#धर्म और ज्योतिषी

Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
0:58
होती आध्यात्मिक प्रश्न है कि श्री कृष्ण ने गीता में कहा कि कर्म करो फल की इच्छा मत रखो ठीक है मैं आपको उसका अर्थ बता दो उसका मतलब है कि आप अपने कर्म करते रहिए और फल की चिंता मत कीजिए बस आपका जो आप आज पृथ्वी पर जिस काम के लिए वह काम करें आप अच्छे हो अच्छे हो अच्छे बने हैं बड़े लोगों की सहायता करें बड़ों का सम्मान करें छोटों को सम्मान करना सिखाए आदर भाव अपने अंदर रखें और किसी से भी छल कपट ना करें अब बस अपना कर्म करते रहो फल की चिंता मत करो अगर जब आप अपने कर्म अच्छे करोगे तो ऊपर वाला अवश्य आपको फल देगा यह स्पष्ट लिखा था कि भविष्य में आज के समय में जो लोग सिर्फ फल मांग फल की चिंता कर रहे हो कर्म नहीं कर रहे हैं तो ऐसा वह उन लोगों के लिए कहा गया कि की कृपा आप कर्म करें अपने कर्म कर्म करने से नहीं गलत कर्म करना को कर्म अच्छे करने होंगे अच्छे कर्म कीजिए और फल की चिंता बिल्कुल मत कीजिए निश्चिंत आपको उस कर्म का अच्छा फल जरूर देगा
Hotee aadhyaatmik prashn hai ki shree krshn ne geeta mein kaha ki karm karo phal kee ichchha mat rakho theek hai main aapako usaka arth bata do usaka matalab hai ki aap apane karm karate rahie aur phal kee chinta mat keejie bas aapaka jo aap aaj prthvee par jis kaam ke lie vah kaam karen aap achchhe ho achchhe ho achchhe bane hain bade logon kee sahaayata karen badon ka sammaan karen chhoton ko sammaan karana sikhae aadar bhaav apane andar rakhen aur kisee se bhee chhal kapat na karen ab bas apana karm karate raho phal kee chinta mat karo agar jab aap apane karm achchhe karoge to oopar vaala avashy aapako phal dega yah spasht likha tha ki bhavishy mein aaj ke samay mein jo log sirph phal maang phal kee chinta kar rahe ho karm nahin kar rahe hain to aisa vah un logon ke lie kaha gaya ki kee krpa aap karm karen apane karm karm karane se nahin galat karm karana ko karm achchhe karane honge achchhe karm keejie aur phal kee chinta bilkul mat keejie nishchint aapako us karm ka achchha phal jaroor dega

और जवाब सुनें

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:06
कृष्ण की कृष्ण ने गीता में कहा है कि कर्म करो फल की इच्छा मत करो ऐसा उन्होंने क्यों कहा है तो फ्रेंड से बात उन्होंने बिल्कुल सही कही है इंसान को कर्म करते रहना चाहिए और फल की इच्छा चिंता नहीं करनी चाहिए ऐसा उन्होंने इसलिए कहा था क्योंकि जब वह महाभारत में कौरव और पांडवों का युद्ध हो रहा था तो अर्जुन के सामने अपने भाइयों को देख रहे थे गौरव के रूप में तो वे उन को मारने में है स्केच आ रहे थे और बोल रहे थे कि मैं अपनी पूरी कैसे मारूं अपनी को खून कैसे मनाऊं कैसे युद्ध करूं तब श्री कृष्ण जी ने समझाया था कि पापियों से पाप किया चल किया अन्याय किया तो उनका वध करना जरूरी है उनसे युद्ध करना जरूरी है तो आप अपना कर्म कीजिए फल की इच्छा मत कीजिए आप अपने कर्म करते रहो फल की इच्छा बिल्कुल भी मत कहिए यही हमारी जिंदगी में भी लागू होता है कि हमें अपने कर्म करते रहना चाहिए फल की इच्छा भगवान के ऊपर छोड़ देनी चाहिए हम करो करेंगे कर्म करेंगे तो अच्छा ही फल मिलेगा इसलिए कर्म करते रहना चाहिए धन्यवाद
Krshn kee krshn ne geeta mein kaha hai ki karm karo phal kee ichchha mat karo aisa unhonne kyon kaha hai to phrend se baat unhonne bilkul sahee kahee hai insaan ko karm karate rahana chaahie aur phal kee ichchha chinta nahin karanee chaahie aisa unhonne isalie kaha tha kyonki jab vah mahaabhaarat mein kaurav aur paandavon ka yuddh ho raha tha to arjun ke saamane apane bhaiyon ko dekh rahe the gaurav ke roop mein to ve un ko maarane mein hai skech aa rahe the aur bol rahe the ki main apanee pooree kaise maaroon apanee ko khoon kaise manaoon kaise yuddh karoon tab shree krshn jee ne samajhaaya tha ki paapiyon se paap kiya chal kiya anyaay kiya to unaka vadh karana jarooree hai unase yuddh karana jarooree hai to aap apana karm keejie phal kee ichchha mat keejie aap apane karm karate raho phal kee ichchha bilkul bhee mat kahie yahee hamaaree jindagee mein bhee laagoo hota hai ki hamen apane karm karate rahana chaahie phal kee ichchha bhagavaan ke oopar chhod denee chaahie ham karo karenge karm karenge to achchha hee phal milega isalie karm karate rahana chaahie dhanyavaad

anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:24
भगवान श्री कृष्ण ने गीता में इसलिए कहा अर्जुन से इसलिए कहा कि तेरा कर्म करने का ही अधिकार है उसके फल के बारे में मत सोच लिया तो फल को सोचते हुए गरम मत कर यह मत सोच कि फल फल की आशा के बिना ही कार्य करो कि कार्य करोगे तभी फल मिलेगा जो व्यक्ति किसी भी परिस्थिति में गुजर ना पड़े वह भी कोई भी अच्छा कार्य सफलता प्राप्त करते हैं तो उसमें कई बाधाएं आती हैं जैसे कि कोई व्यक्ति आर्मी की तैयारी करता तो वह आदमी तो दौड़ में जीत जाता लेकिन उसके पता नहीं कि वह कभी वह फिजिकल मेडिकल में भी रह जाता है तो क्या पूछ उसे इच्छा थी कि मैं किसी भी तरह करके मां आर्मी में लगा था वह जाता था इस को पैसे देकर बुला लो लेकिन ऐसा करोगे तो वह भी फंसे गा ही फंसे गा याद भी अपनी भेजो आर्मी की ड्यूटी है मतलब आर्मी में जब आर्मी की ड्यूटी करना चाहता है तो वह भी छोड़ सकता है मदर छूट सकती हो
Bhagavaan shree krshn ne geeta mein isalie kaha arjun se isalie kaha ki tera karm karane ka hee adhikaar hai usake phal ke baare mein mat soch liya to phal ko sochate hue garam mat kar yah mat soch ki phal phal kee aasha ke bina hee kaary karo ki kaary karoge tabhee phal milega jo vyakti kisee bhee paristhiti mein gujar na pade vah bhee koee bhee achchha kaary saphalata praapt karate hain to usamen kaee baadhaen aatee hain jaise ki koee vyakti aarmee kee taiyaaree karata to vah aadamee to daud mein jeet jaata lekin usake pata nahin ki vah kabhee vah phijikal medikal mein bhee rah jaata hai to kya poochh use ichchha thee ki main kisee bhee tarah karake maan aarmee mein laga tha vah jaata tha is ko paise dekar bula lo lekin aisa karoge to vah bhee phanse ga hee phanse ga yaad bhee apanee bhejo aarmee kee dyootee hai matalab aarmee mein jab aarmee kee dyootee karana chaahata hai to vah bhee chhod sakata hai madar chhoot sakatee ho

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:03
श्री कृष्ण का एक कर्मण्ए वाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन यह शरीर में जो हमारे आत्मा है वह ईश्वर का अंश है और यह मृत्युलोक में हमें ईश्वर की दी हुई कार्यों को पूरा करने के लिए आए यही से हमारे भाग्य और फल का निर्धारण होता है तो जो हम कर्म करते हैं तो उस कर्म का फल जो है हमको ईश्वर देते हुए उन्होंने कहा कि तेरा अधिकार कर्म पर है फल पर नहीं है और क्योंकि वर्क इस वरशिप कार ही पूजा है अगर ईश्वर की पूजा को आप महत्व देते हैं तो सबसे पहले आपको अपना कार्य करना पड़ेगा और कर्म ही भाग्य को बदल सकता है तो भाग्य कोई अलग चीज नहीं है अगर आप मृत्युलोक में अच्छे कार्यों के द्वारा अपने भाग्य में को परिवर्तित करने का साहस रखते हैं तो यह सबसे बड़ी बात होती है श्री कृष्ण भगवान ने आपके साथ कोई जबर्दस्ती नहीं किया है उन्होंने एक लेख लिखा है यह बात कही है कि अगर आप तुम कर्म करोगे तो सब कर्म करोगे तो तुम्हारी मुक्ति हो जाएगी क्योंकि इस शरीर किस जीव का अंतिम लक्ष्य मुक्ति ही होती है
Shree krshn ka ek karmane vaadhikaaraste ma phaleshu kadaachan yah shareer mein jo hamaare aatma hai vah eeshvar ka ansh hai aur yah mrtyulok mein hamen eeshvar kee dee huee kaaryon ko poora karane ke lie aae yahee se hamaare bhaagy aur phal ka nirdhaaran hota hai to jo ham karm karate hain to us karm ka phal jo hai hamako eeshvar dete hue unhonne kaha ki tera adhikaar karm par hai phal par nahin hai aur kyonki vark is varaship kaar hee pooja hai agar eeshvar kee pooja ko aap mahatv dete hain to sabase pahale aapako apana kaary karana padega aur karm hee bhaagy ko badal sakata hai to bhaagy koee alag cheej nahin hai agar aap mrtyulok mein achchhe kaaryon ke dvaara apane bhaagy mein ko parivartit karane ka saahas rakhate hain to yah sabase badee baat hotee hai shree krshn bhagavaan ne aapake saath koee jabardastee nahin kiya hai unhonne ek lekh likha hai yah baat kahee hai ki agar aap tum karm karoge to sab karm karoge to tumhaaree mukti ho jaegee kyonki is shareer kis jeev ka antim lakshy mukti hee hotee hai

