम प्रतिनिधि सांसद विधायक जी सांसद को वोट करते क्यों करते हैं कि हमें उस पर तो हमें पता है कि वो हमारा प्रतिनिधित्व कर सकते हैं जब सांसद ने कोई बिल पेश होता है सरकार कोई कानून लेकर आती है तो हमारा प्रतिनिधि चर्चा करता है हमारा प्रतिनिधि से सहमत है या नहीं है वह भी उसकी राय ली जाती है उसके बाद ही वह कानून पास होता है कोई भी कानून सरकार अपने दम पे पास नहीं कर देती है या ऐसा नहीं कि सरकार ने कानून बनाया वह पास हो गया था नहीं पूरी चर्चा होती है अमन टेंट आता है पश्चिम में से दोनों की सुनी जाती है क्या फिर उससे सर्वदलीय बैठक बुलाई जाती है क्या उसने विरोधाभास वैज्ञानिक सब कुछ होने के बावजूद कंपनी जब हमारे प्रतिनिधि वहां है और उसकी देखरेख में कानून बन रहा है और हमने उसे विश्वास रखना भेजा है तो है कानों पर विश्वास करना चाहिए इनडायरेक्टली जाकर संसद में तो हम नहीं जा सकते संसद भवन में नहीं जा सकते हैं लोकसभा में हम नहीं जा सकते हमारे प्रतिनिधि जा सकता है कि हमने उसको चलते हुए जाओ इसीलिए हमने तुमको भेजा कि हमारी बातों पर की तो कोई भी कानून होता है ऐसा नहीं है कि कितनी जनसंख्या है घंटे फ्रेंड लोगों के लिए वह सेक्स तकलीफ होगा या नहीं सीधी सी बात है सबके लिए सशक्त हो सकता कुछ लोग इससे प्रभावित होते हैं कुछ लोग नहीं होते हैं किसी के लिए अच्छा भी होता है किस लिए बुराई में सरकार का तख्ता को ध्यान में रखी होता है
Kaanoon banaana sarakaar ka kaary aur praja yah janata ko choos ke hit ke lie kaanoon hai vahee banana chaahie aur mere hisaab se bhee band hai apanee kaar prajaatantr mein sarakaar ko janata chaahatee hai ki bilkul shatak janata hee sarakaar ko chhootee hai to janata daayarektalee sarakaar nikalee thee ki hamen modee gavarnament karanee hai aur raahul gaandhee ko rulaane nahin ham pratinidhi saansad vidhaayak jee saansad ko vot karate kyon karate hain ki hamen us par to hamen pata hai ki vo hamaara pratinidhitv kar sakate hain jab saansad ne koee bil pesh hota hai sarakaar koee kaanoon lekar aatee hai to hamaara pratinidhi charcha karata hai hamaara pratinidhi se sahamat hai ya nahin hai vah bhee usakee raay lee jaatee hai usake baad hee vah kaanoon paas hota hai koee bhee kaanoon sarakaar apane dam pe paas nahin kar detee hai ya aisa nahin ki sarakaar ne kaanoon banaaya vah paas ho gaya tha nahin pooree charcha hotee hai aman tent aata hai pashchim mein se donon kee sunee jaatee hai kya phir usase sarvadaleey baithak bulaee jaatee hai kya usane virodhaabhaas vaigyaanik sab kuchh hone ke baavajood kampanee jab hamaare pratinidhi vahaan hai aur usakee dekharekh mein kaanoon ban raha hai aur hamane use vishvaas rakhana bheja hai to hai kaanon par vishvaas karana chaahie inadaayarektalee jaakar sansad mein to ham nahin ja sakate sansad bhavan mein nahin ja sakate hain lokasabha mein ham nahin ja sakate hamaare pratinidhi ja sakata hai ki hamane usako chalate hue jao iseelie hamane tumako bheja ki hamaaree baaton par kee to koee bhee kaanoon hota hai aisa nahin hai ki kitanee janasankhya hai ghante phrend logon ke lie vah seks takaleeph hoga ya nahin seedhee see baat hai sabake lie sashakt ho sakata kuchh log isase prabhaavit hote hain kuchh log nahin hote hain kisee ke lie achchha bhee hota hai kis lie buraee mein sarakaar ka takhta ko dhyaan mein rakhee hota hai

