#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?

Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:39
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है भारत में मरने के बाद में रहने क्यों मनाते हैं तो फ्रेंड से यह परंपरा तो बहुत पहले से ही चली आ रही है कि जिम जाने के बाद तेरा दिल में तेरे हुई मनाई जाती है ऐसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति मर जाता है तो उसके मन पसंद का खाना बनाया जाता है तेरे बिन दिन और भोग लगाया जाता है और फिर हमारे घर के जो बड़े बूढ़े और जो भी हमारे रिश्तेदार रिलेटिव्स मित्र समय उनको बुलाया जाता है और प्रसाद खिलाया जाता है तो यह बहुत पहले से सीमंता चली आ रही है इसलिए हम तेरे ही मनाते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai bhaarat mein marane ke baad mein rahane kyon manaate hain to phrend se yah parampara to bahut pahale se hee chalee aa rahee hai ki jim jaane ke baad tera dil mein tere huee manaee jaatee hai aisa kaha jaata hai ki jo vyakti mar jaata hai to usake man pasand ka khaana banaaya jaata hai tere bin din aur bhog lagaaya jaata hai aur phir hamaare ghar ke jo bade boodhe aur jo bhee hamaare rishtedaar riletivs mitr samay unako bulaaya jaata hai aur prasaad khilaaya jaata hai to yah bahut pahale se seemanta chalee aa rahee hai isalie ham tere hee manaate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:55
फ्रेंड प्रार्थना है भारत में मरने के बाद तेरा ही क्यों मनाई जाती है मैं आपको बताना चाहता हूं भारत में मरने के बाद तेरहवीं किस लिए मनाई जाती है क्योंकि यह प्रथा बहुत सालों पुरानी चली आ रही है क्योंकि जो व्यक्ति मर जाता है उसका एक अंतिम याद के लिए उसकी खुशी में मनाई जाती है जैसे कि लोगों को ब्लॉक पहले उसको भोग लगाकर उसे उसके बाद फिर पूजा हुए जा कर के फिर प्रसाद का वितरण किया जाता है और मैं घर मेहमानों को भी बुलाया जाता है या प्रथा बड़े धूमधाम से उस मरने वाले व्यक्ति की याद में मनाई जाती है जिससे उसकी आत्मा को शांति मिल सके धन्यवाद
Phrend praarthana hai bhaarat mein marane ke baad tera hee kyon manaee jaatee hai main aapako bataana chaahata hoon bhaarat mein marane ke baad terahaveen kis lie manaee jaatee hai kyonki yah pratha bahut saalon puraanee chalee aa rahee hai kyonki jo vyakti mar jaata hai usaka ek antim yaad ke lie usakee khushee mein manaee jaatee hai jaise ki logon ko blok pahale usako bhog lagaakar use usake baad phir pooja hue ja kar ke phir prasaad ka vitaran kiya jaata hai aur main ghar mehamaanon ko bhee bulaaya jaata hai ya pratha bade dhoomadhaam se us marane vaale vyakti kee yaad mein manaee jaatee hai jisase usakee aatma ko shaanti mil sake dhanyavaad

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:23
सवाल भारत में मरने के बाद फिर भी क्यों मनाते हैं तुझे क्यों भूखा भारत में जितने भी बनाने का फैसला है यह एचडी किसी की मौत होने के बाद 13 दिन बाद ब्राह्मणों को भोजन कराने का प्रावधान है और यह पुरानी मान्यता है कि ब्राह्मणों को भोजन कराते रिश्तेदारों के साथ संपन्न कराते हैं तो तेरी भी उसी के रूप में मनाई जाती है
Savaal bhaarat mein marane ke baad phir bhee kyon manaate hain tujhe kyon bhookha bhaarat mein jitane bhee banaane ka phaisala hai yah echadee kisee kee maut hone ke baad 13 din baad braahmanon ko bhojan karaane ka praavadhaan hai aur yah puraanee maanyata hai ki braahmanon ko bhojan karaate rishtedaaron ke saath sampann karaate hain to teree bhee usee ke roop mein manaee jaatee hai