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:36
स्वागत है किसने कहा है कि कर्म करो फल की चिंता मत करो ऐसा क्यों कहा हालांकि यह बात सच है क्योंकि कई बार होता है जो उन लोगों से पूछना जिन्होंने कर्म करें और उनसे फल मिले उन लोगों से पूछना कभी नहीं तो हमेशा तुम अच्छे काम करो तो उसने तुम्हें धोखा देते हैं तुम्हें कभी ना कभी कुछ ना कुछ अच्छा होगा तुम्हारे साथ देखना कभी ना कभी
Svaagat hai kisane kaha hai ki karm karo phal kee chinta mat karo aisa kyon kaha haalaanki yah baat sach hai kyonki kaee baar hota hai jo un logon se poochhana jinhonne karm karen aur unase phal mile un logon se poochhana kabhee nahin to hamesha tum achchhe kaam karo to usane tumhen dhokha dete hain tumhen kabhee na kabhee kuchh na kuchh achchha hoga tumhaare saath dekhana kabhee na kabhee

Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:38
आपका स्वामी जी श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि कर्म करो फल की इच्छा मत कर करें ऐसा क्यों कहा तो तू कर्म करो फल की चिंता मत करो श्रीमद भगवत गीता भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को निष्काम कर्म योग के बारे में बता दूं कि कल पाना तुम्हारे हाथ में नहीं है तुम्हारे अधिकार में कल कर्म करना है इसलिए अर्जुन को समझाते हुए यह 60 दिया था
Aapaka svaamee jee shree krshn ne geeta mein kaha hai ki karm karo phal kee ichchha mat kar karen aisa kyon kaha to too karm karo phal kee chinta mat karo shreemad bhagavat geeta bhagavaan shree krshn arjun ko nishkaam karm yog ke baare mein bata doon ki kal paana tumhaare haath mein nahin hai tumhaare adhikaar mein kal karm karana hai isalie arjun ko samajhaate hue yah 60 diya tha

satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:20
हाय फ्रेंड क्वेश्चन पूछा गया कि श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि कर्म करो फल की चिंता मत करो ऐसा उन्होंने क्यों कहा है तो यह बात सही है कि हर व्यक्ति को कर्म करना चाहिए फल की जो है चिंता नहीं करना चाहिए क्योंकि कर्म करने से एक नई ट्रेन जो है उसका परिणाम जरूर मिलता है
Haay phrend kveshchan poochha gaya ki shree krshn ne geeta mein kaha hai ki karm karo phal kee chinta mat karo aisa unhonne kyon kaha hai to yah baat sahee hai ki har vyakti ko karm karana chaahie phal kee jo hai chinta nahin karana chaahie kyonki karm karane se ek naee tren jo hai usaka parinaam jaroor milata hai