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:57
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका फेस नहीं कानून बनाना सरकार का काम है यह भी देखना है कि कानून किसके लिए बनाया जा रहा है प्रजातंत्र में सरकार सरकार जनता द्वारा चुनी जाती है तो कानून भी उसी के हिसाब से बनाना चाहिए ऐसा नहीं कि कोई कानून बने तो यह प्रश्न आपने पूछा है तो इस प्रश्न का आंसर यही है कि सरकार का बिल्कुल काम है कि मैं देखे कि जो भी हम कानून बना रहे हैं वह जनता के हित में है कि नहीं है जनता के हित को ध्यान में रखकर ही सरकार को कानून बनाना चाहिए यह बात बिल्कुल भी सच है क्योंकि जनता ही उन्हें चुन कर लाइए में बात भी सच है हम सभी मिलकर सरकार बनाते हैं वोट करते हैं वह मत होता है सरकार के पास तरह बनती है तो सरकार का भी काम है कि वह जनता के हितों को ध्यान में रखेगी बिल्कुल सही बात है सरकार को जनता के हितों को ध्यान रखना चाहिए फिर उसके बाद कानून बनाना चाहिए धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka phes nahin kaanoon banaana sarakaar ka kaam hai yah bhee dekhana hai ki kaanoon kisake lie banaaya ja raha hai prajaatantr mein sarakaar sarakaar janata dvaara chunee jaatee hai to kaanoon bhee usee ke hisaab se banaana chaahie aisa nahin ki koee kaanoon bane to yah prashn aapane poochha hai to is prashn ka aansar yahee hai ki sarakaar ka bilkul kaam hai ki main dekhe ki jo bhee ham kaanoon bana rahe hain vah janata ke hit mein hai ki nahin hai janata ke hit ko dhyaan mein rakhakar hee sarakaar ko kaanoon banaana chaahie yah baat bilkul bhee sach hai kyonki janata hee unhen chun kar laie mein baat bhee sach hai ham sabhee milakar sarakaar banaate hain vot karate hain vah mat hota hai sarakaar ke paas tarah banatee hai to sarakaar ka bhee kaam hai ki vah janata ke hiton ko dhyaan mein rakhegee bilkul sahee baat hai sarakaar ko janata ke hiton ko dhyaan rakhana chaahie phir usake baad kaanoon banaana chaahie dhanyavaad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:43
कानून बनाना सरकार के कार्य पर यह भी देखना कि कानून किसके लिए बनाया जा रहा है भाई आपकी बात सही है सर कानून सरकार जनता के लिए प्लेटफार्म तैयार करती है फिर डिसिप्लिन तैयार करते हैं और यह देखना चाहिए कि क्योंकि सरकार ही जनता की मल पालक होती है और जनता सरकार के निर्माता होती है अगर जिस कानून से जनता को फायदा नहीं है तो उसे वापस ले लेना चाहिए उस पर जिद पर अड़े रहना यह लोकतंत्र की बदनामी है और लोकतंत्र के ऊपर कुठाराघात है मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूं
Kaanoon banaana sarakaar ke kaary par yah bhee dekhana ki kaanoon kisake lie banaaya ja raha hai bhaee aapakee baat sahee hai sar kaanoon sarakaar janata ke lie pletaphaarm taiyaar karatee hai phir disiplin taiyaar karate hain aur yah dekhana chaahie ki kyonki sarakaar hee janata kee mal paalak hotee hai aur janata sarakaar ke nirmaata hotee hai agar jis kaanoon se janata ko phaayada nahin hai to use vaapas le lena chaahie us par jid par ade rahana yah lokatantr kee badanaamee hai aur lokatantr ke oopar kuthaaraaghaat hai main aapakee baat se pooree tarah sahamat hoon

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कानून व्यवस्था कैसे काम करती है, कानून कौन लागू करता है, कानून कौन बनाता है
URL copied to clipboard