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58
भारत में तेल मी क्यों मनाते हैं अब देखिए आप धर्मशास्त्र उठा कर के देखिए जो हमारे वेदों में जो लिखा गया है आदमी के मरने के बाद उसकी शुद्धता 10 दिन में और उसमें शुद्धता के बाद जो मतलब उसके कर्मकांड की पूजा 13 दिन करके उसको सुधारने की प्रक्रिया की व्यवस्था आदि काल से चली आ रही है और वह व्यवस्था आदिकाल के हिसाब से काफी समय में चलिए लेकिन आर्य समाज के द्वारा जो नियम निर्धारित किए गए हैं कि आप 3 दिन में भी आप शुद्धता करके अपनी तेरहवीं की प्रक्रिया जो है वह कर सकते हैं जिसे हम लोग यज्ञ हवन कहते हैं यज्ञ और हवन के द्वारा तीसरे दिन पूर्ण आहुति दे कर के सुधि कर सकते हैं उसकी व्यवस्था है तो अब तेरे दिन का प्रचलन ज्यादातर खत्म होता जा रहा है
Bhaarat mein tel mee kyon manaate hain ab dekhie aap dharmashaastr utha kar ke dekhie jo hamaare vedon mein jo likha gaya hai aadamee ke marane ke baad usakee shuddhata 10 din mein aur usamen shuddhata ke baad jo matalab usake karmakaand kee pooja 13 din karake usako sudhaarane kee prakriya kee vyavastha aadi kaal se chalee aa rahee hai aur vah vyavastha aadikaal ke hisaab se kaaphee samay mein chalie lekin aary samaaj ke dvaara jo niyam nirdhaarit kie gae hain ki aap 3 din mein bhee aap shuddhata karake apanee terahaveen kee prakriya jo hai vah kar sakate hain jise ham log yagy havan kahate hain yagy aur havan ke dvaara teesare din poorn aahuti de kar ke sudhi kar sakate hain usakee vyavastha hai to ab tere din ka prachalan jyaadaatar khatm hota ja raha hai

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:56
भारत में मरने के बाद देर भी इसलिए बनाते हैं कि मनुष्य के मरने के बाद 12 दिन नमस्कार का यह कौन है बिना संस्कार पुराण का पूरा नहीं होता है थक गरुड़ पुराण के अनुसार मनुष्य क्योंकि यह क्रिया ही होती है पैरवी नहीं करने से उसके पूरे तत्व की मुक्ति नहीं होती तथा भारत में मरने के बाद व्यक्ति की मुक्ति के लिए देर में देना या को संपन्न किया जाता है इस दिन पिंडदान का ब्राह्मणों को दान में दिया जाता है भोजन भी कराया जाता है व्यक्ति के मरने के बाद उसका शतक बनाया जाता है यह सब इसलिए कराए जाते हैं कि उस घर के ऊपर की बाहरी कोई आत्मा का बुरा प्रभाव ना पड़े
Bhaarat mein marane ke baad der bhee isalie banaate hain ki manushy ke marane ke baad 12 din namaskaar ka yah kaun hai bina sanskaar puraan ka poora nahin hota hai thak garud puraan ke anusaar manushy kyonki yah kriya hee hotee hai pairavee nahin karane se usake poore tatv kee mukti nahin hotee tatha bhaarat mein marane ke baad vyakti kee mukti ke lie der mein dena ya ko sampann kiya jaata hai is din pindadaan ka braahmanon ko daan mein diya jaata hai bhojan bhee karaaya jaata hai vyakti ke marane ke baad usaka shatak banaaya jaata hai yah sab isalie karae jaate hain ki us ghar ke oopar kee baaharee koee aatma ka bura prabhaav na pade

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:21
किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद देर में करना एक प्रकार का शुद्धि यज्ञ माना जाता है 13 दिन घर में पूजा पाठ और हवन का आयोजन भी किया जाता है इसके पीछे मानता है कि इससे मृत व्यक्ति की आत्मा को शांति मिलती है भाई इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं जिसके अनुसार घर में पूजा पाठ और हवन से हमारे घर का वातावरण ठीक हो जाता है साथ ही बंद हो जाता है जिससे हमारे घर में मौजूद सभी व्यक्ति रिया मर जाते हैं इसके साथी सूतक की समाप्ति हो जाती है एक अध्ययन के अनुसार मनुष्य के उदास रहने की अधिकतम सीमा 13 दिन होती है इसके बाद भी अगर उदासी कम नहीं होती है तो वह लोग मानसिक तौर पर बीमार भी पड़ सकते हैं उसे उदासी और अवसाद घेर लेते हैं यही वजह है कि मृत्यु के बाद फिर भी के दिन ब्राह्मण भोजन कराकर और पगड़ी रस में कराई जाती है और सभी सगे संबंधियों के बीच घर का नया मुख्य चुना जाता है जिससे रिश्तेदार अपने सार्वजनिक कार्यक्रमों में जैसे शादी है शादी की सालगिरह आदि में परिवार के नए मुखिया को आमंत्रित करने लगते हैं
Kisee vyakti kee mrtyu ke baad der mein karana ek prakaar ka shuddhi yagy maana jaata hai 13 din ghar mein pooja paath aur havan ka aayojan bhee kiya jaata hai isake peechhe maanata hai ki isase mrt vyakti kee aatma ko shaanti milatee hai bhaee isake peechhe vaigyaanik kaaran bhee hain jisake anusaar ghar mein pooja paath aur havan se hamaare ghar ka vaataavaran theek ho jaata hai saath hee band ho jaata hai jisase hamaare ghar mein maujood sabhee vyakti riya mar jaate hain isake saathee sootak kee samaapti ho jaatee hai ek adhyayan ke anusaar manushy ke udaas rahane kee adhikatam seema 13 din hotee hai isake baad bhee agar udaasee kam nahin hotee hai to vah log maanasik taur par beemaar bhee pad sakate hain use udaasee aur avasaad gher lete hain yahee vajah hai ki mrtyu ke baad phir bhee ke din braahman bhojan karaakar aur pagadee ras mein karaee jaatee hai aur sabhee sage sambandhiyon ke beech ghar ka naya mukhy chuna jaata hai jisase rishtedaar apane saarvajanik kaaryakramon mein jaise shaadee hai shaadee kee saalagirah aadi mein parivaar ke nae mukhiya ko aamantrit karane lagate hain