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:58
श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि कर्म करो फल की इच्छा मत करें ऐसा हो चुका था आज भी हम देखते हैं साइकोलॉजी में बहुत सारा स्टडी हुआ है बहुत सारी महत्वाकांक्षा टारगेट मिशन कोरियर ओके सर ओके जमीला लॉक कर दे ओम पुरी ओम पुरी करने के लिए कौन हमेशा प्रयास होता है कि स्क्रीन पर इतना करने के बाद यह चीज है जब हमें प्राप्त हो तब हम सफल होंगे हमें शांति मिले हमें सुख मिले मिलेगा हमें आनंद मिलेगा लेकिन ऐसा नहीं होता है विश्वास ना चाहे करना है ग्रुप में कभी कभी खत्म ही नहीं होती तो मनुष्य आनंद को कैसे पड़ सकता है इसके लिए रास्ता बताते कर्म समझकर काम करो इन ऊटी एक रोल है यह बोलकर के पीछे जाना जाने का है और लेकिन मैंने जो भी कुछ करना है उसके बाद मृत्यु निश्चित है और अगरबत्ती निश्चित है बाकी कर्मों को ग्रुप से प्राप्त होने वाले तुमको प्यार किया नहीं जाता है भूत छोटे कान के लिए टेंपरेरी बताएं अब के कारण जो इंसान हमेशा दुख में राशि में प्रवेश निरस्त इसके लिए हमें यह सोचना चाहिए कि इसलिए जो है उसके बाद भी एक मैं हूं मैं शरीर नहीं मैं साक्षी भाव सेक्सी अक्षरा सिंह के अवसर पर सभी का है इन सभी करना चाहेगा और करता है MP3 में बताया गमन कभी ठीक नहीं होता और चंचल होता है तुझको साधना सिंह अध्यात्मिक साधना के भारत लेकर सिटी कंपनी की की एक अवस्था होती उस वक्त से जो कुछ कर रहे हो मैं देखता है लेकिन मैं कट ब्लाउज हुए शरीर से नहीं होता है एडिशनल पाता है कर्म करता है उसका प्रभाव विज्ञान का निर्माण होता है अब्बू समझने लोग जो है वह साथ में नहीं है भी जा सकते इसलिए उनको सीधे शब्दों में क्या बताएं श्रीसंत ने बताया है कि कर्म करो लेकिन दिल की इच्छा मत करो कि कर्तव्य समझकर करता का सारा जो कर्तव्य सभी को अपना कर्तव्य करके जाएं और क्या मिलेगा इसका उसकी सोचने की आवश्यकता नहीं लेकिन सचिन जिंदा है इसलिए सिर्फ तुमको तो कुछ ना कुछ करना पड़ेगा सुरक्षित इसलिए जल्दी किया हुआ विरुद्ध के स्नातक में इसके जो इसके प्रति जो हमारे हमारे जो बंधन होते हैं ज्यादा गहरे रखने से क्या फायदा है अंतिम सत्य तुमको करते हैं कर्म फल की
Shree krshn ne geeta mein kaha hai ki karm karo phal kee ichchha mat karen aisa ho chuka tha aaj bhee ham dekhate hain saikolojee mein bahut saara stadee hua hai bahut saaree mahatvaakaanksha taaraget mishan koriyar oke sar oke jameela lok kar de om puree om puree karane ke lie kaun hamesha prayaas hota hai ki skreen par itana karane ke baad yah cheej hai jab hamen praapt ho tab ham saphal honge hamen shaanti mile hamen sukh mile milega hamen aanand milega lekin aisa nahin hota hai vishvaas na chaahe karana hai grup mein kabhee kabhee khatm hee nahin hotee to manushy aanand ko kaise pad sakata hai isake lie raasta bataate karm samajhakar kaam karo in ootee ek rol hai yah bolakar ke peechhe jaana jaane ka hai aur lekin mainne jo bhee kuchh karana hai usake baad mrtyu nishchit hai aur agarabattee nishchit hai baakee karmon ko grup se praapt hone vaale tumako pyaar kiya nahin jaata hai bhoot chhote kaan ke lie tempareree bataen ab ke kaaran jo insaan hamesha dukh mein raashi mein pravesh nirast isake lie hamen yah sochana chaahie ki isalie jo hai usake baad bhee ek main hoon main shareer nahin main saakshee bhaav seksee akshara sinh ke avasar par sabhee ka hai in sabhee karana chaahega aur karata hai mp3 mein bataaya gaman kabhee theek nahin hota aur chanchal hota hai tujhako saadhana sinh adhyaatmik saadhana ke bhaarat lekar sitee kampanee kee kee ek avastha hotee us vakt se jo kuchh kar rahe ho main dekhata hai lekin main kat blauj hue shareer se nahin hota hai edishanal paata hai karm karata hai usaka prabhaav vigyaan ka nirmaan hota hai abboo samajhane log jo hai vah saath mein nahin hai bhee ja sakate isalie unako seedhe shabdon mein kya bataen shreesant ne bataaya hai ki karm karo lekin dil kee ichchha mat karo ki kartavy samajhakar karata ka saara jo kartavy sabhee ko apana kartavy karake jaen aur kya milega isaka usakee sochane kee aavashyakata nahin lekin sachin jinda hai isalie sirph tumako to kuchh na kuchh karana padega surakshit isalie jaldee kiya hua viruddh ke snaatak mein isake jo isake prati jo hamaare hamaare jo bandhan hote hain jyaada gahare rakhane se kya phaayada hai antim saty tumako karate hain karm phal kee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि कर्म करो फल की इच्छा मत करें ऐसा उन्होंने क्यों कहा है कर्म करो फल की इच्छा मत करें ऐसा उन्होंने क्यों कहा है
URL copied to clipboard