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:02
सवाल ही भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं देखिए तेरो ही मनुष्य जीवन के अंतिम 16 संस्कार का एक अंग है इसके बिना इस संस्कार की पूर्णता नहीं होती है और दही क्रिया के अंतर्गत इसका अहम स्थान है गरुड़ पुराण के अनुसार जिन मनुष्यों की यह क्रिया नहीं होती है उनकी प्रेत्व मुक्ति नहीं मानी जाती है तेरी क्रिया मृत्यु से केरू यह दिन संपन्न की जाती है इस क्रिया में पिंडदान और 13 ब्राह्मणों को भोजन कराया जाता है इसके अलावा कन्याओं को और परिवार के लोगों सहित सगे संबंधी ईस्ट मित्रों आज को निमंत्रित करके भोजन कराने की बरसों पुरानी परंपरा है जिसका सभी हिंदू परिवार पालन करती हूं धन्यवाद
Savaal hee bhaarat mein marane ke baad terahaveen kyon manaate hain dekhie tero hee manushy jeevan ke antim 16 sanskaar ka ek ang hai isake bina is sanskaar kee poornata nahin hotee hai aur dahee kriya ke antargat isaka aham sthaan hai garud puraan ke anusaar jin manushyon kee yah kriya nahin hotee hai unakee pretv mukti nahin maanee jaatee hai teree kriya mrtyu se keroo yah din sampann kee jaatee hai is kriya mein pindadaan aur 13 braahmanon ko bhojan karaaya jaata hai isake alaava kanyaon ko aur parivaar ke logon sahit sage sambandhee eest mitron aaj ko nimantrit karake bhojan karaane kee barason puraanee parampara hai jisaka sabhee hindoo parivaar paalan karatee hoon dhanyavaad

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:34
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं भारत में हिंदू परंपरा के अनुसार व्यक्ति के मरने के बाद 13b हनी तेरा नंबर वाला जो 1 दिन आगे का होता है उस दिन एक अनुष्ठान करते उसको जो धार्मिक होता है उसको तेरा भी कहते हैं कि हमेशा 13 दिन की होती है सही नहीं है कहीं पर 10 दिन तो आप लोग 3 दिन में ही कर ले रहे हैं क्योंकि उनके पास अभी इसके लिए दुख करना करने के लिए समय नहीं है यानी वह इतने व्यस्त है कि दुख को भी ज्यादा दिन तक एक नहीं भेज सकती तो इन दिनों में परिवार वाले और दुख में होते हैं तुमको पड़ोसी तुम क्यों होते हैं उनका भोजन देते हो खुद भोजन नहीं करते उनके उनको खाने में भी आओ भोजन करने में भी बनाने में भी उनकी नहीं रहती है इतना दुखी होते हैं कुछ लोग ऐसा भी कहती है कि मृत्यु के कारण मुझे अशोक किया जाता है उसके कारण एक नकारात्मक ऊर्जा निर्माण होती है उसका सिंधी करण करके उसे पीछे क्वालिटी पूजा में कन्वर्ट करने के लिए और आत्मा को सद्गति दिलाने के लिए कुछ अनुष्ठान करना है आवश्यकता है कैसा इसी मान्यता हिंदुओं में तो इस इस दिन 13 दिन कुछ पूजा पाठ होता है ब्राह्मण के हाथों और भोजन ब्राह्मण भोजन और जो सलूशन बूटीदार है रिश्तेदार हैं वह भी आती है तुम कभी पूजन को भी भोजन देकर एक दल नेता व्यक्त करने के बाद यहां पर होती है और अब यह सामाजिक प्रथा बंद करके सालों से चल रही है और कुछ अध्यात्मिक हुए सभी कहते हैं कि उनके के बाद उस घर के आसपास कुछ दिनों के लिए कुछ लोग कहते हैं 3 दिन कुछ लोग कहते शादी दोनों 10 दिन तो करा दे उस व्यक्ति की आत्मा वही पर सब देखते हुए दुष्यंत सिंह लेकिन स्थिति में उसका एक सूक्ष्म शरीर मैसेज टेक्स्ट मैसेज होता है और उसका शरीर में कोई मैटर नहीं होता है शिक्षक भर्ती वैशाली सही रहेगा वापी ठहर जाता है उसके बाद वह दूसरे उसके सूटेबल शरीर में प्रवेश करता है और उसका सूटेबल से भी मिलने मिलने के लिए मिलने तक ऐसे ही भटकता रहता है और जब ऐसा शरीर मिलता है तो शरीर में हो जाता है और उसके बाद मिले शरीर की आध्यात्मिक एवं जनजाति का यूनिवर्सिटी होती है तो दूसरे शरीफ के माध्यम से वह आध्यात्मिक चेतना और उनकी ऊंचाई की तरफ ले जाने के लिए उसको एक मौका मिलता है और ऐसी शरीर बदल बदल कर आत्मा जब मुझको प्राप्त होती है तो ब्रह्म बन जाती है परमात्मा बन जाती है परमात्मा में विलीन होती है ऐसी बातें कुछ प्रॉपर्टी के लोग बताते हैं एक अलग विषय है और बहुत बड़ा विषय में कुछ कारणों से भारत में मरने के बाद सिरोही ने 13 व दिवस एक अनुष्ठान के मनाया जाता है अगर जवाब सही लगा तो कृपया लाइक करें
Bhaarat mein marane ke baad terahaveen kyon manaate hain bhaarat mein hindoo parampara ke anusaar vyakti ke marane ke baad 13b hanee tera nambar vaala jo 1 din aage ka hota hai us din ek anushthaan karate usako jo dhaarmik hota hai usako tera bhee kahate hain ki hamesha 13 din kee hotee hai sahee nahin hai kaheen par 10 din to aap log 3 din mein hee kar le rahe hain kyonki unake paas abhee isake lie dukh karana karane ke lie samay nahin hai yaanee vah itane vyast hai ki dukh ko bhee jyaada din tak ek nahin bhej sakatee to in dinon mein parivaar vaale aur dukh mein hote hain tumako padosee tum kyon hote hain unaka bhojan dete ho khud bhojan nahin karate unake unako khaane mein bhee aao bhojan karane mein bhee banaane mein bhee unakee nahin rahatee hai itana dukhee hote hain kuchh log aisa bhee kahatee hai ki mrtyu ke kaaran mujhe ashok kiya jaata hai usake kaaran ek nakaaraatmak oorja nirmaan hotee hai usaka sindhee karan karake use peechhe kvaalitee pooja mein kanvart karane ke lie aur aatma ko sadgati dilaane ke lie kuchh anushthaan karana hai aavashyakata hai kaisa isee maanyata hinduon mein to is is din 13 din kuchh pooja paath hota hai braahman ke haathon aur bhojan braahman bhojan aur jo salooshan booteedaar hai rishtedaar hain vah bhee aatee hai tum kabhee poojan ko bhee bhojan dekar ek dal neta vyakt karane ke baad yahaan par hotee hai aur ab yah saamaajik pratha band karake saalon se chal rahee hai aur kuchh adhyaatmik hue sabhee kahate hain ki unake ke baad us ghar ke aasapaas kuchh dinon ke lie kuchh log kahate hain 3 din kuchh log kahate shaadee donon 10 din to kara de us vyakti kee aatma vahee par sab dekhate hue dushyant sinh lekin sthiti mein usaka ek sookshm shareer maisej tekst maisej hota hai aur usaka shareer mein koee maitar nahin hota hai shikshak bhartee vaishaalee sahee rahega vaapee thahar jaata hai usake baad vah doosare usake sootebal shareer mein pravesh karata hai aur usaka sootebal se bhee milane milane ke lie milane tak aise hee bhatakata rahata hai aur jab aisa shareer milata hai to shareer mein ho jaata hai aur usake baad mile shareer kee aadhyaatmik evan janajaati ka yoonivarsitee hotee hai to doosare shareeph ke maadhyam se vah aadhyaatmik chetana aur unakee oonchaee kee taraph le jaane ke lie usako ek mauka milata hai aur aisee shareer badal badal kar aatma jab mujhako praapt hotee hai to brahm ban jaatee hai paramaatma ban jaatee hai paramaatma mein vileen hotee hai aisee baaten kuchh propartee ke log bataate hain ek alag vishay hai aur bahut bada vishay mein kuchh kaaranon se bhaarat mein marane ke baad sirohee ne 13 va divas ek anushthaan ke manaaya jaata hai agar javaab sahee laga to krpaya laik karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं तेरहवीं क्यों मनाते हैं
URL copied to clipboard